मोक्ष और जीवन मे क्या होना चाहिए? ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
संसार आगमन जन्म-मरण और नशा वृत्त का केंद्र है इस अवधि प्रपंच से मुक्त पाना ही मोक्ष है और सभी दर्शनीय प्रणालियों नहीं संसार के दुख में स्वभाव को स्वीकार किया है और इसे मुक्त होने के लिए कर मर गया ज्ञान मार्ग का रास्ता अपनाया है वह इस तरह के जीवन की अंतिम परिणीत है इस पराथमिक मूल्य मानकर जीवन के प्रारंभ उद्देश्य के रूप में स्वीकार किया गया है मुख्य को वास्तु सत्य के रूप में स्वीकार करना कठिन है सफलता सभी प्रणालियों में मुक्त करना कल्पना प्राय है असत्य माओवादी एक व्यक्ति की अनुमति की शिद्दत हो पाता हैSansar Aagaman Janm Maran Aur Nasha Vritt Ka Kendra Hai Is Avadhi Prapanch Se Mukt Pana Hi Moksha Hai Aur Sabhi Darshaneey Pranaleeyon Nahi Sansar Ke Dukh Mein Swabhav Ko Sweekar Kiya Hai Aur Ise Mukt Hone Ke Liye Kar Mar Gaya Gyaan Marg Ka Rasta Apnaya Hai Wah Is Tarah Ke Jeevan Ki Antim Parinit Hai Is Parathmik Mulya Manakar Jeevan Ke Prarambh Uddeshya Ke Roop Mein Sweekar Kiya Gaya Hai Mukhya Ko Vastu Satya Ke Roop Mein Sweekar Karna Kathin Hai Safalta Sabhi Pranaleeyon Mein Mukt Karna Kalpana Paraya Hai Asatya Maovaadi Ek Vyakti Ki Anumati Ki Shiddat Ho Pata Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Moksha Aur Jeevan Me Kya Hona Chahiye





मन में है सवाल?