tag_img

Economic


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के खुशहाल भारत तभी बन सकता है जब हम व्यक्तिगत खुशहाली से ऊपर उठकर के अपनी मानसिकता को राष्ट्रहित की तरफ प्रेरित करेंगे वह सारे काम जो करते हैं उसमें अगर यह भाव रहे कि हमारे राष्ट्र का इसमें नुकसा...
जवाब पढ़िये
भारत के खुशहाल भारत तभी बन सकता है जब हम व्यक्तिगत खुशहाली से ऊपर उठकर के अपनी मानसिकता को राष्ट्रहित की तरफ प्रेरित करेंगे वह सारे काम जो करते हैं उसमें अगर यह भाव रहे कि हमारे राष्ट्र का इसमें नुकसान क्या है और हित क्या है इस बात को ध्यान में रखते हुए अगर हम अपने काम को करें तो निश्चित रूप से भारत वर्ष एक विकसित और खुशहाल राष्ट्र बनने से कोई रोक नहीं सकता आज हमारे देश में बहुत सारी समस्याएं हैं बहुरंगी संस्कृतियों का यह देश विविधताओं से भरा हुआ है और इंग्लिश दोनों में चुनौतियां भी बहुत बड़ी बड़ी है हमारे हित जो है हमारे लाभ जो है वह हमारे अपने तक सीमित हो जाते हैं कुछ लोग हैं जो राष्ट्र हित के बारे में सोचते हैं लेकिन ज्यादातर लोग अपने हित के बारे में सहित के बारे में सोचते हैं मुझे लगता है कि राष्ट्र को खुशहाल करने के लिए देश को खुशहाल करने के लिए आवश्यकता है कि हम अपनी खुशहाली में देश की खुशहाली का भी हिस्सा जोड़ने उस भाव को भी जोड़ लें तो निश्चित रूप से हमारा जो काम होगा उसने ईमानदारी होगी और देश के हित के लिए जो आवश्यक उसका हिस्सा होगा वह हम देंगे चाहे वह टैक्स के रूप में हो कर के रूप में हो सिविक सेंस के रूप में हो सरकारी संपत्तियों की सुरक्षा के हित में यह सारी चीजें फिर नजर आने लगेंगी तो यह एक बहुत सामान्य पहलू है जिस पर हर व्यक्ति विचार कर सकता है उसको अमल में ला सकता है और यह सब को करना भी चाहिए मुझे ऐसा लगता है और परिवर्तन आ भी रहा है नई पीढ़ी में काफी बड़ा परिवर्तन है और इस दिशा में नई पीढ़ी चिंतित भी है सोच भी रही हो और काम भी कर रही हैBharat K Khushhal Bharat Tabhi Bun Sakta Hai Jab Hum Vyaktigat Khushhaali Se Upar Uthakar K Apni Maanasikata Co Rashtrahit Ki Tarf Prerit Karenge Wah Saare Kama Joe Karte Hain Usme Agar Yeh Bhaw Rahe Qi Hamare Rashtra Ka Ismein Nuksaan Kya Hai Aur Hita Kya Hai Is Baat Co Dhyan Mein Rakhate Huye Agar Hum Apne Kama Co Karein To Nishcheet Roop Se Bharat Varsh Ek Viksit Aur Khushhal Rashtra Banane Se Koi Rock Nahin Sakta Aj Hamare Desh Mein Bahut Sari Samasyaen Hain Bahurangi Sanskritiyo Ka Yeh Desh Vividhtaon Se Bharya Hua Hai Aur English Donon Mein Chunautiyan Bhi Bahut Badi Badi Hai Hamare Hita Joe Hai Hamare Labh Joe Hai Wah Hamare Apne Tak Simit Ho Jaate Hain Kuch Log Hain Joe Rashtra Hita K Baare Mein Sochte Hain Lekin Jyadatar Log Apne Hita K Baare Mein Sahita K Baare Mein Sochte Hain Mujhe Lagta Hai Qi Rashtra Co Khushhal Karne K Lie Desh Co Khushhal Karne K Lie Aavshyakata Hai Qi Hum Apni Khushhaali Mein Desh Ki Khushhaali Ka Bhi Hissa Jodne Oosh Bhaw Co Bhi Jod Lein To Nishcheet Roop Se Hamara Joe Kama Hoga Usne Imaandaari Hogi Aur Desh K Hita K Lie Joe Aavashyak Uska Hissa Hoga Wah Hum Denge Chahe Wah Tax K Roop Mein Ho Car K Roop Mein Ho Civic Shamsh K Roop Mein Ho Sarkari Sampattiyon Ki Suraksha K Hita Mein Yeh Sari Chijen Phir Nazar Aane Lagengi To Yeh Ek Bahut Samanya Pahaloo Hai Jisha Per Her Vyakti Vichaar Car Sakta Hai Usko Amal Mein La Sakta Hai Aur Yeh Sub Co Krna Bhi Chahie Mujhe Aisa Lagta Hai Aur Parivartan Aa Bhi Raha Hai Nai Pidhi Mein Kaafi Bada Parivartan Hai Aur Is Disha Mein Nai Pidhi Chintit Bhi Hai Soch Bhi Rahi Ho Aur Kama Bhi Car Rahi Hai
Likes  49  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश की आर्थिक संकट का जिम्मेवार वहां की सरकार होती है क्योंकि सरकार के हाथ में आर्थिक नियोजन का कार्यभार रहता है जनता आप मेरे सरकार की सुनती है जनता अपने सरकारी सीधे चुनती है ताकि इस तरह के किसी भी सं...
जवाब पढ़िये
देश की आर्थिक संकट का जिम्मेवार वहां की सरकार होती है क्योंकि सरकार के हाथ में आर्थिक नियोजन का कार्यभार रहता है जनता आप मेरे सरकार की सुनती है जनता अपने सरकारी सीधे चुनती है ताकि इस तरह के किसी भी संकट की स्थिति सामने ना है और अगर इस तरह के किसी भी संकट की स्थिति सामने आती है तो उसके अकाउंट एबिलिटी उसकी जिम्मेदारी पूरी तरह से सरकार की बनती है नहीं कि जनता की सरकार बिल्कुल परिवार के मुखिया की तरह होती है जैसे कि एक परिवार में मुख्य की जिम्मेदारी होती है कि अपने परिवार को सही तरीके से चलाएं इस तरह की कोई भी संकट की स्थिति ना आए उसी तरह अगर देश में भी सरकार की जिम्मेदारी होती है कि देश को सही तरीके से चलाया जाए और उसमें किसी भी तरह की इस तरह के संकट की स्थिति भरना था और यह जो अभी हाल ही में जो अभी हम लोग के देश में आर्थिक संकट आया है यह परमानेंट नहीं है टाइम थ्योरी आ रही है जल्दी खत्म हो जाएगा लेकिन फिर भी यह जो आर्थिक संकट आया है उसमें सरकार की जिम्मेदारी बनती है क्योंकि अभी हाल ही में चुनाव होने और चुनाव होने ऐसा पता चल रहा है कि चुनाव होने के कारण 2000केनोट या 500 के नोट दबाया जा रहे हैं जिस कारण कि अन्य सभी स्टेट में पैसों की किल्लत हो गई अरे इसी आर्थिक संकट पर लगा रहा हैDesh Ki Aarthik Sankat Ka Jimmewar Wahan Ki Sarkar Hoti Hai Kyonki Sarkar Ke Hath Mein Aarthik Niyojan Ka Karyabhar Rehta Hai Janta Aap Mere Sarkar Ki Sunti Hai Janta Apne Sarkari Seedhe Chunati Hai Taki Is Tarah Ke Kisi Bhi Sankat Ki Sthiti Samane Na Hai Aur Agar Is Tarah Ke Kisi Bhi Sankat Ki Sthiti Samane Aati Hai To Uske Account Ability Uski Jimmedari Puri Tarah Se Sarkar Ki Banti Hai Nahi Ki Janta Ki Sarkar Bilkul Parivar Ke Mukhiya Ki Tarah Hoti Hai Jaise Ki Ek Parivar Mein Mukhya Ki Jimmedari Hoti Hai Ki Apne Parivar Ko Sahi Tarike Se Chalaye Is Tarah Ki Koi Bhi Sankat Ki Sthiti Na Aaye Ussi Tarah Agar Desh Mein Bhi Sarkar Ki Jimmedari Hoti Hai Ki Desh Ko Sahi Tarike Se Chalaya Jaye Aur Usamen Kisi Bhi Tarah Ki Is Tarah Ke Sankat Ki Sthiti Bharna Tha Aur Yeh Jo Abhi Haal Hi Mein Jo Abhi Hum Log Ke Desh Mein Aarthik Sankat Aaya Hai Yeh Permanent Nahi Hai Time Theory Aa Rahi Hai Jaldi Khatam Ho Jayega Lekin Phir Bhi Yeh Jo Aarthik Sankat Aaya Hai Usamen Sarkar Ki Jimmedari Banti Hai Kyonki Abhi Haal Hi Mein Chunav Hone Aur Chunav Hone Aisa Pata Chal Raha Hai Ki Chunav Hone Ke Kaaran Ya 500 Ke Note Dabaya Ja Rahe Hain Jis Kaaran Ki Anya Sabhi State Mein Paison Ki Killat Ho Gayi Arre Isi Aarthik Sankat Par Laga Raha Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अगर कहा है की आरती गड़बड़ियां स्वीकार नहीं की जाएगी तो वह इसके विरुद्ध कुछ सख्त और कठोर कदम भी उठाएंगे और जैसा कि कई लोगों को लगता है कि पीएम मोदी ने चुप्पी नहीं त...
जवाब पढ़िये
मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अगर कहा है की आरती गड़बड़ियां स्वीकार नहीं की जाएगी तो वह इसके विरुद्ध कुछ सख्त और कठोर कदम भी उठाएंगे और जैसा कि कई लोगों को लगता है कि पीएम मोदी ने चुप्पी नहीं तोड़ी है और पीएम मोदी बोलते नहीं हैं किसी भी मुद्दे पर मतलब उनका कोई जवाब नहीं आता इतने बड़े बड़े मुद्दे देश में होते हैं और वह नहीं बोलते हैं और अभी वह इसलिए बोले हैं क्योंकि विपक्ष काम पर बहुत दबाव था तो मुझे नहीं लगता है कि ऐसा है क्योंकि अगर ऐसा होता तो वह नोटबंदी पर भी बोलते वह जीएसटी पर भी बोलते वह तब भी नहीं बोले वह और भी ऐसे कई मुद्दे हैं तब वह चुप रहे हैं क्योंकि मुझे लगता है कि वह एक सोच समझकर योजना बना करो फिर कोई कार्य करते हैं तो उस में वक्त लगता है वह और वह उन समस्याओं का समाधान करना चाहते हैं इसलिए वह सिर्फ बोलकर और कहMujhe Lagta Hai Ki Pradhanmantri Modi Ne Agar Kaha Hai Ki Aarti Gadabadiyan Sweekar Nahi Ki Jayegi To Wah Iske Viruddha Kuch Sakht Aur Kathor Kadam Bhi Uthayenge Aur Jaisa Ki Kai Logon Ko Lagta Hai Ki Pm Modi Ne Chuppi Nahi Todi Hai Aur Pm Modi Bolte Nahi Hain Kisi Bhi Mudde Par Matlab Unka Koi Jawab Nahi Aata Itne Bade Bade Mudde Desh Mein Hote Hain Aur Wah Nahi Bolte Hain Aur Abhi Wah Isliye Bole Hain Kyonki Vipaksh Kaam Par Bahut Dabaav Tha To Mujhe Nahi Lagta Hai Ki Aisa Hai Kyonki Agar Aisa Hota To Wah Notebandi Par Bhi Bolte Wah Gst Par Bhi Bolte Wah Tab Bhi Nahi Bole Wah Aur Bhi Aise Kai Mudde Hain Tab Wah Chup Rahe Hain Kyonki Mujhe Lagta Hai Ki Wah Ek Soch Samajhkar Yojana Bana Karo Phir Koi Karya Karte Hain To Us Mein Waqt Lagta Hai Wah Aur Wah Un Samasyaon Ka Samadhan Karna Chahte Hain Isliye Wah Sirf Bolkar Aur Keh
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव में अनिवार्य मतदान लागू किया गया इसके बाद से पूरे देश में इस पर चर्चा शुरु हो गई पैसे अनिवार्य मतदान की मांग देश में काफी समय से उठ रही है लेकिन देश के राजनीतिक दल और बुद...
जवाब पढ़िये
गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव में अनिवार्य मतदान लागू किया गया इसके बाद से पूरे देश में इस पर चर्चा शुरु हो गई पैसे अनिवार्य मतदान की मांग देश में काफी समय से उठ रही है लेकिन देश के राजनीतिक दल और बुद्धिजीवी इस व्यवस्था के बारे में एकमात्र नहीं है कुछ मतदान को मौलिक नागरिक कर्तव्य से जोड़ते हैं और उल्लंघन करने पर जुर्माने की बात करती हैं तो कुछ अनिवार्य मतदान को लोकतंत्र के लिए व्यवहारिक नहीं मानते हैं संविधान में नागरिकों के कुछ कर्तव्य और दायित्व निर्धारित कर दी गई संविधान भी है हर एक नागरिक का कर्तव्य भी है कि वह हर हाल में उड़ते नागरिक के पास जहां वोट देने का अधिकार है वही वोट ना देने का भी संवैधानिक हक है नोटा के जरिए एक विकल्प रास्ता खुल गया है इसके अलावा संविधान में सभी नागरिकों को राजनीतिक और आर्थिक अधिकार पीती है उसे कैसे छीना जा सकता हैGujarat Ke Sthaniye Nikaay Chunav Mein Anivarya Matdan Laagu Kiya Gaya Iske Baad Se Poore Desh Mein Is Par Charcha Shuru Ho Gayi Paise Anivarya Matdan Ki Maang Desh Mein Kafi Samay Se Uth Rahi Hai Lekin Desh Ke Rajnitik Dal Aur Buddhijivi Is Vyavastha Ke Baare Mein Ekmatra Nahi Hai Kuch Matdan Ko Maulik Nagarik Kartavya Se Jodte Hain Aur Ullanghan Karne Par Jurmane Ki Baat Karti Hain To Kuch Anivarya Matdan Ko Loktantra Ke Liye Vyavharik Nahi Manate Hain Samvidhan Mein Naagrikon Ke Kuch Kartavya Aur Dayitva Nirdharit Kar Di Gayi Samvidhan Bhi Hai Har Ek Nagarik Ka Kartavya Bhi Hai Ki Wah Har Haal Mein Udate Nagarik Ke Paas Jahan Vote Dene Ka Adhikaar Hai Wahi Vote Na Dene Ka Bhi Samvaidhanik Haq Hai NOTA Ke Jariye Ek Vikalp Rasta Khul Gaya Hai Iske Alava Samvidhan Mein Sabhi Naagrikon Ko Rajnitik Aur Aarthik Adhikaar Piti Hai Use Kaise China Ja Sakta Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत को आजाद हुए लगभग 75 वर्ष हो चुके है और मेरी सबसे दिक्कत है बहुत दुखद की खबर है कि भारत में अभी भी असमानता है यह समानता के कई कई कारण हैं सबसे पहला कारण यह होगा कि जब काश सिस्टम है हमें लेखाकार सि...
जवाब पढ़िये
भारत को आजाद हुए लगभग 75 वर्ष हो चुके है और मेरी सबसे दिक्कत है बहुत दुखद की खबर है कि भारत में अभी भी असमानता है यह समानता के कई कई कारण हैं सबसे पहला कारण यह होगा कि जब काश सिस्टम है हमें लेखाकार सिस्टम कैसे असमानता देश में बढ़ा रहा है हमने देखा है कि कैसे का सिस्टम के कारण चला कैटेगरी के लोग ज्यादा आगे नहीं बढ़ पा रहे हो चाहे नौकरी की बात हो या कॉलेज में एडमिशन की बात हो दूसरा यह होगा कि जिस तरीके से देश की आबादी बढ़ रही है यह बहुत ही दुखद खबर है और इसके कारण असमानता भी बढ़ रही है अगर हम देखे जा एयरपोर्ट तो भारत सबसे ज्यादा आबादी वाला देश पूरी दुनिया में और इसके कारण 19 में जो है भारत की वह भी असमान तरह रही है या फिर अनफ्रेंड आ रही है तीसरा कॉलोनी होगा कि भारत में इंटरेस्ट बहुत है या फिर अब कह सकते कि भारत में शिक्षित लोग ज्यादा नहीं है ज्यादा पढ़े लिखे लोगों और इसके कारण समानता है तो मेरी सबसे यह तीन मुख्य कारण है असमानता के भारत जैसे देश मेंBharat Ko Azad Hue Lagbhag 75 Varsh Ho Chuke Hai Aur Meri Sabse Dikkat Hai Bahut Dukhad Ki Khabar Hai Ki Bharat Mein Abhi Bhi Asamanta Hai Yeh Samanata Ke Kai Kai Kaaran Hain Sabse Pehla Kaaran Yeh Hoga Ki Jab Kash System Hai Hume Lekhakaar System Kaise Asamanta Desh Mein Badha Raha Hai Humne Dekha Hai Ki Kaise Ka System Ke Kaaran Chala Category Ke Log Jyada Aage Nahi Badh Pa Rahe Ho Chahe Naukri Ki Baat Ho Ya College Mein Admission Ki Baat Ho Doosra Yeh Hoga Ki Jis Tarike Se Desh Ki Aabadi Badh Rahi Hai Yeh Bahut Hi Dukhad Khabar Hai Aur Iske Kaaran Asamanta Bhi Badh Rahi Hai Agar Hum Dekhe Ja Airport To Bharat Sabse Jyada Aabadi Wala Desh Puri Duniya Mein Aur Iske Kaaran 19 Mein Jo Hai Bharat Ki Wah Bhi Asamaan Tarah Rahi Hai Ya Phir Anafrend Aa Rahi Hai Teesra Colony Hoga Ki Bharat Mein Interest Bahut Hai Ya Phir Ab Keh Sakte Ki Bharat Mein Shikshit Log Jyada Nahi Hai Jyada Padhe Likhe Logon Aur Iske Kaaran Samanata Hai To Meri Sabse Yeh Teen Mukhya Kaaran Hai Asamanta Ke Bharat Jaise Desh Mein
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप आईएएस बनना चाहते हो लेकिन घर की आर्थिक स्थिति जो है वह ठीक नहीं है तो आप भी छोड़ सकते हो तो देखो इसमें आपको टाइम लगता है कि आपको पेपर दिए होगा नहीं होगा आप आपकी जो बैंक है मैं कभी आपके घर वाले ...
जवाब पढ़िये
अगर आप आईएएस बनना चाहते हो लेकिन घर की आर्थिक स्थिति जो है वह ठीक नहीं है तो आप भी छोड़ सकते हो तो देखो इसमें आपको टाइम लगता है कि आपको पेपर दिए होगा नहीं होगा आप आपकी जो बैंक है मैं कभी आपके घर वाले अच्छे होने चाहिए पैसे पूछे उन्हें चाहिए तभी तो आप इसकी पढ़ाई कर सकते हो क्योंकि इसकी पढ़ाई करना बहुत मुश्किल होता है तो आप ठीक कर रहे हो छोड़ रहे हो कोई किसी और फिल्म में जा सकते होAgar Aap IAS Banana Chahte Ho Lekin Ghar Ki Aarthik Sthiti Jo Hai Wah Theek Nahi Hai To Aap Bhi Chod Sakte Ho To Dekho Isme Aapko Time Lagta Hai Ki Aapko Paper Diye Hoga Nahi Hoga Aap Aapki Jo Bank Hai Main Kabhi Aapke Ghar Wale Acche Hone Chahiye Paise Puche Unhen Chahiye Tabhi To Aap Iski Padhai Kar Sakte Ho Kyonki Iski Padhai Karna Bahut Mushkil Hota Hai To Aap Theek Kar Rahe Ho Chod Rahe Ho Koi Kisi Aur Film Mein Ja Sakte Ho
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी पारसी इकनोमिक एक्टिविटी मैं आपको इकनोमिक एक्टिविटी के बारे में एक एग्जांपल के थ्रू बताने वाला हूं आपने जीडीपी का नाम सुना होगा तो जीडीपी ही 1 तरीके से इकनोमिक एक्टिविटी है इकनोमिक एक्टिविटी में म...
जवाब पढ़िये
विकी पारसी इकनोमिक एक्टिविटी मैं आपको इकनोमिक एक्टिविटी के बारे में एक एग्जांपल के थ्रू बताने वाला हूं आपने जीडीपी का नाम सुना होगा तो जीडीपी ही 1 तरीके से इकनोमिक एक्टिविटी है इकनोमिक एक्टिविटी में मतलब क्या होता है यह सारी वह सारी चीजें इन्वॉल्व करती है जिसमें प्रोडक्शन होता है गुड्स पावर डिस्ट्रीब्यूशन ऑफ कंजर्वेशन ऑफ कमोडिटीज ठीक है हम किस चीज का प्रोडक्शन कर रहे हैं हम कितना प्रोडक्शन प्रोडक्शन कर रहे हैं इसको कहां का सप्लाई कर रहे हो कितना टाइम हो रहा है इन सब चीजों को मिलाकर एक नंबर 1 एक्टिविटी का टन भार निकल गया है जिसको हम जीडीपी भी कह सकते क्रिकेट जीडीपी 1 किलोमीटर इकनोमिक एक्टिविटी गए हैं हम लोग इन सब चीजों से अपने मार्केट का डेवलपमेंट देख सकते हैं हमारी कंट्री में क्या डेवलपमेंट हो रहा है हम लोग यह भी देख सकते हैं इसी सब चीजों से हम लोग इन्फ्लेशन रेट और डिप्रेशन रेट हेलो आपने सुना होगा इकोनॉमिक्स में यह सब इन सब चीजों से ही इकनोमिक एक्टिविटी से ही डिफाइन होता है थैंक यूVikee Parasi Economic Activity Main Aapko Economic Activity Ke Baare Mein Ek Example Ke Through Batane Wala Hoon Aapne Gdp Ka Naam Suna Hoga To Gdp Hi 1 Tarike Se Economic Activity Hai Economic Activity Mein Matlab Kya Hota Hai Yeh Saree Wah Saree Cheezen Involve Karti Hai Jisme Production Hota Hai Goods Power Distribution Of Kanjarveshan Of Commodities Theek Hai Hum Kis Cheez Ka Production Kar Rahe Hain Hum Kitna Production Production Kar Rahe Hain Isko Kahan Ka Supply Kar Rahe Ho Kitna Time Ho Raha Hai In Sab Chijon Ko Milakar Ek Number 1 Activity Ka Ton Bhar Nikal Gaya Hai Jisko Hum Gdp Bhi Keh Sakte Cricket Gdp 1 Kilometre Economic Activity Gaye Hain Hum Log In Sab Chijon Se Apne Market Ka Development Dekh Sakte Hain Hamari Country Mein Kya Development Ho Raha Hai Hum Log Yeh Bhi Dekh Sakte Hain Isi Sab Chijon Se Hum Log Inflation Rate Aur Depression Rate Hello Aapne Suna Hoga Economics Mein Yeh Sab In Sab Chijon Se Hi Economic Activity Se Hi Define Hota Hai Thank You
Likes  7  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सही है कि आर्थिक आधार पर आरक्षण कर देना चाहिए ना की जाति के आधार पर क्योंकि घर ST SC वाला गरीब नहीं होता और ना ही है जनरल ओबीसी वाला घर संपन्न और सुना दो तो जरूर है कि एसटी एससी वर्ग अति पिछड़ा हुआ...
जवाब पढ़िये
यह सही है कि आर्थिक आधार पर आरक्षण कर देना चाहिए ना की जाति के आधार पर क्योंकि घर ST SC वाला गरीब नहीं होता और ना ही है जनरल ओबीसी वाला घर संपन्न और सुना दो तो जरूर है कि एसटी एससी वर्ग अति पिछड़ा हुआ है लेकिन कई लोग आरक्षण का फायदा उठाकर संपन्न हो चुके हैं उनके बच्चों को आरक्षण क्यों एक पंडित ब्राह्मण गिरी है उसकी स्थिति इतनी भी ठीक नहीं कि वह अपने घर चला सके तो फिर उसको आरक्षण आरक्षण की गलत धारणा और पृथ्वी का टैलेंट गलियों में घूमता फिरता है और कम काबिल व्यक्ति राज करता है लेकिन आरक्षण को आर्थिक आधार पर करने के लिए दलित को भी बराबरी का हिस्सा समाज में देना चाहिए कुछ पाने के लिए कुछ खोना भी पड़ता है एक मंदिर में एक दलित पुजारी हो सकता है फिर पंडित नहीं और जो दलित लोग गंदगी साफ सफाई करते हैं वह काम पंडित को भी करना चाहिए तभी इस समाज में समानता आएगी तभी से आर्थिक आधार पर आरक्षण देना सही रहेगा तब तक के लिए जब तुम दलित लोग को समाज में पिछड़ा रखोगे तो फिर क्या तुम आरक्षण की बात कर सकते होYeh Sahi Hai Ki Aarthik Aadhar Par Aarakshan Kar Dena Chahiye Na Ki Jati Ke Aadhar Par Kyonki Ghar ST SC Wala Garib Nahi Hota Aur Na Hi Hai General Obc Wala Ghar Sanpann Aur Suna Do To Jarur Hai Ki ST Sc Varg Ati Pichada Hua Hai Lekin Kai Log Aarakshan Ka Fayda Uthaakar Sanpann Ho Chuke Hain Unke Bacchon Ko Aarakshan Kyon Ek Pandit Brahman Giri Hai Uski Sthiti Itni Bhi Theek Nahi Ki Wah Apne Ghar Chala Sake To Phir Usko Aarakshan Aarakshan Ki Galat Dharan Aur Prithvi Ka Talent Galiyaan Mein Ghoomta Phirta Hai Aur Kam Kaabil Vyakti Raj Karta Hai Lekin Aarakshan Ko Aarthik Aadhar Par Karne Ke Liye Dalit Ko Bhi Barabari Ka Hissa Samaaj Mein Dena Chahiye Kuch Pane Ke Liye Kuch Khona Bhi Padata Hai Ek Mandir Mein Ek Dalit "pujari " Ho Sakta Hai Phir Pandit Nahi Aur Jo Dalit Log Gandagi Saaf Safaai Karte Hain Wah Kaam Pandit Ko Bhi Karna Chahiye Tabhi Is Samaaj Mein Samanata Aaegi Tabhi Se Aarthik Aadhar Par Aarakshan Dena Sahi Rahega Tab Tak Ke Liye Jab Tum Dalit Log Ko Samaaj Mein Pichada To Phir Kya Tum Aarakshan Ki Baat Kar Sakte Ho
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा क्या भारत के प्रसिद्ध बमों का शाब्दिक विचार यही होगा कि आरक्षण में होती है और मेरा मानना है कि किसी जाति को देख कर यह साबित नहीं कर सकता है वह कितना गरीब है कितना प्यारा भारत के ऊपर फोकस कीजिए जि...
जवाब पढ़िये
मेरा क्या भारत के प्रसिद्ध बमों का शाब्दिक विचार यही होगा कि आरक्षण में होती है और मेरा मानना है कि किसी जाति को देख कर यह साबित नहीं कर सकता है वह कितना गरीब है कितना प्यारा भारत के ऊपर फोकस कीजिए जिस प्रकार आपने आधार कार्ड बनाए उसी हिसाब से आप गरीब को चुन-चुनकर बाहर निकालिए बनाइए और जो परिवार को एक बार यदि उनको आरक्षण मिल जाता है किसी चीज के लिए आखिर उनको आरक्षण का लाभ लेने से मना कर दिया जितने भी बढ़ गए हैं उनको प्रेम से क्या होता है जिसको कभी आरक्षण का मौका नहीं मिला है आपकी क्रीमी लेयर सिस्टम नहीं आ रही है अभी तक यह बताइए कि आरक्षण में क्या हो रहा है आज मुझे होती है भारत के लिए अच्छी साबित नहीं होगीMera Kya Bharat Ke Prasiddh Bamon Ka Shabdik Vichar Yahi Hoga Ki Aarakshan Mein Hoti Hai Aur Mera Manana Hai Ki Kisi Jati Ko Dekh Kar Yeh Saabit Nahi Kar Sakta Hai Wah Kitna Garib Hai Kitna Pyara Bharat Ke Upar Focus Kijiye Jis Prakar Aapne Aadhar Card Banaye Ussi Hisab Se Aap Garib Ko Chun Chunkar Bahar Nikaliye Aur Jo Parivar Ko Ek Bar Yadi Unko Aarakshan Mil Jata Hai Kisi Cheez Ke Liye Aakhir Unko Aarakshan Ka Labh Lene Se Mana Kar Diya Jitne Bhi Badh Gaye Hain Unko Prem Se Kya Hota Hai Jisko Kabhi Aarakshan Ka Mauka Nahi Mila Hai Aapki Creamy Layer System Nahi Aa Rahi Hai Abhi Tak Yeh Bataiye Ki Aarakshan Mein Kya Ho Raha Hai Aaj Mujhe Hoti Hai Bharat Ke Liye Acchi Saabit Nahi Hogi
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रिंस हैरी और मीगन मर्क्ले की जो शादी है और १९ मई २०१८ को हो रही है सेंट जॉर्ज चेपल विंडसर कासल इंग्लैंड में l और जो प्रिंस हैरी हैं वह ब्रिटिश रॉयल फैमिली के मेम्बर है और जो मीगन मर्क्ले है अमेरिकन ...
जवाब पढ़िये
प्रिंस हैरी और मीगन मर्क्ले की जो शादी है और १९ मई २०१८ को हो रही है सेंट जॉर्ज चेपल विंडसर कासल इंग्लैंड में l और जो प्रिंस हैरी हैं वह ब्रिटिश रॉयल फैमिली के मेम्बर है और जो मीगन मर्क्ले है अमेरिकन एक्ट्रेस है l और इस शादी से कहा जा रहा है कि कुछ ४३०० करोड़ रुपए जोड़ सकते हैं l आपका तो यह सवाल है इस तरह की आज जो मॉडल है अगर भारत में यूज़ हो सके तो मुझे नहीं लगता भारत इस चीज के लिए अभी तैयार है क्योंकि पहले जो समय पहले समय में भारत में जो रॉयल फैमिली इसका इंपैक्ट को ज्यादा था और उस टाइम में रूल किया करते थे वह l और मगर अभी के जमाने में मुझे नहीं लगता कि उनका इंपैक्ट में इतना ज्यादा है अगर है भी तो एक जगह तक ही सीमित है, एक पर्टिकुलर सिटी फिर टाउन या फिर विलेज कह लीजिये वहा तक ही सिमित है l ऐसा नहीं की पुरे भारत को वो इम्पैक्ट करता है तो मुझे नहीं लगता कि शादी का कांसेप्ट है या फिर नया मॉडल भारत में इतना ज्यादा इंपैक्ट फुल होगा lPrince Harry Aur Migan Markle Ki Jo Shadi Hai Aur 19 May 2018 Ko Ho Rahi Hai Sent George Chepal Vindsar Castle England Mein L Aur Jo Prince Harry Hain Wah British Royal Family Ke Member Hai Aur Jo Migan Markle Hai American Actress Hai L Aur Is Shadi Se Kaha Ja Raha Hai Ki Kuch 4300 Crore Rupaiye Jod Sakte Hain L Aapka To Yeh Sawal Hai Is Tarah Ki Aaj Jo Model Hai Agar Bharat Mein Use Ho Sake To Mujhe Nahi Lagta Bharat Is Cheez Ke Liye Abhi Taiyaar Hai Kyonki Pehle Jo Samay Pehle Samay Mein Bharat Mein Jo Royal Family Iska Inspect Ko Jyada Tha Aur Us Time Mein Rule Kiya Karte The Wah L Aur Magar Abhi Ke Jamaane Mein Mujhe Nahi Lagta Ki Unka Inspect Mein Itna Jyada Hai Agar Hai Bhi To Ek Jagah Tak Hi Simith Hai Ek Particular City Phir Town Ya Phir Village Keh Lijiye Vaha Tak Hi Simit Hai L Aisa Nahi Ki Poore Bharat Ko Vo Impact Karta Hai To Mujhe Nahi Lagta Ki Shadi Ka Concept Hai Ya Phir Naya Model Bharat Mein Itna Jyada Inspect Full Hoga L
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रितिक बैसाखी की तरफ चल नहीं सकते आप लंगड़े हैं यूज कर रहे हैं तो एक चीज है जो आपको उसको फेंक रहा है वही के रिजर्वेशन के साथ जरूरत नहीं है उन्हें अपनी बैसाखी रिजर्वेशन नाम की बैसाखी को फेंक देना और वही...
जवाब पढ़िये
रितिक बैसाखी की तरफ चल नहीं सकते आप लंगड़े हैं यूज कर रहे हैं तो एक चीज है जो आपको उसको फेंक रहा है वही के रिजर्वेशन के साथ जरूरत नहीं है उन्हें अपनी बैसाखी रिजर्वेशन नाम की बैसाखी को फेंक देना और वही देखने का काम नहीं कर रहे हम ठीक हो गए हैं पर कभी भी हम लोगों की संपत्ति के लिए अपना फायदा उठाने के लिए हम अब हमें यह देखना कि हम क्यों अपने नगरों की संख्या बढ़ानी चाहिए तो हमारे प्रश्न यह होना चाहिए कि हम कैसे खत्म करें जड़ से खत्म करें हमें चाहिए हमें चाहिए कि लड़का लड़की में भेदभाव ना करें किसी से भेदभाव ना करें किस करने के लिए हमें कुछ हद तक रिजर्वेशन जरूरी है और ऐसा कई लोगों का मानना है कि वह गरीबों को मिलना था बट इसकी क्या गारंटी है कि आज जो लोग फेक सर्टिफिकेट कास्ट के सर्टिफिकेट बना रहे हैं वह आगे जाकर आर्थिक पर सर्टिफिकेट नहीं बनाएंगे अभी हमारे पास ऐसा कोई नहीं है जो किसी भी इंसान की सारी इनकम इकट्ठा कर पाए IT डिपार्टमेंट को बहुत समय लगता है किसी के ऊपर भी पूरी जांच करने में आर्थिक रिजर्वेशन पॉसिबल नहीं हैHrithik Baisakhi Ki Taraf Chal Nahi Sakte Aap Langade Hain Use Kar Rahe Hain To Ek Cheez Hai Jo Aapko Usko Fenk Raha Hai Wahi Ke Reservation Ke Saath Zaroorat Nahi Hai Unhen Apni Baisakhi Reservation Naam Ki Baisakhi Ko Fenk Dena Aur Wahi Dekhne Ka Kaam Nahi Kar Rahe Hum Theek Ho Gaye Hain Par Kabhi Bhi Hum Logon Ki Sampatti Ke Liye Apna Fayda Uthane Ke Liye Hum Ab Hume Yeh Dekhna Ki Hum Kyon Apne Nagaroan Ki Sankhya Badhani Chahiye To Hamare Prashna Yeh Hona Chahiye Ki Hum Kaise Khatam Karen Jad Se Khatam Karen Hume Chahiye Hume Chahiye Ki Ladka Ladki Mein Bhedbhav Na Karen Kisi Se Bhedbhav Na Karen Kis Karne Ke Liye Hume Kuch Had Tak Reservation Zaroori Hai Aur Aisa Kai Logon Ka Manana Hai Ki Wah Garibon Ko Milna Tha But Iski Kya Guarantee Hai Ki Aaj Jo Log Fake Certificate Caste Ke Certificate Bana Rahe Hain Wah Aage Jaakar Aarthik Par Certificate Nahi Banayenge Abhi Hamare Paas Aisa Koi Nahi Hai Jo Kisi Bhi Insaan Ki Saree Income Ikattha Kar Paye IT Department Ko Bahut Samay Lagta Hai Kisi Ke Upar Bhi Puri Janch Karne Mein Aarthik Reservation Possible Nahi Hai
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे कई दशकों के प्रतीक समृद्धि और आर्थिक विकास यह दोनों वर्ड्स या उनके अर्थ समान रूप से इस्तेमाल किए जाते थे लेकिन अभी यह दोनों विभिन्न नव वर्ष है आर्थिक समृद्धि से मतलब यह है कि किसी टाइम में किसी अ...
जवाब पढ़िये
देखे कई दशकों के प्रतीक समृद्धि और आर्थिक विकास यह दोनों वर्ड्स या उनके अर्थ समान रूप से इस्तेमाल किए जाते थे लेकिन अभी यह दोनों विभिन्न नव वर्ष है आर्थिक समृद्धि से मतलब यह है कि किसी टाइम में किसी अर्थव्यवस्था में होने वाली वास्तविक आय में वृद्धि हो रही है कि सामान्य रूप में अगर यदि किसी देश की सकल घरेलू उत्पाद और प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि होती है तो ऐसा कहा जाता है कि उस देश में आर्थिक समृद्धि है अभी आर्थिक विकास के बारे में बोला जाए तो उसका मतलब आर्थिक समृद्धि से अध्यापक होता है आर्थिक विकास सैनी किस देश के सामाजिक सांस्कृतिक आर्थिक गुणात्मक एवं मात्रात्मक सभी पर्व पर परिवर्तनों से संबंधित है इसका प्रमुख लक्ष्य कुपोषण निरक्षरता बेरोजगार खत्म करना होता है तो यही इन दोनों में अंतर हैDekhe Kai Dashakon Ke Pratik Samridhi Aur Aarthik Vikash Yeh Dono Words Ya Unke Arth Saman Roop Se Istemal Kiye Jaate The Lekin Abhi Yeh Dono Vibhinn Nav Varsh Hai Aarthik Samridhi Se Matlab Yeh Hai Ki Kisi Time Mein Kisi Arthavyavastha Mein Hone Wali Vastavik Aay Mein Vriddhi Ho Rahi Hai Ki Samanya Roop Mein Agar Yadi Kisi Desh Ki Sakal Gharelu Utpaad Aur Prati Vyakti Aay Mein Vriddhi Hoti Hai To Aisa Kaha Jata Hai Ki Us Desh Mein Aarthik Samridhi Hai Abhi Aarthik Vikash Ke Baare Mein Bola Jaye To Uska Matlab Aarthik Samridhi Se Adhyapak Hota Hai Aarthik Vikash Saini Kis Desh Ke Samajik Sanskritik Aarthik Gunatmak Evam Matratmak Sabhi Parv Par Parivartanon Se Sambandhit Hai Iska Pramukh Lakshya Kuposhan Nirksharta Berojgar Khatam Karna Hota Hai To Yahi In Dono Mein Antar Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वतंत्रता के बाद 1991 का वर्ष भारत देश के लिए आर्थिक विकास में मील का पत्थर साबित हुआ इससे पहले भारत एक आर्थिक संकट से गुजर रहा था इस संकट में भारत के नीति निर्माताओं को नई आर्थिक नीति लागू करने के ल...
जवाब पढ़िये
स्वतंत्रता के बाद 1991 का वर्ष भारत देश के लिए आर्थिक विकास में मील का पत्थर साबित हुआ इससे पहले भारत एक आर्थिक संकट से गुजर रहा था इस संकट में भारत के नीति निर्माताओं को नई आर्थिक नीति लागू करने के लिए मजबूर कर दिया इस समय की केंद्रीय वित्त मंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने नई आर्थिक नीति 1991 में लागू की नई आर्थिक नीति अधिक स्पष्ट और अधिक व्यापक रूप से लागू की गई इसके तहत निजीकरण वैश्वीकरण और उदारीकरण से जुड़े सभी कार्यक्रम अपनाए गए इससे पहले देश में कई आर्थिक नियंत्रणों की भरमार थी भारत भारी आर्थिक संकट में था मुद्रास्फीति की दर 2 अंकों में आ गई थी बजट घाटा अधिक हो गया था विदेशी विनिमय कोष की मात्रा सिर्फ 2 सप्ताह के आयात के लायक ही शेष रह गई थी ऐसी स्थिति में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उदारीकरण का नया मार्ग अपनाया जिसके अंतर्गत दो कार्यक्रम अपनाए गए स्थरीकरण ढांचागत समायोजन भारत नहीं है कार्य अनियंत्रित तरीके से नहीं कर के सीमित गुण आधारित वह चाइनीस तरीके से करने की नीति को अपनाया जिससे कैलिब्रेट लोकल स्टेशन की नीति कहा गया इसके अंतर्गत विदेशी सहयोग लेते समय यह देखा जाता था कि इससे स्वदेशी उद्योगों को कोई नुकसान नहीं हो इस नीति के तहत एनडीए सरकार ने भी अपने कार्यकाल 1991 से 2004 तक में आर्थिक सुधारों की प्रक्रिया चालू रखी वर्तमान समय में हमें आर्थिक सुधारों को समग्र सुधारों के अंग के रूप में देखना होगाSwatantrata Ke Baad 1991 Ka Varsh Bharat Desh Ke Liye Aarthik Vikash Mein Meal Ka Pathar Saabit Hua Isse Pehle Bharat Ek Aarthik Sankat Se Gujar Raha Tha Is Sankat Mein Bharat Ke Niti Nirmaataon Ko Nayi Aarthik Niti Laagu Karne Ke Liye Majboor Kar Diya Is Samay Ki Kendriya Vitt Mantri Doctor Manmohan Singh Ne Nayi Aarthik Niti 1991 Mein Laagu Ki Nayi Aarthik Niti Adhik Spasht Aur Adhik Vyapak Roop Se Laagu Ki Gayi Iske Tahat Nijikaran Vaishvikaran Aur Udarikaran Se Jude Sabhi Karyakram Apnaye Gaye Isse Pehle Desh Mein Kai Aarthik Niyantranon Ki Bharamar Thi Bharat Bhari Aarthik Sankat Mein Tha Mudrasfiti Ki Dar 2 Ankon Mein Aa Gayi Thi Budget Ghata Adhik Ho Gaya Tha Videshi Vinimay Kosh Ki Matra Sirf 2 Saptah Ke Aayaat Ke Layak Hi Shesh Rah Gayi Thi Aisi Sthiti Mein Tatkalin Congress Sarkar Ne Udarikaran Ka Naya Marg Apnaya Jiske Antargat Do Karyakram Apnaye Gaye Stharikaran Dhanchagat Samaayojan Bharat Nahi Hai Karya Aniyantrit Tarike Se Nahi Kar Ke Simith Gun Aadharit Wah Chinese Tarike Se Karne Ki Niti Ko Apnaya Jisse Kailibret Local Station Ki Niti Kaha Gaya Iske Antargat Videshi Sahyog Lete Samay Yeh Dekha Jata Tha Ki Isse Swadeshi Udyogon Ko Koi Nuksan Nahi Ho Is Niti Ke Tahat Nda Sarkar Ne Bhi Apne Karyakal 1991 Se 2004 Tak Mein Aarthik Sudharo Ki Prakriya Chalu Rakhi Vartaman Samay Mein Hume Aarthik Sudharo Ko Samagra Sudharo Ke Ang Ke Roop Mein Dekhna Hoga
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर है तो इसके लिए आपको बहुत मेहनत करना पड़ेगा आपको कुछ काम करना पड़ेगा पैसे कमाना पड़ेगा तभी जाकर ठीक हो सकती है...
जवाब पढ़िये
अगर आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर है तो इसके लिए आपको बहुत मेहनत करना पड़ेगा आपको कुछ काम करना पड़ेगा पैसे कमाना पड़ेगा तभी जाकर ठीक हो सकती हैAgar Aapki Aarthik Sthiti Kamjor Hai To Iske Liye Aapko Bahut Mehnat Karna Padega Aapko Kuch Kaam Karna Padega Paise Kamana Padega Tabhi Jaakar Theek Ho Sakti Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है कांग्रेस ने जब हमारे देश में 70 साल राज किया है तो कहीं ना कहीं हम आज देख रहे हैं हम आज हमने हमारे देश में जो तरक्की की है वह कांग्रेस की नीतियों के कांग्रेस और बीजेपी ने सब ने मिलकर इस दे...
जवाब पढ़िये
ऐसा नहीं है कांग्रेस ने जब हमारे देश में 70 साल राज किया है तो कहीं ना कहीं हम आज देख रहे हैं हम आज हमने हमारे देश में जो तरक्की की है वह कांग्रेस की नीतियों के कांग्रेस और बीजेपी ने सब ने मिलकर इस देश को यहां तक कि लाया है और हम बात करें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी की तो उनके कार्यकाल में दुनिया की कई देशों की कंपनियां बड़ी बड़ी कंपनियां बंद हो गई लेकिन उन्होंने अपने प्रधानमंत्री रहते हुए भारत की एक भी कंपनी बंद होने नहीं दी क्योंकि वह इतने बड़े अर्थशास्त्रियों ने हर चीज का इतना ज्ञान था कि किस चीज को लाने से देश का फायदा होगा किस चीज को लाने से देश का नाम होगा तो आपको जो सवाल है कि कांग्रेस ने जो देश की आर्थिक स्थिति खराब की ऐसा नहीं है और अभी हम देखें कि 4 साल पिछले 4 सालों में तो इस देश में बीजेपी की सरकार है तो ऐसा आरोप लगाना अच्छा नहीं होगा कि कि कांग्रेस ने देश को आर्थिक स्थिति खराब की हैAisa Nahi Hai Congress Ne Jab Hamare Desh Mein 70 Saal Raj Kiya Hai To Kahin Na Kahin Hum Aaj Dekh Rahe Hain Hum Aaj Humne Hamare Desh Mein Jo Tarakki Ki Hai Wah Congress Ki Nitiyon Ke Congress Aur Bjp Ne Sab Ne Milkar Is Desh Ko Yahan Tak Ki Laya Hai Aur Hum Baat Karen Purv Pradhanmantri Manmohan Singh Ji Ki To Unke Karyakal Mein Duniya Ki Kai Deshon Ki Companiyan Badi Badi Companiyan Band Ho Gayi Lekin Unhone Apne Pradhanmantri Rehte Hue Bharat Ki Ek Bhi Company Band Hone Nahi Di Kyonki Wah Itne Bade Arthashastriyon Ne Har Cheez Ka Itna Gyaan Tha Ki Kis Cheez Ko Lane Se Desh Ka Fayda Hoga Kis Cheez Ko Lane Se Desh Ka Naam Hoga To Aapko Jo Sawal Hai Ki Congress Ne Jo Desh Ki Aarthik Sthiti Kharab Ki Aisa Nahi Hai Aur Abhi Hum Dekhen Ki 4 Saal Pichle 4 Salon Mein To Is Desh Mein Bjp Ki Sarkar Hai To Aisa Aarop Lagana Accha Nahi Hoga Ki Ki Congress Ne Desh Ko Aarthik Sthiti Kharab Ki Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिग्गी चीन की तुलना में भारत फिलहाल अभी तक बहुत ही आगे 2020 तक भारत की कॉमर्स में नंबर वन कंपनी बन जाएगा भारत आदर्श सेक्टर में भी बहुत अच्छे प्रथम करें उसमें भी नंबर वन हो जाएगा इसका पूरा ग्राफ जो है ...
जवाब पढ़िये
डिग्गी चीन की तुलना में भारत फिलहाल अभी तक बहुत ही आगे 2020 तक भारत की कॉमर्स में नंबर वन कंपनी बन जाएगा भारत आदर्श सेक्टर में भी बहुत अच्छे प्रथम करें उसमें भी नंबर वन हो जाएगा इसका पूरा ग्राफ जो है वर्ल्ड बैंक में दे चुके है वर्ल्ड बैंक का कहना है कि भारत आने वाले 23 सालों में बाकी देशों को पछाड़ते हुए आगे जाएगा और चीन को भी इसका घाटा होगा क्योंकि चीन फिलहाल अभी आगे हैं उस को पछाड़ते हुए भारत अभी आगे आ चुके 2017 से लेकर 2020 तक भारत बहुत ही तरक्की कर चुके और कर दी कॉमर्स से लेकर आप जितना भी रियल एस्टेट सेक्टर में चले जाइए या दूसरे शिपिंग में चले जाइए या लॉजिस्टिक में चले जाइए आप देख रहे होंगे कि भारत की संख्या और भारत की बिजनेस पॉलिसी बहुत ही सिंपल हो चुकी है जिससे क्या हुआ पूरा देश में फंडिंग हो रही है और भारत की जीडीपी ग्रोथ हो रहा है और ग्राहक को एक से एक जगह पर क्राफ्ट मिल रहे हैं और भाई भारत की आबादी के हिसाब से चीन की आबादी थोड़ा ज्यादा है जिसके पैसे चीन की जो काम करने की क्षमता है जो है वह थोड़ा तो ढीली पड़ी है और भारत की काम करने की संख्या बहुत आगे या इकोनॉमिक्स हिसाब से अगर आप देखेंगे 2020 तक भारत और दर्द सबसे बेस्ट देश में से एक देश है जिसकी जी आप इतने ग्रोथ हो चुकी है आज शाम हो चुकी इकॉनमी के हिसाब से भारत अभी चीन से बहुत आ गई हैDiggi Chin Ki Tulna Mein Bharat Filhal Abhi Tak Bahut Hi Aage 2020 Tak Bharat Ki Commerce Mein Number Van Company Ban Jayega Bharat Adarsh Sector Mein Bhi Bahut Acche Pratham Karen Usamen Bhi Number Van Ho Jayega Iska Pura Graph Jo Hai World Bank Mein De Chuke Hai World Bank Ka Kehna Hai Ki Bharat Aane Wale 23 Salon Mein Baki Deshon Ko Pachadate Hue Aage Jayega Aur Chin Ko Bhi Iska Ghata Hoga Kyonki Chin Filhal Abhi Aage Hain Us Ko Pachadate Hue Bharat Abhi Aage Aa Chuke 2017 Se Lekar 2020 Tak Bharat Bahut Hi Tarakki Kar Chuke Aur Kar Di Commerce Se Lekar Aap Jitna Bhi Real Estate Sector Mein Chale Jaiye Ya Dusre Shipping Mein Chale Jaiye Ya Logistic Mein Chale Jaiye Aap Dekh Rahe Honge Ki Bharat Ki Sankhya Aur Bharat Ki Business Policy Bahut Hi Simple Ho Chuki Hai Jisse Kya Hua Pura Desh Mein Funding Ho Rahi Hai Aur Bharat Ki Gdp Growth Ho Raha Hai Aur Grahak Ko Ek Se Ek Jagah Par Craft Mil Rahe Hain Aur Bhai Bharat Ki Aabadi Ke Hisab Se Chin Ki Aabadi Thoda Jyada Hai Jiske Paise Chin Ki Jo Kaam Karne Ki Kshamta Hai Jo Hai Wah Thoda To Dhili Padi Hai Aur Bharat Ki Kaam Karne Ki Sankhya Bahut Aage Ya Economics Hisab Se Agar Aap Dekhenge 2020 Tak Bharat Aur Dard Sabse Best Desh Mein Se Ek Desh Hai Jiski Ji Aap Itne Growth Ho Chuki Hai Aaj Shaam Ho Chuki Economy Ke Hisab Se Bharat Abhi Chin Se Bahut Aa Gayi Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आर्थिक सर्वेक्षण 2017 18 की मुख्य बातें होंगी कि आज जीडीपी का विरोध फोरकास्ट जवाब 7:00 से 7:30 पर्सेंट आया है 42019 जो कि एक सिग्निफिकेंट जीडीपी ग्रोथ है नॉन एग्रीकल्चरल पैरोल में काफी बढ़ोतरी हुई है ...
जवाब पढ़िये
आर्थिक सर्वेक्षण 2017 18 की मुख्य बातें होंगी कि आज जीडीपी का विरोध फोरकास्ट जवाब 7:00 से 7:30 पर्सेंट आया है 42019 जो कि एक सिग्निफिकेंट जीडीपी ग्रोथ है नॉन एग्रीकल्चरल पैरोल में काफी बढ़ोतरी हुई है जो कि एक बड़ा Plus है जीएसटी के आने से 50% का जन्म हुआ है इन डायरेक्ट एक्सप्रेस में 1800000 की बढ़ोतरी हुई है इंडिविजुअल इनकम टैक्स फाइल अजमेर सिग्निफिकेंट डेवलपमेंट है इंडिया के लिए इन टर्म्स ऑफ़ नेगेटिव मैं कहूंगा कि आप ऑफ इट उप एग्रीकल्चर करियर पॉइंट हुआ है कि एग्रीकल्चर इंशुरंस बाइक स्ट्रीम क्लाइमेट कमेंट को फोकस करना पड़ेगा कैसे इस्पेक्टर को इनक्रीस करें और जो आगरा प्राइस ऑफ़ गिर रहे हैं उसको कैसे आदेश करें ताकि इस सेक्टर को पोस्ट ना सके क्यूट सेक्स रेशों के बारे में भी कहा गया है कि इंडिया में अभी रिफरेंस फॉर मेल चाइल्ड है और इसकी वजह से काफी क्यूट सेक्स रेश्यो है और इस पर इंडिया को फोकस करना पड़ेगा यह भी कहा गया है कि परक चल रेटेड ग्रोथ इन्वेस्टमेंट की जरूरत है सीलिंग से ज्यादा तो वी नीड इन्वेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर एजुकेशन mini डाउनलोड ऑफ इन्वेस्टमेंट 2 लाइव देखना मुझे कुछ मुख्य बातें हैं एक्सपोर्ट के बारे में भी कहा गया है कि एक को 12 परसेंट गुरु हुआ है एंड इलेक्ट्रिक ग्रुप अनेक शब्दों के एक काफी सिग्निफिकेंट डेवलपमेंट है इंडिया के फोरेक्स रिजल्ट B.Ed कॉल टाइम पास काफी अच्छी बातें भी हैं वह भी काफी इन्वेस्टमेंट होने हैं इंडिया में लॉर्ड ऑफ कल्चरल सुसु कल्चरल X वीडियोAarthik Sarvekshad 2017 18 Ki Mukhya Batein Hongi Ki Aaj Gdp Ka Virodh Forecast Jawab 7:00 Se 7:30 Percent Aaya Hai 42019 Jo Ki Ek Significant Gdp Growth Hai Non Agricultural Pairol Mein Kafi Badhotari Hui Hai Jo Ki Ek Bada Plus Hai Gst Ke Aane Se 50% Ka Janm Hua Hai In Direct Express Mein 1800000 Ki Badhotari Hui Hai Imdividual Income Tax File Ajmer Significant Development Hai India Ke Liye In Terms Of Negative Main Kahunga Ki Aap Of It Up Agriculture Career Point Hua Hai Ki Agriculture Inshurans Bike Stream Climate Comment Ko Focus Karna Padega Kaise Ispektar Ko Increase Karen Aur Jo Agra Price Of Gir Rahe Hain Usko Kaise Aadesh Karen Taki Is Sector Ko Post Na Sake Cute Sex Resho Ke Baare Mein Bhi Kaha Gaya Hai Ki India Mein Abhi Reference For Mail Child Hai Aur Iski Wajah Se Kafi Cute Sex Ratio Hai Aur Is Par India Ko Focus Karna Padega Yeh Bhi Kaha Gaya Hai Ki Parak Chal Rated Growth Investment Ki Zaroorat Hai Ceiling Se Jyada To V Need Investment End Infrastructure Education Mini Download Of Investment 2 Live Dekhna Mujhe Kuch Mukhya Batein Hain Export Ke Baare Mein Bhi Kaha Gaya Hai Ki Ek Ko 12 Percent Guru Hua Hai End Electric Group Anek Shabdon Ke Ek Kafi Significant Development Hai India Ke Forex Result B.Ed Call Time Paas Kafi Acchi Batein Bhi Hain Wah Bhi Kafi Investment Hone Hain India Mein Lord Of Cultural Susu Cultural X Video
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखा जाए तो 2016 में जीडीपी का रेट सिर्फ सेक्स पॉइंट एक था जो कि 2017 18 में जीडीपी की वृद्धि 7 पॉइंट 2 प्रतिशत रही है इसमें पीछे के पीछे सबसे बड़ा प्रभाव टॉर्च डीमोनेटाइजेशन चली छुक नोटबंदी करी गई थी...
जवाब पढ़िये
देखा जाए तो 2016 में जीडीपी का रेट सिर्फ सेक्स पॉइंट एक था जो कि 2017 18 में जीडीपी की वृद्धि 7 पॉइंट 2 प्रतिशत रही है इसमें पीछे के पीछे सबसे बड़ा प्रभाव टॉर्च डीमोनेटाइजेशन चली छुक नोटबंदी करी गई थी तब सारी और उसके बारे में असंतोष था मगर अभी अभी धीरे-धीरे उसके अच्छे परिणाम हमें देख रहे हैं जीडीपी कितनी उचाई का कारण सिर्फ नोटबंदी नहीं है तो जीएसटी के लागू करने के लिए परिणाम है विश्व बैंक का यही कहना है कि भारत के कोने में अभी सबसे तेजी से बढ़ रही है अगर देखा जाए तो 2018 19 में जीडीपी का रेट 7 पॉइंट 5% रहने की अधिक संभावना हैDekha Jaye To 2016 Mein Gdp Ka Rate Sirf Sex Point Ek Tha Jo Ki 2017 18 Mein Gdp Ki Vriddhi 7 Point 2 Pratishat Rahi Hai Isme Piche Ke Piche Sabse Bada Prabhav Torch Dimonetaijeshan Chali Chuk Notebandi Kari Gayi Thi Tab Saree Aur Uske Baare Mein Asantosh Tha Magar Abhi Abhi Dhire Dhire Uske Acche Parinam Hume Dekh Rahe Hain Gdp Kitni Uchai Ka Kaaran Sirf Notebandi Nahi Hai To Gst Ke Laagu Karne Ke Liye Parinam Hai Vishwa Bank Ka Yahi Kehna Hai Ki Bharat Ke Kone Mein Abhi Sabse Teji Se Badh Rahi Hai Agar Dekha Jaye To 2018 19 Mein Gdp Ka Rate 7 Point 5% Rehne Ki Adhik Sambhavna Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
आर्थिक दृष्टिकोण से अगर हम देखें तो आरक्षण काफी हद तक जायज है क्योंकि अगर हम आर्थिक स्थिति देखकर किसी इंसान को आरक्षण देते हैं और उसकी ऊपर रखने में मदद करते हैं उसकी पढ़ाई में मदद करते हैं तो यह बहुत अच्छी बात रहेगी और यह सही और न्याय पूर्ण आरक्षण देने का तरीका होगा ना कि किसी जाति या धर्म के आधार आधार पर आरक्षण दिया जाए तो यह पूरी तरह से अन्याय पूर्ण है और आर्थिक दृष्टिकोण लिए भी फायदेमंद है कि अगर हम किसी को आर्थिक स्थिति सुधार रहे हैं आरक्षण देकर तो आगे चलकर वह हमारे भारत की उन्नति में ही काम आएगा और हमारे भारत में जितनी भी पावर्टी है यानी कि गरीबी है वह सब कम होगी लोगों लोगों को काम करने का जरिया प्राप्त होगा जिसके तहत वह अपने परिवार का अच्छी तरह से ख्याल रख सकते हैं और उनके खाने पीने का प्रबंध भी कर सकते हैं और हमारे देश में कई सारे युवा ऐसे हैं जो की बहुत ही काफी है काबिलियत रखते हैं लेकिन उनके ऊपर उठने का मौका नहीं है बातें तो हो सकता है आर्थिक दृष्टिकोण से जवाब आरक्षण करके देंगे तो वह ऊपर उठने का पूरा पूरा मौका उनको मिलेगा और वह इस मौके का फायदा उठा कर ऊपर आएंगे और इससे हमारे देश में गरीबी बहुत कम हो पाएगी और हमारा देश प्रगति की राह पर चलेगाAarthik Drishtikon Se Agar Hum Dekhen To Aarakshan Kafi Had Tak Jayaj Hai Kyonki Agar Hum Aarthik Sthiti Dekhkar Kisi Insaan Ko Aarakshan Dete Hain Aur Uski Upar Rakhne Mein Madad Karte Hain Uski Padhai Mein Madad Karte Hain To Yeh Bahut Acchi Baat Rahegi Aur Yeh Sahi Aur Nyay Poorn Aarakshan Dene Ka Tarika Hoga Na Ki Kisi Jati Ya Dharm Ke Aadhar Aadhar Par Aarakshan Diya Jaye To Yeh Puri Tarah Se Anyay Poorn Hai Aur Aarthik Drishtikon Liye Bhi Faydemand Hai Ki Agar Hum Kisi Ko Aarthik Sthiti Sudhaar Rahe Hain Aarakshan Dekar To Aage Chalkar Wah Hamare Bharat Ki Unnati Mein Hi Kaam Aayega Aur Hamare Bharat Mein Jitni Bhi Poverty Hai Yani Ki Garibi Hai Wah Sab Kum Hogi Logon Logon Ko Kaam Karne Ka Jariya Prapt Hoga Jiske Tahat Wah Apne Parivar Ka Acchi Tarah Se Khayal Rakh Sakte Hain Aur Unke Khane Peene Ka Prabandh Bhi Kar Sakte Hain Aur Hamare Desh Mein Kai Sare Yuva Aise Hain Jo Ki Bahut Hi Kafi Hai Kabiliyat Rakhate Hain Lekin Unke Upar Uthane Ka Mauka Nahi Hai Batein To Ho Sakta Hai Aarthik Drishtikon Se Jawab Aarakshan Karke Denge To Wah Upar Uthane Ka Pura Pura Mauka Unko Milega Aur Wah Is Mauke Ka Fayda Utha Kar Upar Aayenge Aur Isse Hamare Desh Mein Garibi Bahut Kum Ho Payegi Aur Hamara Desh Pragati Ki Raah Par Chalega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दावोस विश्व का सबसे बड़ा आर्थिक मंच विश्व से करीब 7 देशों के राष्ट्राध्यक्ष इस सम्मेलन में भाग लेने वाले हैं हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी 20 वर्ष बाद इस आर्थिक मंच पर सम्मिलित होने जा रहे हैं इ...
जवाब पढ़िये
दावोस विश्व का सबसे बड़ा आर्थिक मंच विश्व से करीब 7 देशों के राष्ट्राध्यक्ष इस सम्मेलन में भाग लेने वाले हैं हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी 20 वर्ष बाद इस आर्थिक मंच पर सम्मिलित होने जा रहे हैं इससे पहले प्रधानमंत्री श्री देवी घोड़ा दावोस गए थे सबसे बड़ी बात इस मंच की यह है कि इसकी शुरुआत हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी के अभिभाषण से होगी और इस बार इस मंच पर सत्यता के रूप में 7 महिलाओं का एक समूह है हमारे देश से भारत की ओर से इसमें चेतना सिन्हा उपस्थित रहेंगे सबसे बड़ी आर्थिक पंचायत में हमारे देश के प्रधानमंत्री अपने देश के बारे में कई मुद्दों पर बातचीत करेंगे भारत की उभरती हुई अर्थव्यवस्था के बारे में विश्व को बताएंगे और ऐसे कई मुद्दे हैं जनपद इस बड़े मंच से मोदी जी भारत के बारे में विश्व को बताएंगे पिछले 3 सालों में मोदी जी ने जो कदम उठाए हैं तथा जो भारत के विकास के लिए योजनाएं बनाई है उसके बाद भारत किस तरह से वैश्विक निवेश का महत्वपूर्ण देश बनता जा रहा है यह मोदी जी आज विश्व के राष्ट्राध्यक्षों के सामने प्रस्तुत करेंगे मोदी भारत के ब्रांड एंबेसडर हैं विदेशों में भारत की छवि को एक अलग अंदाज में उन्होंने पेश किया है अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में अब भारत विश्व के लिए आकर्षण का केंद्र है दुनिया और भारत की ओर आकर्षित हो रही है यह सारे मुद्दे मोदी जी विस्तार से बताएंगेDavos Vishwa Ka Sabse Bada Aarthik Manch Vishwa Se Karib 7 Deshon Ke Rashtradhyaksh Is Sammelan Mein Bhag Lene Wale Hain Hamare Desh Ke Pradhanmantri Shri Modi 20 Varsh Baad Is Aarthik Manch Par Smmilit Hone Ja Rahe Hain Isse Pehle Pradhanmantri Shri Devi Ghoda Davos Gaye The Sabse Badi Baat Is Manch Ki Yeh Hai Ki Iski Shuruvat Hamare Pradhanmantri Modi Ji Ke Abhibhashan Se Hogi Aur Is Baar Is Manch Par Satyata Ke Roop Mein 7 Mahilaon Ka Ek Samuh Hai Hamare Desh Se Bharat Ki Oar Se Isme Chetna Sinha Upasthit Rahenge Sabse Badi Aarthik Panchayat Mein Hamare Desh Ke Pradhanmantri Apne Desh Ke Baare Mein Kai Muddon Par Batchit Karenge Bharat Ki Ubharti Hui Arthavyavastha Ke Baare Mein Vishwa Ko Batayenge Aur Aise Kai Mudde Hain Janpad Is Bade Manch Se Modi Ji Bharat Ke Baare Mein Vishwa Ko Batayenge Pichle 3 Salon Mein Modi Ji Ne Jo Kadam Uthye Hain Tatha Jo Bharat Ke Vikash Ke Liye Yojanaye Banai Hai Uske Baad Bharat Kis Tarah Se Vaishvik Nivesh Ka Mahatvapurna Desh Banta Ja Raha Hai Yeh Modi Ji Aaj Vishwa Ke Raashtraadhyakshon Ke Samane Prastut Karenge Modi Bharat Ke Brand Ambassador Hain Videshon Mein Bharat Ki Chawi Ko Ek Alag Andaaz Mein Unhone Pesh Kiya Hai Arthavyavastha Ke Kshetra Mein Ab Bharat Vishwa Ke Liye Aakarshan Ka Kendra Hai Duniya Aur Bharat Ki Oar Aakarshit Ho Rahi Hai Yeh Sare Mudde Modi Ji Vistar Se Batayenge
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको 12वीं पास के बाद नौकरी चाहिए और आर्थिक स्थिति कमजोर है तो मैं यह कहूंगी कि आपको नौकरी तो मिलती है 12वीं पास के बाद भी लेकिन आपको और जैसे कि अपना प्रोफाइल पहले आप naukri.com इन द टाइम्स ऑफ एंज...
जवाब पढ़िये
अगर आपको 12वीं पास के बाद नौकरी चाहिए और आर्थिक स्थिति कमजोर है तो मैं यह कहूंगी कि आपको नौकरी तो मिलती है 12वीं पास के बाद भी लेकिन आपको और जैसे कि अपना प्रोफाइल पहले आप naukri.com इन द टाइम्स ऑफ एंजेल इशारे में अपना प्रोफाइल अपडेट कर दो क्योंकि वहां पर क्या डिग्री होती है कि अब जितना भी डिग्री रहता है उसके हिसाब से आपका प्रोफाइल सेट लिस्ट होता है और आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है तो 12वीं के पास के बाद भी काफी लोग ऐसे हैं जो जॉब करते हो नौकरी मिलती भी है जैसे कि आपको बीपीओ का जब मिल सकता है फिर से आपको एयरपोर्ट में चेकिंग बगैरा का जॉब मिल सकता है और ऐसे काफी जगह है जहां पर आप को नौकरी मिल जाएगीAgar Aapko Vi Paas Ke Baad Naukri Chahiye Aur Aarthik Sthiti Kamjor Hai To Main Yeh Kahungi Ki Aapko Naukri To Milti Hai Vi Paas Ke Baad Bhi Lekin Aapko Aur Jaise Ki Apna Profile Pehle Aap Naukri.com In D Times Of Angel Ishare Mein Apna Profile Update Kar Do Kyonki Wahan Par Kya Degree Hoti Hai Ki Ab Jitna Bhi Degree Rehta Hai Uske Hisab Se Aapka Profile Set List Hota Hai Aur Aapko Interview Ke Liye Bulaya Jata Hai To Vi Ke Paas Ke Baad Bhi Kafi Log Aise Hain Jo Job Karte Ho Naukri Milti Bhi Hai Jaise Ki Aapko Bpo Ka Jab Mil Sakta Hai Phir Se Aapko Airport Mein Checking Bagera Ka Job Mil Sakta Hai Aur Aise Kafi Jagah Hai Jahan Par Aap Ko Naukri Mil Jayegi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश में कौन अमित डेवलपमेंट करने के लिए हमें कुछ सुधारों की आवश्यकता है भारत में आर्थिक क्षेत्र में स्थिति सुधारने के लिए हमें सबसे पहले समाज में शिक्षा व कौशल प्रशिक्षण पर ध्यान देना होगा जिससे भविष्य...
जवाब पढ़िये
देश में कौन अमित डेवलपमेंट करने के लिए हमें कुछ सुधारों की आवश्यकता है भारत में आर्थिक क्षेत्र में स्थिति सुधारने के लिए हमें सबसे पहले समाज में शिक्षा व कौशल प्रशिक्षण पर ध्यान देना होगा जिससे भविष्य में युवा अपने कैरियर के बारे में सजग होकर सही निर्णय ले सकेंगे क्योंकि वर्तमान समय में कर्मचारियों के स्थान पर मशीनों में कंप्यूटर ज्यादा काम कर रहे हैं ऐसी स्थिति में कुशलता में विविधता और पारंगत होना अति आवश्यक है विनिर्माण के क्षेत्र में विकास की गति में तेजी लानी होगी इसके लिए हमें निर्यात को बढ़ाने की जरूरत है सरकार को उत्पादन के हर चरण में गुणवत्ता की तरफ विशेष ध्यान देकर सख्त कदम उठाने चाहिए ताकि भारत जो वस्तुओं का घटिया भारत में जो वस्तुओं का घटिया उत्पादन और स्तर नीचा है उसमें सुधार आ सके और वह विश्व के बाजार के अनुकूल हो सके निर्यात आधारित विकासDesh Mein Kaun Amit Development Karne Ke Liye Hume Kuch Sudharo Ki Avashyakta Hai Bharat Mein Aarthik Kshetra Mein Sthiti Sudhaarne Ke Liye Hume Sabse Pehle Samaaj Mein Shiksha V Kaushal Prashikshan Par Dhyan Dena Hoga Jisse Bhavishya Mein Yuva Apne Carrier Ke Baare Mein Sajag Hokar Sahi Nirnay Le Sakenge Kyonki Vartaman Samay Mein Karmachariyon Ke Sthan Par Machino Mein Computer Jyada Kaam Kar Rahe Hain Aisi Sthiti Mein Kushalata Mein Vividhata Aur Parangat Hona Ati Aavashyak Hai Vinirmaan Ke Kshetra Mein Vikash Ki Gati Mein Teji Laani Hogi Iske Liye Hume Niryat Ko Badhane Ki Zaroorat Hai Sarkar Ko Utpadan Ke Har Charan Mein Gunavatta Ki Taraf Vishesh Dhyan Dekar Sakht Kadam Uthane Chahiye Taki Bharat Jo Vastuon Ka Ghatiya Bharat Mein Jo Vastuon Ka Ghatiya Utpadan Aur Sthar Nicha Hai Usamen Sudhaar Aa Sake Aur Wah Vishwa Ke Bazar Ke Anukul Ho Sake Niryat Aadharit Vikash
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर न्यू चौक सिंह ने 2010 और 2014 के बीच में 5280 करोड़ का घोटाला किया है उन्होंने 5280 करोड़ का लोन 31 बैंकों से लिया सिर्फ और सिर्फ 100 करोड़ की संपत्ति के बदले आप सूची इतना बड...
जवाब पढ़िये
गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर न्यू चौक सिंह ने 2010 और 2014 के बीच में 5280 करोड़ का घोटाला किया है उन्होंने 5280 करोड़ का लोन 31 बैंकों से लिया सिर्फ और सिर्फ 100 करोड़ की संपत्ति के बदले आप सूची इतना बड़ा घोटाला है जिसमें सिर्फ 100 करोड़ की संपत्ति पर इतना बड़ा लोन दिया गया अगर हमारे देश में इतने बड़े बड़े घोटाले और ऐसे ही घोटाले चलते रहेंगे तो लोगों का जो बचा कुचा भरोसा है बैंकों पर वह भी खत्म हो जाएगा तो इसको जल्दी से जल्दी खत्म करना चाहिए और रुकना चाहिए क्रेडिट ग्रुप सबसे कम रहा है भारत का अभी तक पिछले साल का क्रेडिट ग्रोथ भारत का 20 सालों में सबसे कम रहा है इसका मतलब है देश कम डेवलपमेंट कर रहा है अगर किसी कंट्री का क्रेडिट ग्रुप ज्यादा होता है इसका मतलब है वह कंट्री ज्यादा डेवलप कर रही है अगरGitanjali Jems Ke Pramotar New Chauk Singh Ne 2010 Aur 2014 Ke Beech Mein 5280 Crore Ka Ghotala Kiya Hai Unhone 5280 Crore Ka Loan 31 Bankon Se Liya Sirf Aur Sirf 100 Crore Ki Sampatti Ke Badle Aap Suchi Itna Bada Ghotala Hai Jisme Sirf 100 Crore Ki Sampatti Par Itna Bada Loan Diya Gaya Agar Hamare Desh Mein Itne Bade Bade Ghotale Aur Aise Hi Ghotale Chalte Rahenge To Logon Ka Jo Bacha Koocha Bharosa Hai Bankon Par Wah Bhi Khatam Ho Jayega To Isko Jaldi Se Jaldi Khatam Karna Chahiye Aur Rukna Chahiye Credit Group Sabse Kum Raha Hai Bharat Ka Abhi Tak Pichle Saal Ka Credit Growth Bharat Ka 20 Salon Mein Sabse Kum Raha Hai Iska Matlab Hai Desh Kum Development Kar Raha Hai Agar Kisi Country Ka Credit Group Jyada Hota Hai Iska Matlab Hai Wah Country Jyada Develop Kar Rahi Hai Agar
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा की उम्मीद लगाई जा रही थी इस साल की शुरुआत में की भारत की जो इकोनामिक सिचुएशन है वह अपेक्षित बढ़ने की उम्मीद थी और ऐसा हुआ है कि बड़ी है उतनी अच्छी नहीं लेकिन काफी ज्यादा बढ़िया भारत इकोनामिक सिचु...
जवाब पढ़िये
जैसा की उम्मीद लगाई जा रही थी इस साल की शुरुआत में की भारत की जो इकोनामिक सिचुएशन है वह अपेक्षित बढ़ने की उम्मीद थी और ऐसा हुआ है कि बड़ी है उतनी अच्छी नहीं लेकिन काफी ज्यादा बढ़िया भारत इकोनामिक सिचुएशन इस साल और साल के अंत तक शुरुआत में जो और जीडीपी थी वह हमारे साथ थी जो कि अभी 7:30 तक पहुंच गई है और इंडिया जो है अभी पूरी दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप भेज बन चुका है ज्यादातर स्टार्टअप जो भी शुरू हो रहा है वह इंडिया में शुरू हो रहा है इसी के साथ साथ बहुत सारे एंजॉय एम्पलाइज प्रोविडेंट फंड से जुड़े जो बता रहा है कि काफी ज्यादा इंप्रूवमेंट हुआ इस साल और इसके बाद बहुत सी कंपनी जो है वह भारत में निवेश कर रही है दुबई से मैसेज आ रहे हैं अमेरिका सैन्य स्टेशन है ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि 2022 तक बहुत ज्यादा डेवलपमेंट होने वाला है भारत में और इंगेजमेंट भी होने वाला भारत में जो इकनोमिक कंडीशन है इसको और अच्छे से सुधारने के लिए जो हमारे बैंक से उन्हें थोड़ी सी मेहनत करनी पड़ेगी और उनकी कंडीशन सुधारने के बाद हमारी तो इकोनामिक किससे की है और ज्यादा अच्छी होती जाएगी और भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी बन जाएगाJaisa Ki Ummid Lagai Ja Rahi Thi Is Saal Ki Shuruvat Mein Ki Bharat Ki Jo Ikonamik Situation Hai Wah Apekshit Badhne Ki Ummid Thi Aur Aisa Hua Hai Ki Badi Hai Utani Acchi Nahi Lekin Kafi Zyada Badhiya Bharat Ikonamik Situation Is Saal Aur Saal Ke Ant Tak Shuruvat Mein Jo Aur Gdp Thi Wah Hamare Saath Thi Jo Ki Abhi 7:30 Tak Pahunch Gayi Hai Aur India Jo Hai Abhi Puri Duniya Mein Teesra Sabse Bada Startup Bhej Ban Chuka Hai Jyadatar Startup Jo Bhi Shuru Ho Raha Hai Wah India Mein Shuru Ho Raha Hai Isi Ke Saath Saath Bahut Sare Enjoy Empalaij Provident Fund Se Jude Jo Bata Raha Hai Ki Kafi Zyada Improvement Hua Is Saal Aur Iske Baad Bahut Si Company Jo Hai Wah Bharat Mein Nivesh Kar Rahi Hai Dubai Se Massage Aa Rahe Hain America Sainya Station Hai Aisi Ummid Jatai Ja Rahi Hai Ki 2022 Tak Bahut Zyada Development Hone Vala Hai Bharat Mein Aur Engagement Bhi Hone Vala Bharat Mein Jo Economic Condition Hai Isko Aur Acche Se Sudhaarne Ke Liye Jo Hamare Bank Se Unhen Thodi Si Mehnat Karni Padegi Aur Unki Condition Sudhaarne Ke Baad Hamari To Ikonamik Kisse Ki Hai Aur Zyada Acchi Hoti Jayegi Aur Bharat Duniya Ki Teesri Sabse Badi Economy Ban Jayega
Likes  7  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा कहना गलत होगा कि भारत का आर्थिक विकास नहीं हो रहा है क्योंकि जो विकासशील देश हैं जो भर्ती अर्थव्यवस्थाएं हैं उनमें भारत की अर्थव्यवस्था सबसे तेज गति से बढ़ रही है अभी आप जो बोल रहे हैं कि आर्थिक व...
जवाब पढ़िये
ऐसा कहना गलत होगा कि भारत का आर्थिक विकास नहीं हो रहा है क्योंकि जो विकासशील देश हैं जो भर्ती अर्थव्यवस्थाएं हैं उनमें भारत की अर्थव्यवस्था सबसे तेज गति से बढ़ रही है अभी आप जो बोल रहे हैं कि आर्थिक विकास नहीं हो रहा तो इसका मतलब आप कोई पैमाना यूज कर रहे हैं तो इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसी पर मतलब निर्भर करता है कि आप कौन सा कैमरा यूज कर रहे हैं कि यह बोलने के लिए अगर आप बोल रहे हैं कि भारत में नौकरियों की संख्या नहीं बढ़ रही है तो परेशानी है कि वह बढ़ तो रही है पर भारत की जनसंख्या की जो बढ़ने की दर है वह नौकरियों के बढ़ने की दर से ज्यादा है तो जितने लोगों को नौकरी चाहिए उतनी ही नहीं बन पा रही है जबकि नौकरियां अपने आप में तो पढ़ ही रही है तो यही कारण है कि हम भारत का आर्थिक विकास कभी-कभी हमें लगता है कि नहीं हो रहा है हो रहा है पर जो डिमांड है जो डिमांड हेल्पAisa Kehna Galat Hoga Ki Bharat Ka Aarthik Vikash Nahi Ho Raha Hai Kyonki Jo Vikasshil Desh Hain Jo Bharti Arthvyavasthaen Hain Unmen Bharat Ki Arthavyavastha Sabse Tez Gati Se Badh Rahi Hai Abhi Aap Jo Bol Rahe Hain Ki Aarthik Vikash Nahi Ho Raha To Iska Matlab Aap Koi Paimana Use Kar Rahe Hain To Istemal Kar Rahe Hain To Isi Par Matlab Nirbhar Karta Hai Ki Aap Kaun Sa Camera Use Kar Rahe Hain Ki Yeh Bolne Ke Liye Agar Aap Bol Rahe Hain Ki Bharat Mein Naukriyon Ki Sankhya Nahi Badh Rahi Hai To Pareshani Hai Ki Wah Badh To Rahi Hai Par Bharat Ki Jansankhya Ki Jo Badhne Ki Dar Hai Wah Naukriyon Ke Badhne Ki Dar Se Jyada Hai To Jitne Logon Ko Naukri Chahiye Utani Hi Nahi Ban Pa Rahi Hai Jabki Naukriyan Apne Aap Mein To Padh Hi Rahi Hai To Yahi Kaaran Hai Ki Hum Bharat Ka Aarthik Vikash Kabhi Kabhi Hume Lagta Hai Ki Nahi Ho Raha Hai Ho Raha Hai Par Jo Demand Hai Jo Demand Help
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे किसी भी कंपनी के घर आर्थिक स्थिति आपको जानने हो तो आपको उसका बैलेंस शीट पढ़ना पड़ेगा बैलेंस शीट जो है वह बताता है हर साल में एक बार रह कंपनी निकालती है और भी निकाल सकते साल में एक बार निकलता जिसम...
जवाब पढ़िये
मुझे किसी भी कंपनी के घर आर्थिक स्थिति आपको जानने हो तो आपको उसका बैलेंस शीट पढ़ना पड़ेगा बैलेंस शीट जो है वह बताता है हर साल में एक बार रह कंपनी निकालती है और भी निकाल सकते साल में एक बार निकलता जिसमें यह दिखता कि कंपनी में कंपनी के पास कितना पैसा है वह कहां लगा हुआ है प्रॉफिट कितना हुआ लॉस कितना हुआ और कहां का पैसा खर्चा गया है पिछले साल में यह सब सारी इनफार्मेशन रहती है तो इससे काफी क्लियर हो जाता है कि कंपनी की स्थिति क्या है और यह जो है और कोई कंपनी में पब्लिक लिस्टेड है तो उसका पब्लिक में पब्लिक डोमेन में अवेलेबल होगी इंफॉर्मेशन उसके व्यक्तित्व की कंपनियां जो कंपनी पब्लिक नहीं है प्राइवेट अभी कंपनी है तो उसका यह मिलना मतलब मुश्किल है मतलब सही तरीके से तो नहीं मिलेगा और रिपब्लिक लिस्टेड कंपनी का अगर आप जानना चाहते तो आप Google पर सर्च करिए आप आप सभी वेबसाइट जो है फ्री में बैलेंस शीट सिखाती हैं जो भी पब्लिक लिमिटेड कंपनी पब्लिक कंपनी सॉन्गMujhe Kisi Bhi Company Ke Ghar Aarthik Sthiti Aapko Jaanne Ho To Aapko Uska Balance Sheet Padhna Padega Balance Sheet Jo Hai Wah Batata Hai Har Saal Mein Ek Baar Rah Company Nikalati Hai Aur Bhi Nikal Sakte Saal Mein Ek Baar Nikalta Jisme Yeh Dikhta Ki Company Mein Company Ke Paas Kitna Paisa Hai Wah Kahan Laga Hua Hai Profit Kitna Hua Loss Kitna Hua Aur Kahan Ka Paisa Kharcha Gaya Hai Pichle Saal Mein Yeh Sab Saree Information Rehti Hai To Isse Kafi Clear Ho Jata Hai Ki Company Ki Sthiti Kya Hai Aur Yeh Jo Hai Aur Koi Company Mein Public Listed Hai To Uska Public Mein Public Domain Mein Available Hogi Information Uske Vyaktitva Ki Companiyan Jo Company Public Nahi Hai Private Abhi Company Hai To Uska Yeh Milna Matlab Mushkil Hai Matlab Sahi Tarike Se To Nahi Milega Aur Republic Listed Company Ka Agar Aap Janana Chahte To Aap Google Par Search Kariye Aap Aap Sabhi Website Jo Hai Free Mein Balance Sheet Sikhati Hain Jo Bhi Public Limited Company Public Company Song
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश की आर्थिक स्थिति व के लिए हमेशा ही उसकी सरकार और जो प्रजेंट में होती है या फिर जो भी पुरानी सरकार होती है वही समझदार होते हैं और अगर आज की खुल समय की बात करें तो भारत देश की आर्थिक स्थिति के लिए ज...
जवाब पढ़िये
देश की आर्थिक स्थिति व के लिए हमेशा ही उसकी सरकार और जो प्रजेंट में होती है या फिर जो भी पुरानी सरकार होती है वही समझदार होते हैं और अगर आज की खुल समय की बात करें तो भारत देश की आर्थिक स्थिति के लिए जिम्मेदार वही है जो आज की सरकार है यानी कि बीजेपी गवर्नमेंट है क्योंकि BJP कॉमेंट के जो कुछ फैसले ऐसे हैं कुछ योजनाएं कुछ नीतियां ऐसी हैं जिनकी वजह से हमारा देश थोड़ा सा आर्थिक स्थिति में डाउन हुआ है लेकिन अगर हम ओवरऑल देखें तो उनकी जो पैसे हैं वह आगे के कुछ सालों में बहुत ही अच्छे साबित होंगे और उनसे हमारे देश की आर्थिक स्थिति थोड़ा-थोड़ा करके अच्छी होगी हालांकि 3 साल जो गुजरे हैं उसमें कोई भी ऐसा सुधार नहीं हुआ है आर्थिक स्थिति में दीजिए और जलन क्यों लोगों कहना है कि अच्छे दिन आने वाले कुछ सालों में सुधार हो जाएगा और जो फाइनेंस मिनिस्ट्री है वह भी यही कह रही है कि आने वाले समय में आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी हो जाएगी परंतु अभी तक कोई सुधार नहीं हुआ है इसके लिए जिम्मेदार है वह बीजेपी गवर्नमेंट ही है और उन्हीं के सभी लोग हैं क्योंकि उन्होंने जो कुछ कहा था जो वादे किए थे वह नहीं साकार कर पाए हैं और वह उस में सफल नहीं हुए तो इसी वजह से मेरे हिसाब से तो आज की जो सरकार है जो सत्ता में है वही आर्थिक स्थिति के लिए जिम्मेदार है भारत देश कीDesh Ki Aarthik Sthiti V Ke Liye Hamesha Hi Uski Sarkar Aur Jo Present Mein Hoti Hai Ya Phir Jo Bhi Purani Sarkar Hoti Hai Wahi Samajhdar Hote Hain Aur Agar Aaj Ki Khul Samay Ki Baat Karen To Bharat Desh Ki Aarthik Sthiti Ke Liye Zimmedar Wahi Hai Jo Aaj Ki Sarkar Hai Yani Ki Bjp Government Hai Kyonki BJP Cament Ke Jo Kuch Faisle Aise Hain Kuch Yojanaye Kuch Nitiyan Aisi Hain Jinaki Wajah Se Hamara Desh Thoda Sa Aarthik Sthiti Mein Down Hua Hai Lekin Agar Hum Ovaraal Dekhen To Unki Jo Paise Hain Wah Aage Ke Kuch Salon Mein Bahut Hi Acche Saabit Honge Aur Unse Hamare Desh Ki Aarthik Sthiti Thoda Thoda Karke Acchi Hogi Halanki 3 Saal Jo Gujare Hain Usamen Koi Bhi Aisa Sudhaar Nahi Hua Hai Aarthik Sthiti Mein Dijiye Aur Jalan Kyun Logon Kehna Hai Ki Acche Din Aane Wale Kuch Salon Mein Sudhaar Ho Jayega Aur Jo Finance Ministry Hai Wah Bhi Yahi Keh Rahi Hai Ki Aane Wale Samay Mein Aarthik Sthiti Bahut Acchi Ho Jayegi Parantu Abhi Tak Koi Sudhaar Nahi Hua Hai Iske Liye Zimmedar Hai Wah Bjp Government Hi Hai Aur Unhin Ke Sabhi Log Hain Kyonki Unhone Jo Kuch Kaha Tha Jo Waade Kiye The Wah Nahi Saakar Kar Paye Hain Aur Wah Us Mein Safal Nahi Hue To Isi Wajah Se Mere Hisab Se To Aaj Ki Jo Sarkar Hai Jo Satta Mein Hai Wahi Aarthik Sthiti Ke Liye Zimmedar Hai Bharat Desh Ki
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

HD है बेसिकली आर्थिक आधार पर बिल्कुल सही मांगे अगर यह मंजूर है पूरी करते गवर्नमेंट तो आरक्षण जो है सिर्फ लोगों के लिए अभी बात किया लक्षण विभाग को बहुत से लोग को बहुत सारी प्रॉब्लम से आरक्षण से अगर यह ...
जवाब पढ़िये
HD है बेसिकली आर्थिक आधार पर बिल्कुल सही मांगे अगर यह मंजूर है पूरी करते गवर्नमेंट तो आरक्षण जो है सिर्फ लोगों के लिए अभी बात किया लक्षण विभाग को बहुत से लोग को बहुत सारी प्रॉब्लम से आरक्षण से अगर यह आर्थिक व्यवस्था पर कर दीजिए ताकि लोगों के लिए वरदान साबित हो जाता है क्योंकि बहुत सारी ऐसी प्रॉब्लम से ऐसी कि जो अभी की जो आरक्षण की स्थिति है जाति के आधार पर है जिसमें कि हर एक लोग जो है बेसिकली सब लोग को फायदा नहीं उठा पाते क्योंकि हर एक घर में ज्यादा पैसे वाले हैं कम पैसे वाले जो सही में जरूरत है जिनको उनको यह चीज नहीं मिल पाता है तू अभी निकली अगर आरक्षण आर्थिक आधार पर हो पाए तक कि जो लोग को प्रॉब्लम है इस तरह कि जो लोग आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं पिछड़े हुए हैं उनको आरक्षण मिलती है तू सबके लिए बेहतर होगा मतलब बेहतर होगा और रिसेप्शन में कोई प्रॉब्लम ही नहीं रह जाएगी पैकिंग की सरहद को तो बहुत ही बेहतर हैHD Hai Basically Aarthik Aadhar Par Bilkul Sahi Mange Agar Yeh Manzoor Hai Puri Karte Government To Aarakshan Jo Hai Sirf Logon Ke Liye Abhi Baat Kiya Lakshan Vibhag Ko Bahut Se Log Ko Bahut Saree Problem Se Aarakshan Se Agar Yeh Aarthik Vyavastha Par Kar Dijiye Taki Logon Ke Liye Vardan Saabit Ho Jata Hai Kyonki Bahut Saree Aisi Problem Se Aisi Ki Jo Abhi Ki Jo Aarakshan Ki Sthiti Hai Jati Ke Aadhar Par Hai Jisme Ki Har Ek Log Jo Hai Basically Sab Log Ko Fayda Nahi Utha Paate Kyonki Har Ek Ghar Mein Jyada Paise Wale Hain Kam Paise Wale Jo Sahi Mein Zaroorat Hai Jinako Unko Yeh Cheez Nahi Mil Pata Hai Tu Abhi Nikli Agar Aarakshan Aarthik Aadhar Par Ho Paye Tak Ki Jo Log Ko Problem Hai Is Tarah Ki Jo Log Aage Nahi Badh Pa Rahe Hain Pichade Huye Hain Unko Aarakshan Milti Hai Tu Sabke Liye Behtar Hoga Matlab Behtar Hoga Aur Reception Mein Koi Problem Hi Nahi Rah Jayegi Packing Ki Sarahad Ko To Bahut Hi Behtar Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आरक्षण चाट लो कम्युनिटी स्कोर अपडेट करने के लिए हुआ था तो अगर आप इसे सिर्फ आर्थिक तरीके से मारने लगे तो यह जो मोटे है वह पूरा नहीं हो पाएगा क्योंकि हम लोग काफी टाइम ऐसा सोचते हैं कि जो आर्थिक तर...
जवाब पढ़िये
देखिए आरक्षण चाट लो कम्युनिटी स्कोर अपडेट करने के लिए हुआ था तो अगर आप इसे सिर्फ आर्थिक तरीके से मारने लगे तो यह जो मोटे है वह पूरा नहीं हो पाएगा क्योंकि हम लोग काफी टाइम ऐसा सोचते हैं कि जो आर्थिक तरह से अच्छे हैं यजुर्वेद इकनोमिक के लिए अच्छे हैं उनको कोई प्रॉब्लम नहीं होनी चाहिए उनको क्यों आरक्षण चाहिए लेकिन प्रॉब्लम यह हो जाती है कि पहले की जो उनके जनरेशन होती है वह उतनी सब व्यस्त रहती हैं कि धीरे-धीरे आगे की जनरेशन में भी सोच कर सुजा जाते हैं या फिर उनकी तो अब रंगीन होती है वह काफी अलग होती है इसलिए आरक्षण बहुत जरूरी है क्योंकि अगर कोई रोवर कम्युनिटी के लोग इकनोमिक के लिए अच्छे भी हैं तो भी कई बार ऐसा होता है कि पुराने जनरेशन में जो उन्होंने सब प्रशंसा है वह आगे की जनरेशन में भी दिखाई देता है आपका जो क्वेश्चन है वह उस टाइप का है कि हम विमान अपलिफ्टमेंट के बाद सिर्फ गरीब जगह पर क्यों नहीं करते हैं अमीरों के साथ क्यों करते हैं तो चाहे अमीर लोग कितने भी मॉडल हो जाए जहां पर मैंने प्लेसमेंट की जरूरत आती है अमीरों में भी आती है और गरीबों में भी आती है वही चीज हमारे लो और कम्युनिटी इसके साथ भी है कि जहां उनको डिस्क्रिमिनेशन झेलना पड़ता है वह चाहे आप अमीर हो चाहे गरीब हो आपको डिस्क्रिमिनेशन झेलना पड़ता ही है और उस डिस्क्रिमिनेशन से लॉस ऑफ अपॉर्चुनिटी यह जो लाइफ में आपको मौके मिलते हैं पढ़ाई के करके वह सब आपको देते हैं इसलिए जरूरी है कि थोड़े टाइम तक और आरक्षण जाति भेज रहे आर्थिक भेज नहींDekhie Aarakshan Chat Lo Community Score Update Karne Ke Liye Hua Tha To Agar Aap Ise Sirf Aarthik Tarike Se Maarne Lage To Yeh Jo Mote Hai Wah Pura Nahi Ho Payega Kyonki Hum Log Kafi Time Aisa Sochte Hain Ki Jo Aarthik Tarah Se Acche Hain Yajurved Economic Ke Liye Acche Hain Unko Koi Problem Nahi Honi Chahiye Unko Kyon Aarakshan Chahiye Lekin Problem Yeh Ho Jati Hai Ki Pehle Ki Jo Unke Generation Hoti Hai Wah Utani Sab Vyasta Rehti Hain Ki Dhire Dhire Aage Ki Generation Mein Bhi Soch Kar Jaate Hain Ya Phir Unki To Ab Rangeen Hoti Hai Wah Kafi Alag Hoti Hai Isliye Aarakshan Bahut Zaroori Hai Kyonki Agar Koi Rover Community Ke Log Economic Ke Liye Acche Bhi Hain To Bhi Kai Bar Aisa Hota Hai Ki Purane Generation Mein Jo Unhone Sab Prashansa Hai Wah Aage Ki Generation Mein Bhi Dikhai Deta Hai Aapka Jo Question Hai Wah Us Type Ka Hai Ki Hum Viman Ke Baad Sirf Garib Jagah Par Kyon Nahi Karte Hain Amiron Ke Saath Kyon Karte Hain To Chahe Amir Log Kitne Bhi Model Ho Jaye Jahan Par Maine Placement Ki Zaroorat Aati Hai Amiron Mein Bhi Aati Hai Aur Garibon Mein Bhi Aati Hai Wahi Cheez Hamare Lo Aur Community Iske Saath Bhi Hai Ki Jahan Unko Discrimination Jhelna Padata Hai Wah Chahe Aap Amir Ho Chahe Garib Ho Aapko Discrimination Jhelna Padata Hi Hai Aur Us Discrimination Se Loss Of Opportunity Yeh Jo Life Mein Aapko Mauke Milte Hain Padhai Ke Karke Wah Sab Aapko Dete Hain Isliye Zaroori Hai Ki Thode Time Tak Aur Aarakshan Jati Bhej Rahe Aarthik Bhej Nahi
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो बात कही है कि आर्थिक विकास के मध्य नजर कि वह एक कछुआ है वह खरगोश नहीं सबसे पहली चीज तो है यह जो बात कही गई है यह कहानी से रिलेटेड है जिसमें कि खरगोश और कछुए की र...
जवाब पढ़िये
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो बात कही है कि आर्थिक विकास के मध्य नजर कि वह एक कछुआ है वह खरगोश नहीं सबसे पहली चीज तो है यह जो बात कही गई है यह कहानी से रिलेटेड है जिसमें कि खरगोश और कछुए की रेस होती है खरगोश और कुत्ता है लेकिन रुक जाता है और कछुआ से आगे बढ़ता रहता है और जी चाहता तो उनसे कहने का तात्पर्य पहले हमें समझना पड़ेगा कि जो भारत की आर्थिक विकास दर है कि धीरे-धीरे करके धीरे-धीरे करके बहुत ऊंचाइयों तक पहुंच रही हो पहुंचेगी ना कि बहुत तेजी से बढ़कर एक दम शुरू हो जाएगी यह जो वर्क दिया है निश्चित तौर पर सही हो भी सकता है या नहीं भी क्योंकि खुद में उन्होंने अपनी बात में यह चीज रखेगी कछुआ कछुआ का मतलब है कि धीरे-धीरे बढ़ रहा है तो अपनी जो दशा है इनकी की विकास दर नहीं बढ़ पा रहा है उसको भी इन्होंने इस कहानी के मां कम से कम करने की कोशिश की अपने फायदे में लेने की कोशिश की है जबकि सच्चाई यही है कि भारत का आर्थिक विकास दर जो है बहुत धीमी गति से बढ़ रहा है और जिस चीज़ की उम्मीद थी कितनी भारी मेजोरिटी है विदेशों सच्चे संबंध इतनी अच्छी मेजोरिटी में सरकार या 6 दिन के बाद है इन सब चीजों के बाद एक उम्मीद थी बहुत तेजी से विकास दर बढ़ेगा तो नहीं बढ़ पा रहा है इसी के कारण अपने केबल विफलताओं का व्रत करने के लिए कछुए की चीज रखी है और 4 साल ऑलरेडी हो चुके हैं तो इंतजार है कि कछुआ कब अपने टारगेट तक पहुंचेगा और गीता खिलाएगाDesh Ke Pradhanmantri Narendra Modi Ne Jo Baat Kahi Hai Ki Aarthik Vikash Ke Madhya Nazar Ki Wah Ek Kachua Hai Wah Kharagosh Nahi Sabse Pehli Cheez To Hai Yeh Jo Baat Kahi Gayi Hai Yeh Kahani Se Related Hai Jisme Ki Kharagosh Aur Kachhue Ki Race Hoti Hai Kharagosh Aur Kutta Hai Lekin Ruk Jata Hai Aur Kachua Se Aage Badhta Rehta Hai Aur Ji Chahta To Unse Kehne Ka Tatparya Pehle Hume Samajhna Padega Ki Jo Bharat Ki Aarthik Vikash Dar Hai Ki Dhire Dhire Karke Dhire Dhire Karke Bahut Unchaiyon Tak Pahunch Rahi Ho Pahunchegi Na Ki Bahut Teji Se Badhkar Ek Dum Shuru Ho Jayegi Yeh Jo Work Diya Hai Nishchit Taur Par Sahi Ho Bhi Sakta Hai Ya Nahi Bhi Kyonki Khud Mein Unhone Apni Baat Mein Yeh Cheez Rakhegi Kachua Kachua Ka Matlab Hai Ki Dhire Dhire Badh Raha Hai To Apni Jo Dasha Hai Inki Ki Vikash Dar Nahi Badh Pa Raha Hai Usko Bhi Inhone Is Kahani Ke Maa Kum Se Kum Karne Ki Koshish Ki Apne Fayde Mein Lene Ki Koshish Ki Hai Jabki Sacchai Yahi Hai Ki Bharat Ka Aarthik Vikash Dar Jo Hai Bahut Dhimi Gati Se Badh Raha Hai Aur Jis Cheese Ki Ummid Thi Kitni Bhari Majority Hai Videshon Sacche Sambandh Itni Acchi Majority Mein Sarkar Ya 6 Din Ke Baad Hai In Sab Chijon Ke Baad Ek Ummid Thi Bahut Teji Se Vikash Dar Badhega To Nahi Badh Pa Raha Hai Isi Ke Kaaran Apne Kebal Vifaltaon Ka Vrat Karne Ke Liye Kachhue Ki Cheez Rakhi Hai Aur 4 Saal Already Ho Chuke Hain To Intejar Hai Ki Kachua Kab Apne Target Tak Pahunchega Aur Geeta Khilaaega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon