tag_img

दवा


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिगी स्मॉल्स है उसे भी कहते हैं वह कोई परमानेंट बीमारी नहीं है कि से जड़ से खत्म किया जा सकता है कि समय पर होती है जब समय पर इस आपको मोशन सिकनेस हो रहा है अगर आपने ऊपर बैठे हैं पानी चल रहा है तो आपको ...
जवाब पढ़िये
बिगी स्मॉल्स है उसे भी कहते हैं वह कोई परमानेंट बीमारी नहीं है कि से जड़ से खत्म किया जा सकता है कि समय पर होती है जब समय पर इस आपको मोशन सिकनेस हो रहा है अगर आपने ऊपर बैठे हैं पानी चल रहा है तो आपको मोशन सिकनेस है तो आपको समस्या होती है या तो फिर अगर आप अगर ज्यादा खा लेते हैं या फिर अगर आपको स्टमक में लूज मोशन होते तो किस से समस्या होती है परमानेंट बीमारी नहीं है यह जो है कुछ समय के लिए होती है इस का ट्रीटमेंट मौजूद है आप मेडिसिन ले सकते हैं ठीक हो जाएगी अगर आप सिर्फ 24 घंटे कॉल भी नहीं की तब तो कमेंट में मुझे 24 घंटे काम रहता है तो उसी प्रकार की बीमारीBigi Smals Hai Usse Bhi Kehte Hain Wah Koi Paramanent Bimari Nahin Hai Qi Se Jad Se Khatma Kiya Ja Sakta Hai Qi Samay Per Hoti Hai Jab Samay Per Is Aapko Motion Sickness Ho Raha Hai Agar Aapne Upar Baithe Hain Pani Chal Raha Hai To Aapko Motion Sickness Hai To Aapko Samasya Hoti Hai Ya To Phir Agar Aap Agar Jyada Kha Lete Hain Ya Phir Agar Aapko Stomach Mein Loose Motion Hote To Kiss Se Samasya Hoti Hai Paramanent Bimari Nahin Hai Yeh Joe Hai Kuch Samay K Lie Hoti Hai Is Ka Treatment Maujood Hai Aap Medicine Le Sakte Hain Thik Ho Jaaegi Agar Aap Sirf 24 Ghamte Call Bhi Nahin Ki Taba To Comment Mein Mujhe 24 Ghamte Kama Rehta Hai To Ussi Prakar Ki Bimari
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मनुष्य के शरीर पर कोई धब्बे पड़ जाते हैं तो यह कोई स्किन इंफेक्शन हो सकता है या कोई चोट का दाग हो सकता है तो पहले तब यह जाने के लिए क्या है आपके शरीर में धब्बे अभी नहीं जान पा रहे थे कच्ची डॉक्टर...
जवाब पढ़िये
विकी मनुष्य के शरीर पर कोई धब्बे पड़ जाते हैं तो यह कोई स्किन इंफेक्शन हो सकता है या कोई चोट का दाग हो सकता है तो पहले तब यह जाने के लिए क्या है आपके शरीर में धब्बे अभी नहीं जान पा रहे थे कच्ची डॉक्टर से अपने दोस्त इनका इलाज करें कि कभी-कभी कुछ लोग भी जो है से दाग धब्बे हो जाते हैं या कोई दाग धब्बे या कोई आने वाले लोगों का यह भी पहचान हो सकता है अच्छे डॉक्टर से इलाज कराया जाता है ताकि आपका जैसा ठीक हो सकेViki Manusya K Sharir Per Koi Dhabbe Pad Jaate Hain To Yeh Koi Skin Infection Ho Sakta Hai Ya Koi Chot Ka Dag Ho Sakta Hai To Pehle Taba Yeh Jane K Lie Kya Hai Aapke Sharir Mein Dhabbe Abhi Nahin Jaan PA Rahe The Kacchi Doctor Se Apne Dost Inaka Ilaj Karein Qi Kabhi Kabhi Kuch Log Bhi Joe Hai Se Dag Dhabbe Ho Jaate Hain Ya Koi Dag Dhabbe Ya Koi Aane Wale Logon Ka Yeh Bhi Pehchan Ho Sakta Hai Achchhe Doctor Se Ilaj Karaya Jaata Hai Taki Aapka Jaisa Thik Ho Skye
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर दो महीने का प्रेगनेंसी है और अब बिना दवा का गर्भपात करवाना चाहती है तो यह बहुत ही मुश्किल है इस के लिए तो मैं आपको सूचित करुंगा कि आप नजदीकी अच्छी महिला डॉक्टर से संपर्क करें और भी तो क्या पागल की...
जवाब पढ़िये
अगर दो महीने का प्रेगनेंसी है और अब बिना दवा का गर्भपात करवाना चाहती है तो यह बहुत ही मुश्किल है इस के लिए तो मैं आपको सूचित करुंगा कि आप नजदीकी अच्छी महिला डॉक्टर से संपर्क करें और भी तो क्या पागल की बच्ची का गर्भपात करवाना मतलब किसी जिंदगी को आपका जिंदगी को खत्म करे तो जिंदगी को खत्म करना अच्छी बात नहीं है क्योंकि हमें आती नहीं दिया है भगवान ने हमें मिलाया किसी की जिंदगी बरबाद करें तो बेहतर होगा कि आप उन्हें रहने देना नहीं आती हो जाएगी प्रेग्नेंट हो चुकी है तो प्रेग्नेंट में बहुत ही मुश्किल डॉक्टर से बात करो कि आपको बता कर उनसे ही बात कर सकते आप इसके बारे मेंAgar Do Mahine Ka Pregnancy Hai Aur Ab Bina Dawa Ka Garbhpaat Karwana Chahti Hai To Yeh Bahut Hi Mushkil Hai Is Ke Liye To Main Aapko Suchit Karunga Ki Aap Najadiki Acchi Mahila Doctor Se Sampark Karen Aur Bhi To Kya Pagal Ki Bacchi Ka Garbhpaat Karwana Matlab Kisi Zindagi Ko Aapka Zindagi Ko Khatam Kare To Zindagi Ko Khatam Karna Acchi Baat Nahi Hai Kyonki Hume Aati Nahi Diya Hai Bhagwan Ne Hume Milaya Kisi Ki Zindagi Barabad Karen To Behtar Hoga Ki Aap Unhen Rehne Dena Nahi Aati Ho Jayegi Pregnant Ho Chuki Hai To Pregnant Mein Bahut Hi Mushkil Doctor Se Baat Karo Ki Aapko Bata Kar Unse Hi Baat Kar Sakte Aap Iske Baare Mein
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मस्त बॉडी बनाना चाहते हैं उसके लिए विटामिन लेना तो इतना अच्छा नहीं है बट आप मल्टीविटामिन ले सकते हैं चॉइस ले सकते हैं अभी बुकिंग ले सकते हैं और मतलब की मां ने Skype दे सकते हैं दे सकते हैं जिससे आपकी ...
जवाब पढ़िये
मस्त बॉडी बनाना चाहते हैं उसके लिए विटामिन लेना तो इतना अच्छा नहीं है बट आप मल्टीविटामिन ले सकते हैं चॉइस ले सकते हैं अभी बुकिंग ले सकते हैं और मतलब की मां ने Skype दे सकते हैं दे सकते हैं जिससे आपकी बॉडी जो है जीवन सकती हैMast Body Banana Chahte Hain Uske Liye Vitamin Lena To Itna Accha Nahi Hai But Aap Maltivitamin Le Sakte Hain Choice Le Sakte Hain Abhi Booking Le Sakte Hain Aur Matlab Ki Maa Ne Skype De Sakte Hain De Sakte Hain Jisse Aapki Body Jo Hai Jeevan Sakti Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टॉयलेट में जलन होने के बहुत से विषय होते हैं जैसे कि पानी कम पीते हैं तो जलन होता है इसके अलावा काम ज्यादा हस्तमैथुन करते तो भी कभी-कभी जलन होता है तो नहीं करते हैं पानी कम पीती पानी ज्यादा पीने का सम...
जवाब पढ़िये
टॉयलेट में जलन होने के बहुत से विषय होते हैं जैसे कि पानी कम पीते हैं तो जलन होता है इसके अलावा काम ज्यादा हस्तमैथुन करते तो भी कभी-कभी जलन होता है तो नहीं करते हैं पानी कम पीती पानी ज्यादा पीने का समय पानी कम होने के कारण भी ऐसा होता हैToilet Mein Jalan Hone Ke Bahut Se Vishay Hote Hain Jaise Ki Pani Kum Pite Hain To Jalan Hota Hai Iske Alava Kaam Jyada Hastamaithun Karte To Bhi Kabhi Kabhi Jalan Hota Hai To Nahi Karte Hain Pani Kum Piti Pani Jyada Peene Ka Samay Pani Kum Hone Ke Kaaran Bhi Aisa Hota Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पिंपल्स क्यों है अगर आपको अच्छे तेरे बस की समस्या हो रही है उसको ठीक है ठीक करना है तो उसके लिए अवश्य मार्केट में आपको विश्वास बजे मिल जाएंगे मिल जाएंगे तो उसको ट्राई कर सकते हैं फिर आप कल से अभिषेक अ...
जवाब पढ़िये
पिंपल्स क्यों है अगर आपको अच्छे तेरे बस की समस्या हो रही है उसको ठीक है ठीक करना है तो उसके लिए अवश्य मार्केट में आपको विश्वास बजे मिल जाएंगे मिल जाएंगे तो उसको ट्राई कर सकते हैं फिर आप कल से अभिषेक अक्षय कानों से ज्यादा गर्मी की वजह से ज्यादा की समस्या होती है तब तेरे को हमसे क्लीन रखें एक दूसरे की नकल समस्या जो है ऑटोमेटिक खत्म हो जाएगा फिर भी नहीं हुआPimples Kyun Hai Agar Aapko Acche Tere Bus Ki Samasya Ho Rahi Hai Usko Theek Hai Theek Karna Hai To Uske Liye Avashya Market Mein Aapko Vishwas Baje Mil Jaenge Mil Jaenge To Usko Try Kar Sakte Hain Phir Aap Kal Se Abhishek Akshay Kando Se Jyada Garmi Ki Wajah Se Jyada Ki Samasya Hoti Hai Tab Tere Ko Humse Clean Rakhen Ek Dusre Ki Nakal Samasya Jo Hai Automatic Khatam Ho Jayega Phir Bhi Nahi Hua
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विजडम गठिया का दवा लेना चाहते हैं तो मैं तो सिर्फ सड़कों के पहले आप एक अच्छे डॉक्टर से अपना जांच करवाएं राधे कहां कैसे गठिया कितनी पुरानी गठिया है क्या वह उपचार उसे ठीक हो जाएगी इस मैसेज पर संपर्क करे...
जवाब पढ़िये
विजडम गठिया का दवा लेना चाहते हैं तो मैं तो सिर्फ सड़कों के पहले आप एक अच्छे डॉक्टर से अपना जांच करवाएं राधे कहां कैसे गठिया कितनी पुरानी गठिया है क्या वह उपचार उसे ठीक हो जाएगी इस मैसेज पर संपर्क करें की दुकान से मिलेगाWisdom Gathiya Ka Dawa Lena Chahte Hain To Main To Sirf Sadkon Ke Pehle Aap Ek Acche Doctor Se Apna Janch Karvaaein Radhe Kahan Kaise Gathiya Kitni Purani Gathiya Hai Kya Wah Upchaar Use Theek Ho Jayegi Is Massage Par Sampark Karen Ki Dukan Se Milega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रिफ्यूजी डिपेंड करता है दवा कौन सी है तो जैसे पेरासिटामोल टाइप की होती है वह कहते हैं कि चाय आइबूप्रोफेन तेरा उसको बोलते हैं कि खाली बैठने का नीचे वाला खाना खाने के बाद आ सकता है खाली पेट में खाना खान...
जवाब पढ़िये
रिफ्यूजी डिपेंड करता है दवा कौन सी है तो जैसे पेरासिटामोल टाइप की होती है वह कहते हैं कि चाय आइबूप्रोफेन तेरा उसको बोलते हैं कि खाली बैठने का नीचे वाला खाना खाने के बाद आ सकता है खाली पेट में खाना खाने के कितनी देर बाद खा सकते आप को एकदम डॉक्टर से कंफर्म पूछना चाहिए कि कितने देर बाद खाना खाने के दिन में कितनी बार खाना कौन सी खानी है कितनी खानी है हरदोई काला कम कीजिएगा साइड इफेक्ट होने के चांस होते हैंRifyuji Depend Karta Hai Dawa Kaun Si Hai To Jaise Paracetamol Type Ki Hoti Hai Wah Kehte Hain Ki Chai Aibuprofen Tera Usko Bolte Hain Ki Khaali Baithne Ka Neeche Wala Khana Khane Ke Baad Aa Sakta Hai Khaali Pet Mein Khana Khane Ke Kitni Der Baad Kha Sakte Aap Ko Ekdam Doctor Se Confirm Poochna Chahiye Ki Kitne Der Baad Khana Khane Ke Din Mein Kitni Baar Khana Kaun Si Khaani Hai Kitni Khaani Hai Hardoi Kala Kum Kijeeyegaa Side Effect Hone Ke Chance Hote Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं प्रभावी और अपेक्षाकृत सुरक्षित हैं, और अधिकतर कम लागत वाली जेनरिक के रूप में उपलब्ध हैं। लेकिन वे नीचे की तालिका में सूचीबद्ध साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकते हैं। ... फिर भी, कई डॉक्टर नियमित रूप से अन्य रक्तचाप दवाओं को निर्धारित करते हैं, जिनमें नए, अधिक महंगे शामिल हैं।
Romanized Version
उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं प्रभावी और अपेक्षाकृत सुरक्षित हैं, और अधिकतर कम लागत वाली जेनरिक के रूप में उपलब्ध हैं। लेकिन वे नीचे की तालिका में सूचीबद्ध साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकते हैं। ... फिर भी, कई डॉक्टर नियमित रूप से अन्य रक्तचाप दवाओं को निर्धारित करते हैं, जिनमें नए, अधिक महंगे शामिल हैं।Uccha Raktachap Ke Ilaj Ke Liye Upyog Ki Jaane Wali Davayain Prabhavi Aur Apekshakrit Surakshit Hain Aur Adhiktar Kum Laagat Wali Jenrik Ke Roop Mein Uplabdha Hain Lekin Ve Neeche Ki Talika Mein Suchibadh Side Effects Ka Kaaran Ban Sakte Hain ... Phir Bhi Kai Doctor Niyamit Roop Se Anya Raktachap Dawaon Ko Nirdharit Karte Hain Jinmein Naye Adhik Mahange Shamil Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाल गिरने से रोकने के लिए मार्केट में तो बहुत सारी दवाईयां है वह सारे लोग हमें पति का भी यूज करते हैं आयुर्वेदिक का भी उस करते हैं दवाई है ऐसा दवाई नहीं है ऐसा नहीं है लेकिन उसके साइड इफेक्ट भी है और ...
जवाब पढ़िये
बाल गिरने से रोकने के लिए मार्केट में तो बहुत सारी दवाईयां है वह सारे लोग हमें पति का भी यूज करते हैं आयुर्वेदिक का भी उस करते हैं दवाई है ऐसा दवाई नहीं है ऐसा नहीं है लेकिन उसके साइड इफेक्ट भी है और कुछ डुप्लीकेट प्रोडक्ट्स भी है जो दावा करते क्यों होता कुछ नहीं है आपको बालों की समस्या है तो उसके लिए मैं एक बहुत ही जबरदस्त आपको एक उपाय बताता हूं आपके बालों के गिरने का या बाल सफेद होने का या बाल गंजे हो चुके हो इस जीवन में अगर आप रिजल्ट चाहते हो टॉप सेल्फ हिप्नोसिस सप्लाई प्रॉब्लम सॉल्व कर सकते हो इसलिए आपको सेल्फी सीखना पड़ेगा क्योंकि इसका मेल जो बेसिक है यह है कि अगर हम अपने सबकॉन्शियस माइंड को यह समझा दे कि आपके बाल गिरना बंद हो जाए असफल रहे तो सब रुक जाए तो आपका प्रॉब्लम्स ठीक हो सकता क्योंकि सबकॉन्शियस माइंड के अंदर हमारा ऑटोनॉमिक नर्वस सिस्टम होता है और जो भी सुझाव हम सबको शिपमेंट को देंगे भाई साहब के बॉडी में चेंज होगा अब इसके बारे में डिटेल अगर आपको जानकारी लेनी है तो आप डॉक्टर मुनि साइकोलॉजी इस करके नेट पर कैसे डालते हो मेरा गूगल पर जो पर हो जाएगा और वेबसाइट भी आपको मिल जाएगी में लिखा गया है कि व्हाट इस मोशन कैसे कर सकते अपने आप को ठीक तो अपने आप को ठीक कर सकते अपने बालों को देख सकते हैं
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon
बेंजोडायजेपाइन दवाएं प्रिस्क्रिप्शन सेडेटिव्स और ट्रांक्विलाइज़र हैं, जैसे वैलियम (डायजेपाम), अतिवन (लोराज़ेपम), ज़ैनैक्स (अल्पार्जोलम), और क्लोनोपिन (क्लोनजेपम)। इन दवाओं को चिंता का इलाज करने के लिए निर्धारित किया जाता है, मांसपेशी तनाव से छुटकारा पाने के लिए, और नींद एड्स के रूप में।
Romanized Version
बेंजोडायजेपाइन दवाएं प्रिस्क्रिप्शन सेडेटिव्स और ट्रांक्विलाइज़र हैं, जैसे वैलियम (डायजेपाम), अतिवन (लोराज़ेपम), ज़ैनैक्स (अल्पार्जोलम), और क्लोनोपिन (क्लोनजेपम)। इन दवाओं को चिंता का इलाज करने के लिए निर्धारित किया जाता है, मांसपेशी तनाव से छुटकारा पाने के लिए, और नींद एड्स के रूप में।Benjodayjepain Davayain Prescription Sedetivs Aur Trankwilaizar Hain Jaise Vailiyam Dayjepam Ativan Lorazepam Zainaiks Alparjolam Aur Klonopin Klonajepam In Dawaon Ko Chinta Ka Ilaj Karne Ke Liye Nirdharit Kiya Jata Hai Manspesiya Tanaav Se Chhutkara Pane Ke Liye Aur Neend Aids Ke Roop Mein
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
बहुत से लोग दवाओं के बिना स्वस्थ रेंज में अपने रक्त ग्लूकोज को रख सकते हैं (या तो मौखिक मधुमेह की दवाएं या इंसुलिन इंजेक्शन) यदि वे वजन कम करते हैं, और अपना वजन कम रखते हैं, नियमित रूप से शारीरिक रूप से सक्रिय होते हैं, और भोजन योजना का पालन करते हैं जो उन्हें भाग के आकार को नियंत्रित करने में मदद करता है, और उन्हें फैलाने में मदद करता है।
Romanized Version
बहुत से लोग दवाओं के बिना स्वस्थ रेंज में अपने रक्त ग्लूकोज को रख सकते हैं (या तो मौखिक मधुमेह की दवाएं या इंसुलिन इंजेक्शन) यदि वे वजन कम करते हैं, और अपना वजन कम रखते हैं, नियमित रूप से शारीरिक रूप से सक्रिय होते हैं, और भोजन योजना का पालन करते हैं जो उन्हें भाग के आकार को नियंत्रित करने में मदद करता है, और उन्हें फैलाने में मदद करता है।Bahut Se Log Dawaon Ke Bina Swasth Range Mein Apne Rakta Glucose Ko Rakh Sakte Hain Ya To Maukhik Madhumeh Ki Davayain Ya Insulin Injection Yadi Ve Wajan Kam Karte Hain Aur Apna Wajan Kam Rakhate Hain Niyamit Roop Se Shaaririk Roop Se Sakriy Hote Hain Aur Bhojan Yojana Ka Palan Karte Hain Jo Unhen Bhag Ke Aakaar Ko Niyantrit Karne Mein Madad Karta Hai Aur Unhen Phailane Mein Madad Karta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
श्लेष्म खांसी आपके फेफड़ों को स्पष्ट रखने में मदद करता है। यह विशेष रूप से सच है यदि आप धूम्रपान करते हैं या अस्थमा या एम्फीसिमा हैं, Dextromethorphan अवसाद का इलाज करने वाली दवाओं को प्रभावित कर सकता है, इसके अलावा, कुछ संयोजन ठंड और खांसी की दवाओं में decongestants होते हैं, जो आपके रक्तचाप को बढ़ा सकते हैं।
Romanized Version
श्लेष्म खांसी आपके फेफड़ों को स्पष्ट रखने में मदद करता है। यह विशेष रूप से सच है यदि आप धूम्रपान करते हैं या अस्थमा या एम्फीसिमा हैं, Dextromethorphan अवसाद का इलाज करने वाली दवाओं को प्रभावित कर सकता है, इसके अलावा, कुछ संयोजन ठंड और खांसी की दवाओं में decongestants होते हैं, जो आपके रक्तचाप को बढ़ा सकते हैं।Shleshm Khansi Aapke Phephadon Ko Spasht Rakhne Mein Madad Karta Hai Yeh Vishesh Roop Se Sach Hai Yadi Aap Dhumrapan Karte Hain Ya Asthama Ya Emfisima Hain Dextromethorphan Avasad Ka Ilaj Karne Wali Dawaon Ko Prabhavit Kar Sakta Hai Iske Alava Kuch Sanyojan Thand Aur Khansi Ki Dawaon Mein Decongestants Hote Hain Jo Aapke Raktachap Ko Badha Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
अधिक 60 से 90 प्रतिशत लोगों में पीठ का दर्द होता है। यह हमारे दो पैरों पर चलने के कारण है। इसमें रीढ़ की हड्डी से संबंधित दर्द व बीमारी का इलाज 80 प्रतिशत दवाओं से संभव है। रीढ़ की हड्डी के 33 मनके होते है। रीढ़ की हड्डी के मनकों के बीच में डिस्क होती है जो खिस्क जाए तो तकलीफ करती है। मनको के अंदर काफी समस्या होती है। इनमें इंफेक्शन, चेप लगना, मनके टूट जाना ,मनकों का आगे-पीछे होना व हिलना, मनकों का दब जाना, मनकों के बीच में जगह कम होना।पीठ व कमर में दर्द ,टांगों का सुन होना, टांगों में झनझनाहट होना, चलने में दिक्कत होना, टांगों का चलना बंद होना, पेशाब रुक जाना। अगर कमर दर्द ठीक नहीं होता है और साथ में बुखार या टांगों में दर्द है तो तुंरत स्पाइनल सर्जन को दिखाएं। अगर पैर या टांग का कोई भी हिस्सा चलना बंद हो जाए तो तुरंत अस्पताल या रीढ़ की हड्डी के विशेषज्ञ को दिखाएं। अधिकतर लोग दवाओं, कसरत तथा गर्म सेक से आराम से ठीक हो सकते हैं और कुछ लोगों को इंजेक्शन से ठीक किया जा सकता है। अगर उनसे ठीक न हो तो ऑपरेशन भी किया जा सकता है। ऑपरेशन से लकवा होना या पैर हिलने बंद होना या पेशाब आना रुक जाना, ये तमाम भ्रांतियां बेबुनियाद हैं।
Romanized Version
अधिक 60 से 90 प्रतिशत लोगों में पीठ का दर्द होता है। यह हमारे दो पैरों पर चलने के कारण है। इसमें रीढ़ की हड्डी से संबंधित दर्द व बीमारी का इलाज 80 प्रतिशत दवाओं से संभव है। रीढ़ की हड्डी के 33 मनके होते है। रीढ़ की हड्डी के मनकों के बीच में डिस्क होती है जो खिस्क जाए तो तकलीफ करती है। मनको के अंदर काफी समस्या होती है। इनमें इंफेक्शन, चेप लगना, मनके टूट जाना ,मनकों का आगे-पीछे होना व हिलना, मनकों का दब जाना, मनकों के बीच में जगह कम होना।पीठ व कमर में दर्द ,टांगों का सुन होना, टांगों में झनझनाहट होना, चलने में दिक्कत होना, टांगों का चलना बंद होना, पेशाब रुक जाना। अगर कमर दर्द ठीक नहीं होता है और साथ में बुखार या टांगों में दर्द है तो तुंरत स्पाइनल सर्जन को दिखाएं। अगर पैर या टांग का कोई भी हिस्सा चलना बंद हो जाए तो तुरंत अस्पताल या रीढ़ की हड्डी के विशेषज्ञ को दिखाएं। अधिकतर लोग दवाओं, कसरत तथा गर्म सेक से आराम से ठीक हो सकते हैं और कुछ लोगों को इंजेक्शन से ठीक किया जा सकता है। अगर उनसे ठीक न हो तो ऑपरेशन भी किया जा सकता है। ऑपरेशन से लकवा होना या पैर हिलने बंद होना या पेशाब आना रुक जाना, ये तमाम भ्रांतियां बेबुनियाद हैं।Adhik 60 Se 90 Pratishat Logon Mein Peeth Ka Dard Hota Hai Yeh Hamare Do Pairon Par Chalne Ke Kaaran Hai Isme Reedh Ki Haddi Se Sambandhit Dard V Bimari Ka Ilaj 80 Pratishat Dawaon Se Sambhav Hai Reedh Ki Haddi Ke 33 Manake Hote Hai Reedh Ki Haddi Ke Manakon Ke Bich Mein Disk Hoti Hai Jo Khisk Jaye To Takleef Karti Hai Manako Ke Andar Kafi Samasya Hoti Hai Inme Infection Chep Lagna Manake Toot Jana Manakon Ka Aage Piche Hona V Hilana Manakon Ka Dab Jana Manakon Ke Bich Mein Jagah Kam Hona Peeth V Kamar Mein Dard Tangon Ka Sun Hona Tangon Mein Jhanjhanahat Hona Chalne Mein Dikkat Hona Tangon Ka Chalna Band Hona Peshab Ruk Jana Agar Kamar Dard Theek Nahi Hota Hai Aur Saath Mein Bukhar Ya Tangon Mein Dard Hai To Tunrat Spinal "Surgeon " Ko Dikhaen Agar Pair Ya Taang Ka Koi Bhi Hissa Chalna Band Ho Jaye To Turant Aspatal Ya Reedh Ki Haddi Ke Visheshasgya Ko Dikhaen Adhiktar Log Dawaon Kasrat Tatha Garam Sheik Se Aaram Se Theek Ho Sakte Hain Aur Kuch Logon Ko Injection Se Theek Kiya Ja Sakta Hai Agar Unse Theek N Ho To Operation Bhi Kiya Ja Sakta Hai Operation Se Lakva Hona Ya Pair Hilne Band Hona Ya Peshab Aana Ruk Jana Yeh Tamam Bhrantiyan Bebuniyad Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कुछ दवाएं गुर्दे को पोटेशियम को हटाने के लिए भी कठिन बना सकती हैं। रक्तचाप दवाओं को एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग एंजाइम एसीई अवरोधक कहा जाता है। रक्तचाप की दवाएं एंजियोटेंसिन-रिसेप्टर ब्लॉकर्स एआरबी कहा जाता है, हालांकि वे पोटेशियम के स्तर को बढ़ाने के लिए एसीई अवरोधकों की तुलना में कम संभावना रखते हैं।
Romanized Version
कुछ दवाएं गुर्दे को पोटेशियम को हटाने के लिए भी कठिन बना सकती हैं। रक्तचाप दवाओं को एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग एंजाइम एसीई अवरोधक कहा जाता है। रक्तचाप की दवाएं एंजियोटेंसिन-रिसेप्टर ब्लॉकर्स एआरबी कहा जाता है, हालांकि वे पोटेशियम के स्तर को बढ़ाने के लिए एसीई अवरोधकों की तुलना में कम संभावना रखते हैं।Kuch Davayain Gurde Ko Potassium Ko Hatane Ke Liye Bhi Kathin Bana Sakti Hain Raktachap Dawaon Ko Enjiyotensin Kanavarting Enzyme ACE Avarodhak Kaha Jata Hai Raktachap Ki Davayain Enjiyotensin Receptor Blockers ARB Kaha Jata Hai Halanki Ve Potassium Ke Sthar Ko Badhane Ke Liye ACE Avarodhakon Ki Tulna Mein Kam Sambhavna Rakhate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
दवा रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, लेकिन यह ठीक नहीं होगी, भले ही आपके रक्तचाप के रीडिंग सामान्य दिखाई दें। यदि आप "सामान्य" पहुंचते हैं तो दवाएं न रोकें।
Romanized Version
दवा रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, लेकिन यह ठीक नहीं होगी, भले ही आपके रक्तचाप के रीडिंग सामान्य दिखाई दें। यदि आप "सामान्य" पहुंचते हैं तो दवाएं न रोकें।Dawa Raktachap Ko Niyantrit Karne Mein Madad Kar Sakti Hai Lekin Yeh Theek Nahi Hogi Bhale Hi Aapke Raktachap Ke Reading Samanya Dikhai Dein Yadi Aap Samanya Pahunchate Hain To Davayain N Roken
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कोको पाउडर और POP पाउडर मिला लें। इसे थोड़ा थोड़ा चूहों वाली जगह छिड़क दें। चूहा इसे खाता है और वह पानी की तलाश में बाहर जायेगा और उसके प्राण प्रखेरू उड़ जायेंगे। — उबला आलू छिलके सहित कुचल कर चूहा आने वाली जगह डाल दें। यह आलू की छिलके हजम नहीं कर पाता और छिलके वाला आलू उसके लिए प्राणघातक सिद्ध होता है।— हो सके तो घर में एक बिल्ली पाल लें। यह सारे चूहे समाप्त कर देगी। बस बिल्ली का ध्यान रखना पड़ेगा।— कुछ विशेष प्रकार के कुत्ते जो रैट टेरिअर कहलाते है चूहे का शिकार करने में पारंगत होते है। इन्हे घर में पालतू बना कर रखें आपका पेट रखने का शौक भी पूरा होगा और चूहों से मुक्ति भी मिल जाएगी।— यदि चूहा मारने की दवा का इस्तेमाल कर रहे हों तो उस परलिखे निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें। इसे सुरक्षित स्थान पर रखें। बच्चों और पालतू जानवर की पहुँच से यह दूर होनी चाहिए।
Romanized Version
कोको पाउडर और POP पाउडर मिला लें। इसे थोड़ा थोड़ा चूहों वाली जगह छिड़क दें। चूहा इसे खाता है और वह पानी की तलाश में बाहर जायेगा और उसके प्राण प्रखेरू उड़ जायेंगे। — उबला आलू छिलके सहित कुचल कर चूहा आने वाली जगह डाल दें। यह आलू की छिलके हजम नहीं कर पाता और छिलके वाला आलू उसके लिए प्राणघातक सिद्ध होता है।— हो सके तो घर में एक बिल्ली पाल लें। यह सारे चूहे समाप्त कर देगी। बस बिल्ली का ध्यान रखना पड़ेगा।— कुछ विशेष प्रकार के कुत्ते जो रैट टेरिअर कहलाते है चूहे का शिकार करने में पारंगत होते है। इन्हे घर में पालतू बना कर रखें आपका पेट रखने का शौक भी पूरा होगा और चूहों से मुक्ति भी मिल जाएगी।— यदि चूहा मारने की दवा का इस्तेमाल कर रहे हों तो उस परलिखे निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें। इसे सुरक्षित स्थान पर रखें। बच्चों और पालतू जानवर की पहुँच से यह दूर होनी चाहिए। Cocoa Powder Aur POP Powder Mila Lein Ise Thoda Thoda Chuhon Wali Jagah Chirak Dein Chuha Ise Khaata Hai Aur Wah Pani Ki Talash Mein Bahar Jayega Aur Uske Praan Prakheru Ud Jayenge Ubalaa Aalu Chilake Sahit Kuchal Kar Chuha Aane Wali Jagah Dal Dein Yeh Aalu Ki Chilake Hajam Nahi Kar Pata Aur Chilake Wala Aalu Uske Liye Praanaghatak Siddh Hota Hai Ho Sake To Ghar Mein Ek Billi Pal Lein Yeh Sare Chuhe Samapt Kar Degi Bus Billi Ka Dhyan Rakhna Padega Kuch Vishesh Prakar Ke Kutte Jo Rat Teriar Kahalate Hai Chuhe Ka Shikar Karne Mein Parangat Hote Hai Inhe Ghar Mein Paaltu Bana Kar Rakhen Aapka Pet Rakhne Ka Shauk Bhi Pura Hoga Aur Chuhon Se Mukti Bhi Mil Jayegi Yadi Chuha Maarne Ki Dawa Ka Istemal Kar Rahe Hon To Us Parlikhe Nirdesh Dhyan Purvak Padh Lein Ise Surakshit Sthan Par Rakhen Bacchon Aur Paaltu Janwar Ki Pahunch Se Yeh Dur Honi Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
- काउंटर पर - मिल्डर माइग्रेन को गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटोरेटरीज के साथ इलाज किया जा सकता है, जैसे इबुप्रोफेन या नैप्रॉक्सन। एस्पिरिन अकेले या कैफीन के साथ, एक लोकप्रिय ओवर-द-काउंटर पसंद है Excedrin माइग्रेन के रूप में एसिटामिनोफेन।
Romanized Version
- काउंटर पर - मिल्डर माइग्रेन को गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटोरेटरीज के साथ इलाज किया जा सकता है, जैसे इबुप्रोफेन या नैप्रॉक्सन। एस्पिरिन अकेले या कैफीन के साथ, एक लोकप्रिय ओवर-द-काउंटर पसंद है Excedrin माइग्रेन के रूप में एसिटामिनोफेन।- Counter Par - Mildar Migraine Ko Gair Asteroid Anti Imflaimetoretrij Ke Saath Ilaj Kiya Ja Sakta Hai Jaise Ibuprofen Ya Naipraksan Aspirin Akele Ya Caffeine Ke Saath Ek Lokpriya Over D Counter Pasand Hai Excedrin Migraine Ke Roop Mein Esitaminofen
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
उपचार के साथ पूर्ण या आंशिक अनुपालन के कारण स्किज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्तियों को लगातार राहत देने का एक तरीका है, एंटीसाइकोटिक दवाओं (प्रत्येक दो से चार सप्ताह में एक शॉट) के लंबे समय से अभिनय इंट्रामस्क्यूलर इंजेक्शन का उपयोग करना जो लक्षणों को नियंत्रण में रखे बिना नियंत्रण में रख सकते हैं।
Romanized Version
उपचार के साथ पूर्ण या आंशिक अनुपालन के कारण स्किज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्तियों को लगातार राहत देने का एक तरीका है, एंटीसाइकोटिक दवाओं (प्रत्येक दो से चार सप्ताह में एक शॉट) के लंबे समय से अभिनय इंट्रामस्क्यूलर इंजेक्शन का उपयोग करना जो लक्षणों को नियंत्रण में रखे बिना नियंत्रण में रख सकते हैं।Upchaar Ke Saath Poorn Ya Aashik Anupaalan Ke Kaaran Skizofreniya Wale Vyaktiyon Ko Lagatar Raahat Dene Ka Ek Tarika Hai Entisaikotik Dawaon Pratyek Do Se Char Saptah Mein Ek Shot Ke Lambe Samay Se Abhinay Intramaskyular Injection Ka Upyog Karna Jo Lakshano Ko Niyantran Mein Rakhe Bina Niyantran Mein Rakh Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
दूसरी तरफ, 2014 जर्नल पेडियाट्रिक्स में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चलता है कि एडीएचडी दवाएं वयस्क वयस्क ऊंचाई तक नहीं पहुंचती हैं: "हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि उत्तेजक दवा के साथ एडीएचडी उपचार वयस्क ऊंचाई में अंतर या विकास में महत्वपूर्ण बदलावों से जुड़ा नहीं है।" एडीएचडी दवाएं चाइल्ड ग्रोथ स्टंट न करें, स्टडी पाता है। उत्तेजना दवाओं का अक्सर ध्यान-घाटे / अति सक्रियता विकार (एडीएचडी) का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है, लेकिन चिंता है कि ये दवाएं बच्चों के विकास को रोक सकती हैं। न तो एडीएचडी स्वयं और उत्तेजक के साथ उपचार अंतिम वयस्क ऊंचाई से जुड़ा हुआ था।
Romanized Version
दूसरी तरफ, 2014 जर्नल पेडियाट्रिक्स में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चलता है कि एडीएचडी दवाएं वयस्क वयस्क ऊंचाई तक नहीं पहुंचती हैं: "हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि उत्तेजक दवा के साथ एडीएचडी उपचार वयस्क ऊंचाई में अंतर या विकास में महत्वपूर्ण बदलावों से जुड़ा नहीं है।" एडीएचडी दवाएं चाइल्ड ग्रोथ स्टंट न करें, स्टडी पाता है। उत्तेजना दवाओं का अक्सर ध्यान-घाटे / अति सक्रियता विकार (एडीएचडी) का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है, लेकिन चिंता है कि ये दवाएं बच्चों के विकास को रोक सकती हैं। न तो एडीएचडी स्वयं और उत्तेजक के साथ उपचार अंतिम वयस्क ऊंचाई से जुड़ा हुआ था।Dusri Taraf 2014 Journal Pediyatriks Mein Prakashit Ek Adhyayan Se Pata Chalta Hai Ki ADHD Davayain Vayask Vayask Unchai Tak Nahi Pahunchati Hain Hamare Nishkarsh Batatey Hain Ki Uttejak Dawa Ke Saath ADHD Upchaar Vayask Unchai Mein Antar Ya Vikash Mein Mahatvapurna Badlaon Se Juda Nahi Hai ADHD Davayain Child Growth Stunt N Karen Study Pata Hai Uttejna Dawaon Ka Aksar Dhyan Ghate / Ati Sakriyata Vikar ADHD Ka Ilaj Karne Ke Liye Upyog Kiya Jata Hai Lekin Chinta Hai Ki Yeh Davayain Bacchon Ke Vikash Ko Rok Sakti Hain N To ADHD Swayam Aur Uttejak Ke Saath Upchaar Antim Vayask Unchai Se Juda Hua Tha
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
इस प्रकार की दवा में एटोमॉक्सेटिन (स्ट्रैटेरा) शामिल है। यद्यपि नोंस्तिमुलंत दवाओं के साथ ही उत्तेजक काम नहीं कर सकते हैं, उनके कम दुष्प्रभाव हैं। उच्च रक्तचाप दवाएं एक और विकल्प हैं। ये दवाएं आवेग और अति सक्रियता के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं। हमारे विश्लेषण में पाया गया कि उत्तेजक दवाएं, जैसे मेथिलफेनिडेट (रिटाइनिन), गैर-उत्तेजक दवाओं से भी अधिक प्रभावी हो सकती हैं, जो एडीएचडी के इलाज के लिए भी उपयोग की जाती हैं, जिसमें इंटुनिव, कपवे और स्ट्रैटेरा शामिल हैं। हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि उत्तेजक किसी भी अन्य से स्पष्ट रूप से अधिक प्रभावी नहीं हैं।
Romanized Version
इस प्रकार की दवा में एटोमॉक्सेटिन (स्ट्रैटेरा) शामिल है। यद्यपि नोंस्तिमुलंत दवाओं के साथ ही उत्तेजक काम नहीं कर सकते हैं, उनके कम दुष्प्रभाव हैं। उच्च रक्तचाप दवाएं एक और विकल्प हैं। ये दवाएं आवेग और अति सक्रियता के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं। हमारे विश्लेषण में पाया गया कि उत्तेजक दवाएं, जैसे मेथिलफेनिडेट (रिटाइनिन), गैर-उत्तेजक दवाओं से भी अधिक प्रभावी हो सकती हैं, जो एडीएचडी के इलाज के लिए भी उपयोग की जाती हैं, जिसमें इंटुनिव, कपवे और स्ट्रैटेरा शामिल हैं। हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि उत्तेजक किसी भी अन्य से स्पष्ट रूप से अधिक प्रभावी नहीं हैं।Is Prakar Ki Dawa Mein Etomaksetin Straitera Shamil Hai Yadyapi Nonstimulant Dawaon Ke Saath Hi Uttejak Kaam Nahi Kar Sakte Hain Unke Kam Dushprabhaav Hain Uccha Raktachap Davayain Ek Aur Vikalp Hain Yeh Davayain Aaveg Aur Ati Sakriyata Ke Lakshano Ko Niyantrit Karne Mein Madad Kar Sakti Hain Hamare Vishleshan Mein Paya Gaya Ki Uttejak Davayain Jaise Methilfenidet Ritainin Gair Uttejak Dawaon Se Bhi Adhik Prabhavi Ho Sakti Hain Jo ADHD Ke Ilaj Ke Liye Bhi Upyog Ki Jati Hain Jisme Intuniv Kapave Aur Straitera Shamil Hain Hamare Nishkarsh Batatey Hain Ki Uttejak Kisi Bhi Anya Se Spasht Roop Se Adhik Prabhavi Nahi Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ए मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर से आइडेंटिटी डिसऑर्डर भी कहते ID के नाम से बहुत फेमस है दिमागी बीमारी होती है स्पेस करते एक साथ अब हम बात करते हैं इन टर्म्स ऑफ़ ग्रीन बेसिकली अलग तरीके से प्यार करता है ...
जवाब पढ़िये
ए मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर से आइडेंटिटी डिसऑर्डर भी कहते ID के नाम से बहुत फेमस है दिमागी बीमारी होती है स्पेस करते एक साथ अब हम बात करते हैं इन टर्म्स ऑफ़ ग्रीन बेसिकली अलग तरीके से प्यार करता है इमोशंस में पल्स में ब्लड प्रेशर उसमें के तरीके से करता है हम बात करते हैं इसके इलाज की तो उसके क्या इलाज है तुम इसके 3 तरीके से इसका इलाज होता है एक तो साइकोथेरेपी होता है स्त्री वशीकरण जो लोग इस तरीके डिसऑर्डर के शिकार होते हैं ठीक है उनको फैमिली ग्रुप कपल्स भी सही सही जाता कि वह उस पार्टी से बाहर आता और दूसरा जो है इसमें मेडिकेशन दिया था जनरल ही मेरी किस्मत में बहुत ज्यादा एक्सपेक्ट नहीं होता है ठीक है इसमें मेंटेनेंस करने के लिए या फिर ज्यादा नहीं हो उसके लिए हम स्थित है लेकिन मेरे से बहुत ज्यादा शक्ति न्यू द सेल पर बहुत ज्यादा इफ़ेक्ट होता है इसमें इसमें जो व्यक्ति दिसावर झेल रहा है जो बीमारी हो रही है ठीक है तू और सेल्फ हेल्प सपोर्ट ग्रुप जो दिए बेसिकली इसमें काफी हेल्प करती है अब ऑनलाइन कम्युनिटी के बाद कृष्ण भगवान ऑनलाइन कम्युनिटी भी है जहां पर जाकर चेक कर सकते हैं क्या रीजन है ऑफिस सपोर्ट ग्रुप होता है आपको इंडिविजुअल हेल्प मिलता है तो यह सही तरीके अपना सकते हैं मल्टीपल को सर्दी से बचने के लिएA Multiple Personality Disorder Se Identity Disorder Bhi Kehte ID Ke Naam Se Bahut Famous Hai Dimagi Bimari Hoti Hai Space Karte Ek Saath Ab Hum Baat Karte Hain In Terms Of Green Basically Alag Tarike Se Pyar Karta Hai Emotional Mein Pulse Mein Blood Pressure Usamen Ke Tarike Se Karta Hai Hum Baat Karte Hain Iske Ilaj Ki To Uske Kya Ilaj Hai Tum Iske 3 Tarike Se Iska Ilaj Hota Hai Ek To Psychotherapy Hota Hai Stri Vashikaran Jo Log Is Tarike Disorder Ke Shikar Hote Hain Theek Hai Unko Family Group Couples Bhi Sahi Sahi Jata Ki Wah Us Party Se Bahar Aata Aur Doosra Jo Hai Isme Medication Diya Tha General Hi Meri Kismat Mein Bahut Jyada Expect Nahi Hota Hai Theek Hai Isme Maintenance Karne Ke Liye Ya Phir Jyada Nahi Ho Uske Liye Hum Sthit Hai Lekin Mere Se Bahut Jyada Shakti New D Cell Par Bahut Jyada Effect Hota Hai Isme Isme Jo Vyakti Disavar Jhel Raha Hai Jo Bimari Ho Rahi Hai Theek Hai Tu Aur Self Help Support Group Jo Diye Basically Isme Kafi Help Karti Hai Ab Online Community Ke Baad Krishan Bhagwan Online Community Bhi Hai Jahan Par Jaakar Check Kar Sakte Hain Kya Reason Hai Office Support Group Hota Hai Aapko Imdividual Help Milta Hai To Yeh Sahi Tarike Apna Sakte Hain Multiple Ko Sardi Se Bachane Ke Liye
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
दवा रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, लेकिन यह ठीक नहीं होगी, भले ही आपके रक्तचाप के रीडिंग सामान्य दिखाई दें। यदि आप "सामान्य" तक पहुंचते हैं तो दवाएं न रोकें।
Romanized Version
दवा रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, लेकिन यह ठीक नहीं होगी, भले ही आपके रक्तचाप के रीडिंग सामान्य दिखाई दें। यदि आप "सामान्य" तक पहुंचते हैं तो दवाएं न रोकें।Dawa Raktachap Ko Niyantrit Karne Mein Madad Kar Sakti Hai Lekin Yeh Theek Nahi Hogi Bhale Hi Aapke Raktachap Ke Reading Samanya Dikhai Dein Yadi Aap Samanya Tak Pahunchate Hain To Davayain N Roken
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
अपनी दवा लेने से रोकें जब तक कि आपका डॉक्टर कहता है कि यह ठीक है। अधिकतर लोग जो उच्च रक्तचाप की दवा लेते हैं उन्हें कोई दुष्प्रभाव नहीं मिलता है। सभी दवाओं की तरह, उच्च रक्तचाप की दवाएं कभी-कभी साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकती हैं। कुछ लोगों में सिरदर्द, चक्कर आना या परेशान पेट जैसी सामान्य समस्याएं होती हैं।
Romanized Version
अपनी दवा लेने से रोकें जब तक कि आपका डॉक्टर कहता है कि यह ठीक है। अधिकतर लोग जो उच्च रक्तचाप की दवा लेते हैं उन्हें कोई दुष्प्रभाव नहीं मिलता है। सभी दवाओं की तरह, उच्च रक्तचाप की दवाएं कभी-कभी साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकती हैं। कुछ लोगों में सिरदर्द, चक्कर आना या परेशान पेट जैसी सामान्य समस्याएं होती हैं।Apni Dawa Lene Se Roken Jab Tak Ki Aapka Doctor Kahata Hai Ki Yeh Theek Hai Adhiktar Log Jo Uccha Raktachap Ki Dawa Lete Hain Unhen Koi Dushprabhaav Nahi Milta Hai Sabhi Dawaon Ki Tarah Uccha Raktachap Ki Davayain Kabhi Kabhi Side Effects Ka Kaaran Ban Sakti Hain Kuch Logon Mein Sirdard Chakkar Aana Ya Pareshan Pet Jaisi Samanya Samasyaen Hoti Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
इसके अलावा, कुछ दवाएं शरीर में पोटेशियम की मात्रा में वृद्धि कर सकती हैं। रक्तचाप दवाओं को एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग एंजाइम (एसीई) अवरोधक कहा जाता है। ब्लड प्रेशर ड्रग्स को एंजियोटेंसिन-रिसेप्टर ब्लॉकर्स (एआरबी) कहा जाता है, हालांकि वे पोटेशियम के स्तर को बढ़ाने के लिए एसीई अवरोधकों की तुलना में कम संभावना रखते हैं।
Romanized Version
इसके अलावा, कुछ दवाएं शरीर में पोटेशियम की मात्रा में वृद्धि कर सकती हैं। रक्तचाप दवाओं को एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग एंजाइम (एसीई) अवरोधक कहा जाता है। ब्लड प्रेशर ड्रग्स को एंजियोटेंसिन-रिसेप्टर ब्लॉकर्स (एआरबी) कहा जाता है, हालांकि वे पोटेशियम के स्तर को बढ़ाने के लिए एसीई अवरोधकों की तुलना में कम संभावना रखते हैं।Iske Alava Kuch Davayain Sharir Mein Potassium Ki Matra Mein Vriddhi Kar Sakti Hain Raktachap Dawaon Ko Enjiyotensin Kanavarting Enzyme ACE Avarodhak Kaha Jata Hai Blood Pressure Drugs Ko Enjiyotensin Receptor Blockers ARB Kaha Jata Hai Halanki Ve Potassium Ke Sthar Ko Badhane Ke Liye ACE Avarodhakon Ki Tulna Mein Kam Sambhavna Rakhate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
काउंटर पर - मिल्डर माइग्रेन को गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटोरेटरीज के साथ इलाज किया जा सकता है, जैसे इबुप्रोफेन या नैप्रॉक्सन। एस्पिरिन एक्सीड्रिन माइग्रेन के रूप में अकेले या कैफीन और एसिटामिनोफेन के साथ एक लोकप्रिय ओवर-द-काउंटर पसंद है।
Romanized Version
काउंटर पर - मिल्डर माइग्रेन को गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटोरेटरीज के साथ इलाज किया जा सकता है, जैसे इबुप्रोफेन या नैप्रॉक्सन। एस्पिरिन एक्सीड्रिन माइग्रेन के रूप में अकेले या कैफीन और एसिटामिनोफेन के साथ एक लोकप्रिय ओवर-द-काउंटर पसंद है।Counter Par - Mildar Migraine Ko Gair Asteroid Anti Imflaimetoretrij Ke Saath Ilaj Kiya Ja Sakta Hai Jaise Ibuprofen Ya Naipraksan Aspirin Eksidrin Migraine Ke Roop Mein Akele Ya Caffeine Aur Esitaminofen Ke Saath Ek Lokpriya Over D Counter Pasand Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
चूंकि हमने 2005 में शुरू किया था, इसलिए हम यूके में लाइसेंस प्राप्त पशु चिकित्सा दवा और पशु उत्पादों के ब्रिटेन के सबसे बड़े, सबसे भरोसेमंद, पशु चिकित्सक आपूर्तिकर्ताओं में से एक बनने के लिए लगातार विकसित हुए हैं। न केवल पालतू दवाओं के सबसे बड़े खुदरा विक्रेताओं में से एक हैं, हम 300 से अधिक प्रथाओं के साथ यूके के सबसे बड़े पशु चिकित्सकों में से एक इंडिपेंडेंट वेटकेयर लिमिटेड का भी हिस्सा हैं, ताकि आप सुनिश्चित हो सकें कि आप सुरक्षित हाथ में हैं! हम एक पंजीकृत पशु चिकित्सा अभ्यास हैं और रॉयल कॉलेज ऑफ वेटरीरी सर्जन और पशु चिकित्सा दवा निदेशालय द्वारा शासित हैं। हम अपने शासी निकाय के एक स्वैच्छिक सदस्य भी स्वीकृत इंटरनेट रिटेलर योजना हैं। आप वीएमडी वेबसाइट पर मान्यता प्राप्त इंटरनेट रिटेलर योजना के लिए हमारी सदस्यता सत्यापित कर सकते हैं। हमारा मान्यता संख्या है: 2033874 इसका मतलब यह है कि आप यह जानकर सुरक्षित रूप से खरीद सकते हैं कि हम पशु हैं और हम जो भी करते हैं उसके हर पहलू को शासी निकाय द्वारा जांच की जाती है। रॉयल कॉलेज ऑफ वेदरिनरी सर्जन से सीधे संपर्क करके हमारी स्थिति भी सत्यापित कर सकते हैं, उनके संपर्क विवरण आरसीवीएस वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। हमारा आरक्यूपी (जिम्मेदार योग्य व्यक्ति) जॉन कैडोगन कैंपबेल (बीवीएम और एस बीएससी एमआरसीवीएस) है। संदर्भ संख्या: 0314480।
Romanized Version
चूंकि हमने 2005 में शुरू किया था, इसलिए हम यूके में लाइसेंस प्राप्त पशु चिकित्सा दवा और पशु उत्पादों के ब्रिटेन के सबसे बड़े, सबसे भरोसेमंद, पशु चिकित्सक आपूर्तिकर्ताओं में से एक बनने के लिए लगातार विकसित हुए हैं। न केवल पालतू दवाओं के सबसे बड़े खुदरा विक्रेताओं में से एक हैं, हम 300 से अधिक प्रथाओं के साथ यूके के सबसे बड़े पशु चिकित्सकों में से एक इंडिपेंडेंट वेटकेयर लिमिटेड का भी हिस्सा हैं, ताकि आप सुनिश्चित हो सकें कि आप सुरक्षित हाथ में हैं! हम एक पंजीकृत पशु चिकित्सा अभ्यास हैं और रॉयल कॉलेज ऑफ वेटरीरी सर्जन और पशु चिकित्सा दवा निदेशालय द्वारा शासित हैं। हम अपने शासी निकाय के एक स्वैच्छिक सदस्य भी स्वीकृत इंटरनेट रिटेलर योजना हैं। आप वीएमडी वेबसाइट पर मान्यता प्राप्त इंटरनेट रिटेलर योजना के लिए हमारी सदस्यता सत्यापित कर सकते हैं। हमारा मान्यता संख्या है: 2033874 इसका मतलब यह है कि आप यह जानकर सुरक्षित रूप से खरीद सकते हैं कि हम पशु हैं और हम जो भी करते हैं उसके हर पहलू को शासी निकाय द्वारा जांच की जाती है। रॉयल कॉलेज ऑफ वेदरिनरी सर्जन से सीधे संपर्क करके हमारी स्थिति भी सत्यापित कर सकते हैं, उनके संपर्क विवरण आरसीवीएस वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। हमारा आरक्यूपी (जिम्मेदार योग्य व्यक्ति) जॉन कैडोगन कैंपबेल (बीवीएम और एस बीएससी एमआरसीवीएस) है। संदर्भ संख्या: 0314480।Chunki Humne 2005 Mein Shuru Kiya Tha Isliye Hum UK Mein License Prapt Pashu Chikitsa Dawa Aur Pashu Utpadon Ke Britain Ke Sabse Bade Sabse Bharosemand Pashu Chikitsak Aapoortikartaon Mein Se Ek Banane Ke Liye Lagatar Viksit Huye Hain N Kewal Paaltu Dawaon Ke Sabse Bade Khudara Vikretaon Mein Se Ek Hain Hum 300 Se Adhik Prathaon Ke Saath UK Ke Sabse Bade Pashu Chikitsakon Mein Se Ek Independent Vetkeyar Limited Ka Bhi Hissa Hain Taki Aap Sunishchit Ho Saken Ki Aap Surakshit Hath Mein Hain Hum Ek Panjikrit Pashu Chikitsa Abhyas Hain Aur Royal College Of Vetriri "Surgeon " Aur Pashu Chikitsa Dawa Nideshalaya Dwara Shasit Hain Hum Apne Shasi Nikaay Ke Ek Swaichchhik Sadasya Bhi Sawikrit Internet Retailer Yojana Hain Aap VMD Website Par Manyata Prapt Internet Retailer Yojana Ke Liye Hamari Sadasyata Satyapit Kar Sakte Hain Hamara Manyata Sankhya Hai Iska Matlab Yeh Hai Ki Aap Yeh Jaankar Surakshit Roop Se Kharid Sakte Hain Ki Hum Pashu Hain Aur Hum Jo Bhi Karte Hain Uske Har Pahaloo Ko Shasi Nikaay Dwara Janch Ki Jati Hai Royal College Of Vedrinri "Surgeon " Se Seedhe Sampark Karke Hamari Sthiti Bhi Satyapit Kar Sakte Hain Unke Sampark Vivran RCVS Website Par Uplabdha Hain Hamara RQP Zimmedar Yogya Vyakti John Kaidogan Campbell BVM Aur S Bsc MRCVS Hai Sandarbh Sankhya
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
लोगों ने पहले ही पेट ड्रग्स की समीक्षा की है। वॉयस आज आपकी राय और विश्वास ऑनलाइन बनाने में मदद करें। पालतू ड्रग्स ऑनलाइन समीक्षा। पता लगाएं कि असली ग्राहकों ने petdrugsonline.co.uk के बारे में क्या कहा है। वास्तविक लोगों की वास्तविक समीक्षाएं।
Romanized Version
लोगों ने पहले ही पेट ड्रग्स की समीक्षा की है। वॉयस आज आपकी राय और विश्वास ऑनलाइन बनाने में मदद करें। पालतू ड्रग्स ऑनलाइन समीक्षा। पता लगाएं कि असली ग्राहकों ने petdrugsonline.co.uk के बारे में क्या कहा है। वास्तविक लोगों की वास्तविक समीक्षाएं।Logon Ne Pehle Hi Pet Drugs Ki Samiksha Ki Hai Voice Aaj Aapki Raya Aur Vishwas Online Banane Mein Madad Karen Paaltu Drugs Online Samiksha Pata Lagaen Ki Asli Grahakon Ne Petdrugsonline.co.uk Ke Bare Mein Kya Kaha Hai Vastavik Logon Ki Vastavik Samikshaen
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने आयुष डॉक्टरों को मेडिकल ऑफीसर के तौर पर नियुक्त तो कर दिया लेकिन इनको दवाएं लिखने का हक नहीं मिल पा रहा है। दरअसल मेडिकल काउंसिल ने आयुष डॉक्टरों द्वारा एलोपैथी दवाएं लिखने को लेकर सवाल खड़े किए हैं। एमसीआई का मानना है कि किसी भी डॉक्टर को एमसीआई से रजिस्टर्ड होना जरूरी है, आयुष डॉक्टर्स एमसीआई के अंतर्गत नहीं आते एेसे में वे एलोपैथी दवाएं नहीं लिख सकते। विभाग नियमों से अनजान! स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में 724 आयुष डॉक्टरों को मेडिकल ऑफिसर के रूप में भर्ती किया है। अब काउंसिल का कहना है नियमों में बदलाव के बिना आयुष डॉक्टर्स एलोपैथी दवाएं नहीं लिख सकते। विशेषज्ञों के अनुसार अगर बिना एक्ट में परिवतन व गजट नोटिफिकेशन के आयुष डॉक्टरों को एलोपैथिक मेडिसिन में प्रैक्टिस की अनुमति अवैधानिक होगा।
Romanized Version
सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने आयुष डॉक्टरों को मेडिकल ऑफीसर के तौर पर नियुक्त तो कर दिया लेकिन इनको दवाएं लिखने का हक नहीं मिल पा रहा है। दरअसल मेडिकल काउंसिल ने आयुष डॉक्टरों द्वारा एलोपैथी दवाएं लिखने को लेकर सवाल खड़े किए हैं। एमसीआई का मानना है कि किसी भी डॉक्टर को एमसीआई से रजिस्टर्ड होना जरूरी है, आयुष डॉक्टर्स एमसीआई के अंतर्गत नहीं आते एेसे में वे एलोपैथी दवाएं नहीं लिख सकते। विभाग नियमों से अनजान! स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में 724 आयुष डॉक्टरों को मेडिकल ऑफिसर के रूप में भर्ती किया है। अब काउंसिल का कहना है नियमों में बदलाव के बिना आयुष डॉक्टर्स एलोपैथी दवाएं नहीं लिख सकते। विशेषज्ञों के अनुसार अगर बिना एक्ट में परिवतन व गजट नोटिफिकेशन के आयुष डॉक्टरों को एलोपैथिक मेडिसिन में प्रैक्टिस की अनुमति अवैधानिक होगा।Sarkari Aspataalon Mein Daktaro Ki Kami Dur Karne Ke Liye Swasthya Vibhag Ne Aayush Daktaro Ko Medical Officer Ke Taur Par Niyukt To Kar Diya Lekin Inko Davayain Likhne Ka Haq Nahi Mil Pa Raha Hai Darasal Medical Council Ne Aayush Daktaro Dwara Allopathy Davayain Likhne Ko Lekar Sawal Khade Kiye Hain Mci Ka Manana Hai Ki Kisi Bhi Doctor Ko Mci Se Registered Hona Zaroori Hai Aayush Doctors Mci Ke Antargat Nahi Aate Eese Mein Ve Allopathy Davayain Nahi Likh Sakte Vibhag Niyamon Se Anjaan Swasthya Vibhag Ne Haal Hi Mein 724 Aayush Daktaro Ko Medical Officer Ke Roop Mein Bharti Kiya Hai Ab Council Ka Kehna Hai Niyamon Mein Badlav Ke Bina Aayush Doctors Allopathy Davayain Nahi Likh Sakte Vishesagyon Ke Anusar Agar Bina Act Mein Parivatan V Gajat Notification Ke Aayush Daktaro Ko Allopathic Medicine Mein Practice Ki Anumati Avaidhanik Hoga
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
आप घर के उपचार के साथ स्ट्रेप गले के कुछ लक्षणों से छुटकारा पा सकते हैं। इबुप्रोफेन (एडविल, मोटरीन) और नैप्रोक्सेन (एलेव) सहित ओवर-द-काउंटर दर्द दवाएं मदद कर सकती हैं दर्द और सूजन से छुटकारा पाएं। नमक के पानी के साथ घूमना एक प्राकृतिक उपाय है जो गले को साफ़ करने और दर्द से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है।
Romanized Version
आप घर के उपचार के साथ स्ट्रेप गले के कुछ लक्षणों से छुटकारा पा सकते हैं। इबुप्रोफेन (एडविल, मोटरीन) और नैप्रोक्सेन (एलेव) सहित ओवर-द-काउंटर दर्द दवाएं मदद कर सकती हैं दर्द और सूजन से छुटकारा पाएं। नमक के पानी के साथ घूमना एक प्राकृतिक उपाय है जो गले को साफ़ करने और दर्द से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है।Aap Ghar Ke Upchaar Ke Saath Strap Gale Ke Kuch Lakshano Se Chhutkara Pa Sakte Hain Ibuprofen Edavil Motrin Aur Naiproksen Elev Sahit Over D Counter Dard Davayain Madad Kar Sakti Hain Dard Aur Sujan Se Chhutkara Paen Namak Ke Pani Ke Saath Ghumana Ek Prakritik Upay Hai Jo Gale Ko Saaf Karne Aur Dard Se Chhutkara Pane Mein Madad Kar Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon