tag_img

Train


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से तो भारत को भी बुलेट ट्रेन की जरूरत बिल्कुल नहीं है अभी भारत इतना विकसित नहीं हुआ है कि वह बुलेट ट्रेन में इन्वेस्ट करें भारत सरकार जापान से 88 हजार करोड रुपए ले रही है इंटरेस्ट पर और इस ...
जवाब पढ़िये
मेरे हिसाब से तो भारत को भी बुलेट ट्रेन की जरूरत बिल्कुल नहीं है अभी भारत इतना विकसित नहीं हुआ है कि वह बुलेट ट्रेन में इन्वेस्ट करें भारत सरकार जापान से 88 हजार करोड रुपए ले रही है इंटरेस्ट पर और इस पर जापान भारत से 0.1 पर्सेंट इंटरेस्ट लेगा जो कि भारत को 50 से 7 वर्षों में चुकाना होगा यह बुलेट ट्रेन मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलेगी और इस प्लेन का किराया लगभग 3000 से ₹5000 के रेंज में होने की उम्मीद है तू अगर कोई व्यक्ति मुंबई से अहमदाबाद अगर फ्लाइट से जाता है तो उसे लगभग में ढाई हजार से ₹3000 देने पड़ते हैं तो अगर बुलेट ट्रेन में उसे ज्यादा पैसे खर्च हो रहे हैं और समय भी ज्यादा लगेगा तो फिर वह बुलेट ट्रेन से क्यों जाएगा अभी वैसे भी भारत की 90% पॉपुलेशन जो है वह स्लीपर क्लास या फिर सेकंड क्लास में सफर करती है रेलवे से तो भारत सरकार को बुलेट ट्रेन चलाने के बजाय अभी जो स्थिति अपने भारतीय रेलवे की है उसे सुधारने पर ध्यान देना अभी 90% भारतीयों के रेल सफर को सुधारने की जरूरत है और ना की बुलेट ट्रेन चलाने कीMere Hisab Se To Bharat Ko Bhi Bullet Train Ki Zaroorat Bilkul Nahi Hai Abhi Bharat Itna Viksit Nahi Hua Hai Ki Wah Bullet Train Mein Invest Karen Bharat Sarkar Japan Se 88 Hazar Crore Rupaiye Le Rahi Hai Interest Par Aur Is Par Japan Bharat Se 0.1 Percent Interest Lega Jo Ki Bharat Ko 50 Se 7 Varshon Mein Chukaana Hoga Yeh Bullet Train Mumbai Aur Ahmedabad Ke Beech Chalegi Aur Is Plane Ka Kiraya Lagbhag 3000 Se ₹5000 Ke Range Mein Hone Ki Ummid Hai Tu Agar Koi Vyakti Mumbai Se Ahmedabad Agar Flight Se Jata Hai To Use Lagbhag Mein Dhai Hazar Se ₹3000 Dene Padate Hain To Agar Bullet Train Mein Use Jyada Paise Kharch Ho Rahe Hain Aur Samay Bhi Jyada Lagega To Phir Wah Bullet Train Se Kyun Jayega Abhi Waise Bhi Bharat Ki 90% Population Jo Hai Wah Sleeper Class Ya Phir Second Class Mein Safar Karti Hai Railway Se To Bharat Sarkar Ko Bullet Train Chalane Ke Bajay Abhi Jo Sthiti Apne Bhartiya Railway Ki Hai Use Sudhaarne Par Dhyan Dena Abhi 90% Bharatiyon Ke Rail Safar Ko Sudhaarne Ki Zaroorat Hai Aur Na Ki Bullet Train Chalane Ki
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

2022 तक देश को बुलेट ट्रेन मिलने वाला है देश को नई रफ्तार मिलने के दावे हो रहे हैं लेकिन 2017 की हकीकत यह है कि जिस दिन बुलेट ट्रेन का भारी भरकम शिलान्यास वाला जलसा हो रहा था उसी दिन देश की राजधानी दि...
जवाब पढ़िये
2022 तक देश को बुलेट ट्रेन मिलने वाला है देश को नई रफ्तार मिलने के दावे हो रहे हैं लेकिन 2017 की हकीकत यह है कि जिस दिन बुलेट ट्रेन का भारी भरकम शिलान्यास वाला जलसा हो रहा था उसी दिन देश की राजधानी दिल्ली में राजधानी एक्सप्रेस जैसी प्रीमियम ट्रेन डिरेल हो जाती है बुलेट ट्रेन का ख्वाब बड़ा अच्छा लगता है लेकिन इस ख्वाब से हकीकत का मिलान करने पर निराशा ही हाथ लगती है कहने का यह मतलब है कि हमारे देश की जो रेलवे व्यवस्था है उसकी हालत बहुत दयनीय हो चुकी है हम इस बात से इंकार नहीं कर सकते की बुलेट ट्रेन जिसे चीन और जापान ने वर्षों पहले साकार कर लिया उसके लिए हमारे पास अब तक जरूरी संसाधन तक नहीं है जापान की मदद से हम कुत्तों किलोमीटर का सफर तो पूरा कर लेंगे लेकिन देश में विशेष सैकड़ों किलोमीटर तक फैली रेल के जाल को बिना मजबूत की सिर्फ बुलेट ट्रेन का नाम लेना यह एक बेईमान ही लगती है क्योंकि जो पहले से हमारी रेलवे है उसमें सुधार की भारी-भरकम जरूरत है क्योंकि 2017 में ही बहुत सारी बड़ी रेल दुर्घटनाएं हुई है जिसमें बहुत सारे लोगों की जान चली गई तो इन बड़ी जो दुर्घटनाएं हुई उनमें से एक इंदौर पटना की जो ट्रेन थी वह डिलीट हो गई और उसमें बहुत सारे डेढ़ सौ लोगों की लगभग जान चली गई थी तो जब हमारी भारतीय रेलवे पहले से जो रैली चल रही है उनकी सुरक्षा की आग सुरक्षा सही नहीं कर पा रही है तो फिर नई नई ट्रेनें लाने का कोई मतलब नहीं है और यह अगर बुलेट ट्रेन बनती भी है तो यह ज्यादा सक्सेस नहीं होगी क्योंकि इसका जो प्राइस है वह काफी ज्यादा है टिकट का ऑडियो इससे कम पैसों में ही हम लोग अहमदाबाद से या फिर अहमदाबाद से दिल्ली तक का सफर तय कर सकते हैं तो इतने पैसे लगाना सही नहीं है2022 Tak Desh Ko Bullet Train Milne Wala Hai Desh Ko Nayi Raftaar Milne Ke Daave Ho Rahe Hain Lekin 2017 Ki Haqiqat Yeh Hai Ki Jis Din Bullet Train Ka Bhari Bharakam Shilanyas Wala Jalsa Ho Raha Tha Ussi Din Desh Ki Rajdhani Delhi Mein Rajdhani Express Jaisi Premium Train Direl Ho Jati Hai Bullet Train Ka Khwab Bada Accha Lagta Hai Lekin Is Khwab Se Haqiqat Ka Milaan Karne Par Nirasha Hi Hath Lagti Hai Kehne Ka Yeh Matlab Hai Ki Hamare Desh Ki Jo Railway Vyavastha Hai Uski Halat Bahut Dayaniye Ho Chuki Hai Hum Is Baat Se Inkar Nahi Kar Sakte Ki Bullet Train Jise Chin Aur Japan Ne Varshon Pehle Saakar Kar Liya Uske Liye Hamare Paas Ab Tak Zaroori Sansadhan Tak Nahi Hai Japan Ki Madad Se Hum Kutton Kilometre Ka Safar To Pura Kar Lenge Lekin Desh Mein Vishesh Saikadon Kilometre Tak Faili Rail Ke Jaal Ko Bina Mazboot Ki Sirf Bullet Train Ka Naam Lena Yeh Ek Beiiman Hi Lagti Hai Kyonki Jo Pehle Se Hamari Railway Hai Usamen Sudhaar Ki Bhari Bharakam Zaroorat Hai Kyonki 2017 Mein Hi Bahut Saree Badi Rail Durghatnae Hui Hai Jisme Bahut Sare Logon Ki Jaan Chali Gayi To In Badi Jo Durghatnae Hui Unmen Se Ek Indore Patna Ki Jo Train Thi Wah Delete Ho Gayi Aur Usamen Bahut Sare Dedh Sau Logon Ki Lagbhag Jaan Chali Gayi Thi To Jab Hamari Bhartiya Railway Pehle Se Jo Rally Chal Rahi Hai Unki Suraksha Ki Aag Suraksha Sahi Nahi Kar Pa Rahi Hai To Phir Nayi Nayi Trainen Lane Ka Koi Matlab Nahi Hai Aur Yeh Agar Bullet Train Banti Bhi Hai To Yeh Jyada Success Nahi Hogi Kyonki Iska Jo Price Hai Wah Kafi Jyada Hai Ticket Ka Audio Isse Kum Paison Mein Hi Hum Log Ahmedabad Se Ya Phir Ahmedabad Se Delhi Tak Ka Safar Tay Kar Sakte Hain To Itne Paise Lagana Sahi Nahi Hai
Likes  17  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां देखें ओडिशा में जो है वह यात्री ट्रेन में बिना इंजन के ही जो है 10 किलोमीटर तक किए जो है वह याद आता है कर ली है और और उन्होंने पता चलने पर जो है वह भी कोशिश की लेकिन गाड़ी जो है नहीं रुकती और व...
जवाब पढ़िये
जी हां देखें ओडिशा में जो है वह यात्री ट्रेन में बिना इंजन के ही जो है 10 किलोमीटर तक किए जो है वह याद आता है कर ली है और और उन्होंने पता चलने पर जो है वह भी कोशिश की लेकिन गाड़ी जो है नहीं रुकती और वही बात हो जाती तो यह बहुत बड़ा रेलवे एक्सीडेंट में कंवर्ट हो सकती पैसेंजर की जान को खतरा हो सकता था औरत को लगता कि यह रेलवे प्रशासन की गलती से हुई है और अगर इस पर थोड़ा सा ध्यान दिया जाता तो अच्छा नहीं होता बिल्कुल भी और इसे कंट्रोल करने की बहुत जरूरत है औरत कैसे इसे दुर्घटना से बचा जा सकता है इसकी डिटेल प्रक्रिया है वह तो रेलवे ही बता पायेगाG Haan Dekhen Odisha Mein Jo Hai Wah Yatri Train Mein Bina Engine Ke Hi Jo Hai 10 Kilometre Tak Kiye Jo Hai Wah Yaad Aata Hai Kar Lee Hai Aur Aur Unhone Pata Chalne Par Jo Hai Wah Bhi Koshish Ki Lekin Gaadi Jo Hai Nahi Rukti Aur Wahi Baat Ho Jati To Yeh Bahut Bada Railway Accident Mein Kanvart Ho Sakti Passenger Ki Jaan Ko Khatra Ho Sakta Tha Aurat Ko Lagta Ki Yeh Railway Prashasan Ki Galti Se Hui Hai Aur Agar Is Par Thoda Sa Dhyan Diya Jata To Accha Nahi Hota Bilkul Bhi Aur Ise Control Karne Ki Bahut Zaroorat Hai Aurat Kaise Ise Durghatna Se Bacha Ja Sakta Hai Iski Detail Prakriya Hai Wah To Railway Hi Bata Payega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भारतीय रेल में बायो टॉयलेट की जगह वैक्यूम टॉयलेट का इस्तेमाल होने लगेगा तो यह काफी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि बायो टॉयलेट में हर फ्लैश के लिए लगभग 15 लीटर पानी की जरूरत होती है और यह पानी 8:00 से...
जवाब पढ़िये
अगर भारतीय रेल में बायो टॉयलेट की जगह वैक्यूम टॉयलेट का इस्तेमाल होने लगेगा तो यह काफी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि बायो टॉयलेट में हर फ्लैश के लिए लगभग 15 लीटर पानी की जरूरत होती है और यह पानी 8:00 से जो वेस्ट होता है उसको हटाने के लिए अधिक दबाव नहीं बना पाता है और इसके कारण बदबू आती रहती है और कई बार वोट भी जाम हो जाता है तो इन सारी चीजों से बचने के लिए भारतीय रेल टॉयलेट की व्यवस्था है उसे अच्छा करने की कोशिश कर रहा है और इसी के लिए अब भारतीय रेल में भी खास तौर से राजधानी और शताब्दी के जो डब्बे हैं उनमें बायो टॉयलेट की जगह वैक्यूम टॉयलेट का इस्तेमाल किया जाएगा और वैक्यूम टॉयलेट का इस्तेमाल जैसा कि एरोप्लेन में होता है वही सेम सिस्टम यहां पर भी अप्लाई होगा तो अगर बायो टॉयलेट की जगह यह वैक्यूम टॉयलेट लगाया जाए तोAgar Bhartiya Rail Mein Bio Toilet Ki Jagah Vacuum Toilet Ka Istemal Hone Lagega To Yeh Kafi Faydemand Ho Sakta Hai Kyonki Bio Toilet Mein Har Flash Ke Liye Lagbhag 15 Liter Pani Ki Zaroorat Hoti Hai Aur Yeh Pani 8:00 Se Jo West Hota Hai Usko Hatane Ke Liye Adhik Dabaav Nahi Bana Pata Hai Aur Iske Kaaran Badabu Aati Rehti Hai Aur Kai Baar Vote Bhi Jam Ho Jata Hai To In Saree Chijon Se Bachane Ke Liye Bhartiya Rail Toilet Ki Vyavastha Hai Use Accha Karne Ki Koshish Kar Raha Hai Aur Isi Ke Liye Ab Bhartiya Rail Mein Bhi Khas Taur Se Rajdhani Aur Shatabdi Ke Jo Dabbe Hain Unmen Bio Toilet Ki Jagah Vacuum Toilet Ka Istemal Kiya Jayega Aur Vacuum Toilet Ka Istemal Jaisa Ki Aeroplane Mein Hota Hai Wahi Same System Yahan Par Bhi Apply Hoga To Agar Bio Toilet Ki Jagah Yeh Vacuum Toilet Lagaya Jaye To
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज नहीं है कि हमें दोनों की आवश्यकता है विकास के लिए सामाजिक समरसता होनी जरूरी है सामाजिक समरसता के लिए हम इन दोनों चीजों की आवश्यकता जरूरी है और जो समरसता है वह समाज पर केंद्रित होनी चाहिए हमारी...
जवाब पढ़िये
आज नहीं है कि हमें दोनों की आवश्यकता है विकास के लिए सामाजिक समरसता होनी जरूरी है सामाजिक समरसता के लिए हम इन दोनों चीजों की आवश्यकता जरूरी है और जो समरसता है वह समाज पर केंद्रित होनी चाहिए हमारीAaj Nahi Hai Ki Hume Dono Ki Avashyakta Hai Vikash Ke Liye Samajik Samarsata Honi Zaroori Hai Samajik Samarsata Ke Liye Hum In Dono Chijon Ki Avashyakta Zaroori Hai Aur Jo Samarsata Hai Wah Samaaj Par Kendrit Honi Chahiye Hamari
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश में लगभग हर व्यक्ति इस बात से सहमत है हो सकता है कि उन्होंने अपने जीवन काल में कम से कम एक बार रेलवे में यात्रा की है भारत की आबादी को ध्यान में रखते हुए रेल संरचना का प्रबंधन और रखरखाव अपने आप मे...
