search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

मुझे फोबिया के लक्षण हैं जैसे किसी को छूने से डर लगना मन में डर रहता है कि कुछ ग़लत न हो जाए किसी भी जीव से डर लगता है, इसे सही करने के लिए मैं क्या करूं? ...

6 जवाब देखें >

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फोबिया यानी कि किसी भी चीज से डर और पैनिक हो जाना उस चीज से साधारण बात तो खैर है नहीं हालांकि यह बहुत ज्यादा खतरनाक भी नहीं होता वह भी अगर आपको किसी चीज से है तो कहीं ना कहीं आप उस चीज को लेकर कॉन्फिड...
जवाब पढ़िये
फोबिया यानी कि किसी भी चीज से डर और पैनिक हो जाना उस चीज से साधारण बात तो खैर है नहीं हालांकि यह बहुत ज्यादा खतरनाक भी नहीं होता वह भी अगर आपको किसी चीज से है तो कहीं ना कहीं आप उस चीज को लेकर कॉन्फिडेंस लूट कर जाते हैं अगर आपको डर है मनुष्य से या किसी भी चीज से तो आप अपने आप को या दूसरे को कुछ ना करें वह भी अकेले हालांकि आप थोड़ा बहुत अपने मन को समझाया जग जैसे भी फोबिया से समझाया जा सकता है की काउंसलिंग की जा सकती है और धीरे-धीरे बहुत ही बेवकूफ लेते हुए बहुत ही छोटे छोटे कदम उठाते हुए हल्का-हल्का एक्सपेरिमेंट किया जा सकता है ताकि मन जो है कहीं ना कहीं अब बहुत ज्यादा विश्वास करना सीखें और आपके मन को भी ठेस ना पहुंचे तो फोबिया के लिए आप धीरे-धीरे जिन चीजों से भी आपको डर है मालिक ऊंचाई से डर है नहीं कहूंगी कि आप एकदम जाकर स्लिप पर खड़े हो जाए हालांकि अब थोड़ी हल्की सी 24 सीढ़ी की ऊंचाई से नीचे देखने की कोशिश करें जब उसकी सबको कॉन्फिडेंस होता है तो आप फिर उसी चीज को थोड़ा आगे पूछ कर सकते हैं और थोड़ा हल्का हल्का अपनी लिमिट को अगर आप अपने आप कुछ करेंगे तो आपका डर धीरे-धीरे मिटने लगेगा हालांकि या का कोई जबरदस्ती इज्जत को किसी भी तरह के डर को मिटाने की कोशिश करेगा आपका मन और भी कच्चा हो जाएगा धन्यवाद
Likes  119  Dislikes    views  8210
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

अधिक जवाब


6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने सवाल किया है कि मुझे फोबिया है और मुझे डर लगता है और अतिथि बात आपने कही है कि मेरे मन में यह डर है किसी भी जीव से मुझे डर लगता है और इसको कैसे हम करें ठीक और यह डर कैसे दूर करें तो धन्यवाद दोस्तो...
जवाब पढ़िये
अपने सवाल किया है कि मुझे फोबिया है और मुझे डर लगता है और अतिथि बात आपने कही है कि मेरे मन में यह डर है किसी भी जीव से मुझे डर लगता है और इसको कैसे हम करें ठीक और यह डर कैसे दूर करें तो धन्यवाद दोस्तों आपने यह सवाल किया है कि मुझे फोबिया है तो यहां आपने जो सवाल किया बस उसी पर पहले मैं 121 आपको बात कर लो आपने कहा कि पहली बात कि वह भी या है यानी फोबिया क्या होता है यह आपको इसका मतलब पता है बेवजह जो चीजें मन के अंदर बैठ जाती है कोई डर आपने समाया हुआ है जिसकी कोई कारण नहीं है आने का लेकिन फिर भी आपको डर लगाता है लगता है यानी बिना वजह का बेमतलब का डर है भैया है ठीक है ना दूसरी बातें आपने लिखी है कि मन में डर लगता है तो दूसरी बात ए है कि मन में डर लगता है तो आपको पता है कि मन में डर लगता है मन में डर लगता है यह बात को कई बार आप अधूरा यह मन में डर लगता है तो आपको समझ में आएगा कि डर कहां लगता है मन में लगता है दिल दिमाग में है डर है तो अब हटाना कहां के हैं डर को डर आपके बॉडी में नहीं है आपके दिल दिमाग में है और आपको पता है कि इंसान का ब्रेन बहुत ही ताकतवर चीज है और इंसान के अंदर जो ब्रेन बने हैं इसकी ताकत को आप समझेंगे तो दुनिया की कोई भी चीजें हासिल कर सकते हैं जैसे अभी आपने कोई एक से एक बहादुरी की चीजें देखते हैं और देखकर लगता है कि आरके कैसे हो गया सर्कस में ही अगर एक रिंग मास्टर को देखते हैं कि एक शरीर से तेरे को ना चाहता रहता है उस गिरे में रहकर भी तो यह कैसे हैं तो यह सारी चीजें हम माइंड गेम है यानी माइंड से चीज है खेली जाती है माइंड से चीजें तैयार की जाती है तो आपको पता है कि मैं आपको फोबिया है यह भी पता है बहुत अच्छी बात है और आपको यह भी पता है कि मन में डर लगता है तो अब सवाल यह है कि चाय एक्स वाई जेड किसी भी चीज से आपको डर लगे किसी की बात से लगे या किसी की जीव से लगे या कुछ भी देखने से लगे लेकिन लगता कहां से हैं तो लगता है इसका मतलब है कि आपके ब्रेन को लगता है दिल दिमाग को लगता है तो यह चीजें आती कहां से है इनको कोई भी चीजें लगती कैसे हैं तू यह बात आपको समझ नहीं होगी बेसिक चीजें की जितनी भी चीजों को खुली आंखों से देखते हैं ब्रेन उसको कैप्चर करता है और जितनी चीजों को आप सुनते हैं यानी साउंड जो भी आता है वह आपको ब्रेन कैप्चर करता है और जो टच करते हैं यानी फील करते जो महसूस करते हैं जो दिमाग में जो फीलिंग आती है वह कैप्चर करता जो भी चीज आप फिर करते हैं तो अब इन तीनों चीजों चारों चीजों का जो सोर्स है ब्रेन के अंदर जाने का देखने से साउंड से सुनने से और टच यानी और इस्माइल से यह सारी चीजें आनी फीलिंग आती है तो यह ब्रेन के अंदर कैप्चर होता है रिकॉर्ड होता है और उसी रिकॉर्ड के आधार पर चीजें हम रिएक्ट करते जैसे गुस्सा आता है तो बॉडी रिएक्ट करता है तो बीन के अंदर जिन चीजों का आना होता है वही बॉडी एरिया कभी करता है तो यह चीजें आपको समझ नहीं होगी कि अगर किसी चीज को देखने से या किसी चीज को बोलने से अगर डर लग रहा है तो उस मैं आपको अपने ब्रेन को कहना है कि चुकी ब्रेन में चीजें आ रही है ब्रेन में चीजें कैप्चर हो रही है जल्दी मांग में जो चीजें आती है वह कैप्चर हो रही है तो डर की बात अगर हो रही है तो अपने ब्रेन के अंदर इन चीजों को कहना होगा कि डरना नहीं है ब्रेन को यह बताइए कि डरना नहीं है रे क्यों डर रहे हैं मुझे इस चीज से डरना नहीं है नहीं है नहीं है और इसको बहुत ही जोरदार तरीके से मन के अंदर आप चिल्ला कर भी क्या सकते हैं अपनी ही प्रतिबिंब को देखिए जो आप हैं आप अपने सामने एक और अपने ही आपके मिरर की तरह आप देखें कि आप हैं और वह जो आप हैं वह बिल्कुल बहादुर है बहुत तेज जंगबाज है बहुत बहुत ही साहसी है और उसको हर चीज में बहादुर है उसको कभी किसी चीज से डर लगता ही नहीं है ऐसा आप एक इमेज बनाकर अपने दिल दे मां के सामने उन चीजों को अपने आगे देखिए अपने शीशे के सामने देखिए अपने आप को अकेले की है जो है वह बिल्कुल बहादुर है तो अपनी ही चीजों को उसके बहादुरी की चीजों की माया की बात करिए आप ब्रिंको कहिए कि मैं तो बहुत बहादुर हूं और मुझे मुझे डरने वाली जैसी ही कोई बात है तो कहीं नहीं यह नहीं बिल्कुल मुझे बहादुर मरना और मुझे हर बात से है कि ताकत है और ऐसी कोई बात नहीं है डर नहीं डर नहीं चाहिए डर नहीं चाहिए यह जवाब ब्रेन को कमांड देना तो यह कंप्यूटर की तरह आपका गुलाम है जो कमांड देंगे वही कमान फॉलो करेगा तो ब्रेन के अंदर अगर कमांडर वाली देंगे तो डरना स्वाभाविक है क्यों आपका गुलाम है तो डर जैसी चीजें पैदा करेगा दरवाला हारमोंस देगा लेकिन आपके शरीर के अंदर वह तमाम हारमोंस है जो बहादुरी के एहसास के हैं वह तमाम और मौसा के इन्हीं भरे पड़े हुए हैं उसको सिगरेट कर खाने के लिए आपको ब्रेन को कमान करना होगा जैसे कोई चीज डर वाली बातें यह कही कि नहीं बिल्कुल यह चीजें मुझे पसंद नहीं है यह चीजें मुझे नहीं चाहिए मुझे बहादुरी चाहिए मुझे पैसा चाहिए मैं बिल्कुल बहादुर और मुझे किसी चीज से डर नहीं लगता आप अपने आप को बिल्कुल बहादुर और आग बंद करके अपनी बहादुरी की वो तमाम चीजें देखिए इन चीजों से आप को डर लगता है उसके सामने बहादुरी अपना दूसरा प्रतिबिंब जो है आंखों से देख रहे हैं कल्पना से उसको आप बहादुर बनाई है उसको बहादुर बढ़िया नहीं प्रेम आपका चेंज होगा ब्रेन का तो अगर आप आंख बंद करके अपने आपको बहादुर होता हुआ देखेंगे जिन चीजों से डर लगता है उसमें आप शादी कर चुकी आप तो कुछ कर नहीं रहे तो अपनी ही प्रतिबिंब को जवाब पूछ रहा बहादुरी करता हुआ दिखाएंगे तो आपको कुछ होगा भी नहीं और आपका ब्रेन उस कमांड को लेने लगेगा वही पिक्चर राज करेगा वही आपको रिकॉर्ड करेगा और वैसे हारमोंस जो आपके बैठे हुए हैं साहस वाले हार्मोन सुबह से कनेक्ट हो जाएंगे और वह धीरे-धीरे यह आपको 10.27 यानी चौबीसों घंटे उठते बैठते सोते जागते आपको बहादुरी वाली चीजें आपको जिन चीजों से भी डर लगता है उसके सामने आप बहादुरी वाला एक्ट करें और अपने आपको यहां बहादुर होता हुआ दिखाएं झूठा ही सही आप बागरी का रोल करें तो आप देखेंगे कि आप में बहुत बड़ा परिवर्तन आया और महक के अंदर जो प्रेम के अंदर है उसको करना है तो दिल और दिमाग में जैसे ही डर वाली बात है तो तुरंत से ब्रेन को कहना यह वाला तो नहीं चाहिए नहीं चाहिए मुझे चाहिए डर से डर तो बिल्कुल नहीं चाहिए साहस चाहिए बाद भी चाहिए मैं तो बाहर हूं और अपनी आंख बंद करके बहादुर होता हुआ आपने को देखिए ठीक है जैसे कोई पैरा टूटा हुआ बेड पर लेटा हुआ और वह भी चल फिर भी नहीं सकता लेकिन अगर कोई शेर आ जाए तो वह भागने की कोशिश करेगा किसी से बिना पूछे तो वह कैसे होता है ऐसे तो उसको कहिए उठने बैठने के लिए तो टूटा हुआ पैर हाथ बेड पर लेटा है तो चल भी नहीं सकता लेकिन अगर आप खेल से उसके सामने कोई शेर आ जाए तो ऑटोमेटिक है कि वह भागने की कोशिश करता है तो यह इसलिए होता है कि वह उस समय वह बहादुरी वाले हारमोंस उसके उत्पन्न होते हैं और वह भागने की कोशिश करता है तो ऐसे हार्मोन आपके उत्पन्न हो सकते हैं यह बिल्कुल तय है पक्का है और इसी विश्वास के साथ आप बिजी है क्या आप बहादुर है हर पल 34 * 7 ठीक है थैंक यू मुझे लगता है कि मेरी बातों को सुनने के बाद अब आप ही शिव भक्तों से शिक्षण से आप बिल्कुल बहादुर हो चुके हैं और जिस चीजों में यकीन होगा ना अपनी बातों पर यकीन करें कि मैं बाहर हूं और मैंने जो अभी चीजें कहीं है उसको उद्गार से कई बार सुनिए और वही करिए अपने मिरर के सामने खड़े हो जाइए अपनी आंख बंद करके अपना ही बहादुरी वाला चीज देखी तो आपकी तमाम सारी अंडर मुझे पूरा विश्वास है कि आप यकीन एक बार करिए और हार्मोन साहब समझे कि दिल दिमाग में जो भी चीजें आती है उसको ब्रेन को डांटना शुरू करिए गलत चीजें मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है बिल्कुल उस कोड आती है आपकी डांट व सुनेगा और आप दिखेगा कि बेहद बहादुर हो जाएंगे बहुत ही बड़े बहादुर आप है इसलिए आपको भी डर लग रहा है क्योंकि आप बहादुर है और आपको सारी चीजें पता है आपको भी अभी मन के अंदर डर भी सब पता है तो वह भी पता हो जाएगा कि आपको बहादुर कैसे होते हैं और आप कल को कहेंगे कि मैं कितना बहादुर आपकी बहादुरी की बहुत चर्चा होने वाली है यह तय मानी या अभी और इसी वक्त से थैंक यू मेरे दोस्त
Likes  114  Dislikes    views  8515
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि आपको फोबिया के लक्षण है फोबिया मतलब बैचलर्स पिया ने बिना किसी कारण चीजों से डरने को फोबिया कहते हैं और एक अच्छी बात है क्या आप इस चीज को जानते हैं कि आपको किस तरह का प्रॉब्लम है तो अब ...
जवाब पढ़िये
आपका सवाल है कि आपको फोबिया के लक्षण है फोबिया मतलब बैचलर्स पिया ने बिना किसी कारण चीजों से डरने को फोबिया कहते हैं और एक अच्छी बात है क्या आप इस चीज को जानते हैं कि आपको किस तरह का प्रॉब्लम है तो अब जैसे किसी चीज से मन में आपके डर रहता है कुछ गलत ना हो जाए किसी को छूने से डर लगना तो अगर इस तरह का फोबिया आपको अभी से है या बचपन से है या किसी कारणवश यह आपके कोई चीज आपके साथ कोई घटना घटी जिस कारण आपके अंदर यह फोबिया आ गया है तो इसका सही इलाज देखिए इसके दो तरीके हैं पहला यह जानना के इसका कारण क्या है कुछ लोगों को बचपन में कुछ घटनाएं उनके मन में रह जाती हैं और कभी-कभी अगर बचपन की बात नहीं तो कोई एक रीसेंट ऐसा कोई एक्सपीरियंस या कोई अनुभव जिससे फोबिया रहता है तू पहले आपको इस कारण को जानने के लिए आप आपके पास उसके दोस्त सलूशन है पहला यह कि यादव किसी एन एल में टेक्निक neuro-linguistic कोशिश होता है जो एक्टिविटी टेक्निक भी कहते हैं कॉग्निटिव बिहेवियर थेरेपी की जाती है जिससे के लोगों की फोबिया दूर करने में उनकी मदद की जाती है तो आप किसी अच्छे से साइकोलॉजिस से मिले या किसी एनएलपी खोज neuro-linguistic प्रोग्रामर को जो इसमें एक्सपोर्ट हो इनसेमिनेट यह फोबिया बेसलेस डर दूर करने में बहुत हद तक आपकी मदद कर सकते हैं या फिर आप किसी अच्छे से साइकिल अटलस से मिले जिसके साथ शायद आप अपनी बातें शेयर करें तो वह भी आपको बताएं कि आपको क्या करना चाहिए क्योंकि आप फोबिया एक डीप रूटेड अफेयर्स होते हैं और इसमें खाली एक जवाब से या किसी तरह की एडवाइज ऐश्वर्या राय से यह एकदम ठीक नहीं होते इसके लिए जो भी थेरेपिस्ट आपके साथ काम करेंगे उनको शायद एक-दो महीने का आपके साथ प्रोग्राम करना होगा वह आपको बहुत पहले उन्हें समझना होगा इसकी जड़ तक जाना होगा फिर आपके कुछ टेक्निक्स बताएंगे जिसके चलते आप इससे छुटकारा पा सकते हो तो एक बहुत ही लंबा प्रोसेस है आज किसी को किसी साइकॉलजिस्ट से जुड़िए और उनके साथी चीज शेयर कीजिए और इसे फिर से दूर कीजिए धन्यवाद
Likes  118  Dislikes    views  8620
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप किसी मनोचिकित्सक को दिखाएं...
जवाब पढ़िये
आप किसी मनोचिकित्सक को दिखाएं
Likes  6  Dislikes    views  8250
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने बताया है कि मुझे फोबिया के लक्षण है जैसे किसी को छूने से डर लगना मन में डर रहता है कि कुछ गलत ना हो जाए किसी भी चीज से डर लगता है इसे सही करने के लिए मैं क्या करूं आप जो बता रहे हैं पर फोबिया के ...
जवाब पढ़िये
आपने बताया है कि मुझे फोबिया के लक्षण है जैसे किसी को छूने से डर लगना मन में डर रहता है कि कुछ गलत ना हो जाए किसी भी चीज से डर लगता है इसे सही करने के लिए मैं क्या करूं आप जो बता रहे हैं पर फोबिया के लक्षण है तो फोबिया एक तरह का इनसाइटी डिसऑर्डर है आप किस बिना पर कह रहे हैं क्या आपको फोबिया है आपने जरूर को गई किया होगा गूगल पर कुछ सिम्टम्स देखे होंगे आपको लगा होगा हाय सेंटर मेरे अंदर है और मुझे हो गया है तो जब तक किसी मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल से आप डायग्नोसिस ना कर वाले और वह ना कहे यह बात आपको कि आपको खो गया है और वह भी किस प्रकार का है हो सकता है आपको ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर हो तो आप एक बार किसी मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल से मिले और अपना उसको डिटेल्स बताए डिटेल्स को जानने के बाद आप की पूरी जांच करने के बाद करने के बाद हम कह सकते हैं कि परेशानी क्या है उसके बाद आता है समाधान तो समाधान वह आपको बताएंगे काउंसलिंग भी हो सकती है हो सकता है आपको anti-anxiety देनी पड़े दवाई की जरूरत पड़े और उसके अलावा और कौन-कौन से आपको सुसाइड करने हैं क्या करना है वह सब आपको अच्छे से बताएंगे
Likes  0  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फोबिया का झूला कन्हैया फोबिया की बात की जाए तो बहुत से लोगों में रहती है हर चीज हर लोगों को बिना किसी डर रहती है तो जिस डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं वह कोरे कमेंट करेंगे मिंटू आपको प्रॉपर अब से क्वेश्...
जवाब पढ़िये
फोबिया का झूला कन्हैया फोबिया की बात की जाए तो बहुत से लोगों में रहती है हर चीज हर लोगों को बिना किसी डर रहती है तो जिस डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं वह कोरे कमेंट करेंगे मिंटू आपको प्रॉपर अब से क्वेश्चन आंसर करते हैं उसके बाद आपको वहां पर कुछ चीजें कमेंट करते हैं उसे आप फॉलो करें और यह नार्मल होती आपकी योगा प्राणायाम और अपने आपको बिजी रखेंगे तो इस तरह से अभिषेक कम कर पाएंगे
Likes  0  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Mujhe Phobia Ke Lakshan Hain Jaise Kisi Ko Chhune Se Dar Lagna Man Mein Dar Rehta Hai Ki Kuch Galat Na Ho Jaye Kisi Bhi Jeev Se Dar Lagta Hai Ise Sahi Karne Ke Liye Main Kya Karu,I Have Symptoms Of Phobia Such As Being Afraid To Touch Someone, Fear In Mind That Nothing Goes Wrong, Scared Of Any Creature, What Should I Do To Correct It?,


vokalandroid