tag_img

मानसिक

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने सुना ही होगा मन के हारे जीत है मन के माने हार इसलिए आपसे बताना चाहूंगा की समस्या बड़ी समस्या नहीं है यह तो आपके लक्ष्य आपके लक्ष्य के प्रति जो आपका जुनून है अपने आप से कम कर देगा परंतु अपनी मानसिक समस्याओं को दूर करना चाहिए आपको एक फ्री माइंड चाहिए एक लक्ष्य बनाना चाहिए आपको उसका एक चलना चाहिए उसमें रोज उसके तपस्या करनी चाहिए यह के साथ आपके शुभ शुभ भविष्य की कामना करता हूं
Romanized Version
आपने सुना ही होगा मन के हारे जीत है मन के माने हार इसलिए आपसे बताना चाहूंगा की समस्या बड़ी समस्या नहीं है यह तो आपके लक्ष्य आपके लक्ष्य के प्रति जो आपका जुनून है अपने आप से कम कर देगा परंतु अपनी मानसिक समस्याओं को दूर करना चाहिए आपको एक फ्री माइंड चाहिए एक लक्ष्य बनाना चाहिए आपको उसका एक चलना चाहिए उसमें रोज उसके तपस्या करनी चाहिए यह के साथ आपके शुभ शुभ भविष्य की कामना करता हूंAapne Suna Hea Hoga Mana K Haare Jeet Hai Mana K Mane Haar Eeslie Aapse Batana Chahunga Ki Samasya Badi Samasya Nahin Hai Yeh To Aapke Lakshya Aapke Lakshya K Prati Joe Aapka Junoon Hai Apne Aap Se Come Car Dega Parantu Apni Mansik Samasyaoon Co Dur Krna Chahie Aapko Ek Free Mind Chahie Ek Lakshya Banana Chahie Aapko Uska Ek Chalana Chahie Usme Roj Uske Tapasya Karni Chahie Yeh K Sathe Aapke Shubh Shubh Bhavishya Ki Kamna Karata Hoon
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप मेंटल स्ट्रेस की बात करें तो बिल्कुल यह सेक्स लाइफ कोई फर्क पड़ता है क्योंकि कोई भी काम अगर आप से चैट में रहते हैं मेंटल स्ट्रेस में जाए वह सेक्स लाई हो या कोई भी लाइफ हो तो बताएं आर्टिस्ट के बहुत सारे कारण हो सकते हैं जैसे कि आज नामली जो होता है क्या-क्या बस स्टैंड से लेकर कुल्लू सेक्स करते हैं तो आपको सेक्स का आनंद नहीं ले पाएंगे जो आपको आनंददायक फ्री होकर सेक्स करने का आनंद नहीं ले पाते हैं
Romanized Version
अगर आप मेंटल स्ट्रेस की बात करें तो बिल्कुल यह सेक्स लाइफ कोई फर्क पड़ता है क्योंकि कोई भी काम अगर आप से चैट में रहते हैं मेंटल स्ट्रेस में जाए वह सेक्स लाई हो या कोई भी लाइफ हो तो बताएं आर्टिस्ट के बहुत सारे कारण हो सकते हैं जैसे कि आज नामली जो होता है क्या-क्या बस स्टैंड से लेकर कुल्लू सेक्स करते हैं तो आपको सेक्स का आनंद नहीं ले पाएंगे जो आपको आनंददायक फ्री होकर सेक्स करने का आनंद नहीं ले पाते हैंAgar Aap Mental Stress Ki Baat Karen To Bilkul Yeh Sex Life Koi Fark Padata Hai Kyonki Koi Bhi Kaam Agar Aap Se Chat Mein Rehte Hain Mental Stress Mein Jaye Wah Sex Lai Ho Ya Koi Bhi Life Ho To Bataen Artist Ke Bahut Sare Kaaran Ho Sakte Hain Jaise Ki Aaj Namli Jo Hota Hai Kya Kya Bus Stand Se Lekar Kullu Sex Karte Hain To Aapko Sex Ka Anand Nahi Le Paenge Jo Aapko Anandadayak Free Hokar Sex Karne Ka Anand Nahi Le Paate Hain
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पिछला प्रमोशन लिस्ट इन चीजों से नहीं आप ऐसा कोई कार्य नहीं करते जो सुबह 8:00 बजे तक नहीं दिखाना चाहते हैं ऐसा किसी से प्यार में रहती है उस में कुछ खराबी है अगर ऐसा कुछ लगता है तो मेरे को कहीं ना कहीं तो आपकी प्रॉब्लम को समझें और आपको बता सकते क्या आप के लिए बेस्ट क्या ऑप्शन रहेगा
Romanized Version
पिछला प्रमोशन लिस्ट इन चीजों से नहीं आप ऐसा कोई कार्य नहीं करते जो सुबह 8:00 बजे तक नहीं दिखाना चाहते हैं ऐसा किसी से प्यार में रहती है उस में कुछ खराबी है अगर ऐसा कुछ लगता है तो मेरे को कहीं ना कहीं तो आपकी प्रॉब्लम को समझें और आपको बता सकते क्या आप के लिए बेस्ट क्या ऑप्शन रहेगाPichla Promotion List In Chijon Se Nahi Aap Aisa Koi Karya Nahi Karte Jo Subah 8:00 Baje Tak Nahi Dikhana Chahte Hain Aisa Kisi Se Pyar Mein Rehti Hai Us Mein Kuch Kharabi Hai Agar Aisa Kuch Lagta Hai To Mere Ko Kahin Na Kahin To Aapki Problem Ko Samajhe Aur Aapko Bata Sakte Kya Aap Ke Liye Best Kya Option Rahega
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानसिक तनाव दूर करने के लिए आप सुबह जल्दी उठी है थोड़ा सा योगा करिए और जो छोटी-छोटी काम होते हैं उनमें आप मन लगाइए कि जितना ज्यादा आप अपने आपको बिजी रख पाओगे उतना ज्यादा बैटर है इन्हीं शैली यह करना ही पड़ेगा वह बताना कि चंदन यादव को छोड़ सकते हैं कंटीन्यूअसली 5 डेज अगर लगातार काम कर रहे तुम तो छोटी छोटी आनी पड़ेगी जो स्टार्टिंग में आफ फ्रेंड्स जोन में रहो जितने ज्यादा बिजी रख को अपने आपको क्योंकि आपका दिमाग तो नहीं सोचेगा बातें तो दिमाग में बात ही कहां से आई तो इसलिए
Romanized Version
मानसिक तनाव दूर करने के लिए आप सुबह जल्दी उठी है थोड़ा सा योगा करिए और जो छोटी-छोटी काम होते हैं उनमें आप मन लगाइए कि जितना ज्यादा आप अपने आपको बिजी रख पाओगे उतना ज्यादा बैटर है इन्हीं शैली यह करना ही पड़ेगा वह बताना कि चंदन यादव को छोड़ सकते हैं कंटीन्यूअसली 5 डेज अगर लगातार काम कर रहे तुम तो छोटी छोटी आनी पड़ेगी जो स्टार्टिंग में आफ फ्रेंड्स जोन में रहो जितने ज्यादा बिजी रख को अपने आपको क्योंकि आपका दिमाग तो नहीं सोचेगा बातें तो दिमाग में बात ही कहां से आई तो इसलिएMansik Tanav Dur Karne K Lie Aap Subeha Jaldi Uthii Hai Thoda Sa Yoga Kariye Aur Joe Choti Choti Kama Hote Hain Unme Aap Mana Lagaaiye Qi Jitna Jyada Aap Apne Aapko Busi Rakh Paoge Utana Jyada Batter Hai Inheen Shaily Yeh Krna Hea Padega Wah Batana Qi Chandan Yadav Co Chod Sakte Hain Kantinyuasali 5 Days Agar Lagataar Kama Car Rahe Tum To Choti Choti Aani Padegi Joe Starting Mein Af Friends Zon Mein Raho Jitne Jyada Busi Rakh Co Apne Aapko Kyonki Aapka Dimag To Nahin Sochega Batein To Dimag Mein Baat Hea Kahan Se I To Eeslie
Likes  7  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानसिक संतुलन बनाने के लिए सबसे इंपोर्टेंट होता है कि हमारे मन को हमेशा फ्री सनी कि जब भी किसी भी बात में कचरा भर जाता है कोई भी चीज हो तो वह खराब नहीं लगती इसलिए हमारे माइंड में कभी कचरा ना भाई नहीं फालतू की सोच में नौकरी यहां-वहां दिमाग मत लगा है उसे अपने आप पढ़ाई पर ध्यान दे फालतू की जनता का नहीं लगती हो उससे आपकी मानसिक संतुलन है वह बता दिया सबसे ज्यादा ही काम है उसी का उपाय और हमेशा अपने माइंड को फ्रेश किसी भी चीज की दिक्कत
Romanized Version
मानसिक संतुलन बनाने के लिए सबसे इंपोर्टेंट होता है कि हमारे मन को हमेशा फ्री सनी कि जब भी किसी भी बात में कचरा भर जाता है कोई भी चीज हो तो वह खराब नहीं लगती इसलिए हमारे माइंड में कभी कचरा ना भाई नहीं फालतू की सोच में नौकरी यहां-वहां दिमाग मत लगा है उसे अपने आप पढ़ाई पर ध्यान दे फालतू की जनता का नहीं लगती हो उससे आपकी मानसिक संतुलन है वह बता दिया सबसे ज्यादा ही काम है उसी का उपाय और हमेशा अपने माइंड को फ्रेश किसी भी चीज की दिक्कतMansik Santulan Banane Ke Liye Sabse Important Hota Hai Ki Hamare Man Ko Hamesha Free Sunny Ki Jab Bhi Kisi Bhi Baat Mein Kachra Bhar Jata Hai Koi Bhi Cheez Ho To Wah Kharab Nahi Lagti Isliye Hamare Mind Mein Kabhi Kachra Na Bhai Nahi Faltu Ki Soch Mein Naukri Yahan Wahan Dimag Mat Laga Hai Use Apne Aap Padhai Par Dhyan De Faltu Ki Janta Ka Nahi Lagti Ho Usse Aapki Mansik Santulan Hai Wah Bata Diya Sabse Jyada Hi Kaam Hai Ussi Ka Upay Aur Hamesha Apne Mind Ko Fresh Kisi Bhi Cheez Ki Dikkat
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की भारत में मानसिक बीमारी के लिए बहुत सारी अवधारणाएं अलग अलग अलग तरीके से सोचते हैं मानसिक बीमारी के लिए जादू मंत्र टोना स्त्री की चीजें सोचते हैं तो आप प्लीज मदद कीजिए चीजें चल रही है आज से नहीं बहुत पहले से चल रहे हो सब के दिमाग में यही बसा हुआ किसी ने किसी से कहा प्रॉब्लम होती है तो इसीलिए जो डॉक्टर के पास जाएं हेल्प नहीं लेते
Romanized Version
आज की भारत में मानसिक बीमारी के लिए बहुत सारी अवधारणाएं अलग अलग अलग तरीके से सोचते हैं मानसिक बीमारी के लिए जादू मंत्र टोना स्त्री की चीजें सोचते हैं तो आप प्लीज मदद कीजिए चीजें चल रही है आज से नहीं बहुत पहले से चल रहे हो सब के दिमाग में यही बसा हुआ किसी ने किसी से कहा प्रॉब्लम होती है तो इसीलिए जो डॉक्टर के पास जाएं हेल्प नहीं लेतेAaj Ki Bharat Mein Mansik Bimari Ke Liye Bahut Saree Avdharnaen Alag Alag Alag Tarike Se Sochte Hain Mansik Bimari Ke Liye Jadu Mantra Tona Stri Ki Cheezen Sochte Hain To Aap Please Madad Kijiye Cheezen Chal Rahi Hai Aaj Se Nahi Bahut Pehle Se Chal Rahe Ho Sab Ke Dimag Mein Yahi Basa Hua Kisi Ne Kisi Se Kaha Problem Hoti Hai To Isliye Jo Doctor Ke Paas Jayen Help Nahi Lete
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं अच्छी मानसिक स्वास्थ्य के सबसे बड़े लक्ष्मी है कि एक तो आपको टाइम पर नींद आ जाती है आप मतलब टाइम से उठ रहे हैं टाइम से सो रहे हैं दूसरा आपको हार्दिक नहीं हो रहा है कंटिन्यू असली या फिर जैसे कई बार ऐसा होता है कि हम उठते हैं बहुत तेज सर दर्द के साथ या हमें चक्कर आते इसलिए किसी से नफरत नहीं हो रही है इसके लाभ अच्छा मानसिक स्वास्थ्य के लक्षण यह भी है कि आप खुश रह रहे हैं आप सादर श्रेष्ठ नहीं ले रहे हैं आप ज्यादा डिप्रेशन में नहीं है आप खुश हैं तो यह दिखाते कि आपको जो मानसिक जो सोचते हैं वह एकदम सही है
Romanized Version
नहीं अच्छी मानसिक स्वास्थ्य के सबसे बड़े लक्ष्मी है कि एक तो आपको टाइम पर नींद आ जाती है आप मतलब टाइम से उठ रहे हैं टाइम से सो रहे हैं दूसरा आपको हार्दिक नहीं हो रहा है कंटिन्यू असली या फिर जैसे कई बार ऐसा होता है कि हम उठते हैं बहुत तेज सर दर्द के साथ या हमें चक्कर आते इसलिए किसी से नफरत नहीं हो रही है इसके लाभ अच्छा मानसिक स्वास्थ्य के लक्षण यह भी है कि आप खुश रह रहे हैं आप सादर श्रेष्ठ नहीं ले रहे हैं आप ज्यादा डिप्रेशन में नहीं है आप खुश हैं तो यह दिखाते कि आपको जो मानसिक जो सोचते हैं वह एकदम सही हैNahi Acchi Mansik Swasthya Ke Sabse Bade Laxmi Hai Ki Ek To Aapko Time Par Neend Aa Jati Hai Aap Matlab Time Se Uth Rahe Hain Time Se So Rahe Hain Doosra Aapko Hardik Nahi Ho Raha Hai Continue Asli Ya Phir Jaise Kai Baar Aisa Hota Hai Ki Hum Uthte Hain Bahut Tez Sar Dard Ke Saath Ya Hume Chakkar Aate Isliye Kisi Se Nafrat Nahi Ho Rahi Hai Iske Labh Accha Mansik Swasthya Ke Lakshan Yeh Bhi Hai Ki Aap Khush Rah Rahe Hain Aap Sadar Shreshtha Nahi Le Rahe Hain Aap Jyada Depression Mein Nahi Hai Aap Khush Hain To Yeh Dikhate Ki Aapko Jo Mansik Jo Sochte Hain Wah Ekdam Sahi Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बड़े बुजुर्गों ने एक कहावत कही है वह ध्यान से सुने आप क्यों ऐसी करनी करें क्यों करके पछताए और काम बिगाड़े आपनो जग में होत होता है आपने कहा धोखा खाकर विचलित होना अरे भाई आप क्यों पहले मैं देखभाल कर ना चले देशभक्तों का जब भी मिल सकता है आदमी को जवाब भी असावधानी से चलता बिना विचारी किसी कार्य को करता है जो उसने एक्साइटमेंट नहीं आई बोस्टन ऊपर की किसी कार्य को हाथ में लेना और उसने ब्लाइंड ऊपर क्लिक करना प्राप्त होता है क्योंकि आज का जमाना स्वार्थी लोगों का है 37 लोगों का है चालाक लोगों का है जो सिर्फ अपने काम के लिए मानव को यूज करते हैं आज एंड यूज एंड थ्रो का जमाना है आदमी आपसे तभी तक बात करेगा तब तक इसका स्वास्थ्य जैसी उसका स्वार्थ निकल जाता है तो यूज एंड थ्रो और आपको बार निकाल देगा आज तुम किसी से भी नहीं कह सकते किसी पर इतना नहीं कर सकते आपको सोच समझकर की हर कदम उठाना चाहिए 10 की कुंडली में कहा कि बिना विचारे जो करे सो पाछे पछताय काम बिगाड़े आपनो जग में होत जाए बिना सोचे समझे तो कभी किसी पर ब्लाइंड्ली करना ही नहीं चाहिए कोई कार्य करना नहीं चाहिए अभी भी का परम आपदाओं पदम अभी भी खून किया गए कार्य हमेशा विपत्तियों को निमंत्रण देते हैं इसलिए मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए ध्यान को एकाग्र की सोच विचार करें मंथन करें किसी कार्य को करने से पहले उसके बारे में बहुत सोचा उस को अंजाम दें इसके आपको आराम से मेंटली शांति प्राप्त होगी युवा भी किया करें
बड़े बुजुर्गों ने एक कहावत कही है वह ध्यान से सुने आप क्यों ऐसी करनी करें क्यों करके पछताए और काम बिगाड़े आपनो जग में होत होता है आपने कहा धोखा खाकर विचलित होना अरे भाई आप क्यों पहले मैं देखभाल कर ना चले देशभक्तों का जब भी मिल सकता है आदमी को जवाब भी असावधानी से चलता बिना विचारी किसी कार्य को करता है जो उसने एक्साइटमेंट नहीं आई बोस्टन ऊपर की किसी कार्य को हाथ में लेना और उसने ब्लाइंड ऊपर क्लिक करना प्राप्त होता है क्योंकि आज का जमाना स्वार्थी लोगों का है 37 लोगों का है चालाक लोगों का है जो सिर्फ अपने काम के लिए मानव को यूज करते हैं आज एंड यूज एंड थ्रो का जमाना है आदमी आपसे तभी तक बात करेगा तब तक इसका स्वास्थ्य जैसी उसका स्वार्थ निकल जाता है तो यूज एंड थ्रो और आपको बार निकाल देगा आज तुम किसी से भी नहीं कह सकते किसी पर इतना नहीं कर सकते आपको सोच समझकर की हर कदम उठाना चाहिए 10 की कुंडली में कहा कि बिना विचारे जो करे सो पाछे पछताय काम बिगाड़े आपनो जग में होत जाए बिना सोचे समझे तो कभी किसी पर ब्लाइंड्ली करना ही नहीं चाहिए कोई कार्य करना नहीं चाहिए अभी भी का परम आपदाओं पदम अभी भी खून किया गए कार्य हमेशा विपत्तियों को निमंत्रण देते हैं इसलिए मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए ध्यान को एकाग्र की सोच विचार करें मंथन करें किसी कार्य को करने से पहले उसके बारे में बहुत सोचा उस को अंजाम दें इसके आपको आराम से मेंटली शांति प्राप्त होगी युवा भी किया करें
Likes  85  Dislikes      
WhatsApp_icon
कभी भी ध्यान दें कि आप मानसिक रूप से कितना अच्छा महसूस करते हैं जब आप नियमित रूप से योग का अभ्यास कर रहे होते हैं योग एक मनोविज्ञान है पूरे अभ्यास से हमें मन की प्रकृति मानव होने की प्रकृति हमारे शरीर में भावनाएं कैसे रहती हैं वह हमारे व्यवहार और हमारे दिमाग को कैसे प्रभावित करते हैं उसे अपने स्वयं के आत्म सम्मान के साथ पहचानने और सामना करने में मदद मिली इन पांच तरीकों से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार किया जा सकता है पहला है यहां आप को सहानुभूति तंत्रिका तंत्र से पैरा सिंह पथिक तंत्रिका तंत्र में ले जाता है दूसरा है यहां आपको स्वयं की भावना बनाने में मदद करता है तीसरा है यहां आपके रोमांटिक रिश्ते में सुधार करता है चौथा है यह आपको अपने छाया गुणों से अवगत होने में मदद करता है पांचवा है यह आपको मूल मुद्दों के परिवार से निपटने में मदद करता है। इस प्रकार योग द्वारा मानसिक स्वास्थ्य मदद की जा सकती है
Romanized Version
कभी भी ध्यान दें कि आप मानसिक रूप से कितना अच्छा महसूस करते हैं जब आप नियमित रूप से योग का अभ्यास कर रहे होते हैं योग एक मनोविज्ञान है पूरे अभ्यास से हमें मन की प्रकृति मानव होने की प्रकृति हमारे शरीर में भावनाएं कैसे रहती हैं वह हमारे व्यवहार और हमारे दिमाग को कैसे प्रभावित करते हैं उसे अपने स्वयं के आत्म सम्मान के साथ पहचानने और सामना करने में मदद मिली इन पांच तरीकों से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार किया जा सकता है पहला है यहां आप को सहानुभूति तंत्रिका तंत्र से पैरा सिंह पथिक तंत्रिका तंत्र में ले जाता है दूसरा है यहां आपको स्वयं की भावना बनाने में मदद करता है तीसरा है यहां आपके रोमांटिक रिश्ते में सुधार करता है चौथा है यह आपको अपने छाया गुणों से अवगत होने में मदद करता है पांचवा है यह आपको मूल मुद्दों के परिवार से निपटने में मदद करता है। इस प्रकार योग द्वारा मानसिक स्वास्थ्य मदद की जा सकती हैKabhi Bhi Dhyan Dein Ki Aap Mansik Roop Se Kitna Accha Mahsus Karte Hain Jab Aap Niyamit Roop Se Yog Ka Abhyas Kar Rahe Hote Hain Yog Ek Manovigyan Hai Poore Abhyas Se Hume Man Ki Prakriti Manav Hone Ki Prakriti Hamare Sharir Mein Bhavanae Kaise Rehti Hain Wah Hamare Vyavhar Aur Hamare Dimag Ko Kaise Prabhavit Karte Hain Use Apne Swayam Ke Aatm Samman Ke Saath Pahachanane Aur Samana Karne Mein Madad Mili In Paanch Trikon Se Mansik Swasthya Mein Sudhaar Kiya Ja Sakta Hai Pehla Hai Yahan Aap Ko Sahanubhuti Tantrika Tantra Se Paira Singh Pathik Tantrika Tantra Mein Le Jata Hai Doosra Hai Yahan Aapko Swayam Ki Bhavna Banane Mein Madad Karta Hai Teesra Hai Yahan Aapke Romantic Rishte Mein Sudhaar Karta Hai Chautha Hai Yeh Aapko Apne Chaya Gunon Se Avgat Hone Mein Madad Karta Hai Panchava Hai Yeh Aapko Mul Muddon Ke Parivar Se Nipatane Mein Madad Karta Hai Is Prakar Yog Dwara Mansik Swasthya Madad Ki Ja Sakti Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
1 9 फरवरी, 1 9 0 9 को, बीयर, दार्शनिक विलियम जेम्स और मनोचिकित्सक एडॉल्फ मेयर के साथ, मानसिक स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय समिति, बाद में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य संघ और जिसे हम आज मानसिक स्वास्थ्य अमेरिका के रूप में जानते हैं, ने भविष्य में गले लगा लिया।
Romanized Version
1 9 फरवरी, 1 9 0 9 को, बीयर, दार्शनिक विलियम जेम्स और मनोचिकित्सक एडॉल्फ मेयर के साथ, मानसिक स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय समिति, बाद में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य संघ और जिसे हम आज मानसिक स्वास्थ्य अमेरिका के रूप में जानते हैं, ने भविष्य में गले लगा लिया।1 9 February 1 9 0 9 Ko Beeyar Darshnik William Jems Aur Manochi Edolf Meyar Ke Saath Mansik Swasthya Ke Liye Rashtriya Samiti Baad Mein Rashtriya Mansik Swasthya Sangh Aur Jise Hum Aaj Mansik Swasthya America Ke Roop Mein Jante Hain Ne Bhavishya Mein Gale Laga Liya
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मानसिक स्वास्थ्य निर्धारकों को सबसे पहले m c a d o l s विनियम आवश्यकताओं को पूरा करना होगा मानसिक चिकित्सा में अनुभवी चिकित्सकीय डॉक्टर होना चाहिए या तो मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1983 की धारा 12 के तहत अनुमोदित होना चाहिए या पंजीकृत चिकित्सकीय चिकित्सक विशेष रूचि के साथ GP जैसे मानसिक विकार के निदान या उपचार में कम से कम 3 साल का पोस्ट पंजीकरण अनुभव। इसमें डॉक्टरों को शामिल किया जाता है जिन्हें स्वचालित रूप से धारा 12 के रूप में माना जाता है क्योंकि वह मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1983 के तहत अनुमोदित चिकित्सक हैं
Romanized Version
मानसिक स्वास्थ्य निर्धारकों को सबसे पहले m c a d o l s विनियम आवश्यकताओं को पूरा करना होगा मानसिक चिकित्सा में अनुभवी चिकित्सकीय डॉक्टर होना चाहिए या तो मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1983 की धारा 12 के तहत अनुमोदित होना चाहिए या पंजीकृत चिकित्सकीय चिकित्सक विशेष रूचि के साथ GP जैसे मानसिक विकार के निदान या उपचार में कम से कम 3 साल का पोस्ट पंजीकरण अनुभव। इसमें डॉक्टरों को शामिल किया जाता है जिन्हें स्वचालित रूप से धारा 12 के रूप में माना जाता है क्योंकि वह मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1983 के तहत अनुमोदित चिकित्सक हैंMansik Swasthya Nirdharakon Ko Sabse Pehle M C A D O L S Viniyam Avashayaktao Ko Pura Karna Hoga Mansik Chikitsa Mein Anubhavi Chikitsakiya Doctor Hona Chahiye Ya To Mansik Swasthya Adhiniyam 1983 Ki Dhara 12 Ke Tahat Anumodit Hona Chahiye Ya Panjikrit Chikitsakiya Chikitsak Vishesh Ruchi Ke Saath GP Jaise Mansik Vikar Ke Nidan Ya Upchaar Mein Kam Se Kam 3 Saal Ka Post Panjikaran Anubhav Isme Daktaro Ko Shamil Kiya Jata Hai Jinhen Svachalit Roop Se Dhara 12 Ke Roop Mein Mana Jata Hai Kyonki Wah Mansik Swasthya Adhiniyam 1983 Ke Tahat Anumodit Chikitsak Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
एक मानसिक स्वास्थ्य पर सेवर एक स्वास्थ्य देखभाल व्यवसाय या सामुदायिक सेवा प्रदाता हैं जो किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार या मानसिक विकारों का इलाज करने के उद्देश्य से सेवाएं प्रदान करता है
Romanized Version
एक मानसिक स्वास्थ्य पर सेवर एक स्वास्थ्य देखभाल व्यवसाय या सामुदायिक सेवा प्रदाता हैं जो किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार या मानसिक विकारों का इलाज करने के उद्देश्य से सेवाएं प्रदान करता हैEk Mansik Swasthya Par Sevar Ek Swasthya Dekhbhal Vyavasaya Ya Samudayik Seva Pradata Hain Jo Kisi Vyakti Ke Mansik Swasthya Mein Sudhaar Ya Mansik Vikaron Ka Ilaj Karne Ke Uddeshya Se Sevayen Pradan Karta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मनोचिकित्सकीय नर्सिंग या मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग एक नर्स की नियुक्त स्थिति हैं जो मानसिक स्वास्थ्य में माहिर है और मानसिक बीमारियों का संकट का सामना करने वाले सभी उम्र के लोगों की परवाह करता है
Romanized Version
मनोचिकित्सकीय नर्सिंग या मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग एक नर्स की नियुक्त स्थिति हैं जो मानसिक स्वास्थ्य में माहिर है और मानसिक बीमारियों का संकट का सामना करने वाले सभी उम्र के लोगों की परवाह करता हैManochikitsakiya Nursing Ya Mansik Swasthya Nursing Ek Nurse Ki Niyukt Sthiti Hain Jo Mansik Swasthya Mein Maahir Hai Aur Mansik Bimariyon Ka Sankat Ka Samana Karne Wale Sabhi Umar Ke Logon Ki Parvaah Karta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
डिप्रेशन। डॉ ... A.D.H.D. शॉन स्पेंसर - साइको। ... O.C.D. शेल्डन कूपर - द बिग बैंग थ्योरी। ... आस्पेर्गर सिंड्रोम। अबेड नादिर - समुदाय। ... असामाजिक व्यक्तित्व विकार। शेरलॉक होम्स - शेरलॉक। ... एक प्रकार का पागलपन। ... सामाजिक चिंता। ... शराब।
Romanized Version
डिप्रेशन। डॉ ... A.D.H.D. शॉन स्पेंसर - साइको। ... O.C.D. शेल्डन कूपर - द बिग बैंग थ्योरी। ... आस्पेर्गर सिंड्रोम। अबेड नादिर - समुदाय। ... असामाजिक व्यक्तित्व विकार। शेरलॉक होम्स - शेरलॉक। ... एक प्रकार का पागलपन। ... सामाजिक चिंता। ... शराब।Depression Dr ... A.D.H.D. Shawn Spencer - Psycho ... O.C.D. Sheldon Cooper - D Big Bank Theory Aspergar Syndrome Abed Nadir - Samuday Asamajik Vyaktitva Vikar Sherlock Homes - Sherlock Ek Prakar Ka Paagalpani Samajik Chinta Sharab
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
उसकी बदसूरत रोना और अनंत बुराई के अलावा, टीवी दुनिया में कैरी खड़े होने से मानसिक बीमारी के साथ उसका संघर्ष होता है। द्विध्रुवीय विकार से निपटने वाले सीआईए अधिकारी के रूप में, उसकी बीमारी एक है I
Romanized Version
उसकी बदसूरत रोना और अनंत बुराई के अलावा, टीवी दुनिया में कैरी खड़े होने से मानसिक बीमारी के साथ उसका संघर्ष होता है। द्विध्रुवीय विकार से निपटने वाले सीआईए अधिकारी के रूप में, उसकी बीमारी एक है IUski Badsoorat Rona Aur Anant Burayi Ke Alava Tv Duniya Mein Carry Khade Hone Se Mansik Bimari Ke Saath Uska Sangharsh Hota Hai Dvidhruvey Vikar Se Nipatane Wale CIA Adhikari Ke Roop Mein Uski Bimari Ek Hai I
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
हां टेलीविजन से लोगों में मानसिक तनाव उत्पन्न हो जाता है क्योंकि ज्यादा देर टेलीविजन देखने से लोगों के सर में दर्द हो जाता है और उसके सोचने की शक्ति कम हो जाती है तथा उसके दिमाग में जोर उसने देखा है टेलीविजन में वही वही चलता रहता है इसलिए उसे मानसिक परेशानी आती है!
