ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य,शूद्र यह लोग कौन होते हैं?। ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र यह लोग अलग-अलग जातियां हैं ना जो पहले के समय में लोगों ने बनाई थी हमारे समाज में और अभी भी है फैली हुई है और अभी भी लोग वह अपने आप को टैलेंट दिखाई करते हैं इसकी ब्राह्मण मतलब जो लोग पूजा-पाठ करते हैं या जिन को धर्म का पूरा ज्ञान होता है क्षत्रिय ऐसे लोग हैं जो लोग लड़ाईयां यानी वर्ष में जाते थे या नहीं आ सकी राजा लोग हो गए वह लोग जो राज का संचालन करते थे वैसे हो गए जो लोग बिजनेस करते थे यानी कि या कारोबारी लोग और शूद्र जो होते थे वह बिजली का काम करने वाले नौकर टाइप किया जो छोटे छोटे छोटे काम होते थे वह लोग करते थेBrahman Kshatriy Vaiishay Shudra Yeh Log Alag Alag Jatiyaan Hain Na Jo Pehle Ke Samay Mein Logon Ne Banai Thi Hamare Samaaj Mein Aur Abhi Bhi Hai Faili Hui Hai Aur Abhi Bhi Log Wah Apne Aap Ko Talent Dikhai Karte Hain Iski Brahman Matlab Jo Log Puja Path Karte Hain Ya Jin Ko Dharm Ka Pura Gyaan Hota Hai Kshatriy Aise Log Hain Jo Log Ladaiyan Yani Varsh Mein Jaate The Ya Nahi Aa Saki Raja Log Ho Gaye Wah Log Jo Raj Ka Sanchalan Karte The Waise Ho Gaye Jo Log Business Karte The Yani Ki Ya Kaarobari Log Aur Shudra Jo Hote The Wah Bijli Ka Kaam Karne Wale Naukar Type Kiya Jo Chote Chote Chote Kaam Hote The Wah Log Karte The
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखे ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र यह चारों ही हमारी वर्ण व्यवस्था के चार वर्ण हैं और इन सब टीचरों की उत्पत्ति के संदर्भ में यजुर्वेद का एक मंत्र आता है जिस मंत्र के अनुसार ब्राह्मणों की उत्पत्ति हुई है ईश्वर के मुख से और क्षत्रियों की उत्पत्ति होती है ईश्वर की भुजाओं से ईश्वर के उद्यान एवं के पेट से उत्पत्ति होती है पैसों की और ईश्वर के जो चरण कमल हैं वहां से उत्पत्ति होती है सितारों की अब जो ब्राह्मण हैं ब्राह्मण का कर्म है कि वह शास्त्रों का अध्ययन अध्यापन करें और धर्म के उत्थान हेतु कार्य करें क्षत्रिय वह जो धर्म के हैं जो धर्म की रक्षा हेतु जो धार्मिक लोगों की रक्षा हेतु जो चारों वर्णों की रक्षा हेतु शस्त्र बल का प्रयोग करें जो धर्म के लिए युद्ध करे वह क्षत्रिय जो धर्म के लिए बाहु बल का प्रयोग कर सकें वह क्षत्रिय और वैश्य हैं वैश्य असल में वैश्या का काम यह क्या वह धर्म की रक्षा हेतु चारों वर्णों की रक्षा हेतु राज्य हेतु अपने समाज हेतु अर्थ का प्रबंध करें एवं वैश्य और शूद्र शूद्र को लेकर हमारे समाज में काफी भ्रांतियां फैलाई गई है कि वह शूद्रों पर अत्याचार हुआ शूद्रों पर अत्याचार व शत्रु को नीच माना गया वह माना गया जबकि लेकिन सूत्रों की उत्पत्ति यजुर्वेद बताता है कि सूत्रों की उत्पत्ति ईश्वर के चरणों चरणों से हुई है ईश्वर के चरणों का अर्थ यह हुआ हम लोग जब मंदिर में जाते हैं तो सबसे पहले ईश्वर के चरणों में ध्यान करता अक्सर कहा भी जाता है कि हम तो आपके चरणों के दास है तू जिन चरणों में 24 घंटे रहने का एक वक्त का स्वप्न होता है उन चरणों से अधिक और शूद्र जन्म लेता है तो हम लोग उस सूद्र के प्रति किसी प्रकार का गलत बात तो राखी नहीं सकते हैं शास्त्रों में कुछ नियम है उन नियमों के अंतर्गत उन्हें भी रहना होगा हमें भी रहना होगा अगर वह शूद्र का काम सिर्फ इतना है कि वह चारों वर्णों की सेवा कर सके धन्यवादDekhe Brahman Kshatriy Vaiishay Aur Shudra Yeh Charo Hi Hamari Varn Vyavastha Ke Char Varn Hain Aur In Sab "ticharon Ki Utpatti Ke Sandarbh Mein Yajurved Ka Ek Mantra Aata Hai Jis Mantra Ke Anusar Brahmanon Ki Utpatti Hui Hai Ishwar Ke Mukh Se Aur Kshtriyo Ki Utpatti Hoti Hai Ishwar Ki Bhujaon Se Ishwar Ke Udhyan Evam Ke Pet Se Utpatti Hoti Hai Paison Ki Aur Ishwar Ke Jo Charan Kamal Hain Wahan Se Utpatti Hoti Hai Sitaron Ki Ab Jo Brahman Hain Brahman Ka Karm Hai Ki Wah Shashtro Ka Adhyayan Adhyapan Karen Aur Dharm Ke Utthan Hetu Karya Karen Kshatriy Wah Jo Dharm Ke Hain Jo Dharm Ki Raksha Hetu Jo Dharmik Logon Ki Raksha Hetu Jo Charo Varnon Ki Raksha Hetu Shastr Bal Ka Prayog Karen Jo Dharm Ke Liye Yudh Kare Wah Kshatriy Jo Dharm Ke Liye Baahu Bal Ka Prayog Kar Saken Wah Kshatriy Aur Vaiishay Hain Vaiishay Asal Mein Vaishya Ka Kaam Yeh Kya Wah Dharm Ki Raksha Hetu Charo Varnon Ki Raksha Hetu Rajya Hetu Apne Samaaj Hetu Arth Ka Prabandh Karen Evam Vaiishay Aur Shudra Shudra Ko Lekar Hamare Samaaj Mein Kafi Bhrantiyan Failai Gayi Hai Ki Wah Shudron Par Atyachar Hua Shudron Par Atyachar V Shatru Ko Neech Mana Gaya Wah Mana Gaya Jabki Lekin Sootro Ki Utpatti Yajurved Batata Hai Ki Sootro Ki Utpatti Ishwar Ke Charanon Charanon Se Hui Hai Ishwar Ke Charanon Ka Arth Yeh Hua Hum Log Jab Mandir Mein Jaate Hain To Sabse Pehle Ishwar Ke Charanon Mein Dhyan Karta Aksar Kaha Bhi Jata Hai Ki Hum To Aapke Charanon Ke Das Hai Tu Jin Charanon Mein 24 Ghante Rehne Ka Ek Waqt Ka Swapn Hota Hai Un Charanon Se Adhik Aur Shudra Janm Leta Hai To Hum Log Us Sudra Ke Prati Kisi Prakar Ka Galat Baat To Rakhi Nahi Sakte Hain Shashtro Mein Kuch Niyam Hai Un Niyamon Ke Antargat Unhen Bhi Rehna Hoga Hume Bhi Rehna Hoga Agar Wah Shudra Ka Kaam Sirf Itna Hai Ki Wah Charo Varnon Ki Seva Kar Sake Dhanyavad
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Brahman Kshatriy Vaiishay Shudra Yeh Log Kaun Hote Hain





मन में है सवाल?