tag_img

Indians


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भारत इंडिपेंडेंस की खुशी मनाते 1947 में जो पार्टी से जुड़े लोग कैसे महसूस कहते भारतीय कैसे महसूस करते बिल्कुल बहुत ही दुखद टाइम था बहुत ही हार्ड डिसीजन था इंडिया और पाकिस्तान को दो हिस्सों में बांट...
जवाब पढ़िये
जब भारत इंडिपेंडेंस की खुशी मनाते 1947 में जो पार्टी से जुड़े लोग कैसे महसूस कहते भारतीय कैसे महसूस करते बिल्कुल बहुत ही दुखद टाइम था बहुत ही हार्ड डिसीजन था इंडिया और पाकिस्तान को दो हिस्सों में बांट देना बिल्कुल आसान नहीं था कि क्योंकि ऑफिस में लोग इतने समय से दशकों से एक जगह पर हैं उनको कर बोला जाए कि आप दूसरे कंट्री में चले जाओ फील होता है जो अपने लोग थे उनके जो पर उसको उनको एक ही स्वर में बांट दिए गए कुछ पता भी नहीं था कुछ लोगों की वह पाकिस्तान में जा रहे हैं या हिंदुस्तान में डालें एक लाइन खींच दी गई बीच में कि हां आप इंडिया में हो आप पाकिस्तान में हो तो उस वक्त पर लाखों करोड़ों की संख्या में लोग जो है एयरप्लेन करना पड़ा एक जगह से दूसरे जगह जाना पड़ा और बहुत ही बुरा समय था उसको रोक लेना खाना था ना इस टेबल घर था ठीक है तो पूरी जगह पूरी तरह से एक नया संसार बसा नहीं ऐसा हो गया था यह तो बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा था उसको सील कैसे कैसे तो बिल्कुल कोई इलाज अभी नहीं कर सकता वह खुद ही बता सकते हैं खुद ही फील कर सकते हैं दूसरे लोगों की नहीं कर पाएंगी पार्टीशन के वक्त मदद लोग कैसा फील कर रहे थेJab Bharat Independence Ki Khushi Manate 1947 Mein Jo Party Se Jude Log Kaise Mahsus Kehte Bharatiya Kaise Mahsus Karte Bilkul Bahut Hi Dukhad Time Tha Bahut Hi Hard Decision Tha India Aur Pakistan Ko Do Hisso Mein Baant Dena Bilkul Aasan Nahi Tha Ki Kyonki Office Mein Log Itne Samay Se Dashakon Se Ek Jagah Par Hain Unko Kar Bola Jaye Ki Aap Dusre Country Mein Chale Jao Feel Hota Hai Jo Apne Log The Unke Jo Par Usko Unko Ek Hi Swar Mein Baant Diye Gaye Kuch Pata Bhi Nahi Tha Kuch Logon Ki Wah Pakistan Mein Ja Rahe Hain Ya Hindustan Mein Daalein Ek Line Khinch Di Gayi Bich Mein Ki Haan Aap India Mein Ho Aap Pakistan Mein Ho To Us Waqt Par Laakhon Karodo Ki Sankhya Mein Log Jo Hai Airplane Karna Pada Ek Jagah Se Dusre Jagah Jana Pada Aur Bahut Hi Bura Samay Tha Usko Rok Lena Khana Tha Na Is Table Ghar Tha Theek Hai To Puri Jagah Puri Tarah Se Ek Naya Sansar Basa Nahi Aisa Ho Gaya Tha Yeh To Bahut Mushkilon Kangaroo Samana Karna Pada Tha Usko Seal Kaise Kaise To Bilkul Koi Ilaj Abhi Nahi Kar Sakta Wah Khud Hi Bata Sakte Hain Khud Hi Feel Kar Sakte Hain Dusre Logon Ki Nahi Kar Paengi Partition Ke Waqt Madad Log Kaisa Feel Kar Rahe The
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कंपनी ऐसा कुछ नहीं किया उसने केवल अपने चुनाव के वादे पूरे किए मोदी के साथ अच्छे संबंध और ट्रंप की इस निर्णय के बीच कोई संबंध नहीं है हम भारतीय लोग केवल आशा कर सकते हैं कि अमेरिका का राष्ट्रपति को पार्...
जवाब पढ़िये
कंपनी ऐसा कुछ नहीं किया उसने केवल अपने चुनाव के वादे पूरे किए मोदी के साथ अच्छे संबंध और ट्रंप की इस निर्णय के बीच कोई संबंध नहीं है हम भारतीय लोग केवल आशा कर सकते हैं कि अमेरिका का राष्ट्रपति को पार्टियों से इतना प्यार है कि वह भारतीयों को इस निर्णय से बाहर रखेगा पर इसे अपना हक नहीं समझ सकते इस संडे राम का निर्णय अमेरिका के लिए अच्छा नहीं होगा पर यह बात अमेरिकी लोग खुद समझ जाएंगे भारत के लोग वापस आएंगे तब उन्हें पता चल जाएगा कि उनकी जगह लेने के लिए पर्याप्त मात्रा में सक्षम अमरीकी नागरिक नहीं है h1b विजा का कारण भी यही था मुझे आशा है कि आईटी इंडस्ट्री ट्रंप हॉट ट्रंप अपना निर्णय वापस लेंगे यदि ऐसा नहीं होता है तो अमेरिका को आर्थिक नुकसान होगा और शायद अमरीकी आईटी कंपनियां भारत में अपने कार्यालय खोलने के लिए मजबूर हो जाएंगेCompany Aisa Kuch Nahin Kiya Usne Keval Apne Chunav K Vade Poore Kiye Modi K Sathe Achchhe Sambandh Aur Tramp Ki Is Nirnay K Beach Koi Sambandh Nahin Hai Hum Bhartiya Log Keval Asha Car Sakte Hain Qi America Ka Rastrapati Co Partiyon Se Itna Pyaar Hai Qi Wah Bhartiyo Co Is Nirnay Se Baahar Rakhega Per Isse Apna Haq Nahin Samajh Sakte Is Sunday Ram Ka Nirnay America K Lie Accha Nahin Hoga Per Yeh Baat Ameriki Log Khud Samajh Jaenge Bharat K Log Vapusha Aenge Taba Unhein Patta Chal Jaaegaa Qi Unki Jagah Lene K Lie Paryapt Maatra Mein Saksham Amriki Nagrik Nahin Hai H1b Wezah Ka Karan Bhi Yahi Thaa Mujhe Asha Hai Qi IT Industry Tramp Hot Tramp Apna Nirnay Vapusha Lengey Yadi Aisa Nahin Hota Hai To America Co Arthik Nuksaan Hoga Aur Shayad Amriki IT Kampaniyan Bharat Mein Apne Karyalay Kholne K Lie Majboor Ho Jaenge
Likes  71  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एप्स लूट ली खिलाड़ी के रूप में मुझे लगता नहीं आईपीएल में अब इसके बाद कभी आपको खेलते नजर आएंगे लसिथ मलिंगा हिस्ट्री पास टाइम और अब आईपीएल में जो पिछला ऑप्शन था उसके बाद हमने यह ट्रेन देखा कि नाम पर कोई...
जवाब पढ़िये
एप्स लूट ली खिलाड़ी के रूप में मुझे लगता नहीं आईपीएल में अब इसके बाद कभी आपको खेलते नजर आएंगे लसिथ मलिंगा हिस्ट्री पास टाइम और अब आईपीएल में जो पिछला ऑप्शन था उसके बाद हमने यह ट्रेन देखा कि नाम पर कोई नहीं जा रहा हर एक टीम जो है वह करंट फॉर्म और फिटनेस पर प्लेयर चल रही है और वैसे भी लसिथ मलिंगा ना तो फॉर्म वैसे उनकी है और न फिटनेस पहले जैसे उनकी राय कैरियर इंटरनेशनल वर्ल्ड खत्म हो चुका है उनका नाम रहेगा अनसोल्ड को देखते हुए कि आने वाले समय में आप जब बोलोगे तब ना करेंगे IPL मेंApps Loot Lee Khiladi Ke Roop Mein Mujhe Lagta Nahi Ipl Mein Ab Iske Baad Kabhi Aapko Khelte Nazar Aayenge Lasith Malinga History Paas Time Aur Ab Ipl Mein Jo Pichla Option Tha Uske Baad Humne Yeh Train Dekha Ki Naam Par Koi Nahi Ja Raha Har Ek Team Jo Hai Wah Current Form Aur Fitness Par Player Chal Rahi Hai Aur Waise Bhi Lasith Malinga Na To Form Waise Unki Hai Aur N Fitness Pehle Jaise Unki Rai Carrier International World Khatam Ho Chuka Hai Unka Naam Rahega Anasold Ko Dekhte Hue Ki Aane Wale Samay Mein Aap Jab Bologe Tab Na Karenge IPL Mein
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लोग इतने अनुपात विश्वास इसलिए है क्योंकि यह प्रेग्नेंट होता है कि उन्हें पाल पोस कर बड़ा किस सिनेमा हॉल में किया गया है उस माहौल के हिसाब से उनकी ऐसे ऑफ ड्रिंकिंग होती है और वह ऐसा सोचना चालू...
जवाब पढ़िये
भारत में लोग इतने अनुपात विश्वास इसलिए है क्योंकि यह प्रेग्नेंट होता है कि उन्हें पाल पोस कर बड़ा किस सिनेमा हॉल में किया गया है उस माहौल के हिसाब से उनकी ऐसे ऑफ ड्रिंकिंग होती है और वह ऐसा सोचना चालू करते हैं अगर आपको बचपन से ही सिखाया जाए कि यह नहीं ऐसा मत करो नहीं तो भगवान तुम्हें बुरी सजा देंगे यह करने से यह गलती करोगे तो तुम्हें भगवान सजा देंगे तुम नर्क में जाओगे तो इंसान बच्चा बस उसी तरह बड़ा होगा जैसे कि आपने कि कल मूवी देखी होगी कि उनकी ओ माय गॉड तुसी में एक बहुत अच्छा डायलॉग है कि बिहार गॉड गॉड गॉड लिविंग लिविंग के पुल पर कैटरिंग की पुल हम भगवान की पूजा इसलिए करते हैं क्योंकि मुझसे प्यार हमें भगवान से प्यार है इसलिए उनकी पूजा नहीं करते हम इसलिए उनकी पूजा करते हैं कि नहीं अगर हम पूजा ना करें तो वह हमें कहीं शाम में मिलना कर दें कि हमारे साथ कुछ बुरा ना हो जाए तो यह सारी चीज हमारी अग्रणी अंबेडकर ने किस लिए भारत के लोग ज्यादा अंधविश्वासी होते हैंBharat Mein Log Itne Anupat Vishwas Isliye Hai Kyonki Yeh Pregnant Hota Hai Ki Unhen Pal Posh Kar Bada Kis Cinema Hall Mein Kiya Gaya Hai Us Maahaul Ke Hisab Se Unki Aise Of DRINKING Hoti Hai Aur Wah Aisa Sochna Chalu Karte Hain Agar Aapko Bachpan Se Hi Sikhaya Jaye Ki Yeh Nahi Aisa Mat Karo Nahi To Bhagwan Tumhein Buri Saja Denge Yeh Karne Se Yeh Galti Karoge To Tumhein Bhagwan Saja Denge Tum Nark Mein Jaoge To Insaan Baccha Bus Ussi Tarah Bada Hoga Jaise Ki Aapne Ki Kal Movie Dekhi Hogi Ki Unki O My God Tusi Mein Ek Bahut Accha Dialogue Hai Ki Bihar God God God Living Living Ke Pool Par Catering Ki Pool Hum Bhagwan Ki Puja Isliye Karte Hain Kyonki Mujhse Pyar Hume Bhagwan Se Pyar Hai Isliye Unki Puja Nahi Karte Hum Isliye Unki Puja Karte Hain Ki Nahi Agar Hum Puja Na Karen To Wah Hume Kahin Shaam Mein Milna Kar Dein Ki Hamare Saath Kuch Bura Na Ho Jaye To Yeh Saree Cheez Hamari Agranee Ambedkar Ne Kis Liye Bharat Ke Log Jyada Andhavishvasi Hote Hain
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
ठीक है मैं ऐसी सारी घटनाओं को अपवाद मानता हूं और यह जो है यह जो हमारा 125 करोड़ का देश है इस में अगर कुछ इस तरीके की घटनाएं होती हैं तो उसको भारतीय संस्कृति और भारतीय नैतिकता से जोड़ करके नहीं देखा जाना चाहिए यह पहले भी होता रहा है उससे अगर आप पहले जाएंगे तब भी इस तरीके घटाएं होती थी और आगे भी होती रहेंगी और दुनिया का कोई भी ऐसा देश नहीं है जहां पर इस तरीके की घटनाएं नहीं होती हैं आपने देखा कि कुछ दिनों पहले ही जो है वह गुडगांव के अंदर जो है कैसी डेंट हुआ जिसमें की एक व्यक्ति लड़ लड़के ने जो अपने ही क्लास के छोटे बच्चे की हत्या कर दी और क्योंकि वह छुट्टी चाहता था और अभी अभी शिमला चीज है जो है लखनऊ के अंदर भी रिपीट हुई है जोकि स्थाई के काम करते हैं और उसको भारतीय नैतिकता से जोड़ करके देखना उचित नहीं हैTheek Hai Main Aisi Saree Ghatnaon Ko Apavad Manata Hoon Aur Yeh Jo Hai Yeh Jo Hamara 125 Crore Ka Desh Hai Is Mein Agar Kuch Is Tarike Ki Ghatnaye Hoti Hain To Usko Bhartiya Sanskriti Aur Bhartiya Naitikta Se Jod Karke Nahi Dekha Jana Chahiye Yeh Pehle Bhi Hota Raha Hai Usse Agar Aap Pehle Jaenge Tab Bhi Is Tarike Ghataye Hoti Thi Aur Aage Bhi Hoti Rahengi Aur Duniya Ka Koi Bhi Aisa Desh Nahi Hai Jahan Par Is Tarike Ki Ghatnaye Nahi Hoti Hain Aapne Dekha Ki Kuch Dinon Pehle Hi Jo Hai Wah Gudgaon Ke Andar Jo Hai Kaisi Dent Hua Jisme Ki Ek Vyakti Lad Ladke Ne Jo Apne Hi Class Ke Chote Bacche Ki Hatya Kar Di Aur Kyonki Wah Chutti Chahta Tha Aur Abhi Abhi Shimla Cheez Hai Jo Hai Lucknow Ke Andar Bhi Repeat Hui Hai Joki Sthai Ke Kaam Karte Hain Aur Usko Bhartiya Naitikta Se Jod Karke Dekhna Uchit Nahi Hai
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं मुझे भी मैं भी यह सब चीज को गांव का कविता बार देख चुका हूं मेरे दोस्त लोग भी गए थे अमेरिका हो या कहीं भी गए वह थोड़ा उनको 210 10 दिन के बाद उनको लगता है कि थोड़ा उसको साफ करने के लिए वह भी थ...
जवाब पढ़िये
देखिए मैं मुझे भी मैं भी यह सब चीज को गांव का कविता बार देख चुका हूं मेरे दोस्त लोग भी गए थे अमेरिका हो या कहीं भी गए वह थोड़ा उनको 210 10 दिन के बाद उनको लगता है कि थोड़ा उसको साफ करने के लिए वह भी थोड़ा है अमेरिका का फंक्शन फंक्शन पर थोड़ा बात कर लेते हैं तो उनको लगेगा सब को ले गया यहां पर भाई बंद अमेरिका यह मैसेज आ गया है तो यह शब्द कि यह आप लोगों के जो नजरिया है उनको लगता है कि वह अमेरिका जाकर आ गए तो लोगों को सामने थोड़ा इंग्लिश हार्ड लेंगे तो वहां लगेगा कि हां भाई बहुत बड़ा काम कर के आया बहुत बड़ा तीर मार गया तो ऐसा कोई ऐसे लोगों को थोड़ा आप इग्नोर करिए और ऐसे लोगों को थोड़ा आप जब वह भी दोस्त थे दोस्त दोस्त होने के नाते अब अगर आप मिल रहे हैं अगर वह ऐसा बात कर रहे तो आप हंसी मजाक में उड़ा लीजिए इसमें आपको कोई सीरियस लेने का भी बात नहीं है तो यह अमेरिका Action जो आता है यह सिर्फ वह इंटरनेशनल ही करते हैं ऐसा कुछ नहीं है कि वह अमेरिका जाने के बाद उनका अगर वह हां अगर कोई अमेरिका जाकर अगर 5 साल 6 साल रहा 304 साल रहा वहां पर तो उनका तो बात करने का तरीका ही अपना अलग हो जाएगा क्योंकि वह हर दिन वह एक ही लैंग्वेज में बात करेंगे तो आ जाएगा तो वह एक्सीडेंट भी आ जाएगा मगर अगर कोई सा एक महीना और दिन 15 दिन 1 महीने के लिए जाते हैं और यह बात करके आते तो मुझे तो लगता है यह है यह सिर्फ दिखावे का बात हैDekhie Main Mujhe Bhi Main Bhi Yeh Sab Cheez Ko Gav Ka Kavita Baar Dekh Chuka Hoon Mere Dost Log Bhi Gaye The America Ho Ya Kahin Bhi Gaye Wah Thoda Unko 210 10 Din Ke Baad Unko Lagta Hai Ki Thoda Usko Saaf Karne Ke Liye Wah Bhi Thoda Hai America Ka Function Function Par Thoda Baat Kar Lete Hain To Unko Lagega Sab Ko Le Gaya Yahan Par Bhai Band America Yeh Massage Aa Gaya Hai To Yeh Shabdh Ki Yeh Aap Logon Ke Jo Najariya Hai Unko Lagta Hai Ki Wah America Jaakar Aa Gaye To Logon Ko Samane Thoda English Hard Lenge To Wahan Lagega Ki Haan Bhai Bahut Bada Kaam Kar Ke Aaya Bahut Bada Teer Maar Gaya To Aisa Koi Aise Logon Ko Thoda Aap Ignore Kariye Aur Aise Logon Ko Thoda Aap Jab Wah Bhi Dost The Dost Dost Hone Ke Naate Ab Agar Aap Mil Rahe Hain Agar Wah Aisa Baat Kar Rahe To Aap Hansi Mazak Mein Uda Lijiye Isme Aapko Koi Serious Lene Ka Bhi Baat Nahi Hai To Yeh America Action Jo Aata Hai Yeh Sirf Wah International Hi Karte Hain Aisa Kuch Nahi Hai Ki Wah America Jaane Ke Baad Unka Agar Wah Haan Agar Koi America Jaakar Agar 5 Saal 6 Saal Raha 304 Saal Raha Wahan Par To Unka To Baat Karne Ka Tarika Hi Apna Alag Ho Jayega Kyonki Wah Har Din Wah Ek Hi Language Mein Baat Karenge To Aa Jayega To Wah Accident Bhi Aa Jayega Magar Agar Koi Sa Ek Mahina Aur Din 15 Din 1 Mahine Ke Liye Jaate Hain Aur Yeh Baat Karke Aate To Mujhe To Lagta Hai Yeh Hai Yeh Sirf Dikhaave Ka Baat Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसे व्यवहार के सटीक कारणों को समझना मुश्किल है क्योंकि यह कई बिन फाटक के बीच कॉन्प्लेक्स इंटरप्रेट के कारण है एक कारण यह हो सकता है कि भारतीयों का ऐतिहासिक और पौराणिक रूप में ऐसे गॉड लाइट से गर्ल्स मि...
जवाब पढ़िये
ऐसे व्यवहार के सटीक कारणों को समझना मुश्किल है क्योंकि यह कई बिन फाटक के बीच कॉन्प्लेक्स इंटरप्रेट के कारण है एक कारण यह हो सकता है कि भारतीयों का ऐतिहासिक और पौराणिक रूप में ऐसे गॉड लाइट से गर्ल्स मिले जिसकी वजह से वह कुछ जीवित लोगों को भी सच में भगवान जैसे डिलीट करने लग जाते हैं अक्सर और शिक्षित और आइसोलेटेड जनता के लिए जो उन्हें खुशी की भावना लाता है उसी को हीरो के रूप में देखने लग जाते हैं लोकप्रिय उदाहरण सचिन तेंदुलकर रजनीकांत और यहां तक कि नरेंद्र मोदी भी हैं हालांकि मैं स्थिति से इंकार नहीं करती हूं किन व्यक्तियों ने अपने अपने क्षेत्रों में XL किया है यह सब कहने के बाद भी मुझे नहीं लगता कि फ्रेंड ओम सिर्फ भारत तक सीमित है कई अंतरराष्ट्रीय खेल संगीत और फिल्म सितारों ने भी इस का एक्सीडेंट किया है यह सभी रिलेटिव है और किसी व्यक्ति की लोकप्रियता की सीमा पर निर्भर करता हैAise Vyavhar Ke Sateek Kaarno Ko Samajhna Mushkil Hai Kyonki Yeh Kai Bin Phatak Ke Beech Conplex Interpret Ke Kaaran Hai Ek Kaaran Yeh Ho Sakta Hai Ki Bharatiyon Ka Aetihasik Aur Peranik Roop Mein Aise God Light Se Girls Mile Jiski Wajah Se Wah Kuch Jeevit Logon Ko Bhi Sach Mein Bhagwan Jaise Delete Karne Lag Jaate Hain Aksar Aur Shikshit Aur Isolated Janta Ke Liye Jo Unhen Khushi Ki Bhavna Lata Hai Ussi Ko Hero Ke Roop Mein Dekhne Lag Jaate Hain Lokpriya Udaharan Sachin Tendulkar Rajnikant Aur Yahan Tak Ki Narendra Modi Bhi Hain Halanki Main Sthiti Se Inkar Nahi Karti Hoon Kin Vyaktiyon Ne Apne Apne Kshetro Mein XL Kiya Hai Yeh Sab Kehne Ke Baad Bhi Mujhe Nahi Lagta Ki Friend Om Sirf Bharat Tak Simith Hai Kai Antararashtriya Khel Sangeet Aur Film Sitaron Ne Bhi Is Ka Accident Kiya Hai Yeh Sabhi Relative Hai Aur Kisi Vyakti Ki Lokpriyata Ki Seema Par Nirbhar Karta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारतीय धारावाहिक जो है मुख्य तौर पर उसी जिंदगी को दिखाते हैं जो हम आज के समय में जीते हैं और वह यह दिखाते हैं कि किस तरीके से लोग जो है समाज में कैसे हैं और हालातों में रहे हैं और जो लोग भारतीय ...
जवाब पढ़िये
देखिए भारतीय धारावाहिक जो है मुख्य तौर पर उसी जिंदगी को दिखाते हैं जो हम आज के समय में जीते हैं और वह यह दिखाते हैं कि किस तरीके से लोग जो है समाज में कैसे हैं और हालातों में रहे हैं और जो लोग भारतीय धारावाहिकों को देखते हैं खासकर महिलाएं और जो कुछ बच्चे हैं जो इनसे काफी एक तरीके से प्रेरित होते हैं वह उन धारावाहिकों में अपनी जिंदगी को तलाशते हैं और इसी वजह से जो है लोगों पर खासकर महिलाओं पर प्रभाव पड़ जाता है और फिर वह उसी प्रकार से सोचने होते हैं जैसा धारावाहिकों में दिखाया जा रहा है खासकर जो औरतें बड़ी होती है और खास अकेली होती हैं मैंने कई बार देखा कि जो औरतें अकेली होती हैं आज जिन जिन के साथ में उनके पति और यदि काम से बाहर होते हैं या वह बाहर शहर में अगर रहते हैं तो उन धारावाहिकों कोई व्यक्ति की सपना सहारा समझती है खासकर मैंने आजा मैं उसे बचपन में था था था मैंने इस प्रकार के लोगों को देखा था और वही एक तरीके से जो है फिर अपनी जिंदगी को तलाशते हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि यह हमारे जीवन को एक इसलिए प्रभावित करते हैं क्योंकि अगर आपका अपना अगर आपके साथ ना हो तो फिर आप का इकलौता यही सहारा बन जाता है तो यह हमारे जीवन को इस तरीके से प्रभावित करते हैं यदि आप से प्रेरणा के तौर पर देखा तो यह हमारे लिए बिल्कुल एक्टर कैसे सही होगा पर यदि आप इसमें अपने ही आप को तलाशने लग जाए तो फिर भी आपके लिए गलत हो सकता है क्योंकि आपके दिमाग को भी लिखते हो सकता है और कई सारी चीजों पर्व पर आपको शंका हो सकती है इसीलिए यदि आप भारतीय धारावाहिकों में अगर आप देख भी रहे धारावाहिकों को तो उसे केवल एक प्रेरणा के स्रोत और बना देंगे बल्कि एक मनोरंजन के साधन के तौर पर देखें इसलिए ताकि आपका इन पर एक परीक्षा इनका ऑपरेशन ना पड़ेDekhie Bhartiya Dharawahik Jo Hai Mukhya Taur Par Ussi Zindagi Ko Dikhate Hain Jo Hum Aaj Ke Samay Mein Jeete Hain Aur Wah Yeh Dikhate Hain Ki Kis Tarike Se Log Jo Hai Samaaj Mein Kaise Hain Aur Halaton Mein Rahe Hain Aur Jo Log Bhartiya Dharavahikon Ko Dekhte Hain Khaskar Mahilaye Aur Jo Kuch Bacche Hain Jo Inse Kafi Ek Tarike Se Prerit Hote Hain Wah Un Dharavahikon Mein Apni Zindagi Ko Talashate Hain Aur Isi Wajah Se Jo Hai Logon Par Khaskar Mahilaon Par Prabhav Padh Jata Hai Aur Phir Wah Ussi Prakar Se Sochne Hote Hain Jaisa Dharavahikon Mein Dikhaya Ja Raha Hai Khaskar Jo Auraten Badi Hoti Hai Aur Khas Akeli Hoti Hain Maine Kai Baar Dekha Ki Jo Auraten Akeli Hoti Hain Aaj Jin Jin Ke Saath Mein Unke Pati Aur Yadi Kaam Se Bahar Hote Hain Ya Wah Bahar Sheher Mein Agar Rehte Hain To Un Dharavahikon Koi Vyakti Ki Sapna Sahara Samajhti Hai Khaskar Maine Aaja Main Use Bachpan Mein Tha Tha Tha Maine Is Prakar Ke Logon Ko Dekha Tha Aur Wahi Ek Tarike Se Jo Hai Phir Apni Zindagi Ko Talashate Hain Aur Sabse Badi Baat Yeh Hai Ki Yeh Hamare Jeevan Ko Ek Isliye Prabhavit Karte Hain Kyonki Agar Aapka Apna Agar Aapke Saath Na Ho To Phir Aap Ka Ikalauta Yahi Sahara Ban Jata Hai To Yeh Hamare Jeevan Ko Is Tarike Se Prabhavit Karte Hain Yadi Aap Se Prerna Ke Taur Par Dekha To Yeh Hamare Liye Bilkul Actor Kaise Sahi Hoga Par Yadi Aap Isme Apne Hi Aap Ko Talashane Lag Jaye To Phir Bhi Aapke Liye Galat Ho Sakta Hai Kyonki Aapke Dimag Ko Bhi Likhte Ho Sakta Hai Aur Kai Saree Chijon Parv Par Aapko Shanka Ho Sakti Hai Isliye Yadi Aap Bhartiya Dharavahikon Mein Agar Aap Dekh Bhi Rahe Dharavahikon Ko To Use Kewal Ek Prerna Ke Srot Aur Bana Denge Balki Ek Manoranjan Ke Sadhan Ke Taur Par Dekhen Isliye Taki Aapka In Par Ek Pariksha Inka Operation Na Pade
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विक्रम भारत के इतिहास की बात करें तो हम सभी लोग जानते हैं कि अंग्रेजों का रास्ता अंग्रेजों के गुलाम थे हम लोग तो जहर दौर में जितनी भी चीजें हैं वह अंग्रेजों के उसके आए हैं लेकिन देखिए अंग्रेजों की बेश...
जवाब पढ़िये
विक्रम भारत के इतिहास की बात करें तो हम सभी लोग जानते हैं कि अंग्रेजों का रास्ता अंग्रेजों के गुलाम थे हम लोग तो जहर दौर में जितनी भी चीजें हैं वह अंग्रेजों के उसके आए हैं लेकिन देखिए अंग्रेजों की बेशक हम गुलाम थे वैसे तो जिंदगी थी तब की बहुत ज्यादा एक हैवान देखना रस्सी बन गई थी उनकी गुलामी करनी पड़ रही थी लेकिन जो नियम कायदे डिसिप्लिन एंड डेवलपमेंट यह सब चीजें थी उसमें कोई कमी नहीं होने से काम करते हुए अपने हिसाब से अपराध दमनकारी नीति बेदखली अपमानजनक करना बुरी बुरी चीजें हैं यह तब नहीं होती थी तो यह इसके लिए बहुत ज्यादा जिम्मेदार हम खुद भारतवासी हैं और हमारी सोच है और इसके लिए बहुत हद तक जिम्मेदार भारत की राजनीति है क्योंकि भारत की राजनीति लगातार स्तर गिरता जा रहा है बल्कि एक गंदी राजनीति होती जा रही है लगातार जिससे लोग जो है वह केवल राजनीतिक पार्टी अपने फायदे के लिए देश को बेचने को तैयार हैं अपने पैसे कमाने के लिए जिससे अपनी उनको वोट की राजनीति होती है तो कुल मिलाकर इसके लिए समितियां हो रही है वरना यह सब अपराध वगैरा कोई ऐसी बड़ी चीज नहीं है और देशों में पूरी तरीके से लगी हुई है क्या तुझेVikram Bharat Ke Itihas Ki Baat Karen To Hum Sabhi Log Jante Hain Ki Angrejo Ka Rasta Angrejo Ke Gulam The Hum Log To Zahar Daur Mein Jitni Bhi Cheezen Hain Wah Angrejo Ke Uske Aaye Hain Lekin Dekhie Angrejo Ki Beshak Hum Gulam The Waise To Zindagi Thi Tab Ki Bahut Jyada Ek Haivan Dekhna Rassi Ban Gayi Thi Unki Gulami Karni Padh Rahi Thi Lekin Jo Niyam Kayade Discipline End Development Yeh Sab Cheezen Thi Usamen Koi Kami Nahi Hone Se Kaam Karte Hue Apne Hisab Se Apradh Damankari Niti Bedakhali Apamanajanak Karna Buri Buri Cheezen Hain Yeh Tab Nahi Hoti Thi To Yeh Iske Liye Bahut Jyada Zimmedar Hum Khud Bharatvasi Hain Aur Hamari Soch Hai Aur Iske Liye Bahut Had Tak Zimmedar Bharat Ki Rajneeti Hai Kyonki Bharat Ki Rajneeti Lagatar Sthar Girta Ja Raha Hai Balki Ek Gandi Rajneeti Hoti Ja Rahi Hai Lagatar Jisse Log Jo Hai Wah Kewal Rajnitik Party Apne Fayde Ke Liye Desh Ko Bechne Ko Taiyaar Hain Apne Paise Kamane Ke Liye Jisse Apni Unko Vote Ki Rajneeti Hoti Hai To Kul Milakar Iske Liye Samitiyan Ho Rahi Hai Varana Yeh Sab Apradh Vagaira Koi Aisi Badi Cheez Nahi Hai Aur Deshon Mein Puri Tarike Se Lagi Hui Hai Kya Tujhe
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हम भारतीयों को बहुत पहले से ही यह आदत पड़ी हुई है कि हम जाति और धर्म के आधार पर वोट देते हैं ना कि किसी की काबिलियत और उसके अच्छे कामों की वजह से क्योंकि जब हम छोटे होते हैं तब से ही हम अपने घर ...
जवाब पढ़िये
देखिए हम भारतीयों को बहुत पहले से ही यह आदत पड़ी हुई है कि हम जाति और धर्म के आधार पर वोट देते हैं ना कि किसी की काबिलियत और उसके अच्छे कामों की वजह से क्योंकि जब हम छोटे होते हैं तब से ही हम अपने घर में धर्म जाति और आधी चीजों के बारे में सुनते हैं और उनके बारे में पता चलता है हम और उसी के साथ हमारे ओपिनियन बन जाता है कि हम अगर इस धर्म के हैं तो हम इसी धर्म के लोगों को वोट देंगे और अगर हम उसी जाती है तो मूर्ति जाति वालों को वोट देंगे और अगर हम नीची जाति के नेता और रणनीति से नीची जाति के लोगों को वोट देंगे क्योंकि हमें लगता है कि वही वही राजनेता हमारा हमारे बारे में कुछ कर सकता है या हमारी चीज़ें सुन सकता है जो हमारी जाति हमारे धर्म का है और दूसरी जाति वाले हमारी हमारी चीज़ें नहीं सुनेंगे ऐसा हमको लगता है और इसी वजह से हम अपने जाति और धर्म के आधार पर वोट देतेDekhie Hum Bharatiyon Ko Bahut Pehle Se Hi Yeh Aadat Padi Hui Hai Ki Hum Jati Aur Dharm Ke Aadhar Par Vote Dete Hain Na Ki Kisi Ki Kabiliyat Aur Uske Acche Kamon Ki Wajah Se Kyonki Jab Hum Chote Hote Hain Tab Se Hi Hum Apne Ghar Mein Dharm Jati Aur Aadhi Chijon Ke Baare Mein Sunte Hain Aur Unke Baare Mein Pata Chalta Hai Hum Aur Ussi Ke Saath Hamare Opiniyan Ban Jata Hai Ki Hum Agar Is Dharm Ke Hain To Hum Isi Dharm Ke Logon Ko Vote Denge Aur Agar Hum Ussi Jati Hai To Murti Jati Walon Ko Vote Denge Aur Agar Hum Nichi Jati Ke Neta Aur Rananiti Se Nichi Jati Ke Logon Ko Vote Denge Kyonki Hume Lagta Hai Ki Wahi Wahi Rajneta Hamara Hamare Baare Mein Kuch Kar Sakta Hai Ya Hamari Chizen Sun Sakta Hai Jo Hamari Jati Hamare Dharm Ka Hai Aur Dusri Jati Wale Hamari Hamari Chizen Nahi Sunenge Aisa Hamko Lagta Hai Aur Isi Wajah Se Hum Apne Jati Aur Dharm Ke Aadhar Par Vote Dete
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एमपी एंप्लॉयमेंट का कारण जो मुझे समझ में आता है वह सरकारों की अनदेखी है सरकारों में 80 कदम जी ने काम किया करो और ज्यादा कानपुर...
जवाब पढ़िये
एमपी एंप्लॉयमेंट का कारण जो मुझे समझ में आता है वह सरकारों की अनदेखी है सरकारों में 80 कदम जी ने काम किया करो और ज्यादा कानपुर
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज लुक छुप रहे थे तो जिन लोगों ने क्लीन किया तो वह तो ठीक है बट आई जो लोग चुप रहते अपने गम छुपा रहे थे वह भी सीख ली डिक्लेअर नहीं कर रहे थे अपने गम को डिक्लेअर नहीं करना है इस लाइक छुपा देना बेसिकली ब...
जवाब पढ़िये
आज लुक छुप रहे थे तो जिन लोगों ने क्लीन किया तो वह तो ठीक है बट आई जो लोग चुप रहते अपने गम छुपा रहे थे वह भी सीख ली डिक्लेअर नहीं कर रहे थे अपने गम को डिक्लेअर नहीं करना है इस लाइक छुपा देना बेसिकली बताना नहीं कि हम कितना कमा रहे हैं उसके कई रास्ते हैं कैसे करते हैं काफी सारे रास्ते हैं जैसे की इंवेस्टमेंट कहीं छुप एक गलत नाम थ्रू इन्वेस्टमेंट करना या फिर आशीष बैंक में पैसे भर देना या फिर किस बात पर पैसे सेव करना है क्या नींद आ रहा साल अकाउंट बनाना फेरम हो सकता है कि वह एक और ट्रस्ट वगैरा कोई खोल दे एक स्कूल ट्रस्ट वगैरा या कॉल इंस्टिट्यूशनल ट्रस्ट एजुकेशनल ट्रस्ट वगैरा खोल देता कि वह दिखा सके कि पैसा कहा गया है और क्यों नहीं वह कहां से आ रहा है और उसका टैक्स कैसे भर रहे हैं काफी सारे जरिए अफ्रीकन जियो खोल सकती है कोई नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन खोल सकते हैं और उस के थ्रू वह पैसा जन्म छुपा सकते हैं काफी सारे रास्ते हैं डिक्लेअर नहीं करने के और लोग लोगों के पास एक्चुअली मतलब हमारे इंडिया में लोग कितने एडवांस हैं कि उनको यह पता है कि उन्हें उन का पैसा कैसे छुपाना है उनका भी उनको बहुत अच्छे से पता है इसकी वजह की इसी की वजह से हमारे देश में सबसे ज्यादा काला धन पाया जाता है मतलब हमारे देश सबसे ज्यादा तो नहीं बड़ी काफी ज्यादा अमाउंट मध्यप्रदेश में भी होता रहेगा अरुण रॉबर्ट हमारे देश में काफी ज्यादा अमाउंट का है तो है ऐसे ही ऐसे ही ऐसे ही करते भारत भाजपा यह लोग जो छुपा छुपाते हैं यह लोग उन्होंने वह टाइम पर भी छुपा रहेगा 24.4 2015 मेंAaj Look Chup Rahe The To Jin Logon Ne Clean Kiya To Wah To Theek Hai But Eye Jo Log Chup Rehte Apne Gum Chhupa Rahe The Wah Bhi Seekh Lee Declare Nahi Kar Rahe The Apne Gum Ko Declare Nahi Karna Hai Is Like Chhupa Dena Basically Batana Nahi Ki Hum Kitna Kama Rahe Hain Uske Kai Raste Hain Kaise Karte Hain Kafi Sare Raste Hain Jaise Ki Investament Kahin Chup Ek Galat Naam Through Investment Karna Ya Phir Aashish Bank Mein Paise Bhar Dena Ya Phir Kis Baat Par Paise Save Karna Hai Kya Neend Aa Raha Saal Account Banana Feram Ho Sakta Hai Ki Wah Ek Aur Trust Vagaira Koi Khol De Ek School Trust Vagaira Ya Call Instityushanal Trust Educational Trust Vagaira Khol Deta Ki Wah Dikha Sake Ki Paisa Kaha Gaya Hai Aur Kyun Nahi Wah Kahan Se Aa Raha Hai Aur Uska Tax Kaise Bhar Rahe Hain Kafi Sare Jariye African Jio Khol Sakti Hai Koi Non Profit Organisation Khol Sakte Hain Aur Us Ke Through Wah Paisa Janm Chhupa Sakte Hain Kafi Sare Raste Hain Declare Nahi Karne Ke Aur Log Logon Ke Paas Actually Matlab Hamare India Mein Log Kitne Advance Hain Ki Unko Yeh Pata Hai Ki Unhen Un Ka Paisa Kaise Chupana Hai Unka Bhi Unko Bahut Acche Se Pata Hai Iski Wajah Ki Isi Ki Wajah Se Hamare Desh Mein Sabse Jyada Kala Dhan Paya Jata Hai Matlab Hamare Desh Sabse Jyada To Nahi Badi Kafi Jyada Amount Madhya Pradesh Mein Bhi Hota Rahega Arun Robert Hamare Desh Mein Kafi Jyada Amount Ka Hai To Hai Aise Hi Aise Hi Aise Hi Karte Bharat Bhajpa Yeh Log Jo Chhupa Chupate Hain Yeh Log Unhone Wah Time Par Bhi Chhupa Rahega 24.4 2015 Mein
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के परसेंट ली क्या हुआ कि बसंत विहार में बस में सफर के दौरान छात्रा एक छात्रा के साथ यह शर्मसार घटना हुई छात्रा ने आरोप लगाया कि जब वह बस में सफर कर रही थी तो सामने बस में बैठा व्यक्ति हस्तमैथुन करन...
जवाब पढ़िये
आज के परसेंट ली क्या हुआ कि बसंत विहार में बस में सफर के दौरान छात्रा एक छात्रा के साथ यह शर्मसार घटना हुई छात्रा ने आरोप लगाया कि जब वह बस में सफर कर रही थी तो सामने बस में बैठा व्यक्ति हस्तमैथुन करने लगा और छात्रा ने इस घटना का वीडियो बनाया और उसने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया और उसने बाद में बसंत बिहार पुलिस स्टेशन में कंप्लेंट भी दर्ज करवाई और उसने बोला उसने अपने वीडियो चैट कर कर बोला कि लोग इस बात को नहीं समझते कि इस तरह की घटनाएं लोग उन लोगों के साथ भी हो सकती हैं और ऐसे यौन शोषण का शिकार भी हो सकती हैं वह उसने बोला कि मैंने जागरूकता फैलाने के लिए वीडियो साझा किया लोगों ने उसके इस स्टेप को उसके रोने को बहुत ही नेगेटिव रेलिया प्रॉब्लम है कि भारत में इन चीजों को ज्यादा सीरियसली नहीं लिया जाता यहां भी लड़की की गलती निकाली जाएगी कि उसने वीडियो क्यों बनाया उसने तभी क्यों कुछ नहीं कहा या वह लड़की वीडियो क्यों बना रही थी उसने शेर क्योंकि उसकी गलती आई है यह ट्यूशन इसके पीछे यह है कि हमारे यहां अवेयरनेस की बहुत कमी है हमारे कंट्री में और इन इनचेस आज भी चाहे कितना बजा है लेकिन हमारी सोसाइटी एक मेल डोमिनेंट शायरी है पुरुष ही सादर डोमिनेंट है यहां पर तो यह समझा जाता है कि पुरुष जो भी करें यह उनका राइट है यह एक मेंटलिटी बन चुके हमारे यहां हमारे देश में इसकी वजह से महिलाएं आज भी बहुत भूख लगती है हालांकि सारे पुरुष ऐसे नहीं होते सारे लोग ऐसे नहीं होते पर मूंगफली जो प्रमोशन है वह ऐसा ही सोचता है कि पुरुष कुछ भी करें उन्हें सब अलाउड होता है लेकिन बस में तो और लोग भी बैठे होंगे और व्यक्ति भी होंगे और आदमी भी होंगे उन्हें भी कुछ याद करना चाहिए था बट नहीं करा लड़की ने जो स्टेप लिए काफी व्यस्त था उसको सपोर्ट करना चाहिए उसको सहारा देना चाहिए और यह जो मेंटलिटी है यह बदलने की जरूरत अब आ गई है अब बहुत जरूरत हो गई है अबAaj Ke Percent Lee Kya Hua Ki Basant Vihar Mein Bus Mein Safar Ke Dauran Chatra Ek Chatra Ke Saath Yeh Sharmasaar Ghatna Hui Chatra Ne Aarop Lagaya Ki Jab Wah Bus Mein Safar Kar Rahi Thi To Samane Bus Mein Baitha Vyakti Hastamaithun Karne Laga Aur Chatra Ne Is Ghatna Ka Video Banaya Aur Usne Social Media Par Ek Video Share Kiya Aur Usne Baad Mein Basant Bihar Police Station Mein Complaint Bhi Darj Karwai Aur Usne Bola Usne Apne Video Chat Kar Kar Bola Ki Log Is Baat Ko Nahi Samajhte Ki Is Tarah Ki Ghatnaye Log Un Logon Ke Saath Bhi Ho Sakti Hain Aur Aise Yaun Shoshan Ka Shikar Bhi Ho Sakti Hain Wah Usne Bola Ki Maine Jagrukta Phailane Ke Liye Video Sajha Kiya Logon Ne Uske Is Step Ko Uske Rone Ko Bahut Hi Negative Relia Problem Hai Ki Bharat Mein In Chijon Ko Jyada Siriyasali Nahi Liya Jata Yahan Bhi Ladki Ki Galti Nikali Jayegi Ki Usne Video Kyun Banaya Usne Tabhi Kyun Kuch Nahi Kaha Ya Wah Ladki Video Kyun Bana Rahi Thi Usne Sher Kyonki Uski Galti Eye Hai Yeh Tuition Iske Piche Yeh Hai Ki Hamare Yahan Awareness Ki Bahut Kami Hai Hamare Country Mein Aur In Inaches Aaj Bhi Chahe Kitna Baja Hai Lekin Hamari Society Ek Mail Dominent Shaayari Hai Purush Hi Sadar Dominent Hai Yahan Par To Yeh Samjha Jata Hai Ki Purush Jo Bhi Karen Yeh Unka Right Hai Yeh Ek Mentaliti Ban Chuke Hamare Yahan Hamare Desh Mein Iski Wajah Se Mahilaye Aaj Bhi Bahut Bhukh Lagti Hai Halanki Sare Purush Aise Nahi Hote Sare Log Aise Nahi Hote Par Mungfaali Jo Promotion Hai Wah Aisa Hi Sochta Hai Ki Purush Kuch Bhi Karen Unhen Sab Allowed Hota Hai Lekin Bus Mein To Aur Log Bhi Baithey Honge Aur Vyakti Bhi Honge Aur Aadmi Bhi Honge Unhen Bhi Kuch Yaad Karna Chahiye Tha But Nahi Kra Ladki Ne Jo Step Liye Kafi Vyasta Tha Usko Support Karna Chahiye Usko Sahara Dena Chahiye Aur Yeh Jo Mentaliti Hai Yeh Badalne Ki Zaroorat Ab Aa Gayi Hai Ab Bahut Zaroorat Ho Gayi Hai Ab
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल पूछा है निर्मल जी यह बहुत ही अच्छा सवाल है आप अगर जानते हो तो यह भारत की खासियत है कि हम सारे अपने जो भी फंक्शन होते हैं सेलिब्रेशन जाते हम बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं त्यौहार भी धूमधाम तलाशते है...
जवाब पढ़िये
सवाल पूछा है निर्मल जी यह बहुत ही अच्छा सवाल है आप अगर जानते हो तो यह भारत की खासियत है कि हम सारे अपने जो भी फंक्शन होते हैं सेलिब्रेशन जाते हम बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं त्यौहार भी धूमधाम तलाशते हैं कि हमारी संस्कृति बन गई है कि हम यह सब के साथ शेयर करें और फिर और धूमधाम से अपना ही आपने सब को बांटे कि वह ऐसे थोड़ी खुशियां हुए अपने आसपास सलाम लेंगेSawal Poocha Hai Nirmal Ji Yeh Bahut Hi Accha Sawal Hai Aap Agar Jante Ho To Yeh Bharat Ki Khasiyat Hai Ki Hum Sare Apne Jo Bhi Function Hote Hain Celebration Jaate Hum Bahut Hi Dhumadham Se Manate Hain Tyohar Bhi Dhumadham Talashate Hain Ki Hamari Sanskriti Ban Gayi Hai Ki Hum Yeh Sab Ke Saath Share Karen Aur Phir Aur Dhumadham Se Apna Hi Aapne Sab Ko Bante Ki Wah Aise Thodi Khushiyan Hue Apne Aaspass Salaam Lenge
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विजय दक्षिण भारत में उत्तर भारतीय लोगों द्वारा अनुभव किए जाने वाले संस्कृत झटके बहुत ज्यादा है क्योंकि जो दक्षिण भारत के लोग होते हैं अगर हम 5 दिन से लेकर आ जाए उत्तर भारत के लोगों से तो बहुत ही ज्याद...
जवाब पढ़िये
विजय दक्षिण भारत में उत्तर भारतीय लोगों द्वारा अनुभव किए जाने वाले संस्कृत झटके बहुत ज्यादा है क्योंकि जो दक्षिण भारत के लोग होते हैं अगर हम 5 दिन से लेकर आ जाए उत्तर भारत के लोगों से तो बहुत ही ज्यादा डिफरेंट आजा बहुत याद आता है दोनों में क्योंकि ऐसा कहा जाता है और ऐसा माना जाता है कि जो साउथ इंडियन से ज्यादा इंटेलिजेंट होते हैं उनका बहुत ही ज्यादा बहुत सिंपल लाइफ जीते हैं बहुत सिंपल सोबर लगते हैं इंटेलिजेंट होते हैं उनका होता है कि कुछ बनेगा यह बनाए और बहुत सिंपल हो बहुत ही अच्छी तरीके से उत्तर भारतीयों से नार्थ इंडियन से तो इतनी सिंपल अगर देखा जाए तो उनको इतनी ज्यादा नॉलेज नहीं होती है अगर हम कंप्रेशन किया जाए वैसे ऐसा नहीं है कि नार्थ इंडियन पोस्ट इंडियन साउथ इंडियन साउथ इंडिया में जाते हैं तुझे साउथ इंडियन से उनके साथ थोड़ा वक्त आप अलग करते हैं उन्हें उनके साथ थोड़ा डिस्कशन किया जाता है जिससे अगर व्यवहार को लेने जा रही है कुछ तो उन्हें सॉफ्टवेयर देने से मना कर देगा उन्हें थोड़ा नॉमिनेट किया जाता है यह कल से में डिफरेंस आ गए जो कि नार्थ इंडियन को साउथ इंडिया में जाकर थोड़ा सहना पड़ता हैVijay Dakshin Bharat Mein Uttar Bhartiya Logon Dwara Anubhav Kiye Jaane Wale Sanskrit Jhatake Bahut Jyada Hai Kyonki Jo Dakshin Bharat Ke Log Hote Hain Agar Hum 5 Din Se Lekar Aa Jaye Uttar Bharat Ke Logon Se To Bahut Hi Jyada Different Aaja Bahut Yaad Aata Hai Dono Mein Kyonki Aisa Kaha Jata Hai Aur Aisa Mana Jata Hai Ki Jo South Indian Se Jyada Intelligent Hote Hain Unka Bahut Hi Jyada Bahut Simple Life Jeete Hain Bahut Simple Sober Lagte Hain Intelligent Hote Hain Unka Hota Hai Ki Kuch Banega Yeh Banaye Aur Bahut Simple Ho Bahut Hi Acchi Tarike Se Uttar Bharatiyon Se Naarth Indian Se To Itni Simple Agar Dekha Jaye To Unko Itni Jyada Knowledge Nahi Hoti Hai Agar Hum Compression Kiya Jaye Waise Aisa Nahi Hai Ki Naarth Indian Post Indian South Indian South India Mein Jaate Hain Tujhe South Indian Se Unke Saath Thoda Waqt Aap Alag Karte Hain Unhen Unke Saath Thoda Discussion Kiya Jata Hai Jisse Agar Vyavhar Ko Lene Ja Rahi Hai Kuch To Unhen Software Dene Se Mana Kar Dega Unhen Thoda Nominate Kiya Jata Hai Yeh Kal Se Mein Difference Aa Gaye Jo Ki Naarth Indian Ko South India Mein Jaakar Thoda Sahana Padata Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीके राम मंदिर मुद्दा हर चुनाव में एक बहुत बड़ा मुद्दा रहा है आप को देखेंगे तो 6 दिसंबर 1992 को जब बाबरी मस्जिद का डेमोलिशन हुआ उसके बाद से यह मुद्दा हर चुनाव में रहा है और हर बार भारतीय जनता पार्टी न...
जवाब पढ़िये
डीके राम मंदिर मुद्दा हर चुनाव में एक बहुत बड़ा मुद्दा रहा है आप को देखेंगे तो 6 दिसंबर 1992 को जब बाबरी मस्जिद का डेमोलिशन हुआ उसके बाद से यह मुद्दा हर चुनाव में रहा है और हर बार भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि हमारी आस्था के विशेष को यह राजनीतिक रुप से नहीं लेना चाहिए सरकार बनेगी हम पूरी कोशिश करेंगे अब आपने देखा 2014 में उनकी सरकार थी लोकसभा में अच्छी मिल जाती थी उसके बाद भी इस द डायरेक्शन में कोई भी कार्य नहीं किया गया तो कहीं ना कहीं भारतीय जनता पार्टी को यह पता है कि अगर राम मंदिर बन गया तो एक जो चुनावी मुद्दा है वह उनके हाथ से चला जाएगा तो कहीं ना कहीं उनको लॉस होगा तो मुझे लगता है इसी वजह से भारतीय जनता पार्टी जानबूझकर राम मंदिर को नहीं बनाना चाहती है क्योंकि 2019 में जब होगा तो फिर उसमें फिर यह मुद्दा एक बार फिर बनवाएंगे पर राज्यसभा में हमारी नंबर सीट कम थी लेकिन इस बार पूरे हो जाएंगे तो फिर बनवाएंगे इन का चुनावी स्टंट है यह अगर प्रेक्टिकली देखेंगे तो मुझे नहीं लगता कि राम मंदिर बनवाने मेंDice Ram Mandir Mudda Har Chunav Mein Ek Bahut Bada Mudda Raha Hai Aap Ko Dekhenge To 6 December 1992 Ko Jab Babari Masjid Ka Demolishan Hua Uske Baad Se Yeh Mudda Har Chunav Mein Raha Hai Aur Har Baar Bhartiya Janta Party Ne Kaha Hai Ki Hamari Aastha Ke Vishesh Ko Yeh Rajnitik Roop Se Nahi Lena Chahiye Sarkar Banegi Hum Puri Koshish Karenge Ab Aapne Dekha 2014 Mein Unki Sarkar Thi Lok Sabha Mein Acchi Mil Jati Thi Uske Baad Bhi Is D Direction Mein Koi Bhi Karya Nahi Kiya Gaya To Kahin Na Kahin Bhartiya Janta Party Ko Yeh Pata Hai Ki Agar Ram Mandir Ban Gaya To Ek Jo Chunavi Mudda Hai Wah Unke Hath Se Chala Jayega To Kahin Na Kahin Unko Loss Hoga To Mujhe Lagta Hai Isi Wajah Se Bhartiya Janta Party Janbujhkar Ram Mandir Ko Nahi Banana Chahti Hai Kyonki 2019 Mein Jab Hoga To Phir Usamen Phir Yeh Mudda Ek Baar Phir Banavaenge Par Rajya Sabha Mein Hamari Number Seat Kum Thi Lekin Is Baar Poore Ho Jaenge To Phir Banavaenge In Ka Chunavi Stunt Hai Yeh Agar Prektikali Dekhenge To Mujhe Nahi Lagta Ki Ram Mandir Banwane Mein
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के आदेश नहीं दिए जो है सबसे अधिक सम्मान को मिलता है सबसे अधिक तुमको करते हैं तो सबसे ज्यादा सम्मान जो है वह अपने देश और अगर सबसे बड़े देशों की बात करते हैं तो सबसे ज्यादा लोग आपको है अमेरिका और कना...
जवाब पढ़िये
आज के आदेश नहीं दिए जो है सबसे अधिक सम्मान को मिलता है सबसे अधिक तुमको करते हैं तो सबसे ज्यादा सम्मान जो है वह अपने देश और अगर सबसे बड़े देशों की बात करते हैं तो सबसे ज्यादा लोग आपको है अमेरिका और कनाडा में मिल जाएंगे भारतीय जो है और वहां पर अच्छे से रहने वालों को आज तक कोई प्रॉब्लम नहीं आई है ऐसा नहीं है कि भारतीय लोग जलते हैं अभी भारतीय लोगों की जो है लोगों को जरूरत है क्योंकि वह लोग को पता है कि भारतीय जो है वह ज्यादा स्किल्ड काम करने की ज्यादा एक्टिव रहते हैंAaj Ke Aadesh Nahi Diye Jo Hai Sabse Adhik Samman Ko Milta Hai Sabse Adhik Tumko Karte Hain To Sabse Zyada Samman Jo Hai Wah Apne Desh Aur Agar Sabse Bade Deshon Ki Baat Karte Hain To Sabse Zyada Log Aapko Hai America Aur Canada Mein Mil Jaenge Bharatiya Jo Hai Aur Wahan Par Acche Se Rehne Walon Ko Aaj Tak Koi Problem Nahi I Hai Aisa Nahi Hai Ki Bharatiya Log Jalate Hain Abhi Bharatiya Logon Ki Jo Hai Logon Ko Zaroorat Hai Kyonki Wah Log Ko Pata Hai Ki Bharatiya Jo Hai Wah Zyada Skilled Kaam Karne Ki Zyada Active Rehte Hain
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरे भारतीय लोग से आप का मतलब गवर्मेंट है तो उनका समर्थन इसमें था या नहीं यह तो नहीं कह सकते...
जवाब पढ़िये
अरे भारतीय लोग से आप का मतलब गवर्मेंट है तो उनका समर्थन इसमें था या नहीं यह तो नहीं कह सकतेArre Bhartiya Log Se Aap Ka Matlab Goverment Hai To Unka Samarthan Isme Tha Ya Nahi Yeh To Nahi Keh Sakte
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी की अग्रिम वैज्ञानिक की खोज अगर हम देखें तो कहा ना कहा पर जिस प्रकार से वैज्ञानिक खोज कर रहे हो जिस प्रकार से उन्होंने कहा कि यूनिवर्स में जो नोट रहे हैं या फिर कैसा ट्रेन ऑफ प्लानेट है और यह चीज ...
जवाब पढ़िये
शादी की अग्रिम वैज्ञानिक की खोज अगर हम देखें तो कहा ना कहा पर जिस प्रकार से वैज्ञानिक खोज कर रहे हो जिस प्रकार से उन्होंने कहा कि यूनिवर्स में जो नोट रहे हैं या फिर कैसा ट्रेन ऑफ प्लानेट है और यह चीज की जो पूछती जो है एक खुद भारतीय लोगों ने जो है बहुत ही वर्षों पहले हम कह सकते हैं पहले ही कर दी थी और भारतीय रविदास ने जो इससे भी ज्यादा प्रेडिक्शन किया था कि 9 से भी ज्यादा जो है ग्रहण या फिर रहा है और यूनिवर्सिटी बहुत ही ज्यादा है तो खाना कहां पर अभी भी के वैज्ञानिक भी यही कह रहा कि मैंने पूजा को कहीं बहुत ही ज्यादा है तू कहना कहां पर हो भारतीय गरम दिखे तो भारतीय संत रविदास ज्योत है उन्होंने इस चीज की पुष्टि की थी और तू कहां कहां पर उन्हें जो है इसके बारे में कैसे पता चला दी क्या करूं ध्यान से देखें तो भारतीय पैदा होते हुए मैडिटेशन योग प्रणायाम जो बहुत करते हो खाना खा पर मैं मेडिटेशन में जो भी यही Discovery कि तुमShadi Ki Agrim Vaigyanik Ki Khoj Agar Hum Dekhen To Kaha Na Kaha Par Jis Prakar Se Vaigyanik Khoj Kar Rahe Ho Jis Prakar Se Unhone Kaha Ki Universe Mein Jo Note Rahe Hain Ya Phir Kaisa Train Of Planet Hai Aur Yeh Cheez Ki Jo Puchti Jo Hai Ek Khud Bhartiya Logon Ne Jo Hai Bahut Hi Varshon Pehle Hum Keh Sakte Hain Pehle Hi Kar Di Thi Aur Bhartiya Ravidas Ne Jo Isse Bhi Jyada Predikshan Kiya Tha Ki 9 Se Bhi Jyada Jo Hai Grahan Ya Phir Raha Hai Aur University Bahut Hi Jyada Hai To Khana Kahan Par Abhi Bhi Ke Vaigyanik Bhi Yahi Keh Raha Ki Maine Puja Ko Kahin Bahut Hi Jyada Hai Tu Kehna Kahan Par Ho Bhartiya Garam Dikhe To Bhartiya Sant Ravidas Jyot Hai Unhone Is Cheez Ki Pushti Ki Thi Aur Tu Kahan Kahan Par Unhen Jo Hai Iske Baare Mein Kaise Pata Chala Di Kya Karun Dhyan Se Dekhen To Bhartiya Paida Hote Hue Meditation Yog Pranayam Jo Bahut Karte Ho Khana Kha Par Main Meditation Mein Jo Bhi Yahi Discovery Ki Tum
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आधी कि जिस प्रकार से सुषमा स्वराज ने लोकसभा में आया हूं कि सकते पार्लिमेंट में सबसे पहले घोषणा की कि आईएसआईएस ने इराक में जो BF आहेत या फिर कैसे थे कितना है पेंशन की हत्या कर दिखाना कपूर भारतीय सरकार ...
जवाब पढ़िये
आधी कि जिस प्रकार से सुषमा स्वराज ने लोकसभा में आया हूं कि सकते पार्लिमेंट में सबसे पहले घोषणा की कि आईएसआईएस ने इराक में जो BF आहेत या फिर कैसे थे कितना है पेंशन की हत्या कर दिखाना कपूर भारतीय सरकार ने यह नियोजन में बहुत ही अधूरी कर दी क्योंकि वह 39 भारतीयों में से एक सवाल पूछा था उन्होंने यह भी कहा था कि उन सारे भारतीय मेरे सामने मारा था फिर भी भारतीय सरकार ने यहां पर सुषमा स्वराज ने जो है और जो भी लोग मरे उनकी फैमिली को इसके बारे में नहीं पता तो कहा ना कहा सरकार इस पर जल्दी से जल्दी कुछ कर सकती थी अगर उन्हें जल्दी से जल्दी न्यूज़ मिल गई थी कि जितने भी भारतीयों को किडनैप किया गया वह मर गए तो खाना खाकर सरकार इस चीज का मदद कर सकती थी फैमिली स्कोर जो भी लोग हैं जिनकी और मर गए उनकी फैमिली स्कोर कम पर सेट कर सकती थी या खाना परम के लिए सुविधाएं बेहतर कर सकते थे उनको देखिए अभी तो भारतीय सरकार ने उन सारे लोगों को एक वोट सोप दे दिया था कि आप के लोग जिंदा है और भारतीय सरकार मदद करिए लेकिन सत्यता की बहुत ही पहले मर गए थे तो खाना खाकर भारतीय सरकार जो है वह अपनी आर्मी इराक में भेज सकते थे और खाना कहां पर है 29 लोगों को बचा सकते थे या फिर वह डिप्लोमेटिक हेल्प ले सकते थे वे Veerana आर्मी को कह सकते थे कि अगर आपको 29 बार देखे तो उसे जल्दी से जल्दी बता लिख बचा लीजिएगा सिर्फ यही नहीं अगर भारत को या फिर भारतीय मिनिस्ट्री वितरण आफिस कोई बात पता चल चुकी थी कि हमें उन चालीसा भारतीय मर गए तो कहां कहां पछता सकता जल्दी आकर उन्होंने उनके परिवारों को बता दिया रहता उतना ही अच्छा होताAadhi Ki Jis Prakar Se Sushma Swaraj Ne Lok Sabha Mein Aaya Hoon Ki Sakte Parliment Mein Sabse Pehle Ghoshana Ki Ki ISIS Ne Iraq Mein Jo BF Ahet Ya Phir Kaise The Kitna Hai Passion Ki Hatya Kar Dikhana Kapur Bhartiya Sarkar Ne Yeh Niyojan Mein Bahut Hi Adhuri Kar Di Kyonki Wah 39 Bharatiyon Mein Se Ek Sawal Poocha Tha Unhone Yeh Bhi Kaha Tha Ki Un Sare Bhartiya Mere Samane Mara Tha Phir Bhi Bhartiya Sarkar Ne Yahan Par Sushma Swaraj Ne Jo Hai Aur Jo Bhi Log Mare Unki Family Ko Iske Baare Mein Nahi Pata To Kaha Na Kaha Sarkar Is Par Jaldi Se Jaldi Kuch Kar Sakti Thi Agar Unhen Jaldi Se Jaldi News Mil Gayi Thi Ki Jitne Bhi Bharatiyon Ko Kidnaip Kiya Gaya Wah Mar Gaye To Khana Khakar Sarkar Is Cheez Ka Madad Kar Sakti Thi Family Score Jo Bhi Log Hain Jinaki Aur Mar Gaye Unki Family Score Kum Par Set Kar Sakti Thi Ya Khana Param Ke Liye Suvidhayen Behtar Kar Sakte The Unko Dekhie Abhi To Bhartiya Sarkar Ne Un Sare Logon Ko Ek Vote Soap De Diya Tha Ki Aap Ke Log Zinda Hai Aur Bhartiya Sarkar Madad Kariye Lekin Satyata Ki Bahut Hi Pehle Mar Gaye The To Khana Khakar Bhartiya Sarkar Jo Hai Wah Apni Army Iraq Mein Bhej Sakte The Aur Khana Kahan Par Hai 29 Logon Ko Bacha Sakte The Ya Phir Wah Diplometik Help Le Sakte The Ve Veerana Army Ko Keh Sakte The Ki Agar Aapko 29 Baar Dekhe To Use Jaldi Se Jaldi Bata Likh Bacha Leejiyegaa Sirf Yahi Nahi Agar Bharat Ko Ya Phir Bhartiya Ministry Vitaran Afis Koi Baat Pata Chal Chuki Thi Ki Hume Un Chalisa Bhartiya Mar Gaye To Kahan Kahan Pachhata Sakta Jaldi Aakar Unhone Unke Parivaro Ko Bata Diya Rehta Utana Hi Accha Hota
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे लगता है मोदी सरकार की यही सबसे बड़ी खामी है कि उनको पहले से पता था कि उन लोगों को मार दिया गया है उसके बाद भी उनके परिवार को इन्फॉर्म नहीं किया गया और दो-तीन सालों बाद 3 सालों बाद लगभग उन्हो...
जवाब पढ़िये
विकी मुझे लगता है मोदी सरकार की यही सबसे बड़ी खामी है कि उनको पहले से पता था कि उन लोगों को मार दिया गया है उसके बाद भी उनके परिवार को इन्फॉर्म नहीं किया गया और दो-तीन सालों बाद 3 सालों बाद लगभग उन्होंने इस बात को संसद में कहा मुझे लगता है कि संसद में कहने की वजह परिवार वालों को अब भी इन्फॉर्म किया जाता तो शायद सिचुएशन को समझा जा सकता था उस को कंट्रोल किया जा सकता था हां मैं समझता हूं कि जिस प्रकार परिवार वालों को पता चला कि संसद से कि उनके परिवार के जो अपने थे वह अब नहीं रहे हैं तो कहीं ना कहीं बहुत ज्यादा दुख हुआ है उन लोगों को और सरकार अब इसमें मुझे नहीं आता ज्यादा कुछ करेगी लेकिन हां अगर सरकार वास्तव में कुछ करना चाहती है तो कम से कम ऐसे परिवारों को जिन्होंने अपनों को खोया है बहुत ज्यादा कंपनसेशन दें ताकि उनकी रोजी चलती रहे और उनको आने वाले समय में कोई ज्यादा तकलीफ ना हो बस यही सरकार कर सकती है इसके अलावा सरकार के पास दूसरा कोई तरीका नहीं जिससे वह अपने आप को माफ कर सकें मुझे लगता है बहुत बड़े कंपनसेशन की आवश्यकता है और उन पर को मिलना चाहिए जिन्होंने अपनों को खोया हैVikee Mujhe Lagta Hai Modi Sarkar Ki Yahi Sabse Badi Khami Hai Ki Unko Pehle Se Pata Tha Ki Un Logon Ko Maar Diya Gaya Hai Uske Baad Bhi Unke Parivar Ko Inform Nahi Kiya Gaya Aur Do Teen Salon Baad 3 Salon Baad Lagbhag Unhone Is Baat Ko Sansad Mein Kaha Mujhe Lagta Hai Ki Sansad Mein Kehne Ki Wajah Parivar Walon Ko Ab Bhi Inform Kiya Jata To Shayad Situation Ko Samjha Ja Sakta Tha Us Ko Control Kiya Ja Sakta Tha Haan Main Samajhata Hoon Ki Jis Prakar Parivar Walon Ko Pata Chala Ki Sansad Se Ki Unke Parivar Ke Jo Apne The Wah Ab Nahi Rahe Hain To Kahin Na Kahin Bahut Zyada Dukh Hua Hai Un Logon Ko Aur Sarkar Ab Isme Mujhe Nahi Aata Zyada Kuch Karegi Lekin Haan Agar Sarkar Vaastav Mein Kuch Karna Chahti Hai To Kam Se Kam Aise Parivaro Ko Jinhone Apnon Ko Khoya Hai Bahut Zyada Kampanaseshan Dein Taki Unki Rozi Chalti Rahe Aur Unko Aane Wali Samay Mein Koi Zyada Takleef Na Ho Bus Yahi Sarkar Kar Sakti Hai Iske Alava Sarkar Ke Paas Doosra Koi Tarika Nahi Jisse Wah Apne Aap Ko Maaf Kar Saken Mujhe Lagta Hai Bahut Bade Kampanaseshan Ki Avashyakta Hai Aur Un Par Ko Milna Chahiye Jinhone Apnon Ko Khoya Hai
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे लगता है कि इससे शर्मनाक बात कुछ और हो नहीं सकती और इस देश की सरकार के लिए शर्मनाक बात नहीं हो सकती क्योंकि इस देश के अंदर पाकिस्तान दिवस कश्मीर में मनाया जा रहा है उसके बाद भी सरकार हाथ पर ...
जवाब पढ़िये
लेकिन मुझे लगता है कि इससे शर्मनाक बात कुछ और हो नहीं सकती और इस देश की सरकार के लिए शर्मनाक बात नहीं हो सकती क्योंकि इस देश के अंदर पाकिस्तान दिवस कश्मीर में मनाया जा रहा है उसके बाद भी सरकार हाथ पर हाथ रख कर बैठी है जिस पर चुनाव से पहले बात की गई कि वह हमारे एक सैनिक को मारेंगे हम उनके दर्शकों को मान्यता सैनिकों के सर लेकर आएंगे और आज आप दिखे कश्मीर का कल क्या हो गया सबसे ज्यादा सैनिक हमारे शहीद हो रहे हैं मैं इस बात को मानता हूं कि आतंकवादी भी मारे जा रहे हैं लेकिन सबसे ज्यादा उसके बाद भी हमारे इतने ज्यादा सैनिक शहीद हो रहे हैं उसके बाद में कश्मीर को कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं और कश्मीर के कुशल अलगाववादी नेता आज दिल्ली में जमा होंगे और वहां पाकिस्तान दिवस को सेलिब्रेट करेंगे तो मुझे लगता है इससे शर्मनाक बात इस देश के लिए उस देश की सरकार के लिए क्या हो सकती है जो देश हमारा सबसे बड़ा दुश्मन उस उस देश के उस देश का पाकिस्तान दिवस आज हमारे देश के लोग सेलिब्रेट कर रहे हैं तो मुझे लगता है इससे शर्मनाक बात नहीं हो सकती और उस सरकार के लिए भी को सरकार के लिए भी बहुत शर्मनाक बात है जो ऐसे एक्शन नहीं ले रही मुझे लगता है ऐसे लोगों को तत्काल अरेस्ट करके जेल भेजना चाहिए उन पर कड़ी से कड़ी धाराओं में केस दर्ज होने चाहिए ताकि ऐसे लोगों को तुरंत फांसी दी जाएLekin Mujhe Lagta Hai Ki Isse Sharmnaak Baat Kuch Aur Ho Nahi Sakti Aur Is Desh Ki Sarkar Ke Liye Sharmnaak Baat Nahi Ho Sakti Kyonki Is Desh Ke Andar Pakistan Divas Kashmir Mein Manaya Ja Raha Hai Uske Baad Bhi Sarkar Hath Par Hath Rakh Kar Baithi Hai Jis Par Chunav Se Pehle Baat Ki Gayi Ki Wah Hamare Ek Sainik Ko Marenge Hum Unke Darshakon Ko Manyata Sainikon Ke Sar Lekar Aayenge Aur Aaj Aap Dikhe Kashmir Ka Kal Kya Ho Gaya Sabse Jyada Sainik Hamare Shahid Ho Rahe Hain Main Is Baat Ko Manata Hoon Ki Aatankwadi Bhi Maare Ja Rahe Hain Lekin Sabse Jyada Uske Baad Bhi Hamare Itne Jyada Sainik Shahid Ho Rahe Hain Uske Baad Mein Kashmir Ko Control Nahi Kar Pa Rahe Hain Aur Kashmir Ke Kushal Algaavvadi Neta Aaj Delhi Mein Jama Honge Aur Wahan Pakistan Divas Ko Celebrate Karenge To Mujhe Lagta Hai Isse Sharmnaak Baat Is Desh Ke Liye Us Desh Ki Sarkar Ke Liye Kya Ho Sakti Hai Jo Desh Hamara Sabse Bada Dushman Us Us Desh Ke Us Desh Ka Pakistan Divas Aaj Hamare Desh Ke Log Celebrate Kar Rahe Hain To Mujhe Lagta Hai Isse Sharmnaak Baat Nahi Ho Sakti Aur Us Sarkar Ke Liye Bhi Ko Sarkar Ke Liye Bhi Bahut Sharmnaak Baat Hai Jo Aise Action Nahi Le Rahi Mujhe Lagta Hai Aise Logon Ko Tatkal Arrest Karke Jail Bhejna Chahiye Un Par Kadi Se Kadi Dharaon Mein Case Darj Hone Chahiye Taki Aise Logon Ko Turant Fansi Di Jaye
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शुभम यह जो 457 वीजा कार्यक्रम है जो रद्द कर दिया गया है सूत्रों के अनुसार उन लोगों होगा जो ऑस्ट्रेलिया में जाकर काम करना चाहते हैं वहां के पहले क्यो + नियम सेविका ने वह काफी इजी थॉट इन एक्सेसिबिलिटी आ...
जवाब पढ़िये
शुभम यह जो 457 वीजा कार्यक्रम है जो रद्द कर दिया गया है सूत्रों के अनुसार उन लोगों होगा जो ऑस्ट्रेलिया में जाकर काम करना चाहते हैं वहां के पहले क्यो + नियम सेविका ने वह काफी इजी थॉट इन एक्सेसिबिलिटी आ भी जा और आज वहां का जो पोजीशन का सरकार के ऊपर से छुपाती है इसका मुझे विरोध करता है क्योंकि इसकी वजह से विदेशों को तो जॉब संभल जा रही थी जाने से पर वहां के रहने वाले ऑस्ट्रेलिया तथ्य जिनसे उनको नौकरी नहीं मिल पा रही थी उतनी इंग्लिश तो आपसे बहुत टफ कर दिया गया है जिसकी आयुष को या फिर जो भी मां किंग है इंग्लिश स्पीकिंग अभिषेक जी को बहुत अच्छी हो या फिर जॉब एपिसोड उसको बहुत अच्छी हो जो बहुत अच्छी मिल रही हो तू ही है अभी तक उन्हें मिल पाएगा तो 22:20 गई है अवेलेबल नहीं होगा उनके लिए ऐसे जो ऑस्ट्रेलिया जीने लगा था कि विदेश जा कर रहे और काम करना बहुत आसान है यह चीज़ खत्म हो जाएगी उसके बाद क्योंकि अब प्रॉब्लम सोलूशंस होंगे और ग्लोबल सर्विसेज के हिसाब से विवाह तो ठंडा हो जाएगा बस्ती में जाकर काम करनाSubham Yeh Jo 457 Visa Karyakram Hai Jo Radd Kar Diya Gaya Hai Sootro Ke Anusar Un Logon Hoga Jo Austrailia Mein Jaakar Kaam Karna Chahte Hain Wahan Ke Pehle Kyon + Niyam Sevika Ne Wah Kafi Easy Thought In Eksesibiliti Aa Bhi Ja Aur Aaj Wahan Ka Jo Position Ka Sarkar Ke Upar Se Chupati Hai Iska Mujhe Virodh Karta Hai Kyonki Iski Wajah Se Videshon Ko To Job Sambhal Ja Rahi Thi Jaane Se Par Wahan Ke Rehne Wale Austrailia Tathya Jinse Unko Naukri Nahi Mil Pa Rahi Thi Utani English To Aapse Bahut Tough Kar Diya Gaya Hai Jiski Aayush Ko Ya Phir Jo Bhi Maa King Hai English Speaking Abhishek Ji Ko Bahut Acchi Ho Ya Phir Job Episode Usko Bahut Acchi Ho Jo Bahut Acchi Mil Rahi Ho Tu Hi Hai Abhi Tak Unhen Mil Payega To 22:20 Gayi Hai Available Nahi Hoga Unke Liye Aise Jo Austrailia Jeene Laga Tha Ki Videsh Ja Kar Rahe Aur Kaam Karna Bahut Aasan Hai Yeh Cheese Khatam Ho Jayegi Uske Baad Kyonki Ab Problem Solushans Honge Aur Global Services Ke Hisab Se Vivah To Thanda Ho Jayega Basti Mein Jaakar Kaam Karna
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जो 39 भारतीय मारे गए हैं अभी रात में हाल ही में आया है कि rss के आतंकवादियों ने भारतीयों को मारा था और यह 4 साल पहले ही मारे जा चुके हैं हालांकि इसमें सरकार की कोई भी दोस्त नहीं है सरकार का दोष क...
जवाब पढ़िये
लिखे जो 39 भारतीय मारे गए हैं अभी रात में हाल ही में आया है कि rss के आतंकवादियों ने भारतीयों को मारा था और यह 4 साल पहले ही मारे जा चुके हैं हालांकि इसमें सरकार की कोई भी दोस्त नहीं है सरकार का दोष केवल इतना है उन्होंने यह जानकारी छुपाई है जिसे छोड़ आया था तो बहुत अच्छी बात है यदि किसी के कोई सरकार का मतलब है ना किसी की कोई भावनाओं का मतलब है वह तो आतंकवादी है वह तो से खेलते हैं और यह गलती नहीं है उनके परिवारजन सरकार के पास जाते थे वही आपके परिवार वाले जिंदा हैं यह बोलते थे और उन से काम ले रहे हैं उनकी मदद कर रहे हैं वापस तो उल्टा मुझे बताने के लिए कि वह मारे जा चुके हैं उन को आश्वस्त करते थे कि वह जिंदा है और उनको बचा कर लाएंगे यह बहुत ही गलत चीज है कि उन्हें अंधेरे में रखा और गलत जानकारी दीLikhe Jo 39 Bhartiya Maare Gaye Hain Abhi Raat Mein Haal Hi Mein Aaya Hai Ki Rss Ke Aatankwadion Ne Bharatiyon Ko Mara Tha Aur Yeh 4 Saal Pehle Hi Maare Ja Chuke Hain Halanki Isme Sarkar Ki Koi Bhi Dost Nahi Hai Sarkar Ka Dosh Kewal Itna Hai Unhone Yeh Jankari Chupai Hai Jise Chod Aaya Tha To Bahut Acchi Baat Hai Yadi Kisi Ke Koi Sarkar Ka Matlab Hai Na Kisi Ki Koi Bhavnao Ka Matlab Hai Wah To Aatankwadi Hai Wah To Se Khelte Hain Aur Yeh Galti Nahi Hai Unke Parivaarjan Sarkar Ke Paas Jaate The Wahi Aapke Parivar Wale Zinda Hain Yeh Bolte The Aur Un Se Kaam Le Rahe Hain Unki Madad Kar Rahe Hain Wapas To Ulta Mujhe Batane Ke Liye Ki Wah Maare Ja Chuke Hain Un Ko Aashvast Karte The Ki Wah Zinda Hai Aur Unko Bacha Kar Layenge Yeh Bahut Hi Galat Cheez Hai Ki Unhen Andhere Mein Rakha Aur Galat Jankari Di
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देहाती अभी हाल ही में ऐसे ही खबर आई है कि जो 39 भारतीयों की मौत हुई थी जो आईएसआईएस ने उनको इराक में जिंदा मार डाला था तो उनको जो है उनकी जो बॉडी पार्ट्स है वह लेने के लिए बी के सिंह जाएंगे वहां पर और ...
जवाब पढ़िये
देहाती अभी हाल ही में ऐसे ही खबर आई है कि जो 39 भारतीयों की मौत हुई थी जो आईएसआईएस ने उनको इराक में जिंदा मार डाला था तो उनको जो है उनकी जो बॉडी पार्ट्स है वह लेने के लिए बी के सिंह जाएंगे वहां पर और उनको बचाने के लिए देखे इतना आसान नहीं है किसी भी कंट्री में या किसी भी तरह से ऑर्गनाइजेशन के खिलाफ एक्शन लेना अगर उसके लिए पूरा प्रॉपर प्लानिंग और फंक्शनिंग ऑफ सपोर्ट की जरूरत होती है हां यह जरूर है लेकिन उसने ऐसा नहीं किया और चुपचाप बैठे रहे और यह अनहोनी जो है हो गई है तो वह मेरे को लगता है कि इसके बदले में सरकार को जरूर कोई ना कोई एक्शन लेना चाहिए ताकि पूरी दुनिया को समझ आ जाएगी जो भारतीय नागरिक हैं उनको अगर छोड़ दिया जाए तो उनके साथ क्या बर्ताव किया जाएगाDehati Abhi Haal Hi Mein Aise Hi Khabar Eye Hai Ki Jo 39 Bharatiyon Ki Maut Hui Thi Jo ISIS Ne Unko Iraq Mein Zinda Maar Dala Tha To Unko Jo Hai Unki Jo Body Parts Hai Wah Lene Ke Liye Be Ke Singh Jaenge Wahan Par Aur Unko Bachane Ke Liye Dekhe Itna Aasan Nahi Hai Kisi Bhi Country Mein Ya Kisi Bhi Tarah Se Organisation Ke Khilaf Action Lena Agar Uske Liye Pura Proper Planning Aur FUNCTIONING Of Support Ki Zaroorat Hoti Hai Haan Yeh Jarur Hai Lekin Usne Aisa Nahi Kiya Aur Chupchap Baithey Rahe Aur Yeh Anahoni Jo Hai Ho Gayi Hai To Wah Mere Ko Lagta Hai Ki Iske Badle Mein Sarkar Ko Jarur Koi Na Koi Action Lena Chahiye Taki Puri Duniya Ko Samajh Aa Jayegi Jo Bhartiya Nagarik Hain Unko Agar Chod Diya Jaye To Unke Saath Kya Bartaav Kiya Jayega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

2014 का चुनाव जीतने के बाद जब से मोदी सरकार बनी है उस वक्त से मुझे लगता है कि भारतीय जनता को नुकसान के अलावा और कोई फायदा नहीं हुआ है मोदी सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया ताकि हमारे देश में जो भ्रष्टाच...
जवाब पढ़िये
2014 का चुनाव जीतने के बाद जब से मोदी सरकार बनी है उस वक्त से मुझे लगता है कि भारतीय जनता को नुकसान के अलावा और कोई फायदा नहीं हुआ है मोदी सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया ताकि हमारे देश में जो भ्रष्टाचार है वह कम हो जाएं लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं हुआ और नोटबंदी के चक्कर में बहुत सारे लोगों ने अपनी जान गवा दी इसके अलावा जब से मोदी सरकार आई है तब से बेरोजगारी की समस्या पहले से भी ज्यादा विकराल रुप ले चुकी है इसके अलावा भ्रष्टाचार के मामले में भी हमारा देश कई पायदान नीचे खिसक चुका है और यह करप्शन इंडेक्स में बताया गया यानी कि हमारे देश में मोदी सरकार के आने के बाद भ्रष्टाचार और बढ़ गया है और इसका उदाहरण है PNB घोटाला SSC स्कैम और अब CBSE पेपर लीक मामला तो यह सारी चीजें हमें यही बताती हैं कि हर एक क्षेत्र में मोदी सरकार के आने के बाद से भ्रष्टाचार में इजाफा हुआ है और इसके लिए मोदी सरकार ही जिम्मेदार है क्योंकि जब मोदी सरकार चुनावी प्रचार कर रही थी 2014 में तो उन्होंने कहा था कि हम हर साल दो करोड़ नौकरियां पैदा करेंगे भ्रष्टाचार को देश से हटा देंगे काला धन वापस लाएंगे और युवाओं को रोजगार देंगे लेकिन ऐसा कोई भी काम मोदी सरकार ने नहीं किया जिससे उनके वादे पूरे हो सके तो इसलिए मुझे लगता है कि मोदी सरकार एक जुमलों की सरकार है और इससे भारतीय जनता को बस नुकसान ही हुआ है और किसानों की हालत जो देश में है वह दिन प्रतिदिन और भी दयनीय होती जा रही है किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं क्योंकि उन्हें उनकी उपज का न्यूनतम मूल्य भी नहीं मिल पाता है और उन्हें बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है तो यह सारी चीजें हमें यही बताती हैं कि मोदी सरकार के आने के बाद से भारतीय जनता को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है महंगाई भी बहुत ज्यादा बढ़ गई है पेट्रोल डीजल और गैस सिलेंडर के दाम की लगातार पढ़ रहे हैं तो फायदा कुछ नहीं हुआ और बस नुकसान ही नुकसान हुआ है2014 Ka Chunav Jitne Ke Baad Jab Se Modi Sarkar Bani Hai Us Waqt Se Mujhe Lagta Hai Ki Bhartiya Janta Ko Nuksan Ke Alava Aur Koi Fayda Nahi Hua Hai Modi Sarkar Ne Notebandi Ka Faisla Liya Taki Hamare Desh Mein Jo Bhrashtachar Hai Wah Kum Ho Jayen Lekin Aisa Bilkul Nahi Hua Aur Notebandi Ke Chakkar Mein Bahut Sare Logon Ne Apni Jaan Gawa Di Iske Alava Jab Se Modi Sarkar Eye Hai Tab Se Berojgari Ki Samasya Pehle Se Bhi Jyada Vikaraal Roop Le Chuki Hai Iske Alava Bhrashtachar Ke Mamle Mein Bhi Hamara Desh Kai Payadan Neeche Khisak Chuka Hai Aur Yeh Corruption Index Mein Bataya Gaya Yani Ki Hamare Desh Mein Modi Sarkar Ke Aane Ke Baad Bhrashtachar Aur Badh Gaya Hai Aur Iska Udaharan Hai PNB Ghotala SSC Scam Aur Ab CBSE Paper Leak Maamla To Yeh Saree Cheezen Hume Yahi Batati Hain Ki Har Ek Kshetra Mein Modi Sarkar Ke Aane Ke Baad Se Bhrashtachar Mein Ijafa Hua Hai Aur Iske Liye Modi Sarkar Hi Zimmedar Hai Kyonki Jab Modi Sarkar Chunavi Prachar Kar Rahi Thi 2014 Mein To Unhone Kaha Tha Ki Hum Har Saal Do Crore Naukriyan Paida Karenge Bhrashtachar Ko Desh Se Hata Denge Kala Dhan Wapas Layenge Aur Yuvaon Ko Rojgar Denge Lekin Aisa Koi Bhi Kaam Modi Sarkar Ne Nahi Kiya Jisse Unke Waade Poore Ho Sake To Isliye Mujhe Lagta Hai Ki Modi Sarkar Ek Jumlon Ki Sarkar Hai Aur Isse Bhartiya Janta Ko Bus Nuksan Hi Hua Hai Aur Kisano Ki Halat Jo Desh Mein Hai Wah Din Pratidin Aur Bhi Dayaniye Hoti Ja Rahi Hai Kisan Aatmahatya Karne Ko Majboor Hain Kyonki Unhen Unki Upaj Ka Nyunatam Mulya Bhi Nahi Mil Pata Hai Aur Unhen Bahut Jyada Nuksan Ho Raha Hai To Yeh Saree Cheezen Hume Yahi Batati Hain Ki Modi Sarkar Ke Aane Ke Baad Se Bhartiya Janta Ko Bahut Jyada Nuksan Hua Hai Mahangai Bhi Bahut Jyada Badh Gayi Hai Petrol Diesel Aur Gas Cylinder Ke Dam Ki Lagatar Padh Rahe Hain To Fayda Kuch Nahi Hua Aur Bus Nuksan Hi Nuksan Hua Hai
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सभी देशों की अपनी परंपराएं होती हैं और उसी प्रकार भारत की भी अपनी परंपरा है जहां हजारों सालों से लोग जमीन पर आसन बिछाकर और अपने हाथों को धोकर साफ करके हाथों से ही खाना खाते हैं और यही हमारी प्रथा भी ह...
जवाब पढ़िये
सभी देशों की अपनी परंपराएं होती हैं और उसी प्रकार भारत की भी अपनी परंपरा है जहां हजारों सालों से लोग जमीन पर आसन बिछाकर और अपने हाथों को धोकर साफ करके हाथों से ही खाना खाते हैं और यही हमारी प्रथा भी है लेकिन जो अन्य देश हैं जैसे कि अमेरिका इंग्लैंड यह सब कंट्रीज जो है वहां पर इस तरह की प्रथम नहीं है और उनकी रीति रिवाज जो है वह भारत से काफी अलग है और इसी वजह से वह चम्मच से कांटे चाकू यह सारी चीजों का इस्तेमाल करके खाना को खाते हैं तो इसलिए मुझे लगता है कि दोनों जगह की जो मान्यताएं हैं जो संस्कृति है वह बिल्कुल अलग है लेकिन अब पूरा जो वर्ल्ड है वह एक तरह से एक ग्लोबल गांव बन चुका है यानी कि ग्लोबलाइजेशन का जमाना है और इसी वजह से सभी लोग एक दूसरे की चीजे सीख रहे हैं और उसे अपना रहे हैं और यही कारण है कि आज भारत में भी हम चम्मच का कांटो का और चाकू का इस्तेमाल करते हैं खाना खाने के लिए जैसे कि अगर हम पिज्जा खाते हैं तो वहां पर अधिकांश लोग चम्मच या फिर कांटे का या फिर चाकू का इस्तेमाल करते हैं तो जब से यह सारी चीजें जो विदेशी हैं वह भारत में आ गई है और काफी प्रचलित हो गई हैं तो हम बाकी चीजों का भी इस्तेमाल करने लगे हैं जैसे कि नूडल्स नूडल्स आमतौर पर चाइनीस या फिर कोरिया जापान इन सारे जगहों का खाना रहा है और अगर कोई व्यक्ति हाथ सैंडल खाने लगेगा कहीं पर बैठकर तो मुझे काफी हास्यास्पद लगेगा तो इसी वजह से हम वहां पर कांटे और चम्मच का प्रयोग करते हैं तो हरी खाने को खाने का एक अपना तरीका है और यह लोगों की पसंद के ऊपर भी डिपेंड करता है तो इसलिए मुझे लगता है कि भारतीय जो लोग हैं वह अपना खाना हाथ से खाना पसंद करते हैं क्योंकि वह शुरू से ऐसे ही करते हैं और यही हमारी परंपरा भी हैSabhi Deshon Ki Apni Paramparaen Hoti Hain Aur Ussi Prakar Bharat Ki Bhi Apni Parampara Hai Jahan Hajaron Salon Se Log Jameen Par Aasan Bichakar Aur Apne Hathon Ko Dhokar Saaf Karke Hathon Se Hi Khana Khate Hain Aur Yahi Hamari Pratha Bhi Hai Lekin Jo Anya Desh Hain Jaise Ki America England Yeh Sab Countries Jo Hai Wahan Par Is Tarah Ki Pratham Nahi Hai Aur Unki Riti Rivaaj Jo Hai Wah Bharat Se Kafi Alag Hai Aur Isi Wajah Se Wah Chammach Se Kante Chaku Yeh Saree Chijon Ka Istemal Karke Khana Ko Khate Hain To Isliye Mujhe Lagta Hai Ki Dono Jagah Ki Jo Manyatae Hain Jo Sanskriti Hai Wah Bilkul Alag Hai Lekin Ab Pura Jo World Hai Wah Ek Tarah Se Ek Global Gav Ban Chuka Hai Yani Ki Globalization Ka Jamana Hai Aur Isi Wajah Se Sabhi Log Ek Dusre Ki Cheeje Seekh Rahe Hain Aur Use Apna Rahe Hain Aur Yahi Kaaran Hai Ki Aaj Bharat Mein Bhi Hum Chammach Ka Kanto Ka Aur Chaku Ka Istemal Karte Hain Khana Khane Ke Liye Jaise Ki Agar Hum Pizza Khate Hain To Wahan Par Adhikaansh Log Chammach Ya Phir Kante Ka Ya Phir Chaku Ka Istemal Karte Hain To Jab Se Yeh Saree Cheezen Jo Videshi Hain Wah Bharat Mein Aa Gayi Hai Aur Kafi Prachalit Ho Gayi Hain To Hum Baki Chijon Ka Bhi Istemal Karne Lage Hain Jaise Ki Noodles Noodles Aamtaur Par Chinese Ya Phir Korea Japan In Sare Jagho Ka Khana Raha Hai Aur Agar Koi Vyakti Hath Sandal Khane Lagega Kahin Par Baithkar To Mujhe Kafi Hasyaspad Lagega To Isi Wajah Se Hum Wahan Par Kante Aur Chammach Ka Prayog Karte Hain To Hari Khane Ko Khane Ka Ek Apna Tarika Hai Aur Yeh Logon Ki Pasand Ke Upar Bhi Depend Karta Hai To Isliye Mujhe Lagta Hai Ki Bhartiya Jo Log Hain Wah Apna Khana Hath Se Khana Pasand Karte Hain Kyonki Wah Shuru Se Aise Hi Karte Hain Aur Yahi Hamari Parampara Bhi Hai
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोसुल में मारे गए 39 भारतीयों के परिवारों के लिए प्रधानमंत्री ने सिर्फ 1000000 रुपए का मुआवजा दिया है और इस ऐलान के बाद मुझे लगता है कि जो परिवार वाले हैं इन मारे गए लोगों के उनके बीच आक्रोश उत्पन्न ज...
जवाब पढ़िये
मोसुल में मारे गए 39 भारतीयों के परिवारों के लिए प्रधानमंत्री ने सिर्फ 1000000 रुपए का मुआवजा दिया है और इस ऐलान के बाद मुझे लगता है कि जो परिवार वाले हैं इन मारे गए लोगों के उनके बीच आक्रोश उत्पन्न जरूर होगा क्योंकि प्रधानमंत्री राहत कोष से उन्हें सिर्फ 1000000 रुपए ही मुआवजा दिया जा रहा है भारतीय सरकार ने इन 39 भारतीयों को बचाने के लिए कोई भी प्रयास नहीं किए अगर उन्होंने समय रहते प्रयास किए होते तो शायद आज यह भारतीय जिंदा होते अपने परिवार वालों के बीच होते मुआवजे से किसी की जिंदगी तो वापस नहीं लाई जा सकती है लेकिन एक कोशिश जरूर हमारी भारतीय सरकार कर सकती थी कि उनके परिवार वालों को थोड़ी राहत पहुंचाएं क्योंकि यह जो लोग थे जो मोसुल में मारे गए वहां पर काम करने के लिए गए थे यानि कि उनकी आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी और यह निचले तबके के लोग थे तो इनके लिए सरकार के लिए सरकार के पास सिर्फ 1000000 रुपए ही देने को और भारत में इतने सारे बड़े-बड़े जो घोटाले हो रहे हैं उनको बैंक बड़े-बड़े लोन दे देती है और वह लोन चुका भी नहीं पाते हैं तो इस तरह से साफ दर्शाता है कि भारतीय सरकार गरीब लोगों के लिए कितना सोचती है उनके प्रति कितनी संवेदनशील है और मुझे यही लगता है कि जो हमारे समाज में निचले तबके के लोग हैं उसके लिए सरकार भी कुछ नहीं करती है और यह साफ यही बताता है कि हमारी सरकार जो है वह अमीरों की उद्योगपतियों की मदद कर रही है और गरीबों के प्रति उसका जो रवैया है वह सही नहीं हैMoshul Mein Maare Gaye 39 Bharatiyon Ke Parivaro Ke Liye Pradhanmantri Ne Sirf 1000000 Rupaiye Ka Muavja Diya Hai Aur Is Elan Ke Baad Mujhe Lagta Hai Ki Jo Parivar Wale Hain In Maare Gaye Logon Ke Unke Beech Aakrosh Utpann Jarur Hoga Kyonki Pradhanmantri Raahat Kosh Se Unhen Sirf 1000000 Rupaiye Hi Muavja Diya Ja Raha Hai Bhartiya Sarkar Ne In 39 Bharatiyon Ko Bachane Ke Liye Koi Bhi Prayas Nahi Kiye Agar Unhone Samay Rehte Prayas Kiye Hote To Shayad Aaj Yeh Bhartiya Zinda Hote Apne Parivar Walon Ke Beech Hote Muaavaje Se Kisi Ki Zindagi To Wapas Nahi Lai Ja Sakti Hai Lekin Ek Koshish Jarur Hamari Bhartiya Sarkar Kar Sakti Thi Ki Unke Parivar Walon Ko Thodi Raahat Paunchaye Kyonki Yeh Jo Log The Jo Moshul Mein Maare Gaye Wahan Par Kaam Karne Ke Liye Gaye The Yani Ki Unki Aarthik Sthiti Itni Acchi Nahi Thi Aur Yeh Neechle Tabake Ke Log The To Inke Liye Sarkar Ke Liye Sarkar Ke Paas Sirf 1000000 Rupaiye Hi Dene Ko Aur Bharat Mein Itne Sare Bade Bade Jo Ghotale Ho Rahe Hain Unko Bank Bade Bade Loan De Deti Hai Aur Wah Loan Chuka Bhi Nahi Paate Hain To Is Tarah Se Saaf Darshaata Hai Ki Bhartiya Sarkar Garib Logon Ke Liye Kitna Sochti Hai Unke Prati Kitni Samvedansheel Hai Aur Mujhe Yahi Lagta Hai Ki Jo Hamare Samaaj Mein Neechle Tabake Ke Log Hain Uske Liye Sarkar Bhi Kuch Nahi Karti Hai Aur Yeh Saaf Yahi Batata Hai Ki Hamari Sarkar Jo Hai Wah Amiron Ki Udyogpatiyon Ki Madad Kar Rahi Hai Aur Garibon Ke Prati Uska Jo Ravaiya Hai Wah Sahi Nahi Hai
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक भूखंड का नाम नहीं है बल्कि उस भूखंड में बसे हुए करोड़ों लोग उनकी संस्कृति उनकी सभ्यता और उनकी रीति-रिवाज उनके इतिहास का नाम भारत है भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसने अतीत में अनेक संस्कृतियों को ब...
जवाब पढ़िये
भारत एक भूखंड का नाम नहीं है बल्कि उस भूखंड में बसे हुए करोड़ों लोग उनकी संस्कृति उनकी सभ्यता और उनकी रीति-रिवाज उनके इतिहास का नाम भारत है भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसने अतीत में अनेक संस्कृतियों को बनते और बिगड़ते हुए देखा है अनेक संस्कृतियां हमारे देश में आई और गीली हो गई नष्ट हो गई परंतु इन सब में हमने अपनी संस्कृति को ना सिर्फ बचाए रखा अभी तो उसे हमेशा सेट भी सिद्ध किया इसी संस्कृति का प्रतिनिधित्व किया कितने ही आक्रमणकारी देखे हैं भारत में और कितने ही शासन भी देखें गुलामी की बेड़ियां भी देखी वह एक बड़ी आबादी वाला देश है वर्तमान में लेकिन आज भी हमारे देश के पास उसकी बहुमूल्य विरासत भारत की संस्कृति महापुरुषों के उच्च विचार विविधता में एकता और धर्मनिरपेक्षता हमारे भारत की पहचान है लेकिन वर्तमान समय में हमने अपनी संकुचित मानसिकता के कारण यूरोप की तुलना में विकास बोर्ड में हम पिछड़ गए हैं इन लोगों ने भारत की गतिशीलता पर भी प्रभाव डाला है पुराने भारत पर नजर डालें तो भारत ने मानसिकता सजगता और तकनीकी कौशल का पुल भंडार था लोगों में रचनात्मक प्रवृत्ति विद्यमान कि लोगों ने प्रकृति और ब्रह्मांड के रहस्य को खोजने का प्रयास किया था जिसके उदाहरण हमारे इतिहास में भरे पड़े हैं लेकिन हमने उन सब को बुलाकर अनुकरण की प्रवृत्ति को अपनाया और इसीलिए आज हम पिछड़ गए हैं हम व्यर्थ के आडंबरों में भ्रमित होकर अपने ज्ञान को ज्ञान को धूमिल कर चुके हैं भारत के विकास पथ को हमने रोक दिया है भारत में व्याप्त निरक्षरता समाज में बढ़ती जाती पाती के भेदभाव ने हमें पीछे धकेल दिया है हमें इन सब को बुलाकर अपने प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को याद कर उन्हें आगे बढ़ना होगा और अपने भारत अपनाBharat Ek Bhukhand Ka Naam Nahi Hai Balki Us Bhukhand Mein Base Hue Karodo Log Unki Sanskriti Unki Sabhyata Aur Unki Riti Rivaaj Unke Itihas Ka Naam Bharat Hai Bharat Ekmatra Aisa Desh Hai Jisne Atit Mein Anek Sanskritiyo Ko Bante Aur Bigadate Hue Dekha Hai Anek Sanskritiyan Hamare Desh Mein Eye Aur Gili Ho Gayi Nasht Ho Gayi Parantu In Sab Mein Humne Apni Sanskriti Ko Na Sirf Bachaye Rakha Abhi To Use Hamesha Set Bhi Siddh Kiya Isi Sanskriti Ka Pratinidhitva Kiya Kitne Hi Aakramanakari Dekhe Hain Bharat Mein Aur Kitne Hi Shasan Bhi Dekhen Gulami Ki Bediyan Bhi Dekhi Wah Ek Badi Aabadi Wala Desh Hai Vartaman Mein Lekin Aaj Bhi Hamare Desh Ke Paas Uski Bahumulya Virasat Bharat Ki Sanskriti Mahapurushon Ke Uccha Vichar Vividhata Mein Ekta Aur Dharmanirapekshata Hamare Bharat Ki Pehchaan Hai Lekin Vartaman Samay Mein Humne Apni Sankuchit Mansikta Ke Kaaran Europe Ki Tulna Mein Vikash Board Mein Hum Pichad Gaye Hain In Logon Ne Bharat Ki Gatisilta Par Bhi Prabhav Dala Hai Purane Bharat Par Nazar Daalein To Bharat Ne Mansikta Sajgta Aur Takniki Kaushal Ka Pool Bhandar Tha Logon Mein Rachnatmak Pravritti Vidyaman Ki Logon Ne Prakriti Aur Brahmand Ke Rahasya Ko Khojne Ka Prayas Kiya Tha Jiske Udaharan Hamare Itihas Mein Bhare Pade Hain Lekin Humne Un Sab Ko Bulakar Anukaran Ki Pravritti Ko Apnaya Aur Isliye Aaj Hum Pichad Gaye Hain Hum Vyarth Ke Aadambaron Mein Bharmit Hokar Apne Gyaan Ko Gyaan Ko Dhumil Kar Chuke Hain Bharat Ke Vikash Path Ko Humne Rok Diya Hai Bharat Mein Vyapt Nirksharta Samaaj Mein Badhti Jati Pati Ke Bhedbhav Ne Hume Piche Dhakal Diya Hai Hume In Sab Ko Bulakar Apne Prachin Sabhyata Aur Sanskriti Ko Yaad Kar Unhen Aage Badhana Hoga Aur Apne Bharat Apna
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon