नोटबंदी पर भारत पर क्या क्या असर पड़ा ? ...

500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी जो नोटबंदी भारत में हुआ उसके सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही चीजें देखने को...जवाब पढ़िये
देखी जो नोटबंदी भारत में हुआ उसके सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही चीजें देखने को मिली सकारात्मक कैसे लेकिन नोटबंदी मिली इसलिए किया गया था ताकि जो ब्लैक मनी भारत में दिन भर दिन काफी ज्यादा बढ़ रहा है उसको रोकने के लिए दूसरी चीज नक्सलवादियों को जो सपना मनी को सप्लाई किया जाता है किसी चीज जो टेररिज्म इन अ टेररिस्ट बढ़ रहा था भारत में फंडिंग हो रही थी इन सब्जेक्ट चीजों को रोकने के लिए नोटबंदी की गई थी पहले थी आप समझे कि जितने भी डेवलप्ड कंट्री कंट्रीस नोटबंदी करती है मोड की नोट नई नोट प्रिंट करती है टाइम टू टाइम इन सब चीजों को रोकने के लिए टाइप तो अच्छा था लेकिन की प्रॉपर तरीके से एयरप्लेन इंप्लीमेंट नहीं हो पाया जैसी प्राइवेट हॉस्पिटल्स में जो पुराने नोट को नहीं ले रहा था जिसकी वजह पेशेंट को बहुत दिक्कत हुई ठीक है और नई उसकी पेंटिंग बहुत धीरे-धीरे हो रही थी जिसकी वजह से आदमी को लाइन में लगना पढ़ रहा था और क्या कहते हैं जो हमारे शादियों में दिक्कत हो रही थी हालांकि डायलॉग बोला था कि शादी नहीं हो पाती है तो ऐसे कई सारी दिक्कतें हो रही थी तो बैकअप अच्छे से नहीं लिया गया घाटा यह हुआ कि जो गरीब लोग थे तो नोटबंदी होने के बाद बड़ी-बड़ी इंडस्ट्रीज का काम कुछ दिनों के लिए बंद हो गए जैसे गरीब लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा था रियल इस्टेट ठप हो गया रियल स्टेट हो गया यह अच्छा काम है मतलब ब्लैक मनी काफी उनके पास है तो वह बेकार हो गया यह चीज अच्छी है मैं यह बोलना चाहूंगा लेकिन बस प्रॉपर तरीके से इंप्लीमेंट होता और सब जो हमारा मैनेजमेंट है गवर्नमेंट को बहुत खराब है लोग चुपचाप बैंक से अपने नोट बदलवा रहे थे तो हमारे सिस्टम इतना करप्ट है तो इन चीजों वगैरा अच्छे से ध्यान दिया होता तो जो नोटबंदी का स्टेप है यह काफी अच्छा कारगर होता है लेकिन ऐसा नहीं हो पाया मैं बस यही बोलना चाहूंगा थैंक यूDekhi Jo Notebandi Bharat Mein Hua Uske Sakaratmak Aur Nakaratmak Dono Hi Cheezen Dekhne Ko Mili Sakaratmak Kaise Lekin Notebandi Mili Isliye Kiya Gaya Tha Taki Jo Black Money Bharat Mein Din Bhar Din Kafi Jyada Badh Raha Hai Usko Rokne Ke Liye Dusri Cheez Naksalavadiyon Ko Jo Sapna Money Ko Supply Kiya Jata Hai Kisi Cheez Jo Terrorism In A Terrorist Badh Raha Tha Bharat Mein Funding Ho Rahi Thi In Subject Chijon Ko Rokne Ke Liye Notebandi Ki Gayi Thi Pehle Thi Aap Samjhe Ki Jitne Bhi Developed Country Kantris Notebandi Karti Hai Mode Ki Note Nayi Note Print Karti Hai Time To Time In Sab Chijon Ko Rokne Ke Liye Type To Accha Tha Lekin Ki Proper Tarike Se Airplane Implement Nahi Ho Paya Jaisi Private Hospitals Mein Jo Purane Note Ko Nahi Le Raha Tha Jiski Wajah Patient Ko Bahut Dikkat Hui Theek Hai Aur Nayi Uski Painting Bahut Dhire Dhire Ho Rahi Thi Jiski Wajah Se Aadmi Ko Line Mein Lagna Padh Raha Tha Aur Kya Kehte Hain Jo Hamare Shadiyo Mein Dikkat Ho Rahi Thi Halanki Dialogue Bola Tha Ki Shadi Nahi Ho Pati Hai To Aise Kai Saree Dikkaten Ho Rahi Thi To Backup Acche Se Nahi Liya Gaya Ghata Yeh Hua Ki Jo Garib Log The To Notebandi Hone Ke Baad Badi Badi Industries Ka Kaam Kuch Dinon Ke Liye Band Ho Gaye Jaise Garib Logon Ko Rojgar Nahi Mil Raha Tha Real Estate Thap Ho Gaya Real State Ho Gaya Yeh Accha Kaam Hai Matlab Black Money Kafi Unke Paas Hai To Wah Bekar Ho Gaya Yeh Cheez Acchi Hai Main Yeh Bolna Chahunga Lekin Bus Proper Tarike Se Implement Hota Aur Sab Jo Hamara Management Hai Government Ko Bahut Kharab Hai Log Chupchap Bank Se Apne Note Badlava Rahe The To Hamare System Itna Corrupt Hai To In Chijon Vagaira Acche Se Dhyan Diya Hota To Jo Notebandi Ka Step Hai Yeh Kafi Accha Kargar Hota Hai Lekin Aisa Nahi Ho Paya Main Bus Yahi Bolna Chahunga Thank You
Likes  7  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी का भारत पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही असर हुआ कारोबारियों के अनुसार इस...जवाब पढ़िये
नोटबंदी का भारत पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही असर हुआ कारोबारियों के अनुसार इस वर्ष निवेशकों में बढ़ोतरी होने से उत्पादन मांग व पूर्ति में वृद्धि होगी वर्ष 2017 18 में आर्थिक दर 6 पॉइंट 5% रहने का अनुमान लगाया जा रहा है जो कि मोदी सरकार के कार्यकाल की सबसे कम रेट है और इसका कारण जीएसटी और नोटबंदी को माना जा सकता है खरीफ उत्पादन में कमी आने से कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर घटकर आधी रह गई है सार्वजनिक प्रशासन रक्षा व अन्य क्षेत्रों की वृद्धि दर घटकर 2 पॉइंट 4% रहने का अनुमान है सरकार राजकोषीय घाटे को काबू में करने के लिए व्यय को नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है 2017 जीएसटी के कारण व्यवसाइयों के लिए अच्छा नहीं रहा लेकिन इस साल कारोबार की स्थिति अच्छी रहेगी क्योंकि जीएसटी व नोटबंदी का नकारा कसर लगभग खत्म हो गया है और नए साल में बाजार में मांग आपूर्ति की दशा और दिशा दोनों ही की बेहतर रहने की उम्मीद है रोजगार सृजन में बढ़ोतरी आएगी व्यापार उनका भी मानना है कि जीएसटी से उनका काम आसान हुआ हैNotebandi Ka Bharat Par Sakaratmak Aur Nakaratmak Dono Hi Asar Hua Karobariyo Ke Anusar Is Varsh Niveshako Mein Badhotari Hone Se Utpadan Maang V Purti Mein Vriddhi Hogi Varsh 2017 18 Mein Aarthik Dar 6 Point 5% Rehne Ka Anumaan Lagaya Ja Raha Hai Jo Ki Modi Sarkar Ke Karyakal Ki Sabse Kum Rate Hai Aur Iska Kaaran Gst Aur Notebandi Ko Mana Ja Sakta Hai Kharif Utpadan Mein Kami Aane Se Krishi Kshetra Ki Vriddhi Dar Ghatakar Aadhi Rah Gayi Hai Sarvajanik Prashasan Raksha V Anya Kshetro Ki Vriddhi Dar Ghatakar 2 Point 4% Rehne Ka Anumaan Hai Sarkar Rajkosiya Ghate Ko Kabu Mein Karne Ke Liye Vyay Ko Niyantrit Karne Ki Koshish Kar Rahi Hai 2017 Gst Ke Kaaran Vyavasaiyon Ke Liye Accha Nahi Raha Lekin Is Saal Karobaar Ki Sthiti Acchi Rahegi Kyonki Gst V Notebandi Ka Nukaraa Kesar Lagbhag Khatam Ho Gaya Hai Aur Naye Saal Mein Bazar Mein Maang Aapurti Ki Dasha Aur Disha Dono Hi Ki Behtar Rehne Ki Ummid Hai Rojgar Srijan Mein Badhotari Aayegi Vyapar Unka Bhi Manana Hai Ki Gst Se Unka Kaam Aasan Hua Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Notebandi Par Bharat Par Kya Kya Asar Pada ?, What Impact Did India Have On The Ban On Bondage?