वास्तविक ब्राह्मण कौन होता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वेदों के अनुसार जो असली ब्राह्मण होता है उसमें एक ग्यारह हो गया होती है जिसमें पहली होती है कि उसमें क्षमा करने की शक्ति हो दूसरी है कि उसको हर किसी की तरफ दया वाली की दृष्टि रखें तीसरी है पवित्रता हो ...जवाब पढ़िये

वेदों के अनुसार जो असली ब्राह्मण होता है उसमें एक ग्यारह हो गया होती है जिसमें पहली होती है कि उसमें क्षमा करने की शक्ति हो दूसरी है कि उसको हर किसी की तरफ दया वाली की दृष्टि रखें तीसरी है पवित्रता होती है कि वह सच्चाई का मार्ग अपनाया पाचवी है कि उसे हर एक चीज पर हर एक को कभी भटके नहीं बेसिकली उसको अपने हर एक का प्रलोभन पर कंट्रोल तीसरा 8 तारीख छठा यह है कि उसे आप आप से बिल्कुल ही दूर हो जो पाप को मतलब करता ही नहीं हो जाता है कि जो हमेशा ज्ञान खोज था वह आठवां है कि उसे आप हमेशा दूसरे को सिखाना रहता है यारी अपना वह ज्ञान बढ़ता रहे और नवा है कि उसे वेदों का सही 11 दसवां है कि उसे ध्यान करने की याद खूबी हो ध्यान कर सके वह अच्छे से और सबसे इंपोर्टेंट और एक ग्यारह है कि उसे ब्रह्म का ज्ञान हो इसका मतलब यह है कि उसे पता है कि ब्रह्मा ही है यानी जो ब्रह्मांड है उसमें हम बहुत छोटे हैं और रक्त हमें बरसा अपने आप को बड़ा नहीं समझना चाहिए और ना ही हमें हमेशा पैसे और ताकत के पीछे दौड़ना चाहिए धन्यवादVedon Ke Anusar Jo Asli Brahman Hota Hai Usamen Ek Gyarah Ho Gaya Hoti Hai Jisme Pehli Hoti Hai Ki Usamen Kshama Karne Ki Shakti Ho Dusri Hai Ki Usko Har Kisi Ki Taraf Daya Wali Ki Drishti Rakhen Teesri Hai Pavitrata Hoti Hai Ki Wah Sacchai Ka Marg Apnaya Pachvi Hai Ki Use Har Ek Cheez Par Har Ek Ko Kabhi Bhatke Nahi Basically Usko Apne Har Ek Ka Pralobhan Par Control Teesra 8 Tarikh Chhatha Yeh Hai Ki Use Aap Aap Se Bilkul Hi Dur Ho Jo Paap Ko Matlab Karta Hi Nahi Ho Jata Hai Ki Jo Hamesha Gyaan Khoj Tha Wah Aathwan Hai Ki Use Aap Hamesha Dusre Ko Sikhaana Rehta Hai Yaari Apna Wah Gyaan Badhta Rahe Aur Nava Hai Ki Use Vedon Ka Sahi 11 Dasavan Hai Ki Use Dhyan Karne Ki Yaad Khoobi Ho Dhyan Kar Sake Wah Acche Se Aur Sabse Important Aur Ek Gyarah Hai Ki Use Brahma Ka Gyaan Ho Iska Matlab Yeh Hai Ki Use Pata Hai Ki Brahma Hi Hai Yani Jo Brahmand Hai Usamen Hum Bahut Chote Hain Aur Rakta Hume Barsha Apne Aap Ko Bada Nahi Samajhna Chahiye Aur Na Hi Hume Hamesha Paise Aur Takat Ke Piche Daudana Chahiye Dhanyavad
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ब्राह्मण वर्ण व्यवस्था का सर्वोच्च वर्ग है ऐतिहासिक रूप हिंदू वर्ण व्यवस्था में चार वर्ण होते हैं ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य तथा शूद्र यास्क मुनि के निरुक्त के अनुसार ब्रह्म जानाति ब्राह्मण दामन वह जो ब् ...जवाब पढ़िये

ब्राह्मण वर्ण व्यवस्था का सर्वोच्च वर्ग है ऐतिहासिक रूप हिंदू वर्ण व्यवस्था में चार वर्ण होते हैं ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य तथा शूद्र यास्क मुनि के निरुक्त के अनुसार ब्रह्म जानाति ब्राह्मण दामन वह जो ब्रह्म को जानता है अतः ब्राह्मण का अर्थ है ईश्वर का ज्ञाता यद्यपि भारतीय जनसंख्या में ब्राह्मणों का प्रतिशत कम है तथापि धर्म संस्कृति कला तथा शिक्षा के क्षेत्र में इनका योगदान अपरिमित हैBrahman Varn Vyavastha Ka Sarvoch Varg Hai Aetihasik Roop Hindu Varn Vyavastha Mein Char Varn Hote Hain Brahman Kshatriy Vaiishay Tatha Shudra Yask Muni Ke Nirukt Ke Anusar Brahma Janati Brahman Daman Wah Jo Brahma Ko Jaanta Hai Atah Brahman Ka Arth Hai Ishwar Ka Gyata Yadyapi Bhartiya Jansankhya Mein Brahmanon Ka Pratishat Kum Hai Tathapi Dharm Sanskriti Kala Tatha Shiksha Ke Kshetra Mein Inka Yogdan Aparimit Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Vastavik Brahman Kaun Hota Hai