tag_img

Countries_of_the_world


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है, सर्कुलर राष्ट्र है, और भारत को धर्मनिरपेक्ष ही रहना चाहिए| हिंदुत्ववादी राष्ट्र होना भारत के लिए अच्छा नहीं है| सबसे बड़ी बात यह है कि हिंदू अपने में ही हजारों पार्ट में...
जवाब पढ़िये
भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है, सर्कुलर राष्ट्र है, और भारत को धर्मनिरपेक्ष ही रहना चाहिए| हिंदुत्ववादी राष्ट्र होना भारत के लिए अच्छा नहीं है| सबसे बड़ी बात यह है कि हिंदू अपने में ही हजारों पार्ट में डिवाइडेड है| यहां पर हिंदू के अंदर जो है, फिर जातिवाद हैं और अप्पर कास्ट, लोअर कास्ट, उसके अंदर सब कास्ट है| तो यह जो हिंदूवादी जो मानसिकता है, यह बिल्कुल ही गलत मानसिकता है| हमें सारे धर्मों को सही और सारे धर्मों को बराबर अहमियत देनी चाहिए| और अगर इसको हिंदूवादी राष्ट्र अगर इसको बनाने का प्रयत्न किया जाएगा तो मेरे विचार से अनुचित है, और इससे देश का नुकसान होगा|Bharat Ek Dharmanirapeksh Rajya Hai Circular Rashtra Hai Aur Bharat Ko Dharmanirapeksh Hi Rehna Chahiye Hindutvawadi Rashtra Hona Bharat Ke Liye Accha Nahi Hai Sabse Badi Baat Yeh Hai Ki Hindu Apne Mein Hi Hajaron Part Mein Divided Hai Yahan Par Hindu Ke Andar Jo Hai Phir Jaatiwad Hain Aur Upper Caste Lower Caste Uske Andar Sab Caste Hai To Yeh Jo Hinduvadi Jo Mansikta Hai Yeh Bilkul Hi Galat Mansikta Hai Hume Sare Dharmon Ko Sahi Aur Sare Dharmon Ko Barabar Ahamiyat Deni Chahiye Aur Agar Isko Hinduvadi Rashtra Agar Isko Banane Ka Prayatn Kiya Jayega To Mere Vichar Se Anuchit Hai Aur Isse Desh Ka Nuksan Hoga
Likes  31  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में अगर मुसलमानों की जनसंख्या देखे तो वह कहीं 18.2 पर्सेंट आती है पूरी पॉपुलेशन के अकॉर्डिंग और ज्यादातर लोग हैं भारत में सबसे ज्यादा परसेंटेज है भारत में वह हिंदुओं की है और हिंदू लोग ही ज्यादा ...
जवाब पढ़िये
भारत में अगर मुसलमानों की जनसंख्या देखे तो वह कहीं 18.2 पर्सेंट आती है पूरी पॉपुलेशन के अकॉर्डिंग और ज्यादातर लोग हैं भारत में सबसे ज्यादा परसेंटेज है भारत में वह हिंदुओं की है और हिंदू लोग ही ज्यादा मिलते हैं भारत में इसीलिए आप भारत को मुसलमानों का देश नहीं कहा जाता है और ऐसा नहीं है कि भारत को हिंदुओं का देश कहा जाता है क्योंकि अगर हम कॉन्स्टिट्यूशन में देखे तो भारत को ऐसा नेशन किसी भी जाति के हिसाब से या किसी भी धर्म के हिसाब से नहीं कहा गया है वह सिर्फ यह कहता है कि भारत एक सेकुलर देश है अनेक से क्यों ना नेशन है जिसमें जो इंसान जो भी धर्म फॉलो करना चाहता है वह आराम से कर सकता है उनको पूरी पूरी और फ्रीडम होती है किसी भी धर्म को मानने की और उसको फॉलो करने की इसीलिए भारत को ना तो मुसलमानों का देश कहा जाता है और ना ही हिंदुओं का देश कहा जाता है और बाकी जितनी भी और रिलीजियस माइनॉरिटी हमारे देश में चाहे वह क्रिश्चियन हो सिख हो जैन हो बुद्धिज्म हो तो उन सब को भी एक स्टेटस दिया गया मेरे देश में और किसी भी जाति को या किसी भी धर्म को भारत देश में नहीं ऐसे स्थापित किया गया है कि भारत को उसी धर्म जाति के नाम से जाना जाए इसीलिए भारत को मुस्लिमों का देश नहीं कहा जाता है और उसको सिर्फ एक से क्यों नेशन कहा जाता है जहां पर सभी जाति के लोग सभी धर्म के लोग एक साथ आराम से रह सकते हैं और कोई किसी को यह हक या फिर किसी के ऊपर फोर्स नहीं कर सकता किसी भी दूसरे धर्म को फॉलो करने के लिएBharat Mein Agar Musalmano Ki Jansankhya Dekhe To Wah Kahin 18.2 Percent Aati Hai Puri Population Ke According Aur Jyadatar Log Hain Bharat Mein Sabse Jyada Percentage Hai Bharat Mein Wah Hinduon Ki Hai Aur Hindu Log Hi Jyada Milte Hain Bharat Mein Isliye Aap Bharat Ko Musalmano Ka Desh Nahi Kaha Jata Hai Aur Aisa Nahi Hai Ki Bharat Ko Hinduon Ka Desh Kaha Jata Hai Kyonki Agar Hum Constitution Mein Dekhe To Bharat Ko Aisa Nation Kisi Bhi Jati Ke Hisab Se Ya Kisi Bhi Dharm Ke Hisab Se Nahi Kaha Gaya Hai Wah Sirf Yeh Kahata Hai Ki Bharat Ek Secular Desh Hai Anek Se Kyun Na Nation Hai Jisme Jo Insaan Jo Bhi Dharm Follow Karna Chahta Hai Wah Aaram Se Kar Sakta Hai Unko Puri Puri Aur Freedom Hoti Hai Kisi Bhi Dharm Ko Manane Ki Aur Usko Follow Karne Ki Isliye Bharat Ko Na To Musalmano Ka Desh Kaha Jata Hai Aur Na Hi Hinduon Ka Desh Kaha Jata Hai Aur Baki Jitni Bhi Aur Religious Minority Hamare Desh Mein Chahe Wah Krishchiyan Ho Sikh Ho Jain Ho Buddhism Ho To Un Sab Ko Bhi Ek Status Diya Gaya Mere Desh Mein Aur Kisi Bhi Jati Ko Ya Kisi Bhi Dharm Ko Bharat Desh Mein Nahi Aise Sthapit Kiya Gaya Hai Ki Bharat Ko Ussi Dharm Jati Ke Naam Se Jana Jaye Isliye Bharat Ko Muslimo Ka Desh Nahi Kaha Jata Hai Aur Usko Sirf Ek Se Kyun Nation Kaha Jata Hai Jahan Par Sabhi Jati Ke Log Sabhi Dharm Ke Log Ek Saath Aaram Se Rah Sakte Hain Aur Koi Kisi Ko Yeh Haq Ya Phir Kisi Ke Upar Force Nahi Kar Sakta Kisi Bhi Dusre Dharm Ko Follow Karne Ke Liye
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे लगता है कि भारत के लोग एक जो आसानी से कर देते हैं और वह समय लगता मास्टर हैं कि वह सड़क में कहीं भी कचरा फेंक देते हैं कहीं पर भी गंदा कर देते हैं जो कि दूसरे देशों में लोग आसानी से नहीं कर ...
जवाब पढ़िये
लेकिन मुझे लगता है कि भारत के लोग एक जो आसानी से कर देते हैं और वह समय लगता मास्टर हैं कि वह सड़क में कहीं भी कचरा फेंक देते हैं कहीं पर भी गंदा कर देते हैं जो कि दूसरे देशों में लोग आसानी से नहीं कर पाते मुझे लगता है कि कि अमेरिका और दुबई सऊदी जैसे जो कंट्री है लंदन जैसे वहां पर जो है सड़क को गंदा करना बना रहता है वहां पर जगह जगह डस्टबिन लगा रहता है लोगों को कूड़ा फेंकना रहता है तो या तो वह अपने अपने कार में रख लेते घर पहुंच कर डालते हैं नहीं तो उनको डस्टबिन में डाल देते हैं जो भारतीय लोगों के बारे में जाएंगे तो वहीं रूल को फॉलो करेंगे लेकिन इंडिया में आकर वह वापस जो है आपने असली हकदार में रहते हैं उस रोड को गंदा करना शुरू कर देते हैं रास्ते को बंद करना शुरू कर देते हो इतना पैसा नहीं है कि अगर वह जा रहे तो अपने बैग में रख ले डस्टबिन में जा कर फेंक दे नहीं तो गाड़ी में रखने डस्टबिन में जा कर फेंक देंगे इतना नहीं है मेरे को लगता है सरकार को भी ऐसा स्ट्रीट कानून नियम रखना चाहिए क्योंकि आजकल CCTV जगह-जगह पर लग रहे हैं अगर वह कैसा करते हैं पाया जाता है तो उसकी गाड़ी पर फाइन लगाया कुछ करें कुछ ऐसा मेरे को लगता है सरकार को नियम लाना चाहिए इसको कंट्रोल करने के लिए जैसे बाकी देशों में किया जा रहा हैLekin Mujhe Lagta Hai Ki Bharat Ke Log Ek Jo Aasani Se Kar Dete Hain Aur Wah Samay Lagta Master Hain Ki Wah Sadak Mein Kahin Bhi Kachra Fenk Dete Hain Kahin Par Bhi Ganda Kar Dete Hain Jo Ki Dusre Deshon Mein Log Aasani Se Nahi Kar Paate Mujhe Lagta Hai Ki Ki America Aur Dubai Saudi Jaise Jo Country Hai London Jaise Wahan Par Jo Hai Sadak Ko Ganda Karna Bana Rehta Hai Wahan Par Jagah Jagah Dustbin Laga Rehta Hai Logon Ko Kuda Phenkana Rehta Hai To Ya To Wah Apne Apne Car Mein Rakh Lete Ghar Pahunch Kar Daalte Hain Nahi To Unko Dustbin Mein Dal Dete Hain Jo Bharatiya Logon Ke Bare Mein Jaenge To Wahin Rule Ko Follow Karenge Lekin India Mein Aakar Wah Wapas Jo Hai Aapne Asli Haqdaar Mein Rehte Hain Us Road Ko Ganda Karna Shuru Kar Dete Hain Raste Ko Band Karna Shuru Kar Dete Ho Itna Paisa Nahi Hai Ki Agar Wah Ja Rahe To Apne Bag Mein Rakh Le Dustbin Mein Ja Kar Fenk De Nahi To Gaadi Mein Rakhne Dustbin Mein Ja Kar Fenk Denge Itna Nahi Hai Mere Ko Lagta Hai Sarkar Ko Bhi Aisa Street Kanoon Niyam Rakhna Chahiye Kyonki Aajkal CCTV Jagah Jagah Par Lag Rahe Hain Agar Wah Kaisa Karte Hain Paya Jata Hai To Uski Gaadi Par Fine Lagaya Kuch Karen Kuch Aisa Mere Ko Lagta Hai Sarkar Ko Niyam Lana Chahiye Isko Control Karne Ke Liye Jaise Baki Deshon Mein Kiya Ja Raha Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञान का क्वेश्चन है कि हमारे देश में शौचालय कहां करना यह भी हमको सरकार बताती है तो देश का क्या होगा तो देखिए ऐसी बात बिल्कुल भी नहीं है कि सरकार आपको बताती है सरकार से फिर भी बता दे कि आपको शौचालय ...
जवाब पढ़िये
विज्ञान का क्वेश्चन है कि हमारे देश में शौचालय कहां करना यह भी हमको सरकार बताती है तो देश का क्या होगा तो देखिए ऐसी बात बिल्कुल भी नहीं है कि सरकार आपको बताती है सरकार से फिर भी बता दे कि आपको शौचालय कहां नहीं करना है क्योंकि आज जो पुराना जो समय था उसमें यह था कि लोग खेतों में जाकर आशा करते थे या फिर जो है वह किसी बिल्डिंग के पास में करते थे तो यह सब झूठ है यह हमारे प्रदर पर पर्यावरण को दूषित ही करती है और यह बीमारियां फैल आती है तो इसी कारण सरकार ने स्ट्रिक्ट एक्शन शॉट आए हैं ऐसे टिप्स दिए हैं जिससे कि आज इस पर नियंत्रण पा सके और उसी के कारण जो है वह बीमारियां भी कम हुई हैVigyan Ka Question Hai Qi Hamare Desh Mein Shauchalaya Kahan Krna Yeh Bhi Humko Sarkar Batati Hai To Desh Ka Kya Hoga To Dekhiye Aisi Baat Bilkool Bhi Nahin Hai Qi Sarkar Aapko Batati Hai Sarkar Se Phir Bhi Bata They Qi Aapko Shauchalaya Kahan Nahin Krna Hai Kyonki Aj Joe Purana Joe Samay Thaa Usme Yeh Thaa Qi Log Kheto Mein Jaakar Asha Karte The Ya Phir Joe Hai Wah Kisi Building K Pass Mein Karte The To Yeh Sub Jhuth Hai Yeh Hamare Pradar Per Paryavaran Co Dushit Hea Karti Hai Aur Yeh Bimariyan Fail Auti Hai To Isi Karan Sarkar Ne Strict Action Shot Ae Hain Aise Tips Die Hain Jisase Qi Aj Is Per Niyatran PA Skye Aur Ussi K Karan Joe Hai Wah Bimariyan Bhi Come Hue Hai
Likes  30  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BP मुझे ऐसा लगता है कि हमारे देश में जातिवाद बहुत फैला हुआ है और एक दम से तो यह खत्म हो ही नहीं सकता क्योंकि यह बहुत सालों से चला आ रहा है यह चीज इसे कम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं मेरे साथ से 12 ...
जवाब पढ़िये
BP मुझे ऐसा लगता है कि हमारे देश में जातिवाद बहुत फैला हुआ है और एक दम से तो यह खत्म हो ही नहीं सकता क्योंकि यह बहुत सालों से चला आ रहा है यह चीज इसे कम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं मेरे साथ से 12 की स्कूलों में जो यह का सितम पढ़ाया जाता है यानी कि क्षत्रियों ने यह कहा फिजाओं ने यह किया इन्होंने यह क्या ब्राह्मणों ने क्या यह सब बंद करना चाहिए क्योंकि आप बचपन से अगर किसी के मन में यह चीजें डाल दी जाती है कि वह किस जाति के हैं तो जातिवाद तो फिर पहले का ही दूसरा यह आरक्षण सिस्टम है ना इसे खत्म कर देना चाहिए मिली जाति का जो लोगों को फायदा या नुकसान होता है वह यह रिजर्वेशन नहीं होता है जो और कुछ मिल जाता है कुछ जाते हैं तो फिर उसकी भी जाने वाले हैं वह रिजर्वेशन वालों से नफरत करना शुरू हो जाता क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि हमें मौका नहीं मिल पाता Jodi जॉब करता है तो और यह ऐसा करने से चढ़ जाती बहुत कम होता है धीरे-धीरे कम जरूर हो जाएगा ऐसा करBP Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Hamare Desh Mein Jaatiwad Bahut Faila Hua Hai Aur Ek Dum Se To Yeh Khatam Ho Hi Nahi Sakta Kyonki Yeh Bahut Salon Se Chala Aa Raha Hai Yeh Cheez Ise Kum Karne Ke Liye Hum Kya Kar Sakte Hain Mere Saath Se 12 Ki Schoolon Mein Jo Yeh Ka Ssitam Padhaya Jata Hai Yani Ki Kshtriyo Ne Yeh Kaha Fijaon Ne Yeh Kiya Inhone Yeh Kya Brahmanon Ne Kya Yeh Sab Band Karna Chahiye Kyonki Aap Bachpan Se Agar Kisi Ke Man Mein Yeh Cheezen Dal Di Jati Hai Ki Wah Kis Jati Ke Hain To Jaatiwad To Phir Pehle Ka Hi Doosra Yeh Aarakshan System Hai Na Ise Khatam Kar Dena Chahiye Mili Jati Ka Jo Logon Ko Fayda Ya Nuksan Hota Hai Wah Yeh Reservation Nahi Hota Hai Jo Aur Kuch Mil Jata Hai Kuch Jaate Hain To Phir Uski Bhi Jaane Wale Hain Wah Reservation Walon Se Nafrat Karna Shuru Ho Jata Kyonki Kai Baar Aisa Hota Hai Ki Hume Mauka Nahi Mil Pata Jodi Job Karta Hai To Aur Yeh Aisa Karne Se Chadh Jati Bahut Kum Hota Hai Dhire Dhire Kum Jarur Ho Jayega Aisa Kar
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाल में ही श्रीलंका में महिलाओं के शराब खरीदने पर प्रतिबंध हटाया गया है श्रीलंका में लगे दशकों पुराने प्रतिबंध को हटा दिया गया है जिसमें महिलाओं द्वारा कानूनी तौर पर देश में शराब खरीदने पर प्रतिबंध था...
जवाब पढ़िये
हाल में ही श्रीलंका में महिलाओं के शराब खरीदने पर प्रतिबंध हटाया गया है श्रीलंका में लगे दशकों पुराने प्रतिबंध को हटा दिया गया है जिसमें महिलाओं द्वारा कानूनी तौर पर देश में शराब खरीदने पर प्रतिबंध थाHaal Mein Hi Sri Lanka Mein Mahilaon Ke Sharab Kharidne Par Pratibandh Hataya Gaya Hai Sri Lanka Mein Lage Dashakon Purane Pratibandh Ko Hata Diya Gaya Hai Jisme Mahilaon Dwara Kanooni Taur Par Desh Mein Sharab Kharidne Par Pratibandh Tha
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारा देश कर्म प्रधान है यह सब बातें अच्छी लगती थी लाल बहादुर शास्त्री कैसे लोग बातें करते थे तब समझ में आती थी लेकिन आज के समय में अगर वह जिंदा होते तो शर्म से डूब जाते कि उन्होंने ऐसे देश को आजाद कर...
जवाब पढ़िये
हमारा देश कर्म प्रधान है यह सब बातें अच्छी लगती थी लाल बहादुर शास्त्री कैसे लोग बातें करते थे तब समझ में आती थी लेकिन आज के समय में अगर वह जिंदा होते तो शर्म से डूब जाते कि उन्होंने ऐसे देश को आजाद कराया ऐसी राजनीति से अपने देश को आजाद कराने की बात करें तो वहां पर हर एक धर्म जाति के लोग मिलकर करते थे मिलकर अपने देश की आजादी के लिए लड़ते हैं और जाति वर्ग इन सब की स्थिति कपूर जाति धर्म वाला चाहिए यह सब बातों को पीछे कितना भी विरोध करें लेकिन उस समय सनातन धर्म जाति के नाम पर लोगों की लड़ाई शुरू होने की बातों में नहीं आना हैHamara Desh Karm Pradhan Hai Yeh Sab Batein Acchi Lagti Thi Lal Bahadur Shastri Kaise Log Batein Karte The Tab Samajh Mein Aati Thi Lekin Aaj Ke Samay Mein Agar Wah Zinda Hote To Sharm Se Doob Jaate Ki Unhone Aise Desh Ko Azad Karaya Aisi Rajneeti Se Apne Desh Ko Azad Karane Ki Baat Karen To Wahan Par Har Ek Dharm Jati Ke Log Milkar Karte The Milkar Apne Desh Ki Azadi Ke Liye Ladtey Hain Aur Jati Varg In Sab Ki Sthiti Kapur Jati Dharm Wala Chahiye Yeh Sab Baaton Ko Piche Kitna Bhi Virodh Karen Lekin Us Samay Sanatan Dharm Jati Ke Naam Par Logon Ki Ladai Shuru Hone Ki Baaton Mein Nahi Aana Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी की कोई भी देश को बर्बाद होना है अभी कसक बात पर जाना है तो मुझे हिसाब से होने समय लगता है वह चाहे कोई भी देश हो जाए भारत और अमेरिका हो कोई भी देश है रातों-रात चेहरे को विकसित नहीं हो जाता है इस प्...
जवाब पढ़िये
मोदी की कोई भी देश को बर्बाद होना है अभी कसक बात पर जाना है तो मुझे हिसाब से होने समय लगता है वह चाहे कोई भी देश हो जाए भारत और अमेरिका हो कोई भी देश है रातों-रात चेहरे को विकसित नहीं हो जाता है इस प्रकार से हमारा देश अब चल रहा है तो उसे ऐसा लग रहा है कि हमारा देश विकास हो रहा है कि कि जिस प्रकार से भाजपा की सरकार जो है नहीं नहीं नीचे आ जा रही है जिस प्रकार से नए नए डेवलपमेंट हो रहे हैं जीडीपी में पड़ाव दिख रहा है सरकार जो है बेरोजगारी की तरह बहुत शक्ति से देख रही है बेरोजगारी कम हो रही है जीएसटी लाया गया है और बेरोजगारी कम हो रही है स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट जो है या फिर ऐसे कई सारे प्रोजेक्ट जो है वह लॉन्च होते आ रहे हैं और जिस प्रकार से सरकार काम कर रहे तो ऐसा लग रहा है कि हमारा देश विकास हो जाएगा परंतु उसे थोड़ा समय देना पड़ेगा थोड़े समय के बाद ही हमारा देश विकसित होगा जनता को इस बात की तो डिप्रेशन से तेरे रखनी होगीModi Ki Koi Bhi Desh Ko Barbad Hona Hai Abhi Kasak Baat Par Jana Hai To Mujhe Hisab Se Hone Samay Lagta Hai Wah Chahe Koi Bhi Desh Ho Jaye Bharat Aur America Ho Koi Bhi Desh Hai Raatoon Raat Chehrey Ko Viksit Nahi Ho Jata Hai Is Prakar Se Hamara Desh Ab Chal Raha Hai To Use Aisa Lag Raha Hai Ki Hamara Desh Vikash Ho Raha Hai Ki Ki Jis Prakar Se Bhajpa Ki Sarkar Jo Hai Nahi Nahi Neeche Aa Ja Rahi Hai Jis Prakar Se Naye Naye Development Ho Rahe Hain Gdp Mein Padav Dikh Raha Hai Sarkar Jo Hai Berojgari Ki Tarah Bahut Shakti Se Dekh Rahi Hai Berojgari Kum Ho Rahi Hai Gst Laya Gaya Hai Aur Berojgari Kum Ho Rahi Hai Smart City Project Jo Hai Ya Phir Aise Kai Sare Project Jo Hai Wah Launch Hote Aa Rahe Hain Aur Jis Prakar Se Sarkar Kaam Kar Rahe To Aisa Lag Raha Hai Ki Hamara Desh Vikash Ho Jayega Parantu Use Thoda Samay Dena Padega Thode Samay Ke Baad Hi Hamara Desh Viksit Hoga Janta Ko Is Baat Ki To Depression Se Tere Rakhni Hogi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सऊदी अरब विश्व का पहला ऐसा देश है जिसने रोबोट को नागरिकता प्रदान की है और उस रोबोट का नाम सोफिया है...
जवाब पढ़िये
सऊदी अरब विश्व का पहला ऐसा देश है जिसने रोबोट को नागरिकता प्रदान की है और उस रोबोट का नाम सोफिया हैSaudi Arab Vishwa Ka Pehla Aisa Desh Hai Jisne Robot Ko Nagarikta Pradan Ki Hai Aur Us Robot Ka Naam Sofia Hai
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें ऐसा जरूर नहीं है कि हमारे जो भी देश में है जितनी भी भाजपा पार्टी है वह जातिवाद करती है पर यह है कि जैसा वह अपना कार्य करती है जो कभी कभी जो लोग अपना शब्द उपयोग करते हैं वह बहुत बार डिस्क्रिमिनेश...
जवाब पढ़िये
देखें ऐसा जरूर नहीं है कि हमारे जो भी देश में है जितनी भी भाजपा पार्टी है वह जातिवाद करती है पर यह है कि जैसा वह अपना कार्य करती है जो कभी कभी जो लोग अपना शब्द उपयोग करते हैं वह बहुत बार डिस्क्रिमिनेशन यह जातिवाद के इस हिस्से में आ जाता है वह अगर वह दो उंगली करते हैं अन्नोयिंग वह तो हम जरुर से बोल नहीं सकते पर हम बहुत सारे कोई कोई तो पार्टी है जो जानबूझ कर जैसे रिलीज इस मैसेज के ऊपर लेते हैं या कास्ट के ऊपर लेते हैं और उन पर जो अपने पसंदीदा रिलीज किया कास्ट के के को ही काम करते हैंDekhen Aisa Jarur Nahi Hai Ki Hamare Jo Bhi Desh Mein Hai Jitni Bhi Bhajpa Party Hai Wah Jaatiwad Karti Hai Par Yeh Hai Ki Jaisa Wah Apna Karya Karti Hai Jo Kabhi Kabhi Jo Log Apna Shabdh Upyog Karte Hain Wah Bahut Baar Discrimination Yeh Jaatiwad Ke Is Hisse Mein Aa Jata Hai Wah Agar Wah Do Ungali Karte Hain Annoying Wah To Hum Zaroor Se Bol Nahi Sakte Par Hum Bahut Sare Koi Koi To Party Hai Jo Janbujh Kar Jaise Release Is Massage Ke Upar Lete Hain Ya Caste Ke Upar Lete Hain Aur Un Par Jo Apne Pasandida Release Kiya Caste Ke Ke Ko Hi Kaam Karte Hain
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Nayak फिल्म में अनिल कपूर ने एक ऐसे व्यक्ति का किरदार निभाया है जो बस 1 दिन के लिए राज्य का मुख्यमंत्री बनता है और पूरी कोशिश करता है कि उसको जो 24 घंटे मिले हैं उसका सही तरीके से इस्तेमाल करके वह पूर...
जवाब पढ़िये
Nayak फिल्म में अनिल कपूर ने एक ऐसे व्यक्ति का किरदार निभाया है जो बस 1 दिन के लिए राज्य का मुख्यमंत्री बनता है और पूरी कोशिश करता है कि उसको जो 24 घंटे मिले हैं उसका सही तरीके से इस्तेमाल करके वह पूरे राज्य से करप्शन को हटा दे जो गुंडे मवाली हैं उन्हें जेल पहुंचा दें और जो अधिकारी सही तरीके से काम नहीं कर रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए और उन्हें सस्पेंड किया जाए तो इस तरह का रियल लाइफ में तो पॉसिबल नहीं है लेकिन उसमें उस फिल्म के माध्यम से लोगों को यही बताने की कोशिश की गई है कि अगर कोई व्यक्ति चाहे तो राजनीति में आकर सही तरीके से ईमानदारी से अपने काम को कर सकता है और समाज को आगे लेकर जा सकता है क्योंकि आज की राजनीति इस प्रकार की हो गई है जहां पर ज्यादा से ज्यादा जो नेता है वह भ्रष्ट है करप्ट है और वह अपना काम सही तरीके से नहीं करते हैं और जनता को जो जो सुविधाएं मिलनी चाहिए वह उन्हें नहीं मिल पाती है इन भ्रष्ट नेताओं की वजह से तो अगर नायक मूवी के समान ही कोई राजनेता हमारे देश में प्रधानमंत्री बनता है तो बिल्कुल हमारे देश में जल्द से जल्द ही जो भी परेशानियां है उसे दूर किया जा सकता है लेकिन आज के समय में ऐसा व्यक्ति मिलना काफी मुश्किल होगा जो अपने काम को बिल्कुल इमानदारी से करें और जनता की भलाई के लिए सारे प्रयास करें और हम देखते हैं कि आज जो भी नेता बनते हैं सांसद बनते हैं वह सबसे पहले खुद की भलाई करने में लगे रहते हैं बहुत सारे नेता जो हैं वह करोड़पति अरबपति हैं और हमारे देश की जो जनता है वह गरीब है तो इसीलिए नायक फिल्म की तरह जैसे कि अनिल कपूर ने काम किया वैसा हमारे देश का अगर कोई प्रधानमंत्री बनता है तो बिल्कुल जल्द से जल्द हमारा जो देश है वह एक विकसित देश बन पाएगा और यहां पर गरीबी भुखमरी और बेरोजगारी की जो समस्याएं हैं भ्रष्टाचार की जो समस्याएं हैं वह जल्दी दूर हो जाएंगेNayak Film Mein Anil Kapur Ne Ek Aise Vyakti Ka Kirdaar Nibhaya Hai Jo Bus 1 Din Ke Liye Rajya Ka Mukhyamantri Banta Hai Aur Puri Koshish Karta Hai Ki Usko Jo 24 Ghante Mile Hain Uska Sahi Tarike Se Istemal Karke Wah Poore Rajya Se Corruption Ko Hata De Jo Gunde Mavalli Hain Unhen Jail Pahuncha Dein Aur Jo Adhikari Sahi Tarike Se Kaam Nahi Kar Rahe Hain Unke Khilaf Karyawahi Ki Jaye Aur Unhen Suspend Kiya Jaye To Is Tarah Ka Real Life Mein To Possible Nahi Hai Lekin Usamen Us Film Ke Maadhyam Se Logon Ko Yahi Batane Ki Koshish Ki Gayi Hai Ki Agar Koi Vyakti Chahe To Rajneeti Mein Aakar Sahi Tarike Se Imaandaari Se Apne Kaam Ko Kar Sakta Hai Aur Samaaj Ko Aage Lekar Ja Sakta Hai Kyonki Aaj Ki Rajneeti Is Prakar Ki Ho Gayi Hai Jahan Par Jyada Se Jyada Jo Neta Hai Wah Bhrasht Hai Corrupt Hai Aur Wah Apna Kaam Sahi Tarike Se Nahi Karte Hain Aur Janta Ko Jo Jo Suvidhayen Milani Chahiye Wah Unhen Nahi Mil Pati Hai In Bhrasht Netaon Ki Wajah Se To Agar Nayak Movie Ke Saman Hi Koi Rajneta Hamare Desh Mein Pradhanmantri Banta Hai To Bilkul Hamare Desh Mein Jald Se Jald Hi Jo Bhi Pareshaniyan Hai Use Dur Kiya Ja Sakta Hai Lekin Aaj Ke Samay Mein Aisa Vyakti Milna Kafi Mushkil Hoga Jo Apne Kaam Ko Bilkul Imaandari Se Karen Aur Janta Ki Bhalai Ke Liye Sare Prayas Karen Aur Hum Dekhte Hain Ki Aaj Jo Bhi Neta Bante Hain Saansad Bante Hain Wah Sabse Pehle Khud Ki Bhalai Karne Mein Lage Rehte Hain Bahut Sare Neta Jo Hain Wah Crorepati Arabpati Hain Aur Hamare Desh Ki Jo Janta Hai Wah Garib Hai To Isliye Nayak Film Ki Tarah Jaise Ki Anil Kapur Ne Kaam Kiya Waisa Hamare Desh Ka Agar Koi Pradhanmantri Banta Hai To Bilkul Jald Se Jald Hamara Jo Desh Hai Wah Ek Viksit Desh Ban Payega Aur Yahan Par Garibi Bhukhmari Aur Berojgari Ki Jo Samasyaen Hain Bhrashtachar Ki Jo Samasyaen Hain Wah Jaldi Dur Ho Jaenge
Likes  17  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिलकुल खतरा है इस दुनिया से बढ़ती जा रही है तूने में बहुत सारे देश है जहां कॉस्मोपॉलिटन संस्कृति का बोल बाला है सभी जाति धर्म के लोग आपसे सद्भाव के साथ में जुड़ता जीवन का आनंद उठाती है यही बात...
जवाब पढ़िये
जी हां बिलकुल खतरा है इस दुनिया से बढ़ती जा रही है तूने में बहुत सारे देश है जहां कॉस्मोपॉलिटन संस्कृति का बोल बाला है सभी जाति धर्म के लोग आपसे सद्भाव के साथ में जुड़ता जीवन का आनंद उठाती है यही बात देश की एकता की मिसाल भेदभाव विचारधारा को दिया जाने लगे तो नफरत और भेदभाव को बढ़ावा मिलेगा एकता और अखंडता पर अब किस मुद्दे पर आकर भारत की बात की जाए तो हमारा देश हमेशा से विभिन्नता वाला देश रहा है और यही बात हमारे देश की पहचान और सम्मान है लेकिन नरेंद्र मोदी की सरकार ब के बाद पिछले कुछ सालों से हमारे देश में दक्षिणपंथी ताकतों का बोलबाला पड़ता है दरअसल RSS के दिग्गज विचारक गोलवलकर सावरकर से लेकर मोहन भागवत तक के लिए हिंदू 10 नहीं भारतीय और RSS की गर्भ से निकली है भाजपा इसलिए हिंदी में भारत में हिंदू को हिंदू राष्ट्र बनाने का अभियान चला हुआ है भेदभाव असहमति असहिष्णुता का बोलबाला पड़ गया उसको दलितों और आदिवासियों के खिलाफ हिंसा हो रही है जाहिर है या स्थिति हमारे देश की एकता और अखंडता के लिए खतरे की घंटी हैJi Haan Bilkul Khatra Hai Is Duniya Se Badhti Ja Rahi Hai Tune Mein Bahut Sare Desh Hai Jahan Cosmopolitan Sanskriti Ka Bol Bala Hai Sabhi Jati Dharm Ke Log Aapse Sadbhav Ke Saath Mein Judta Jeevan Ka Anand Uthaati Hai Yahi Baat Desh Ki Ekta Ki Misal Bhedbhav Vichardhara Ko Diya Jaane Lage To Nafrat Aur Bhedbhav Ko Badhawa Milega Ekta Aur Akhandata Par Ab Kis Mudde Par Aakar Bharat Ki Baat Ki Jaye To Hamara Desh Hamesha Se Vibhinnata Wala Desh Raha Hai Aur Yahi Baat Hamare Desh Ki Pehchaan Aur Samman Hai Lekin Narendra Modi Ki Sarkar B Ke Baad Pichle Kuch Salon Se Hamare Desh Mein Dakshinapanthi Takaton Ka Bolabaala Padata Hai Darasal RSS Ke Diggaj Vicharak Golavalakar Savarkar Se Lekar Mohan Bhagwat Tak Ke Liye Hindu 10 Nahi Bhartiya Aur RSS Ki Garbh Se Nikli Hai Bhajpa Isliye Hindi Mein Bharat Mein Hindu Ko Hindu Rashtra Banane Ka Abhiyan Chala Hua Hai Bhedbhav Asahamati Asahishnuta Ka Bolabaala Padh Gaya Usko Dalito Aur Aadivaasiyo Ke Khilaf Hinsa Ho Rahi Hai Jaahir Hai Ya Sthiti Hamare Desh Ki Ekta Aur Akhandata Ke Liye Khatre Ki Ghanti Hai
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भारत को फुरसत मिलेगी आपस में दंगे कराने की आपस में राजनीतिक लाभ उठाने की अपनी-अपनी इन नेताओं को जेब बनेगी जब फुरसत मिलेगी उसके बाद ही तो विकसित हो सकेगा ऐसे कैसे विकसित विकसित होने के लिए महा की हु...
जवाब पढ़िये
जब भारत को फुरसत मिलेगी आपस में दंगे कराने की आपस में राजनीतिक लाभ उठाने की अपनी-अपनी इन नेताओं को जेब बनेगी जब फुरसत मिलेगी उसके बाद ही तो विकसित हो सकेगा ऐसे कैसे विकसित विकसित होने के लिए महा की हुकूमत को ईमानदार होना बहुत जरूरी है और अगर हुकूमत चोर है तो जनता से क्या अपेक्षा की जाएगी की जनता तो उससे ज्यादा करके दिखाती है कि अगर किसी मुल्क को विकसित होना है डेवलप्ड होना है जुदाई की बातें बना की हुकूमत को सच्चाई का रास्ता पकड़ना पड़ेगा रिश्वतखोरी बेईमानी धर्मनिरपेक्ष ताकतों का जो बोल बाला है उनको खत्म होना पड़ेगा तभी तो फिर जनता भी इमानदारी से काम करेगी और देश विकसित हो सकेगा
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नैटो एक प्रकार का सैनिक संगठन है जिसकी शुरुआत 17 मार्च 1948 में हुए ब्लू जींस की संधि से माना जाता है यह संदीप बेल्जियम नीदरलैंड ब्रिटेन फ्रांस लक्जमबर्ग के बीच हुई पर सोवियत रूस की सैनिक शक्ति से मुक...
जवाब पढ़िये
नैटो एक प्रकार का सैनिक संगठन है जिसकी शुरुआत 17 मार्च 1948 में हुए ब्लू जींस की संधि से माना जाता है यह संदीप बेल्जियम नीदरलैंड ब्रिटेन फ्रांस लक्जमबर्ग के बीच हुई पर सोवियत रूस की सैनिक शक्ति से मुकाबला करने के लिए इसमें अमेरिका का शामिल होना काफी जरूरी माना जा रहा था इसी वजह से अमेरिका के साथ काफी वार्ता कीगई इसके बाद एक नई पार्टी का जन्म हुआ जिस पर 4 अप्रैल 1949 को वाशिंगटन डीसी में हस्ताक्षर की स्मृति में बृजेश संधि के पांचवें बेल्जियम नीदरलैंड ब्रिटेन फ्रांस लग्जमबर्ग के अलावे अमेरिका पुर्तगाल नॉर्वे इटली कैनेडा डेनमार्क आइसलैंड ने भी हस्ताक्षर किया और यह Pro जलसंधि एक नए नाम नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी यानी की मिट्टी के नाम से जानी गई तू अभी आप फिलहाल ने टोमेटो 19 देश है और इसका मुख्यालय ब्रूसेल्स में हैNaito Ek Prakar Ka Sainik Sangathan Hai Jiski Shuruvat 17 March 1948 Mein Hue Blue Jeans Ki Sandhi Se Mana Jata Hai Yeh Sandeep Belgium Netherlands Britain France Lakjamabarg Ke Beech Hui Par Soviet Rus Ki Sainik Shakti Se Muqabla Karne Ke Liye Isme America Ka Shamil Hona Kafi Zaroori Mana Ja Raha Tha Isi Wajah Se America Ke Saath Kafi Varta Kigai Iske Baad Ek Nayi Party Ka Janm Hua Jis Par 4 April 1949 Ko Washington Dc Mein Hastakshar Ki Smruti Mein Brijesh Sandhi Ke Panchwe Belgium Netherlands Britain France Lagjamabarg Ke Alave America Portugal Norway Italy Canada Denmark Iceland Ne Bhi Hastakshar Kiya Aur Yeh Pro Jalasandhi Ek Naye Naam North Atlantic Treaty Yani Ki Mitti Ke Naam Se Jani Gayi Tu Abhi Aap Filhal Ne Tomato 19 Desh Hai Aur Iska Mukhyalay Brusels Mein Hai
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में राष्ट्रपति शासन लागू नहीं होना चाहिए और राष्ट्रपति शासन लागू होने की कोई आवश्यकता भी नहीं है कि ऐसी परिस्थिति नहीं रखी राष्ट्रपति शासन तब लगता है जब हालात बहुत ज्यादा हद से काबू से निकलक...
जवाब पढ़िये
हमारे देश में राष्ट्रपति शासन लागू नहीं होना चाहिए और राष्ट्रपति शासन लागू होने की कोई आवश्यकता भी नहीं है कि ऐसी परिस्थिति नहीं रखी राष्ट्रपति शासन तब लगता है जब हालात बहुत ज्यादा हद से काबू से निकलकर फाइनली को इमरजेंसी हो तो इस तरीके के तमाम तरीकों में जो है सदियों में लगता है हमारे कॉन्स्टिट्यूशन में डिफाइंड राष्ट्रपति शासन लगना जो है वह चीजों का हल नहीं हो सकता क्योंकि जब राष्ट्रपति शासन लगेगा तो जाहिर तौर पर राष्ट्रपति नहीं चलाएंगे वह सही है चीजों को रोल करने कि आप इमेजिन करके चलिए जब हर राज हर शहर हर जिले में कोई रूल करने वाला ऑलरेडी है उसके बावजूद यदि नहीं चल पा रहा है देश तो कैसे राष्ट्रपति शासन एक जना देश को चला सकता है यहां पर जरूरत है हमने ही समझदार होने की क्या मैं ऐसे लोगों को चुनकर ना भेजे उनके लुभावने वादों में ना आए उनकी केवल बातों में बह कि ना करें अच्छे दिन के बातों में यकीन ना करें कि वह हमें 4 साल 5 साल में चल सके और हमारे संग जो है अन्याय कर सके तो यहां पर जरूरत आप को समझदार होने की है कि ऐसे जनों को चुनें जो ईमानदार हो जरूरत है आरक्षण का विरोध करने की जरूरत है भ्रष्टाचार का विरोध करने की जरूरत है ऐसी रेप की घटनाएं होने से पहले इनका विरोध करने की बजाय की रेप होने के बाद जो है वह दो-तीन दिन तक शोर शराबा करके बाद में चुप हो जाने की यह सब स्थिति हमारे देश में है कि रेप होता है 1 महीने तक शोर मचाता है कि अब ऐसी हो गई उसके बाद तमाम रेप दिन भर में होते हैं जिनमें से 12 के सवर के आते हैं बाकी ऐसी दब जाते हैं तो जरूरत है कि अपने लेवल पर हमें यहां पर कुछ काम करना है बजाएं की सरकार पर भरोसा करने के इस सरकार तो आप किसी को चुन लीजिए वह केवल रोटियां सीख रही है अपनी पैसा कमा रही है जेब में बढ़ रही है नेता का माप के लिए कोई नहीं करेगाHamare Desh Mein Rashtrapati Shasan Laagu Nahi Hona Chahiye Aur Rashtrapati Shasan Laagu Hone Ki Koi Avashyakta Bhi Nahi Hai Ki Aisi Paristhiti Nahi Rakhi Rashtrapati Shasan Tab Lagta Hai Jab Halaat Bahut Jyada Had Se Kabu Se Nikalkar Finally Ko Emergency Ho To Is Tarike Ke Tamam Trikon Mein Jo Hai Sadiyon Mein Lagta Hai Hamare Constitution Mein Defined Rashtrapati Shasan Lagna Jo Hai Wah Chijon Ka Hal Nahi Ho Sakta Kyonki Jab Rashtrapati Shasan Lagega To Jaahir Taur Par Rashtrapati Nahi Chalaenge Wah Sahi Hai Chijon Ko Roll Karne Ki Aap Imejin Karke Chaliye Jab Har Raj Har Sheher Har Jile Mein Koi Rule Karne Wala Already Hai Uske Bawajud Yadi Nahi Chal Pa Raha Hai Desh To Kaise Rashtrapati Shasan Ek Jana Desh Ko Chala Sakta Hai Yahan Par Zaroorat Hai Humne Hi Samajhdar Hone Ki Kya Main Aise Logon Ko Chunkar Na Bheje Unke Lubhavane Vaado Mein Na Aaye Unki Kewal Baaton Mein Buh Ki Na Karen Acche Din Ke Baaton Mein Yakin Na Karen Ki Wah Hume 4 Saal 5 Saal Mein Chal Sake Aur Hamare Sang Jo Hai Anyay Kar Sake To Yahan Par Zaroorat Aap Ko Samajhdar Hone Ki Hai Ki Aise Jano Ko Chunein Jo Imandar Ho Zaroorat Hai Aarakshan Ka Virodh Karne Ki Zaroorat Hai Bhrashtachar Ka Virodh Karne Ki Zaroorat Hai Aisi Rape Ki Ghatnaye Hone Se Pehle Inka Virodh Karne Ki Bajay Ki Rape Hone Ke Baad Jo Hai Wah Do Teen Din Tak Shor Sharaba Karke Baad Mein Chup Ho Jaane Ki Yeh Sab Sthiti Hamare Desh Mein Hai Ki Rape Hota Hai 1 Mahine Tak Shor Machata Hai Ki Ab Aisi Ho Gayi Uske Baad Tamam Rape Din Bhar Mein Hote Hain Jinmein Se 12 Ke Savara Ke Aate Hain Baki Aisi Dab Jaate Hain To Zaroorat Hai Ki Apne Level Par Hume Yahan Par Kuch Kaam Karna Hai Bajaen Ki Sarkar Par Bharosa Karne Ke Is Sarkar To Aap Kisi Ko Chun Lijiye Wah Kewal Rotiyan Seekh Rahi Hai Apni Paisa Kama Rahi Hai Jeb Mein Badh Rahi Hai Neta Ka Map Ke Liye Koi Nahi Karega
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो राजनीतिक पांडव यह सब का अलग अलग तरह से ठीक हो सकता है कि नरेंद्र मोदी देश के अच्छे हैं बुरे हैं सब कुछ लोगों को अच्छे लगते हैं कुछ लोगों को बुरे लगते तो मेरे हिसाब से जो है नरेंद्र मोदी देश के ल...
जवाब पढ़िये
यह तो राजनीतिक पांडव यह सब का अलग अलग तरह से ठीक हो सकता है कि नरेंद्र मोदी देश के अच्छे हैं बुरे हैं सब कुछ लोगों को अच्छे लगते हैं कुछ लोगों को बुरे लगते तो मेरे हिसाब से जो है नरेंद्र मोदी देश के लिए अच्छे हैं मेरे दूर इतने भी बुरे नहीं है बाकी पिछली सरकार से तो बिल्कुल अच्छे हैं क्योंकि 7 साल में पिछली सरकार ने किया आप किसी से देख ले कि जो चाइना है वह हमारे देश से 3 साल बाद आजाद हुआ 1920 मिथुन चाइना कहां है और हमारा देश कहां है तो इस हिसाब सोच ले कि हमारा देश जो है वह कितनी तेजी से तरक्की कर सकता था और कितनी तेजी से उसने की है तो पिछली सरकार से तो बिल्कुल जो है नरेंद्र मोदी अच्छे हैंYeh To Raajnetik Pandav Yeh Sub Ka Eluga Eluga Turha Se Thik Ho Sakta Hai Qi Narendra Modi Desh K Achchhe Hain Bure Hain Sub Kuch Logon Co Achchhe Lagate Hain Kuch Logon Co Bure Lagate To Mere Hisaab Se Joe Hai Narendra Modi Desh K Lie Achchhe Hain Mere Dur Itne Bhi Bure Nahin Hai Baaki Pichli Sarkar Se To Bilkool Achchhe Hain Kyonki 7 Saul Mein Pichli Sarkar Ne Kiya Aap Kisi Se Dekh Le Qi Joe China Hai Wah Hamare Desh Se 3 Saul Baad Ajad Hua 1920 Mithun China Kahan Hai Aur Hamara Desh Kahan Hai To Is Hisaab Soch Le Qi Hamara Desh Joe Hai Wah Kitni Teji Se Tarkkee Car Sakta Thaa Aur Kitni Teji Se Usne Ki Hai To Pichli Sarkar Se To Bilkool Joe Hai Narendra Modi Achchhe Hain
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
हमारे पूरे देश में एकता जरूर हो सकती हैं अगर यहां के लोग थोड़ा सा संयम बरतें और भड़काऊ भाषणों के चक्कर में ना पड़ें क्योंकि कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि जो नेता है वह अपने फायदे के लिए इस तरह का बयान देते हैं जिससे दो धर्मों के बीच में विवाद पैदा हो जाता है और कई युवा ऐसे हैं जो बिना सोचे समझे बस नेताओं की बातों में आ जाते हैं और दूसरे धर्म के लोगों के साथ मारपीट करते हैं हाल के दिनों में इस तरह की घटनाएं काफी बढ़ गई है और उत्तर प्रदेश में हमने देखा कि किस तरह से दो धर्मों के लोगों के बीच में दंगे फसाद हुए तो अगर हमें पूरे देश में एकता स्थापित करनी है तो उसके लिए हमें खुद का दिमाग इस्तेमाल करने की जरूरत है और दूसरे लोगों की बातों में आना नहीं चाहिए हमें क्योंकि अगर हम दूसरे धर्म के लोगों के साथ मारपीट करेंगे तो कभी भी हमारे देश में एकता नहीं आ पाएगी हमारा देश एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है यानि कि सभी धर्मों को बराबर समझा गया है और सभी धर्म के लोग मिल जुल कर रहते हैं तो हमें इस बात पर ध्यान देने की आवश्यकता है कि हम अपने देश को कैसे मजबूत बनाएं और उसके लिए यही जरूरी है कि आपस में हम सारे लोग मिलजुल कर रहे तभी हमारे देश में एकता आ पाएगीHamare Poore Desh Mein Ekta Jarur Ho Sakti Hain Agar Yahan Ke Log Thoda Sa Sanyam Baratain Aur Bhadkau Bhashano Ke Chakkar Mein Na Paden Kyonki Kai Baar Aisa Dekhne Ko Milta Hai Ki Jo Neta Hai Wah Apne Fayde Ke Liye Is Tarah Ka Bayan Dete Hain Jisse Do Dharmon Ke Beech Mein Vivad Paida Ho Jata Hai Aur Kai Yuva Aise Hain Jo Bina Soche Samjhe Bus Netaon Ki Baaton Mein Aa Jaate Hain Aur Dusre Dharm Ke Logon Ke Saath Marapit Karte Hain Haal Ke Dinon Mein Is Tarah Ki Ghatnaye Kafi Badh Gayi Hai Aur Uttar Pradesh Mein Humne Dekha Ki Kis Tarah Se Do Dharmon Ke Logon Ke Beech Mein Denge Fasad Hue To Agar Hume Poore Desh Mein Ekta Sthapit Karni Hai To Uske Liye Hume Khud Ka Dimag Istemal Karne Ki Zaroorat Hai Aur Dusre Logon Ki Baaton Mein Aana Nahi Chahiye Hume Kyonki Agar Hum Dusre Dharm Ke Logon Ke Saath Marapit Karenge To Kabhi Bhi Hamare Desh Mein Ekta Nahi Aa Payegi Hamara Desh Ek Dharmanirapeksh Rashtra Hai Yani Ki Sabhi Dharmon Ko Barabar Samjha Gaya Hai Aur Sabhi Dharm Ke Log Mil Jul Kar Rehte Hain To Hume Is Baat Par Dhyan Dene Ki Avashyakta Hai Ki Hum Apne Desh Ko Kaise Mazboot Banaye Aur Uske Liye Yahi Zaroori Hai Ki Aapas Mein Hum Sare Log Miljul Kar Rahe Tabhi Hamare Desh Mein Ekta Aa Payegi
Likes  16  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्रिकेट को लेकर तो मैं मेरी सोच थोड़ी अलग है कि क्रिकेट चैनल में क्या था कि अगर हम देखे तो भारत में क्रिकेट ही नहीं कई ऐसी चीजें जो कॉलोनियल रूल उपनिवेशवाद होता जो भारत में विदेश गुलाम था और अंग्रेजों...
जवाब पढ़िये
क्रिकेट को लेकर तो मैं मेरी सोच थोड़ी अलग है कि क्रिकेट चैनल में क्या था कि अगर हम देखे तो भारत में क्रिकेट ही नहीं कई ऐसी चीजें जो कॉलोनियल रूल उपनिवेशवाद होता जो भारत में विदेश गुलाम था और अंग्रेजों का शासन का है तो क्रिकेट ही नहीं कई ऐसी चीज है जिसको लेकर लोग काफी उसके पीछे पागल रहते हैं यह के अंग्रेजी भाषा अंग्रेजी को लेकर पूरे देश में एक वह है कि अगर अंग्रेजी जानते हैं तो बाकी नॉलेज कुछ भी ना हो अंग्रेजी अगर बंदा बोलता है तो लोग उसको और पालिका और अच्छा माल लेते ही क्रिकेट है ऐसे और भी चीजें हैं अंग्रेजी कल्चर है न्यू ईयर मनाना है वैलेंटाइन है तमाम चीजें हैं तो कल और इसे चाहे आप दूसरा सांस्कृतिक संक्रमण कर ले या सांस्कृतिक तालमेल भूत या और भी कोई हमसे इसको आप कर सकते हैं इसको छुपा सकते हैं सकते हैं इसका फेवर कर सकते हैं लेकिन एक पक्षी है और यह सारी सच्चाई है कि अंग्रेजी जो मानसिकता है उसके कारण से क्रिकेट और अपने नेशनल गेम को छोड़कर अपने नेशनल का जो प्राईड है जो राष्ट्रीय सम्मान है उसको छोड़ के लोग जो है क्रिकेट के पीछे भाग रहे हैं तो मेरा यह मानना है कि लोगों के अंदर अभी स्तर पर मिलना चाहिए भारत में नेशनल इजम नहीं है मैं यह नहीं कहता कि देश भक्ति नहीं है देश भक्ति है लेकिन नेशनलिज्म इन दोनों दो बातेंCricket Ko Lekar To Main Meri Soch Thodi Alag Hai Ki Cricket Channel Mein Kya Tha Ki Agar Hum Dekhe To Bharat Mein Cricket Hi Nahi Kai Aisi Cheezen Jo Kaloniyal Rule Upaniveshavaad Hota Jo Bharat Mein Videsh Gulam Tha Aur Angrejo Ka Shasan Ka Hai To Cricket Hi Nahi Kai Aisi Cheez Hai Jisko Lekar Log Kafi Uske Piche Pagal Rehte Hain Yeh Ke Angrezi Bhasha Angrezi Ko Lekar Poore Desh Mein Ek Wah Hai Ki Agar Angrezi Jante Hain To Baki Knowledge Kuch Bhi Na Ho Angrezi Agar Banda Bolta Hai To Log Usko Aur Palika Aur Accha Maal Lete Hi Cricket Hai Aise Aur Bhi Cheezen Hain Angrezi Culture Hai New Year Manana Hai Valentine Hai Tamam Cheezen Hain To Kal Aur Ise Chahe Aap Doosra Sanskritik Sankraman Kar Le Ya Sanskritik Talmel Bhoot Ya Aur Bhi Koi Humse Isko Aap Kar Sakte Hain Isko Chhupa Sakte Hain Sakte Hain Iska Favor Kar Sakte Hain Lekin Ek Pakshi Hai Aur Yeh Saree Sacchai Hai Ki Angrezi Jo Mansikta Hai Uske Kaaran Se Cricket Aur Apne National Game Ko Chodkar Apne National Ka Jo Praid Hai Jo Rashtriya Samman Hai Usko Chod Ke Log Jo Hai Cricket Ke Piche Bhag Rahe Hain To Mera Yeh Manana Hai Ki Logon Ke Andar Abhi Sthar Par Milna Chahiye Bharat Mein National Ijam Nahi Hai Main Yeh Nahi Kahata Ki Desh Bhakti Nahi Hai Desh Bhakti Hai Lekin Nationalism In Dono Do Batein
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के अलावा विदेशों में भी आरक्षण पद्धति मौजूद है अमेरिका चाइना और जापान जैसे देशों में आरक्षण है बाहरी देशों में आरक्षण को अश्वमेध यज्ञ कहा जाता है इसका मतलब समाज के वर्णन असलम शेर के शिकार लोगों क...
जवाब पढ़िये
भारत के अलावा विदेशों में भी आरक्षण पद्धति मौजूद है अमेरिका चाइना और जापान जैसे देशों में आरक्षण है बाहरी देशों में आरक्षण को अश्वमेध यज्ञ कहा जाता है इसका मतलब समाज के वर्णन असलम शेर के शिकार लोगों के लिए सामाजिक समानता का प्रावधान है ब्राजील में आरक्षण वेस्टिब्यूलर नाम से जाना जाता है तथा कनाडा में समान रोजगार का तत्व है जिसके अंदर फायदा वहां के सामान्य तथा अल्पसंख्यक अल्पसंख्यकों को होता है जर्मनी में भी रिजर्वेशन सिस्टम है मैं दुनिया में एलियंस के लिए आरक्षण है मलेशिया में भी नहीं आती की योजना के तहत आरक्षण जारी हुए हैं नॉर्वे में BPL बोर्ड में 40% महिला आरक्षण है दक्षिण अफ्रीका व दक्षिण कोरिया में भी आरक्षण पद्धति है श्रीलंका में तमिल व क्रिश्चन लोगों के लिए आरक्षण है स्वीडन में भी आरक्षण पद्धति ईमान है इतने सारे विकसित देशों में आरक्षण पद्धति विद्यमान हैBharat Ke Alava Videshon Mein Bhi Aarakshan Paddhatee Maujud Hai America China Aur Japan Jaise Deshon Mein Aarakshan Hai Baahri Deshon Mein Aarakshan Ko Ashwamegh Yagya Kaha Jata Hai Iska Matlab Samaaj Ke Vernon Aslam Sher Ke Shikar Logon Ke Liye Samajik Samanata Ka Pravadhan Hai Brazil Mein Aarakshan Vestibyular Naam Se Jana Jata Hai Tatha Canada Mein Saman Rojgar Ka Tatva Hai Jiske Andar Fayda Wahan Ke Samanya Tatha Alpsankhyak Alpasankhyakon Ko Hota Hai Germany Mein Bhi Reservation System Hai Main Duniya Mein Aliens Ke Liye Aarakshan Hai Malaysia Mein Bhi Nahi Aati Ki Yojana Ke Tahat Aarakshan Jaari Hue Hain Norway Mein BPL Board Mein 40% Mahila Aarakshan Hai Dakshin Africa V Dakshin Korea Mein Bhi Aarakshan Paddhatee Hai Sri Lanka Mein Tamil V Krishchan Logon Ke Liye Aarakshan Hai Sweden Mein Bhi Aarakshan Paddhatee Iman Hai Itne Sare Viksit Deshon Mein Aarakshan Paddhatee Vidyaman Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भुखमरी के बारे में जो आंकड़े आए हैं वह बिल्कुल भी झूठ नहीं बोलते हैं क्योंकि ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने 118 देशों की सूची जारी की थी जिसमें भारत 97 नंबर पर आता है साल 2000 में भी ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने यह...
जवाब पढ़िये
भुखमरी के बारे में जो आंकड़े आए हैं वह बिल्कुल भी झूठ नहीं बोलते हैं क्योंकि ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने 118 देशों की सूची जारी की थी जिसमें भारत 97 नंबर पर आता है साल 2000 में भी ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने यह जारी जो किया था आंकड़े उसमें भारत 13 नंबर पर था तो धीरे-धीरे भारत की स्थिति और खराब होते जा रही है या भुखमरी के केस में और अगर हम अपने पड़ोसी देशों की बात करें तो उसमें श्रीलंका बांग्लादेश नेपाल और चाइना भारत से कहीं अच्छी पोजीशन पर हैं नेपाल 72 नंबर पर है जबकि उनकी इकॉनॉमी भारत से काफी कम है तो इसका मेन रीजन यह है कि हमारी सरकार अन्य दूसरे स्कीमों में काफी पैसे लगा रही है लेकिन जो यह बेसिक जरूरत है या बेसिक प्रॉब्लम है भुखमरी की इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है तो सरकार को यह चाहिए कि वह फालतू के विज्ञापन पर ज्यादा पैसे खर्च ना करें और यह भुखमरी की जो समस्या है इससे लोगों को अ निकालने के प्रयास किए जाएं ताकि लोग का कभी भी भूख के वजह से अपनी जान ना गवाएंBhukhmari Ke Baare Mein Jo Aankde Aaye Hain Wah Bilkul Bhi Jhuth Nahi Bolte Hain Kyonki Global Hunger Index Ne 118 Deshon Ki Suchi Jaari Ki Thi Jisme Bharat 97 Number Par Aata Hai Saal 2000 Mein Bhi Global Hunger Index Ne Yeh Jaari Jo Kiya Tha Aankde Usamen Bharat 13 Number Par Tha To Dhire Dhire Bharat Ki Sthiti Aur Kharab Hote Ja Rahi Hai Ya Bhukhmari Ke Case Mein Aur Agar Hum Apne Padoshi Deshon Ki Baat Karen To Usamen Sri Lanka Bangladesh Nepal Aur China Bharat Se Kahin Acchi Position Par Hain Nepal 72 Number Par Hai Jabki Unki Ikanami Bharat Se Kafi Kum Hai To Iska Main Reason Yeh Hai Ki Hamari Sarkar Anya Dusre Schemo Mein Kafi Paise Laga Rahi Hai Lekin Jo Yeh Basic Zaroorat Hai Ya Basic Problem Hai Bhukhmari Ki Is Par Dhyan Nahi Diya Ja Raha Hai To Sarkar Ko Yeh Chahiye Ki Wah Faltu Ke Vigyapan Par Jyada Paise Kharch Na Karen Aur Yeh Bhukhmari Ki Jo Samasya Hai Isse Logon Ko A Nikalne Ke Prayas Kiye Jayen Taki Log Ka Kabhi Bhi Bhukh Ke Wajah Se Apni Jaan Na Gavaen
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon
यदि जानवर स्वर्ण भंडार की नजर से देखा जाए तो मुझे लगता है कि अमेरिका विश्व का सबसे ताकतवर देश है परंतु बहुत से कूटनीतिक में राजनीतिक विशेषज्ञ हमारा कि जिस प्रकार से ग्लोबल वार्मिंग तथा अन्य पर्यावरण संबंधी समस्याएं अपने पैर पसार रही हैं आने वाले समय में सबसे शक्तिशाली देश का देश होगा किसके पास अधिक से अधिक जमीन होगी किसके पास अधिक से अधिक जगह होगी जिससे वह सारे देशों के ऊपर अपना प्रभुत्व स्थापित कर सके तो इस नजरिए से देखा जाएगा मुझे लगता है कि रूट 1 तरीके से अमेरिका से भी अधिक ताकतवर देश है साथ ही साथ नया मानता हूं कि विकासशील अर्थव्यवस्था आने वाले समय में सबसे ताकतवर विकासशील भारत अपने पैर पसार रहे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर तो साथ में क्या किया इस तरह से एकत्रित कर रहे हैं सताने वाले समय में मन की शक्ति में भी विस्तार होना तय है मौजूदा अगर युग में देखा जाए मौजूदा समय में सबसे अधिक ताकतवर देश क्यों है पूरे विश्व में भारत अमेरिका है सच्चा साथी साथ में मानता हूं कि जापान तथा ऑस्ट्रेलिया भी धीरे-धीरे शक्ति संपन्न बनते जा रहे हैं ऑस्ट्रेलिया के पांच प्रकार के प्लूटोनियम व यूरेनियम के भंडार हैं वह भी एक ताकतवर देश हो सकता है आने वाले समय में साथ ही साथ मैं मानता हूं कि कनाडा में जिस प्रकार से हाल ही में प्राकृतिक तेल व गैस के भंडार मिले हैं तो मुझे अच्छा लगता है कि आने वाले समय में कैनेडा BF न्यू शक्तिशाली देशों की सूची में अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकता है इसके साथ कुछ अन्य देश है जहां पर भ्रष्टाचार है तो सरकार कमजोर है परंतु वहां पर बहुत से तेल व गैस के भंडार हैं उसे जाने दो ओ बावरिया कलां पर राजनीतिक स्थिरता आ जाती है तो वह भी शक्तिशाली देश को सकते हैं धंयवादYadi Janwar Swarn Bhandar Ki Nazar Se Dekha Jaye To Mujhe Lagta Hai Ki America Vishwa Ka Sabse Takatwar Desh Hai Parantu Bahut Se Kutanitik Mein Rajnitik Visheshasgya Hamara Ki Jis Prakar Se Global Warming Tatha Anya Paryavaran Sambandhi Samasyaen Apne Pair Pasar Rahi Hain Aane Wale Samay Mein Sabse Shaktishaali Desh Ka Desh Hoga Kiske Paas Adhik Se Adhik Jameen Hogi Kiske Paas Adhik Se Adhik Jagah Hogi Jisse Wah Sare Deshon Ke Upar Apna Parbhutwa Sthapit Kar Sake To Is Nazariye Se Dekha Jayega Mujhe Lagta Hai Ki Root 1 Tarike Se America Se Bhi Adhik Takatwar Desh Hai Saath Hi Saath Naya Manata Hoon Ki Vikasshil Arthavyavastha Aane Wale Samay Mein Sabse Takatwar Vikasshil Bharat Apne Pair Pasar Rahe Antar Rashtriya Manch Par To Saath Mein Kya Kiya Is Tarah Se Ekatrit Kar Rahe Hain Satane Wale Samay Mein Man Ki Shakti Mein Bhi Vistar Hona Tay Hai Maujuda Agar Yug Mein Dekha Jaye Maujuda Samay Mein Sabse Adhik Takatwar Desh Kyun Hai Poore Vishwa Mein Bharat America Hai Saccha Sathi Saath Mein Manata Hoon Ki Japan Tatha Austrailia Bhi Dhire Dhire Shakti Sanpann Bante Ja Rahe Hain Austrailia Ke Paanch Prakar Ke Plutoniyam V Urenium Ke Bhandar Hain Wah Bhi Ek Takatwar Desh Ho Sakta Hai Aane Wale Samay Mein Saath Hi Saath Main Manata Hoon Ki Canada Mein Jis Prakar Se Haal Hi Mein Prakritik Tel V Gas Ke Bhandar Mile Hain To Mujhe Accha Lagta Hai Ki Aane Wale Samay Mein Canada BF New Shaktishaali Deshon Ki Suchi Mein Apni Upasthitee Darj Kra Sakta Hai Iske Saath Kuch Anya Desh Hai Jahan Par Bhrashtachar Hai To Sarkar Kamjor Hai Parantu Wahan Par Bahut Se Tel V Gas Ke Bhandar Hain Use Jaane Do O Bawaria Kalan Par Rajnitik Sthirta Aa Jati Hai To Wah Bhi Shaktishaali Desh Ko Sakte Hain Dhanyvad
Likes  20  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं मैं कहूंगा कि नहीं कि अपना देश जीएसटी के लिए कभी तैयार था ही नहीं क्योंकि जीएसटी एक बुराई नया टैक्स ला रहे थे तो अच्छा होता अगर वह लोग यह लोगों को पहले से कहते कि क्या करना है कैसे करना है कम से ...
जवाब पढ़िये
नहीं मैं कहूंगा कि नहीं कि अपना देश जीएसटी के लिए कभी तैयार था ही नहीं क्योंकि जीएसटी एक बुराई नया टैक्स ला रहे थे तो अच्छा होता अगर वह लोग यह लोगों को पहले से कहते कि क्या करना है कैसे करना है कम से कम उनका वेबसाइट रेडी होता वेबसाइट भी नहीं था उसके वजह से उन्होंने बहुत सारे फंक्शंस दिए फिर बहुत सारे पेनाल्टी बेवफ कि अगर सब कुछ ठीक होता तो यह सब नहीं होता तो मेरे को लगता है कि कम से कम 1 साल और वेट करना चाहिए था सबकुछ रेडी करना चाहिए था उसके बाद जीएसटी लागू होता तो शायद हम आज बेहतर स्थिति में होते हैंNahi Main Kahunga Ki Nahi Ki Apna Desh Gst Ke Liye Kabhi Taiyaar Tha Hi Nahi Kyonki Gst Ek Burayi Naya Tax La Rahe The To Accha Hota Agar Wah Log Yeh Logon Ko Pehle Se Kehte Ki Kya Karna Hai Kaise Karna Hai Kum Se Kum Unka Website Ready Hota Website Bhi Nahi Tha Uske Wajah Se Unhone Bahut Sare Fankshans Diye Phir Bahut Sare Penalti Bevaf Ki Agar Sab Kuch Theek Hota To Yeh Sab Nahi Hota To Mere Ko Lagta Hai Ki Kum Se Kum 1 Saal Aur Wait Karna Chahiye Tha Sabkuch Ready Karna Chahiye Tha Uske Baad Gst Laagu Hota To Shayad Hum Aaj Behtar Sthiti Mein Hote Hain
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात सही है कि भारत में सर्वाधिक लोग कभी भी कृषि से जुड़े हुए हैं लगभग सीधे तौर पर 48% लोग 48% लोग में कृषि क्षेत्र से अपना रोजगार प्राप्त करते हैं और लगभग 7 से 70% यहां पर कृषि से जुड़े हुए लोग हैं...
जवाब पढ़िये
यह बात सही है कि भारत में सर्वाधिक लोग कभी भी कृषि से जुड़े हुए हैं लगभग सीधे तौर पर 48% लोग 48% लोग में कृषि क्षेत्र से अपना रोजगार प्राप्त करते हैं और लगभग 7 से 70% यहां पर कृषि से जुड़े हुए लोग हैं अलग विषय है कि भारत में लगातार जीडीपी में कृषि का जो योगदान है वह कटता चला गया कृषि से पलायन होता चला गया लोगों का लेकिन एक समय था जब भूख से इस देश में लोग मर जाया करते थे लेकिन अब वह समय चला गया हमारा उत्पादन कई गुना बढ़ चुका है हमारा उत्पादन इतना बढ़ चुका है कि कई चीजों में तो हम दुनिया के नंबर वन है और कुछ चीजों में दूसरे या तीसरे स्थान पर है और सबसे महत्वपूर्ण विषय यह है कि राज सभी राज्य सरकार और केंद्र सरकार अपनी विभिन्न योजनाओं के माध्यम से गांव गांव तक स्कूलों के माध्यम से प्राथमिक विद्यालयों के माध्यम से पुष्टाहार और मुफ्त भोजन पहुंचाने का कार्यक्रम चलाया जाता है अनेक सरकारों के द्वारा अधिक राज्यों में तो अभी यह कहना कि कहीं कहीं तो एक रुपए किलो चावल कहीं मुस्तान आज कहीं 40 किलो प्रति माह अनाज इस प्रकार की योजनाएं अलग अलग राज्य में चल रही है तो अब ऐसा नहीं है कि इस देश में भूख से लोग मर रहे हैं हां कृषि से जुड़े हुए कृषक या कृषि से जुड़े हुए मजदूर अपने कर्ज के कारण या फिर अपनी निजी और समस्याओं के कारण आत्महत्या की तरफ जरूर प्रेरित हो रहे हैं वह आत्महत्या जरूर कर रहे हैं यह गंभीर विषय है परंतु अब भुखमरी
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक कृषि प्रधान देश है बिल्कुल सही बात है हमारे देश में एक लिमिट से ज्यादा जो है लोग कृषि की तरफ लगे हुए हैं और क्योंकि उनको दूसरा कोई काम नहीं आता है उन्होंने अपनी पूरी पुरखों के टाइम से ही जुड़े...
जवाब पढ़िये
भारत एक कृषि प्रधान देश है बिल्कुल सही बात है हमारे देश में एक लिमिट से ज्यादा जो है लोग कृषि की तरफ लगे हुए हैं और क्योंकि उनको दूसरा कोई काम नहीं आता है उन्होंने अपनी पूरी पुरखों के टाइम से ही जुड़े कृषि का काम ही समान है और उन्हें खेती-बाड़ी के नाम और कुछ नहीं आता है लेकिन जो पढ़ी लिखी लोग होते हैं वह अपनी पढ़ाई में जितना भी पैसा उन्होंने अपने टाइम लगा है उसका पूरा बसु जो है वह अपनी आने वाली जिंदगी में एक भ्रष्ट आदमी बनकर लोगों से पैसा चूसने का काम करने जाते हैं अगर मैं बात करूं तो कृषि जो कर रहा है बंदा उसको बीज कैसे प्रोवाइड करवाना है कैसे बीज भी नहीं चाहिए तू हाई लेवल रेंज का बीज आकर्षित करने वाले व्यक्ति को देते हैं और उसके बाद आप पानी महंगी पानी मुहैया करवाती इलेक्ट्रॉनिक बहुत महंगा होता है बोल बम जो भी लगाते बहुत महंगा होता है तो उसकी ऊपर में जो भी वह खेती-बाड़ी कर के जो भी निकलता है धान टमाटर के हूं जो भी निकलता है वह उसका वह प्रॉपर पैसा नहीं पता आप लोग हैं उनसे ₹5 किलो ₹2 किलो बहुत ही कम मात्रा में जो है आप मुझे सामान खरीद लेते हैं और उसे फिर गवर्नमेंट मार्ग मार्केट में बसती है और अन्य जो भी चोलिया लोग एजेंट लॉगिन देते हैं तो इससे क्या है कि किसानों का बहुत नुकसान हो जाता है और उन्हें जो भी कर्जा लिया होता है बीज बकरा खरीदने के लिए याद रखे अपना घर गिरवी रख इस गरीब ही चलती रहती है उनकी पूरी परिवार को इसी तरह तू आता है और गलती से अगर कभी बारिश की मात्रा तेज हो गई है बारिश बिल्कुल भी नहीं आई तो उनकी खेती में बर्बाद हो जाती है इसलिए जो है लोगों के पास बस एक ही मरने की ऑप्शन के अलावा और कोई ऑप्शन नहीं होता तो इसमें सरकार को थोड़ा सपोर्ट करना चाहिए और बकायदा हो कर भी रही है लेकिन लोगों तक पहुंच नहीं पा रहा है तो इसका ध्यान रखें जो भी प्रोवाइड की जा रही है वह हेल्पलाइन पहुंचे थैंक यूBharat Ek Krishi Pradhan Desh Hai Bilkul Sahi Baat Hai Hamare Desh Mein Ek Limit Se Jyada Jo Hai Log Krishi Ki Taraf Lage Hue Hain Aur Kyonki Unko Doosra Koi Kaam Nahi Aata Hai Unhone Apni Puri Purkhon Ke Time Se Hi Jude Krishi Ka Kaam Hi Saman Hai Aur Unhen Kheti Badi Ke Naam Aur Kuch Nahi Aata Hai Lekin Jo Padhi Likhi Log Hote Hain Wah Apni Padhai Mein Jitna Bhi Paisa Unhone Apne Time Laga Hai Uska Pura Basu Jo Hai Wah Apni Aane Wali Zindagi Mein Ek Bhrasht Aadmi Bankar Logon Se Paisa Choosne Ka Kaam Karne Jaate Hain Agar Main Baat Karun To Krishi Jo Kar Raha Hai Banda Usko Beej Kaise Provide Karwana Hai Kaise Beej Bhi Nahi Chahiye Tu Hi Level Range Ka Beej Aakarshit Karne Wale Vyakti Ko Dete Hain Aur Uske Baad Aap Pani Mehengi Pani Muhaiya Karwati Electronic Bahut Mehnga Hota Hai Bol Bomb Jo Bhi Lagate Bahut Mehnga Hota Hai To Uski Upar Mein Jo Bhi Wah Kheti Badi Kar Ke Jo Bhi Nikalta Hai Dhaan Tamatar Ke Hoon Jo Bhi Nikalta Hai Wah Uska Wah Proper Paisa Nahi Pata Aap Log Hain Unse ₹5 Kilo ₹2 Kilo Bahut Hi Kum Matra Mein Jo Hai Aap Mujhe Saamaan Kharid Lete Hain Aur Use Phir Government Marg Market Mein Basati Hai Aur Anya Jo Bhi Choliya Log Agent Login Dete Hain To Isse Kya Hai Ki Kisano Ka Bahut Nuksan Ho Jata Hai Aur Unhen Jo Bhi Karja Liya Hota Hai Beej Bakara Kharidne Ke Liye Yaad Rakhe Apna Ghar Giravi Rakh Is Garib Hi Chalti Rehti Hai Unki Puri Parivar Ko Isi Tarah Tu Aata Hai Aur Galti Se Agar Kabhi Barish Ki Matra Tez Ho Gayi Hai Barish Bilkul Bhi Nahi Eye To Unki Kheti Mein Barbad Ho Jati Hai Isliye Jo Hai Logon Ke Paas Bus Ek Hi Marne Ki Option Ke Alava Aur Koi Option Nahi Hota To Isme Sarkar Ko Thoda Support Karna Chahiye Aur Bakayada Ho Kar Bhi Rahi Hai Lekin Logon Tak Pahunch Nahi Pa Raha Hai To Iska Dhyan Rakhen Jo Bhi Provide Ki Ja Rahi Hai Wah Helpline Pahuche Thank You
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञान भूमध्य रेखा से 14 देशों के संसद गुजरती है इसलिए बहुत सारे ऐसे देश है जिनसे वो नहीं गुजरती पर एग्जाम पर मेक्सिको से वह नहीं गुजरती इसे दक्षिण अमेरिका के विदेश एक जनसभा नहीं गुजरती...
जवाब पढ़िये
विज्ञान भूमध्य रेखा से 14 देशों के संसद गुजरती है इसलिए बहुत सारे ऐसे देश है जिनसे वो नहीं गुजरती पर एग्जाम पर मेक्सिको से वह नहीं गुजरती इसे दक्षिण अमेरिका के विदेश एक जनसभा नहीं गुजरतीVigyan Bhumadhya Rekha Se 14 Deshon Ke Sansad Gujarati Hai Isliye Bahut Sare Aise Desh Hai Jinse Vo Nahi Gujarati Par Exam Par Mexico Se Wah Nahi Gujarati Ise Dakshin America Ke Videsh Ek Jansabha Nahi Gujarati
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे देखे दोस्त जो करणी सेना है वह आतंकवादी संगठन नहीं है लेकिन वह बीते दिनों में जैसी हरकतें कर रही है वह बहुत शर्मनाक और दर्द नहीं है जैसे एक आतंकवादी संगठन क्या करता है कि पुलिस अथॉरिटी ऑफ़ कॉन्स्...
जवाब पढ़िये
देखे देखे दोस्त जो करणी सेना है वह आतंकवादी संगठन नहीं है लेकिन वह बीते दिनों में जैसी हरकतें कर रही है वह बहुत शर्मनाक और दर्द नहीं है जैसे एक आतंकवादी संगठन क्या करता है कि पुलिस अथॉरिटी ऑफ़ कॉन्स्टिट्यूशन को बिल्कुल नहीं मानता और उन पर हमले करता है और अब वहां के रहने वाले जो लोग हैं उन उन को नुकसान बताने की कोशिश करता है और कॉन्स्टिट्यूशन और जो लो है वहां का उनके लिए ना के बराबर है और वह उन पर हमला और करता है उसी तरीके से करनी सेना है बीते हुए कुछ दिनों में कर रही है हमारे सुप्रीम कोर्ट ने और सेंसर बोर्ड ने पद्मावती मोदी मूवी पर बहुत सारे सीन उसको पहले ही डिलीट कर दिया और उन सुप्रीम कोर्ट ने मूवी को पास भी कर दे रिलीज होने के लिए तो उन्होंने कुछ सोच समझ कर किया होगा फिर भी पद्मावती पर यह करने से ना इतना विरोध कर रही है इसकी कोई तुक नहीं है कोई इशू नहीं बनता फिर भी विरोध कर रही हो और गुडगांव में स्कूल बस पर हमला किया हरियाणा में पुलिस रोडवेज जला दी और बीते स्टेट्स में लोग पुलिस पर हमला कर रहे हैं और उनका विरोध कर रहे हैं और तोड़फोड़ कर रहा है जला रहे हर चीज अब आप बताइए ऐसी कौन सी सेना है जो पुलिस पर हमला करती है ऐसी कौन सी सेना है जो रोड पर दंगे करती है ऐसी कौन सी चीज है जो पुलिस की स्कूल की बस पर बच्चों पर हमला करते हैं तो आप सोचिए सेना नहीं हो सकता यह लोग आतंकवाद हो सकते हैं तो यह जैसी हरकतें कर रहे है जो पुलिस पर तोड़फोड़ करें वह एक आतंकवादी की तरह कर रहे हैं इसलिए मैं बोला था वह आतंकवादी किस तरह हरकतें कर रहा है ऐसा नहीं होना चाहिए ठीक है और तीसरी चीज जो हमारे पॉलिटिकल लीडर से वह भी इस पर टिप्पणी नहीं कर रहे हैं बड़े-बड़े जो पॉलिटिकल है क्योंकि यह लोग बीच पर पॉलिटिक्स खेल रहे हैं इस मुद्दे पर क्योंकि इनको पता है जो कर नहीं पहना है वह अच्छा खासा वोटिंग है मतलब वोट करती है एक प्रोडक्शन अच्छा खासा योगदान है उनकाDekhe Dekhe Dost Jo Karni Sena Hai Wah Aatankwadi Sangathan Nahi Hai Lekin Wah Bitte Dinon Mein Jaisi Harkatein Kar Rahi Hai Wah Bahut Sharmnaak Aur Dard Nahi Hai Jaise Ek Aatankwadi Sangathan Kya Karta Hai Ki Police Authority Of Constitution Ko Bilkul Nahi Manata Aur Un Par Hamle Karta Hai Aur Ab Wahan Ke Rehne Wale Jo Log Hain Un Un Ko Nuksan Batane Ki Koshish Karta Hai Aur Constitution Aur Jo Lo Hai Wahan Ka Unke Liye Na Ke Barabar Hai Aur Wah Un Par Hamla Aur Karta Hai Ussi Tarike Se Karni Sena Hai Bitte Hue Kuch Dinon Mein Kar Rahi Hai Hamare Supreme Court Ne Aur Censor Board Ne Padmavati Modi Movie Par Bahut Sare Seen Usko Pehle Hi Delete Kar Diya Aur Un Supreme Court Ne Movie Ko Paas Bhi Kar De Release Hone Ke Liye To Unhone Kuch Soch Samajh Kar Kiya Hoga Phir Bhi Padmavati Par Yeh Karne Se Na Itna Virodh Kar Rahi Hai Iski Koi Tuk Nahi Hai Koi Issue Nahi Banta Phir Bhi Virodh Kar Rahi Ho Aur Gudgaon Mein School Bus Par Hamla Kiya Haryana Mein Police Roadways Jala Di Aur Bitte States Mein Log Police Par Hamla Kar Rahe Hain Aur Unka Virodh Kar Rahe Hain Aur Todfod Kar Raha Hai Jala Rahe Har Cheez Ab Aap Bataiye Aisi Kaun Si Sena Hai Jo Police Par Hamla Karti Hai Aisi Kaun Si Sena Hai Jo Road Par Denge Karti Hai Aisi Kaun Si Cheez Hai Jo Police Ki School Ki Bus Par Bacchon Par Hamla Karte Hain To Aap Sochie Sena Nahi Ho Sakta Yeh Log Aatankwad Ho Sakte Hain To Yeh Jaisi Harkatein Kar Rahe Hai Jo Police Par Todfod Karen Wah Ek Aatankwadi Ki Tarah Kar Rahe Hain Isliye Main Bola Tha Wah Aatankwadi Kis Tarah Harkatein Kar Raha Hai Aisa Nahi Hona Chahiye Theek Hai Aur Teesri Cheez Jo Hamare Political Leader Se Wah Bhi Is Par Tippani Nahi Kar Rahe Hain Bade Bade Jo Political Hai Kyonki Yeh Log Beech Par Politics Khel Rahe Hain Is Mudde Par Kyonki Inko Pata Hai Jo Kar Nahi Pahana Hai Wah Accha Khasa Voting Hai Matlab Vote Karti Hai Ek Production Accha Khasa Yogdan Hai Unka
Likes  7  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखित बिल्कुल सौ प्रतिशत मैं आपकी बात से सहमत हूं कि राजनीति हमारे देश को खोखला बना रही हो पूरी तरीके से बर्बाद कर रही है हमारे देश को हमारे देश में इस समय जितनी भी खामियां है जितनी भी बुराइयां हैं उस...
जवाब पढ़िये
लिखित बिल्कुल सौ प्रतिशत मैं आपकी बात से सहमत हूं कि राजनीति हमारे देश को खोखला बना रही हो पूरी तरीके से बर्बाद कर रही है हमारे देश को हमारे देश में इस समय जितनी भी खामियां है जितनी भी बुराइयां हैं उसमें 90% से ज्यादा रोल जो है वह हमारे देश की राजनीति का है इतनी ज्यादा गंदी हो गई है हमारे देश की राजनीति की अब यही मानकर चलिए देखिए कोई जनानी को युवा से आगरा पूछे राजनीति में आने की दिलचस्पी नहीं होती है क्योंकि वह इतनी गंदी है वह हुस्न ही नहीं चाहता है गंदे इलाके में कोई नहीं करना चाहते हैं पैसे कमाने पैसे बहुत अच्छे से पैदा हो जाते हैं राजनीति में तो अगर यही सोच है तो वहीं वहीं पर चीज बिगड़ जाती है तो पहले सबसे पहले तो यही चीज है राजनीति की उसके अलावा राजनीति में जो बयान बाजी है अगर आप पोजीशन में है तो आप हर बात पर वह करेंगे प्रपोज अगर आप पोजीशन में थे तो कुछ कहेंगे और जब गद्दी मिल जाएगी तो कुछ करेंगेLikhit Bilkul Sau Pratishat Main Aapki Baat Se Sahmat Hoon Ki Rajneeti Hamare Desh Ko Khokhala Bana Rahi Ho Puri Tarike Se Barbad Kar Rahi Hai Hamare Desh Ko Hamare Desh Mein Is Samay Jitni Bhi Khamiyan Hai Jitni Bhi Buraiyan Hain Usamen 90% Se Jyada Roll Jo Hai Wah Hamare Desh Ki Rajneeti Ka Hai Itni Jyada Gandi Ho Gayi Hai Hamare Desh Ki Rajneeti Ki Ab Yahi Manakar Chaliye Dekhie Koi Jenaanee Ko Yuva Se Agra Puche Rajneeti Mein Aane Ki Dilchaspi Nahi Hoti Hai Kyonki Wah Itni Gandi Hai Wah Husna Hi Nahi Chahta Hai Gande Ilake Mein Koi Nahi Karna Chahte Hain Paise Kamane Paise Bahut Acche Se Paida Ho Jaate Hain Rajneeti Mein To Agar Yahi Soch Hai To Wahin Wahin Par Cheez Bigad Jati Hai To Pehle Sabse Pehle To Yahi Cheez Hai Rajneeti Ki Uske Alava Rajneeti Mein Jo Bayan Busy Hai Agar Aap Position Mein Hai To Aap Har Baat Par Wah Karenge Propose Agar Aap Position Mein The To Kuch Kahenge Aur Jab Gaddi Mil Jayegi To Kuch Karenge
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon