Construction और Environment मे क्या सम्बन्ध हैं?इनके संदर्भ मे भारत की क्या स्थिति है? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी मेरे हिसाब से ही कंस्ट्रक्शन और एनवायरनमेंट का आपस में बहुत ज्यादा गहरा संबंध है इन के संदर्भ में अगर में भारत की स्थिति का बयान करुं तो सबसे पहले मैं यह कहूंगी कि अगर हम पुराने जमाने में देखे या कुछ साल पहले का और देखे तो इसलिए तो था कि भारत में बहुत ज्यादा ग्रीनरी थी बहुत ज्यादा पेड़ पौधे बहुत ज्यादा 100 रस थे जिसके कारण इन पेड़ पौधों के गाने जो भारत का एनवायरनमेंट था वह बहुत अच्छा था वह गलत था और अगर उस दौर को कंपेयर करें आज के इन्वायरमेंट से जब बिल्डिंग से पेड़ पौधे काट दिए गए हैं पेड़ पौधे का पेड़ पौधे पौधे को खत्म करके बहुत सारा कंस्ट्रक्शन करके बिल्डिंग वगैरा बनाई गई है ऊंची ऊंची इमारत बन रही है तो इन सबसे सबसे पहली चीज तो याद है कि पोलूशन है भारत में बहुत ज्यादा बढ़ गया है जो आजकल और जो हवा है हमारे मन में जो है जिससे हम सांस लेते हैं सबसे पहले तो हो ही प्यार नहीं रही है कंस्ट्रक्शन के कारण क्योंकि जो हवा है वो प्यार हो ही नहीं पा रही है क्योंकि पेड़ पौधे काट रहे हैं प्लीज कट रहे हैं तो वह क्वालिटी वह हवा कैसे तैयार होकर कहां से आएगी तो एक बहुत बड़ा दोनों में रिलेशन है कंस्ट्रक्शन एंड में जितनी कम कंस्ट्रक्शन होगी और जितनी ज्यादा पेड़ पौधे लगाएंगे उतना ही ज्यादा प्योर हमारा इन्वायरमेंट होगाJi Mere Hisab Se Hi Construction Aur Environment Ka Aapas Mein Bahut Jyada Gehra Sambandh Hai In Ke Sandarbh Mein Agar Mein Bharat Ki Sthiti Ka Bayan Karun To Sabse Pehle Main Yeh Kahungi Ki Agar Hum Purane Jamaane Mein Dekhe Ya Kuch Saal Pehle Ka Aur Dekhe To Isliye To Tha Ki Bharat Mein Bahut Jyada Greenery Thi Bahut Jyada Ped Paudhe Bahut Jyada 100 Ras The Jiske Kaaran In Ped Paudho Ke Gaane Jo Bharat Ka Environment Tha Wah Bahut Accha Tha Wah Galat Tha Aur Agar Us Daur Ko Kampeyar Karen Aaj Ke Environment Se Jab Building Se Ped Paudhe Kaat Diye Gaye Hain Ped Paudhe Ka Ped Paudhe Paudhe Ko Khatam Karke Bahut Saara Construction Karke Building Vagaira Banai Gayi Hai Unchi Unchi Imarat Ban Rahi Hai To In Sabse Sabse Pehli Cheez To Yaad Hai Ki Pollution Hai Bharat Mein Bahut Jyada Badh Gaya Hai Jo Aajkal Aur Jo Hawa Hai Hamare Man Mein Jo Hai Jisse Hum Saans Lete Hain Sabse Pehle To Ho Hi Pyar Nahi Rahi Hai Construction Ke Kaaran Kyonki Jo Hawa Hai Vo Pyar Ho Hi Nahi Pa Rahi Hai Kyonki Ped Paudhe Kaat Rahe Hain Please Cut Rahe Hain To Wah Quality Wah Hawa Kaise Taiyaar Hokar Kahan Se Aayegi To Ek Bahut Bada Dono Mein Relation Hai Construction End Mein Jitni Kum Construction Hogi Aur Jitni Jyada Ped Paudhe Lgaenge Utana Hi Jyada Pure Hamara Environment Hoga
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखिए कंस्ट्रक्शन लाइन पेमेंट भी यह संबंध है कि जितना ज्यादा लेवल ऑफ कंस्ट्रक्शन बढ़ेगा उतना ज्यादा एनवायरनमेंट भी सेट हो जाएगा अगर प्रोफाइल पिक नहीं लगाई तो बहुत साल पहले जो यह समय में भारत के गर्म बात करे तो आदत है और गांव का इलाका था जंगल साधती पीरजादा थे और अब हर जगह बना दी गई है सीमेंट के जंगल बन गया हर जगह बड़ी बड़ी बिल्डिंग बना दी गई है तो जोर से लॉस हुआ जो एनवायरनमेंट को लॉन्च हुआ उसके लिए तो कुछ भी नहीं किया गया कि पेड़ों से जंगल से बहुत सारे फायदे होते हैं ऑक्सीजन अच्छा मिलता है बारिश अच्छी होती है Sholay रोशन नहीं होता मर स्लाइडिंग नहीं होती और बहुत ही अनेकों सारी चीजें मिलती है और जिस हिसाब से यह कंस्ट्रक्शन नहीं चल रहा है उससे पोलूशन इतना ज्यादा हो गया है ना कि सिर्फ प्राइवेट को सिर्फ इस वजह से खतरे की बेगम हो रहे हैं बल्कि जो वह कंस्ट्रक्शन के टाइप का जो वेस्ट होता है वह सारा पानी में बहा देते हैं जो मशीनों से धुंआ निकलता है वह हवा को खराब कर देता है जो मशीन नहीं चलती है उसे नॉइस पोलूशन हो जाता है तो उसके साथ में भारत की स्थिति बहुत ही खराब है क्योंकि कंस्ट्रक्शन रेट बढ़ रहे तुम्हारे मिनट के लिए तो कुछ भी नहीं किया जा रहा है अगर ऐसे ही चलता रहा तो आने वाले कुछ समय में तेल खत्म हो जायेंगे सिर्फ बिल्डिंग्स बचेंगे और फिर ऑक्सीजन मास्क लगा लगा कर घूमना पड़ेगा और आपके लिए भी ऑक्सीजन कहां से आएगा अगर बेटी नहीं बचेगी तो सच में बहुत अनामिक है और नई सेक्स लेने की बहुत जरूरत हैDekhie Construction Line Payment Bhi Yeh Sambandh Hai Ki Jitna Jyada Level Of Construction Badhega Utana Jyada Environment Bhi Set Ho Jayega Agar Profile Pic Nahi Lagai To Bahut Saal Pehle Jo Yeh Samay Mein Bharat Ke Garam Baat Kare To Aadat Hai Aur Gav Ka Ilaka Tha Jungle Sadhti Peerzada The Aur Ab Har Jagah Bana Di Gayi Hai Cement Ke Jungle Ban Gaya Har Jagah Badi Badi Building Bana Di Gayi Hai To Jor Se Loss Hua Jo Environment Ko Launch Hua Uske Liye To Kuch Bhi Nahi Kiya Gaya Ki Pedon Se Jungle Se Bahut Sare Fayde Hote Hain Oxygen Accha Milta Hai Barish Acchi Hoti Hai Sholay Roshan Nahi Hota Mar Sliding Nahi Hoti Aur Bahut Hi Anaiko Saree Cheezen Milti Hai Aur Jis Hisab Se Yeh Construction Nahi Chal Raha Hai Usse Pollution Itna Jyada Ho Gaya Hai Na Ki Sirf Private Ko Sirf Is Wajah Se Khatre Ki Begum Ho Rahe Hain Balki Jo Wah Construction Ke Type Ka Jo West Hota Hai Wah Saara Pani Mein Baha Dete Hain Jo Machino Se Dhunaa Nikalta Hai Wah Hawa Ko Kharab Kar Deta Hai Jo Machine Nahi Chalti Hai Use Nais Pollution Ho Jata Hai To Uske Saath Mein Bharat Ki Sthiti Bahut Hi Kharab Hai Kyonki Construction Rate Badh Rahe Tumhare Minute Ke Liye To Kuch Bhi Nahi Kiya Ja Raha Hai Agar Aise Hi Chalta Raha To Aane Wale Kuch Samay Mein Tel Khatam Ho Jayenge Sirf Buildings Bachenge Aur Phir Oxygen Mask Laga Laga Kar Ghumana Padega Aur Aapke Liye Bhi Oxygen Kahan Se Aayega Agar Beti Nahi Bachegee To Sach Mein Bahut Anaamik Hai Aur Nayi Sex Lene Ki Bahut Zaroorat Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देवी कंस्ट्रक्शन का सामान बहुत गहरा संबंध है मुझे पर्यावरण की रक्षा के लिए बहुत ज्यादा तिल का मतलब दौलत बढ़ती रही है ना की होती है बट फिर भी वह कंस्ट्रक्शन सभी लोग ज्यादा बढ़ा रहे हैं कि भारत की स्थिति के बारे में भारतीयों को एवं संस्कृति को कुछ पढ़ा ही नहीं घर बनाने के लिए कुछ भी मतलबDevi Construction Ka Saamaan Bahut Gehra Sambandh Hai Mujhe Paryavaran Ki Raksha Ke Liye Bahut Jyada Til Ka Matlab Daulat Badhti Rahi Hai Na Ki Hoti Hai But Phir Bhi Wah Construction Sabhi Log Jyada Badha Rahe Hain Ki Bharat Ki Sthiti Ke Baare Mein Bharatiyon Ko Evam Sanskriti Ko Kuch Padha Hi Nahi Ghar Banane Ke Liye Kuch Bhi Matlab
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


देखिए कंस्ट्रक्शन ऑफ इन्वायरमेंट का एक बहुत ही गहरा संबंध है उन दोनों के संबंध में संदर्भ में भारत की जो स्थिति है वह भी बहुत अजीब सी है क्योंकि देखिए अगर आप दोनों चीजों को साथ लेकर चलना चाहे तो वह बहुत कठिन होता है या तो आप कंस्ट्रक्शन बढ़ा सकते हैं या फिर बाय मेंट को बढ़ा सकते हैं इनमें को पढ़ाना मतलब उसको ज्यादा ग्रीन रतलाम तो कर्म कुछ सालों के पहले जाते हैं तो हम यह देखते हैं कि ग्रीन जी बहुत थी जो हमारा इन्वायरमेंट बहुत साफ सुथरा था पोलूशन कम था एकदम श्री कृष्ण गारमेंट्स अगर हम कुछ साल पहले की तरफ देखेंगे तो हमें इस तरीके का इन्वायरमेंट दिखता जो जिसकी हम आज सपना देखते हैं कि काश वह सही समय वापस आ जाए प्रथम तब देखे तो सब बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन यह कुछ था ही नहीं पूरे तरफ खेद होते थे जंगल बहुत थे और जो बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन थी यह बिल्कुल भी नहीं थी पर अगर वह आज के टाइम पर देखें तो पिक है क्या आपके आसपास बिल्डिंग बहुत ज्यादा है पर भाजपा के बहुत कम है और पहले इसका उल्टा होता था तो यह बदलाव आया है इससे यह दिख रहा है कि तू कंस्ट्रक्शन और इन्वायरमेंट है यह दोनों को साथ लेकर नहीं चल पा रहे हैं पहले हम आपस एनवायरनमेंट था तो कंस्ट्रक्शन नहीं थी अब कंस्ट्रक्शन हो गया तन्हाई में नहीं है और ऊंची मंजिलें तो बन गई है पर पोलूशन के चुटकुले बल है वह भी मुझे ही चले गए हैं तो हमें इस चीज को मद्देनजर देखते हुए कोई एक सलूशन निकालना चाहिए ताकि हमें दोनों चीजों को साथ लेकर चल सके और हमारे वातावरण पर हमारे 9:00 मिनट पर कंस्ट्रक्शन की वजह से कुछ दुविधा ना आए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखिए कंस्ट्रक्शन ऑफ इन्वायरमेंट का एक बहुत ही गहरा संबंध है उन दोनों के संबंध में संदर्भ में भारत की जो स्थिति है वह भी बहुत अजीब सी है क्योंकि देखिए अगर आप दोनों चीजों को साथ लेकर चलना चाहे तो वह बहुत कठिन होता है या तो आप कंस्ट्रक्शन बढ़ा सकते हैं या फिर बाय मेंट को बढ़ा सकते हैं इनमें को पढ़ाना मतलब उसको ज्यादा ग्रीन रतलाम तो कर्म कुछ सालों के पहले जाते हैं तो हम यह देखते हैं कि ग्रीन जी बहुत थी जो हमारा इन्वायरमेंट बहुत साफ सुथरा था पोलूशन कम था एकदम श्री कृष्ण गारमेंट्स अगर हम कुछ साल पहले की तरफ देखेंगे तो हमें इस तरीके का इन्वायरमेंट दिखता जो जिसकी हम आज सपना देखते हैं कि काश वह सही समय वापस आ जाए प्रथम तब देखे तो सब बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन यह कुछ था ही नहीं पूरे तरफ खेद होते थे जंगल बहुत थे और जो बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन थी यह बिल्कुल भी नहीं थी पर अगर वह आज के टाइम पर देखें तो पिक है क्या आपके आसपास बिल्डिंग बहुत ज्यादा है पर भाजपा के बहुत कम है और पहले इसका उल्टा होता था तो यह बदलाव आया है इससे यह दिख रहा है कि तू कंस्ट्रक्शन और इन्वायरमेंट है यह दोनों को साथ लेकर नहीं चल पा रहे हैं पहले हम आपस एनवायरनमेंट था तो कंस्ट्रक्शन नहीं थी अब कंस्ट्रक्शन हो गया तन्हाई में नहीं है और ऊंची मंजिलें तो बन गई है पर पोलूशन के चुटकुले बल है वह भी मुझे ही चले गए हैं तो हमें इस चीज को मद्देनजर देखते हुए कोई एक सलूशन निकालना चाहिए ताकि हमें दोनों चीजों को साथ लेकर चल सके और हमारे वातावरण पर हमारे 9:00 मिनट पर कंस्ट्रक्शन की वजह से कुछ दुविधा ना आएDekhie Construction Of Environment Ka Ek Bahut Hi Gehra Sambandh Hai Un Dono Ke Sambandh Mein Sandarbh Mein Bharat Ki Jo Sthiti Hai Wah Bhi Bahut Ajib Si Hai Kyonki Dekhie Agar Aap Dono Chijon Ko Saath Lekar Chalna Chahe To Wah Bahut Kathin Hota Hai Ya To Aap Construction Badha Sakte Hain Ya Phir By Ment Ko Badha Sakte Hain Inme Ko Padhana Matlab Usko Jyada Green Ratlam To Karm Kuch Salon Ke Pehle Jaate Hain To Hum Yeh Dekhte Hain Ki Green Ji Bahut Thi Jo Hamara Environment Bahut Saaf Suthara Tha Pollution Kum Tha Ekdam Shri Krishan Garments Agar Hum Kuch Saal Pehle Ki Taraf Dekhenge To Hume Is Tarike Ka Environment Dikhta Jo Jiski Hum Aaj Sapna Dekhte Hain Ki Kash Wah Sahi Samay Wapas Aa Jaye Pratham Tab Dekhe To Sab Building Construction Yeh Kuch Tha Hi Nahi Poore Taraf Khed Hote The Jungle Bahut The Aur Jo Building Construction Thi Yeh Bilkul Bhi Nahi Thi Par Agar Wah Aaj Ke Time Par Dekhen To Pic Hai Kya Aapke Aaspass Building Bahut Jyada Hai Par Bhajpa Ke Bahut Kum Hai Aur Pehle Iska Ulta Hota Tha To Yeh Badlav Aaya Hai Isse Yeh Dikh Raha Hai Ki Tu Construction Aur Environment Hai Yeh Dono Ko Saath Lekar Nahi Chal Pa Rahe Hain Pehle Hum Aapas Environment Tha To Construction Nahi Thi Ab Construction Ho Gaya Tanhai Mein Nahi Hai Aur Unchi Manjilen To Ban Gayi Hai Par Pollution Ke Chutkule Bal Hai Wah Bhi Mujhe Hi Chale Gaye Hain To Hume Is Cheez Ko Maddenajar Dekhte Hue Koi Ek Salution Nikalna Chahiye Taki Hume Dono Chijon Ko Saath Lekar Chal Sake Aur Hamare Vatavaran Par Hamare 9:00 Minute Par Construction Ki Wajah Se Kuch Duvidha Na Aaye
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Construction Aur Environment Me Kya Sambandh Hain Inke Sandarbh Me Bharat Ki Kya Sthiti Hai





मन में है सवाल?