tag_img

Planetary_science


1992 में रियो डी जने की जगह पर जो कि ब्राजील में स्थित है उस स्थान पर पहला पृथ्वी सम्मेलन हुआ था यह सम्मेलन 1972 के ह्यूमन एनवायरनमेंट यूनाइटेड नेशन ऑफ कन्वेंशन ऑन ह्यूमन एनवायरनमेंट की 20 साल की वजह से हुआ था इस यूनाइटेड नेशन ह्यूमन एनवायरनमेंट भारत की तरफ से इंदिरा गांधी जी ने प्रतिनिधित्व किया था पृथ्वी सम्मेलन भी जरूरी था 1992 में क्योंकि उस समय पृथ्वी सम्मेलन हुआ जिसमें काफी सारे गोलसर झंडा लगाए हुए थे उसमें सबसे पहले 787 कब मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल प्रोटोकॉल था उस प्रोटोकॉल के तहत हमें जो ओजोन होल हो गया था वह जानवर उसके कम करने के लिए जो सीएससी को कम करना और कई तरह की सस्टेनेबल डेवलपमेंट का सबसे पहला नारा उसी में दिया गया तो पृथ्वी सम्मेलन में 1992 का जो अर्थ मैच हुआ था वह 10 साल बाद जोहानेसबर्ग में दोबारा से हुआ दो 2002 में उसके बाद और 10 साल बाद यानी की 1992 की 20 साल की सालगिरह सालगिरह थी 20 साल का तीज 2012 में दोबारा से रियो डी जनेरियो में हुआ था यह चीज देखने के लिए क्या आज तक हम किसी से फॉलो कर पाए और कितना टाइगर डैम बना पाए हैं 2015 तक वह सारी चीजें खत्म हो गई 2015 में पेरिस क्लाइमेट चेंज एक ऐतिहासिक सम्मेलन हुआ उस सम्मेलन में भी यही चीज की गई कि कार्बन में कितनी कटौती की जाए वह जानना है 2015 का जो का कारण कटौती वाली चीज जो आई थी वह 1997 में क्योटो प्रोटोकॉल से आई थी क्यूटो प्रोटोकॉल क्यूट एक जगह जापान वहां पर कमिशन हुआ था उसकी आई थी तो पूरी दुनिया को पर्यावरण से बचाने के लिए जो प्रोटीन प्रोटोकॉल सारे बहुत सारे प्रोटोकॉल से बनाए गए थे उसे बहुत सारे देशों ने साइन की हुई सबसे ज्यादा दुर्गा की की जाती है कि अमेरिका ने तो क्यों टोटल को फॉलो करता है ना पेरिस क्लाइमेट चेंज को फॉलो करता है थैंक यू1992 Mein Rio D Jane Ki Jagah Par Jo Ki Brazil Mein Sthit Hai Us Sthan Par Pehla Prithvi Sammelan Hua Tha Yeh Sammelan 1972 Ke Human Environment United Nation Of Convention On Human Environment Ki 20 Saal Ki Wajah Se Hua Tha Is United Nation Human Environment Bharat Ki Taraf Se Indira Gandhi Ji Ne Pratinidhitva Kiya Tha Prithvi Sammelan Bhi Zaroori Tha 1992 Mein Kyonki Us Samay Prithvi Sammelan Hua Jisme Kafi Sare Golasar Jhanda Lagaye Hue The Usamen Sabse Pehle 787 Kab Mantriyal Protocol Protocol Tha Us Protocol Ke Tahat Hume Jo Ozone Hole Ho Gaya Tha Wah Janwar Uske Kum Karne Ke Liye Jo CSC Ko Kum Karna Aur Kai Tarah Ki Sustainable Development Ka Sabse Pehla Naara Ussi Mein Diya Gaya To Prithvi Sammelan Mein 1992 Ka Jo Arth Match Hua Tha Wah 10 Saal Baad Johanesabarg Mein Dobara Se Hua Do 2002 Mein Uske Baad Aur 10 Saal Baad Yani Ki 1992 Ki 20 Saal Ki Salgirah Salgirah Thi 20 Saal Ka Tij 2012 Mein Dobara Se Rio D Janeriyo Mein Hua Tha Yeh Cheez Dekhne Ke Liye Kya Aaj Tak Hum Kisi Se Follow Kar Paye Aur Kitna Tiger Dam Bana Paye Hain 2015 Tak Wah Saree Cheezen Khatam Ho Gayi 2015 Mein Paris Climate Change Ek Aetihasik Sammelan Hua Us Sammelan Mein Bhi Yahi Cheez Ki Gayi Ki Carbon Mein Kitni Katauti Ki Jaye Wah Janana Hai 2015 Ka Jo Ka Kaaran Katauti Wali Cheez Jo Eye Thi Wah 1997 Mein Kyoto Protocol Se Eye Thi Quito Protocol Cute Ek Jagah Japan Wahan Par Commission Hua Tha Uski Eye Thi To Puri Duniya Ko Paryavaran Se Bachane Ke Liye Jo Protein Protocol Sare Bahut Sare Protocol Se Banaye Gaye The Use Bahut Sare Deshon Ne Sign Ki Hui Sabse Jyada Durga Ki Ki Jati Hai Ki America Ne To Kyun Total Ko Follow Karta Hai Na Paris Climate Change Ko Follow Karta Hai Thank You
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिक्किम राज्य जो है अंग्रेजों के चले जाने का जाने 1945 के बाद अलग से अलग राज्य की तरह रह रहा था उसमें जो है भारत सरकार के अंतर्गत वह नहीं था उस समय जो है मद्रास प्रोविंशियल आमद रास प्रे बेंच बॉन्बे प्...
जवाब पढ़िये
सिक्किम राज्य जो है अंग्रेजों के चले जाने का जाने 1945 के बाद अलग से अलग राज्य की तरह रह रहा था उसमें जो है भारत सरकार के अंतर्गत वह नहीं था उस समय जो है मद्रास प्रोविंशियल आमद रास प्रे बेंच बॉन्बे प्रेसिडेंसी इन सबको जो है भाषा के नाम पर जो है आधा-आधा बांट आजा राजा मद्रास प्रोविंस में जो है तेलुगु बोलने वाला आंध्र प्रदेश पहले अलग हुआ मद्रास से विकी वह तमिल भाषा में था और इस तरह से दिल्ली मुंबई मुंबई महाराष्ट्र में मराठी बोलने वाले गुजरात में गुजराती बोलने वाले कर्नाटका में कनाडा बोलने वाले इस तरह से सारे राज्य अलग हुए तो इस तरह से जब अलग हो रहे थे तो भारत सरकार के अंतर्गत सिक्किम तुझसे केंद्र राज्य जो है वह 15 मई 1975 को भारत के साथ जुड़ गयाSikkim Rajya Jo Hai Angrejo Ke Chale Jaane Ka Jaane 1945 Ke Baad Alag Se Alag Rajya Ki Tarah Rah Raha Tha Usamen Jo Hai Bharat Sarkar Ke Antargat Wah Nahi Tha Us Samay Jo Hai Madras Provinsiyal Aamad Ras Pray Bench Bambe Presidensi In Sabko Jo Hai Bhasha Ke Naam Par Jo Hai Aadha Aadha Baant Aaja Raja Madras Provins Mein Jo Hai Telugu Bolne Wala Andhra Pradesh Pehle Alag Hua Madras Se Vikee Wah Tamil Bhasha Mein Tha Aur Is Tarah Se Delhi Mumbai Mumbai Maharashtra Mein Marathi Bolne Wale Gujarat Mein Gujarati Bolne Wale Karnataka Mein Canada Bolne Wale Is Tarah Se Sare Rajya Alag Hue To Is Tarah Se Jab Alag Ho Rahe The To Bharat Sarkar Ke Antargat Sikkim Tujhse Kendra Rajya Jo Hai Wah 15 May 1975 Ko Bharat Ke Saath Jud Gaya
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हमारे सौरमंडल में दूसरे नक्षत्र मंडल कि अगर कोई बस मिली है तो यह मिस यू आई थी मुझे तो नहीं पता इसके बारे में जानकारी ज्यादा नहीं है फिर भी अगर इस तरीके की पोस्ट मिली है तो बिल्कुल जांच का विषय है ...
जवाब पढ़िये
अगर हमारे सौरमंडल में दूसरे नक्षत्र मंडल कि अगर कोई बस मिली है तो यह मिस यू आई थी मुझे तो नहीं पता इसके बारे में जानकारी ज्यादा नहीं है फिर भी अगर इस तरीके की पोस्ट मिली है तो बिल्कुल जांच का विषय है मुझे बिल्कुल यारों की बहुत बड़े-बड़े कंट्रीस कि जो आप की स्पेस एजेंसी से जरूर इस मैटर को बस टिकट करेंगी तो बेफिक्र रहिए आप को अगर ऐसा हुआ है तो आपको जरूर पता चलेगा हो सकता है कुछ चौंकाने वाले नतीजे निकल कर आएAgar Hamare Saurmandal Mein Dusre Nakshtra Mandal Ki Agar Koi Bus Mili Hai To Yeh Miss You Eye Thi Mujhe To Nahi Pata Iske Baare Mein Jankari Jyada Nahi Hai Phir Bhi Agar Is Tarike Ki Post Mili Hai To Bilkul Janch Ka Vishay Hai Mujhe Bilkul Yaaron Ki Bahut Bade Bade Kantris Ki Jo Aap Ki Space Agency Se Jarur Is Matter Ko Bus Ticket Karengi To Befikra Rahiye Aap Ko Agar Aisa Hua Hai To Aapko Jarur Pata Chalega Ho Sakta Hai Kuch Chaunkane Wale Natheeje Nikal Kar Aaye
Likes  9  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से यह चंद्रमा पर कोई जीवन नहीं हो सकता है क्योंकि चंद्रमा की रक्षा के लिए कोई वातावरण नहीं है और चांद पर तापमान चरम होगा इसके अलावा चंद्रमा पर तरल पानी का कोई निशाना नहीं है दिल नहीं हो सकत...
जवाब पढ़िये
मेरे हिसाब से यह चंद्रमा पर कोई जीवन नहीं हो सकता है क्योंकि चंद्रमा की रक्षा के लिए कोई वातावरण नहीं है और चांद पर तापमान चरम होगा इसके अलावा चंद्रमा पर तरल पानी का कोई निशाना नहीं है दिल नहीं हो सकताMere Hisab Se Yeh Chandrama Par Koi Jeevan Nahi Ho Sakta Hai Kyonki Chandrama Ki Raksha Ke Liye Koi Vatavaran Nahi Hai Aur Chand Par Taapman Charam Hoga Iske Alava Chandrama Par Taral Pani Ka Koi Nishana Nahi Hai Dil Nahi Ho Sakta
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon
और जहां तक मैं जानती हूं वाले को धरती का नाम वह जो है किसने रखा था यह कोई नहीं जानते होंगे हालांकि ग्रहों और उनके चंद्रमा के अधिकारिक नमो को एक संगठन द्वारा नियंत्रित किया जाता है आज से इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन कहा जाता है तो आइए यू यह जो ने स्वीकार किया है कि जो एस्ट्रोनॉमी के पुरानी विज्ञान है और इसके कई नाम लंबे समय से चल रहा है परंपरा उनसे ही चल रहा है सोलर सिस्टम यह इतिहास में स्थापित OLX सोलर सिस्टम में वस्तुओं के कई नामों के लिए यह विशेष रुप से एसा है हमारे सोलर सिस्टम में अधिकांश वस्तुओं में वस्तुओं को ग्रीक रोमन प्रेरणिक कथाओं के आधार पर बहुत पहले नाम प्राप्त हुआ था इसलिए आइए यू ने इस परंपराओं को अपने नियमों से सोलर सिस्टम में कुछ प्रकार घर की वस्तुओं के नाम देने के लिए अपनाया हैAur Jahan Tak Main Jaanti Hoon Wale Ko Dharti Ka Naam Wah Jo Hai Kisne Rakha Tha Yeh Koi Nahi Jante Honge Halanki Grahon Aur Unke Chandrama Ke Adhikarik Namo Ko Ek Sangathan Dwara Niyantrit Kiya Jata Hai Aaj Se International Estronamikal Union Kaha Jata Hai To Aaiye You Yeh Jo Ne Sweekar Kiya Hai Ki Jo Astronomy Ke Purani Vigyan Hai Aur Iske Kai Naam Lambe Samay Se Chal Raha Hai Parampara Unse Hi Chal Raha Hai Solar System Yeh Itihas Mein Sthapit OLX Solar System Mein Vastuon Ke Kai Namon Ke Liye Yeh Vishesh Roop Se Aisa Hai Hamare Solar System Mein Adhikaansh Vastuon Mein Vastuon Ko Greek Roman Preranik Kathao Ke Aadhar Par Bahut Pehle Naam Prapt Hua Tha Isliye Aaiye You Ne Is Paramparaon Ko Apne Niyamon Se Solar System Mein Kuch Prakar Ghar Ki Vastuon Ke Naam Dene Ke Liye Apnaya Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
प्लूटो को सौरमंडल से बाहर तो नहीं निकाला गया है लेकिन अब उसे हम एक प्लांट कंसीडर नहीं करते हैं क्योंकि अभी फिलहाल में कुछ समय पहले अपना नेट की जो डेफिनेशन होती है वह चेंज हुई है जिस के हिसाब से ब्लूटूथ तीन में से बस दो चीज है 5:30 करते हैं बाकी एक चीज सर्टिफाइड नहीं करते इसलिए उसे अब्बास प्लेनेट का तमगा दिया गया है तो इसलिए अभी हम उसको एक फ्रेंड के तौर पर कंसीडर नहीं करते हैं बाकी सोलर सिस्टम में वह अभी भी है आधुनिक सौर मंडल में अपने WhatsApp क्योंकि वह क्या डिग्री सारी सारी सारी नहीं कर पा रहे हैं इसलिए हम उसे आप लोगों को एक लाइन का दर्जा नहीं देते अभीPluto Ko Saurmandal Se Bahar To Nahi Nikaala Gaya Hai Lekin Ab Use Hum Ek Plant Kansidar Nahi Karte Hain Kyonki Abhi Filhal Mein Kuch Samay Pehle Apna Net Ki Jo Definition Hoti Hai Wah Change Hui Hai Jis Ke Hisab Se Bluetooth Teen Mein Se Bus Do Cheez Hai 5:30 Karte Hain Baki Ek Cheez Certified Nahi Karte Isliye Use Abbas Planet Ka Tamaga Diya Gaya Hai To Isliye Abhi Hum Usko Ek Friend Ke Taur Par Kansidar Nahi Karte Hain Baki Solar System Mein Wah Abhi Bhi Hai Aadhunik Sour Mandal Mein Apne WhatsApp Kyonki Wah Kya Degree Saree Saree Saree Nahi Kar Pa Rahe Hain Isliye Hum Use Aap Logon Ko Ek Line Ka Darja Nahi Dete Abhi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
शरीर नीला पड़ जाता है इसका कारण है कि त्वचा पर चोट लगने के बाद रक्त समूह को नुकसान पहुंचने से नीला पड़ जाता है इस तरह की चोट से खून रिश्ता है और आसपास की कोशिकाओं में बन जाता है जिससे मिले जैसे निशान पड़ जाता है चोट लगने पर यह शरीर का प्रतिक्रिया होता है मेडिकल की भाषा में इसे कौन ट्यूशन कहा जाता है या BP चोर कहा जाता है यह नील के निशान और भी कई कारणों से हो सकता है जैसे बढ़ती उम्र से लेकर पोषण की कमी के कारण और मौलिकता हेमोफिलिया में कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के प्रभाव के कारण भी नीला पड़ सकता हैSharir Neela Padh Jata Hai Iska Kaaran Hai Ki Twacha Par Chot Lagne Ke Baad Rakta Samuh Ko Nuksan Pahuchne Se Neela Padh Jata Hai Is Tarah Ki Chot Se Khoon Rishta Hai Aur Aaspass Ki Koshikaaon Mein Ban Jata Hai Jisse Mile Jaise Nishaan Padh Jata Hai Chot Lagne Par Yeh Sharir Ka Pratikriya Hota Hai Medical Ki Bhasha Mein Ise Kaun Tuition Kaha Jata Hai Ya BP Chor Kaha Jata Hai Yeh Neel Ke Nishaan Aur Bhi Kai Kaarno Se Ho Sakta Hai Jaise Badhti Umar Se Lekar Poshan Ki Kami Ke Kaaran Aur Maulikata Hemofiliya Mein Cancer Jaisi Gambhir Bimariyon Ke Prabhav Ke Kaaran Bhi Neela Padh Sakta Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी दो सीमा बढ़ जाती है ऐसा क्यों आपने पूछा इसका आंसर है कि हमें जो मुंह है वो HD जो है वह अभी अर्थ से बहुत दूर है फुल क्योंकि उसका ऑर्बिट जो होता है वह हमेशा एवरी है हर साल वह प...
जवाब पढ़िये
पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी दो सीमा बढ़ जाती है ऐसा क्यों आपने पूछा इसका आंसर है कि हमें जो मुंह है वो HD जो है वह अभी अर्थ से बहुत दूर है फुल क्योंकि उसका ऑर्बिट जो होता है वह हमेशा एवरी है हर साल वह पढ़ता रहता है तो इसी की वजह से और दूर जाता हैPrithvi Se Chandrama Ki Doori Do Seema Badh Jati Hai Aisa Kyun Aapne Poocha Iska Answer Hai Ki Hume Jo Mooh Hai Vo HD Jo Hai Wah Abhi Arth Se Bahut Dur Hai Full Kyonki Uska ORBIT Jo Hota Hai Wah Hamesha Every Hai Har Saal Wah Padhata Rehta Hai To Isi Ki Wajah Se Aur Dur Jata Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1 सेंटीमीटर 0.01 मीटर के बराबर है...
जवाब पढ़िये
1 सेंटीमीटर 0.01 मीटर के बराबर है1 Centimetre 0.01 Meter Ke Barabar Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जज गीता कपूर और शिल्पा जी ने आकाश की दो तरफा तारीफ की उन्होंने कहा कि जितनी शिद्दत से मस्ती करता है आकाश उतनी ही शिद्दत से पर डांस करता है और उसकी प्रदर्शनी साफ दिखाई देता है...
जवाब पढ़िये
जज गीता कपूर और शिल्पा जी ने आकाश की दो तरफा तारीफ की उन्होंने कहा कि जितनी शिद्दत से मस्ती करता है आकाश उतनी ही शिद्दत से पर डांस करता है और उसकी प्रदर्शनी साफ दिखाई देता हैJudge Geeta Kapur Aur Shilpa Ji Ne Akash Ki Do Tarafa Tarif Ki Unhone Kaha Ki Jitni Shiddat Se Masti Karta Hai Akash Utani Hi Shiddat Se Par Dance Karta Hai Aur Uski Pradarshani Saaf Dikhai Deta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK विनोद जी से सड़क पर पानी बहाने वाले हैं उन लोगों के ऊपर कार्यवाही करने से करने से पहले सबसे पहले आप पर कंप्लेंट लॉन्च करें एमसीडी पर और पैसे की प्रॉब्लम क्यों हो रहा है जब Action करेंगे गंदी कार्टू...
जवाब पढ़िये
PK विनोद जी से सड़क पर पानी बहाने वाले हैं उन लोगों के ऊपर कार्यवाही करने से करने से पहले सबसे पहले आप पर कंप्लेंट लॉन्च करें एमसीडी पर और पैसे की प्रॉब्लम क्यों हो रहा है जब Action करेंगे गंदी कार्टूनों की प्रॉब्लम कहां से आ रही है उसके बाद वह करैक्टर में जो है वह चैट करेंगे वह आपके लिए ज्यादा हेल्पफुल रहेगा और आपको मैं सच में तुम यहां पर जब भी करूंगी क्या जवाब सबमिट कर रहे हैं रिपोर्ट + कंपनी कमेंट कर रहे हैं दोनों ही डिपार्टमेंट में उसका रिटन कम्युनिकेशन अपने पास रखें ऑनलाइन फॉर्म ऑनलाइन सबमिट भी कर सकते हैं जिसकी वजह से यह पोर्टल लोगिन हो रही है आपकी सोसाइटी में आप के नियम है जो लोग हैं उनको भी यह बताइए कि आप ऐसा करने जा रहे हैं जिससे कि उनके मन में भी इसको करेक्ट करने का सुझाव आए और वह आपके साथ आपकी हेल्प करें और उनको बताइए कि वहां पर लोगों की वजह से बहुत बीमारियां होती हैं उन को जागरुक करने की कोशिश करिए ब्रिटेन में भेजिए सारा चित्र डॉक्यूमेंटेशन करPK Vinod Ji Se Sadak Par Pani Bahaane Wale Hain Un Logon Ke Upar Karyavahi Karne Se Karne Se Pehle Sabse Pehle Aap Par Complaint Launch Karen Mcd Par Aur Paise Ki Problem Kyun Ho Raha Hai Jab Action Karenge Gandi Kartunon Ki Problem Kahan Se Aa Rahi Hai Uske Baad Wah Karaiktar Mein Jo Hai Wah Chat Karenge Wah Aapke Liye Jyada Helpaful Rahega Aur Aapko Main Sach Mein Tum Yahan Par Jab Bhi Karungi Kya Jawab Submit Kar Rahe Hain Report + Company Comment Kar Rahe Hain Dono Hi Department Mein Uska Written Communication Apne Paas Rakhen Online Form Online Submit Bhi Kar Sakte Hain Jiski Wajah Se Yeh Portal Login Ho Rahi Hai Aapki Society Mein Aap Ke Niyam Hai Jo Log Hain Unko Bhi Yeh Bataiye Ki Aap Aisa Karne Ja Rahe Hain Jisse Ki Unke Man Mein Bhi Isko Correct Karne Ka Sujhaav Aaye Aur Wah Aapke Saath Aapki Help Karen Aur Unko Bataiye Ki Wahan Par Logon Ki Wajah Se Bahut Bimariyan Hoti Hain Un Ko Jagaruk Karne Ki Koshish Kariye Britain Mein Bhejiye Saara Chitra Documentation Kar
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सूर्य और पृथ्वी के बीच में जो ग्रह हैं मरक्यूरी और विनाश...
जवाब पढ़िये
सूर्य और पृथ्वी के बीच में जो ग्रह हैं मरक्यूरी और विनाशSurya Aur Prithvi Ke Beech Mein Jo Grah Hain Marakyuri Aur Vinash
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री सूर्य के चारों ओर अधिक उपग्रह जो घूम रहा है वह जो मालूम होता है और वेट बोलते हैं...
जवाब पढ़िये
श्री सूर्य के चारों ओर अधिक उपग्रह जो घूम रहा है वह जो मालूम होता है और वेट बोलते हैंShri Surya Ke Charo Oar Adhik Upgrah Jo Ghum Raha Hai Wah Jo Maloom Hota Hai Aur Wait Bolte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम जी हां बिलकुल धरती के बाहर भी जीवन है और कई प्रमाण ना यह सामने आते हैं अगर हम बात करें यूएफओ की तो किसे कहते हैं ऑनलाइन डेट एंड आइडेंटिफाई फ्लाइंग ऑब्जेक्ट यानी कि एक ऐसा विमान जो धरती पर पाए गए...
जवाब पढ़िये
राम जी हां बिलकुल धरती के बाहर भी जीवन है और कई प्रमाण ना यह सामने आते हैं अगर हम बात करें यूएफओ की तो किसे कहते हैं ऑनलाइन डेट एंड आइडेंटिफाई फ्लाइंग ऑब्जेक्ट यानी कि एक ऐसा विमान जो धरती पर पाए गए विमान से कई गुना तेज तकनीक में आगे और दिखने में थोड़ा सा अजीब है लेकिन जब साइंस ने जब तरक्की की ओर इतिहास को अगर आप देखोगे तो जितने भी आविष्कार हुए हैं वह कहीं ना कहीं किसी घटना से प्रेरित होकर किए गए हैं जब इस दुनिया में अपनी दुनिया के बारे में जान लिया धरती के बारे में जान ली उसके भूगोल के बारे में जान लिया तो उन्होंने यह सोचा क्या धरती के बाहर भी कुछ ऐसे ग्रह है सूरज हैं जहां हमारे जैसे लोग रहते हो अगर आप बॉलीवुड मूवीस देखोगे बॉलीवुड मूवीस देखोगे तो कहीं ना कहीं एलियंस की झलक आपको उसमें मिल जाएगी और कहते हैं कि यह जो कल्पना होती है वह सच से प्रेरित होती है तुझे एलियंस अगर धरती पर आते हैं तो मेरा यह मानना है कि उनके भी यह जिज्ञासा होती है कि धरती पर क्या लाइफ होगी वह लोग कैसे रहते होंगे और अगर वह वातावरण के अनुकूल है वह बार-बार वहां आना चाहेंगे वह भी हमारी तरह शोध करते हैं वह मुझे तकलीफ में आगे हो सकते हैं तो आने वाले दिनों में अगर हम एलियंस से कनेक्शन कर लेते हैं तो मुझे उम्मीद है कि हम नई तकनीक का प्रचार-प्रसार कर सकते है लेकिन खतरा यह भी है कि अगर कोई कल प्रजाति धरती पर हमला कर देती है तेरे नुकसानदायक हो सकता है तो ऐसे तो रहस्य है लेकिन इंतजार हैRam Ji Haan Bilkul Dharti Ke Bahar Bhi Jeevan Hai Aur Kai Pramaan Na Yeh Samane Aate Hain Agar Hum Baat Karen Yuefao Ki To Kise Kehte Hain Online Date End Aidentifai Flying Object Yani Ki Ek Aisa Viman Jo Dharti Par Paye Gaye Viman Se Kai Guna Tez Takneek Mein Aage Aur Dikhne Mein Thoda Sa Ajib Hai Lekin Jab Science Ne Jab Tarakki Ki Oar Itihas Ko Agar Aap Dekhoge To Jitne Bhi Avishkar Hue Hain Wah Kahin Na Kahin Kisi Ghatna Se Prerit Hokar Kiye Gaye Hain Jab Is Duniya Mein Apni Duniya Ke Baare Mein Jaan Liya Dharti Ke Baare Mein Jaan Lee Uske Bhugol Ke Baare Mein Jaan Liya To Unhone Yeh Socha Kya Dharti Ke Bahar Bhi Kuch Aise Grah Hai Suraj Hain Jahan Hamare Jaise Log Rehte Ho Agar Aap Bollywood Movies Dekhoge Bollywood Movies Dekhoge To Kahin Na Kahin Aliens Ki Jhalak Aapko Usamen Mil Jayegi Aur Kehte Hain Ki Yeh Jo Kalpana Hoti Hai Wah Sach Se Prerit Hoti Hai Tujhe Aliens Agar Dharti Par Aate Hain To Mera Yeh Manana Hai Ki Unke Bhi Yeh Jigyasa Hoti Hai Ki Dharti Par Kya Life Hogi Wah Log Kaise Rehte Honge Aur Agar Wah Vatavaran Ke Anukul Hai Wah Baar Baar Wahan Aana Chahenge Wah Bhi Hamari Tarah Shodh Karte Hain Wah Mujhe Takleef Mein Aage Ho Sakte Hain To Aane Wale Dinon Mein Agar Hum Aliens Se Connection Kar Lete Hain To Mujhe Ummid Hai Ki Hum Nayi Takneek Ka Prachar Prasaar Kar Sakte Hai Lekin Khatra Yeh Bhi Hai Ki Agar Koi Kal Prajati Dharti Par Hamla Kar Deti Hai Tere Nukasanadayak Ho Sakta Hai To Aise To Rahasya Hai Lekin Intejar Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अजी हां देखो मैं आपके साथ सहमत हूं कि आगरा वादियों पर कोई ठोस से चैटिंग क्यों नहीं बनती है और कश्मीर में फैली अशांति का कारण भी बिल्कुल यही है जैसे अभी बीच में मोदी सरकार ने जो अलगाववादी नेता थे और यह...
जवाब पढ़िये
अजी हां देखो मैं आपके साथ सहमत हूं कि आगरा वादियों पर कोई ठोस से चैटिंग क्यों नहीं बनती है और कश्मीर में फैली अशांति का कारण भी बिल्कुल यही है जैसे अभी बीच में मोदी सरकार ने जो अलगाववादी नेता थे और यह सच है उनको ढेर करके जो आतंकवादी से बड़े-बड़े उनको ढेर करके जोता थोड़े दिनों से शांति हुई थी लेकिन अभी फिर से यह सब शुरू हो रहा है तो मैं समझता हूं कि कोई परमानेंट सलूशन इसका खोलना चाहिए ऐसे टेंपरेचर सलूशन फौज के सरकार को कुछ नहीं मिलना चाहिए मिलेगा मिलेगा यह लोग जो हैं वह बरसते रहेंगे और कुछ ना कुछ नई चीजें करते रहेंगे परमानेंट सलूशन लेकर उनका इलाज कर देना चाहिए ना कि कोई टेंपरेचर शंकर के थोड़े दिन बाद वापस आएंगे फिर उनका काम ही खत्म कर दो ताकि कश्मीर में जो है वह शांतिनाथ पहले और वह इंडिया का पास बना रहा हैAji Haan Dekho Main Aapke Saath Sahmat Hoon Ki Agra Vadiyon Par Koi Thos Se Chatting Kyon Nahi Banti Hai Aur Kashmir Mein Faili Ashanti Ka Kaaran Bhi Bilkul Yahi Hai Jaise Abhi Bich Mein Modi Sarkar Ne Jo Alagaavavaadee Neta The Aur Yeh Sach Hai Unko Dher Karke Jo Aatankwadi Se Bade Bade Unko Dher Karke Jota Thode Dinon Se Shanti Hui Thi Lekin Abhi Phir Se Yeh Sab Shuru Ho Raha Hai To Main Samajhata Hoon Ki Koi Permanent Salution Iska Kholna Chahiye Aise Temperature Salution Fauj Ke Sarkar Ko Kuch Nahi Milna Chahiye Milega Milega Yeh Log Jo Hain Wah Barasate Rahenge Aur Kuch Na Kuch Nayi Cheezen Karte Rahenge Permanent Salution Lekar Unka Ilaj Kar Dena Chahiye Na Ki Koi Temperature Shankar Ke Thode Din Baad Wapas Aayenge Phir Unka Kaam Hi Khatam Kar Do Taki Kashmir Mein Jo Hai Wah Shantinath Pehle Aur Wah India Ka Paas Bana Raha Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

और जहां तक मैं जानती हूं पृथ्वी पर जीवन है या तापमान और दबाव जैसे कुछ उपाख्यानों की सीमाओं के भीतर जीवित रहता है या उन्ना या उन पत्थरों की भविष्यवाणी करना उचित है क्योंकि हम इसे समझते हैं या असंभव नही...
जवाब पढ़िये
और जहां तक मैं जानती हूं पृथ्वी पर जीवन है या तापमान और दबाव जैसे कुछ उपाख्यानों की सीमाओं के भीतर जीवित रहता है या उन्ना या उन पत्थरों की भविष्यवाणी करना उचित है क्योंकि हम इसे समझते हैं या असंभव नहीं है कि जीवन उन तरीकों की विद्वान हैं जो हमें अभी तक नहीं सोचा है लेकिन यह लगता है कि उचित अनुमानों की तुलना में प्रचार में एक असाधारण प्रयास की तरह लगता हैAur Jahan Tak Main Jaanti Hoon Prithvi Par Jeevan Hai Ya Taapman Aur Dabaav Jaise Kuch Upakhyanon Ki Seemaon Ke Bheetar Jeevit Rehta Hai Ya Unna Ya Un Pattharon Ki Bhavishyavaani Karna Uchit Hai Kyonki Hum Ise Samajhte Hain Ya Asambhav Nahi Hai Ki Jeevan Un Trikon Ki Vidwan Hain Jo Hume Abhi Tak Nahi Socha Hai Lekin Yeh Lagta Hai Ki Uchit Anumaanon Ki Tulna Mein Prachar Mein Ek Asadharan Prayas Ki Tarah Lagta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी में गुरुत्वाकर्षण बल इसलिए होता है उसकी बताना चाहूंगा कोडिंग तू आशिकी न्यूटन के अनुसार जितनी भी वस्तुएं मांस रहती है ठीक है उसमें फुट होता है क्या भी डिस्टेंस कोर्स होता है ठीक है और सारी जो मै...
जवाब पढ़िये
पृथ्वी में गुरुत्वाकर्षण बल इसलिए होता है उसकी बताना चाहूंगा कोडिंग तू आशिकी न्यूटन के अनुसार जितनी भी वस्तुएं मांस रहती है ठीक है उसमें फुट होता है क्या भी डिस्टेंस कोर्स होता है ठीक है और सारी जो मैसेज है हम तो पृथ्वी पर एक कंबाइंड का कैपिटल प्राइवेट स्कूल होते उसको बनाती है जो कि हमारे बॉडी पर लगता है और इसके कि पृथ्वी जो है ज्यादा मांस नसीब है ठीक है तो इसलिए हम ग्रेविटेशनल फोर्स जो है महसूस करते हैं और ऐसा कहे बिल्कुल भी नहीं है कि मोड पर कैपिटेशन फोर्स नहीं है बिल्कुल है आप सर से वह कम होता है क्योंकि जो मन होता है मन का जो मैच है वह बुक पृथ्वी के कंपैरिजन में एक बटा 6 कम होता है ऐसे गीत जो पृथ्वी का मांस है 27 पर्सेंट ज्यादा होता है और वेट की बात करें तो एक काशी टाइम्स मून से ज्यादा है तो इसलिए जो पृथ्वी Force लगता है उसका एक बार छठा भाग जो है मुझ पर लगता है मतलब मून पर भी फोर्स कैपिटेशन चार्ज लगता हैPrithvi Mein Gurutvaakarshan Bal Isliye Hota Hai Uski Batana Chahunga Coding Tu Ashiki Newton Ke Anusar Jitni Bhi Vastuye Maans Rehti Hai Theek Hai Usamen Foot Hota Hai Kya Bhi Distance Course Hota Hai Theek Hai Aur Saree Jo Massage Hai Hum To Prithvi Par Ek Combined Ka Capital Private School Hote Usko Banati Hai Jo Ki Hamare Body Par Lagta Hai Aur Iske Ki Prithvi Jo Hai Jyada Maans Nasib Hai Theek Hai To Isliye Hum Gravitational Force Jo Hai Mahsus Karte Hain Aur Aisa Kahe Bilkul Bhi Nahi Hai Ki Mode Par Kaipiteshan Force Nahi Hai Bilkul Hai Aap Sar Se Wah Kum Hota Hai Kyonki Jo Man Hota Hai Man Ka Jo Match Hai Wah Book Prithvi Ke Kampairijan Mein Ek Bata 6 Kum Hota Hai Aise Geet Jo Prithvi Ka Maans Hai 27 Percent Jyada Hota Hai Aur Wait Ki Baat Karen To Ek Kashi Times Moon Se Jyada Hai To Isliye Jo Prithvi Force Lagta Hai Uska Ek Baar Chhatha Bhag Jo Hai Mujh Par Lagta Hai Matlab Moon Par Bhi Force Kaipiteshan Charge Lagta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोलर सिस्टम जिसमें बहुत सारे प्लेनेट है और इस सिस्टम में ज्यादातर जो है या वैक्यूम है तो यह सारे प्लानिंग जो है शुरू हुई के गुरुत्वाकर्षण बल से चारों ओर चक्कर लगाते हैं यह जो है किसी से भी किसी प्रकार...
जवाब पढ़िये
सोलर सिस्टम जिसमें बहुत सारे प्लेनेट है और इस सिस्टम में ज्यादातर जो है या वैक्यूम है तो यह सारे प्लानिंग जो है शुरू हुई के गुरुत्वाकर्षण बल से चारों ओर चक्कर लगाते हैं यह जो है किसी से भी किसी प्रकार का कोई भी सके टिका हुआ नहीं होता हैSolar System Jisme Bahut Sare Planet Hai Aur Is System Mein Jyadatar Jo Hai Ya Vacuum Hai To Yeh Sare Planning Jo Hai Shuru Hui Ke Gurutvaakarshan Bal Se Charo Oar Chakkar Lagate Hain Yeh Jo Hai Kisi Se Bhi Kisi Prakar Ka Koi Bhi Sake Tika Hua Nahi Hota Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुनिया में अगर मजदूर नहीं होते मजबूरी नहीं होती तुम्हारा कुछ पता हम तो घर नहीं होते खेती-बाड़ी नहीं होती कुछ कुछ भी संभव नहीं था वही आए हैं हम मजदूर हैं तभी हमारे घर भी बन रहे हैं खेतीबाड़ी भी हो रही ...
जवाब पढ़िये
दुनिया में अगर मजदूर नहीं होते मजबूरी नहीं होती तुम्हारा कुछ पता हम तो घर नहीं होते खेती-बाड़ी नहीं होती कुछ कुछ भी संभव नहीं था वही आए हैं हम मजदूर हैं तभी हमारे घर भी बन रहे हैं खेतीबाड़ी भी हो रही है सारे काम हो रहे हैं यह मजदूर के बदौलत है अगर मजदूरी होते तो हमारा हमारी लाइफ बहुत मुश्किल हो जातीDuniya Mein Agar Majdur Nahi Hote Majburi Nahi Hoti Tumhara Kuch Pata Hum To Ghar Nahi Hote Kheti Badi Nahi Hoti Kuch Kuch Bhi Sambhav Nahi Tha Wahi Aaye Hain Hum Majdur Hain Tabhi Hamare Ghar Bhi Ban Rahe Hain Khetibadi Bhi Ho Rahi Hai Sare Kaam Ho Rahe Hain Yeh Majdur Ke Badaulat Hai Agar Mazdoori Hote To Hamara Hamari Life Bahut Mushkil Ho Jati
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चंद्रमा के जो चारों और एक रिंग जो बनती है वह 1 वर्ष से 21 वर्ष से चांदनी के ऊपर बर्तन निश्चित रूप से सूर्य के प्रकाश प्रसारित होता है होने के कारण होती है बर्फ के क्रिस्टल का आकार एक अंगूठी में प्रकाश...
जवाब पढ़िये
चंद्रमा के जो चारों और एक रिंग जो बनती है वह 1 वर्ष से 21 वर्ष से चांदनी के ऊपर बर्तन निश्चित रूप से सूर्य के प्रकाश प्रसारित होता है होने के कारण होती है बर्फ के क्रिस्टल का आकार एक अंगूठी में प्रकाश की फोकस में होता हैChandrama Ke Jo Charo Aur Ek Ring Jo Banti Hai Wah 1 Varsh Se 21 Varsh Se Chandni Ke Upar Bartan Nishchit Roop Se Surya Ke Prakash Prasarit Hota Hai Hone Ke Kaaran Hoti Hai Barf Ke Crystal Ka Aakaar Ek Anguthi Mein Prakash Ki Focus Mein Hota Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सौरमंडल का सबसे प्रधान ग्रह सूर्य को माना जाता है क्योंकि यह सारे शुक्र है सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैं...
जवाब पढ़िये
सौरमंडल का सबसे प्रधान ग्रह सूर्य को माना जाता है क्योंकि यह सारे शुक्र है सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैंSaurmandal Ka Sabse Pradhan Grah Surya Ko Mana Jata Hai Kyonki Yeh Sare Shukra Hai Surya Ke Charo Oar Chakkar Lagate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
जी हां हमने कहीं जगह पर देखा है कि बहुत महंगे महंगे हॉस्पिटल कर दिए गए हैं और जो डॉक्टर से वह इलाज के नाम पर आपसे कितना भी पैसा लूट लेते हैं और कई कई जगह पर तो जो डॉक्टर सोते हैं वह बाहर से दुकानों से अपनी मेडिसिन खरीद के लाते लाते हैं और उसको आप को बेचते हैं काफी दोगुने दामों पर और आपको वह मेडिसिन खरीदनी पड़ती है क्योंकि डॉक्टर आपको लिखकर नहीं देते क्या आपको कौन-कौन सी मेडिसिन खानी चाहिए परंतु वह आपको डायरेक्ट मेडिसन देते हैं और जिसका वह दुगना चार्ज करते हैं और आपको कहीं ना कहीं वह मेडिसिन लेनी पड़ती है उनसे उतने ही दामों पर तो यह एक तरह की लूट मचा रखी है डॉक्टरों ने और मनमानी कर रखी है जो कि आप कंट्रोल होनी चाहिए नहीं तो और जो विश्वास है लोगों का वह डॉक्टरों पर से उठता चला जाएगा और जो सरकारी डॉक्टर से मिली वह काफी अच्छी चीजें करते हैं क्योंकि उनको लगता है उनकी कोई चैटिंग नहीं कर रहा है उनका कुछ किया नहीं जा सकता है तो यह चीज अब कंट्रोल करनी चाहिए और सरकार को सरकारी हॉस्पिटल और सरकारी डॉक्टरों पर स्पीच डिसिप्लिन रखJi Haan Humne Kahin Jagah Par Dekha Hai Ki Bahut Mahange Mahange Hospital Kar Diye Gaye Hain Aur Jo Doctor Se Wah Ilaj Ke Naam Par Aapse Kitna Bhi Paisa Loot Lete Hain Aur Kai Kai Jagah Par To Jo Doctor Sote Hain Wah Bahar Se Dukaano Se Apni Medicine Kharid Ke Late Late Hain Aur Usko Aap Ko Bechte Hain Kafi Dogune Daamo Par Aur Aapko Wah Medicine Kharidani Padhti Hai Kyonki Doctor Aapko Likhkar Nahi Dete Kya Aapko Kaun Kaun Si Medicine Khaani Chahiye Parantu Wah Aapko Direct Medicine Dete Hain Aur Jiska Wah Dugna Charge Karte Hain Aur Aapko Kahin Na Kahin Wah Medicine Leni Padhti Hai Unse Utne Hi Daamo Par To Yeh Ek Tarah Ki Loot Macha Rakhi Hai Daktaro Ne Aur Manmani Kar Rakhi Hai Jo Ki Aap Control Honi Chahiye Nahi To Aur Jo Vishwas Hai Logon Ka Wah Daktaro Par Se Uthata Chala Jayega Aur Jo Sarkari Doctor Se Mili Wah Kafi Acchi Cheezen Karte Hain Kyonki Unko Lagta Hai Unki Koi Chatting Nahi Kar Raha Hai Unka Kuch Kiya Nahi Ja Sakta Hai To Yeh Cheez Ab Control Karni Chahiye Aur Sarkar Ko Sarkari Hospital Aur Sarkari Daktaro Par Speech Discipline Rakh
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चंद्रमा का प्रकाश 1.2 6 सेकंड में धरती पर पहुंच जाता है...
जवाब पढ़िये
चंद्रमा का प्रकाश 1.2 6 सेकंड में धरती पर पहुंच जाता हैChandrama Ka Prakash 1.2 6 Second Mein Dharti Par Pahunch Jata Hai
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा है कि श्रीदेवी की मृत्यु को मीडिया को इस तरह से नहीं करना चाहिए था यह एक बहुत ही अच्छा प्रश्न है मैं भी यह मानता हूं कि मीडिया ने अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझा और मीडिय...
जवाब पढ़िये
देखिए जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा है कि श्रीदेवी की मृत्यु को मीडिया को इस तरह से नहीं करना चाहिए था यह एक बहुत ही अच्छा प्रश्न है मैं भी यह मानता हूं कि मीडिया ने अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझा और मीडिया ने श्रीदेवी की मृत्यु को बहुत ही मजाक में लिया है मीडिया को इस तरह नहीं करना चाहिए था मीडिया ने पूरा प्रयास किया है कि श्री पूरा प्रयास किया कि श्रीदेवी की मृत्यु के पीछे उनका खुद का दोष है मीडिया ने उनके खिलाफ भोसिया पर फैलाई जैसे कि अगर श्रीदेवी ने शराब ना पीता पी होती तो शायद वह बेहोश होकर पानी के टब में नागिन 3 और अपनी सुंदरता कायम करने के लिए अगर वह ऑपरेशन ना कर आती तो उनकी मौत नहीं होती और मीडिया ने उन पर डाइटिंग करने का भी आरोप लगाया है जो कि सब बेबुनियाद है मीडिया को ऐसा नहीं करना चाहिए था मीडिया ने उनकी मौत का एक तमाशा बना लिया है अभी के नाम जब उनका अंतिम शरीर अंदर उनका शरीर अंतिम यात्रा पर लाया गया तो मीडिया ने उसको इस तरह से दर्शाया जैसे कि कोई क्रिकेट मैच खेल रहा हो या फिर कोई फिल्म का अवार्ड शो मिलाओDekhie Jaisa Ki Aapne Question Poocha Hai Ki Sridevi Ki Mrityu Ko Media Ko Is Tarah Se Nahi Karna Chahiye Tha Yeh Ek Bahut Hi Accha Prashna Hai Main Bhi Yeh Manata Hoon Ki Media Ne Apni Jimmedari Ko Nahi Samjha Aur Media Ne Sridevi Ki Mrityu Ko Bahut Hi Mazak Mein Liya Hai Media Ko Is Tarah Nahi Karna Chahiye Tha Media Ne Pura Prayas Kiya Hai Ki Shri Pura Prayas Kiya Ki Sridevi Ki Mrityu Ke Piche Unka Khud Ka Dosh Hai Media Ne Unke Khilaf Bhosiya Par Failai Jaise Ki Agar Sridevi Ne Sharab Na Pita P Hoti To Shayad Wah Behosh Hokar Pani Ke Tub Mein Nagin 3 Aur Apni Sundarata Kayam Karne Ke Liye Agar Wah Operation Na Kar Aati To Unki Maut Nahi Hoti Aur Media Ne Un Par Dieting Karne Ka Bhi Aarop Lagaya Hai Jo Ki Sab Bebuniyad Hai Media Ko Aisa Nahi Karna Chahiye Tha Media Ne Unki Maut Ka Ek Tamasha Bana Liya Hai Abhi Ke Naam Jab Unka Antim Sharir Andar Unka Sharir Antim Yatra Par Laya Gaya To Media Ne Usko Is Tarah Se Darshaya Jaise Ki Koi Cricket Match Khel Raha Ho Ya Phir Koi Film Ka Award Show Milaao
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में जो पार्टियां भावावेश में बहकर ईवीएम मशीन पर संदेह कर रही हैं वह कुछ समय पहले तक ईवीएम मशीन पर कोई संदेह नहीं करती थी क्योंकि उस समय वह चुनाव जीता करते हैं चाहे वह बहुजन समाजवादी पार्टी ह...
जवाब पढ़िये
आज के समय में जो पार्टियां भावावेश में बहकर ईवीएम मशीन पर संदेह कर रही हैं वह कुछ समय पहले तक ईवीएम मशीन पर कोई संदेह नहीं करती थी क्योंकि उस समय वह चुनाव जीता करते हैं चाहे वह बहुजन समाजवादी पार्टी हो चाहे समाजवादी पार्टी चाहे आम आदमी पार्टी वह यह समझ चुकी है कि किसी ना किसी प्रकार से जनता को गुमराह करना है तथा चुनाव आयोग की निष्पक्षता तक पर उन लोगों ने एक प्रश्न चिन्ह लगा दिया है हालांकि यह बिल्कुल भी सही बात नहीं है लोकतांत्रिक तरीके से किए जाने वाले इन चुनावों को संपूर्ण विश्व के देशों का समर्थन प्राप्त है तथा संपूर्ण विश्व के लोग आज के समय में भारत के चुनाव आयोग से सलाह मशवरा कर रही हैं अपने देश में भी ईवीएम मशीन जो कि भारत में भी निर्मित है उसे चुनाव कराने की चुनाव आयोग ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि यदि आपको कोई प्रश्न है यदि आपको कोई संदेह है तो ईवीएम मशीन को हैक करके दिखाइए परंतु कोई भी राजनीतिक पार्टी इस प्रकार के कोई कार्य नहीं कर पाई हालांकि मैं यह भी मानताAaj Ke Samay Mein Jo Partyian Bhaavaavesh Mein Behkar Evm Machine Par Sandeh Kar Rahi Hain Wah Kuch Samay Pehle Tak Evm Machine Par Koi Sandeh Nahi Karti Thi Kyonki Us Samay Wah Chunav Jeeta Karte Hain Chahe Wah Bahujan Samajwadi Party Ho Chahe Samajwadi Party Chahe Aam Aadmi Party Wah Yeh Samajh Chuki Hai Ki Kisi Na Kisi Prakar Se Janta Ko Gumrah Karna Hai Tatha Chunav Aayog Ki Nishpakshata Tak Par Un Logon Ne Ek Prashna Chinh Laga Diya Hai Halanki Yeh Bilkul Bhi Sahi Baat Nahi Hai Loktantrik Tarike Se Kiye Jaane Wale In Chunavon Ko Sampurna Vishwa Ke Deshon Ka Samarthan Prapt Hai Tatha Sampurna Vishwa Ke Log Aaj Ke Samay Mein Bharat Ke Chunav Aayog Se Salah Mashvara Kar Rahi Hain Apne Desh Mein Bhi Evm Machine Jo Ki Bharat Mein Bhi Nirmit Hai Use Chunav Karane Ki Chunav Aayog Ne Pehle Hi Spasht Kar Diya Hai Ki Yadi Aapko Koi Prashna Hai Yadi Aapko Koi Sandeh Hai To Evm Machine Ko Hack Karke Dikhaaiye Parantu Koi Bhi Rajnitik Party Is Prakar Ke Koi Karya Nahi Kar Payi Halanki Main Yeh Bhi Manata
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाश में रॉकेट इसलिए छोड़ जाते हैं करता की अवकाश की सूचना वह भी मिलती रहे कुछ सेटेलाइट भी भेजते हैं पास में कि पूरी दुनिया में जो हमें चैनल Zee News आता इंटरनेट चलाते हो सैटेलाइट की वजह से ही चलाते है...
जवाब पढ़िये
आकाश में रॉकेट इसलिए छोड़ जाते हैं करता की अवकाश की सूचना वह भी मिलती रहे कुछ सेटेलाइट भी भेजते हैं पास में कि पूरी दुनिया में जो हमें चैनल Zee News आता इंटरनेट चलाते हो सैटेलाइट की वजह से ही चलाते हैं तो इसलिए जो है भेजते हैंAkash Mein Rocket Isliye Chod Jaate Hain Karta Ki Awakash Ki Soochna Wah Bhi Milti Rahe Kuch Satellite Bhi Bhejate Hain Paas Mein Ki Puri Duniya Mein Jo Hume Channel Zee News Aata Internet Chalte Ho Satellite Ki Wajah Se Hi Chalte Hain To Isliye Jo Hai Bhejate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धरती घूमती है धरती जो घूमती है वह अपने इस में घूमती है तो वह इतनी तेजी से भी नहीं घूमती है थोड़ा ऐसा-ऐसा लिमिट में घूमती है इसी की वजह से जो हमारे मुंह नहीं खुलता धरती के ऊपर थोड़ा थोड़ा घूमती है तभी ...
जवाब पढ़िये
धरती घूमती है धरती जो घूमती है वह अपने इस में घूमती है तो वह इतनी तेजी से भी नहीं घूमती है थोड़ा ऐसा-ऐसा लिमिट में घूमती है इसी की वजह से जो हमारे मुंह नहीं खुलता धरती के ऊपर थोड़ा थोड़ा घूमती है तभी तो सूरज आता है चेंज होता है तो उसकी वजह से हमें पता नहीं चलता हैDharti Ghoomti Hai Dharti Jo Ghoomti Hai Wah Apne Is Mein Ghoomti Hai To Wah Itni Teji Se Bhi Nahi Ghoomti Hai Thoda Aisa Aisa Limit Mein Ghoomti Hai Isi Ki Wajah Se Jo Hamare Mooh Nahi Khulta Dharti Ke Upar Thoda Thoda Ghoomti Hai Tabhi To Suraj Aata Hai Change Hota Hai To Uski Wajah Se Hume Pata Nahi Chalta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर पृथ्वी नहीं रहेगी तो या तो हमें किसी और ग्रह पर जाकर अपने जीवन को व्यतीत करना होगा या तो फिर वर्ल्ड में कोई लाइफ नहीं होगा तुझे देखा जाए तो पृथ्वी पर ही ऐसी जिंदगी पाई जाती है और बहुत आसान टिप्स ख...
जवाब पढ़िये
अगर पृथ्वी नहीं रहेगी तो या तो हमें किसी और ग्रह पर जाकर अपने जीवन को व्यतीत करना होगा या तो फिर वर्ल्ड में कोई लाइफ नहीं होगा तुझे देखा जाए तो पृथ्वी पर ही ऐसी जिंदगी पाई जाती है और बहुत आसान टिप्स खत्म हो जाए तो कहां पर है जीवन उसका नाम चल रहे हैं विभिन्न कथा पिता के रूप में किया गया है कीमत पर जिंदगी जो है मुश्किल है नामुमकिन है लेकिन अगर उस तस्वीर में नहीं रहेगाAgar Prithvi Nahi Rahegi To Ya To Hume Kisi Aur Grah Par Jaakar Apne Jeevan Ko Vyatit Karna Hoga Ya To Phir World Mein Koi Life Nahi Hoga Tujhe Dekha Jaye To Prithvi Par Hi Aisi Zindagi Payi Jati Hai Aur Bahut Aasan Tips Khatam Ho Jaye To Kahan Par Hai Jeevan Uska Naam Chal Rahe Hain Vibhinn Katha Pita Ke Roop Mein Kiya Gaya Hai Kimat Par Zindagi Jo Hai Mushkil Hai Namumkin Hai Lekin Agar Us Tasveer Mein Nahi Rahega
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मशीन में उसकी जो ऑडिटर वीडियो से 30.18 सुनामी की यूनिट...
जवाब पढ़िये
मशीन में उसकी जो ऑडिटर वीडियो से 30.18 सुनामी की यूनिटMachine Mein Uski Jo Auditor Video Se 30.18 Tsunami Ki Unit
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon