tag_img

भावनात्मक

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले अपने आप को नार्मल करने की कोशिश करेंगी इमोशनल होने का कारण जानने की कोशिश करेंगे कांड जाने के बाद अपना एक प्रतिक्रिया समय निर्धारित करें कि आपने इस स्थिति में कितनी देर अपने आप को रखना है कोशिश करें इमोशनल स्टेट से जल्दी बाहर आने की टेंपो स्टैंड के साथ जोड़ने की खुद को जानने क्योंकि वास्तव में फ्रेंड से बड़ा कोई साथी नहीं होता
सबसे पहले अपने आप को नार्मल करने की कोशिश करेंगी इमोशनल होने का कारण जानने की कोशिश करेंगे कांड जाने के बाद अपना एक प्रतिक्रिया समय निर्धारित करें कि आपने इस स्थिति में कितनी देर अपने आप को रखना है कोशिश करें इमोशनल स्टेट से जल्दी बाहर आने की टेंपो स्टैंड के साथ जोड़ने की खुद को जानने क्योंकि वास्तव में फ्रेंड से बड़ा कोई साथी नहीं होता
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेन बात यहां पर यह है कि आज भी हमारे जो समाज के कुछ लोग हैं और पेरेंट्स है वह लव मैरिज को सपोर्ट नहीं करते अगर आपने कोई अपना पार्टनर अच्छा जूस किया है ज्यादा मैरिज करना चाहते हैं वह फैल सेटल्ड है और काफी अच्छा है फिर भी वह लोग लव मैरिज को सपोर्ट नहीं करते को सपोर्ट करते हैं वह काफी गलत है जहां तक मुझे लगता है तू मेरे साथ जो कि बच्चों को अपने पेरेंट्स को कन्वेंस करना चाहिए और उनको समझाना चाहिए कि जिससे आप शादी करना चाहते हैं और लव मैरिज करना चाहते हैं वह किस तरीके से अच्छा है और आप अच्छी तरीके से रह सकते उनके साथ आप अगर आप उनको कन्वेंस करना चाहते हैं और करेंगे तो वह बिल्कुल आपकी बात मानेंगे और समझेंगे अगर उसके बाद भी आपके पैरेंट्स कन्वेंस नहीं होते हैं
Romanized Version
देखिए मेन बात यहां पर यह है कि आज भी हमारे जो समाज के कुछ लोग हैं और पेरेंट्स है वह लव मैरिज को सपोर्ट नहीं करते अगर आपने कोई अपना पार्टनर अच्छा जूस किया है ज्यादा मैरिज करना चाहते हैं वह फैल सेटल्ड है और काफी अच्छा है फिर भी वह लोग लव मैरिज को सपोर्ट नहीं करते को सपोर्ट करते हैं वह काफी गलत है जहां तक मुझे लगता है तू मेरे साथ जो कि बच्चों को अपने पेरेंट्स को कन्वेंस करना चाहिए और उनको समझाना चाहिए कि जिससे आप शादी करना चाहते हैं और लव मैरिज करना चाहते हैं वह किस तरीके से अच्छा है और आप अच्छी तरीके से रह सकते उनके साथ आप अगर आप उनको कन्वेंस करना चाहते हैं और करेंगे तो वह बिल्कुल आपकी बात मानेंगे और समझेंगे अगर उसके बाद भी आपके पैरेंट्स कन्वेंस नहीं होते हैंDekhie Main Baat Yahan Par Yeh Hai Ki Aaj Bhi Hamare Jo Samaaj Ke Kuch Log Hain Aur Parents Hai Wah Love Marriage Ko Support Nahi Karte Agar Aapne Koi Apna Partner Accha Juice Kiya Hai Jyada Marriage Karna Chahte Hain Wah Fail Settled Hai Aur Kafi Accha Hai Phir Bhi Wah Log Love Marriage Ko Support Nahi Karte Ko Support Karte Hain Wah Kafi Galat Hai Jahan Tak Mujhe Lagta Hai Tu Mere Saath Jo Ki Bacchon Ko Apne Parents Ko Convence Karna Chahiye Aur Unko Samajhana Chahiye Ki Jisse Aap Shadi Karna Chahte Hain Aur Love Marriage Karna Chahte Hain Wah Kis Tarike Se Accha Hai Aur Aap Acchi Tarike Se Rah Sakte Unke Saath Aap Agar Aap Unko Convence Karna Chahte Hain Aur Karenge To Wah Bilkul Aapki Baat Maneange Aur Samjhenge Agar Uske Baad Bhi Aapke Parents Convence Nahi Hote Hain
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल लड़की देखा जाए तो लड़कियों और लड़कों में ज्यादा जो इमोशनल होते हैं वह लड़कियां होती है कि लड़कियां होती है बहुत ही सुंदर बहुत ही नाजुक होती है गुस्से में कुछ भी बोल दो तुम लड़की हो तो थोड़ी हार्ड हॉट होते हैं होते हैं जो होता है कि हम लोगों को कोई भी फिल्म है उन आंखों के द्वारा बाहर आ जाती है
Romanized Version
बिल्कुल लड़की देखा जाए तो लड़कियों और लड़कों में ज्यादा जो इमोशनल होते हैं वह लड़कियां होती है कि लड़कियां होती है बहुत ही सुंदर बहुत ही नाजुक होती है गुस्से में कुछ भी बोल दो तुम लड़की हो तो थोड़ी हार्ड हॉट होते हैं होते हैं जो होता है कि हम लोगों को कोई भी फिल्म है उन आंखों के द्वारा बाहर आ जाती हैBilkul Ladki Dekha Jaye To Ladkiyon Aur Ladko Mein Jyada Jo Emotional Hote Hain Wah Ladkiyan Hoti Hai Ki Ladkiyan Hoti Hai Bahut Hi Sundar Bahut Hi Naajuk Hoti Hai Gusse Mein Kuch Bhi Bol Do Tum Ladki Ho To Thodi Hard Hot Hote Hain Hote Hain Jo Hota Hai Ki Hum Logon Ko Koi Bhi Film Hai Un Aakhon Ke Dwara Bahar Aa Jati Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक समारोह के दौरान जब महेंद्र सिंह धोनी एक बच्चे को पुरस्कार के तौर पर एक छोटा सा बल्ला गिफ्ट कर रहे थे उसी वक्त वह बच्चा महेंद्र सिंह धोनी के पैरों में आ गिरा और उन्हें प्रणाम करने लगा उनके पैर छूने लगे तो महेंद्र सिंह धोनी ने उस बच्चे को उठाया और उसके साथ सेल्फी भी ली तो मुझे लगता है जब हमारे सुपरस्टार जिन्हें हम काफी पसंद करते हैं और हमेशा TV पर देखा करते हैं वह हमारे सामने हैं और उनसे अगर हमें मिलने का मौका मिलता है तो इस तरह की भावना बिल्कुल आ सकती है इसमें कोई भी अजीब बात नहीं है और ऐसा ही उस बच्चे के साथ भी हुआ वह बच्चा महेंद्र सिंह धोनी का बहुत बड़ा फैन था जिसकी वजह से उसने ऐसा किया तो बिल्कुल कभी भी अगर हमारे सामने भी कोई हमारे सुपरस्टार जिन्हें हम बहुत ज्यादा पसंद करते हैं तो ऐसी चीजें हो सकती हैं और ऐसी स्थिति में हमारा भावुक होना बिल्कुल लाजमी है
Romanized Version
एक समारोह के दौरान जब महेंद्र सिंह धोनी एक बच्चे को पुरस्कार के तौर पर एक छोटा सा बल्ला गिफ्ट कर रहे थे उसी वक्त वह बच्चा महेंद्र सिंह धोनी के पैरों में आ गिरा और उन्हें प्रणाम करने लगा उनके पैर छूने लगे तो महेंद्र सिंह धोनी ने उस बच्चे को उठाया और उसके साथ सेल्फी भी ली तो मुझे लगता है जब हमारे सुपरस्टार जिन्हें हम काफी पसंद करते हैं और हमेशा TV पर देखा करते हैं वह हमारे सामने हैं और उनसे अगर हमें मिलने का मौका मिलता है तो इस तरह की भावना बिल्कुल आ सकती है इसमें कोई भी अजीब बात नहीं है और ऐसा ही उस बच्चे के साथ भी हुआ वह बच्चा महेंद्र सिंह धोनी का बहुत बड़ा फैन था जिसकी वजह से उसने ऐसा किया तो बिल्कुल कभी भी अगर हमारे सामने भी कोई हमारे सुपरस्टार जिन्हें हम बहुत ज्यादा पसंद करते हैं तो ऐसी चीजें हो सकती हैं और ऐसी स्थिति में हमारा भावुक होना बिल्कुल लाजमी हैEk Samaroh Ke Dauran Jab Mahendra Singh Dhoni Ek Bacche Ko Puraskar Ke Taur Par Ek Chota Sa Balla Gift Kar Rahe The Ussi Waqt Wah Baccha Mahendra Singh Dhoni Ke Pairon Mein Aa Gira Aur Unhen Pranam Karne Laga Unke Pair Chhune Lage To Mahendra Singh Dhoni Ne Us Bacche Ko Uthaya Aur Uske Saath Selfie Bhi Lee To Mujhe Lagta Hai Jab Hamare Superstar Jinhen Hum Kafi Pasand Karte Hain Aur Hamesha TV Par Dekha Karte Hain Wah Hamare Samane Hain Aur Unse Agar Hume Milne Ka Mauka Milta Hai To Is Tarah Ki Bhavna Bilkul Aa Sakti Hai Isme Koi Bhi Ajib Baat Nahi Hai Aur Aisa Hi Us Bacche Ke Saath Bhi Hua Wah Baccha Mahendra Singh Dhoni Ka Bahut Bada Fan Tha Jiski Wajah Se Usne Aisa Kiya To Bilkul Kabhi Bhi Agar Hamare Samane Bhi Koi Hamare Superstar Jinhen Hum Bahut Jyada Pasand Karte Hain To Aisi Cheezen Ho Sakti Hain Aur Aisi Sthiti Mein Hamara Bhavuk Hona Bilkul Lajmi Hai
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना है कि जब इंसान बहुत इमोशनल होता है सेंटीमेंटल होता है भावनात्मक होता है तो उस वक्त वह सिर्फ और सिर्फ एक ही पहलू देख रहा होता है किसी भी चीज का क्योंकि वह बेसिकली इमोशन से सराबोर होता है तो उसको सिर्फ और सिर्फ अपना इमोशनल क्वेश्चन जो होता है वही समझ में आ रहा होता है और उसी के पैसे से वह डिसीजन लेता है जो कि मेरे हिसाब से चेंज सही नहीं होती है दिमाग और दिल दोनों का ही किसी डिसीजन मेकिंग में साथ होना जरूरी होता है सिर्फ दिल से सोचा भी सही नहीं हो सिर्फ दिमाग से सोचना भी जरूरी है सनम तेरी इंपॉर्टेंट और जवाब बहुत ज्यादा भावनात्मक होते हो तो उस वक्त आपने को बैलेंस नहीं होता है आप बहुत इमोशनल हो जाते हो और हो सकता है कि उसे मोशन में आपका कोई ऐसा डिसीजन ले लो कोई ऐसा निर्णय ले लो जो आगे जवाब को सारी चीजें बैलेंस तरीके से समझ आने लगे आपको लगे कि यह सही नहीं है तो बेहतर है अगर आप बहुत ज्यादा इमोशनल है भावनात्मक है तो उस वक्त कोई डिसीजन लेने से बच्चे हमेशा और यही कोशिश करें कि जब आप बैलेंस हो जाए जब आप उन इमोशन से भर जाए और जब आप का दिमाग क्या पता दे रहा जवाब प्रेक्टिकली अरे मोड़ चली दोनों किसी चीज पर सोच पाए उस वक्त आप कोई डिसीजन लेना कभी वेरी गुड अंदर भी बताइए
Romanized Version
मेरा मानना है कि जब इंसान बहुत इमोशनल होता है सेंटीमेंटल होता है भावनात्मक होता है तो उस वक्त वह सिर्फ और सिर्फ एक ही पहलू देख रहा होता है किसी भी चीज का क्योंकि वह बेसिकली इमोशन से सराबोर होता है तो उसको सिर्फ और सिर्फ अपना इमोशनल क्वेश्चन जो होता है वही समझ में आ रहा होता है और उसी के पैसे से वह डिसीजन लेता है जो कि मेरे हिसाब से चेंज सही नहीं होती है दिमाग और दिल दोनों का ही किसी डिसीजन मेकिंग में साथ होना जरूरी होता है सिर्फ दिल से सोचा भी सही नहीं हो सिर्फ दिमाग से सोचना भी जरूरी है सनम तेरी इंपॉर्टेंट और जवाब बहुत ज्यादा भावनात्मक होते हो तो उस वक्त आपने को बैलेंस नहीं होता है आप बहुत इमोशनल हो जाते हो और हो सकता है कि उसे मोशन में आपका कोई ऐसा डिसीजन ले लो कोई ऐसा निर्णय ले लो जो आगे जवाब को सारी चीजें बैलेंस तरीके से समझ आने लगे आपको लगे कि यह सही नहीं है तो बेहतर है अगर आप बहुत ज्यादा इमोशनल है भावनात्मक है तो उस वक्त कोई डिसीजन लेने से बच्चे हमेशा और यही कोशिश करें कि जब आप बैलेंस हो जाए जब आप उन इमोशन से भर जाए और जब आप का दिमाग क्या पता दे रहा जवाब प्रेक्टिकली अरे मोड़ चली दोनों किसी चीज पर सोच पाए उस वक्त आप कोई डिसीजन लेना कभी वेरी गुड अंदर भी बताइएMera Manana Hai Ki Jab Insaan Bahut Emotional Hota Hai Sentimental Hota Hai Bhavnatmak Hota Hai To Us Waqt Wah Sirf Aur Sirf Ek Hi Pahaloo Dekh Raha Hota Hai Kisi Bhi Cheez Ka Kyonki Wah Basically Emotion Se Sarabor Hota Hai To Usko Sirf Aur Sirf Apna Emotional Question Jo Hota Hai Wahi Samajh Mein Aa Raha Hota Hai Aur Ussi Ke Paise Se Wah Decision Leta Hai Jo Ki Mere Hisab Se Change Sahi Nahi Hoti Hai Dimag Aur Dil Dono Ka Hi Kisi Decision Making Mein Saath Hona Zaroori Hota Hai Sirf Dil Se Socha Bhi Sahi Nahi Ho Sirf Dimag Se Sochna Bhi Zaroori Hai Sanam Teri Important Aur Jawab Bahut Jyada Bhavnatmak Hote Ho To Us Waqt Aapne Ko Balance Nahi Hota Hai Aap Bahut Emotional Ho Jaate Ho Aur Ho Sakta Hai Ki Use Motion Mein Aapka Koi Aisa Decision Le Lo Koi Aisa Nirnay Le Lo Jo Aage Jawab Ko Saree Cheezen Balance Tarike Se Samajh Aane Lage Aapko Lage Ki Yeh Sahi Nahi Hai To Behtar Hai Agar Aap Bahut Jyada Emotional Hai Bhavnatmak Hai To Us Waqt Koi Decision Lene Se Bacche Hamesha Aur Yahi Koshish Karen Ki Jab Aap Balance Ho Jaye Jab Aap Un Emotion Se Bhar Jaye Aur Jab Aap Ka Dimag Kya Pata De Raha Jawab Prektikali Arre Mod Chali Dono Kisi Cheez Par Soch Paye Us Waqt Aap Koi Decision Lena Kabhi Very Good Andar Bhi Bataiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी चीज होती है जिससे लोगों की भावनाएं जुड़ी होती हैं वह उसे देखकर बहुत ही भावुक हो जाता है भले ही कह सके हम जानते हैं यदि हमारा प्यारा से यदि कोई खिलौना है वह टूट जाता है तो हम उसे पाने के लिए क्यों नहीं लगते जब क्या पता है कि उसकी कीमत ना जानी मेरी जुड़ चुके हैं यदि इसी प्रकार राजनीति और टिकट का यदि बीजेपी के नेता उससे यानी भावनाएं जुड़ी हुई है उनकी टिकट नहीं मिलेगा
Romanized Version
कोई भी चीज होती है जिससे लोगों की भावनाएं जुड़ी होती हैं वह उसे देखकर बहुत ही भावुक हो जाता है भले ही कह सके हम जानते हैं यदि हमारा प्यारा से यदि कोई खिलौना है वह टूट जाता है तो हम उसे पाने के लिए क्यों नहीं लगते जब क्या पता है कि उसकी कीमत ना जानी मेरी जुड़ चुके हैं यदि इसी प्रकार राजनीति और टिकट का यदि बीजेपी के नेता उससे यानी भावनाएं जुड़ी हुई है उनकी टिकट नहीं मिलेगाKoi Bhi Cheez Hoti Hai Jisse Logon Ki Bhavanae Judi Hoti Hain Wah Use Dekhkar Bahut Hi Bhavuk Ho Jata Hai Bhale Hi Keh Sake Hum Jante Hain Yadi Hamara Pyara Se Yadi Koi Khilona Hai Wah Toot Jata Hai To Hum Use Pane Ke Liye Kyon Nahi Lagte Jab Kya Pata Hai Ki Uski Kimat Na Jani Meri Jud Chuke Hain Yadi Isi Prakar Rajneeti Aur Ticket Ka Yadi Bjp Ke Neta Usse Yani Bhavanae Judi Hui Hai Unki Ticket Nahi Milega
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भजन कि हम इंसान हैं हम क्यों मन से और इमोशंस हमारे अंदर ना हो ऐसा पॉसिबल नहीं है कुछ भी काम करते इमोशन सामने आते ही हैं आदित्य कितना ही बड़ा बिजनेस शुरू करें उससे पहले आप पूजा पाठ किया कर आते ही हैं या उसके अलावा आप के ऑफिस में एक ना एक भगवान जी की तस्वीर जरूर रहेगी तो हमारी मोचन सी होते हैं कि हमें वह सब करने को बाध्य करते हैं इसके अलावा लिखित ज्यादा इमोशनल हो रहा हूं किसी से भी सच में जरूर बिजनेस के लिए हानिकारक है तेवर हम इतने ज्यादा कठोर दिल हो जाते हैं बिजनेस के नाम पर क्या दूसरों को चोट पहुंचा देते हैं अगर हम हमारे एंप्लाइज के साथ एक इमोशनल रिश्ता नहीं रख रहे हैं तो हम उनसे सिर्फ प्रोफेशनल यानी कि मतलब कुछ ऐसी उम्मीद नहीं कर सकती है XX पिक नहीं करते जो जितनी उनको सैलरी मिलेगी वह उतना काम कर लेंगे वैसे ही बस में भी थोड़े बहुत इमोशंस होना जरूरी है क्योंकि बिना इमोशंस के मेरे हिसाब से अच्छा बिजनेस नहीं हो सकता लेकिन एक वोट कंट्रोल में रखिए उनका ज्यादा होना आपके लिए खतरनाक हो जाएगा
Romanized Version
भजन कि हम इंसान हैं हम क्यों मन से और इमोशंस हमारे अंदर ना हो ऐसा पॉसिबल नहीं है कुछ भी काम करते इमोशन सामने आते ही हैं आदित्य कितना ही बड़ा बिजनेस शुरू करें उससे पहले आप पूजा पाठ किया कर आते ही हैं या उसके अलावा आप के ऑफिस में एक ना एक भगवान जी की तस्वीर जरूर रहेगी तो हमारी मोचन सी होते हैं कि हमें वह सब करने को बाध्य करते हैं इसके अलावा लिखित ज्यादा इमोशनल हो रहा हूं किसी से भी सच में जरूर बिजनेस के लिए हानिकारक है तेवर हम इतने ज्यादा कठोर दिल हो जाते हैं बिजनेस के नाम पर क्या दूसरों को चोट पहुंचा देते हैं अगर हम हमारे एंप्लाइज के साथ एक इमोशनल रिश्ता नहीं रख रहे हैं तो हम उनसे सिर्फ प्रोफेशनल यानी कि मतलब कुछ ऐसी उम्मीद नहीं कर सकती है XX पिक नहीं करते जो जितनी उनको सैलरी मिलेगी वह उतना काम कर लेंगे वैसे ही बस में भी थोड़े बहुत इमोशंस होना जरूरी है क्योंकि बिना इमोशंस के मेरे हिसाब से अच्छा बिजनेस नहीं हो सकता लेकिन एक वोट कंट्रोल में रखिए उनका ज्यादा होना आपके लिए खतरनाक हो जाएगाBhajan Ki Hum Insaan Hain Hum Kyun Man Se Aur Emotional Hamare Andar Na Ho Aisa Possible Nahi Hai Kuch Bhi Kaam Karte Emotion Samane Aate Hi Hain Aditya Kitna Hi Bada Business Shuru Karen Usse Pehle Aap Puja Path Kiya Kar Aate Hi Hain Ya Uske Alava Aap Ke Office Mein Ek Na Ek Bhagwan Ji Ki Tasveer Jarur Rahegi To Hamari Mochan Si Hote Hain Ki Hume Wah Sab Karne Ko Badhya Karte Hain Iske Alava Likhit Jyada Emotional Ho Raha Hoon Kisi Se Bhi Sach Mein Jarur Business Ke Liye Haanikarak Hai Tevar Hum Itne Jyada Kathor Dil Ho Jaate Hain Business Ke Naam Par Kya Dusron Ko Chot Pahuncha Dete Hain Agar Hum Hamare Emplaij Ke Saath Ek Emotional Rishta Nahi Rakh Rahe Hain To Hum Unse Sirf Professional Yani Ki Matlab Kuch Aisi Ummid Nahi Kar Sakti Hai XX Pic Nahi Karte Jo Jitni Unko Salary Milegi Wah Utana Kaam Kar Lenge Waise Hi Bus Mein Bhi Thode Bahut Emotional Hona Zaroori Hai Kyonki Bina Emotional Ke Mere Hisab Se Accha Business Nahi Ho Sakta Lekin Ek Vote Control Mein Rakhiye Unka Jyada Hona Aapke Liye Khatarnak Ho Jayega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब कभी सा एक समझ है भावना सबसे ज्यादा इंपॉर्टेंट नहीं है क्या इंपॉर्टेंट है सबसे इंपोर्टेंट होती है कि आप कितने एक दूसरे से जुड़े हुए कितने एक्सीडेंट होता है किसी से किसी की पैंडिंग को जांचने के लिए दोनों इंपोर्टेंट ज्यादा इंपॉर्टेंट मुझे लगता है भावना को ज्यादा इंपॉर्टेंट
Romanized Version
अब कभी सा एक समझ है भावना सबसे ज्यादा इंपॉर्टेंट नहीं है क्या इंपॉर्टेंट है सबसे इंपोर्टेंट होती है कि आप कितने एक दूसरे से जुड़े हुए कितने एक्सीडेंट होता है किसी से किसी की पैंडिंग को जांचने के लिए दोनों इंपोर्टेंट ज्यादा इंपॉर्टेंट मुझे लगता है भावना को ज्यादा इंपॉर्टेंटAb Kabhi Sa Ek Samajh Hai Bhavna Sabse Jyada Important Nahi Hai Kya Important Hai Sabse Important Hoti Hai Ki Aap Kitne Ek Dusre Se Jude Hue Kitne Accident Hota Hai Kisi Se Kisi Ki Painding Ko Janchne Ke Liye Dono Important Jyada Important Mujhe Lagta Hai Bhavna Ko Jyada Important
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अपना कोई जिंदगी को पूरी मौज मस्ती के साथ विकास बिता सकता है ना कोई इमोशनल तरीके से सबसे अच्छा है जिंदगी को जो बिताने का तरीका है कि वह जिस तरह से आप को जिंदगी डिमांड करें आप ही रंग में खुल जाए मतलब कि आप सीखे कि जिंदगी क्या चाहती है आपसे अगर खुशी का मौका है तो बिल्कुल खुशी में बताएं गम का मौका हो तो गम भी करें अगर कहीं पर दुख हो तो दुख भी करें घूमने का मौका हो तो घूमें भी आज दोस्तों के साथ और कुछ आप अगर गलत भी कर रहे हैं गलत इन द शैल सूट की कढ़ाई कि अगर कोई मस्ती मजाक में गलती भी हो रही तो वह भी करें तो हर चीज में हर रंग दुनिया के हमें अपनाना चाहिए कि ऐसा नहीं कि सिर्फ हम दुखी रहे या फिर खुशी रहे तो हर टाइप का दो रंग है वह मैं दुनिया में देखना चाहिए एक बार इस जिंदगी का मौका मिलता है सारे रंग हमें देख की जानी चाहिए
Romanized Version
देखिए अपना कोई जिंदगी को पूरी मौज मस्ती के साथ विकास बिता सकता है ना कोई इमोशनल तरीके से सबसे अच्छा है जिंदगी को जो बिताने का तरीका है कि वह जिस तरह से आप को जिंदगी डिमांड करें आप ही रंग में खुल जाए मतलब कि आप सीखे कि जिंदगी क्या चाहती है आपसे अगर खुशी का मौका है तो बिल्कुल खुशी में बताएं गम का मौका हो तो गम भी करें अगर कहीं पर दुख हो तो दुख भी करें घूमने का मौका हो तो घूमें भी आज दोस्तों के साथ और कुछ आप अगर गलत भी कर रहे हैं गलत इन द शैल सूट की कढ़ाई कि अगर कोई मस्ती मजाक में गलती भी हो रही तो वह भी करें तो हर चीज में हर रंग दुनिया के हमें अपनाना चाहिए कि ऐसा नहीं कि सिर्फ हम दुखी रहे या फिर खुशी रहे तो हर टाइप का दो रंग है वह मैं दुनिया में देखना चाहिए एक बार इस जिंदगी का मौका मिलता है सारे रंग हमें देख की जानी चाहिएDekhie Apna Koi Zindagi Ko Puri Mauj Masti Ke Saath Vikash Bita Sakta Hai Na Koi Emotional Tarike Se Sabse Accha Hai Zindagi Ko Jo Bitane Ka Tarika Hai Ki Wah Jis Tarah Se Aap Ko Zindagi Demand Karen Aap Hi Rang Mein Khul Jaye Matlab Ki Aap Sikhe Ki Zindagi Kya Chahti Hai Aapse Agar Khushi Ka Mauka Hai To Bilkul Khushi Mein Bataen Gum Ka Mauka Ho To Gum Bhi Karen Agar Kahin Par Dukh Ho To Dukh Bhi Karen Ghoomne Ka Mauka Ho To Ghuman Bhi Aaj Doston Ke Saath Aur Kuch Aap Agar Galat Bhi Kar Rahe Hain Galat In D Shall Suit Ki Kadhai Ki Agar Koi Masti Mazak Mein Galti Bhi Ho Rahi To Wah Bhi Karen To Har Cheez Mein Har Rang Duniya Ke Hume Apnana Chahiye Ki Aisa Nahi Ki Sirf Hum Dukhi Rahe Ya Phir Khushi Rahe To Har Type Ka Do Rang Hai Wah Main Duniya Mein Dekhna Chahiye Ek Baar Is Zindagi Ka Mauka Milta Hai Sare Rang Hume Dekh Ki Jani Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
इसमें पांच इंद्रियों से जानकारी पर भरोसा किए बिना शरीर की स्थिति और आंदोलनों में बदलावों का पता लगाने में सक्षम होना शामिल है। जब भी आप फिजिका में शामिल होते हैं तो आप अपने संवेदनात्मक भाव का उपयोग कर रहे हैं
Romanized Version
इसमें पांच इंद्रियों से जानकारी पर भरोसा किए बिना शरीर की स्थिति और आंदोलनों में बदलावों का पता लगाने में सक्षम होना शामिल है। जब भी आप फिजिका में शामिल होते हैं तो आप अपने संवेदनात्मक भाव का उपयोग कर रहे हैंIsme Paanch Indriyon Se Jankari Par Bharosa Kiye Bina Sharir Ki Sthiti Aur Andolanon Mein Badlaon Ka Pata Lagane Mein Saksham Hona Shamil Hai Jab Bhi Aap Fijika Mein Shamil Hote Hain To Aap Apne Samvedanatmak Bhav Ka Upyog Kar Rahe Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
भावना अंग - आंखें, कान, जीभ, त्वचा, और नाक - शरीर की रक्षा में मदद करते हैं। थहमान भावना अंगों में रिसेप्टर्स होते हैं जो संवेदी न्यूरॉन्स के माध्यम से उचित जगहों के भीतर जानकारी रिले करते हैं
Romanized Version
भावना अंग - आंखें, कान, जीभ, त्वचा, और नाक - शरीर की रक्षा में मदद करते हैं। थहमान भावना अंगों में रिसेप्टर्स होते हैं जो संवेदी न्यूरॉन्स के माध्यम से उचित जगहों के भीतर जानकारी रिले करते हैंBhavna Ang - Aankhen Kaan Jeebh Twacha Aur Nak - Sharir Ki Raksha Mein Madad Karte Hain Thahaman Bhavna Angon Mein Receptors Hote Hain Jo Sanvedi Neurons Ke Maadhyam Se Uchit Jagho Ke Bheetar Jankari Relay Karte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय गाइस मेरा नाम मॉल इन पंड्या है और लड़कियां के बारे में अगर बात करें कि वह क्यों इतनी ज्यादा इमोशनल होती है क्या यह सच है या नहीं उसे आगे चलते हैं लेकिन जब इस पृथ्वी का सर्जन हुआ है तब ईश्वर नहीं है कुछ नियम बनाए थे अब यह जो नियम बनाए हुए हैं इंसानों के लिए उसमें जो पुरुष होते हैं या फिर औरत होती एक औरत के अंदर एक कैपेसिटी है एक दूसरे इंसान को जन्म देने की यानी कि वो जब अपने बच्चे को जन्म देती है तो वह इमोशनली कनेक्टेड होती है उसके साथ क्योंकि उसी का एक शरीर का / वह समझती है कि केवल इतने इमोशनल नहीं होते क्योंकि वह कभी बच्चा नहीं देते हैं तो पहली चीज तो यहां पर यही बनती है कि जब एक शरीर का / उससे अगर अलग हो रहा है तो हम उसे कितना इंश्योरेंस हो सकते हैं हम उनसे कितना जुड़े हुए हैं साइकोलॉजिकली हम उसके साथ हैं और इसलिए एक लड़की हमेशा ज्यादा टेंडेंसी से इमोशनल होती है दूसरा हर इंसान फॉर एग्जांपल अगर अपने आप को जोड़ता है किसी और के साथ तो यह बाइबिल में कहा गया कि जो पुरुष होता है एक मर्द होता है वह कैपेसिटी रखता है अपने आप को संभालने की फाइल एक औरत जो होती है वह थोड़ी से डिपेंडेंसी में रहती है यानी कि उसे खिलाने वाला उसको प्यार करने वाला उसको पैंपर करने वाला कोई उसे होना चाहिए और तभी ही एक औरत अच्छा फील कर्ति है देखिए दोस्तों अगर आप यह सोचते हैं कि लड़कियां इमोशनल नहीं होती है ऐसा नहीं है लड़कियों के अंदर इमोशनल इमोशनल लेवल प्रेगनेंसी बहुत ज्यादा होती है और अगर आप उसे संभाल लेंगे तभी वह आपकी रहेगी अगर आप उसे नहीं संभाल पाते अगर आप उसके उम्मीद इमोशनल पोषण को सेटिस्फाई नहीं करते हैं संतोष नहीं करते तो वह आपसे दूरी बनाना शुरू कर दी है और इसीलिए हमें यह ध्यान रखना होता है कि हम उसको कोई भी लेवल पर इस पिक करे लेकिन अगर उनको हम लोग ने इमोशनली हर्ट किया है तो बोल सबसे ज्यादा इंपैक्ट होता है और वह कभी वापस नहीं आते हैं थैंक यू अगर यह सही लगता है तो उस लाइक कीजिए
Romanized Version
हाय गाइस मेरा नाम मॉल इन पंड्या है और लड़कियां के बारे में अगर बात करें कि वह क्यों इतनी ज्यादा इमोशनल होती है क्या यह सच है या नहीं उसे आगे चलते हैं लेकिन जब इस पृथ्वी का सर्जन हुआ है तब ईश्वर नहीं है कुछ नियम बनाए थे अब यह जो नियम बनाए हुए हैं इंसानों के लिए उसमें जो पुरुष होते हैं या फिर औरत होती एक औरत के अंदर एक कैपेसिटी है एक दूसरे इंसान को जन्म देने की यानी कि वो जब अपने बच्चे को जन्म देती है तो वह इमोशनली कनेक्टेड होती है उसके साथ क्योंकि उसी का एक शरीर का / वह समझती है कि केवल इतने इमोशनल नहीं होते क्योंकि वह कभी बच्चा नहीं देते हैं तो पहली चीज तो यहां पर यही बनती है कि जब एक शरीर का / उससे अगर अलग हो रहा है तो हम उसे कितना इंश्योरेंस हो सकते हैं हम उनसे कितना जुड़े हुए हैं साइकोलॉजिकली हम उसके साथ हैं और इसलिए एक लड़की हमेशा ज्यादा टेंडेंसी से इमोशनल होती है दूसरा हर इंसान फॉर एग्जांपल अगर अपने आप को जोड़ता है किसी और के साथ तो यह बाइबिल में कहा गया कि जो पुरुष होता है एक मर्द होता है वह कैपेसिटी रखता है अपने आप को संभालने की फाइल एक औरत जो होती है वह थोड़ी से डिपेंडेंसी में रहती है यानी कि उसे खिलाने वाला उसको प्यार करने वाला उसको पैंपर करने वाला कोई उसे होना चाहिए और तभी ही एक औरत अच्छा फील कर्ति है देखिए दोस्तों अगर आप यह सोचते हैं कि लड़कियां इमोशनल नहीं होती है ऐसा नहीं है लड़कियों के अंदर इमोशनल इमोशनल लेवल प्रेगनेंसी बहुत ज्यादा होती है और अगर आप उसे संभाल लेंगे तभी वह आपकी रहेगी अगर आप उसे नहीं संभाल पाते अगर आप उसके उम्मीद इमोशनल पोषण को सेटिस्फाई नहीं करते हैं संतोष नहीं करते तो वह आपसे दूरी बनाना शुरू कर दी है और इसीलिए हमें यह ध्यान रखना होता है कि हम उसको कोई भी लेवल पर इस पिक करे लेकिन अगर उनको हम लोग ने इमोशनली हर्ट किया है तो बोल सबसे ज्यादा इंपैक्ट होता है और वह कभी वापस नहीं आते हैं थैंक यू अगर यह सही लगता है तो उस लाइक कीजिएHi Guise Mera Naam Mall In Pandya Hai Aur Ladkiyan Ke Bare Mein Agar Baat Karen Ki Wah Kyon Itni Zyada Emotional Hoti Hai Kya Yeh Sach Hai Ya Nahi Use Aage Chalte Hain Lekin Jab Is Prithvi Ka "Surgeon " Hua Hai Tab Ishwar Nahi Hai Kuch Niyam Banaye The Ab Yeh Jo Niyam Banaye Huye Hain Insanon Ke Liye Usamen Jo Purush Hote Hain Ya Phir Aurat Hoti Ek Aurat Ke Andar Ek Capacity Hai Ek Dusre Insaan Ko Janm Dene Ki Yani Ki Vo Jab Apne Bacche Ko Janm Deti Hai To Wah Emotionally Connected Hoti Hai Uske Saath Kyonki Ussi Ka Ek Sharir Ka / Wah Samajhti Hai Ki Kewal Itne Emotional Nahi Hote Kyonki Wah Kabhi Baccha Nahi Dete Hain To Pehli Cheez To Yahan Par Yahi Banti Hai Ki Jab Ek Sharir Ka / Usse Agar Alag Ho Raha Hai To Hum Use Kitna Insurance Ho Sakte Hain Hum Unse Kitna Jude Huye Hain Saikolajikli Hum Uske Saath Hain Aur Isliye Ek Ladki Hamesha Zyada Tendency Se Emotional Hoti Hai Doosra Har Insaan For Example Agar Apne Aap Ko Jodtha Hai Kisi Aur Ke Saath To Yeh Bible Mein Kaha Gaya Ki Jo Purush Hota Hai Ek Mard Hota Hai Wah Capacity Rakhta Hai Apne Aap Ko Sambhalne Ki File Ek Aurat Jo Hoti Hai Wah Thodi Se Dipendensi Mein Rehti Hai Yani Ki Use Khilane Vala Usko Pyar Karne Vala Usko Paimpar Karne Vala Koi Use Hona Chahiye Aur Tabhi Hi Ek Aurat Accha Feel Karti Hai Dekhie Doston Agar Aap Yeh Sochte Hain Ki Ladkiyan Emotional Nahi Hoti Hai Aisa Nahi Hai Ladkiyon Ke Andar Emotional Emotional Level Pregnancy Bahut Zyada Hoti Hai Aur Agar Aap Use Sambhaal Lenge Tabhi Wah Aapki Rahegi Agar Aap Use Nahi Sambhaal Paate Agar Aap Uske Ummid Emotional Poshan Ko Setisfai Nahi Karte Hain Santosh Nahi Karte To Wah Aapse Doori Banana Shuru Kar Di Hai Aur Isliye Hume Yeh Dhyan Rakhna Hota Hai Ki Hum Usko Koi Bhi Level Par Is Pic Kare Lekin Agar Unko Hum Log Ne Emotionally Heart Kiya Hai To Bol Sabse Zyada Inspect Hota Hai Aur Wah Kabhi Wapas Nahi Aate Hain Thank You Agar Yeh Sahi Lagta Hai To Us Like Kijiye
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon
गर्भ के अंदर, स्पर्श करने के लिए पहली भावना स्पर्श हैं। टच लगभग 8 सप्ताह गर्भ धारण विकसित करना शुरू होता है। कई हफ्तों में, बच्चे का शरीर नसों के नेटवर्क को विकसित करता है जो इस स्पर्श की भावना पैदा करते हैं। गर्भ में भी, एक बच्चा चीजें महसूस कर सकता है।
Romanized Version
गर्भ के अंदर, स्पर्श करने के लिए पहली भावना स्पर्श हैं। टच लगभग 8 सप्ताह गर्भ धारण विकसित करना शुरू होता है। कई हफ्तों में, बच्चे का शरीर नसों के नेटवर्क को विकसित करता है जो इस स्पर्श की भावना पैदा करते हैं। गर्भ में भी, एक बच्चा चीजें महसूस कर सकता है।Garbh Ke Andar Sparsh Karne Ke Liye Pehli Bhavna Sparsh Hain Touch Lagbhag 8 Saptah Garbh Dharan Viksit Karna Shuru Hota Hai Kai Hafton Mein Bacche Ka Sharir Nason Ke Network Ko Viksit Karta Hai Jo Is Sparsh Ki Bhavna Paida Karte Hain Garbh Mein Bhi Ek Baccha Cheezen Mahsus Kar Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
Virgos संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। Virgos उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे overreact नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।
Romanized Version
Virgos संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। Virgos उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे overreact नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।Virgos Samvedansheel Hain To Unki Bhavnao Par Vichar Karen Virgos Unki Bhavnao Ko Niyantrit Rakhenge Kyonki Ve Jante Hain Ki Ve Atyadhik Samvedansheel Hain Aur Ve Overreact Nahi Karna Chahte Hain Unhen Sirf Sunane Ki Zaroorat Hai Aur Ek Bar Jab Ve Bhavnao Ko Dur Kar Lete Hain To Ve Aaram Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
राशि चक्र में कुछ संकेत दूसरों की तुलना में अधिक भावनात्मक होते हैं और हालांकि वे इसे अच्छी तरह छुपा सकते हैं, लियो अक्सर स्पेक्ट्रम के भावनात्मक पक्ष पर अधिक होता है। लेकिन लियो इतनी भावनात्मक है, लियोस सूर्य, अग्नि और पांचवें सदन द्वारा शासित हैं और आम तौर पर वे बहुत सारी शक्ति को विकिरण करते हैं।
Romanized Version
राशि चक्र में कुछ संकेत दूसरों की तुलना में अधिक भावनात्मक होते हैं और हालांकि वे इसे अच्छी तरह छुपा सकते हैं, लियो अक्सर स्पेक्ट्रम के भावनात्मक पक्ष पर अधिक होता है। लेकिन लियो इतनी भावनात्मक है, लियोस सूर्य, अग्नि और पांचवें सदन द्वारा शासित हैं और आम तौर पर वे बहुत सारी शक्ति को विकिरण करते हैं।Rashi Chakra Mein Kuch Sanket Dusron Ki Tulna Mein Adhik Bhavnatmak Hote Hain Aur Halanki Ve Ise Acchi Tarah Chhupa Sakte Hain Leo Aksar Spectrum Ke Bhavnatmak Paksh Par Adhik Hota Hai Lekin Leo Itni Bhavnatmak Hai Lios Surya Agni Aur Panchwe Sadan Dwara Shasit Hain Aur Aam Taur Par Ve Bahut Saree Shakti Ko Vikiran Karte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
फिर भी यदि आप एक मीन या वृश्चिक की तरह अधिक संवेदनशील संकेत हैं, तो उदास या क्रोध जैसी अधिक "गन्दा" भावनाओं के लिए एक तुला का तर्कसंगत दृष्टिकोण बंद हो सकता है। फिर भी, प्रिय तुला, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको किसी और की नकारात्मक भावनाओं में स्टू करना चाहिए, इसका मतलब यह नहीं है कि हर भावना का विश्लेषण किया जा सकता है या तर्कसंगत नहीं किया जा सकता है।
Romanized Version
फिर भी यदि आप एक मीन या वृश्चिक की तरह अधिक संवेदनशील संकेत हैं, तो उदास या क्रोध जैसी अधिक "गन्दा" भावनाओं के लिए एक तुला का तर्कसंगत दृष्टिकोण बंद हो सकता है। फिर भी, प्रिय तुला, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको किसी और की नकारात्मक भावनाओं में स्टू करना चाहिए, इसका मतलब यह नहीं है कि हर भावना का विश्लेषण किया जा सकता है या तर्कसंगत नहीं किया जा सकता है।Phir Bhi Yadi Aap Ek Mean Ya Vrshchik Ki Tarah Adhik Samvedansheel Sanket Hain To Udaas Ya Krodh Jaisi Adhik Gandaa Bhavnao Ke Liye Ek Tula Ka Tarksangat Drishtikon Band Ho Sakta Hai Phir Bhi Priya Tula Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Aapko Kisi Aur Ki Nakaratmak Bhavnao Mein Stu Karna Chahiye Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Har Bhavna Ka Vishleshan Kiya Ja Sakta Hai Ya Tarksangat Nahi Kiya Ja Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कन्या राशि वाले संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। कन्या राशि वाले उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे अत्यधिक प्रतिक्रिया नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।
Romanized Version
कन्या राशि वाले संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। कन्या राशि वाले उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे अत्यधिक प्रतिक्रिया नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।Kanya Rashi Wale Samvedansheel Hain To Unki Bhavnao Par Vichar Karen Kanya Rashi Wale Unki Bhavnao Ko Niyantrit Rakhenge Kyonki Ve Jante Hain Ki Ve Atyadhik Samvedansheel Hain Aur Ve Atyadhik Pratikriya Nahi Karna Chahte Hain Unhen Sirf Sunane Ki Zaroorat Hai Aur Ek Bar Jab Ve Bhavnao Ko Dur Kar Lete Hain To Ve Aaram Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कन्या राशि वाले व्यक्ति संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। कन्या राशि उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे अत्यधिक प्रतिक्रिया नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।
Romanized Version
कन्या राशि वाले व्यक्ति संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। कन्या राशि उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे अत्यधिक प्रतिक्रिया नहीं करना चाहते हैं। उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।Kanya Rashi Wale Vyakti Samvedansheel Hain To Unki Bhavnao Par Vichar Karen Kanya Rashi Unki Bhavnao Ko Niyantrit Rakhenge Kyonki Ve Jante Hain Ki Ve Atyadhik Samvedansheel Hain Aur Ve Atyadhik Pratikriya Nahi Karna Chahte Hain Unhen Sirf Sunane Ki Zaroorat Hai Aur Ek Bar Jab Ve Bhavnao Ko Dur Kar Lete Hain To Ve Aaram Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
हम अपने शरीर को संतुलित करने, देखने, सुनने, स्वाद, गंध, दर्द महसूस करने, या स्पर्श के माध्यम से संवाद करने में सक्षम नहीं होंगे। हम जिस तरह से काम करते हैं उस पर निर्भर करता है। क्लासिक पांच इंद्रियां दृष्टि, गंध, सुनवाई, स्वाद, और स्पर्श हैं। अंग जो इन चीजों को करते हैं वे आंखें, नाक, कान, जीभ और त्वचा हैं।
Romanized Version
हम अपने शरीर को संतुलित करने, देखने, सुनने, स्वाद, गंध, दर्द महसूस करने, या स्पर्श के माध्यम से संवाद करने में सक्षम नहीं होंगे। हम जिस तरह से काम करते हैं उस पर निर्भर करता है। क्लासिक पांच इंद्रियां दृष्टि, गंध, सुनवाई, स्वाद, और स्पर्श हैं। अंग जो इन चीजों को करते हैं वे आंखें, नाक, कान, जीभ और त्वचा हैं।Hum Apne Sharir Ko Santulit Karne Dekhne Sunane Swaad Gandh Dard Mahsus Karne Ya Sparsh Ke Maadhyam Se Sanvaad Karne Mein Saksham Nahi Honge Hum Jis Tarah Se Kaam Karte Hain Us Par Nirbhar Karta Hai Classic Paanch Indriyan Drishti Gandh Sunavai Swaad Aur Sparsh Hain Ang Jo In Chijon Ko Karte Hain Ve Aankhen Nak Kaan Jeebh Aur Twacha Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
रिसेप्टर्स विशेष कोशिकाओं के समूह हैं। वे पर्यावरण में बदलावों का पता लगा सकते हैं, जिन्हें उत्तेजना कहा जाता है, और उन्हें विद्युत आवेगों में बदल दिया जाता है। रिसेप्टर्स अक्सर कान, आंख और त्वचा जैसे भावना अंगों में स्थित होते हैं। प्रत्येक अंग में रिसेप्टर्स विशेष प्रकार के उत्तेजना के प्रति संवेदनशील होते हैं।
Romanized Version
रिसेप्टर्स विशेष कोशिकाओं के समूह हैं। वे पर्यावरण में बदलावों का पता लगा सकते हैं, जिन्हें उत्तेजना कहा जाता है, और उन्हें विद्युत आवेगों में बदल दिया जाता है। रिसेप्टर्स अक्सर कान, आंख और त्वचा जैसे भावना अंगों में स्थित होते हैं। प्रत्येक अंग में रिसेप्टर्स विशेष प्रकार के उत्तेजना के प्रति संवेदनशील होते हैं।Receptors Vishesh Koshikaaon Ke Samuh Hain Ve Paryaavaran Mein Badlaon Ka Pata Laga Sakte Hain Jinhen Uttejna Kaha Jata Hai Aur Unhen Vidyut Aavegon Mein Badal Diya Jata Hai Receptors Aksar Kaan Aankh Aur Twacha Jaise Bhavna Angon Mein Sthit Hote Hain Pratyek Ang Mein Receptors Vishesh Prakar Ke Uttejna Ke Prati Samvedansheel Hote Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
नाक (गंध की भावना) गंध की भावना के लिए अंग नाक है। नाक नाक है, हम नाक के माध्यम से सांस लेते हैं। ... नाक भी एक अंग है जो हमें स्वाद की भावना में मदद करता है।
Romanized Version
नाक (गंध की भावना) गंध की भावना के लिए अंग नाक है। नाक नाक है, हम नाक के माध्यम से सांस लेते हैं। ... नाक भी एक अंग है जो हमें स्वाद की भावना में मदद करता है।Nak Gandh Ki Bhavna Gandh Ki Bhavna Ke Liye Ang Nak Hai Nak Nak Hai Hum Nak Ke Maadhyam Se Saans Lete Hain ... Nak Bhi Ek Ang Hai Jo Hume Swaad Ki Bhavna Mein Madad Karta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल न भगवान शिव जी कहते हैं कि इंसान को उसकी जिंदगी में कभी जो है भावुक होकर कोई निर्णय नहीं लेना चाहिए उनका यह कहना बहुत ही सही है यदि आपके पास तो शांतिपूर्ण मन है तो कुछ भी असंभव नहीं है और यह भी कहते हैं कि भगवान शिव के मामले केबल मन शरीर और आत्मा के एकजुट होने का प्रतीक जो अपने कर्तव्य पर बेहतर ध्यान केंद्रित करना और अपने दिमाग को शांति प्रदान करने की और सक्षम सक्षम बनता है बनाता है इसी प्रकार हमारे जीवन में चाहे हम कड़ी मेहनत करना चाहते हैं या फिर कार्यस्थल पर अधिक उत्पादक प्राप्त करें बेहतर स्वस्थ शिक्षित प्राप्त करने के लिए बेहतर ध्यान रखें या लक्ष्य रखिए तो हमें अपने शरीर दिमाग और आत्मा को जो है करने की कोशिश करनी चाहिए अलग किसके साथ ही साथ जो है लिखकर नेगेटिव थॉट्स को दिमाग से हटा देना चाहिए और यह जो है लिखा यह भी कहना है कि भगवान शिव जी का जल भर तन मन की शुद्धि कारण का प्रतीक है यदि आपने अपने दिमाग से जो है लिखने के टिप्स और को समाप्त नहीं किया है और जो है लेकर अगर यह लिमिट नहीं किया जाता है पर ध्यान केंद्रित नहीं किया है तो आप अपने जीवन को जो है बेकार तरीके से जीते हैं तो अगर आप नेगेटिव टॉर्च निकाल कर सब कुछ अगर पॉजिटिव सेटिंग करेंगे तो लेकर आप टेंशन पुअर हैल्थ यह सब जो है लेकिन नॉलेज भी अपलोड कर सकते लेकिन कर सकते हैं लेकिन आपकी स्क्रीन के ऊपर आप जो है लिखिए कर सकते हैं तो इसके लिए जो है आपको और नेगेटिव थॉट देखना चाहिए और क्या बोलते रहना चाहिए जयपुर एटीट्यूड हो
Romanized Version
जी बिल्कुल न भगवान शिव जी कहते हैं कि इंसान को उसकी जिंदगी में कभी जो है भावुक होकर कोई निर्णय नहीं लेना चाहिए उनका यह कहना बहुत ही सही है यदि आपके पास तो शांतिपूर्ण मन है तो कुछ भी असंभव नहीं है और यह भी कहते हैं कि भगवान शिव के मामले केबल मन शरीर और आत्मा के एकजुट होने का प्रतीक जो अपने कर्तव्य पर बेहतर ध्यान केंद्रित करना और अपने दिमाग को शांति प्रदान करने की और सक्षम सक्षम बनता है बनाता है इसी प्रकार हमारे जीवन में चाहे हम कड़ी मेहनत करना चाहते हैं या फिर कार्यस्थल पर अधिक उत्पादक प्राप्त करें बेहतर स्वस्थ शिक्षित प्राप्त करने के लिए बेहतर ध्यान रखें या लक्ष्य रखिए तो हमें अपने शरीर दिमाग और आत्मा को जो है करने की कोशिश करनी चाहिए अलग किसके साथ ही साथ जो है लिखकर नेगेटिव थॉट्स को दिमाग से हटा देना चाहिए और यह जो है लिखा यह भी कहना है कि भगवान शिव जी का जल भर तन मन की शुद्धि कारण का प्रतीक है यदि आपने अपने दिमाग से जो है लिखने के टिप्स और को समाप्त नहीं किया है और जो है लेकर अगर यह लिमिट नहीं किया जाता है पर ध्यान केंद्रित नहीं किया है तो आप अपने जीवन को जो है बेकार तरीके से जीते हैं तो अगर आप नेगेटिव टॉर्च निकाल कर सब कुछ अगर पॉजिटिव सेटिंग करेंगे तो लेकर आप टेंशन पुअर हैल्थ यह सब जो है लेकिन नॉलेज भी अपलोड कर सकते लेकिन कर सकते हैं लेकिन आपकी स्क्रीन के ऊपर आप जो है लिखिए कर सकते हैं तो इसके लिए जो है आपको और नेगेटिव थॉट देखना चाहिए और क्या बोलते रहना चाहिए जयपुर एटीट्यूड होJi Bilkul N Bhagwan Shiv Ji Kehte Hain Ki Insaan Ko Uski Zindagi Mein Kabhi Jo Hai Bhavuk Hokar Koi Nirnay Nahi Lena Chahiye Unka Yeh Kehna Bahut Hi Sahi Hai Yadi Aapke Paas To Shantipurna Man Hai To Kuch Bhi Asambhav Nahi Hai Aur Yeh Bhi Kehte Hain Ki Bhagwan Shiv Ke Mamle Kebal Man Sharir Aur Aatma Ke Ekjoot Hone Ka Pratik Jo Apne Kartavya Par Behtar Dhyan Kendrit Karna Aur Apne Dimag Ko Shanti Pradan Karne Ki Aur Saksham Saksham Banta Hai Banata Hai Isi Prakar Hamare Jeevan Mein Chahe Hum Kadi Mehnat Karna Chahte Hain Ya Phir Karyasthal Par Adhik Utpadak Prapt Karen Behtar Swasth Shikshit Prapt Karne Ke Liye Behtar Dhyan Rakhen Ya Lakshya To Hume Apne Sharir Dimag Aur Aatma Ko Jo Hai Karne Ki Koshish Karni Chahiye Alag Kiske Saath Hi Saath Jo Hai Likhkar Negative Thoughts Ko Dimag Se Hata Dena Chahiye Aur Yeh Jo Hai Likha Yeh Bhi Kehna Hai Ki Bhagwan Shiv Ji Ka Jal Bhar Tan Man Ki Shudhi Kaaran Ka Pratik Hai Yadi Aapne Apne Dimag Se Jo Hai Likhne Ke Tips Aur Ko Samapt Nahi Kiya Hai Aur Jo Hai Lekar Agar Yeh Limit Nahi Kiya Jata Hai Par Dhyan Kendrit Nahi Kiya Hai To Aap Apne Jeevan Ko Jo Hai Bekar Tarike Se Jeete Hain To Agar Aap Negative Torch Nikal Kar Sab Kuch Agar Positive Setting Karenge To Lekar Aap Tension Poor Health Yeh Sab Jo Hai Lekin Knowledge Bhi Upload Kar Sakte Lekin Kar Sakte Hain Lekin Aapki Screen Ke Upar Aap Jo Hai Likhiye Kar Sakte Hain To Iske Liye Jo Hai Aapko Aur Negative Thought Dekhna Chahiye Aur Kya Bolte Rehna Chahiye Jaipur Attitude Ho
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
राशि चक्र में कुछ संकेत दूसरों की तुलना में अधिक भावनात्मक होते हैं और हालांकि वे इसे अच्छी तरह छुपा सकते हैं, सिंह राशि के अक्सर स्पेक्ट्रम के भावनात्मक पक्ष पर अधिक होते भावुक है। सिंह राशि के सूर्य, अग्नि और पांचवें सदन द्वारा शासित होते हैं और आम तौर पर वे बहुत सारी शक्ति का विकिरण करते हैं।
Romanized Version
राशि चक्र में कुछ संकेत दूसरों की तुलना में अधिक भावनात्मक होते हैं और हालांकि वे इसे अच्छी तरह छुपा सकते हैं, सिंह राशि के अक्सर स्पेक्ट्रम के भावनात्मक पक्ष पर अधिक होते भावुक है। सिंह राशि के सूर्य, अग्नि और पांचवें सदन द्वारा शासित होते हैं और आम तौर पर वे बहुत सारी शक्ति का विकिरण करते हैं।Rashi Chakra Mein Kuch Sanket Dusron Ki Tulna Mein Adhik Bhavnatmak Hote Hain Aur Halanki Ve Ise Acchi Tarah Chhupa Sakte Hain Singh Rashi Ke Aksar Spectrum Ke Bhavnatmak Paksh Par Adhik Hote Bhavuk Hai Singh Rashi Ke Surya Agni Aur Panchwe Sadan Dwara Shasit Hote Hain Aur Aam Taur Par Ve Bahut Saree Shakti Ka Vikiran Karte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
मिथुन उदास हो जाता है, हालांकि यह बाहरी दुनिया के लिए उतना ही नहीं दिखा सकता है। कई Geminis एक भावनात्मक या मानसिक ध्रुव से दूसरे के लिए अनियमित मूड स्विंग है। चूंकि उनका उपयोग उस विभाजित अनुभव के लिए किया जाता है, इसलिए मिथुन वास्तव में सोच सकती है !
Romanized Version
मिथुन उदास हो जाता है, हालांकि यह बाहरी दुनिया के लिए उतना ही नहीं दिखा सकता है। कई Geminis एक भावनात्मक या मानसिक ध्रुव से दूसरे के लिए अनियमित मूड स्विंग है। चूंकि उनका उपयोग उस विभाजित अनुभव के लिए किया जाता है, इसलिए मिथुन वास्तव में सोच सकती है ! Mithun Udaas Ho Jata Hai Halanki Yeh Baahri Duniya Ke Liye Utana Hi Nahi Dikha Sakta Hai Kai Geminis Ek Bhavnatmak Ya Mansik Dhruv Se Dusre Ke Liye Aniyamit Mood Swing Hai Chunki Unka Upyog Us Vibhajit Anubhav Ke Liye Kiya Jata Hai Isliye Mithun Vaastav Mein Soch Sakti Hai !
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BP मुझे ऐसा नहीं लगता कि लड़के ज्यादा इमोशनल होती है लड़कों से तो मेरा यह मानना है इस चीज में की इमोशनल ही दोनों बराबर ही होते हैं वो टोटली प्रथम प्रथम रैली करता है कुछ लड़के ज्यादा इमोशन होते हैं उसमें होते हैं तो कुछ लड़के ज्यादा इमोशनल होती है तू मुझे नहीं लगता यहां पर यह कहना सही होगा कि सिर्फ लड़कियां ज्यादा इमोशनल होती है लड़कों से तो मैं नहीं मानता
Romanized Version
BP मुझे ऐसा नहीं लगता कि लड़के ज्यादा इमोशनल होती है लड़कों से तो मेरा यह मानना है इस चीज में की इमोशनल ही दोनों बराबर ही होते हैं वो टोटली प्रथम प्रथम रैली करता है कुछ लड़के ज्यादा इमोशन होते हैं उसमें होते हैं तो कुछ लड़के ज्यादा इमोशनल होती है तू मुझे नहीं लगता यहां पर यह कहना सही होगा कि सिर्फ लड़कियां ज्यादा इमोशनल होती है लड़कों से तो मैं नहीं मानताBP Mujhe Aisa Nahi Lagta Ki Ladke Jyada Emotional Hoti Hai Ladko Se To Mera Yeh Manana Hai Is Cheez Mein Ki Emotional Hi Dono Barabar Hi Hote Hain Vo Totally Pratham Pratham Rally Karta Hai Kuch Ladke Jyada Emotion Hote Hain Usamen Hote Hain To Kuch Ladke Jyada Emotional Hoti Hai Tu Mujhe Nahi Lagta Yahan Par Yeh Kehna Sahi Hoga Ki Sirf Ladkiyan Jyada Emotional Hoti Hai Ladko Se To Main Nahi Manata
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
Virgos संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। Virgos उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे overreact नहीं करना चाहते हैं। ... उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।
Romanized Version
Virgos संवेदनशील हैं, तो उनकी भावनाओं पर विचार करें। Virgos उनकी भावनाओं को नियंत्रित रखेंगे क्योंकि वे जानते हैं कि वे अत्यधिक संवेदनशील हैं, और वे overreact नहीं करना चाहते हैं। ... उन्हें सिर्फ सुनने की जरूरत है, और एक बार जब वे भावनाओं को दूर कर लेते हैं, तो वे आराम कर सकते हैं।Virgos Samvedansheel Hain To Unki Bhavnao Par Vichar Karen Virgos Unki Bhavnao Ko Niyantrit Rakhenge Kyonki Ve Jante Hain Ki Ve Atyadhik Samvedansheel Hain Aur Ve Overreact Nahi Karna Chahte Hain ... Unhen Sirf Sunane Ki Zaroorat Hai Aur Ek Bar Jab Ve Bhavnao Ko Dur Kar Lete Hain To Ve Aaram Kar Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आपने सही कहा यह तो प्रकृति का नियम हो रहा है कि जो सबसे सीधा पेड़ होता है वह सबसे पहले कटता है तो ईमानदार हूं बिल्कुल दिल से मानता हूं लेकिन कभी भी आपको सुना होगा किस दुनिया में बस 10:00 पर्सेंट ऐसा सांप है जिनके पास जहर होता है लेकिन बाकी के 90पसंद आप देखकर नहीं बता सकते वह भी सह लेंगे 10 के लिए फिल्म के पास जाना हो ईमानदार होना चाहिए इंसान को नहीं पढ़ना चाहिए अगर कोई आपको अपनापन दिखा रहा है तो फिर आप भी दिखाएं उसे कि भले ही मैं ईमानदार हूं लेकिन अगर मैं जब करने पर उतर आया तो मैं कुछ भी कर सकता हूं तो बिल्कुल ईमानदार होना चाहिए दिल से शरीफ होना चाहिए लेकिन किसी से कमजोर नहीं पढ़ना चाहिए
Romanized Version
जी बिल्कुल आपने सही कहा यह तो प्रकृति का नियम हो रहा है कि जो सबसे सीधा पेड़ होता है वह सबसे पहले कटता है तो ईमानदार हूं बिल्कुल दिल से मानता हूं लेकिन कभी भी आपको सुना होगा किस दुनिया में बस 10:00 पर्सेंट ऐसा सांप है जिनके पास जहर होता है लेकिन बाकी के 90पसंद आप देखकर नहीं बता सकते वह भी सह लेंगे 10 के लिए फिल्म के पास जाना हो ईमानदार होना चाहिए इंसान को नहीं पढ़ना चाहिए अगर कोई आपको अपनापन दिखा रहा है तो फिर आप भी दिखाएं उसे कि भले ही मैं ईमानदार हूं लेकिन अगर मैं जब करने पर उतर आया तो मैं कुछ भी कर सकता हूं तो बिल्कुल ईमानदार होना चाहिए दिल से शरीफ होना चाहिए लेकिन किसी से कमजोर नहीं पढ़ना चाहिएG Bilkul Aapne Sahi Kaha Yeh To Prakriti Karne Niyam Ho Raha Hai Ki Jo Sabse Sidhaa Ped Hota Hai Wah Sabse Pehle Katataa Hai To Imandar Hoon Bilkul Dil Se Manata Hoon Lekin Kabhi Bhi Aapko Suna Hoga Kis Duniya Mein Bus 10:00 Percent Aisa Saamp Hai Jinke Paas Zahar Hota Hai Lekin Baki Ke Pasand Aap Dekhkar Nahi Bata Sakte Wah Bhi Sah Lenge 10 Ke Liye Film Ke Paas Jana Ho Imandar Hona Chahiye Insaan Ko Nahi Padhna Chahiye Agar Koi Aapko Apnapan Dikha Raha Hai To Phir Aap Bhi Dikhaen Use Ki Bhale Hi Main Imandar Hoon Lekin Agar Main Jab Karne Par Utar Aaya To Main Kuch Bhi Kar Sakta Hoon To Bilkul Imandar Hona Chahiye Dil Se Sharif Hona Chahiye Lekin Kisi Se Kamjor Nahi Padhna Chahiye
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
लाइब्रस भावनात्मक हैं फिर भी यदि आप एक मीन या वृश्चिक की तरह अधिक संवेदनशील संकेत हैं, तो उदास या क्रोध जैसी अधिक "गन्दा" भावनाओं के लिए एक तुला का तर्कसंगत दृष्टिकोण बंद हो सकता है। फिर भी, प्रिय तुला, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको किसी और की नकारात्मक भावनाओं में स्टू करना चाहिए, इसका मतलब यह नहीं है कि हर भावना का विश्लेषण किया जा सकता है या तर्कसंगत नहीं किया जा सकता है।
Romanized Version
लाइब्रस भावनात्मक हैं फिर भी यदि आप एक मीन या वृश्चिक की तरह अधिक संवेदनशील संकेत हैं, तो उदास या क्रोध जैसी अधिक "गन्दा" भावनाओं के लिए एक तुला का तर्कसंगत दृष्टिकोण बंद हो सकता है। फिर भी, प्रिय तुला, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको किसी और की नकारात्मक भावनाओं में स्टू करना चाहिए, इसका मतलब यह नहीं है कि हर भावना का विश्लेषण किया जा सकता है या तर्कसंगत नहीं किया जा सकता है। Librace Bhavnatmak Hain Phir Bhi Yadi Aap Ek Mean Ya Vrshchik Ki Tarah Adhik Samvedansheel Sanket Hain To Udaas Ya Krodh Jaisi Adhik Gandaa Bhavnao Ke Liye Ek Tula Ka Tarksangat Drishtikon Band Ho Sakta Hai Phir Bhi Priya Tula Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Aapko Kisi Aur Ki Nakaratmak Bhavnao Mein Stu Karna Chahiye Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Har Bhavna Ka Vishleshan Kiya Ja Sakta Hai Ya Tarksangat Nahi Kiya Ja Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कई राज्यों में, शारीरिक चोट वास्तव में भावनात्मक संकट का कारण बननी चाहिए। राज्यों की अल्पसंख्यक में, अगर यौन उत्पीड़न लापरवाही के कारण होता है तो शारीरिक चोट की आवश्यकता नहीं होती है। आम तौर पर, आप भावनात्मक संकट के लिए मुकदमा कर सकते हैं जब: आप परिवार के सदस्य की मौत या चोट को देखते हैं।
Romanized Version
कई राज्यों में, शारीरिक चोट वास्तव में भावनात्मक संकट का कारण बननी चाहिए। राज्यों की अल्पसंख्यक में, अगर यौन उत्पीड़न लापरवाही के कारण होता है तो शारीरिक चोट की आवश्यकता नहीं होती है। आम तौर पर, आप भावनात्मक संकट के लिए मुकदमा कर सकते हैं जब: आप परिवार के सदस्य की मौत या चोट को देखते हैं।Kai Rajyo Mein Shaaririk Chot Vaastav Mein Bhavnatmak Sankat Ka Kaaran Banani Chahiye Rajyo Ki Alpsankhyak Mein Agar Yaun Utpidan Laparwahi Ke Kaaran Hota Hai To Shaaririk Chot Ki Avashyakta Nahi Hoti Hai Aam Taur Par Aap Bhavnatmak Sankat Ke Liye Mukadma Kar Sakte Hain Jab Aap Parivar Ke Sadasya Ki Maut Ya Chot Ko Dekhte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
vokalandroid