भारतीय संगीत में संगीतकारों का अमूल्य योगदान क्या हैं? ...

भारतीय संगीत को समुन्नत करने में संगीतकारों का अमूल्य योगदान रहा है। इनमें से इनके नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं, जैसे नौशाद, शंकर-जयकिशन, रवि, मदनमोहन, सी. रामचन्द्र, खय्याम, एआर रहमान, अनिल बिश्वास, रोशन आदि। इनके अलावा भी अनेक नामीगिरामी तथा गुमनाम संगीतकारों ने भारतीय संगीत को समुन्नत किया है। यह परंपरा आज भी जारी है।
Romanized Version
भारतीय संगीत को समुन्नत करने में संगीतकारों का अमूल्य योगदान रहा है। इनमें से इनके नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं, जैसे नौशाद, शंकर-जयकिशन, रवि, मदनमोहन, सी. रामचन्द्र, खय्याम, एआर रहमान, अनिल बिश्वास, रोशन आदि। इनके अलावा भी अनेक नामीगिरामी तथा गुमनाम संगीतकारों ने भारतीय संगीत को समुन्नत किया है। यह परंपरा आज भी जारी है।Bhartiya Sangeet Co Samunnat Karne Mein Sangitakaron Ka Amulya Yogdan Raha Hai Inamen Se Inke Naam Vishesh Roop Se Ullekhniya Hain Jaise Naushad Shankar Jaikishan Ravi Madanmohan C Ramchandra Khayyam AR Rahman Anil Biswas Roshan Aadi Inke Alaava Bhi Aneka Namigirami Tatha Gumnaam Sangitakaron Ne Bhartiya Sangeet Co Samunnat Kiya Hai Yeh Paramparaa Aj Bhi Zari Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

भारतीय संगीत वाद्ययंत्रों को व्यापक रूप से कैसे वर्गीकृत किया जा सकता है? ...

एक संगीत वाद्य यंत्र संगीत वाद्ययंत्र बनाने के लिए बनाया या अनुकूलित एक उपकरण है। सिद्धांत रूप में, ध्वनि उत्पन्न करने वाली किसी भी वस्तु को संगीत वाद्ययंत्र माना जा सकता है-यह उद्देश्य के माध्यम से हजवाब पढ़िये
ques_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Bharatiya Sangeet Mein Sangeetakaaron Ka Amuly Yogdan Kya Hain,


vokalandroid