जवाब पढ़िये
देश में लगभग हर व्यक्ति इस बात से सहमत है हो सकता है कि उन्होंने अपने जीवन काल में कम से कम एक बार रेलवे में यात्रा की है भारत की आबादी को ध्यान में रखते हुए रेल संरचना का प्रबंधन और रखरखाव अपने आप में एक विशाल कार्य है भारत में ट्रेन शौचालय उन्हें हमेशा मानव अपशिष्ट को रेलवे पटरी पर खाली करा है यह एक स्वस्थ अभ्यास है जो रात को भी कंगाल करता है अपने स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत कार्यक्रम के तहत रेलवे ने इस तरह के शौचालय को 2020 से 2021 तक समाप्त करने की योजना बनाई थी 2014 में भारतीय रेल ने डीआरडीओ के सहयोग से बायो टॉयलेट विकसित किया बायो टॉयलेट में फ्लैश के बाद मानवीय कचरे को एक अंडर फ्लोर होल्डिंग टैक्स में छोड़ देता है जो एरोबिक बैक्टीरिया हानिकारक जीवाणुओं को हटाते हैं फिर जो हार निश्चित बाय प्रोडक्ट बचता है उसे सुरक्षित रूप से ट्रैक पर छोड़ा जा सकता है जिससे संज्ञा खराब गन्ना हो पर बायो टॉयलेट के कुछ मामूली मुद्दे है जो यात्रियों के व्यवहार से संबंधित हैं लोक अखबारों प्लास्टिक की पानी की बोतलें पॉलिथीन बैग और गुटखा पाउच का निपटान टॉयलेट में करते हैं क्योंकि बायलर बायो टॉयलेट को अटका देता है यदि उस मुद्दे को किसी तरह समझाया जाता है तो यह बायो टॉयलेट बहुत फायदेमंद हो सकते हैंDesh Mein Lagbhag Har Vyakti Is Baat Se Sahmat Hai Ho Sakta Hai Ki Unhone Apne Jeevan Kaal Mein Kum Se Kum Ek Baar Railway Mein Yatra Ki Hai Bharat Ki Aabadi Ko Dhyan Mein Rakhate Hue Rail Sanrachna Ka Prabandhan Aur Rakharakhav Apne Aap Mein Ek Vishal Karya Hai Bharat Mein Train Sauchalay Unhen Hamesha Manav Apashisht Ko Railway Patri Par Khaali Kra Hai Yeh Ek Swasth Abhyas Hai Jo Raat Ko Bhi Kangal Karta Hai Apne Swach Rail Swach Bharat Karyakram Ke Tahat Railway Ne Is Tarah Ke Sauchalay Ko 2020 Se 2021 Tak Samapt Karne Ki Yojana Banai Thi 2014 Mein Bhartiya Rail Ne Diaaradio Ke Sahyog Se Bio Toilet Viksit Kiya Bio Toilet Mein Flash Ke Baad Manviya Kachre Ko Ek Under Floor Holding Tax Mein Chod Deta Hai Jo Erobik Bacteria Haanikarak Jivanuon Ko Hatate Hain Phir Jo Haar Nishchit By Product Bachta Hai Use Surakshit Roop Se Track Par Choda Ja Sakta Hai Jisse Sangya Kharab Ganna Ho Par Bio Toilet Ke Kuch Mamuli Mudde Hai Jo Yatriyon Ke Vyavhar Se Sambandhit Hain Lok Akhabaron Plastic Ki Pani Ki Botalen Polythene Bag Aur Gutkha Pouch Ka Nipatan Toilet Mein Karte Hain Kyonki Boiler Bio Toilet Ko Ataka Deta Hai Yadi Us Mudde Ko Kisi Tarah Samjhaya Jata Hai To Yeh Bio Toilet Bahut Faydemand Ho Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रेलवे का यह कहना कि वह जून तक विश्वस्तरीय ट्रेनें प्रोड्यूस कर देगी या चलाएगी तो वह हो सकता है वह 12 ट्रेन ऐसी बना लें लेकिन मौजूदा स्थिति में यह देखने को मिलता है कि रेलवे की जो हालत है वह बिल्कुल दय...
जवाब पढ़िये
रेलवे का यह कहना कि वह जून तक विश्वस्तरीय ट्रेनें प्रोड्यूस कर देगी या चलाएगी तो वह हो सकता है वह 12 ट्रेन ऐसी बना लें लेकिन मौजूदा स्थिति में यह देखने को मिलता है कि रेलवे की जो हालत है वह बिल्कुल दयनीय हो चुकी है रेलवे पहले से जो ट्रेनें हैं उन्हें ही अच्छे से नहीं चला पा रहा है तो इस स्थिति में रेलवे को नई ट्रेनें या फिर और प्रीमियम ट्रेन ए लाने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि जो पहले से ही उनके पास संसाधन हैं उन्हें ही वह अच्छे तरीके से व्यवस्थित तरीके से कर चला पाए तो यह बाकी आम नागरिकों के लिए काफी अच्छा होगा हम सभी को पता है कि रेलवे की कंडीशन कितनी खराब हो चुकी है ना तो सफाई की व्यवस्था होती है ट्रेन हमेशा लेट ही चलती हैं और असुरक्षा की तो बात करना चाह रहे हो रेलवे के लिए एक बेईमानी से लगने लगी है क्योंकि आए दिन ऐसी घटनाएं सामने आती है जहां पर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ या फिर मारपीट की घटनाएं या फिर लूटपाट की पटना रेलवे में होती रहती हैं तो सबसे पहले रेलवे को उच्च स्तरीय ट्रेनों को लाने से अच्छा है कि इस बात पर ध्यान दें कि जो ट्रेन में पहले से भारत में चल रही हैं उन वह अच्छी या सुचारू तरीके से चलते हैं जहां पर यात्रियों को परेशानियों का सामना ना करना पड़े तो नई ट्रेनों में इन्वेस्ट करने से काफी यह बेहतर होगा कि जो ट्रेनें हैंRailway Ka Yeh Kehna Ki Wah June Tak Vishvastariy Trainen Produce Kar Degi Ya Chalaegi To Wah Ho Sakta Hai Wah 12 Train Aisi Bana Lein Lekin Maujuda Sthiti Mein Yeh Dekhne Ko Milta Hai Ki Railway Ki Jo Halat Hai Wah Bilkul Dayaniye Ho Chuki Hai Railway Pehle Se Jo Trainen Hain Unhen Hi Acche Se Nahi Chala Pa Raha Hai To Is Sthiti Mein Railway Ko Nayi Trainen Ya Phir Aur Premium Train A Lane Ki Koi Avashyakta Nahi Hai Kyonki Jo Pehle Se Hi Unke Paas Sansadhan Hain Unhen Hi Wah Acche Tarike Se Vyavasthit Tarike Se Kar Chala Paye To Yeh Baki Aam Naagrikon Ke Liye Kafi Accha Hoga Hum Sabhi Ko Pata Hai Ki Railway Ki Condition Kitni Kharab Ho Chuki Hai Na To Safaai Ki Vyavastha Hoti Hai Train Hamesha Let Hi Chalti Hain Aur Asuraksha Ki To Baat Karna Chah Rahe Ho Railway Ke Liye Ek Baimani Se Lagne Lagi Hai Kyonki Aaye Din Aisi Ghatnaye Samane Aati Hai Jahan Par Mahilaon Ke Saath Chedchad Ya Phir Marapit Ki Ghatnaye Ya Phir Lutapat Ki Patna Railway Mein Hoti Rehti Hain To Sabse Pehle Railway Ko Uccha Stariy Traino Ko Lane Se Accha Hai Ki Is Baat Par Dhyan Dein Ki Jo Train Mein Pehle Se Bharat Mein Chal Rahi Hain Un Wah Acchi Ya Sucharu Tarike Se Chalte Hain Jahan Par Yatriyon Ko Pareshaaniyon Ka Samana Na Karna Pade To Nayi Traino Mein Invest Karne Se Kafi Yeh Behtar Hoga Ki Jo Trainen Hain
Likes  17  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मच्छर बात कर रहे हैं जिसे जो बुलेट ट्रेन बुलेट ट्रेन हाई स्पीड ट्रेन जो है वह टेंशन नहीं है हमारी करंट रेलवे स्टेशन का सबसे पहले हमें यह समझना बहुत जरूरी है क्योंकि यह एक दुख बुलेट ट्रेन है यह टो...
जवाब पढ़िये
विकी मच्छर बात कर रहे हैं जिसे जो बुलेट ट्रेन बुलेट ट्रेन हाई स्पीड ट्रेन जो है वह टेंशन नहीं है हमारी करंट रेलवे स्टेशन का सबसे पहले हमें यह समझना बहुत जरूरी है क्योंकि यह एक दुख बुलेट ट्रेन है यह टोटली डिफरेंट मोड ऑफ ट्रांसपोर्ट है जैसे जब हमारी मेट्रो लाइन थी तो मेट्रो जो है वह प्रोटीन दिन मोड ऑफ ट्रांसपोर्ट मेट्रो मेट्रो हमारा है हमारा इंटरनेशनल दिल्ली दिल्ली में वह चलता है उससे हम दूसरे स्टेट में नहीं जा सकते लेकिन ट्रेंस के चौहान दूसरे स्टेट में जाते हो बुलेट ट्रेन के लिए हम दूध बुलेट ट्रेन का दूसरा पर्सपेक्टिव है जो चीजें हैं तो आमंत्रित किए सिंह चौक पर हम ब्लू प्रिंट क्वेश्चन आएंगे तो वह प्रेक्टिकली पॉसिबल नहीं है तो हमें इस चीज को नॉट आउट की जो करो हमारी कंट्री में बहुत ज्यादा कमियां प्रॉब्लम को एक्सेप्ट एप्लीकेबल नहीं होने देना चाहिए या नहीं होगीVikee Machchar Baat Kar Rahe Hain Jise Jo Bullet Train Bullet Train Hi Speed Train Jo Hai Wah Tension Nahi Hai Hamari Current Railway Station Ka Sabse Pehle Hume Yeh Samajhna Bahut Zaroori Hai Kyonki Yeh Ek Dukh Bullet Train Hai Yeh Totally Different Mode Of Transport Hai Jaise Jab Hamari Metro Line Thi To Metro Jo Hai Wah Protein Din Mode Of Transport Metro Metro Hamara Hai Hamara International Delhi Delhi Mein Wah Chalta Hai Usse Hum Dusre State Mein Nahi Ja Sakte Lekin Trens Ke Chauhan Dusre State Mein Jaate Ho Bullet Train Ke Liye Hum Dudh Bullet Train Ka Doosra Parsapektiv Hai Jo Cheezen Hain To Aamantrit Kiye Singh Chauk Par Hum Blue Print Question Aayenge To Wah Prektikali Possible Nahi Hai To Hume Is Cheez Ko Not Out Ki Jo Karo Hamari Country Mein Bahut Jyada Kamiyan Problem Ko Except Applicable Nahi Hone Dena Chahiye Ya Nahi Hogi
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रेल गाड़ियां भारतीय रेलवे बुकिंग एक अच्छा ट्रांसपोर्टेशन होता है किसी भी व्यक्ति के लिए लंबे से लंबे टूर पर आप जा सकते हैं रेलगाड़ी कब बात यह है कि जो जनरल डिब्बे होते हैं रेलगाड़ियों में उनकी हालत का...
जवाब पढ़िये
रेल गाड़ियां भारतीय रेलवे बुकिंग एक अच्छा ट्रांसपोर्टेशन होता है किसी भी व्यक्ति के लिए लंबे से लंबे टूर पर आप जा सकते हैं रेलगाड़ी कब बात यह है कि जो जनरल डिब्बे होते हैं रेलगाड़ियों में उनकी हालत काफी ज्यादा खराब है आज के टाइम पर जनसंख्या काफी ज्यादा है लोकप्रिय ज्यादा करते हैं जनरल डिब्बे में एक्स कम कैपेसिटी सिर्फ कुछ ही डिब्बे होते इतनी बड़ी रेलगाड़ी में जितने स्लीपर और इसकी ऐसी कोशिश के डिब्बे होते हैं उनसे काफी कम होते हैं और काफी ज्यादा लोग ट्रैवल करते हैं जिन्हें मिली जो एवरेज पीपल और गरीबी पल होते हैं वह ट्रैवल करते हैं और कुछ लोग वो ट्रैवल करते हैं जिनका रिजर्वेशन नहीं हो पाता है और जिन को अमरजनसी में जाना पड़ता है तो हमारी सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए और मैं आपको एक बात बता दो बता देना चाहता हूं कि जनरल डिब्बों की हालत काफी ज्यादा खराब हैRail Gadiyan Bhartiya Railway Booking Ek Accha Transportation Hota Hai Kisi Bhi Vyakti Ke Liye Lambe Se Lambe Tour Par Aap Ja Sakte Hain Railgaadi Kab Baat Yeh Hai Ki Jo General Dibbe Hote Hain Railgadiyon Mein Unki Halat Kafi Jyada Kharab Hai Aaj Ke Time Par Jansankhya Kafi Jyada Hai Lokpriya Jyada Karte Hain General Dibbe Mein X Kum Capacity Sirf Kuch Hi Dibbe Hote Itni Badi Railgaadi Mein Jitne Sleeper Aur Iski Aisi Koshish Ke Dibbe Hote Hain Unse Kafi Kum Hote Hain Aur Kafi Jyada Log Treval Karte Hain Jinhen Mili Jo Average Pipal Aur Garibi Pal Hote Hain Wah Treval Karte Hain Aur Kuch Log Vo Treval Karte Hain Jinka Reservation Nahi Ho Pata Hai Aur Jin Ko Amarajanasi Mein Jana Padata Hai To Hamari Sarkar Ko Is Par Dhyan Dena Chahiye Aur Main Aapko Ek Baat Bata Do Bata Dena Chahta Hoon Ki General Dibbon Ki Halat Kafi Jyada Kharab Hai
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो दोस्त मुझे लगता है कि रेलवे कि जो दुर्घटना हुई है उसमें साजिश तो मुझे नहीं नजर आती हैं लेकिन लापरवाही जरूर नजर आती है अगर आप फास्ट की घटनाओं को देखो जितनी भी रेल दुर्घटना हुई है वह और साजिश कम आप...
जवाब पढ़िये
देखो दोस्त मुझे लगता है कि रेलवे कि जो दुर्घटना हुई है उसमें साजिश तो मुझे नहीं नजर आती हैं लेकिन लापरवाही जरूर नजर आती है अगर आप फास्ट की घटनाओं को देखो जितनी भी रेल दुर्घटना हुई है वह और साजिश कम आपकी लापरवाही रेलवे एंप्लाइज की जो लापरवाही है वह ज्यादा दिखा दी है तो मैं इसमें यही कहना चाहूंगा कि जो लोग इस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार है उन लोगों को चिन्हित किया जाना चाहिए तथा उनके खिलाफ सबसे सख्त कार्यवाही करनी चाहिए इसके अलावा में एक चीज और कहना चाहूंगा कि सरकार को रेलवे के नेटवर्क को बढ़ाने से अच्छा है कि जो बेसिक जरूरत है दूसरा जो इस तरह का सिस्टम डेवलप करना चाहिए ताकि रेल दुर्घटनाएं जो भी हो रही है उनको बहुत कम किया जा सके तो क्या हाल ही में एक 2 साल में देखा गया कि रेलवे की दुर्घटना बहुत ज्यादा है या भबुआ तो बस मैं यही कहूंगाDekho Dost Mujhe Lagta Hai Ki Railway Ki Jo Durghatna Hui Hai Usamen Sajish To Mujhe Nahi Nazar Aati Hain Lekin Laparwahi Jarur Nazar Aati Hai Agar Aap Fast Ki Ghatnaon Ko Dekho Jitni Bhi Rail Durghatna Hui Hai Wah Aur Sajish Kum Aapki Laparwahi Railway Emplaij Ki Jo Laparwahi Hai Wah Jyada Dikha Di Hai To Main Isme Yahi Kehna Chahunga Ki Jo Log Is Durghatna Ke Liye Zimmedar Hai Un Logon Ko Chinhit Kiya Jana Chahiye Tatha Unke Khilaf Sabse Sakht Karyavahi Karni Chahiye Iske Alava Mein Ek Cheez Aur Kehna Chahunga Ki Sarkar Ko Railway Ke Network Ko Badhane Se Accha Hai Ki Jo Basic Zaroorat Hai Doosra Jo Is Tarah Ka System Develop Karna Chahiye Taki Rail Durghatnae Jo Bhi Ho Rahi Hai Unko Bahut Kum Kiya Ja Sake To Kya Haal Hi Mein Ek 2 Saal Mein Dekha Gaya Ki Railway Ki Durghatna Bahut Jyada Hai Ya Bhabua To Bus Main Yahi Kahunga
Likes  9  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी दोस्त ऐसा नहीं है कि जो इंडियन रोडवेज की बसें होती है वहां उसके जो कंडक्टर लेडीस नहीं होती है अगर आप राजस्थान में जाएंगे तो आपको लेडीस कंडक्टर बिलकुल दिखाई देंगे ऐसा है नहीं की रेट कंडक्टर बिल्कु...
जवाब पढ़िये
देखी दोस्त ऐसा नहीं है कि जो इंडियन रोडवेज की बसें होती है वहां उसके जो कंडक्टर लेडीस नहीं होती है अगर आप राजस्थान में जाएंगे तो आपको लेडीस कंडक्टर बिलकुल दिखाई देंगे ऐसा है नहीं की रेट कंडक्टर बिल्कुल नहीं है लेकिन हर स्टेट में आपको ही नहीं दिखेगा ट्रेंड और आपको लेडीस कंडक्टर नहीं दिखेंगी काफी स्टेट और दिखेंगी भी तो बहुत कम देखेंगे बहुत ज्यादा कम इसके पीछे कई सारी बजे एक तू जो हमारे इंडियन + फैमिली रोती है बड़ी टिपिकल होती है तो उनको यह जो रेडी बस में कंडक्टर लेडीस का होना है यह तो उनको अनसेफ मिलकर आता है उनको लगता है कि हमारी अगर महिलाएं बस में कंडक्टर होंगी तो वह बहुत अंतर होगा दूसरी चीज वह लोग ऐसे काम को थोड़ा सा यह समझते हैं कि यह थोड़ा छोटा काम में महिलाओं के लिए महिला ऐसे काम के लिए नहीं बनी है तो शुरु से ही आपको तो पता है महिलाओं को कहीं ना कहीं जॉब के लिए आजादी कब मिली हुई है अपने भारत में चाहे वो करम ड्राइविंग की बात करें चाहे हम कंडक्टर की बात करें तो आपको इन चीजों में महिला कम दिखेंगे क्योंकि उनकी फैमिली इस कभी सपोर्ट नहीं करती है करती तो बहुत कम करते हैं तो यही है कि ऐसा नहीं है कि बिल्कुल नहीं है आपको हो राजस्थान में देखिए आप और आप एक दूसरे में और देखेंगे आपको बहुत सारी महिलाएं लेडीस कंडक्टर में दिखाई देंगी तो बस यही कि आजकल की फैमिली से 12 महिला को जॉब नहीं करने देती ऊपर से अगर आपको कंडक्टर की जो मिल रही हो तो वह समझते हैं कि एक तो आज से होता है दूसरी चीज हमारे घर की महिला लेडीस कंडक्टर काम करेंगे तो थोड़ा उनके इमेज और कल्चर का क्या होगा तो ऐसी कुछ बात है जिसकी वजह से आज भी लेडीस कंडक्टर में आपको महिला है बहुत कम दिखाई देती हैDekhi Dost Aisa Nahi Hai Ki Jo Indian Roadways Ki Busen Hoti Hai Wahan Uske Jo Conductor Ladies Nahi Hoti Hai Agar Aap Rajasthan Mein Jaenge To Aapko Ladies Conductor Bilkul Dikhai Denge Aisa Hai Nahi Ki Rate Conductor Bilkul Nahi Hai Lekin Har State Mein Aapko Hi Nahi Dikhega Trend Aur Aapko Ladies Conductor Nahi Dikhengi Kafi State Aur Dikhengi Bhi To Bahut Kum Dekhenge Bahut Jyada Kum Iske Piche Kai Saree Baje Ek Tu Jo Hamare Indian + Family Roti Hai Badi Typical Hoti Hai To Unko Yeh Jo Ready Bus Mein Conductor Ladies Ka Hona Hai Yeh To Unko Unsafe Milkar Aata Hai Unko Lagta Hai Ki Hamari Agar Mahilaye Bus Mein Conductor Hongi To Wah Bahut Antar Hoga Dusri Cheez Wah Log Aise Kaam Ko Thoda Sa Yeh Samajhte Hain Ki Yeh Thoda Chota Kaam Mein Mahilaon Ke Liye Mahila Aise Kaam Ke Liye Nahi Bani Hai To Shuru Se Hi Aapko To Pata Hai Mahilaon Ko Kahin Na Kahin Job Ke Liye Azadi Kab Mili Hui Hai Apne Bharat Mein Chahe Vo Karam Driving Ki Baat Karen Chahe Hum Conductor Ki Baat Karen To Aapko In Chijon Mein Mahila Kum Dikhenge Kyonki Unki Family Is Kabhi Support Nahi Karti Hai Karti To Bahut Kum Karte Hain To Yahi Hai Ki Aisa Nahi Hai Ki Bilkul Nahi Hai Aapko Ho Rajasthan Mein Dekhie Aap Aur Aap Ek Dusre Mein Aur Dekhenge Aapko Bahut Saree Mahilaye Ladies Conductor Mein Dikhai Dengi To Bus Yahi Ki Aajkal Ki Family Se 12 Mahila Ko Job Nahi Karne Deti Upar Se Agar Aapko Conductor Ki Jo Mil Rahi Ho To Wah Samajhte Hain Ki Ek To Aaj Se Hota Hai Dusri Cheez Hamare Ghar Ki Mahila Ladies Conductor Kaam Karenge To Thoda Unke Image Aur Culture Ka Kya Hoga To Aisi Kuch Baat Hai Jiski Wajah Se Aaj Bhi Ladies Conductor Mein Aapko Mahila Hai Bahut Kum Dikhai Deti Hai
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका यह सवाल है कि आधुनिक ट्रेन का पेट्रोल एवरेज क्या होता है जहां तक मैं जानती हूं कि और ट्रेन स्टोर हेलिकॉप्टर रोल में नहीं जाया जाता है इसलिए तो है 4:00 को यूज़ किया जाता है या फिर डीजल में यूज किय...
जवाब पढ़िये
आपका यह सवाल है कि आधुनिक ट्रेन का पेट्रोल एवरेज क्या होता है जहां तक मैं जानती हूं कि और ट्रेन स्टोर हेलिकॉप्टर रोल में नहीं जाया जाता है इसलिए तो है 4:00 को यूज़ किया जाता है या फिर डीजल में यूज किया था अगर डीजल में है तो आप ब्रिक्स लिए रखी है अगर पाइप था उसका अगर लगे हैं तो फोटो से 1 लीटर पर किलोमीटर के लिए होगा ठीक हैAapka Yeh Sawal Hai Ki Aadhunik Train Ka Petrol Average Kya Hota Hai Jahan Tak Main Jaanti Hoon Ki Aur Train Store Helicopter Roll Mein Nahi Jaaya Jata Hai Isliye To Hai 4:00 Ko Use Kiya Jata Hai Ya Phir Diesel Mein Use Kiya Tha Agar Diesel Mein Hai To Aap Bricks Liye Rakhi Hai Agar Pipe Tha Uska Agar Lage Hain To Photo Se 1 Liter Par Kilometre Ke Liye Hoga Theek Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीदी हमारे देश के अंदर जो ट्रेन दिल्ली होती है उसके बहुत सारे रीजन से स्पेशल सर्दियों में तो इस प्रॉब्लम यह समय से बहुत ही ज्यादा बढ़ जाती है उसका जो सबसे बढ़ा दीजिए मुझे लगता है कि आप सो गए सर्दियों ...
जवाब पढ़िये
दीदी हमारे देश के अंदर जो ट्रेन दिल्ली होती है उसके बहुत सारे रीजन से स्पेशल सर्दियों में तो इस प्रॉब्लम यह समय से बहुत ही ज्यादा बढ़ जाती है उसका जो सबसे बढ़ा दीजिए मुझे लगता है कि आप सो गए सर्दियों की तो मैं बात कर दो ख्वाब रहता है और इंजन अलग मैं बात करूं तो या तो वहां से जो सिग्नल को प्रॉपर नहीं आ रहा है ट्रैक पर काम चल रहा हो या कुछ जो टाइगर क्षतिग्रस्त हुआ हो या कहीं एक्सीडेंट हुआ हो तो मुझे लगता है यही बहुत बड़ी रीजन सोते हैं अगर भाई अगर मैं बात को आज से 3000 साल पहले तू तो इंडियन रेलवे की स्थिति और खराब थी वहां उस टाइम तो हमेशा ही ट्रेन डिले होती थी लेकिन ऐसा नहीं है आज की स्थिति जो है वह धीरे-धीरे इंप्रूव हो रही है और मुझे लगता है क्या आने वाले भविष्य में कुछ समय बाद में जरुर सोच यह सोच सकता हूं कि जो ट्रेन डिले होती हैं उनमें इंप्रूवमेंट होगा सारी ट्रेन राइट टाइम चलेंगे और राइट टाइम पहुंचेगीDidi Hamare Desh Ke Andar Jo Train Delhi Hoti Hai Uske Bahut Sare Reason Se Special Sardiyo Mein To Is Problem Yeh Samay Se Bahut Hi Jyada Badh Jati Hai Uska Jo Sabse Badha Dijiye Mujhe Lagta Hai Ki Aap So Gaye Sardiyo Ki To Main Baat Kar Do Khwab Rehta Hai Aur Engine Alag Main Baat Karun To Ya To Wahan Se Jo Signal Ko Proper Nahi Aa Raha Hai Track Par Kaam Chal Raha Ho Ya Kuch Jo Tiger Kshatigrast Hua Ho Ya Kahin Accident Hua Ho To Mujhe Lagta Hai Yahi Bahut Badi Reason Sote Hain Agar Bhai Agar Main Baat Ko Aaj Se 3000 Saal Pehle Tu To Indian Railway Ki Sthiti Aur Kharab Thi Wahan Us Time To Hamesha Hi Train Delay Hoti Thi Lekin Aisa Nahi Hai Aaj Ki Sthiti Jo Hai Wah Dhire Dhire Improve Ho Rahi Hai Aur Mujhe Lagta Hai Kya Aane Wale Bhavishya Mein Kuch Samay Baad Mein Zaroor Soch Yeh Soch Sakta Hoon Ki Jo Train Delay Hoti Hain Unmen Improvement Hoga Saree Train Right Time Chalenge Aur Right Time Pahunchegi
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रेन के पीछे ग्राउंड फ्लोर होता है क्या अर्थ है कि बैगन पिछले वाहन बोर्ड में है जिससे अक्सर भारत में ट्रेनों पर अगली बोर्ड के रूप में स्वीकृत किया जाता है ट्रेन का आखिरी वाहन एरिया में एक लाल दीपक ले...
जवाब पढ़िये
ट्रेन के पीछे ग्राउंड फ्लोर होता है क्या अर्थ है कि बैगन पिछले वाहन बोर्ड में है जिससे अक्सर भारत में ट्रेनों पर अगली बोर्ड के रूप में स्वीकृत किया जाता है ट्रेन का आखिरी वाहन एरिया में एक लाल दीपक ले जाने वाला है इससे पहले आवश्यकता केवल एक तेल दीपक थी जो अक्सर गायब थी यह बहुत कमजोर थी हाल के वर्षों में बिजली के दीपक का परिधान अधिक सामान्य हो गया है पिछले वहां के संकेत विभिन्न प्रकार के हैं एक बड़े x को खोज के पीछे अक्सर देखा जाता है सिद्ध साधक हलकों का एक समूह भी देखा जा सकता है हालांकि यह 2018 के उपयोग से बाहर नहीं जा रहा है अपनी उद्यमियों रेट में एक छोटे से चित्रित X पीछे है या कभी-कभी विक्रम सिंह रॉकी एक जरूर लक्खा है पर चित्रित इन बैटिंग प्रतीकों का उल्लेख उल्लेख सभी ऊपर भी है अरबी के साथ एक छोटा सा बोर्ड अक्सर बांध के पीछे से जुड़ा है यह अतिम वाहन के लिए हैTrain Ke Piche Ground Floor Hota Hai Kya Arth Hai Ki Baigan Pichle Vaahan Board Mein Hai Jisse Aksar Bharat Mein Traino Par Agli Board Ke Roop Mein Sawikrit Kiya Jata Hai Train Ka Aakhiri Vaahan Area Mein Ek Lal Dipak Le Jaane Wala Hai Isse Pehle Avashyakta Kewal Ek Tel Dipak Thi Jo Aksar Gayab Thi Yeh Bahut Kamjor Thi Haal Ke Varshon Mein Bijli Ke Dipak Ka Paridhan Adhik Samanya Ho Gaya Hai Pichle Wahan Ke Sanket Vibhinn Prakar Ke Hain Ek Bade X Ko Khoj Ke Piche Aksar Dekha Jata Hai Siddh Sadhak Halakon Ka Ek Samuh Bhi Dekha Ja Sakta Hai Halanki Yeh 2018 Ke Upyog Se Bahar Nahi Ja Raha Hai Apni Udhyamiyon Rate Mein Ek Chote Se Chitrit X Piche Hai Ya Kabhi Kabhi Vikram Singh Rocky Ek Jarur Lakkha Hai Par Chitrit In Batting Pratiko Ka Ullekh Ullekh Sabhi Upar Bhi Hai Rb Ke Saath Ek Chota Sa Board Aksar Bandh Ke Piche Se Juda Hai Yeh Atim Vaahan Ke Liye Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों तो चलिए आज इस सवाल का जवाब ढूंढता है क्या भारत को बुलेट ट्रेन की जरूरत है यह जवाब देने से पहले मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि भारत में जो जो ट्रेन सिस्टम है जो रेलवे ट्रांसपोर्टेशन सिस्ट...
जवाब पढ़िये
नमस्कार दोस्तों तो चलिए आज इस सवाल का जवाब ढूंढता है क्या भारत को बुलेट ट्रेन की जरूरत है यह जवाब देने से पहले मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि भारत में जो जो ट्रेन सिस्टम है जो रेलवे ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम है बहुत सारे अंडर डेवलपमेंट अगर आप किसी भी ट्रेन में चले जाओ तो आपको दिखाई देगा कि बहुत सारे कोशिश या प्लेटफार्म स्क्रीन नहीं है वहां पर चूहे नहीं तो कोई और कॉकरोच और ऐसे प्राणी और ऐसे छोटे-छोटे एनिमल्स एनिमल्स दिखाई देंगे और जब भी आप ट्रेन बोर्ड करते हो तो अंदर बहुत ऑनलाइन रहता है स्वच्छता का कोई भी इंपॉर्टेंस नहीं रहता तो मैं क्या मेरा यह मानना है कि बुलेट ट्रेन और को इंडिया में लाने से पहले जो जो रे एंड सिस्टम्स ऑलरेडी है जो ट्रेन सिस्टम मौजूद है उन को अच्छी तरह से डेवलप किया जाए जैसे ट्रांसपोर्टेशन रेलवे ट्रांसपोर्टेशन कनेक्टिविटी को बढ़ाया जाए क्लीनलीनेस या सच स्वच्छता मेंटेन किया जाए प्लेटफार्म और वह सभी रेल कोच इस रेल कोच इसको अच्छी तरह से बिल्ट अप करें तो हम डेवलपमेंट करना चाहिए तो मुझे तो लगता है कि बुलेट ट्रेन भारत देश को बुलेट ट्रेन की जरूरत नहीं है मुझे तो लगता है कि इसमें पैसा बहुत खर्च हो रहा है गवर्नमेंट लोगों का पैसा बहुत वेस्ट हो रहा है इस पर बुलेट ट्रेन सिर्फ डेवलप्ड कंट्री में अच्छा लगता है जैसे कि जापान चाइना या अमेरिका हमारा भारत देश अभी भी डेवलपिंग नेशन है तो बुलेट ट्रेन इंस्टॉल अगर हम कर ले अगर बुलेट ट्रेन भारत देश में आ गया तो मुझे नहीं लगता कि वह मेंटेन हो पाएगा धन्यवादNamaskar Doston To Chaliye Aaj Is Sawal Ka Jawab Dhundhta Hai Kya Bharat Ko Bullet Train Ki Zaroorat Hai Yeh Jawab Dene Se Pehle Main Aapko Yeh Batana Chahunga Ki Bharat Mein Jo Jo Train System Hai Jo Railway Transportation System Hai Bahut Sare Under Development Agar Aap Kisi Bhi Train Mein Chale Jao To Aapko Dikhai Dega Ki Bahut Sare Koshish Ya Platform Screen Nahi Hai Wahan Par Chuhe Nahi To Koi Aur Cockroach Aur Aise Prani Aur Aise Chote Chote Dikhai Denge Aur Jab Bhi Aap Train Board Karte Ho To Andar Bahut Online Rehta Hai Svachchhata Ka Koi Bhi Importance Nahi Rehta To Main Kya Mera Yeh Manana Hai Ki Bullet Train Aur Ko India Mein Lane Se Pehle Jo Jo Ray End Systems Hai Jo Train System Maujud Hai Un Ko Acchi Tarah Se Develop Kiya Jaye Jaise Transportation Railway Transportation Connectivity Ko Badhaya Jaye Ya Sach Svachchhata Maintain Kiya Jaye Platform Aur Wah Sabhi Rail Coach Is Rail Coach Isko Acchi Tarah Se Bilt Up Karen To Hum Development Karna Chahiye To Mujhe To Lagta Hai Ki Bullet Train Bharat Desh Ko Bullet Train Ki Zaroorat Nahi Hai Mujhe To Lagta Hai Ki Isme Paisa Bahut Kharch Ho Raha Hai Government Logon Ka Paisa Bahut West Ho Raha Hai Is Par Bullet Train Sirf Developed Country Mein Accha Lagta Hai Jaise Ki Japan China Ya America Hamara Bharat Desh Abhi Bhi Nation Hai To Bullet Train Install Agar Hum Kar Le Agar Bullet Train Bharat Desh Mein Aa Gaya To Mujhe Nahi Lagta Ki Wah Maintain Ho Payega Dhanyavad
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत में जोड़ यातायात की वहीं व्यवस्था है वह ट्रेन है ट्रेन से दिन भर में लाखों करोड़ों लोग यातायात करते हैं चाहे वह एक देश एक राज्य से दूसरे राज्य में एक शहर से दूसरे शहर के अंदर यदि हो तो ट्रे...
जवाब पढ़िये
देखिए भारत में जोड़ यातायात की वहीं व्यवस्था है वह ट्रेन है ट्रेन से दिन भर में लाखों करोड़ों लोग यातायात करते हैं चाहे वह एक देश एक राज्य से दूसरे राज्य में एक शहर से दूसरे शहर के अंदर यदि हो तो ट्रेन जो है वह मैं नहीं आता याद का साधन है तो बहुत ज्यादा भारी नुकसान हो गए थे ट्रेन को बंद कर दिया जाए भारतDekhie Bharat Mein Jod Yatayat Ki Wahin Vyavastha Hai Wah Train Hai Train Se Din Bhar Mein Laakhon Karodo Log Yatayat Karte Hain Chahe Wah Ek Desh Ek Rajya Se Dusre Rajya Mein Ek Sheher Se Dusre Sheher Ke Andar Yadi Ho To Train Jo Hai Wah Main Nahi Aata Yaad Ka Sadhan Hai To Bahut Jyada Bhari Nuksan Ho Gaye The Train Ko Band Kar Diya Jaye Bharat
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप किसी अर्थव्यवस्था की जानकारी से पूछेंगे तो आपको या ज्ञान होगा कि जो कर्जा हम करोड़ो का अरबों का कर्जा हम किसी परियोजना के लिए लेते हैं वह वास्तव में कर्जा नहीं होता में निवेश होता है उसमें एक उ...
जवाब पढ़िये
यदि आप किसी अर्थव्यवस्था की जानकारी से पूछेंगे तो आपको या ज्ञान होगा कि जो कर्जा हम करोड़ो का अरबों का कर्जा हम किसी परियोजना के लिए लेते हैं वह वास्तव में कर्जा नहीं होता में निवेश होता है उसमें एक उचित ब्याज दर होती है जिसके आधार पर हम मुनाफे का एक शेयर उस कंपनी को या उस बैंक को देते हैं जिसे हमने कब्ज़ा लिया है तो बात पूरी तरह सत्य नहीं है कि हमने एक केवल कर्जे के आधार पर शुरू किया है भारत के पास एक बहुत बड़ा रिजर्व है एक बहुत बड़ा पूंजी भंडार है जिसको चाहे तो इन योजनाओं में निवेश कर सकती है परंतु उनका जो मूल्यांकन है वह इस आधार पर नहीं होता है हर चीज के लेकर कम बंधी हुई होती है एक पूंजी जो एक निवेश होता है वह पैदा हुआ होता है हम उसको हाथ नहीं लगा सकते इस प्रकार की नई योजनाओं के लिए तो अगर हम देखें कि इन परियोजनाओं के लिए चाहे वह बुलेट ट्रेन हो जाए मेट्रो ट्रेनों हमेशा कर दिया लिया जाता क्या भारत जैसे देश ही नहीं अमेरिका जैसे समृद्ध देश भी इन सब परियोजना को प्रारंभ करने से पहले एक उचित ब्याज दर पर अनेक बैंकों सेवर सरकारों से कर्जा लेते हैं उसके बाद या परियोजना प्रारंभ होती हैं और उनके मुनाफे का एक पर्टिकुलर शेयर एक निश्चित शेयर उन कंपनियों को वापस दिया जाता है जिससे उन्हें उन्होंने कर दिया लिया हो तो यह एक व्यवस्था है जो अर्थ आर्थिक विकास के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है वह आने वाले समय में यह सुनिश्चित हो जाएगा कि इस प्रकार की परियोजनाओं से भारतीय अर्थव्यवस्था पर ज्यादा दबाव नापने धन्यवादYadi Aap Kisi Arthavyavastha Ki Jankari Se Puchhenge To Aapko Ya Gyaan Hoga Ki Jo Karja Hum Croredo Ka Araboon Ka Karja Hum Kisi Pariyojna Ke Liye Lete Hain Wah Vaastav Mein Karja Nahi Hota Mein Nivesh Hota Hai Usamen Ek Uchit Byaj Dar Hoti Hai Jiske Aadhar Par Hum Munafe Ka Ek Share Us Company Ko Ya Us Bank Ko Dete Hain Jise Humne Kabja Liya Hai To Baat Puri Tarah Satya Nahi Hai Ki Humne Ek Kewal Karje Ke Aadhar Par Shuru Kiya Hai Bharat Ke Paas Ek Bahut Bada Reserve Hai Ek Bahut Bada Punji Bhandar Hai Jisko Chahe To In Yojanaon Mein Nivesh Kar Sakti Hai Parantu Unka Jo Mulyaankan Hai Wah Is Aadhar Par Nahi Hota Hai Har Cheez Ke Lekar Kum Bandhi Hui Hoti Hai Ek Punji Jo Ek Nivesh Hota Hai Wah Paida Hua Hota Hai Hum Usko Hath Nahi Laga Sakte Is Prakar Ki Nayi Yojanaon Ke Liye To Agar Hum Dekhen Ki In Pariyojanaon Ke Liye Chahe Wah Bullet Train Ho Jaye Metro Traino Hamesha Kar Diya Liya Jata Kya Bharat Jaise Desh Hi Nahi America Jaise Samriddh Desh Bhi In Sab Pariyojna Ko Prarambh Karne Se Pehle Ek Uchit Byaj Dar Par Anek Bankon Sevar Sarkaro Se Karja Lete Hain Uske Baad Ya Pariyojna Prarambh Hoti Hain Aur Unke Munafe Ka Ek Particular Share Ek Nishchit Share Un Companion Ko Wapas Diya Jata Hai Jisse Unhen Unhone Kar Diya Liya Ho To Yeh Ek Vyavastha Hai Jo Arth Aarthik Vikash Ke Liye Bahut Hi Mahatvapurna Hai Wah Aane Wale Samay Mein Yeh Sunishchit Ho Jayega Ki Is Prakar Ki Pariyojanaon Se Bhartiya Arthavyavastha Par Jyada Dabaav Napne Dhanyavad
Likes  13  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसे क्यों अपने ट्रेनिंग करनी है कोई आपको कोचिंग सेंटर बताना है पूरा डिटेल में बताइए क्या क्या पूछना चाहते हो और अगर आप नेट कोचिंग सेंटर पूछना है तो जगह बताओ कौन सी जगह में मुकुट कोचिंग सेंटर चाहिए हमक...
जवाब पढ़िये
ऐसे क्यों अपने ट्रेनिंग करनी है कोई आपको कोचिंग सेंटर बताना है पूरा डिटेल में बताइए क्या क्या पूछना चाहते हो और अगर आप नेट कोचिंग सेंटर पूछना है तो जगह बताओ कौन सी जगह में मुकुट कोचिंग सेंटर चाहिए हमको पूरा बताऊंगाAise Kyun Apne Training Karni Hai Koi Aapko Coaching Center Batana Hai Pura Detail Mein Bataiye Kya Kya Poochna Chahte Ho Aur Agar Aap Net Coaching Center Poochna Hai To Jagah Batao Kaun Si Jagah Mein Mukut Coaching Center Chahiye Hamko Pura Bataunga
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उधना से आरा जाने के लिए कौन सी ट्रेन है...
जवाब पढ़िये
उधना से आरा जाने के लिए कौन सी ट्रेन हैUdhna Se Aara Jaane Ke Liye Kaun Si Train Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रेन में जो होता है वह 110 वोल्ट की सप्लाई होती है और आपका जो चार्जर होता है वह 110 से ढाई सौ वोल्टा का गरीब सपोर्ट करता है लेकिन उसके बावजूद आप ट्रेन में चार्जिंग पर मत लगाया करिए अपना फोन क्योंकि ह...
जवाब पढ़िये
ट्रेन में जो होता है वह 110 वोल्ट की सप्लाई होती है और आपका जो चार्जर होता है वह 110 से ढाई सौ वोल्टा का गरीब सपोर्ट करता है लेकिन उसके बावजूद आप ट्रेन में चार्जिंग पर मत लगाया करिए अपना फोन क्योंकि होता है क्या है जब आप फोन चार्जिंग पर लगाते हैं तो आपका जो फोन है वह इतने कम वोल्टेज पर चार्जिंग होती तो रहती है लेकिन उसके अंदर खामियां पैदा होती रहती हैं तो यह कहा जाता है कि उस पर चार्जिंग पर नहीं लगाना चाहिए अपने का वोल्टेज है और यह खुद एक्सपीरियंस किया है मैंने कि इतने कम वोल्टेज पर जब चार्जिंग पर लगाया था तो उसमें जो फोन है वह उसमें खराबी पैदा हो गई थी फोन में उसके बाद उसमें उसकी जो सॉफ्टवेयर हो रहा है वह पूरा उड़ गया थाTrain Mein Jo Hota Hai Wah 110 Volt Ki Supply Hoti Hai Aur Aapka Jo Charger Hota Hai Wah 110 Se Dhai Sau Volta Ka Garib Support Karta Hai Lekin Uske Bawajud Aap Train Mein Charging Par Mat Lagaya Kariye Apna Phone Kyonki Hota Hai Kya Hai Jab Aap Phone Charging Par Lagate Hain To Aapka Jo Phone Hai Wah Itne Kum Voltage Par Charging Hoti To Rehti Hai Lekin Uske Andar Khamiyan Paida Hoti Rehti Hain To Yeh Kaha Jata Hai Ki Us Par Charging Par Nahi Lagana Chahiye Apne Ka Voltage Hai Aur Yeh Khud Experience Kiya Hai Maine Ki Itne Kum Voltage Par Jab Charging Par Lagaya Tha To Usamen Jo Phone Hai Wah Usamen Kharabi Paida Ho Gayi Thi Phone Mein Uske Baad Usamen Uski Jo Software Ho Raha Hai Wah Pura Ud Gaya Tha
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रेन में सफर करते हुए समस्याएं होती है जैसे कि आजकल जो ट्रेन है लोगों की पापुलेशन ज्यादा होने का जो है ट्रेन में सीट जो है और इसे पूरा किया तो बहुत जल्दी रिजर्वेशन हो जाता है सफर करते वक्त चीन का रिज...
जवाब पढ़िये
ट्रेन में सफर करते हुए समस्याएं होती है जैसे कि आजकल जो ट्रेन है लोगों की पापुलेशन ज्यादा होने का जो है ट्रेन में सीट जो है और इसे पूरा किया तो बहुत जल्दी रिजर्वेशन हो जाता है सफर करते वक्त चीन का रिजर्वेशन नहीं रहता है उनको भी सफर करना है नहीं हो तो - करने का प्रॉब्लम होती है वह समस्या काफी रखी है ट्रेन में आना बिल्कुल ट्रेन में बहुत से लोग कि नहीं रहते हैं मैं तो बाथरूम बहुत सारा कि नहीं रहता है लेकिन वह काफी समस्या होती अगर आप लंबा सफर कर रहे तो खाने की क्वालिटी है वह काफी खराब रहती है उसका ना सही से खा नहीं पाते हैं तो अच्छा फील नहीं होता अगर आप अकेले है तो काफी दिक्कत होती है ट्रेन मेंTrain Mein Safar Karte Hue Samasyaen Hoti Hai Jaise Ki Aajkal Jo Train Hai Logon Ki Population Jyada Hone Ka Jo Hai Train Mein Seat Jo Hai Aur Ise Pura Kiya To Bahut Jaldi Reservation Ho Jata Hai Safar Karte Waqt Chin Ka Reservation Nahi Rehta Hai Unko Bhi Safar Karna Hai Nahi Ho To - Karne Ka Problem Hoti Hai Wah Samasya Kafi Rakhi Hai Train Mein Aana Bilkul Train Mein Bahut Se Log Ki Nahi Rehte Hain Main To Bathroom Bahut Saara Ki Nahi Rehta Hai Lekin Wah Kafi Samasya Hoti Agar Aap Lamba Safar Kar Rahe To Khane Ki Quality Hai Wah Kafi Kharab Rehti Hai Uska Na Sahi Se Kha Nahi Paate Hain To Accha Feel Nahi Hota Agar Aap Akele Hai To Kafi Dikkat Hoti Hai Train Mein
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंदौर से अजमेर तक आपको स्लीपिंग क्लास में स्लीपर क्लास में ज्यादा से ज्यादा ₹300 तक लग जाएगा पर छिपकली बताना चाहूंगी तो ₹25...
जवाब पढ़िये
इंदौर से अजमेर तक आपको स्लीपिंग क्लास में स्लीपर क्लास में ज्यादा से ज्यादा ₹300 तक लग जाएगा पर छिपकली बताना चाहूंगी तो ₹25Indore Se Ajmer Tak Aapko Sleeping Class Mein Sleeper Class Mein Jyada Se Jyada ₹300 Tak Lag Jayega Par Chhipakali Batana Chahungi To ₹25
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाड़ियों का हैवी लाइसेंस आपको आरटीओ ऑफिस यानी रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस जो होता है आपके शहर में जो होगा वहां पर रिन्यू कराया जाता है और उस को रिन्यू कराने के लिए पहले आपको पूरा फॉर्म भरना पड़ेगा अप्लाई क...
जवाब पढ़िये
गाड़ियों का हैवी लाइसेंस आपको आरटीओ ऑफिस यानी रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस जो होता है आपके शहर में जो होगा वहां पर रिन्यू कराया जाता है और उस को रिन्यू कराने के लिए पहले आपको पूरा फॉर्म भरना पड़ेगा अप्लाई करना पड़ेगा उसके बाद आपको डेट मिलेगी आपको वहां जाकर बायोमेट्रिक्स कराने होंगे फॉर्म जमा करना पड़ेगा और उसके साथ-साथ कुछ चार्ज भी लगता है और जो कि आप ऑनलाइन हो चुके काफी जगह पर तो वह वहां जाकर अपना लाइसेंस रिन्यू करा सकते हैं और फिर से आप अपना काम शुरू कर सकते हैंGadiyon Ka Heavy License Aapko Rto Office Yani Regional Transport Office Jo Hota Hai Aapke Sheher Mein Jo Hoga Wahan Par Renew Karaya Jata Hai Aur Us Ko Renew Karane Ke Liye Pehle Aapko Pura Form Bharna Padega Apply Karna Padega Uske Baad Aapko Date Milegi Aapko Wahan Jaakar Karane Honge Form Jama Karna Padega Aur Uske Saath Saath Kuch Charge Bhi Lagta Hai Aur Jo Ki Aap Online Ho Chuke Kafi Jagah Par To Wah Wahan Jaakar Apna License Renew Kra Sakte Hain Aur Phir Se Aap Apna Kaam Shuru Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अनिल डिटेल किया बट यहां पर कोटे के बारे में तो कुछ नहीं लिखा है पड़ेगा एग्जाम के बारे में लिखा है तो आपको इसकी डिटेल चाहिए तो बता दो कोटे के बारे में यहां कुछ शो नहीं हो रहा है इनकी साइड में मैंने सब ...
जवाब पढ़िये
अनिल डिटेल किया बट यहां पर कोटे के बारे में तो कुछ नहीं लिखा है पड़ेगा एग्जाम के बारे में लिखा है तो आपको इसकी डिटेल चाहिए तो बता दो कोटे के बारे में यहां कुछ शो नहीं हो रहा है इनकी साइड में मैंने सब चेक किया कुछ नहीं हो रहा हैAnil Detail Kiya But Yahan Par Kote Ke Baare Mein To Kuch Nahi Likha Hai Padega Exam Ke Baare Mein Likha Hai To Aapko Iski Detail Chahiye To Bata Do Kote Ke Baare Mein Yahan Kuch Show Nahi Ho Raha Hai Inki Side Mein Maine Sab Check Kiya Kuch Nahi Ho Raha Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon