tag_img

रसम रिवाज

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप भोजन में शाकाहारी है या मांसाहारी और यह तो मेरे को नहीं बता सकते ना क्योंकि यह आपके ऊपर डिपेंड करता को क्या अच्छा लगता है क्या पसंद करते हैं खाना यह सब की सोच अलग-अलग होती है तो तो नहीं बता पाएंगे अच्छा है या बुरा है अगर आपको अच्छा लगता दुखाए कोई दिक्कत नहीं है यह बता दो आपको हरे खाने में से क्या बात करे मांसाहारी खाने में प्रोटीन और सर खाना भेजो कि कुछ हमारे शरीर के लिए जरूरत होता है अबे जीते बस में भी होता है तो यह आपके पसंद के ऊपर आपको अगर सपने में जीते बस में तो शाकाहारी खाना पसंद है जिनको मांसाहारी खाना भी खाते हैं
Romanized Version
आप भोजन में शाकाहारी है या मांसाहारी और यह तो मेरे को नहीं बता सकते ना क्योंकि यह आपके ऊपर डिपेंड करता को क्या अच्छा लगता है क्या पसंद करते हैं खाना यह सब की सोच अलग-अलग होती है तो तो नहीं बता पाएंगे अच्छा है या बुरा है अगर आपको अच्छा लगता दुखाए कोई दिक्कत नहीं है यह बता दो आपको हरे खाने में से क्या बात करे मांसाहारी खाने में प्रोटीन और सर खाना भेजो कि कुछ हमारे शरीर के लिए जरूरत होता है अबे जीते बस में भी होता है तो यह आपके पसंद के ऊपर आपको अगर सपने में जीते बस में तो शाकाहारी खाना पसंद है जिनको मांसाहारी खाना भी खाते हैंAap Bhojan Mein Sakahari Hai Ya Mansahari Aur Yeh To Mere Ko Nahi Bata Sakte Na Kyonki Yeh Aapke Upar Depend Karta Ko Kya Accha Lagta Hai Kya Pasand Karte Hain Khana Yeh Sab Ki Soch Alag Alag Hoti Hai To To Nahi Bata Paenge Accha Hai Ya Bura Hai Agar Aapko Accha Lagta Dukhaye Koi Dikkat Nahi Hai Yeh Bata Do Aapko Hare Khane Mein Se Kya Baat Kare Mansahari Khane Mein Protein Aur Sar Khana Bhejo Ki Kuch Hamare Sharir Ke Liye Zaroorat Hota Hai Abe Jeete Bus Mein Bhi Hota Hai To Yeh Aapke Pasand Ke Upar Aapko Agar Sapne Mein Jeete Bus Mein To Sakahari Khana Pasand Hai Jinako Mansahari Khana Bhi Khate Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे किसी ने पूछा जाने की नाग पंचमी की पूजा कैसे होती है तू नाग पंचमी जैसा कि बोला जाता है कि इस के दिन में नागों की पूजा होती है उनको दूध पिलाया जाता है और उनसे आशीर्वाद लिया जाता है क्योंकि जो नाम है वह शिवजी के बोले जाते हैं कि बहुत ज्यादा मतलब उनके प्यारे पशु है नाग देवता भी जिसको हम बोलते हैं तो उनको पैसे के लिए उन्हीं की पूजा होती है और उन्हीं से यह मनोकामना मांगी जाती है
Romanized Version
मुझे किसी ने पूछा जाने की नाग पंचमी की पूजा कैसे होती है तू नाग पंचमी जैसा कि बोला जाता है कि इस के दिन में नागों की पूजा होती है उनको दूध पिलाया जाता है और उनसे आशीर्वाद लिया जाता है क्योंकि जो नाम है वह शिवजी के बोले जाते हैं कि बहुत ज्यादा मतलब उनके प्यारे पशु है नाग देवता भी जिसको हम बोलते हैं तो उनको पैसे के लिए उन्हीं की पूजा होती है और उन्हीं से यह मनोकामना मांगी जाती हैMujhe Kisi Ne Poocha Jaane Ki Nag Panchami Ki Puja Kaise Hoti Hai Tu Nag Panchami Jaisa Ki Bola Jata Hai Ki Is Ke Din Mein Naagon Ki Puja Hoti Hai Unko Dudh Pilaya Jata Hai Aur Unse Ashirvaad Liya Jata Hai Kyonki Jo Naam Hai Wah Shivaji Ke Bole Jaate Hain Ki Bahut Jyada Matlab Unke Pyare Pashu Hai Nag Devta Bhi Jisko Hum Bolte Hain To Unko Paise Ke Liye Unhin Ki Puja Hoti Hai Aur Unhin Se Yeh Manokamana Maangi Jati Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज जमाना बहुत बदल गया है इस तरह की मान्यताओं को बहुत कम लोग समझ पाते हैं या मानते हैं इसलिए मुझे नहीं लगता है कि आपको किसी और कुंवारी कन्या के पास में चाहिए अगर आपके घर में कोई सवारी कर दिया है तो आप अपनी इस नियम का पालन कर सकते हैं बिना झिझक के बिना कपड़ों के बिना किसी दुर्भावना थी लेकिन अगर आप किसी और बाहरवाली लड़की के तरफ से पहुंच हुए तो मुझे नहीं लगता कि वह खुद लड़की को ऐसा ही लग रहा होगा यह विज्ञान का युग है और इन सब बातों को कोई मानता नहीं है इसलिए आप उस लड़की से संबंध बनाना चाहते हैं छतरपुर जाना चाहिए इससे पहले कि लोग आपके चरित्र पर कुछ गलत इल्जाम लगाए और अपमानित होना पड़े उससे पहले ही आप अपने हमको सबसे अलग करने और आपकी जो भी मान लेते हैं उन्हें अगर आप अपने घर में नहीं कर सकते हैं तो इन नेताओं को मुझे लगता है आपको छोड़ देना चाहिए किसी और से अपने आप को मना लेना चाहिए कि आप यह नहीं कर सकते तो आप कुछ और अपने बारे में क्योंकि मुझे नहीं लगता कि वह लड़की और आपको खुद भी कुछ तो समझे थे तभी आपने ही प्रश्न सोशल मंच पर पड़ता है इसलिए ऐसे अच्छे वाले काम ना ही करें तो ज्यादा सही रहेगा
Romanized Version
आज जमाना बहुत बदल गया है इस तरह की मान्यताओं को बहुत कम लोग समझ पाते हैं या मानते हैं इसलिए मुझे नहीं लगता है कि आपको किसी और कुंवारी कन्या के पास में चाहिए अगर आपके घर में कोई सवारी कर दिया है तो आप अपनी इस नियम का पालन कर सकते हैं बिना झिझक के बिना कपड़ों के बिना किसी दुर्भावना थी लेकिन अगर आप किसी और बाहरवाली लड़की के तरफ से पहुंच हुए तो मुझे नहीं लगता कि वह खुद लड़की को ऐसा ही लग रहा होगा यह विज्ञान का युग है और इन सब बातों को कोई मानता नहीं है इसलिए आप उस लड़की से संबंध बनाना चाहते हैं छतरपुर जाना चाहिए इससे पहले कि लोग आपके चरित्र पर कुछ गलत इल्जाम लगाए और अपमानित होना पड़े उससे पहले ही आप अपने हमको सबसे अलग करने और आपकी जो भी मान लेते हैं उन्हें अगर आप अपने घर में नहीं कर सकते हैं तो इन नेताओं को मुझे लगता है आपको छोड़ देना चाहिए किसी और से अपने आप को मना लेना चाहिए कि आप यह नहीं कर सकते तो आप कुछ और अपने बारे में क्योंकि मुझे नहीं लगता कि वह लड़की और आपको खुद भी कुछ तो समझे थे तभी आपने ही प्रश्न सोशल मंच पर पड़ता है इसलिए ऐसे अच्छे वाले काम ना ही करें तो ज्यादा सही रहेगाAj Jamana Bahut Badal Gaya Hai Is Turha Ki Manyataon Co Bahut Come Log Samajh Paate Hain Ya Maunte Hain Eeslie Mujhe Nahin Lagta Hai Qi Aapko Kisi Aur Kunvari Kanya K Pass Mein Chahie Agar Aapke Ghar Mein Koi Sawari Car Diya Hai To Aap Apni Is Niyam Ka Palan Car Sakte Hain Binaa Jhijhak K Binaa Kapdon K Binaa Kisi Durbhavana Thi Lekin Agar Aap Kisi Aur Baharvali Ladaki K Tarf Se Pahunch Huye To Mujhe Nahin Lagta Qi Wah Khud Ladaki Co Aisa Hea Lag Raha Hoga Yeh Vigyan Ka Yuga Hai Aur In Sub Baaton Co Koi Manta Nahin Hai Eeslie Aap Oosh Ladaki Se Sambandh Banana Chahte Hain Chhatarpur Jaana Chahie Issase Pehle Qi Log Aapke Charitra Per Kuch Galat Iljam Lagae Aur Apmanit Hona Pade Usase Pehle Hea Aap Apne Humko Sabse Eluga Karne Aur Aapki Joe Bhi Maan Lete Hain Unhein Agar Aap Apne Ghar Mein Nahin Car Sakte Hain To In Netaon Co Mujhe Lagta Hai Aapko Chod Dena Chahie Kisi Aur Se Apne Aap Co Mana Lena Chahie Qi Aap Yeh Nahin Car Sakte To Aap Kuch Aur Apne Baare Mein Kyonki Mujhe Nahin Lagta Qi Wah Ladaki Aur Aapko Khud Bhi Kuch To Smjhe The Tabhi Aapne Hea Prashn Social Munch Per Padata Hai Eeslie Aise Achchhe Wale Kama Na Hea Karein To Jyada Sahi Rahega
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी जैसा किस वाद में पूजा पाठ करना चाहिए मंदिर जाना चाहिए तो मैंने अपने घर में और अपने गांव में भी देखा है कि सलाद में लोग जो है पूजा-पाठ मंदिर नहीं जाते हैं जब तक उनका जो है जिसमें बल्कि जो होता है वह कम ना हो जाए
Romanized Version
विकी जैसा किस वाद में पूजा पाठ करना चाहिए मंदिर जाना चाहिए तो मैंने अपने घर में और अपने गांव में भी देखा है कि सलाद में लोग जो है पूजा-पाठ मंदिर नहीं जाते हैं जब तक उनका जो है जिसमें बल्कि जो होता है वह कम ना हो जाएVikee Jaisa Kis Vad Mein Puja Path Karna Chahiye Mandir Jana Chahiye To Maine Apne Ghar Mein Aur Apne Gav Mein Bhi Dekha Hai Ki Salad Mein Log Jo Hai Puja Path Mandir Nahi Jaate Hain Jab Tak Unka Jo Hai Jisme Balki Jo Hota Hai Wah Kam Na Ho Jaye
Likes  26  Dislikes      
WhatsApp_icon
<html><body><p>कभी नही होती .. </p> <p>जीव हत्या हमेशा बुरा होता है ... </p> <p>यह सब मन का भ्रम है .. अतः हमे इससे बचना चाहिए&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp; </p> </body></html>Kabhi Nahi Hoti .. Jeev Hatya Hamesha Bura Hota Hai ... Yeh Sab Man Ka Bharam Hai .. Atah Humein Isse Bachana Chahiye </p> </body></html>
Likes  12  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर सभ्यता में हर हर देश में तरह-तरह की मान्यताएं होती है तू तिब्बत में जो जीभ दिखाने की मान्यता है उसके बारे में कुछ दूसरा चीज है अब बोल नहीं सकते हैं लेकिन अब मतलब तरह-तरह की छोरी ने उसके पीछे तोते बस में जो लोग जीत दिखाने का मान्यता बोलते हैं वह इसलिए है क्योंकि यार पहले आप पुराने समय में लोग लोगों का मानना था कि जो जो भी काला जादू करते हैं या कुछ का टोना टोटका करते हैं उनके जीव जो है वह काला हो जाता है या बुरा हो जाता है लोग जब भी एक दूसरे से मिलते थे तो यह सुनिश्चित करने के लिए कि मैंने कुछ ज्यादा नहीं किया है तिब्बत में तो लोग दूसरे को जीत दिखाते थे और जिसका जीता पदक डाक होता तो लोग उसे समझते कि चलो यह जादू टोने वाला है और अगर इसकी जीव रंगला होती थी उसको लोग समझते थे कि यह जादू टोना वाला बंदा नहीं है इस तरह की मान्यता है तो बस में और यह चीज लोग से बचने मानते हैं और बहुत लोगों के अनुसार तिब्बत में अभी भी यह मान्यता है कि जब भी आप किसी से मिलते हैं तो आप जीत दिखा करके उनका स्वागत करते हैं ताकि सामने वाले को भी कम पड़ रहे कि आप एक जादू टोने वाले नहीं एक अच्छे इंसान हैं
Romanized Version
हर सभ्यता में हर हर देश में तरह-तरह की मान्यताएं होती है तू तिब्बत में जो जीभ दिखाने की मान्यता है उसके बारे में कुछ दूसरा चीज है अब बोल नहीं सकते हैं लेकिन अब मतलब तरह-तरह की छोरी ने उसके पीछे तोते बस में जो लोग जीत दिखाने का मान्यता बोलते हैं वह इसलिए है क्योंकि यार पहले आप पुराने समय में लोग लोगों का मानना था कि जो जो भी काला जादू करते हैं या कुछ का टोना टोटका करते हैं उनके जीव जो है वह काला हो जाता है या बुरा हो जाता है लोग जब भी एक दूसरे से मिलते थे तो यह सुनिश्चित करने के लिए कि मैंने कुछ ज्यादा नहीं किया है तिब्बत में तो लोग दूसरे को जीत दिखाते थे और जिसका जीता पदक डाक होता तो लोग उसे समझते कि चलो यह जादू टोने वाला है और अगर इसकी जीव रंगला होती थी उसको लोग समझते थे कि यह जादू टोना वाला बंदा नहीं है इस तरह की मान्यता है तो बस में और यह चीज लोग से बचने मानते हैं और बहुत लोगों के अनुसार तिब्बत में अभी भी यह मान्यता है कि जब भी आप किसी से मिलते हैं तो आप जीत दिखा करके उनका स्वागत करते हैं ताकि सामने वाले को भी कम पड़ रहे कि आप एक जादू टोने वाले नहीं एक अच्छे इंसान हैंHar Sabhyata Mein Har Har Desh Mein Tarah Tarah Ki Manyatae Hoti Hai Tu Tibet Mein Jo Jeebh Dikhane Ki Manyata Hai Uske Baare Mein Kuch Doosra Cheez Hai Ab Bol Nahi Sakte Hain Lekin Ab Matlab Tarah Tarah Ki Chhori Ne Uske Piche Toote Bus Mein Jo Log Jeet Dikhane Ka Manyata Bolte Hain Wah Isliye Hai Kyonki Yaar Pehle Aap Purane Samay Mein Log Logon Ka Manana Tha Ki Jo Jo Bhi Kala Jadu Karte Hain Ya Kuch Ka Tona Totaka Karte Hain Unke Jeev Jo Hai Wah Kala Ho Jata Hai Ya Bura Ho Jata Hai Log Jab Bhi Ek Dusre Se Milte The To Yeh Sunishchit Karne Ke Liye Ki Maine Kuch Jyada Nahi Kiya Hai Tibet Mein To Log Dusre Ko Jeet Dikhate The Aur Jiska Jeeta Padak Dak Hota To Log Use Samajhte Ki Chalo Yeh Jadu Tone Wala Hai Aur Agar Iski Jeev Rangala Hoti Thi Usko Log Samajhte The Ki Yeh Jadu Tona Wala Banda Nahi Hai Is Tarah Ki Manyata Hai To Bus Mein Aur Yeh Cheez Log Se Bachane Manate Hain Aur Bahut Logon Ke Anusar Tibet Mein Abhi Bhi Yeh Manyata Hai Ki Jab Bhi Aap Kisi Se Milte Hain To Aap Jeet Dikha Karke Unka Swaagat Karte Hain Taki Samane Wale Ko Bhi Kum Padh Rahe Ki Aap Ek Jadu Tone Wale Nahi Ek Acche Insaan Hain
