tag_img

लत

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां सबसे पहली बात तो यह कि बच्चों को मोबाइल से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि पेरेंट्स को मोबाइल से छुटकारा पाना होगा जब आप मोबाइल का इस्तेमाल कम करेंगे तो बच्चे भी कम करेंगे आप किताबें पढ़ी है बच्चे भी साथ में पढ़ने लगेंगे उन्हें लगेगा कि शायद किताबों में बहुत इंटरेस्टिंग बातें होती हैं आप टीवी देखने लगी है बहुत इंटरेस्टिंग चीज होती है बच्चे हमको कॉपी करते हैं क्योंकि जो हम कर रहे होते हैं उन्हें लगता है यह शायद जरूरी है इसमें शायद कुछ इंटरेस्टिंग है अब जिन घरों में मां-बाप काफी किताबें पढ़ते हैं उन दोनों में बच्चे भी पड़ने लगते हैं और जिन घरों में मां-बाप ज्यादा टीवी देख रहे होते हैं वहां तो बच्चे भी टीवी देख रहे होते तो शायद सबसे ज्यादा जरूरत हमें पहले अपने से शुरुआत करने की है बच्चे तो हमारा ही अनुकरण करेंगे
हां सबसे पहली बात तो यह कि बच्चों को मोबाइल से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि पेरेंट्स को मोबाइल से छुटकारा पाना होगा जब आप मोबाइल का इस्तेमाल कम करेंगे तो बच्चे भी कम करेंगे आप किताबें पढ़ी है बच्चे भी साथ में पढ़ने लगेंगे उन्हें लगेगा कि शायद किताबों में बहुत इंटरेस्टिंग बातें होती हैं आप टीवी देखने लगी है बहुत इंटरेस्टिंग चीज होती है बच्चे हमको कॉपी करते हैं क्योंकि जो हम कर रहे होते हैं उन्हें लगता है यह शायद जरूरी है इसमें शायद कुछ इंटरेस्टिंग है अब जिन घरों में मां-बाप काफी किताबें पढ़ते हैं उन दोनों में बच्चे भी पड़ने लगते हैं और जिन घरों में मां-बाप ज्यादा टीवी देख रहे होते हैं वहां तो बच्चे भी टीवी देख रहे होते तो शायद सबसे ज्यादा जरूरत हमें पहले अपने से शुरुआत करने की है बच्चे तो हमारा ही अनुकरण करेंगे
Likes  64  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल भाई जान यह थी कि आप किसी भी नस ए मिल्लत हो गए हो तो बिल्कुल छुड़ाई जा सकती है इसके लिए आपको थोड़ी चाय बना दी थी कि मुझे इस नशे से दूर होना ही वाले को सजा मैसेज से देख लूंगा तो आप जो उसे नशे से दूर जाओगे
Romanized Version
बिल्कुल भाई जान यह थी कि आप किसी भी नस ए मिल्लत हो गए हो तो बिल्कुल छुड़ाई जा सकती है इसके लिए आपको थोड़ी चाय बना दी थी कि मुझे इस नशे से दूर होना ही वाले को सजा मैसेज से देख लूंगा तो आप जो उसे नशे से दूर जाओगेBilkul Bhai Jaan Yeh Thi Ki Aap Kisi Bhi Nas A Millat Ho Gaye Ho To Bilkul Chudai Ja Sakti Hai Iske Liye Aapko Thodi Chai Bana Di Thi Ki Mujhe Is Nashe Se Dur Hona Hi Wali Ko Saja Massage Se Dekh Lunga To Aap Jo Use Nashe Se Dur Jaoge
Likes  9  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको कॉफी और टीका एडिक्शन हो गया और आप उससे बचना चाहते हैं तो सबसे अच्छा तरीका आपके लिए हो सकता है कि आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिए पूरे दिन में जिससे आपको कॉफी और चाय पीने की जरूरत कम पड़ेगी उसके अलावा दूसरा तरीका अगर आप एकदम से नहीं छोड़ पाते हैं तो आप ग्रीन टी यह नीति या फिर लेमन टी शर्ट ट्राई कर सकते हैं क्योंकि यह तीनों बहुत ही अच्छे स्वरुप होते हैं कॉफी और टी से बचने के लिए और प्लस या आपकी हेल्थ के लिए भी बहुत अच्छे होते हैं तो वह अगर आप कॉफी और टीके डिक्शन से बचना चाहते हैं तो यह बहुत अच्छी तरीका है क्या आप इन तीनों का सेवन करें हो सकता है आपको शुरुआत मैंने उनका स्वास्थ पसंद आए परंतु थोड़ी थोड़ी मात्रा में आपका स्वागत को बढ़ा सकते हैं ताकि इन का स्वाद आपको अच्छा लगने लगे और आपका क्या कॉफी का मूल्य
Romanized Version
अगर आपको कॉफी और टीका एडिक्शन हो गया और आप उससे बचना चाहते हैं तो सबसे अच्छा तरीका आपके लिए हो सकता है कि आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिए पूरे दिन में जिससे आपको कॉफी और चाय पीने की जरूरत कम पड़ेगी उसके अलावा दूसरा तरीका अगर आप एकदम से नहीं छोड़ पाते हैं तो आप ग्रीन टी यह नीति या फिर लेमन टी शर्ट ट्राई कर सकते हैं क्योंकि यह तीनों बहुत ही अच्छे स्वरुप होते हैं कॉफी और टी से बचने के लिए और प्लस या आपकी हेल्थ के लिए भी बहुत अच्छे होते हैं तो वह अगर आप कॉफी और टीके डिक्शन से बचना चाहते हैं तो यह बहुत अच्छी तरीका है क्या आप इन तीनों का सेवन करें हो सकता है आपको शुरुआत मैंने उनका स्वास्थ पसंद आए परंतु थोड़ी थोड़ी मात्रा में आपका स्वागत को बढ़ा सकते हैं ताकि इन का स्वाद आपको अच्छा लगने लगे और आपका क्या कॉफी का मूल्यAgar Aapko Coffee Aur Teeka Addiction Ho Gaya Aur Aap Usse Bachana Chahte Hain To Sabse Accha Tarika Aapke Liye Ho Sakta Hai Ki Aap Jyada Se Jyada Pani Pa Poore Din Mein Jisse Aapko Coffee Aur Chai Peene Ki Zaroorat Kum Padegi Uske Alava Doosra Tarika Agar Aap Ekdam Se Nahi Chod Paate Hain To Aap Green T Yeh Niti Ya Phir Lemon T Shirt Try Kar Sakte Hain Kyonki Yeh Teenon Bahut Hi Acche Swarup Hote Hain Coffee Aur T Se Bachane Ke Liye Aur Plus Ya Aapki Health Ke Liye Bhi Bahut Acche Hote Hain To Wah Agar Aap Coffee Aur Tike Dikshan Se Bachana Chahte Hain To Yeh Bahut Acchi Tarika Hai Kya Aap In Teenon Ka Seven Karen Ho Sakta Hai Aapko Shuruvat Maine Unka Svasth Pasand Aaye Parantu Thodi Thodi Matra Mein Aapka Swaagat Ko Badha Sakte Hain Taki In Ka Swaad Aapko Accha Lagne Lage Aur Aapka Kya Coffee Ka Mulya
Likes  5  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप हस्तमैथुन की आदत छोड़नी है तो पहले तो अपने आप को बिजी रखो मतलब कि अपनों को हमेशा बिजी रखना में कहीं ना कहीं कुछ करते रहना वरना कुछ मतलब जो भी आप करते हो करते रहना कि बाहर चल जाना घूमने वगैरह बट उसके बारे में नहीं सोचना और जो वीडियोस मूवी देखनी है बिल्कुल भी जज्बा एग्जिट पोल मूवी जाती है वह बिल्कुल ही देखनी है तो अपने आपको बिजी रखना है तो आप इसको ऐसे छोड़ सकते हो क्या अपने बस सोच लेना कि मैंने नहीं करना तो नहीं करना बस ऐसे आपकी आदत छूट सकती है
Romanized Version
अगर आप हस्तमैथुन की आदत छोड़नी है तो पहले तो अपने आप को बिजी रखो मतलब कि अपनों को हमेशा बिजी रखना में कहीं ना कहीं कुछ करते रहना वरना कुछ मतलब जो भी आप करते हो करते रहना कि बाहर चल जाना घूमने वगैरह बट उसके बारे में नहीं सोचना और जो वीडियोस मूवी देखनी है बिल्कुल भी जज्बा एग्जिट पोल मूवी जाती है वह बिल्कुल ही देखनी है तो अपने आपको बिजी रखना है तो आप इसको ऐसे छोड़ सकते हो क्या अपने बस सोच लेना कि मैंने नहीं करना तो नहीं करना बस ऐसे आपकी आदत छूट सकती हैAgar Aap Hastamaithun Ki Aadat Chhodni Hai To Pehle To Apne Aap Ko Busy Rakho Matlab Ki Apnon Ko Hamesha Busy Rakhna Mein Kahin Na Kahin Kuch Karte Rehna Varana Kuch Matlab Jo Bhi Aap Karte Ho Karte Rehna Ki Bahar Chal Jana Ghoomne Vagairah But Uske Baare Mein Nahi Sochna Aur Jo Videos Movie Dekhani Hai Bilkul Bhi Jajba Exit Pole Movie Jati Hai Wah Bilkul Hi Dekhani Hai To Apne Aapko Busy Rakhna Hai To Aap Isko Aise Chod Sakte Ho Kya Apne Bus Soch Lena Ki Maine Nahi Karna To Nahi Karna Bus Aise Aapki Aadat Chhut Sakti Hai
Likes  4  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

और देखिए अगर आप सेक्स एडिक्ट हो चुके और खाना का पुरा का फुल सेक्स एडिक्शन से बचना ऐ से मुक्ति पाने तो मेरे हिसाब से सबसे पहले अगर आप एक शिक्षक सपोर्ट से मिलते हो या फिर यूरोलॉजी समझते हो या फिर आप एक हैं करो जी से मिलकर अगर आप यह बताते हो कि किस प्रकार से सेक्स एडिक्शन जो है मुझ में है वो मुझे सता दूर बचना है तो खाना कहां पर है वह सारे लोग जब आपकी मदद करेंगे तक पहुंच जाऊं आपकी मदद करेंगे अभी फ्री नहीं अगर हो सके तो अगर खुद को बिजी रखते हो कहां हो या फिर आपके मन पसंदीदा काम कर हां या फिर ड्राइविंग करते हो तो कहो ना कहो पर रखो ध्यान जोड़ सकते हो ठीक है और खाना खा पढ़कर आपका ध्यान से कैसे हटे गा तो फिर आप जो सेक्स एडिक्शन सब बच सकते हो सिर्फ यही नहीं अगर आपका जितना हो सके उतना करो कौन से कौन से गांव जाने की सेक्स एडिक्शन के कौनसे-कौनसे से क्या होता है क्या फिर से पाया जाता है कि अगर आप सेक्सी बहुत ही अर्जेंट हो तो आप की पौड़ी में जो वह पीन भी हो सकता है या फिर अगर मध्य पर पढ़ने के बगैर आप सेक्स कर रहे हो खाना कहां पर
Romanized Version
और देखिए अगर आप सेक्स एडिक्ट हो चुके और खाना का पुरा का फुल सेक्स एडिक्शन से बचना ऐ से मुक्ति पाने तो मेरे हिसाब से सबसे पहले अगर आप एक शिक्षक सपोर्ट से मिलते हो या फिर यूरोलॉजी समझते हो या फिर आप एक हैं करो जी से मिलकर अगर आप यह बताते हो कि किस प्रकार से सेक्स एडिक्शन जो है मुझ में है वो मुझे सता दूर बचना है तो खाना कहां पर है वह सारे लोग जब आपकी मदद करेंगे तक पहुंच जाऊं आपकी मदद करेंगे अभी फ्री नहीं अगर हो सके तो अगर खुद को बिजी रखते हो कहां हो या फिर आपके मन पसंदीदा काम कर हां या फिर ड्राइविंग करते हो तो कहो ना कहो पर रखो ध्यान जोड़ सकते हो ठीक है और खाना खा पढ़कर आपका ध्यान से कैसे हटे गा तो फिर आप जो सेक्स एडिक्शन सब बच सकते हो सिर्फ यही नहीं अगर आपका जितना हो सके उतना करो कौन से कौन से गांव जाने की सेक्स एडिक्शन के कौनसे-कौनसे से क्या होता है क्या फिर से पाया जाता है कि अगर आप सेक्सी बहुत ही अर्जेंट हो तो आप की पौड़ी में जो वह पीन भी हो सकता है या फिर अगर मध्य पर पढ़ने के बगैर आप सेक्स कर रहे हो खाना कहां परAur Dekhie Agar Aap Sex Addict Ho Chuke Aur Khana Ka Pura Ka Full Sex Addiction Se Bachana Ae Se Mukti Pane To Mere Hisab Se Sabse Pehle Agar Aap Ek Shikshak Support Se Milte Ho Ya Phir Yurolaji Samajhte Ho Ya Phir Aap Ek Hain Karo Ji Se Milkar Agar Aap Yeh Batatey Ho Ki Kis Prakar Se Sex Addiction Jo Hai Mujh Mein Hai Vo Mujhe Sataa Dur Bachana Hai To Khana Kahan Par Hai Wah Sare Log Jab Aapki Madad Karenge Tak Pahunch Jaun Aapki Madad Karenge Abhi Free Nahi Agar Ho Sake To Agar Khud Ko Busy Rakhate Ho Kahan Ho Ya Phir Aapke Man Pasandida Kaam Kar Haan Ya Phir Driving Karte Ho To Kaho Na Kaho Par Rakho Dhyan Jod Sakte Ho Theek Hai Aur Khana Kha Padhakar Aapka Dhyan Se Kaise Hate Ga To Phir Aap Jo Sex Addiction Sab Bach Sakte Ho Sirf Yahi Nahi Agar Aapka Jitna Ho Sake Utana Karo Kaun Se Kaun Se Gav Jaane Ki Sex Addiction Ke Kaunse Kaunse Se Kya Hota Hai Kya Phir Se Paya Jata Hai Ki Agar Aap Sexy Bahut Hi Urgent Ho To Aap Ki Podi Mein Jo Wah Pin Bhi Ho Sakta Hai Ya Phir Agar Madhya Par Padhne Ke Bagair Aap Sex Kar Rahe Ho Khana Kahan Par
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुर्गा पूजा में बहुत मन लगता है और आपके अंदर बहुत ही आलस भरा हुआ है मोबाइल की लत छूट नहीं दी है पढ़ाई कैसे करें आप यह सोच रहे हैं और आप घर से दूर रूम लेकर रहते हैं और पढ़ाई करने के लिए उपलब्ध आप अपने कठिन परिश्रम कठिन मेहनत देना होगा दोनों के लिए टाइम निकालना बहुत ही मुश्किल होती है जितना समय आप मोबाइल पर सेंड करें ताकि आप अपनी पढ़ाई को सेंड करेंगे तो अपने फ्यूचर अपने कैरियर पर ध्यान देंगे और आप आएंगे तो प्यार नहीं करेंगे ज्यादा चांदी पाएंगे पाएंगे
Romanized Version
दुर्गा पूजा में बहुत मन लगता है और आपके अंदर बहुत ही आलस भरा हुआ है मोबाइल की लत छूट नहीं दी है पढ़ाई कैसे करें आप यह सोच रहे हैं और आप घर से दूर रूम लेकर रहते हैं और पढ़ाई करने के लिए उपलब्ध आप अपने कठिन परिश्रम कठिन मेहनत देना होगा दोनों के लिए टाइम निकालना बहुत ही मुश्किल होती है जितना समय आप मोबाइल पर सेंड करें ताकि आप अपनी पढ़ाई को सेंड करेंगे तो अपने फ्यूचर अपने कैरियर पर ध्यान देंगे और आप आएंगे तो प्यार नहीं करेंगे ज्यादा चांदी पाएंगे पाएंगेDurga Puja Mein Bahut Man Lagta Hai Aur Aapke Andar Bahut Hi Aalas Bhara Hua Hai Mobile Ki Lat Chhut Nahi Di Hai Padhai Kaise Karen Aap Yeh Soch Rahe Hain Aur Aap Ghar Se Dur Room Lekar Rehte Hain Aur Padhai Karne Ke Liye Uplabdha Aap Apne Kathin Parishram Kathin Mehnat Dena Hoga Dono Ke Liye Time Nikalna Bahut Hi Mushkil Hoti Hai Jitna Samay Aap Mobile Par Send Karen Taki Aap Apni Padhai Ko Send Karenge To Apne Future Apne Carrier Par Dhyan Denge Aur Aap Aayenge To Pyar Nahi Karenge Jyada Chaandi Paenge Paenge
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरे किसी व्यक्ति की शराब की लत कैंसर सबसे पहले आप यह मोटिवेट कर सकते हैं यह बोलने के लिए शराब से क्या नुकसान है आप यह बोल सकते हैं लेकिन अब तक कोई व्यक्ति खुद से नहीं चाहेगा क्योंकि शराब छोड़ने का कोई भी चाहे तो नहीं छुड़वा सकता है ठीक है तो वह चीज अंदर से आने चाहिए कि हां सर आप अच्छा नहीं है मतलब उनके लिए हानिकारक है इससे भी चीज अगर आती है तो आपको छोड़ सकते हैं या फिर चाहे तो अगर वह बहुत सारे मेडिटेशन सेंटर होता है जहां पर नशा मुक्ति केंद्र जहां पर वह शराब की लत जो छुड़वा सकते हैं
Romanized Version
अरे किसी व्यक्ति की शराब की लत कैंसर सबसे पहले आप यह मोटिवेट कर सकते हैं यह बोलने के लिए शराब से क्या नुकसान है आप यह बोल सकते हैं लेकिन अब तक कोई व्यक्ति खुद से नहीं चाहेगा क्योंकि शराब छोड़ने का कोई भी चाहे तो नहीं छुड़वा सकता है ठीक है तो वह चीज अंदर से आने चाहिए कि हां सर आप अच्छा नहीं है मतलब उनके लिए हानिकारक है इससे भी चीज अगर आती है तो आपको छोड़ सकते हैं या फिर चाहे तो अगर वह बहुत सारे मेडिटेशन सेंटर होता है जहां पर नशा मुक्ति केंद्र जहां पर वह शराब की लत जो छुड़वा सकते हैंArre Kisi Vyakti Ki Sharab Ki Lat Cancer Sabse Pehle Aap Yeh Motivate Kar Sakte Hain Yeh Bolne Ke Liye Sharab Se Kya Nuksan Hai Aap Yeh Bol Sakte Hain Lekin Ab Tak Koi Vyakti Khud Se Nahi Chahega Kyonki Sharab Chodane Ka Koi Bhi Chahe To Nahi Chudva Sakta Hai Theek Hai To Wah Cheez Andar Se Aane Chahiye Ki Haan Sar Aap Accha Nahi Hai Matlab Unke Liye Haanikarak Hai Isse Bhi Cheez Agar Aati Hai To Aapko Chod Sakte Hain Ya Phir Chahe To Agar Wah Bahut Sare Meditation Center Hota Hai Jahan Par Nasha Mukti Kendra Jahan Par Wah Sharab Ki Lat Jo Chudva Sakte Hain
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon
यह एक खेल है जो कि इंटरनेट के माध्यम से मोबाइल पर खेला जाता है आजकल इसकी लत बहुत ही खेल रही है
Romanized Version
यह एक खेल है जो कि इंटरनेट के माध्यम से मोबाइल पर खेला जाता है आजकल इसकी लत बहुत ही खेल रही हैYeh Ek Khel Hai Jo Ki Internet Ke Maadhyam Se Mobile Par Khela Jata Hai Aajkal Iski Lat Bahut Hi Khel Rahi Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल की लत छोड़ना जरूरी है क्योंकि यह बहुत हानिकारक है
Romanized Version
मोबाइल की लत छोड़ना जरूरी है क्योंकि यह बहुत हानिकारक हैMobile Ki Lat Chodna Zaroori Hai Kyonki Yeh Bahut Haanikarak Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
यह अनदेखा नहीं है सभी को इसके बारे में पता है और जहां तक देखा जाए तो वह अच्छा है
Romanized Version
यह अनदेखा नहीं है सभी को इसके बारे में पता है और जहां तक देखा जाए तो वह अच्छा हैYeh Andekha Nahi Hai Sabhi Ko Iske Baare Mein Pata Hai Aur Jahan Tak Dekha Jaye To Wah Accha Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

DJ यह तो रात होती है बहुत बुरी लत होती है क्योंकि इससे आपके जिंदगी पर काफी बुरा प्रभाव पड़ सकता है काफी चीजें नहीं कर पाते हैं और आप काफी अनजाने में आप काफी बड़ी गलतियां कर सकते हैं मुश्किलों को संभालना बहुत जरूरी है अगर आप सुरक्षित जीना चाहते हैं तो मुझे लगता है कि आप अगर चाहे तो आप अपना नेट अनलिमिटेड रख दिया क्या वह साहिद को ब्लॉक कर दें जिन को पिक सेवा कर सके जिससे आपको काफी ज्यादा फायदा होगा तो आपको मैसेज को ब्लॉक कर देना चाहिए अपने माइंड से आपको देखिए कहीं घूमने जाना चाहिए जिससे आप इस चीज से बाहर निकलें
Romanized Version
DJ यह तो रात होती है बहुत बुरी लत होती है क्योंकि इससे आपके जिंदगी पर काफी बुरा प्रभाव पड़ सकता है काफी चीजें नहीं कर पाते हैं और आप काफी अनजाने में आप काफी बड़ी गलतियां कर सकते हैं मुश्किलों को संभालना बहुत जरूरी है अगर आप सुरक्षित जीना चाहते हैं तो मुझे लगता है कि आप अगर चाहे तो आप अपना नेट अनलिमिटेड रख दिया क्या वह साहिद को ब्लॉक कर दें जिन को पिक सेवा कर सके जिससे आपको काफी ज्यादा फायदा होगा तो आपको मैसेज को ब्लॉक कर देना चाहिए अपने माइंड से आपको देखिए कहीं घूमने जाना चाहिए जिससे आप इस चीज से बाहर निकलेंDJ Yeh To Raat Hoti Hai Bahut Buri Lat Hoti Hai Kyonki Isse Aapke Zindagi Par Kafi Bura Prabhav Padh Sakta Hai Kafi Cheezen Nahi Kar Paate Hain Aur Aap Kafi Anjane Mein Aap Kafi Badi Galtiya Kar Sakte Hain Mushkilon Ko Sambhalana Bahut Zaroori Hai Agar Aap Surakshit Jeena Chahte Hain To Mujhe Lagta Hai Ki Aap Agar Chahe To Aap Apna Net Unlimited Rakh Diya Kya Wah Sahid Ko Block Kar Dein Jin Ko Pic Seva Kar Sake Jisse Aapko Kafi Jyada Fayda Hoga To Aapko Massage Ko Block Kar Dena Chahiye Apne Mind Se Aapko Dekhie Kahin Ghoomne Jana Chahiye Jisse Aap Is Cheez Se Bahar Nikalein
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन का ओवरयूज सामाजिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। [11] सामाजिक संपादित करें एक सामाजिक वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य से समकालीन समाज पर मोबाइल फोन का एक बड़ा प्रभाव है। अपनी 2017 पुस्तक में निरंतर संपर्क में: मोबाइल संचार, निजी वार्ता, सार्वजनिक प्रदर्शन [12] लेखक जेम्स कैट्ज़ लिखते हैं: "वे [मोबाइल फोन] ने सामाजिक प्रथाओं को बदल दिया है और जिस तरह से हम व्यवसाय करते हैं, बदलते हैं, फिर भी आश्चर्य की बात है कि हमारे पास थोड़ा धारणा है हमारे [जीवन] में उनके प्रभाव पर। " कुछ लोग साइबरनेटिक वाले लोगों के साथ आमने-सामने बातचीत कर रहे हैं। नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक लिसा मेर्लो कहते हैं, "कुछ रोगी आंखों के संपर्क या पार्टी में अन्य इंटरैक्शन से बचने के लिए फोन पर बात करने या ऐप के साथ बेवकूफ होने का नाटक करते हैं।" [13] गैज़ेल द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में, "25% से अधिक उत्तरदाताओं ने बताया कि जब वे भोजन के दौरान या पार्टी के दौरान सामाजिक सेटिंग में रहते हैं, तो वे लगभग हमेशा अपने स्मार्टफोन का उपयोग करते हैं। इसके अलावा, 58% ने कहा कि वे इन सेटिंग्स के दौरान इसे 'आमतौर पर' या 'कभी-कभी' इस्तेमाल करते हैं। "[14] इसके अलावा, उठने के एक घंटे के भीतर सुबह 70% अपने फोन की जांच करें। बिस्तर पर जाने से पहले 56% अपने फोन की जांच करें। 48% सप्ताहांत में अपने फोन की जांच करें। छुट्टी के दौरान 51% लगातार अपने फोन की जांच करें। 44% ने बताया कि अगर वे एक सप्ताह के भीतर अपने फोन से बातचीत नहीं करते हैं तो वे बहुत चिंतित और चिड़चिड़ाहट महसूस करेंगे। [15] चेरी टर्कले द्वारा आमने-सामने-पाठ-पाठ-आधारित वार्तालाप में शैली में यह बदलाव भी देखा गया है। उनके काम से कनेक्टिविटी को संचार के संबंध में सामाजिक व्यवहार में बदलाव के एक महत्वपूर्ण ट्रिगर के रूप में बताया गया है; [16] इसलिए, संचार का यह अनुकूलन केवल फोन द्वारा ही नहीं होता है। अपनी पुस्तक, अकेले टुगदर: व्हाई वी एक्सपेक्ट मोर टेक्नोलॉजी एंड कम से एक दूसरे से, तुर्कल का तर्क है कि अब हम खुद को "निरंतर सह-उपस्थिति" की स्थिति में पाते हैं। [17] इसका मतलब है कि डिजिटल संचार दो की घटनाओं की अनुमति देता है या एक ही स्थान और समय में अधिक वास्तविकताओं। इसके बाद, हम "निरंतर आंशिक ध्यान की दुनिया" में भी रहते हैं, [17] आने वाली जानकारी के कई स्रोतों पर एक साथ ध्यान देने की प्रक्रिया, लेकिन एक सतही स्तर पर। ईमेल, ग्रंथों, संदेशों की एक बहुतायत के साथ बमबारी, हम न केवल अपने मानव विशेषताओं या व्यक्तित्व के लोगों को विभाजित करते हैं, बल्कि उन्हें डिजिटल इकाइयों के रूप में तेजी से इलाज करते हैं। इसे अक्सर depersonalization के रूप में जाना जाता है। [18]
Romanized Version
मोबाइल फोन का ओवरयूज सामाजिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। [11] सामाजिक संपादित करें एक सामाजिक वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य से समकालीन समाज पर मोबाइल फोन का एक बड़ा प्रभाव है। अपनी 2017 पुस्तक में निरंतर संपर्क में: मोबाइल संचार, निजी वार्ता, सार्वजनिक प्रदर्शन [12] लेखक जेम्स कैट्ज़ लिखते हैं: "वे [मोबाइल फोन] ने सामाजिक प्रथाओं को बदल दिया है और जिस तरह से हम व्यवसाय करते हैं, बदलते हैं, फिर भी आश्चर्य की बात है कि हमारे पास थोड़ा धारणा है हमारे [जीवन] में उनके प्रभाव पर। " कुछ लोग साइबरनेटिक वाले लोगों के साथ आमने-सामने बातचीत कर रहे हैं। नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक लिसा मेर्लो कहते हैं, "कुछ रोगी आंखों के संपर्क या पार्टी में अन्य इंटरैक्शन से बचने के लिए फोन पर बात करने या ऐप के साथ बेवकूफ होने का नाटक करते हैं।" [13] गैज़ेल द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में, "25% से अधिक उत्तरदाताओं ने बताया कि जब वे भोजन के दौरान या पार्टी के दौरान सामाजिक सेटिंग में रहते हैं, तो वे लगभग हमेशा अपने स्मार्टफोन का उपयोग करते हैं। इसके अलावा, 58% ने कहा कि वे इन सेटिंग्स के दौरान इसे 'आमतौर पर' या 'कभी-कभी' इस्तेमाल करते हैं। "[14] इसके अलावा, उठने के एक घंटे के भीतर सुबह 70% अपने फोन की जांच करें। बिस्तर पर जाने से पहले 56% अपने फोन की जांच करें। 48% सप्ताहांत में अपने फोन की जांच करें। छुट्टी के दौरान 51% लगातार अपने फोन की जांच करें। 44% ने बताया कि अगर वे एक सप्ताह के भीतर अपने फोन से बातचीत नहीं करते हैं तो वे बहुत चिंतित और चिड़चिड़ाहट महसूस करेंगे। [15] चेरी टर्कले द्वारा आमने-सामने-पाठ-पाठ-आधारित वार्तालाप में शैली में यह बदलाव भी देखा गया है। उनके काम से कनेक्टिविटी को संचार के संबंध में सामाजिक व्यवहार में बदलाव के एक महत्वपूर्ण ट्रिगर के रूप में बताया गया है; [16] इसलिए, संचार का यह अनुकूलन केवल फोन द्वारा ही नहीं होता है। अपनी पुस्तक, अकेले टुगदर: व्हाई वी एक्सपेक्ट मोर टेक्नोलॉजी एंड कम से एक दूसरे से, तुर्कल का तर्क है कि अब हम खुद को "निरंतर सह-उपस्थिति" की स्थिति में पाते हैं। [17] इसका मतलब है कि डिजिटल संचार दो की घटनाओं की अनुमति देता है या एक ही स्थान और समय में अधिक वास्तविकताओं। इसके बाद, हम "निरंतर आंशिक ध्यान की दुनिया" में भी रहते हैं, [17] आने वाली जानकारी के कई स्रोतों पर एक साथ ध्यान देने की प्रक्रिया, लेकिन एक सतही स्तर पर। ईमेल, ग्रंथों, संदेशों की एक बहुतायत के साथ बमबारी, हम न केवल अपने मानव विशेषताओं या व्यक्तित्व के लोगों को विभाजित करते हैं, बल्कि उन्हें डिजिटल इकाइयों के रूप में तेजी से इलाज करते हैं। इसे अक्सर depersonalization के रूप में जाना जाता है। [18]Mobile Phone Ka Ovarayuj Samajik Aur Manovaigyanik Swasthya Aur Swasthya Ko Prabhavit Kar Sakta Hai Samajik Sanpadit Karen Ek Samajik Vaigyanik Pariprekshya Se Samkalin Samaaj Par Mobile Phone Ka Ek Bada Prabhav Hai Apni 2017 Pustak Mein Nirantar Sampark Mein Mobile Sanchar Niji Varta Sarvajanik Pradarshan [12] Lekhak Jems Kaitz Likhte Hain Ve Mobile Phone Ne Samajik Prathaon Ko Badal Diya Hai Aur Jis Tarah Se Hum Vyavasaya Karte Hain Badalte Hain Phir Bhi Aashcharya Ki Baat Hai Ki Hamare Paas Thoda Dharan Hai Hamare Jeevan Mein Unke Prabhav Par Kuch Log Saibaranetik Wale Logon Ke Saath Amane Samane Batchit Kar Rahe Hain Naidanik Manovaigyanik Lisa Merlo Kehte Hain Kuch Rogi Aakhon Ke Sampark Ya Party Mein Anya Interaction Se Bachane Ke Liye Phone Par Baat Karne Ya App Ke Saath Bewakoof Hone Ka Natak Karte Hain [13] Gaizel Dwara Kiye Gaye Ek Sarvekshad Mein "25% Se Adhik Uttaradataon Ne Bataya Ki Jab Ve Bhojan Ke Dauran Ya Party Ke Dauran Samajik Setting Mein Rehte Hain To Ve Lagbhag Hamesha Apne Smartphone Ka Upyog Karte Hain Iske Alava 58% Ne Kaha Ki Ve In Settings Ke Dauran Ise Aamtaur Par Ya Kabhi Kabhi Istemal Karte Hain "[14] Iske Alava Uthane Ke Ek Ghante Ke Bheetar Subah 70% Apne Phone Ki Janch Karen Bistar Par Jaane Se Pehle 56% Apne Phone Ki Janch Karen Saptahant Mein Apne Phone Ki Janch Karen Chutti Ke Dauran 51% Lagatar Apne Phone Ki Janch Karen Ne Bataya Ki Agar Ve Ek Saptah Ke Bheetar Apne Phone Se Batchit Nahi Karte Hain To Ve Bahut Chintit Aur Chidchidahat Mahsus Karenge Cherry Tarkale Dwara Amane Samane Path Path Aadharit Vartalaap Mein Shaili Mein Yeh Badlav Bhi Dekha Gaya Hai Unke Kaam Se Connectivity Ko Sanchar Ke Sambandh Mein Samajik Vyavhar Mein Badlav Ke Ek Mahatvapurna Trigger Ke Roop Mein Bataya Gaya Hai [16] Isliye Sanchar Ka Yeh Anukulan Kewal Phone Dwara Hi Nahi Hota Hai Apni Pustak Akele Tugadar Why V Expect More Technology End Kum Se Ek Dusre Se Turkal Ka Tark Hai Ki Ab Hum Khud Ko Nirantar Sah Upasthitee Ki Sthiti Mein Paate Hain [17] Iska Matlab Hai Ki Digital Sanchar Do Ki Ghatnaon Ki Anumati Deta Hai Ya Ek Hi Sthan Aur Samay Mein Adhik Vastaviktaon Iske Baad Hum Nirantar Aashik Dhyan Ki Duniya Mein Bhi Rehte Hain [17] Aane Wali Jankari Ke Kai Shroton Par Ek Saath Dhyan Dene Ki Prakriya Lekin Ek Sethi Sthar Par Email Granthon Sandeshon Ki Ek Bahutayat Ke Saath Bamabari Hum N Kewal Apne Manav Visheshtaon Ya Vyaktitva Ke Logon Ko Vibhajit Karte Hain Balki Unhen Digital Ikaeyon Ke Roop Mein Teji Se Ilaj Karte Hain Ise Aksar Depersonalization Ke Roop Mein Jana Jata Hai [18]
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Se Alag Hone Par Chinta Ya Paryapt Signal Par Bhi Badhotari Ho Sakti Hai Mobile Phone Ovarayuj Ka Prasaar Mukhya Roop Se Paribhasha Par Nirbhar Karta Hai Aur Is Prakar Scale Ka Upyog Kisi Vishay Ke Vyavhar Ko Maapne Ke Liye Kiya Jata Hai Do Taraju Upyog Mein Hain Item Swayam Report Ki Samasya Nivaran Mobile Phone Piyuemapi Paimane [5] Aur Mobile Phone Samasya Ka Upyog Scale Emapipiyues Jo Vayask Aur Kishore Dono Aabadi Ke Saath Upyog Kiya Gaya Hai Scale Aur Paribhashaon Ke Anusar Samasyagrast Roop Se Prabhavit Aabadi Ki Aayu Ling Aur Pratishat Mein Bhinnataen Hain 11-14 Aayu Varg Ke British Kishoron Ke Beech Prasaar 10% Tha [6] Bharat Mein Is Aayu Varg Ke Liye 39-44% Par Vyasan Kaha Gaya Hai [2] Vibhinn Naidanik Maandandon Ke Tahat Anumaneet Prasaar 0 Se 38% Tak Hai Jisme Mobile Phone Ki Lat Ke Swayam Etribyushan Swayam Adhyayanon Mein Anumaneet Prasaar Se Adhik Hai [7] Korea Mein Internet Vyasan Ki Sambandhit Samasya Ka Prasaar 4.9-10.7% Tha Aur Ab Ise Gambhir Sarvajanik Swasthya Samasya Mana Jata Hai Mobile Phone Ki Lat Se Jude Vyavhar Ling Ke Beech Bhinn Hote Hain [9] Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Adhik Sambhavna Hai Purushon Ki Tulna Mein Purushon Ko Kum Samajik Tanaav Ka Anubhav Hota Hai Aur Samajik Udyeshwo Ke Liye Apne Mobile Phone Ka Upyog Kum Karte Hain Vibhinn Samajik Upyog Tanaav Aur Adhik Aatm Viniyaman Ke Kaaran Vriddh Logon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Sambhavna Kum Hoti Hai [
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [1
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [1Mobile Phone Ovarayuj Ka Prasaar Mukhya Roop Se Paribhasha Par Nirbhar Karta Hai Aur Is Prakar Scale Ka Upyog Kisi Vishay Ke Vyavhar Ko Maapne Ke Liye Kiya Jata Hai Do Taraju Upyog Mein Hain Item Swayam Report Ki Samasya Nivaran Mobile Phone Piyuemapi Paimane [5] Aur Mobile Phone Samasya Ka Upyog Scale Emapipiyues Jo Vayask Aur Kishore Dono Aabadi Ke Saath Upyog Kiya Gaya Hai Scale Aur Paribhashaon Ke Anusar Samasyagrast Roop Se Prabhavit Aabadi Ki Aayu Ling Aur Pratishat Mein Bhinnataen Hain 11-14 Aayu Varg Ke British Kishoron Ke Beech Prasaar 10% Tha [6] Bharat Mein Is Aayu Varg Ke Liye 39-44% Par Vyasan Kaha Gaya Hai [2] Vibhinn Naidanik Maandandon Ke Tahat Anumaneet Prasaar 0 Se 38% Tak Hai Jisme Mobile Phone Ki Lat Ke Swayam Etribyushan Swayam Adhyayanon Mein Anumaneet Prasaar Se Adhik Hai [7] Korea Mein Internet Vyasan Ki Sambandhit Samasya Ka Prasaar 4.9-10.7% Tha Aur Ab Ise Gambhir Sarvajanik Swasthya Samasya Mana Jata Hai Mobile Phone Ki Lat Se Jude Vyavhar Ling Ke Beech Bhinn Hote Hain [9] Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Adhik Sambhavna Hai Purushon Ki Tulna Mein Purushon Ko Kum Samajik Tanaav Ka Anubhav Hota Hai Aur Samajik Udyeshwo Ke Liye Apne Mobile Phone Ka Upyog Kum Karte Hain Vibhinn Samajik Upyog Tanaav Aur Adhik Aatm Viniyaman Ke Kaaran Vriddh Logon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Sambhavna Kum Hoti Hai [1
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Ya Paryapt Signal Se Alag Hone Par Chinta Badh Sakti Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [1
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [1Mobile Phone Ovarayuj Ka Prasaar Mukhya Roop Se Paribhasha Par Nirbhar Karta Hai Aur Is Prakar Scale Ka Upyog Kisi Vishay Ke Vyavhar Ko Maapne Ke Liye Kiya Jata Hai Do Taraju Upyog Mein Hain Item Swayam Report Ki Samasya Nivaran Mobile Phone Piyuemapi Paimane [5] Aur Mobile Phone Samasya Ka Upyog Scale Emapipiyues Jo Vayask Aur Kishore Dono Aabadi Ke Saath Upyog Kiya Gaya Hai Scale Aur Paribhashaon Ke Anusar Samasyagrast Roop Se Prabhavit Aabadi Ki Aayu Ling Aur Pratishat Mein Bhinnataen Hain 11-14 Aayu Varg Ke British Kishoron Ke Beech Prasaar 10% Tha [6] Bharat Mein Is Aayu Varg Ke Liye 39-44% Par Vyasan Kaha Gaya Hai [2] Vibhinn Naidanik Maandandon Ke Tahat Anumaneet Prasaar 0 Se 38% Tak Hai Jisme Mobile Phone Ki Lat Ke Swayam Etribyushan Swayam Adhyayanon Mein Anumaneet Prasaar Se Adhik Hai [7] Korea Mein Internet Vyasan Ki Sambandhit Samasya Ka Prasaar 4.9-10.7% Tha Aur Ab Ise Gambhir Sarvajanik Swasthya Samasya Mana Jata Hai Mobile Phone Ki Lat Se Jude Vyavhar Ling Ke Beech Bhinn Hote Hain [9] Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Adhik Sambhavna Hai Purushon Ki Tulna Mein Purushon Ko Kum Samajik Tanaav Ka Anubhav Hota Hai Aur Samajik Udyeshwo Ke Liye Apne Mobile Phone Ka Upyog Kum Karte Hain Vibhinn Samajik Upyog Tanaav Aur Adhik Aatm Viniyaman Ke Kaaran Vriddh Logon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Sambhavna Kum Hoti Hai [1
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
स्मार्टफोन की लत के कुछ प्रमुख संकेतों और लक्षणों में शामिल हैं: सहनशीलता। प्रत्याहार। स्मार्टफ़ोन उपयोग पर वापस कटौती करने में विफल प्रयास। मोबाइल फोन का उपयोग करते समय समय का ट्रैक खो देता है। अवांछित भावनाओं से निपटने के लिए सेल फोन का उपयोग करता है। पाठ गर्दन डिजिटल आंख तनाव। सेल फोन लत के लक्षणों और लक्षणों के बारे में और जानें किशोर और सेल फोन लत अपने सेल फोन पर किशोर एक सेल फोन की लत विकसित करने के लिए बेहद कमजोर हैं। मानव मस्तिष्क लगभग 25 वर्ष तक पूरी तरह से विकसित नहीं होता है। किशोरावस्था जो अपने स्मार्टफोन पर निर्भर हो जाते हैं, वे मस्तिष्क के विकास में नकारात्मक बदलाव का अनुभव कर सकते हैं। किशोरों की लत से पीड़ित किशोरों में मस्तिष्क कनेक्टिविटी कम हो गई है .5 मस्तिष्क के उन हिस्सों में समस्याएं जो निर्णय लेने, आवेग नियंत्रण, और भावनात्मक विनियमन के लिए ज़िम्मेदार हैं। एक स्मार्टफोन की लत वाले किशोर शराब पीते हैं, तम्बाकू का उपयोग करते हैं, और खराब भोजन करते हैं। अत्यधिक किशोर फोन उपयोग के कारण इन किशोरों को सामाजिक अलगाव का अनुभव हो सकता है।
Romanized Version
स्मार्टफोन की लत के कुछ प्रमुख संकेतों और लक्षणों में शामिल हैं: सहनशीलता। प्रत्याहार। स्मार्टफ़ोन उपयोग पर वापस कटौती करने में विफल प्रयास। मोबाइल फोन का उपयोग करते समय समय का ट्रैक खो देता है। अवांछित भावनाओं से निपटने के लिए सेल फोन का उपयोग करता है। पाठ गर्दन डिजिटल आंख तनाव। सेल फोन लत के लक्षणों और लक्षणों के बारे में और जानें किशोर और सेल फोन लत अपने सेल फोन पर किशोर एक सेल फोन की लत विकसित करने के लिए बेहद कमजोर हैं। मानव मस्तिष्क लगभग 25 वर्ष तक पूरी तरह से विकसित नहीं होता है। किशोरावस्था जो अपने स्मार्टफोन पर निर्भर हो जाते हैं, वे मस्तिष्क के विकास में नकारात्मक बदलाव का अनुभव कर सकते हैं। किशोरों की लत से पीड़ित किशोरों में मस्तिष्क कनेक्टिविटी कम हो गई है .5 मस्तिष्क के उन हिस्सों में समस्याएं जो निर्णय लेने, आवेग नियंत्रण, और भावनात्मक विनियमन के लिए ज़िम्मेदार हैं। एक स्मार्टफोन की लत वाले किशोर शराब पीते हैं, तम्बाकू का उपयोग करते हैं, और खराब भोजन करते हैं। अत्यधिक किशोर फोन उपयोग के कारण इन किशोरों को सामाजिक अलगाव का अनुभव हो सकता है।Smartphone Ki Lat Ke Kuch Pramukh Sanketon Aur Lakshano Mein Shamil Hain Sahanashilta Pratyahar Smartphone Upyog Par Wapas Katauti Karne Mein Vifal Prayas Mobile Phone Ka Upyog Karte Samay Samay Ka Track Kho Deta Hai Avanchhit Bhavnao Se Nipatane Ke Liye Cell Phone Ka Upyog Karta Hai Path Gardan Digital Aankh Tanaav Cell Phone Lat Ke Lakshano Aur Lakshano Ke Baare Mein Aur Janein Kishore Aur Cell Phone Lat Apne Cell Phone Par Kishore Ek Cell Phone Ki Lat Viksit Karne Ke Liye Behad Kamjor Hain Manav Mastishk Lagbhag 25 Varsh Tak Puri Tarah Se Viksit Nahi Hota Hai Kishoraavastha Jo Apne Smartphone Par Nirbhar Ho Jaate Hain Ve Mastishk Ke Vikash Mein Nakaratmak Badlav Ka Anubhav Kar Sakte Hain Kishoron Ki Lat Se Peedit Kishoron Mein Mastishk Connectivity Kum Ho Gayi Hai Mastishk Ke Un Hisso Mein Samasyaen Jo Nirnay Lene Aaveg Niyantran Aur Bhavnatmak Viniyaman Ke Liye Jimmedar Hain Ek Smartphone Ki Lat Wale Kishore Sharab Pite Hain Tambaku Ka Upyog Karte Hain Aur Kharab Bhojan Karte Hain Atyadhik Kishore Phone Upyog Ke Kaaran In Kishoron Ko Samajik Alagav Ka Anubhav Ho Sakta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
यद्यपि सेल फोन व्यक्तियों को जानकारी तक असीमित पहुंच प्राप्त करने और अन्य तरीकों से कनेक्ट करने की इजाजत देता है, अन्यथा असंभव समझा जाता है, स्मार्टफोन निर्भरता के कई हानिकारक और परेशान प्रभाव पड़ते हैं। सेल फोन की लत, कभी-कभी समस्याग्रस्त मोबाइल फोन के उपयोग के रूप में जाना जाता है, एक व्यवहारिक लत एक इंटरनेट, जुआ, खरीदारी, या वीडियो गेम की लत के समान ही माना जाता है और किसी के जीवन में गंभीर हानि या परेशानी का कारण बनता है।
Romanized Version
यद्यपि सेल फोन व्यक्तियों को जानकारी तक असीमित पहुंच प्राप्त करने और अन्य तरीकों से कनेक्ट करने की इजाजत देता है, अन्यथा असंभव समझा जाता है, स्मार्टफोन निर्भरता के कई हानिकारक और परेशान प्रभाव पड़ते हैं। सेल फोन की लत, कभी-कभी समस्याग्रस्त मोबाइल फोन के उपयोग के रूप में जाना जाता है, एक व्यवहारिक लत एक इंटरनेट, जुआ, खरीदारी, या वीडियो गेम की लत के समान ही माना जाता है और किसी के जीवन में गंभीर हानि या परेशानी का कारण बनता है।Yadyapi Cell Phone Vyaktiyon Ko Jankari Tak Asimeet Pahunch Prapt Karne Aur Anya Trikon Se Connect Karne Ki Ijajat Deta Hai Anyatha Asambhav Samjha Jata Hai Smartphone Nirbharta Ke Kai Haanikarak Aur Pareshan Prabhav Padate Hain Cell Phone Ki Lat Kabhi Kabhi Samasyagrast Mobile Phone Ke Upyog Ke Roop Mein Jana Jata Hai Ek Vyavharik Lat Ek Internet Jua Kharidari Ya Video Game Ki Lat Ke Saman Hi Mana Jata Hai Aur Kisi Ke Jeevan Mein Gambhir Hani Ya Pareshani Ka Kaaran Banta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
किशोर सेल फोन व्यसन उपचार को आमतौर पर एक व्यवहारिक विकार के रूप में जाना जाता है, जिसमें एक किशोर के पुराने उपयोग, और एक सेल फोन के साथ जुनून की विशेषता है। फोन वार्तालाप करने के अलावा, इसमें स्मार्ट फोन से जुड़े सभी व्यवहार शामिल हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं: टेक्स्टिंग, वीडियो देखना, सोशल मीडिया, वीडियो गेम आदि। प्रोफ्यूज सेल फोन का उपयोग सेल फोन लत बन जाता है जब सेल फोन सगाई ऐसी डिग्री तक होती है कि यह किशोरों को उपस्थित होने और वास्तविक दुनिया में भाग लेने से परेशान करता है, अंततः स्कूल के काम, पारिवारिक रिश्ते, और उनके जीवन के अन्य क्षेत्रों में नकारात्मक प्रभाव पैदा करता है। अन्य जिम्मेदारियां
Romanized Version
किशोर सेल फोन व्यसन उपचार को आमतौर पर एक व्यवहारिक विकार के रूप में जाना जाता है, जिसमें एक किशोर के पुराने उपयोग, और एक सेल फोन के साथ जुनून की विशेषता है। फोन वार्तालाप करने के अलावा, इसमें स्मार्ट फोन से जुड़े सभी व्यवहार शामिल हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं: टेक्स्टिंग, वीडियो देखना, सोशल मीडिया, वीडियो गेम आदि। प्रोफ्यूज सेल फोन का उपयोग सेल फोन लत बन जाता है जब सेल फोन सगाई ऐसी डिग्री तक होती है कि यह किशोरों को उपस्थित होने और वास्तविक दुनिया में भाग लेने से परेशान करता है, अंततः स्कूल के काम, पारिवारिक रिश्ते, और उनके जीवन के अन्य क्षेत्रों में नकारात्मक प्रभाव पैदा करता है। अन्य जिम्मेदारियांKishore Cell Phone Vyasan Upchaar Ko Aamtaur Par Ek Vyavharik Vikar Ke Roop Mein Jana Jata Hai Jisme Ek Kishore Ke Purane Upyog Aur Ek Cell Phone Ke Saath Junuun Ki Visheshata Hai Phone Vartalaap Karne Ke Alava Isme Smart Phone Se Jude Sabhi Vyavhar Shamil Ho Sakte Hain Jinmein Shamil Hain Texting Video Dekhna Social Media Video Game Aadi Cell Phone Ka Upyog Cell Phone Lat Ban Jata Hai Jab Cell Phone Sagaai Aisi Degree Tak Hoti Hai Ki Yeh Kishoron Ko Upasthit Hone Aur Vastavik Duniya Mein Bhag Lene Se Pareshan Karta Hai Antatah School Ke Kaam Parivarik Rishte Aur Unke Jeevan Ke Anya Kshetro Mein Nakaratmak Prabhav Paida Karta Hai Anya Jimmedariya
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Se Alag Hone Par Chinta Ya Paryapt Signal Par Bhi Badhotari Ho Sakti Hai Mobile Phone Ovarayuj Ka Prasaar Mukhya Roop Se Paribhasha Par Nirbhar Karta Hai Aur Is Prakar Scale Ka Upyog Kisi Vishay Ke Vyavhar Ko Maapne Ke Liye Kiya Jata Hai Do Taraju Upyog Mein Hain Item Swayam Report Ki Samasya Nivaran Mobile Phone Piyuemapi Paimane [5] Aur Mobile Phone Samasya Ka Upyog Scale Emapipiyues Jo Vayask Aur Kishore Dono Aabadi Ke Saath Upyog Kiya Gaya Hai Scale Aur Paribhashaon Ke Anusar Samasyagrast Roop Se Prabhavit Aabadi Ki Aayu Ling Aur Pratishat Mein Bhinnataen Hain 11-14 Aayu Varg Ke British Kishoron Ke Beech Prasaar 10% Tha [6] Bharat Mein Is Aayu Varg Ke Liye 39-44% Par Vyasan Kaha Gaya Hai [2] Vibhinn Naidanik Maandandon Ke Tahat Anumaneet Prasaar 0 Se 38% Tak Hai Jisme Mobile Phone Ki Lat Ke Swayam Etribyushan Swayam Adhyayanon Mein Anumaneet Prasaar Se Adhik Hai [7] Korea Mein Internet Vyasan Ki Sambandhit Samasya Ka Prasaar 4.9-10.7% Tha Aur Ab Ise Gambhir Sarvajanik Swasthya Samasya Mana Jata Hai Mobile Phone Ki Lat Se Jude Vyavhar Ling Ke Beech Bhinn Hote Hain [9] Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Adhik Sambhavna Hai Purushon Ki Tulna Mein Purushon Ko Kum Samajik Tanaav Ka Anubhav Hota Hai Aur Samajik Udyeshwo Ke Liye Apne Mobile Phone Ka Upyog Kum Karte Hain Vibhinn Samajik Upyog Tanaav Aur Adhik Aatm Viniyaman Ke Kaaran Vriddh Logon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Sambhavna Kum Hoti Hai [
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
ओवरयूज को अक्सर "निर्भरता सिंड्रोम" के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसे व्यसन या आदत को बदलने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञ समिति, 1 9 64) द्वारा उपयोग किया जाने वाला शब्द है। [1] इसे या तो पदार्थों के दुरुपयोग के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जैसे कि साइकोएक्टिव ड्रग्स, शराब और तंबाकू से आईसीडी -10 के तहत, या एक व्यवहारिक लत, जैसे कि मोबाइल फोन की लत। [2] डीएसएम -5 के अनुसार, पदार्थों के उपयोग विकारों को 11 कारकों द्वारा परिभाषित किया जा सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं: (1) बड़ी मात्रा में या प्रारंभिक रूप से इरादे से अधिक समय तक उपयोग करें, (2) उपयोग को काटने या नियंत्रित करने की इच्छा, (3) खर्च करना पदार्थ से प्राप्त करने, उपयोग करने या पुनर्प्राप्त करने का बहुत अच्छा समय, (4) लालसा, (8) उन परिस्थितियों में उपयोग करें जिनमें यह शारीरिक रूप से खतरनाक है, (9) उपयोग के साथ जुड़े प्रतिकूल शारीरिक या मनोवैज्ञानिक परिणामों के बावजूद पदार्थ का निरंतर उपयोग, और (11) वापसी के लक्षण। [3] स्मार्टफ़ोन की लत की तुलना उस स्मार्टफ़ोन में पदार्थ उपयोग विकारों से की जा सकती है, जिसमें दवाएं (मनोरंजन और कनेक्शन) प्रदान करती हैं, जबकि दवाओं का उपभोग करने वाले साधनों के रूप में कार्य करते हैं। छात्रों पर स्मार्टफोन के प्रभाव पर अलाबामा स्टेट यूनिवर्सिटी में आयोजित एक अध्ययन, इस बात को परिभाषित करते हुए इस मुद्दे को परिभाषित करता है कि हम स्वयं स्मार्टफोन की आदी नहीं हैं, लेकिन हम "जानकारी, मनोरंजन और व्यक्तिगत कनेक्शन [जो एक स्मार्टफोन] वितरित करते हैं "[4] लोगों के निरंतर मनोरंजन के लिए एक संबंध है, और स्मार्टफोन इसे सबसे तेज़, सबसे आसानी से सुलभ मार्ग प्रदान करते हैं।
Romanized Version
ओवरयूज को अक्सर "निर्भरता सिंड्रोम" के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसे व्यसन या आदत को बदलने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञ समिति, 1 9 64) द्वारा उपयोग किया जाने वाला शब्द है। [1] इसे या तो पदार्थों के दुरुपयोग के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जैसे कि साइकोएक्टिव ड्रग्स, शराब और तंबाकू से आईसीडी -10 के तहत, या एक व्यवहारिक लत, जैसे कि मोबाइल फोन की लत। [2] डीएसएम -5 के अनुसार, पदार्थों के उपयोग विकारों को 11 कारकों द्वारा परिभाषित किया जा सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं: (1) बड़ी मात्रा में या प्रारंभिक रूप से इरादे से अधिक समय तक उपयोग करें, (2) उपयोग को काटने या नियंत्रित करने की इच्छा, (3) खर्च करना पदार्थ से प्राप्त करने, उपयोग करने या पुनर्प्राप्त करने का बहुत अच्छा समय, (4) लालसा, (8) उन परिस्थितियों में उपयोग करें जिनमें यह शारीरिक रूप से खतरनाक है, (9) उपयोग के साथ जुड़े प्रतिकूल शारीरिक या मनोवैज्ञानिक परिणामों के बावजूद पदार्थ का निरंतर उपयोग, और (11) वापसी के लक्षण। [3] स्मार्टफ़ोन की लत की तुलना उस स्मार्टफ़ोन में पदार्थ उपयोग विकारों से की जा सकती है, जिसमें दवाएं (मनोरंजन और कनेक्शन) प्रदान करती हैं, जबकि दवाओं का उपभोग करने वाले साधनों के रूप में कार्य करते हैं। छात्रों पर स्मार्टफोन के प्रभाव पर अलाबामा स्टेट यूनिवर्सिटी में आयोजित एक अध्ययन, इस बात को परिभाषित करते हुए इस मुद्दे को परिभाषित करता है कि हम स्वयं स्मार्टफोन की आदी नहीं हैं, लेकिन हम "जानकारी, मनोरंजन और व्यक्तिगत कनेक्शन [जो एक स्मार्टफोन] वितरित करते हैं "[4] लोगों के निरंतर मनोरंजन के लिए एक संबंध है, और स्मार्टफोन इसे सबसे तेज़, सबसे आसानी से सुलभ मार्ग प्रदान करते हैं।Ovarayuj Ko Aksar Nirbharta Syndrome Ke Roop Mein Paribhashit Kiya Jata Hai Jise Vyasan Ya Aadat Ko Badalne Ke Liye Vishwa Swasthya Sangathan WHO Visheshasgya Samiti 1 9 64) Dwara Upyog Kiya Jaane Wala Shabdh Hai [1] Ise Ya To Padarthon Ke Durupyog Ke Roop Mein Vargikrit Kiya Gaya Hai Jaise Ki Saikoektiv Drugs Sharab Aur Tambaku Se Aisidi -10 Ke Tahat Ya Ek Vyavharik Lat Jaise Ki Mobile Phone Ki Lat Diesaem -5 Ke Anusar Padarthon Ke Upyog Wikaaron Ko 11 Kaarakon Dwara Paribhashit Kiya Ja Sakta Hai Jinmein Nimn Shamil Hain (1) Badi Matra Mein Ya Prarambhik Roop Se Iraade Se Adhik Samay Tak Upyog Karen (2) Upyog Ko Katne Ya Niyantrit Karne Ki Icha (3) Kharch Karna Padarth Se Prapt Karne Upyog Karne Ya Punarprapt Karne Ka Bahut Accha Samay (4) Lalasa (8) Un Paristhitiyon Mein Upyog Karen Jinmein Yeh Shaaririk Roop Se Khatarnak Hai (9) Upyog Ke Saath Jude Pratikul Shaaririk Ya Manovaigyanik Parinamo Ke Bawajud Padarth Ka Nirantar Upyog Aur (11) Vapasi Ke Lakshan Smartphone Ki Lat Ki Tulna Us Smartphone Mein Padarth Upyog Wikaaron Se Ki Ja Sakti Hai Jisme Davayain Manoranjan Aur Connection Pradan Karti Hain Jabki Dawaon Ka Upbhog Karne Wale Saadhano Ke Roop Mein Karya Karte Hain Chhatro Par Smartphone Ke Prabhav Par Alabama State University Mein Aayojit Ek Adhyayan Is Baat Ko Paribhashit Karte Hue Is Mudde Ko Paribhashit Karta Hai Ki Hum Swayam Smartphone Ki Adi Nahi Hain Lekin Hum Jankari Manoranjan Aur Vyaktigat Connection Jo Ek Smartphone Vitrit Karte Hain "[4] Logon Ke Nirantar Manoranjan Ke Liye Ek Sambandh Hai Aur Smartphone Ise Sabse Tez Sabse Aasani Se Sulabh Marg Pradan Karte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
डब्ल्यूएचओ (2014) मानदंडों के अनुसार किशोरावस्था को 10 से 1 9 साल की उम्र के बीच युवा लोगों के रूप में परिभाषित किया जाता है। [1] आज, दुनिया में 20% लोग किशोर हैं, जो दुनिया भर में 1.2 अरब लोगों का गठन करते हैं। यूनिसेफ रिपोर्ट (2011) के अनुसार लगभग 243 मिलियन किशोर भारत में रहते हैं। [2] डब्लूएचओ (डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञ समिति - 1 9 64) द्वारा निर्भरता के रूप में व्यसन को राहत, आराम या उत्तेजना के लिए कुछ लगातार उपयोग के रूप में माना जाता है, जो अक्सर अनुपस्थित होने पर गंभीरता का कारण बनता है। [3] व्यसन की दो प्रमुख श्रेणियों में या तो पदार्थ की लत शामिल है, उदा। "ड्रग्स या अल्कोहल व्यसन" या "मोबाइल फोन लत जैसे व्यवहारिक व्यसन।" [4] मोबाइल फोन की लत / दुर्व्यवहार / दुरुपयोग दुनिया भर के किशोरों द्वारा "मोबाइल फोन" के अनिवार्य उपयोग के रूपों में से एक है। किशोरों के बीच इस श्रेणी में एक नया प्रकार का स्वास्थ्य विकार, "स्मार्टफोन की लत / दुर्व्यवहार / दुरुपयोग" अब इस तेजी से उभरते मुद्दे पर विचार करने के लिए विश्व स्तर पर स्वास्थ्य नीति निर्माताओं को चुनौती दे रहा है। भारतीय किशोर इस उच्च स्मार्टफोन सगाई से भी प्रभावित होते हैं, और वर्तमान पेपर अपने नशे की लत के व्यवहार पर चर्चा के लिए मेटा-विश्लेषण का उपयोग करेगा। एक स्मार्टफोन, या स्मार्टफोन, मूल फीचर फोन से उन्नत सुविधाओं के साथ मोबाइल फोन को अलग करने का एक शब्द है। "स्मार्टफ़ोन" शब्द पहली बार 1997 में दिखाई दिया, जब एरिक्सन ने अपने जीएस 88 "पेनेलोप" अवधारणा को स्मार्टफोन के रूप में वर्णित किया। [5,6,7,8] यह शब्द मूल रूप से मोबाइल फोन के एक नए वर्ग के लिए बाजार में पेश किया गया था जो प्रदान करता है संचार, कंप्यूटिंग और मोबाइल सेक्टर जैसे वॉयस संचार, मैसेजिंग, व्यक्तिगत सूचना प्रबंधन अनुप्रयोगों और वायरलेस संचार क्षमता से एकीकृत सेवाएं। [9] आधुनिक स्मार्टफ़ोन में वर्तमान में एक लैपटॉप की सभी सुविधाएं शामिल हैं, जिनमें वेब ब्राउजिंग, वाई-फाई और तृतीय-पक्ष ऐप्स इत्यादि शामिल हैं। सबसे लोकप्रिय स्मार्टफोन आज उभर रहे हैं, Google के एंड्रॉइड, ऐप्पल के आईओएस मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और नोकिया-एक्स श्रृंखला हैं। [10,11,12,13,14] स्मार्टफ़ोन उपयोग और उनकी क्षमताओं में महत्वपूर्ण वृद्धि किशोरों को इंटरनेट तक पहुंचने, संवाद करने और स्वयं को कहीं भी मनोरंजन करने की अनुमति देती है। इसलिए, 10-19 साल की उम्र में अधिकांश किशोर स्मार्टफोन का निरंतर साथी के रूप में उपयोग कर सकते हैं।
Romanized Version
डब्ल्यूएचओ (2014) मानदंडों के अनुसार किशोरावस्था को 10 से 1 9 साल की उम्र के बीच युवा लोगों के रूप में परिभाषित किया जाता है। [1] आज, दुनिया में 20% लोग किशोर हैं, जो दुनिया भर में 1.2 अरब लोगों का गठन करते हैं। यूनिसेफ रिपोर्ट (2011) के अनुसार लगभग 243 मिलियन किशोर भारत में रहते हैं। [2] डब्लूएचओ (डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञ समिति - 1 9 64) द्वारा निर्भरता के रूप में व्यसन को राहत, आराम या उत्तेजना के लिए कुछ लगातार उपयोग के रूप में माना जाता है, जो अक्सर अनुपस्थित होने पर गंभीरता का कारण बनता है। [3] व्यसन की दो प्रमुख श्रेणियों में या तो पदार्थ की लत शामिल है, उदा। "ड्रग्स या अल्कोहल व्यसन" या "मोबाइल फोन लत जैसे व्यवहारिक व्यसन।" [4] मोबाइल फोन की लत / दुर्व्यवहार / दुरुपयोग दुनिया भर के किशोरों द्वारा "मोबाइल फोन" के अनिवार्य उपयोग के रूपों में से एक है। किशोरों के बीच इस श्रेणी में एक नया प्रकार का स्वास्थ्य विकार, "स्मार्टफोन की लत / दुर्व्यवहार / दुरुपयोग" अब इस तेजी से उभरते मुद्दे पर विचार करने के लिए विश्व स्तर पर स्वास्थ्य नीति निर्माताओं को चुनौती दे रहा है। भारतीय किशोर इस उच्च स्मार्टफोन सगाई से भी प्रभावित होते हैं, और वर्तमान पेपर अपने नशे की लत के व्यवहार पर चर्चा के लिए मेटा-विश्लेषण का उपयोग करेगा। एक स्मार्टफोन, या स्मार्टफोन, मूल फीचर फोन से उन्नत सुविधाओं के साथ मोबाइल फोन को अलग करने का एक शब्द है। "स्मार्टफ़ोन" शब्द पहली बार 1997 में दिखाई दिया, जब एरिक्सन ने अपने जीएस 88 "पेनेलोप" अवधारणा को स्मार्टफोन के रूप में वर्णित किया। [5,6,7,8] यह शब्द मूल रूप से मोबाइल फोन के एक नए वर्ग के लिए बाजार में पेश किया गया था जो प्रदान करता है संचार, कंप्यूटिंग और मोबाइल सेक्टर जैसे वॉयस संचार, मैसेजिंग, व्यक्तिगत सूचना प्रबंधन अनुप्रयोगों और वायरलेस संचार क्षमता से एकीकृत सेवाएं। [9] आधुनिक स्मार्टफ़ोन में वर्तमान में एक लैपटॉप की सभी सुविधाएं शामिल हैं, जिनमें वेब ब्राउजिंग, वाई-फाई और तृतीय-पक्ष ऐप्स इत्यादि शामिल हैं। सबसे लोकप्रिय स्मार्टफोन आज उभर रहे हैं, Google के एंड्रॉइड, ऐप्पल के आईओएस मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और नोकिया-एक्स श्रृंखला हैं। [10,11,12,13,14] स्मार्टफ़ोन उपयोग और उनकी क्षमताओं में महत्वपूर्ण वृद्धि किशोरों को इंटरनेट तक पहुंचने, संवाद करने और स्वयं को कहीं भी मनोरंजन करने की अनुमति देती है। इसलिए, 10-19 साल की उम्र में अधिकांश किशोर स्मार्टफोन का निरंतर साथी के रूप में उपयोग कर सकते हैं।WHO (2014) Maandandon Ke Anusar Kishoraavastha Ko 10 Se 1 9 Saal Ki Umar Ke Beech Yuva Logon Ke Roop Mein Paribhashit Kiya Jata Hai [1] Aaj Duniya Mein 20% Log Kishore Hain Jo Duniya Bhar Mein 1.2 Arab Logon Ka Gathan Karte Hain Unicef Report (2011) Ke Anusar Lagbhag 243 Million Kishore Bharat Mein Rehte Hain Dabluechao WHO Visheshasgya Samiti - 1 9 64) Dwara Nirbharta Ke Roop Mein Vyasan Ko Raahat Aaram Ya Uttejna Ke Liye Kuch Lagatar Upyog Ke Roop Mein Mana Jata Hai Jo Aksar Anupasthit Hone Par Gambhirta Ka Kaaran Banta Hai [3] Vyasan Ki Do Pramukh Shreniyon Mein Ya To Padarth Ki Lat Shamil Hai Uda Drugs Ya Alcohol Vyasan Ya Mobile Phone Lat Jaise Vyavharik Vyasan Mobile Phone Ki Lat / Durvyavahaar / Durupyog Duniya Bhar Ke Kishoron Dwara Mobile Phone Ke Anivarya Upyog Ke Roopon Mein Se Ek Hai Kishoron Ke Beech Is Shrenee Mein Ek Naya Prakar Ka Swasthya Vikar Smartphone Ki Lat / Durvyavahaar / Durupyog Ab Is Teji Se Ubharte Mudde Par Vichar Karne Ke Liye Vishwa Sthar Par Swasthya Niti Nirmaataon Ko Chunauti De Raha Hai Bhartiya Kishore Is Uccha Smartphone Sagaai Se Bhi Prabhavit Hote Hain Aur Vartaman Paper Apne Nashe Ki Lat Ke Vyavhar Par Charcha Ke Liye Meta Vishleshan Ka Upyog Karega Ek Smartphone Ya Smartphone Mul Feature Phone Se Unnat Suvidhaon Ke Saath Mobile Phone Ko Alag Karne Ka Ek Shabdh Hai Smartphone Shabdh Pehli Baar 1997 Mein Dikhai Diya Jab Ericsson Ne Apne GS 88 Penelop Awdharna Ko Smartphone Ke Roop Mein Varnit Kiya [5,6,7,8] Yeh Shabdh Mul Roop Se Mobile Phone Ke Ek Naye Varg Ke Liye Bazar Mein Pesh Kiya Gaya Tha Jo Pradan Karta Hai Sanchar Computing Aur Mobile Sector Jaise Voice Sanchar Maisejing Vyaktigat Soochna Prabandhan Anuprayogon Aur Wireless Sanchar Kshamta Se Ekikrit Sevayen Aadhunik Smartphone Mein Vartaman Mein Ek Laptop Ki Sabhi Suvidhayen Shamil Hain Jinmein Web Brouging Why Fai Aur Tritiye Paksh Apps Ityadi Shamil Hain Sabse Lokpriya Smartphone Aaj Ubhar Rahe Hain Google Ke Android Apple Ke IOS Mobile Operating System Aur Nokiya X Shrinkhala Hain [10,11,12,13,14] Smartphone Upyog Aur Unki Kshamataaon Mein Mahatvapurna Vriddhi Kishoron Ko Internet Tak Pahuchne Sanvaad Karne Aur Swayam Ko Kahin Bhi Manoranjan Karne Ki Anumati Deti Hai Isliye 10-19 Saal Ki Umar Mein Adhikaansh Kishore Smartphone Ka Nirantar Sathi Ke Roop Mein Upyog Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन से अलग होने पर चिंता या पर्याप्त सिग्नल पर भी बढ़ोतरी हो सकती है, मोबाइल फोन ओवरयूज का प्रसार मुख्य रूप से परिभाषा पर निर्भर करता है और इस प्रकार स्केल का उपयोग किसी विषय के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। दो तराजू उपयोग में हैं, 20-आइटम स्वयं रिपोर्ट की समस्या निवारण मोबाइल फोन (पीयूएमपी) पैमाने, [5] और मोबाइल फोन समस्या का उपयोग स्केल (एमपीपीयूएस), जो वयस्क और किशोर दोनों आबादी के साथ उपयोग किया गया है। स्केल और परिभाषाओं के अनुसार समस्याग्रस्त रूप से प्रभावित आबादी की आयु, लिंग और प्रतिशत में भिन्नताएं हैं। 11-14 आयु वर्ग के ब्रिटिश किशोरों के बीच प्रसार 10% था। [6] भारत में, इस आयु वर्ग के लिए 39-44% पर व्यसन कहा गया है। [2] विभिन्न नैदानिक ​​मानदंडों के तहत, अनुमानित प्रसार 0 से 38% तक है, जिसमें मोबाइल फोन की लत के स्वयं-एट्रिब्यूशन स्वयं अध्ययनों में अनुमानित प्रसार से अधिक है। [7] कोरिया में इंटरनेट व्यसन की संबंधित समस्या का प्रसार 4.9-10.7% था, और अब इसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या माना जाता है। [8] मोबाइल फोन की लत से जुड़े व्यवहार लिंग के बीच भिन्न होते हैं। [9] पुरुषों की तुलना में महिलाओं को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की अधिक संभावना है। पुरुषों की तुलना में पुरुषों को कम सामाजिक तनाव का अनुभव होता है और सामाजिक उद्देश्यों के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग कम करते हैं। विभिन्न सामाजिक उपयोग, तनाव और अधिक आत्म-विनियमन के कारण वृद्ध लोगों को नशे की लत मोबाइल फोन व्यवहार विकसित करने की संभावना कम होती है। [Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Se Alag Hone Par Chinta Ya Paryapt Signal Par Bhi Badhotari Ho Sakti Hai Mobile Phone Ovarayuj Ka Prasaar Mukhya Roop Se Paribhasha Par Nirbhar Karta Hai Aur Is Prakar Scale Ka Upyog Kisi Vishay Ke Vyavhar Ko Maapne Ke Liye Kiya Jata Hai Do Taraju Upyog Mein Hain Item Swayam Report Ki Samasya Nivaran Mobile Phone Piyuemapi Paimane [5] Aur Mobile Phone Samasya Ka Upyog Scale Emapipiyues Jo Vayask Aur Kishore Dono Aabadi Ke Saath Upyog Kiya Gaya Hai Scale Aur Paribhashaon Ke Anusar Samasyagrast Roop Se Prabhavit Aabadi Ki Aayu Ling Aur Pratishat Mein Bhinnataen Hain 11-14 Aayu Varg Ke British Kishoron Ke Beech Prasaar 10% Tha [6] Bharat Mein Is Aayu Varg Ke Liye 39-44% Par Vyasan Kaha Gaya Hai [2] Vibhinn Naidanik Maandandon Ke Tahat Anumaneet Prasaar 0 Se 38% Tak Hai Jisme Mobile Phone Ki Lat Ke Swayam Etribyushan Swayam Adhyayanon Mein Anumaneet Prasaar Se Adhik Hai [7] Korea Mein Internet Vyasan Ki Sambandhit Samasya Ka Prasaar 4.9-10.7% Tha Aur Ab Ise Gambhir Sarvajanik Swasthya Samasya Mana Jata Hai Mobile Phone Ki Lat Se Jude Vyavhar Ling Ke Beech Bhinn Hote Hain [9] Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Adhik Sambhavna Hai Purushon Ki Tulna Mein Purushon Ko Kum Samajik Tanaav Ka Anubhav Hota Hai Aur Samajik Udyeshwo Ke Liye Apne Mobile Phone Ka Upyog Kum Karte Hain Vibhinn Samajik Upyog Tanaav Aur Adhik Aatm Viniyaman Ke Kaaran Vriddh Logon Ko Nashe Ki Lat Mobile Phone Vyavhar Viksit Karne Ki Sambhavna Kum Hoti Hai [
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं।
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं।Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
20 वीं शताब्दी में मोबाइल फोन सबसे बड़ा आविष्कार है। हम कल्पना नहीं कर सकते कि मोबाइल फोन के बिना हमारा जीवन कैसा है। यह एक स्पष्ट सत्य है कि मोबाइल फोन हमें जीवन के कुछ पहलुओं में लाभ देता है। मोबाइल फोन का उपयोग करना पहले से आसान बनाने के लिए हमारे संचार को वितरित करता है। एक मोबाइल फोन के अलावा हमें संगीत, चैट या गेम खेलने जैसे आराम से कई काम मिल सकते हैं। हालांकि, आज लोग विशेष रूप से युवा लोग मोबाइल फोन का उपयोग करने के आदी हो रहे हैं। वे एक मिनट के लिए भी अपने फोन से दूर नहीं रह सकते हैं। शायद, मोबाइल फोन के लाभों के कारण, ज्यादातर लोगों को बहुत सारे नकारात्मक प्रभावों का एहसास नहीं होता है जो मोबाइल फोन ... अधिक सामग्री दिखाते हैं ... इसके अलावा, सेल फोन का अत्यधिक उपयोग किशोरावस्था और युवा वयस्कों को बेचैनी का अनुभव करने का कारण बनता है और इससे उन्हें सोना मुश्किल हो सकता है। यह एक स्पष्ट तथ्य है कि सेल फोन का उपयोग करके हमारे दिमाग को बहुत प्रभावित कर सकते हैं, क्योंकि नींद की कमी और हमारे कानों को नुकसान पहुंचाता है। हमारा जीवन अधिक से अधिक सुविधाजनक हो रहा है और मोबाइल फोन एक अनिवार्य और अविभाज्य वस्तु बन गया है। लोग अपने व्यवसाय को प्रबंधित करने के लिए हर बार मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं।
Romanized Version
20 वीं शताब्दी में मोबाइल फोन सबसे बड़ा आविष्कार है। हम कल्पना नहीं कर सकते कि मोबाइल फोन के बिना हमारा जीवन कैसा है। यह एक स्पष्ट सत्य है कि मोबाइल फोन हमें जीवन के कुछ पहलुओं में लाभ देता है। मोबाइल फोन का उपयोग करना पहले से आसान बनाने के लिए हमारे संचार को वितरित करता है। एक मोबाइल फोन के अलावा हमें संगीत, चैट या गेम खेलने जैसे आराम से कई काम मिल सकते हैं। हालांकि, आज लोग विशेष रूप से युवा लोग मोबाइल फोन का उपयोग करने के आदी हो रहे हैं। वे एक मिनट के लिए भी अपने फोन से दूर नहीं रह सकते हैं। शायद, मोबाइल फोन के लाभों के कारण, ज्यादातर लोगों को बहुत सारे नकारात्मक प्रभावों का एहसास नहीं होता है जो मोबाइल फोन ... अधिक सामग्री दिखाते हैं ... इसके अलावा, सेल फोन का अत्यधिक उपयोग किशोरावस्था और युवा वयस्कों को बेचैनी का अनुभव करने का कारण बनता है और इससे उन्हें सोना मुश्किल हो सकता है। यह एक स्पष्ट तथ्य है कि सेल फोन का उपयोग करके हमारे दिमाग को बहुत प्रभावित कर सकते हैं, क्योंकि नींद की कमी और हमारे कानों को नुकसान पहुंचाता है। हमारा जीवन अधिक से अधिक सुविधाजनक हो रहा है और मोबाइल फोन एक अनिवार्य और अविभाज्य वस्तु बन गया है। लोग अपने व्यवसाय को प्रबंधित करने के लिए हर बार मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं।20 Vi Shatabdi Mein Mobile Phone Sabse Bada Avishkar Hai Hum Kalpana Nahi Kar Sakte Ki Mobile Phone Ke Bina Hamara Jeevan Kaisa Hai Yeh Ek Spasht Satya Hai Ki Mobile Phone Hume Jeevan Ke Kuch Pahaluon Mein Labh Deta Hai Mobile Phone Ka Upyog Karna Pehle Se Aasan Banane Ke Liye Hamare Sanchar Ko Vitrit Karta Hai Ek Mobile Phone Ke Alava Hume Sangeet Chat Ya Game Khelne Jaise Aaram Se Kai Kaam Mil Sakte Hain Halanki Aaj Log Vishesh Roop Se Yuva Log Mobile Phone Ka Upyog Karne Ke Adi Ho Rahe Hain Ve Ek Minute Ke Liye Bhi Apne Phone Se Dur Nahi Rah Sakte Hain Shayad Mobile Phone Ke Labhon Ke Kaaran Jyadatar Logon Ko Bahut Sare Nakaratmak Prabhavon Ka Ehsaas Nahi Hota Hai Jo Mobile Phone ... Adhik Samagri Dikhate Hain Iske Alava Cell Phone Ka Atyadhik Upyog Kishoraavastha Aur Yuva Vayaskon Ko Bechaini Ka Anubhav Karne Ka Kaaran Banta Hai Aur Isse Unhen Sona Mushkil Ho Sakta Hai Yeh Ek Spasht Tathya Hai Ki Cell Phone Ka Upyog Karke Hamare Dimag Ko Bahut Prabhavit Kar Sakte Hain Kyonki Neend Ki Kami Aur Hamare Kando Ko Nuksan Pahunchata Hai Hamara Jeevan Adhik Se Adhik Suvidhajanak Ho Raha Hai Aur Mobile Phone Ek Anivarya Aur Avibhajya Vastu Ban Gaya Hai Log Apne Vyavasaya Ko Prabandhit Karne Ke Liye Har Baar Mobile Phone Ka Upyog Karte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Ya Paryapt Signal Se Alag Hone Par Chinta Badh Sakti Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।
Romanized Version
मोबाइल फोन ओवरयूज (मोबाइल फोन लत, समस्या मोबाइल फोन का उपयोग, या मोबाइल फोन निर्भरता) मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के बीच एक निर्भरता सिंड्रोम देखा जाता है। कुछ मोबाइल फोन उपयोगकर्ता पदार्थ उपयोग विकारों से संबंधित समस्याग्रस्त व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। इन व्यवहारों में मोबाइल संचार, अत्यधिक पैसा या मोबाइल फोन पर बिताए गए समय, मोबाइल फोन का उपयोग सामाजिक रूप से या शारीरिक रूप से अनुचित परिस्थितियों जैसे ऑटोमोबाइल चलाने के साथ प्रीक्यूप्यूशन शामिल हो सकता है। बढ़ी हुई उपयोग से मोबाइल संचार, रिश्ते पर प्रतिकूल प्रभाव और मोबाइल फोन या पर्याप्त सिग्नल से अलग होने पर चिंता बढ़ सकती है।Mobile Phone Ovarayuj Mobile Phone Lat Samasya Mobile Phone Ka Upyog Ya Mobile Phone Nirbharta Mobile Phone Upayogakartaon Ke Beech Ek Nirbharta Syndrome Dekha Jata Hai Kuch Mobile Phone Upyogkartaa Padarth Upyog Wikaaron Se Sambandhit Samasyagrast Vyavhar Pradarshit Karte Hain In Vyavhaaron Mein Mobile Sanchar Atyadhik Paisa Ya Mobile Phone Par Bitae Gaye Samay Mobile Phone Ka Upyog Samajik Roop Se Ya Shaaririk Roop Se Anuchit Paristhitiyon Jaise Automobile Chalane Ke Saath Prikyupyushan Shamil Ho Sakta Hai Badhi Hui Upyog Se Mobile Sanchar Rishte Par Pratikul Prabhav Aur Mobile Phone Ya Paryapt Signal Se Alag Hone Par Chinta Badh Sakti Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
नो मोबिल PHOne phoBIA "आपके सेल फोन या अन्य स्मार्ट डिवाइस का उपयोग करने में सक्षम नहीं होने के डर के लिए 21 वीं शताब्दी का कार्यकाल है। सेल फोन की लत बढ़ रही है, सर्वेक्षण दिखाया गया है, और गुरुवार को जारी एक नया अध्ययन बढ़ता हुआ शरीर सबूतों का कहना है कि स्मार्टफोन और इंटरनेट की लत हमारे दिमाग को नुकसान पहुंचा रही है - सचमुच।
Romanized Version
नो मोबिल PHOne phoBIA "आपके सेल फोन या अन्य स्मार्ट डिवाइस का उपयोग करने में सक्षम नहीं होने के डर के लिए 21 वीं शताब्दी का कार्यकाल है। सेल फोन की लत बढ़ रही है, सर्वेक्षण दिखाया गया है, और गुरुवार को जारी एक नया अध्ययन बढ़ता हुआ शरीर सबूतों का कहना है कि स्मार्टफोन और इंटरनेट की लत हमारे दिमाग को नुकसान पहुंचा रही है - सचमुच।No Mobil PHOne PhoBIA Aapke Cell Phone Ya Anya Smart Device Ka Upyog Karne Mein Saksham Nahi Hone Ke Dar Ke Liye 21 Vi Shatabdi Ka Karyakal Hai Cell Phone Ki Lat Badh Rahi Hai Sarvekshad Dikhaya Gaya Hai Aur Guruwar Ko Jaari Ek Naya Adhyayan Badhta Hua Sharir Sabuton Ka Kehna Hai Ki Smartphone Aur Internet Ki Lat Hamare Dimag Ko Nuksan Pahuncha Rahi Hai - Sachmuch
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
अगर आपको अपने स्मार्टफोन या इंटरनेट उपयोग को रोकने के लिए और मदद की ज़रूरत है, तो अब विशेषज्ञ उपचार केंद्र हैं जो डिजिटल मीडिया से डिस्कनेक्ट करने में आपकी सहायता के लिए डिजिटल डिटॉक्स प्रोग्राम प्रदान करते हैं। व्यक्तिगत और समूह चिकित्सा आपको अपने प्रौद्योगिकी उपयोग को नियंत्रित करने में एक जबरदस्त बढ़ावा भी दे सकती है। संज्ञानात्मक-व्यवहार चिकित्सा, बाध्यकारी व्यवहार को रोकने और अपने स्मार्टफ़ोन और इंटरनेट के बारे में अपनी धारणाओं को बदलने के चरण-दर-चरण तरीकों को प्रदान करता है। थेरेपी आपको असुविधाजनक भावनाओं जैसे कि तनाव, चिंता या अवसाद से निपटने के स्वस्थ तरीके सीखने में भी मदद कर सकती है-जो आपके स्मार्टफोन के उपयोग को बढ़ावा दे सकती है। विवाह या जोड़े परामर्श। यदि इंटरनेट पोर्नोग्राफ़ी या ऑनलाइन मामलों का अत्यधिक उपयोग आपके रिश्ते को प्रभावित कर रहा है, तो परामर्श आपको इन चुनौतीपूर्ण मुद्दों के माध्यम से काम करने और अपने साथी से दोबारा जुड़ने में मदद कर सकता है। चिकित्सा में सोफे पर महिला एक चिकित्सक ढूँढना जो आपको ठीक करने में मदद कर सकता है: कैसे चुनें समूह समर्थन इंटरनेट टेक एडिक्शन बेनामी (आईटीएए) और ऑन-लाइन गेमर बेनामी जैसे संगठन अत्यधिक तकनीकी उपयोग को रोकने के लिए ऑनलाइन समर्थन और आमने-सामने बैठकों की पेशकश करते हैं। बेशक, आपको किसी भी व्यसन समर्थन समूह से पूरी तरह से लाभ उठाने के लिए वास्तविक जीवन के लोगों की आवश्यकता है। सहायता के स्रोत ढूंढने में ऑनलाइन सहायता समूह सहायक हो सकते हैं, लेकिन अपने स्मार्टफ़ोन पर और भी अधिक समय व्यतीत करने के लिए उन्हें उपयोग करना आसान है। सेक्स व्यसनी बेनामी यह कोशिश करने के लिए एक जगह हो सकती है कि आपको साइबरएक्स व्यसन में परेशानी हो रही है या नहीं।
Romanized Version
अगर आपको अपने स्मार्टफोन या इंटरनेट उपयोग को रोकने के लिए और मदद की ज़रूरत है, तो अब विशेषज्ञ उपचार केंद्र हैं जो डिजिटल मीडिया से डिस्कनेक्ट करने में आपकी सहायता के लिए डिजिटल डिटॉक्स प्रोग्राम प्रदान करते हैं। व्यक्तिगत और समूह चिकित्सा आपको अपने प्रौद्योगिकी उपयोग को नियंत्रित करने में एक जबरदस्त बढ़ावा भी दे सकती है। संज्ञानात्मक-व्यवहार चिकित्सा, बाध्यकारी व्यवहार को रोकने और अपने स्मार्टफ़ोन और इंटरनेट के बारे में अपनी धारणाओं को बदलने के चरण-दर-चरण तरीकों को प्रदान करता है। थेरेपी आपको असुविधाजनक भावनाओं जैसे कि तनाव, चिंता या अवसाद से निपटने के स्वस्थ तरीके सीखने में भी मदद कर सकती है-जो आपके स्मार्टफोन के उपयोग को बढ़ावा दे सकती है। विवाह या जोड़े परामर्श। यदि इंटरनेट पोर्नोग्राफ़ी या ऑनलाइन मामलों का अत्यधिक उपयोग आपके रिश्ते को प्रभावित कर रहा है, तो परामर्श आपको इन चुनौतीपूर्ण मुद्दों के माध्यम से काम करने और अपने साथी से दोबारा जुड़ने में मदद कर सकता है। चिकित्सा में सोफे पर महिला एक चिकित्सक ढूँढना जो आपको ठीक करने में मदद कर सकता है: कैसे चुनें समूह समर्थन इंटरनेट टेक एडिक्शन बेनामी (आईटीएए) और ऑन-लाइन गेमर बेनामी जैसे संगठन अत्यधिक तकनीकी उपयोग को रोकने के लिए ऑनलाइन समर्थन और आमने-सामने बैठकों की पेशकश करते हैं। बेशक, आपको किसी भी व्यसन समर्थन समूह से पूरी तरह से लाभ उठाने के लिए वास्तविक जीवन के लोगों की आवश्यकता है। सहायता के स्रोत ढूंढने में ऑनलाइन सहायता समूह सहायक हो सकते हैं, लेकिन अपने स्मार्टफ़ोन पर और भी अधिक समय व्यतीत करने के लिए उन्हें उपयोग करना आसान है। सेक्स व्यसनी बेनामी यह कोशिश करने के लिए एक जगह हो सकती है कि आपको साइबरएक्स व्यसन में परेशानी हो रही है या नहीं।Agar Aapko Apne Smartphone Ya Internet Upyog Ko Rokne Ke Liye Aur Madad Ki Zaroorat Hai To Ab Visheshasgya Upchaar Kendra Hain Jo Digital Media Se Disconnect Karne Mein Aapki Sahaayata Ke Liye Digital Detox Program Pradan Karte Hain Vyaktigat Aur Samuh Chikitsa Aapko Apne Praudyogiki Upyog Ko Niyantrit Karne Mein Ek Jabardast Badhawa Bhi De Sakti Hai Sangyanatmak Vyavhar Chikitsa Badhyakari Vyavhar Ko Rokne Aur Apne Smartphone Aur Internet Ke Baare Mein Apni Dharnaon Ko Badalne Ke Charan Dar Charan Trikon Ko Pradan Karta Hai Therepy Aapko Asuvidhajanak Bhavnao Jaise Ki Tanaav Chinta Ya Avasad Se Nipatane Ke Swasth Tarike Seekhne Mein Bhi Madad Kar Sakti Hai Jo Aapke Smartphone Ke Upyog Ko Badhawa De Sakti Hai Vivah Ya Jode Paramarsh Yadi Internet Pornografi Ya Online Mamlon Ka Atyadhik Upyog Aapke Rishte Ko Prabhavit Kar Raha Hai To Paramarsh Aapko In Chunautipurn Muddon Ke Maadhyam Se Kaam Karne Aur Apne Sathi Se Dobara Judane Mein Madad Kar Sakta Hai Chikitsa Mein Sofe Par Mahila Ek Chikitsak Dhundhna Jo Aapko Theek Karne Mein Madad Kar Sakta Hai Kaise Chunein Samuh Samarthan Internet Tech Addiction Benami Aitieye Aur On Line Gemar Benami Jaise Sangathan Atyadhik Takniki Upyog Ko Rokne Ke Liye Online Samarthan Aur Amane Samane Baithakon Ki Peshkash Karte Hain Beshak Aapko Kisi Bhi Vyasan Samarthan Samuh Se Puri Tarah Se Labh Uthane Ke Liye Vastavik Jeevan Ke Logon Ki Avashyakta Hai Sahaayata Ke Srot Dhundhane Mein Online Sahaayata Samuh Sahayak Ho Sakte Hain Lekin Apne Smartphone Par Aur Bhi Adhik Samay Vyatit Karne Ke Liye Unhen Upyog Karna Aasan Hai Sex Vyasani Benami Yeh Koshish Karne Ke Liye Ek Jagah Ho Sakti Hai Ki Aapko Saibaraeks Vyasan Mein Pareshani Ho Rahi Hai Ya Nahi
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
vokalandroid