कैंसर के बारे में आयुर्वेद क्या कहता है? क्या आयुर्वेद में आयुर्वेद लिखा गया था?

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद में कैंसर के बारे में बताएं क्या है और क्या बोलती पता है यह है कि उसमें भी काफी का नक्शा बताया हुआ है कि सारे लोग भी हैं जो अच्छी तरह से उसको डील करते हैं और काफी जा रे पंछी है जो अपने पुरखों से मिला हुआ कॉलेज से स्कोर अच्छा कर रहे हैं और बाकी सब ठीक है लेकिन थोड़ा बहुत ज्यादा है
Romanized Version
आयुर्वेद में कैंसर के बारे में बताएं क्या है और क्या बोलती पता है यह है कि उसमें भी काफी का नक्शा बताया हुआ है कि सारे लोग भी हैं जो अच्छी तरह से उसको डील करते हैं और काफी जा रे पंछी है जो अपने पुरखों से मिला हुआ कॉलेज से स्कोर अच्छा कर रहे हैं और बाकी सब ठीक है लेकिन थोड़ा बहुत ज्यादा हैAyurveda Mein Cancer Ke Bare Mein Bataye Kya Hai Aur Kya Bolti Pata Hai Yeh Hai Ki Usmein Bhi Kafi Ka Naksha Bataya Hua Hai Ki Saare Log Bhi Hain Jo Acchi Tarah Se Usko Deal Karte Hain Aur Kafi Ja Ray Panchhi Hai Jo Apne Purkhon Se Mila Hua College Se Score Accha Kar Rahe Hain Aur Baki Sab Theek Hai Lekin Thoda Bahut Zyada Hai
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

ques_icon

ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर के बारे में आयुर्वेदिक की जीत कहता है कि आपने अपनी पितृदोष को ध्यान में रखना कब तक तो बढ़ता जाएगा बढ़ता जाएगा बढ़ता जाएगा तो कैंसर में कर्क रोग में होता और कैंसर का हर व्यक्ति के लिए कारण अलग होता है इसीलिए कैंसर से अगर आपको बच के रहना है तो उसका ध्यान रखेंगे हमारे को इनक्रीस नहीं होगा वहीं पर सेटल रहेगा तो आपको खुद को बचा के मानसिक दोष से मुक्त कैसे प्रिंटेड
Romanized Version
कैंसर के बारे में आयुर्वेदिक की जीत कहता है कि आपने अपनी पितृदोष को ध्यान में रखना कब तक तो बढ़ता जाएगा बढ़ता जाएगा बढ़ता जाएगा तो कैंसर में कर्क रोग में होता और कैंसर का हर व्यक्ति के लिए कारण अलग होता है इसीलिए कैंसर से अगर आपको बच के रहना है तो उसका ध्यान रखेंगे हमारे को इनक्रीस नहीं होगा वहीं पर सेटल रहेगा तो आपको खुद को बचा के मानसिक दोष से मुक्त कैसे प्रिंटेडCancer Ke Bare Mein Ayurvedic Ki Jeet Kahata Hai Ki Aapne Apni Pitridosh Ko Dhyan Mein Rakhna Kab Tak Toh Badhta Jayega Badhta Jayega Badhta Jayega Toh Cancer Mein Kark Rog Mein Hota Aur Cancer Ka Har Vyakti Ke Liye Kaaran Alag Hota Hai Isliye Cancer Se Agar Aapko Bach Ke Rehna Hai Toh Uska Dhyan Rakhenge Hamare Ko Increase Nahi Hoga Wahin Par Settle Rahega Toh Aapko Khud Ko Bacha Ke Mansik Dosh Se Mukt Kaise Printed
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:


vokalandroid