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रुद्राभिषेक जो है बेसिकली पूजा होता है ठीक है जो कि पुत्र प्राप्ति के लिए बेसिकली किया जाता है महायज्ञ टाइप का होता है जिसमें बहुत सारे पंडित आते हैं और पूजा करवाते हैं मतलब रुद्र की पूजा कराते रुद्र मतलब शिव होता है शिव की पूजा करते हैं
Romanized Version
रुद्राभिषेक जो है बेसिकली पूजा होता है ठीक है जो कि पुत्र प्राप्ति के लिए बेसिकली किया जाता है महायज्ञ टाइप का होता है जिसमें बहुत सारे पंडित आते हैं और पूजा करवाते हैं मतलब रुद्र की पूजा कराते रुद्र मतलब शिव होता है शिव की पूजा करते हैंRudrabhishek Jo Hai Basically Puja Hota Hai Theek Hai Jo Ki Putra Prapti Ke Liye Basically Kiya Jata Hai Mahayagya Type Ka Hota Hai Jisme Bahut Sare Pandit Aate Hain Aur Puja Karwaate Hain Matlab Rudra Ki Puja Karate Rudra Matlab Shiv Hota Hai Shiv Ki Puja Karte Hain
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अग्नि तपस्या या फिर इसे हवन भी कहते हैं हवन करने से माना जाता है कि जितने अपने पूर्वज है जो अब दुनिया में नहीं है उन को शांति प्राप्त होती है और दूसरा जो जहां तक भी हवन का अंत हुआ या फिर उसकी आंख पहुंचती है वह वायुमंडल वह एरिया स्वच्छ हो जाता है जिससे बहुत सारे कीटाणु वायुमंडल में जो रहते हैं वह उनका विनाश हो जाता और वायुमंडल वहां तक का सच हो जाता है
Romanized Version
अग्नि तपस्या या फिर इसे हवन भी कहते हैं हवन करने से माना जाता है कि जितने अपने पूर्वज है जो अब दुनिया में नहीं है उन को शांति प्राप्त होती है और दूसरा जो जहां तक भी हवन का अंत हुआ या फिर उसकी आंख पहुंचती है वह वायुमंडल वह एरिया स्वच्छ हो जाता है जिससे बहुत सारे कीटाणु वायुमंडल में जो रहते हैं वह उनका विनाश हो जाता और वायुमंडल वहां तक का सच हो जाता हैAgni Tapasya Ya Phir Ise Hawan Bhi Kehte Hain Hawan Karne Se Mana Jata Hai Ki Jitne Apne Poorvaj Hai Jo Ab Duniya Mein Nahi Hai Un Ko Shanti Prapt Hoti Hai Aur Doosra Jo Jahan Tak Bhi Hawan Ka Ant Hua Ya Phir Uski Aankh Pahunchati Hai Wah Vayumandal Wah Area Swach Ho Jata Hai Jisse Bahut Sare Kitanu Vayumandal Mein Jo Rehte Hain Wah Unka Vinash Ho Jata Aur Vayumandal Wahan Tak Ka Sach Ho Jata Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अति आवश्यक क्यों है बहुत सारे तरह के होते हैं जिनबिंब अभिषेक जैन अभिषेक मस्त अभिषेक पंचामृत अभिषेक प्रसारण अभिषेक शांतिधारा शर्मा अभिषेक अभिषेक को देर तक की अलग अलग तरह की विधि होती है पूजा करने की कोई अच्छी जानदार में जो पुजारी है उसे एक बार जाकर मिल लीजिए वापस तरीके से बता पाएंगे अच्छा होता है
Romanized Version
अति आवश्यक क्यों है बहुत सारे तरह के होते हैं जिनबिंब अभिषेक जैन अभिषेक मस्त अभिषेक पंचामृत अभिषेक प्रसारण अभिषेक शांतिधारा शर्मा अभिषेक अभिषेक को देर तक की अलग अलग तरह की विधि होती है पूजा करने की कोई अच्छी जानदार में जो पुजारी है उसे एक बार जाकर मिल लीजिए वापस तरीके से बता पाएंगे अच्छा होता हैAti Aavashyak Kyun Hai Bahut Sare Tarah Ke Hote Hain Jinbimb Abhishek Jain Abhishek Mast Abhishek Panchamrut Abhishek Prasaran Abhishek Shantidhara Sharma Abhishek Abhishek Ko Der Tak Ki Alag Alag Tarah Ki Vidhi Hoti Hai Puja Karne Ki Koi Acchi Janadar Mein Jo "pujari " Hai Use Ek Baar Jaakar Mil Lijiye Wapas Tarike Se Bata Paenge Accha Hota Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गौ माता के बारे में माना जाता है कि गौ माता की पूजा करने से कुंडली के दोष समाप्त हो जाते हैं प्रतिदिन गौ माता के नेत्र के दर्शन करें तो जीवन में लाभ ही लाभ होता है यदि रास्ते में जाते समय गौमाता आती है दिखती है तो उन्हें अपने दाहिने से जाने दें तो निश्चित ही हमारी यात्रा सफल होती है ऐसा माना जाता है कि हमें हमेशा बुरे सपने दिखाई देते हैं तो वह माता का नाम लेंगे तो कुछ दिनों तक बुरे सपने दिखाई देना बंद हो जाए
Romanized Version
गौ माता के बारे में माना जाता है कि गौ माता की पूजा करने से कुंडली के दोष समाप्त हो जाते हैं प्रतिदिन गौ माता के नेत्र के दर्शन करें तो जीवन में लाभ ही लाभ होता है यदि रास्ते में जाते समय गौमाता आती है दिखती है तो उन्हें अपने दाहिने से जाने दें तो निश्चित ही हमारी यात्रा सफल होती है ऐसा माना जाता है कि हमें हमेशा बुरे सपने दिखाई देते हैं तो वह माता का नाम लेंगे तो कुछ दिनों तक बुरे सपने दिखाई देना बंद हो जाएGau Mata Ke Baare Mein Mana Jata Hai Ki Gau Mata Ki Puja Karne Se Kundali Ke Dosh Samapt Ho Jaate Hain Pratidin Gau Mata Ke Netarr Ke Darshan Karen To Jeevan Mein Labh Hi Labh Hota Hai Yadi Raste Mein Jaate Samay Gaumata Aati Hai Dikhti Hai To Unhen Apne Dahine Se Jaane Dein To Nishchit Hi Hamari Yatra Safal Hoti Hai Aisa Mana Jata Hai Ki Hume Hamesha Bure Sapne Dikhai Dete Hain To Wah Mata Ka Naam Lenge To Kuch Dinon Tak Bure Sapne Dikhai Dena Band Ho Jaye
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंगा नदी तट पर में स्वच्छता बनाए रखने के लिए नमामि गंगे जागृति यात्रा का शुभारंभ किया यह अभियान उत्तर प्रदेश होमगार्ड्स स्वयंसेवकों द्वारा गंगा नदी के किनारे स्थित 25 जिलों में स्वच्छता और नदी की बहती बहती प्रकृति को बनाए रखने के लिए जागरूकता फैलाने के लिए आयोजित किया गया है
Romanized Version
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंगा नदी तट पर में स्वच्छता बनाए रखने के लिए नमामि गंगे जागृति यात्रा का शुभारंभ किया यह अभियान उत्तर प्रदेश होमगार्ड्स स्वयंसेवकों द्वारा गंगा नदी के किनारे स्थित 25 जिलों में स्वच्छता और नदी की बहती बहती प्रकृति को बनाए रखने के लिए जागरूकता फैलाने के लिए आयोजित किया गया हैUttar Pradesh Ke Mukhyamantri Yogi Adityanath Ne Ganga Nadi Tat Par Mein Svachchhata Banaye Rakhne Ke Liye Namami Gange Jagriti Yatra Ka Shubharambh Kiya Yeh Abhiyan Uttar Pradesh Homgards Swayansevakon Dwara Ganga Nadi Ke Kinare Sthit 25 Jilon Mein Svachchhata Aur Nadi Ki Behti Behti Prakriti Ko Banaye Rakhne Ke Liye Jagrukta Phailane Ke Liye Aayojit Kiya Gaya Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन स्वास्थ्य वचन क्या है तो सॉरी बच्चन का मंत्र का अर्थ मैं आप को बता देता हूं हमारे देश का यह प्राचीन आया प्राचीन परंपरा रही है कि जब कभी भी हम कोई कार्य प्रारंभ करते हैं यह कोई भी कार्य को शुरु करते हैं तो उसमें मंगल की कामना करते हैं और सब सबसे पहले जो है मंगल मूर्ति गणेश का प्रार्थना करते हैं और इसके लिए दो नाम हमारे सामने आते हैं पहला जो है श्री गणेश और दूसरे है जय गणेश श्री गणेश का अर्थ होता है कि जब हम किसी कार्य को आरंभ करते हैं तो इसका नाम के साथ उस कार्य का शुरूआत करते हैं और जब गणेश का अर्थ होता है कि अब यह कार्य समाप्त हो रहा है प्राचीन काल से ही वैदिक मंत्रों में आज इतनी रुचियां आई है उनके चिंतन बच्चन और अलौकिक दिव्य शक्ति की प्राप्ति होती है मन शांत होता है तो किसी भी शुभ शुभ कार्य को प्रारंभ करने से पहले विवाह वजह से तिलक किया कोई भी शुभ कार्य से पहले यह जो है मांगलिक कार्य होता है तो या एक का गृह विज्ञान है जिसे समझने की आवश्यकता है
Romanized Version
लेकिन स्वास्थ्य वचन क्या है तो सॉरी बच्चन का मंत्र का अर्थ मैं आप को बता देता हूं हमारे देश का यह प्राचीन आया प्राचीन परंपरा रही है कि जब कभी भी हम कोई कार्य प्रारंभ करते हैं यह कोई भी कार्य को शुरु करते हैं तो उसमें मंगल की कामना करते हैं और सब सबसे पहले जो है मंगल मूर्ति गणेश का प्रार्थना करते हैं और इसके लिए दो नाम हमारे सामने आते हैं पहला जो है श्री गणेश और दूसरे है जय गणेश श्री गणेश का अर्थ होता है कि जब हम किसी कार्य को आरंभ करते हैं तो इसका नाम के साथ उस कार्य का शुरूआत करते हैं और जब गणेश का अर्थ होता है कि अब यह कार्य समाप्त हो रहा है प्राचीन काल से ही वैदिक मंत्रों में आज इतनी रुचियां आई है उनके चिंतन बच्चन और अलौकिक दिव्य शक्ति की प्राप्ति होती है मन शांत होता है तो किसी भी शुभ शुभ कार्य को प्रारंभ करने से पहले विवाह वजह से तिलक किया कोई भी शुभ कार्य से पहले यह जो है मांगलिक कार्य होता है तो या एक का गृह विज्ञान है जिसे समझने की आवश्यकता हैLekin Swasthya Vachan Kya Hai To Sorry Bachchan Ka Mantra Ka Arth Main Aap Ko Bata Deta Hoon Hamare Desh Ka Yeh Prachin Aaya Prachin Parampara Rahi Hai Ki Jab Kabhi Bhi Hum Koi Karya Prarambh Karte Hain Yeh Koi Bhi Karya Ko Shuru Karte Hain To Usamen Mangal Ki Kaamna Karte Hain Aur Sab Sabse Pehle Jo Hai Mangal Murti Ganesh Ka Prarthana Karte Hain Aur Iske Liye Do Naam Hamare Samane Aate Hain Pehla Jo Hai Shri Ganesh Aur Dusre Hai Jai Ganesh Shri Ganesh Ka Arth Hota Hai Ki Jab Hum Kisi Karya Ko Aarambh Karte Hain To Iska Naam Ke Saath Us Karya Ka Shuruat Karte Hain Aur Jab Ganesh Ka Arth Hota Hai Ki Ab Yeh Karya Samapt Ho Raha Hai Prachin Kaal Se Hi Vaidik Mantron Mein Aaj Itni Ruchiyan Eye Hai Unke Chintan Bachchan Aur Alaukik Divya Shakti Ki Prapti Hoti Hai Man Shaant Hota Hai To Kisi Bhi Shubha Shubha Karya Ko Prarambh Karne Se Pehle Vivah Wajah Se Tilak Kiya Koi Bhi Shubha Karya Se Pehle Yeh Jo Hai Manglik Karya Hota Hai To Ya Ek Ka Grah Vigyan Hai Jise Samjhne Ki Avashyakta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे कि आपने पूछा सावन में कौन सा व्रत करने पर प्रसन्न होते हैं भगवान शिव तो सबको पता है सावन में श्रृंगार ही होता है सावन में जो सोमवार व्रत होता है हर सोमवार के दिन सावन का अचार संभाजी होता है और सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करती है लड़कियां भी करती हैं महिलाएं भी करती है ताकि भगवान ज्यादा पसंद हो तो यह हद मंडे को सोमवार को सवाल नहीं होता है
Romanized Version
जैसे कि आपने पूछा सावन में कौन सा व्रत करने पर प्रसन्न होते हैं भगवान शिव तो सबको पता है सावन में श्रृंगार ही होता है सावन में जो सोमवार व्रत होता है हर सोमवार के दिन सावन का अचार संभाजी होता है और सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करती है लड़कियां भी करती हैं महिलाएं भी करती है ताकि भगवान ज्यादा पसंद हो तो यह हद मंडे को सोमवार को सवाल नहीं होता हैJaise Ki Aapne Poocha Sawan Mein Kaun Sa Vrat Karne Par Prasann Hote Hain Bhagwan Shiv To Sabko Pata Hai Sawan Mein Shrringar Hi Hota Hai Sawan Mein Jo Somwar Vrat Hota Hai Har Somwar Ke Din Sawan Ka Achaar Sambhaji Hota Hai Aur Somwar Ke Din Bhagwan Shiv Ki Puja Karti Hai Ladkiyan Bhi Karti Hain Mahilaye Bhi Karti Hai Taki Bhagwan Jyada Pasand Ho To Yeh Had Monday Ko Somwar Ko Sawal Nahi Hota Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदीप क्या है तो मेरे सबसे हिट परंपरा बोल सकते हैं या कुछ बोल सकते हैं जैसे कि एक गंभीर समारोह जिसमें एक निर्धारित आदेश के अनुसार किए गए कार्यों की संख्या शामिल होती है उसे भी कहते हैं कि आप यह भी बोल सकते हैं धार्मिक या गंभीर संस्कार के रूप में उस से संबोधित करने वाले काम को भी जागृत कर सकते हैं
Romanized Version
प्रदीप क्या है तो मेरे सबसे हिट परंपरा बोल सकते हैं या कुछ बोल सकते हैं जैसे कि एक गंभीर समारोह जिसमें एक निर्धारित आदेश के अनुसार किए गए कार्यों की संख्या शामिल होती है उसे भी कहते हैं कि आप यह भी बोल सकते हैं धार्मिक या गंभीर संस्कार के रूप में उस से संबोधित करने वाले काम को भी जागृत कर सकते हैंPradeep Kya Hai To Mere Sabse Hit Parampara Bol Sakte Hain Ya Kuch Bol Sakte Hain Jaise Ki Ek Gambhir Samaroh Jisme Ek Nirdharit Aadesh Ke Anusar Kiye Gaye Kaaryon Ki Sankhya Shamil Hoti Hai Use Bhi Kehte Hain Ki Aap Yeh Bhi Bol Sakte Hain Dharmik Ya Gambhir Sanskar Ke Roop Mein Us Se Sambodhit Karne Wale Kaam Ko Bhi Jaagarrit Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गोद भराई की अगर बात करें तो गोद भराई तो है को एक रचना है जो कि मां के लिए और उनके होने वाले बच्चे के लिए किए जाते हैं इसमें जो है वह मां की गोद में बहुत सारी चीजें रखी जाती है रखा जाता है धंधा में सर को संपन्न किया जाता है ताकि आने वाले जो फ्यूचर है वह बहुत अच्छा हो सके
Romanized Version
गोद भराई की अगर बात करें तो गोद भराई तो है को एक रचना है जो कि मां के लिए और उनके होने वाले बच्चे के लिए किए जाते हैं इसमें जो है वह मां की गोद में बहुत सारी चीजें रखी जाती है रखा जाता है धंधा में सर को संपन्न किया जाता है ताकि आने वाले जो फ्यूचर है वह बहुत अच्छा हो सकेGod Bharaii Ki Agar Baat Karein Toh God Bharaii Toh Hai Ko Ek Rachna Hai Jo Ki Maa Ke Liye Aur Unke Hone Wale Bacche Ke Liye Kiye Jaate Hain Ismein Jo Hai Wah Maa Ki God Mein Bahut Saree Cheezen Rakhi Jati Hai Rakha Jata Hai Dhandha Mein Sar Ko Sanpann Kiya Jata Hai Taki Aane Wale Jo Future Hai Wah Bahut Accha Ho Sake
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुपति प्रथा क्या है यह सामाजिक प्रथा है जिसमें स्त्री के एक से अधिक पति होते हैं
Romanized Version
बहुपति प्रथा क्या है यह सामाजिक प्रथा है जिसमें स्त्री के एक से अधिक पति होते हैंBahupati Pratha Kya Hai Yeh Samajik Pratha Hai Jisme Stree Ke Ek Se Adhik Pati Hote Hain
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अभिवादन स्वरूप हाथ मिलाना या 5 गुना यह एक परंपरा चली आ रही है लेकिन इसका साइंटिफिक या आध्यात्मिक या प्राकृतिक असर रहता है असर पड़ता है बिल्कुल पड़ता है इस पर हॉट दर्शनी दर्शन और स्पर्श करना इसलिए हम मंदिर में दर्शन करने जाते हैं कोई महात्मा संत आ जाता है दर्शन करने के लिए दौड़ते हैं दर्शन लाभ मिलता है और इस पर से भी लाभ मिलता है किसी को भी स्पर्श करें तो उसके अंदर जो गुण विद्यमान होते हैं वह आपके अंदर घुसने की क्रिया शुरू हो जाती है यदि किसी से भी आप मिलेंगे आप हाथ मिलाएंगे तो उसके अंदर जो एनर्जी होगी यह तो उसके पास एनर्जी नेगेटिव है तो आपके पास नेगेटिव आएगी उसके पास पॉजिटिव है तो आपके पास फौजी दवाई इसी तरह से स्पर्श चरण करते हैं तो चरण स्पर्श करने से एनर्जी आपके अंदर आएगी यह दो है पॉजिटिव है सामने वाला तो उसकी मर्जी आपकी अंदर आएगी यह जो नेगेटिव है तो आपके अंदर नेगेटिव एनर्जी यही है कि एनर्जी निश्चित ही आती है इसलिए डोंट टच माय बॉडी इसलिए बापू जो प्रवचन देते हैं उसमें कहते हैं कि आप कुछ भी बोलिए डोंट टच माय बॉडी स्पर्श नहीं करना चाहे आपका दोस्त तो फ्रेंड हो मित्र हो गर्लफ्रेंड हो कोई भी हो या नहीं आप बात करिए कुछ भी करिए डोंट टच माय बॉडी उसमें कोई दोष नहीं है यह जो आपने स्पर्श किया तो हर दोस्त शुरू हो जाता है चाय
Romanized Version
देखिए अभिवादन स्वरूप हाथ मिलाना या 5 गुना यह एक परंपरा चली आ रही है लेकिन इसका साइंटिफिक या आध्यात्मिक या प्राकृतिक असर रहता है असर पड़ता है बिल्कुल पड़ता है इस पर हॉट दर्शनी दर्शन और स्पर्श करना इसलिए हम मंदिर में दर्शन करने जाते हैं कोई महात्मा संत आ जाता है दर्शन करने के लिए दौड़ते हैं दर्शन लाभ मिलता है और इस पर से भी लाभ मिलता है किसी को भी स्पर्श करें तो उसके अंदर जो गुण विद्यमान होते हैं वह आपके अंदर घुसने की क्रिया शुरू हो जाती है यदि किसी से भी आप मिलेंगे आप हाथ मिलाएंगे तो उसके अंदर जो एनर्जी होगी यह तो उसके पास एनर्जी नेगेटिव है तो आपके पास नेगेटिव आएगी उसके पास पॉजिटिव है तो आपके पास फौजी दवाई इसी तरह से स्पर्श चरण करते हैं तो चरण स्पर्श करने से एनर्जी आपके अंदर आएगी यह दो है पॉजिटिव है सामने वाला तो उसकी मर्जी आपकी अंदर आएगी यह जो नेगेटिव है तो आपके अंदर नेगेटिव एनर्जी यही है कि एनर्जी निश्चित ही आती है इसलिए डोंट टच माय बॉडी इसलिए बापू जो प्रवचन देते हैं उसमें कहते हैं कि आप कुछ भी बोलिए डोंट टच माय बॉडी स्पर्श नहीं करना चाहे आपका दोस्त तो फ्रेंड हो मित्र हो गर्लफ्रेंड हो कोई भी हो या नहीं आप बात करिए कुछ भी करिए डोंट टच माय बॉडी उसमें कोई दोष नहीं है यह जो आपने स्पर्श किया तो हर दोस्त शुरू हो जाता है चायDekhie Abhivadan Swaroop Hath Milana Ya 5 Guna Yeh Ek Parampara Chali Aa Rahi Hai Lekin Iska Scientific Ya Aadhyatmik Ya Prakritik Asar Rehta Hai Asar Padta Hai Bilkul Padta Hai Is Par Hot Darshani Darshan Aur Sparsh Karna Isliye Hum Mandir Mein Darshan Karne Jaate Hain Koi Mahatma Sant Aa Jata Hai Darshan Karne Ke Liye Daurte Hain Darshan Labh Milta Hai Aur Is Par Se Bhi Labh Milta Hai Kisi Ko Bhi Sparsh Karein Toh Uske Andar Jo Gun Vidyaman Hote Hain Wah Aapke Andar Ghusane Ki Kriya Shuru Ho Jati Hai Yadi Kisi Se Bhi Aap Milenge Aap Hath Milayenge Toh Uske Andar Jo Energy Hogi Yeh Toh Uske Paas Energy Negative Hai Toh Aapke Paas Negative Aayegi Uske Paas Positive Hai Toh Aapke Paas Fauji Dawai Isi Tarah Se Sparsh Charan Karte Hain Toh Charan Sparsh Karne Se Energy Aapke Andar Aayegi Yeh Do Hai Positive Hai Saamne Vala Toh Uski Marji Aapki Andar Aayegi Yeh Jo Negative Hai Toh Aapke Andar Negative Energy Yahi Hai Ki Energy Nishchit Hi Aati Hai Isliye Dont Touch My Body Isliye Bapu Jo Pravachan Dete Hain Usmein Kehte Hain Ki Aap Kuch Bhi Bolie Dont Touch My Body Sparsh Nahi Karna Chahe Aapka Dost Toh Friend Ho Mitra Ho Girlfriend Ho Koi Bhi Ho Ya Nahi Aap Baat Kariye Kuch Bhi Kariye Dont Touch My Body Usmein Koi Dosh Nahi Hai Yeh Jo Aapne Sparsh Kiya Toh Har Dost Shuru Ho Jata Hai Chai
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज चूड़ाकर्म जिसे मुंडन संस्कार भी कहते हैं मुंडन संस्कार में पहली बार जो बच्चे होते हैं उनके सर के बाल को हटाए जाते हैं और देखा जाए तो यह जो संस्कार है वह 1 वर्ष पूरा होने तक या फिर तीसरे वर्ष में कराए जाते हैं
Romanized Version
आज चूड़ाकर्म जिसे मुंडन संस्कार भी कहते हैं मुंडन संस्कार में पहली बार जो बच्चे होते हैं उनके सर के बाल को हटाए जाते हैं और देखा जाए तो यह जो संस्कार है वह 1 वर्ष पूरा होने तक या फिर तीसरे वर्ष में कराए जाते हैंAaj Chudakarm Jise Mundan Sanskar Bhi Kehte Hain Mundan Sanskar Mein Pehli Baar Jo Bacche Hote Hain Unke Sar Ke Baal Ko Hataye Jaate Hain Aur Dekha Jaye Toh Yeh Jo Sanskar Hai Wah 1 Varsh Pura Hone Tak Ya Phir Teesre Varsh Mein Karae Jaate Hain
Likes  21  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उपनयन संस्कार गुप्त काल में किया था जो बालक आश्रम शिक्षक आने के लिए आता था
Romanized Version
उपनयन संस्कार गुप्त काल में किया था जो बालक आश्रम शिक्षक आने के लिए आता थाUpnayan Sanskar Gupt Kaal Mein Kiya Tha Jo Balak Aashram Shikshak Aane Ke Liye Aata Tha
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक चुटकी सिंदूर की कीमत एक सुहागन औरत की निशानी होती है औरत जानती है पति जीवित है का एक निशानी होती है धन्यवाद
Romanized Version
एक चुटकी सिंदूर की कीमत एक सुहागन औरत की निशानी होती है औरत जानती है पति जीवित है का एक निशानी होती है धन्यवादEk Chutakee Sindoor Ki Kimat Ek Suhagan Aurat Ki Nishani Hoti Hai Aurat Jaanti Hai Pati Jeevit Hai Ka Ek Nishani Hoti Hai Dhanyavad
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon
vokalandroid