Romanized Version
हां टेलीविजन से लोगों में मानसिक तनाव उत्पन्न हो जाता है क्योंकि ज्यादा देर टेलीविजन देखने से लोगों के सर में दर्द हो जाता है और उसके सोचने की शक्ति कम हो जाती है तथा उसके दिमाग में जोर उसने देखा है टेलीविजन में वही वही चलता रहता है इसलिए उसे मानसिक परेशानी आती है!Haan Television Se Logon Mein Mansik Tanaav Utpann Ho Jata Hai Kyonki Jyada Der Television Dekhne Se Logon Ke Sar Mein Dard Ho Jata Hai Aur Uske Sochne Ki Shakti Kam Ho Jati Hai Tatha Uske Dimag Mein Jor Usne Dekha Hai Television Mein Wahi Wahi Chalta Rehta Hai Isliye Use Mansik Pareshani Aati Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
मानसिक विकलांगता (एमआर) एक व्यापक विकृति है, जो 18 वर्ष की आयु से पहले दो या दो से अधिक रूपांतरित व्यवहारों में और महत्वपूर्ण रूप से संज्ञानात्मक प्रक्रिया के विकार और न्यूनता के रूप में दिखता है। ऐतिहासिक रूप में इसे बौद्धिक क्षमता (आईक्यू) के 70 के भीतर होने के रूप में परिभाषित किया जाता है।[1] कभी इसे लगभग पूरी तरह अनुभूति पर केंद्रित माना जाता था, पर अब इसकी परिभाषा में मानसिक क्रियाकलाप से संबंधित एक घटक और अपने वातावरण में व्यक्ति के कार्यात्मक कौशल दोनों को शामिल किया जाता है।
Romanized Version
मानसिक विकलांगता (एमआर) एक व्यापक विकृति है, जो 18 वर्ष की आयु से पहले दो या दो से अधिक रूपांतरित व्यवहारों में और महत्वपूर्ण रूप से संज्ञानात्मक प्रक्रिया के विकार और न्यूनता के रूप में दिखता है। ऐतिहासिक रूप में इसे बौद्धिक क्षमता (आईक्यू) के 70 के भीतर होने के रूप में परिभाषित किया जाता है।[1] कभी इसे लगभग पूरी तरह अनुभूति पर केंद्रित माना जाता था, पर अब इसकी परिभाषा में मानसिक क्रियाकलाप से संबंधित एक घटक और अपने वातावरण में व्यक्ति के कार्यात्मक कौशल दोनों को शामिल किया जाता है।Mansik Vikalaangata MR Ek Vyapak Vikriti Hai Jo 18 Varsh Ki Aayu Se Pehle Do Ya Do Se Adhik Rupantarit Vyavhaaron Mein Aur Mahatvapurna Roop Se Sangyaanaatmak Prakriya Ke Vikar Aur Nyunataa Ke Roop Mein Dikhta Hai Aetihasik Roop Mein Ise Baudhik Kshamta IQ Ke 70 Ke Bheetar Hone Ke Roop Mein Paribhashit Kiya Jata Hai Kabhi Ise Lagbhag Puri Tarah Anubhuti Par Kendrit Mana Jata Tha Par Ab Iski Paribhasha Mein Mansik Kriyakalap Se Sambandhit Ek Ghatak Aur Apne Vatavaran Mein Vyakti Ke Karyatmak Kaushal Dono Ko Shamil Kiya Jata Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानसिक तनाव लाने की मेंटल प्रेशर मेंटल टेंशन कहते हैं जब भी किसी चीज का टेंशन हो जैसे कि अगर आप पिता है तो आपके बच्चों को पढ़ने का टेंशन नॉर्मल नहीं किया कर कभी आपको फ्यूचर आपको पता चल जाए क्योंकि बेटा अच्छा मार्क्स नहीं ला रहा है और वह कहीं आग एडमिशन नहीं ले लेगा तो उस टेंशन को मानसिक टेंशन है मानसिक परीक्षण कहते हैं कहीं जॉब कुछ आपको ऐसा काम करने दे दिया गया है जो कि आपके बस के बाहर है आप बहुत ही ज्यादा मेहनत कर रहे हैं वह खत्म ही नहीं हो रहा है तो उसकी से जो पैदा होती है उसे मानसिक प्रेशर कहते हैं कभी ऐसा है कि आप उसे ट्यूशन में जुड़ना है कि आपकी वाइफ आपके घर वालों के साथ नहीं रहना चाहती माता-पिता के साथ दिनभर लड़ाई होती है तो उस कंडीशन में जो कश्मीर करते हैं उसे मानसिक तनाव या मानसिक टेंशन कहते हैं
Romanized Version
मानसिक तनाव लाने की मेंटल प्रेशर मेंटल टेंशन कहते हैं जब भी किसी चीज का टेंशन हो जैसे कि अगर आप पिता है तो आपके बच्चों को पढ़ने का टेंशन नॉर्मल नहीं किया कर कभी आपको फ्यूचर आपको पता चल जाए क्योंकि बेटा अच्छा मार्क्स नहीं ला रहा है और वह कहीं आग एडमिशन नहीं ले लेगा तो उस टेंशन को मानसिक टेंशन है मानसिक परीक्षण कहते हैं कहीं जॉब कुछ आपको ऐसा काम करने दे दिया गया है जो कि आपके बस के बाहर है आप बहुत ही ज्यादा मेहनत कर रहे हैं वह खत्म ही नहीं हो रहा है तो उसकी से जो पैदा होती है उसे मानसिक प्रेशर कहते हैं कभी ऐसा है कि आप उसे ट्यूशन में जुड़ना है कि आपकी वाइफ आपके घर वालों के साथ नहीं रहना चाहती माता-पिता के साथ दिनभर लड़ाई होती है तो उस कंडीशन में जो कश्मीर करते हैं उसे मानसिक तनाव या मानसिक टेंशन कहते हैंMansik Tanaav Lane Ki Mental Pressure Mental Tension Kehte Hain Jab Bhi Kisi Cheez Ka Tension Ho Jaise Ki Agar Aap Pita Hai To Aapke Bacchon Ko Padhne Ka Tension Normal Nahi Kiya Kar Kabhi Aapko Future Aapko Pata Chal Jaye Kyonki Beta Accha Marks Nahi La Raha Hai Aur Wah Kahin Aag Admission Nahi Le Lega To Us Tension Ko Mansik Tension Hai Mansik Parikshan Kehte Hain Kahin Job Kuch Aapko Aisa Kaam Karne De Diya Gaya Hai Jo Ki Aapke Bus Ke Bahar Hai Aap Bahut Hi Jyada Mehnat Kar Rahe Hain Wah Khatam Hi Nahi Ho Raha Hai To Uski Se Jo Paida Hoti Hai Use Mansik Pressure Kehte Hain Kabhi Aisa Hai Ki Aap Use Tuition Mein Judana Hai Ki Aapki Wife Aapke Ghar Walon Ke Saath Nahi Rehna Chahti Mata Pita Ke Saath Dinbhar Ladai Hoti Hai To Us Condition Mein Jo Kashmir Karte Hain Use Mansik Tanaav Ya Mansik Tension Kehte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
lemon का नाम सुनते ही मन फ्रेश हो जाता है। इसकी ताजगी को सभी ने महसूस किया है। इसके गुणों की सीमा नहीं है। नींबू की शिकंजी का प्रचलन होने के पीछे नींबू के फायदेमंद गुण ही है। नीम्बू कब्ज , पाचन , मोटापा , गले में इन्फेक्शन , ब्लड प्रेशर , त्वचा , मांसपेशियों के लिए , बालों के लिए , दांत के लिए लाभकारी होता है।नींबू का उपयोग शारीरिक व मानसिक कमजोरी को दूर करने में भी किया जा सकता है ये कम लोग ही जानते है। नीम्बू गुर्दे की पथरी में , शरीर के तापमान को बनाए रखने में एवम कोलेस्ट्रॉल में भी फायदा करता है।नींबू नींबू ( lemon ) का विटामिन ” C ” रक्त विकार में , विटामिन ” B6 ” पाचन में , विटामिन ” A ” आँखों के लिए , विटामिन ” E ” हार्ट ,सेल्स, इम्यून सिस्टम के लिए लाभकारी होता है।इसके अलावा नीम्बू में पोटेशियम , कैल्शियम , कॉपर , आयरन , ज़िंक , फास्फोरस आदि तत्व पाए जाते है। ये एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है।
Romanized Version
lemon का नाम सुनते ही मन फ्रेश हो जाता है। इसकी ताजगी को सभी ने महसूस किया है। इसके गुणों की सीमा नहीं है। नींबू की शिकंजी का प्रचलन होने के पीछे नींबू के फायदेमंद गुण ही है। नीम्बू कब्ज , पाचन , मोटापा , गले में इन्फेक्शन , ब्लड प्रेशर , त्वचा , मांसपेशियों के लिए , बालों के लिए , दांत के लिए लाभकारी होता है।नींबू का उपयोग शारीरिक व मानसिक कमजोरी को दूर करने में भी किया जा सकता है ये कम लोग ही जानते है। नीम्बू गुर्दे की पथरी में , शरीर के तापमान को बनाए रखने में एवम कोलेस्ट्रॉल में भी फायदा करता है।नींबू नींबू ( lemon ) का विटामिन ” C ” रक्त विकार में , विटामिन ” B6 ” पाचन में , विटामिन ” A ” आँखों के लिए , विटामिन ” E ” हार्ट ,सेल्स, इम्यून सिस्टम के लिए लाभकारी होता है।इसके अलावा नीम्बू में पोटेशियम , कैल्शियम , कॉपर , आयरन , ज़िंक , फास्फोरस आदि तत्व पाए जाते है। ये एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। Lemon Ka Naam Sunte Hi Man Fresh Ho Jata Hai Iski Tajgi Ko Sabhi Ne Mahsus Kiya Hai Iske Gunon Ki Seema Nahi Hai Nimboo Ki Shikanji Ka Parchalan Hone Ke Piche Nimboo Ke Faydemand Gun Hi Hai Nimbu Kabz , Pachan , Motapa , Gale Mein Infection , Blood Pressure , Twacha , Manspeshiyon Ke Liye , Balon Ke Liye , Dant Ke Liye Labhakari Hota Hai Nimboo Ka Upyog Shaaririk V Mansik Kamjori Ko Dur Karne Mein Bhi Kiya Ja Sakta Hai Yeh Kam Log Hi Jante Hai Nimbu Gurde Ki Pathari Mein , Sharir Ke Taapman Ko Banaye Rakhne Mein Evam Cholesterol Mein Bhi Fayda Karta Hai Nimboo Nimboo ( Lemon ) Ka Vitamin ” C ” Rakta Vikar Mein , Vitamin ” B6 ” Pachan Mein , Vitamin ” A ” Aankhon Ke Liye , Vitamin ” E ” Heart Sales Immune System Ke Liye Labhakari Hota Hai Iske Alava Nimbu Mein Potassium , Calcium , Copper , Iron , Zinc , Phosphorus Aadi Tatva Paye Jaate Hai Yeh Antioxidant Se Bharpur Hota Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
चिंता विकार चिंता विकार मानसिक विकारों का एक समूह है जो चिंता और भय की महत्वपूर्ण भावनाओं से विशेषता है। चिंता भविष्य की घटनाओं के बारे में चिंता है और डर वर्तमान की प्रतिक्रिया है आयोजन। इन भावनाओं से शारीरिक लक्षण हो सकते हैं, जैसे तेज दिल की दर और अशक्तता।
Romanized Version
चिंता विकार चिंता विकार मानसिक विकारों का एक समूह है जो चिंता और भय की महत्वपूर्ण भावनाओं से विशेषता है। चिंता भविष्य की घटनाओं के बारे में चिंता है और डर वर्तमान की प्रतिक्रिया है आयोजन। इन भावनाओं से शारीरिक लक्षण हो सकते हैं, जैसे तेज दिल की दर और अशक्तता।Chinta Vikar Chinta Vikar Mansik Vikaron Ka Ek Samuh Hai Jo Chinta Aur Bhay Ki Mahatvapurna Bhavnao Se Visheshata Hai Chinta Bhavishya Ki Ghatnaon Ke Bare Mein Chinta Hai Aur Dar Vartaman Ki Pratikriya Hai Aayojan In Bhavnao Se Shaaririk Lakshan Ho Sakte Hain Jaise Tez Dil Ki Dar Aur Ashaktata
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चिंता एक चिता के समान है जिस प्रकार से लकड़ी आग की स्पर्श आ जाने पर उस समाप्त हो जाती है वैसे ही जब हम अपने मन को बैठा लेते हैं मन को किसी बात पर ज्यादा इंगित कर देते हैं तो ऐसे जलने लगता है और कुछ जलन के कारण वह बहुत ज्यादा क्रोधित हो जाता है उसकी बुद्धि का क्षरण होने लगता है तो चिंता हमें गलत काम नहीं करना उसमें माइंड को जितना हम हल्का रखेंगे अरविंद कहते हैं कहां गया कि मस्तिष्क को ठंडा और पेट को ना राम और पैर को घर आओ तो आजकल सब विपरीत होता चला जा रहा है हम मानसिक बीमारियां का का अवसाद क्यों बनता चला जा रहा हम उसका बार-बार चिंतन करते हैं उसका हम बार-बार अपने माइंड को फोर्स करते हैं किसी बात पर उसका कोई औचित्य निकलने वाला नहीं है लेकिन उस हम लगे रहते यही होगा तो होगा ही होगा तो हो गया होगा कैसे जो होने वाला होगा तो होगा अगर हम सोच अभी से चिंता कर दे कि दिन है अभी सुबह 12:00 बजे है तो कल किधर है बजे 12:00 बजे का उसका टाइम आएगा तभी वो 12:00 बजेगा तो वैसे ही हम अपने मन को जब तक फोर्स करना छोड़ देंगे चिंता को हम समाप्त करना वहीं पर रोक देंगे तो ऐसी जो स्थिति है उस स्थिति को तुम्हें बार-बार मानसिक रूप से प्रभावित करती है उस समस्या से निजात मिल जाएगा तो हुआ है ऐसी बीमारियां कोई भी मारिया नहीं होते बीमारियों को बना देते हैं तो बीमारियों को ना बनने पाए इसके लिए आप लगातार चिंतन गलत नहीं है सकारात्मकता के साथ करें
चिंता एक चिता के समान है जिस प्रकार से लकड़ी आग की स्पर्श आ जाने पर उस समाप्त हो जाती है वैसे ही जब हम अपने मन को बैठा लेते हैं मन को किसी बात पर ज्यादा इंगित कर देते हैं तो ऐसे जलने लगता है और कुछ जलन के कारण वह बहुत ज्यादा क्रोधित हो जाता है उसकी बुद्धि का क्षरण होने लगता है तो चिंता हमें गलत काम नहीं करना उसमें माइंड को जितना हम हल्का रखेंगे अरविंद कहते हैं कहां गया कि मस्तिष्क को ठंडा और पेट को ना राम और पैर को घर आओ तो आजकल सब विपरीत होता चला जा रहा है हम मानसिक बीमारियां का का अवसाद क्यों बनता चला जा रहा हम उसका बार-बार चिंतन करते हैं उसका हम बार-बार अपने माइंड को फोर्स करते हैं किसी बात पर उसका कोई औचित्य निकलने वाला नहीं है लेकिन उस हम लगे रहते यही होगा तो होगा ही होगा तो हो गया होगा कैसे जो होने वाला होगा तो होगा अगर हम सोच अभी से चिंता कर दे कि दिन है अभी सुबह 12:00 बजे है तो कल किधर है बजे 12:00 बजे का उसका टाइम आएगा तभी वो 12:00 बजेगा तो वैसे ही हम अपने मन को जब तक फोर्स करना छोड़ देंगे चिंता को हम समाप्त करना वहीं पर रोक देंगे तो ऐसी जो स्थिति है उस स्थिति को तुम्हें बार-बार मानसिक रूप से प्रभावित करती है उस समस्या से निजात मिल जाएगा तो हुआ है ऐसी बीमारियां कोई भी मारिया नहीं होते बीमारियों को बना देते हैं तो बीमारियों को ना बनने पाए इसके लिए आप लगातार चिंतन गलत नहीं है सकारात्मकता के साथ करें
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon
थका हुआ महसूस होने पर मेरी नजर सबसे पहले सोफे पर बैठे मेरे पालतू कुत्ते पर जाती है। ऐसे में वह मेरे साथ आलिंगन करता है, और मुझे ऊपर उठने के लिए कपड़े पहनने और बाहर चलकर खेलने या वॉक के‍ लिए प्रेरित करता है। पता नहीं कैसे, लेकिन दुखी होने पर मेरा फर बेबी मुझे मुस्‍कान के लिए कहता है। ऐसे में लगता है कि मैं अकेला नहीं हूं। क्‍या आप जानते हैं कि सभी तरह के पालतू जानवर आपके मन, शरीर और आत्‍मा के लिए मदद कर सकते हैं।
Romanized Version
थका हुआ महसूस होने पर मेरी नजर सबसे पहले सोफे पर बैठे मेरे पालतू कुत्ते पर जाती है। ऐसे में वह मेरे साथ आलिंगन करता है, और मुझे ऊपर उठने के लिए कपड़े पहनने और बाहर चलकर खेलने या वॉक के‍ लिए प्रेरित करता है। पता नहीं कैसे, लेकिन दुखी होने पर मेरा फर बेबी मुझे मुस्‍कान के लिए कहता है। ऐसे में लगता है कि मैं अकेला नहीं हूं। क्‍या आप जानते हैं कि सभी तरह के पालतू जानवर आपके मन, शरीर और आत्‍मा के लिए मदद कर सकते हैं। Thaka Hua Mahsus Hone Par Meri Nazar Sabse Pehle Sophe Par Baithey Mere Paaltu Kutte Par Jati Hai Aise Mein Wah Mere Saath Aalingan Karta Hai Aur Mujhe Upar Uthane Ke Liye Kapde Pahanne Aur Bahar Chalkar Khelne Ya Walk Ke Liye Prerit Karta Hai Pata Nahi Kaise Lekin Dukhi Hone Par Mera Fur Baby Mujhe Mus Kaan Ke Liye Kahata Hai Aise Mein Lagta Hai Ki Main Akela Nahi Hoon Kk Ya Aap Jante Hain Ki Sabhi Tarah Ke Paaltu Janwar Aapke Man Sharir Aur At Ma Ke Liye Madad Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब व्यक्ति किसी एक स्थान पर वह अपने आप को अकेला महसूस करता है या उसके साथ कोई बड़ी दुर्घटना हो जाए तब और यह मानसिक चिंतन करता है उसको छोटे से उद्देश्य के लिए जो जीने लगता है छोटे से उद्देश्यों के लिए काम करने लगता है वह बातों को अपने मस्तिष्क पर धारण कर लेता है और उसका हमेशा वाले की तरह जब करता रहता है तब ऐसा होता है आज क्यों ऐसा जब छूट रहा हम यही सब कारण है कि अपने मन में ही ऐसा जब शुरू कर देते हैं कि हमें बीमारियां हो जाती हैं आपको नकारात्मक ना जल्दी मिल जाएगी लेकिन सकारात्मकता बहुत कम मिलेगी सकारात्मकता को प्राप्त करने के लिए हमेशा आपको फ्रीस्टाइल रहना होगा आपकी दिनचर्या को अच्छा सरल और सुगम बनाने के लिए हमेशा अपने मस्तिष्क को दिमाग को स्थिर कर के उसके बारे में एनालिसिस करना कि हमें क्या जरूरत हमें क्या लेना चाहिए और क्या आवश्यकता है मैं उसको हम कैसे पूर्ति कर सके सिर्फ पूर्ति कर देने के बाद आपको भूलना हूं क्योंकि अगर आपका मस्तिष्क के बार-बार उस केंद्र बिंदु पर अंकित करेगा
जब व्यक्ति किसी एक स्थान पर वह अपने आप को अकेला महसूस करता है या उसके साथ कोई बड़ी दुर्घटना हो जाए तब और यह मानसिक चिंतन करता है उसको छोटे से उद्देश्य के लिए जो जीने लगता है छोटे से उद्देश्यों के लिए काम करने लगता है वह बातों को अपने मस्तिष्क पर धारण कर लेता है और उसका हमेशा वाले की तरह जब करता रहता है तब ऐसा होता है आज क्यों ऐसा जब छूट रहा हम यही सब कारण है कि अपने मन में ही ऐसा जब शुरू कर देते हैं कि हमें बीमारियां हो जाती हैं आपको नकारात्मक ना जल्दी मिल जाएगी लेकिन सकारात्मकता बहुत कम मिलेगी सकारात्मकता को प्राप्त करने के लिए हमेशा आपको फ्रीस्टाइल रहना होगा आपकी दिनचर्या को अच्छा सरल और सुगम बनाने के लिए हमेशा अपने मस्तिष्क को दिमाग को स्थिर कर के उसके बारे में एनालिसिस करना कि हमें क्या जरूरत हमें क्या लेना चाहिए और क्या आवश्यकता है मैं उसको हम कैसे पूर्ति कर सके सिर्फ पूर्ति कर देने के बाद आपको भूलना हूं क्योंकि अगर आपका मस्तिष्क के बार-बार उस केंद्र बिंदु पर अंकित करेगा
Likes  13  Dislikes      
WhatsApp_icon
पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अवसाद अक्सर होता है। जिस तरह से उदास मनोदशा प्रकट होता है, उसमें कुछ अंतर और उम्र के आधार पर पाए जाते हैं। पुरुषों में यह अक्सर थकावट, चिड़चिड़ापन और क्रोध के रूप में प्रकट होता है। वे अधिक लापरवाही व्यवहार और दुर्व्यवहार दवाओं और अल्कोहल दिखा सकते हैं। वे यह भी नहीं मानते कि वे निराश हैं और मदद लेने में असफल हैं। महिलाओं में अवसाद में उदासी, बेकारता और अपराध के रूप में प्रकट होता है। छोटे बच्चों में अवसाद के रूप में प्रकट होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि स्कूल से इनकार करते हैं, माता-पिता से अलग होने पर चिंता होती है, और माता-पिता मरने की चिंता करते हैं। निराश किशोरों को चिड़चिड़ाहट, बदसूरत, और स्कूल में परेशानी हो रही है। वे अक्सर सह-रोगी चिंता, विकार खाने, या पदार्थों के दुरुपयोग भी करते हैं। पुराने वयस्कों में अवसाद अधिक स्पष्ट रूप से प्रकट हो सकता है क्योंकि वे उदासी या दुःख और चिकित्सा बीमारियों की भावनाओं को स्वीकार करने की संभावना कम करते हैं जो इस आबादी में अधिक आम हैं, अवसाद में भी योगदान या कारण बनते हैं।
Romanized Version
पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अवसाद अक्सर होता है। जिस तरह से उदास मनोदशा प्रकट होता है, उसमें कुछ अंतर और उम्र के आधार पर पाए जाते हैं। पुरुषों में यह अक्सर थकावट, चिड़चिड़ापन और क्रोध के रूप में प्रकट होता है। वे अधिक लापरवाही व्यवहार और दुर्व्यवहार दवाओं और अल्कोहल दिखा सकते हैं। वे यह भी नहीं मानते कि वे निराश हैं और मदद लेने में असफल हैं। महिलाओं में अवसाद में उदासी, बेकारता और अपराध के रूप में प्रकट होता है। छोटे बच्चों में अवसाद के रूप में प्रकट होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि स्कूल से इनकार करते हैं, माता-पिता से अलग होने पर चिंता होती है, और माता-पिता मरने की चिंता करते हैं। निराश किशोरों को चिड़चिड़ाहट, बदसूरत, और स्कूल में परेशानी हो रही है। वे अक्सर सह-रोगी चिंता, विकार खाने, या पदार्थों के दुरुपयोग भी करते हैं। पुराने वयस्कों में अवसाद अधिक स्पष्ट रूप से प्रकट हो सकता है क्योंकि वे उदासी या दुःख और चिकित्सा बीमारियों की भावनाओं को स्वीकार करने की संभावना कम करते हैं जो इस आबादी में अधिक आम हैं, अवसाद में भी योगदान या कारण बनते हैं।Purushon Ki Tulna Mein Mahilaon Mein Avasad Aksar Hota Hai Jis Tarah Se Udaas Manodasha Prakat Hota Hai Usamen Kuch Antar Aur Umar Ke Aadhar Par Paye Jaate Hain Purushon Mein Yeh Aksar Thakawat Chidachidaapan Aur Krodh Ke Roop Mein Prakat Hota Hai Ve Adhik Laparwahi Vyavhar Aur Durvyavahaar Dawaon Aur Alcohol Dikha Sakte Hain Ve Yeh Bhi Nahi Manate Ki Ve Nirash Hain Aur Madad Lene Mein Asafal Hain Mahilaon Mein Avasad Mein Udasi Bekarata Aur Apradh Ke Roop Mein Prakat Hota Hai Chote Bacchon Mein Avasad Ke Roop Mein Prakat Hone Ki Sambhavna Adhik Hoti Hai Kyonki School Se Inkar Karte Hain Mata Pita Se Alag Hone Par Chinta Hoti Hai Aur Mata Pita Marne Ki Chinta Karte Hain Nirash Kishoron Ko Chidchidahat Badsoorat Aur School Mein Pareshani Ho Rahi Hai Ve Aksar Sah Rogi Chinta Vikar Khane Ya Padarthon Ke Durupyog Bhi Karte Hain Purane Vayaskon Mein Avasad Adhik Spasht Roop Se Prakat Ho Sakta Hai Kyonki Ve Udasi Ya Duhkh Aur Chikitsa Bimariyon Ki Bhavnao Ko Sweekar Karne Ki Sambhavna Kam Karte Hain Jo Is Aabadi Mein Adhik Aam Hain Avasad Mein Bhi Yogdan Ya Kaaran Bante Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
अवसाद भी शारीरिक बीमारी से जुड़ा हुआ है। कुछ 25% अस्पताल में चिकित्सा रोगियों के पास ध्यान देने योग्य अवसादग्रस्त लक्षण हैं और लगभग 5% प्रमुख अवसाद से पीड़ित हैं। अवसाद से जुड़ी पुरानी चिकित्सीय स्थितियों में हृदय रोग, कैंसर, विटामिन की कमी, मधुमेह, हेपेटाइटिस और मलेरिया शामिल हैं, अवसाद भी न्यूरोलॉजिकल विकारों का एक आम प्रभाव है, जिसमें पार्किंसंस और अल्जाइमर रोग, एकाधिक स्क्लेरोसिस, स्ट्रोक और मस्तिष्क ट्यूमर शामिल हैं। जिसे एक मानसिक विकार हो सकता है।
Romanized Version
अवसाद भी शारीरिक बीमारी से जुड़ा हुआ है। कुछ 25% अस्पताल में चिकित्सा रोगियों के पास ध्यान देने योग्य अवसादग्रस्त लक्षण हैं और लगभग 5% प्रमुख अवसाद से पीड़ित हैं। अवसाद से जुड़ी पुरानी चिकित्सीय स्थितियों में हृदय रोग, कैंसर, विटामिन की कमी, मधुमेह, हेपेटाइटिस और मलेरिया शामिल हैं, अवसाद भी न्यूरोलॉजिकल विकारों का एक आम प्रभाव है, जिसमें पार्किंसंस और अल्जाइमर रोग, एकाधिक स्क्लेरोसिस, स्ट्रोक और मस्तिष्क ट्यूमर शामिल हैं। जिसे एक मानसिक विकार हो सकता है। Avasad Bhi Shaaririk Bimari Se Juda Hua Hai Kuch 25% Aspatal Mein Chikitsa Rogiyon Ke Paas Dhyan Dene Yogya Avsadgrast Lakshan Hain Aur Lagbhag 5% Pramukh Avasad Se Peedit Hain Avasad Se Judi Purani Chikitseey Sthitiyo Mein Hridaya Rog Cancer Vitamin Ki Kami Madhumeh Hepatitis Aur Malaria Shamil Hain Avasad Bhi Neurological Vikaron Ka Ek Aam Prabhav Hai Jisme Parkinson's Aur Alzheimer Rog Ekadhikar Sclerosis Stroke Aur Mastishk Tumour Shamil Hain Jise Ek Mansik Vikar Ho Sakta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
एक मानसिक व्यक्ति एक व्यक्ति हैं जो सामान्य इंद्रियों से छिपी हुई जानकारी की पहचान करने के लिए एक्स्ट्रा सेंसरी धारणा का उपयोग करने का दावा करता है विशेष रूप से टेलीपैथी या क्लेयरवायंस शामिल है या जो प्राकृतिक कानूनों द्वारा जाहिर तौर पर निष्पक्ष कार्य करता है मानसिक शब्द का उपयोग ऐसी क्षमताओं का वर्णन करने के लिए विशेषण के रूप में भी किया जाता है
Romanized Version
एक मानसिक व्यक्ति एक व्यक्ति हैं जो सामान्य इंद्रियों से छिपी हुई जानकारी की पहचान करने के लिए एक्स्ट्रा सेंसरी धारणा का उपयोग करने का दावा करता है विशेष रूप से टेलीपैथी या क्लेयरवायंस शामिल है या जो प्राकृतिक कानूनों द्वारा जाहिर तौर पर निष्पक्ष कार्य करता है मानसिक शब्द का उपयोग ऐसी क्षमताओं का वर्णन करने के लिए विशेषण के रूप में भी किया जाता हैEk Mansik Vyakti Ek Vyakti Hain Jo Samanya Indriyon Se Chhipi Hui Jankari Ki Pehchaan Karne Ke Liye Extra Sensory Dharan Ka Upyog Karne Ka Daawa Karta Hai Vishesh Roop Se Telipaithi Ya Kleyaravayans Shamil Hai Ya Jo Prakritik Kanuno Dwara Jaahir Taur Par Nishpaksh Karya Karta Hai Mansik Shabdh Ka Upyog Aisi Kshamataon Ka Vernon Karne Ke Liye Visheshan Ke Roop Mein Bhi Kiya Jata Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
एक मानसिक व्यक्ति वह व्यक्ति होता है जो सामान्य ज्ञान से छिपी हुई जानकारी की पहचान करने के लिए अतिसंवेदनशील धारणा का उपयोग करने का दावा करता है विशेष रूप से टेलीपैथी या श्रव्यता से जुड़ा होता है या जो प्राकृतिक कानूनों द्वारा जाहिर तौर पर निष्पक्ष कार्य करता है यद्यपि कई लोग मानसिक क्षमताओं पर विश्वास करते हैं वैज्ञानिक सर्वसम्मति यहां हैं कि ऐसी शक्तियों के अस्तित्व का कोई प्रमाण नहीं है और इस अभ्यास को छाध्य विज्ञान के रूप में वर्णित करते हैं मानसिक शब्द का उपयोग ऐसी क्षमताओं का वर्णन करने के लिए विशेषण के रूप में किया जाता है
Romanized Version
एक मानसिक व्यक्ति वह व्यक्ति होता है जो सामान्य ज्ञान से छिपी हुई जानकारी की पहचान करने के लिए अतिसंवेदनशील धारणा का उपयोग करने का दावा करता है विशेष रूप से टेलीपैथी या श्रव्यता से जुड़ा होता है या जो प्राकृतिक कानूनों द्वारा जाहिर तौर पर निष्पक्ष कार्य करता है यद्यपि कई लोग मानसिक क्षमताओं पर विश्वास करते हैं वैज्ञानिक सर्वसम्मति यहां हैं कि ऐसी शक्तियों के अस्तित्व का कोई प्रमाण नहीं है और इस अभ्यास को छाध्य विज्ञान के रूप में वर्णित करते हैं मानसिक शब्द का उपयोग ऐसी क्षमताओं का वर्णन करने के लिए विशेषण के रूप में किया जाता हैEk Mansik Vyakti Wah Vyakti Hota Hai Jo Samanya Gyaan Se Chhipi Hui Jankari Ki Pehchaan Karne Ke Liye Atisamvedansheel Dharan Ka Upyog Karne Ka Daawa Karta Hai Vishesh Roop Se Telipaithi Ya Shravyata Se Juda Hota Hai Ya Jo Prakritik Kanuno Dwara Jaahir Taur Par Nishpaksh Karya Karta Hai Yadyapi Kai Log Mansik Kshamataon Par Vishwas Karte Hain Vaigyanik Sarvasammati Yahan Hain Ki Aisi Shaktiyon Ke Astitv Ka Koi Pramaan Nahi Hai Aur Is Abhyas Ko Chadhya Vigyan Ke Roop Mein Varnit Karte Hain Mansik Shabdh Ka Upyog Aisi Kshamataon Ka Vernon Karne Ke Liye Visheshan Ke Roop Mein Kiya Jata Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
vokalandroid