search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

कारगिल युद्ध की तत्कालीन परिस्थितियाँ क्या थीं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज हमारे पास एक्सीडेंट नहीं कि हमारे पास है ना उनका प्रभाव नहीं था
Romanized Version
आज हमारे पास एक्सीडेंट नहीं कि हमारे पास है ना उनका प्रभाव नहीं थाAaj Hamare Paas Accident Nahi Ki Hamare Paas Hai Na Unka Prabhav Nahi Tha
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

अधिक जवाब


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कारगिल युद्ध युद्ध नहीं बल्कि कॉर्पोरेशन था जिसका नाम था ऑपरेशन विजय कारगिल हिमालय में स्थित है और जोजिला पास बंद होने की वजह से वह 7 महीने आता रहता है देश की सरजमी से हर साल पाकिस्तान और भारत की सेना के बीच में यह एक अंडरस्टैंडिंग थी कि पाकिस्तान की सेना वापस पाकिस्तान पहुंच जाएगी और हिंदुस्तान की सेना हिंदुस्तान वापस आ जाएगी तो टाइगर हिल हुआ और दो-तीन दिन जिस पर उन्होंने कैप्चर किया था जो पाकिस्तान की तरफ से हाइट पर थे और हिंदुस्तान की तरफ से खड़ी हुई खड़ी ऊंचाई पर थे उस ऊंचाई पर से पाकिस्तानी सैनिक हर साल अपने वापस चले आते थे और हिंदुस्तानी सैनिक अपने घर वापस आ जाते थे लेकिन 1998 में जब भारत ने अपने परमाणु हथियार विकसित कर लिया और पाकिस्तान ने भी उसके बाद 15 दिन के बाद उन्होंने कभी टेस्टिंग जारी कर दी चाइना की है उसे तो उस समय उन्होंने सोचा कि क्यों ना हम कश्मीर का कुछ हिस्सा कैप्चर करने की कोशिश क्यों ना करें तुमने की रणनीति बनाई और अपने सैनिकों और आतंकवादियों की मदद से जो कि दोनों पाकिस्तान की थी उनकी वजह से वहां पर जा कर एक बहुत सारे बनकर से बना दिए और मंदिर में जाकर रहने लगे भारतीय सेना नीचे आकर वापस जब वापस वह जाने लगी तो उनकी जितनी भी टिप्पणियां भारतीय सेना के जा रही थी वह वापस नहीं लौट के आ रही थी कुछ गांव वालों ने भी हमेशा गोली चलने की जगह बम बम धमाकों की आवाज सुनी थी तो उन्होंने जाकर भारतीय सेना को संदेश दिया तब जाकर सरकार हरकत में आई सरकार को पता चला कि वहां की टाइगर हिल पर पाकिस्तान ने कब्जा कर लिया है फिर भारतीय सेना ने और भारतीय एयरफोर्स में सबसे बड़ा योगदान दिया बोफोर्स तोप ने बहुत ज्यादा योगदान दिया उन पंकज को तोड़ने में पाकिस्तान को भारी नुकसान हुआ इसके बाद पाकिस्तान के मुख्य मुख्य प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी कहा था कि हमारे इतने ज्यादा सैनिक मारे गए थे जिस की गणना नहीं की जा सकती और भारतीय होने के नाते ऑपरेशन विजय को हम हमेशा सलाम करते रहेंगे उन वीरों को सलाम
Romanized Version
कारगिल युद्ध युद्ध नहीं बल्कि कॉर्पोरेशन था जिसका नाम था ऑपरेशन विजय कारगिल हिमालय में स्थित है और जोजिला पास बंद होने की वजह से वह 7 महीने आता रहता है देश की सरजमी से हर साल पाकिस्तान और भारत की सेना के बीच में यह एक अंडरस्टैंडिंग थी कि पाकिस्तान की सेना वापस पाकिस्तान पहुंच जाएगी और हिंदुस्तान की सेना हिंदुस्तान वापस आ जाएगी तो टाइगर हिल हुआ और दो-तीन दिन जिस पर उन्होंने कैप्चर किया था जो पाकिस्तान की तरफ से हाइट पर थे और हिंदुस्तान की तरफ से खड़ी हुई खड़ी ऊंचाई पर थे उस ऊंचाई पर से पाकिस्तानी सैनिक हर साल अपने वापस चले आते थे और हिंदुस्तानी सैनिक अपने घर वापस आ जाते थे लेकिन 1998 में जब भारत ने अपने परमाणु हथियार विकसित कर लिया और पाकिस्तान ने भी उसके बाद 15 दिन के बाद उन्होंने कभी टेस्टिंग जारी कर दी चाइना की है उसे तो उस समय उन्होंने सोचा कि क्यों ना हम कश्मीर का कुछ हिस्सा कैप्चर करने की कोशिश क्यों ना करें तुमने की रणनीति बनाई और अपने सैनिकों और आतंकवादियों की मदद से जो कि दोनों पाकिस्तान की थी उनकी वजह से वहां पर जा कर एक बहुत सारे बनकर से बना दिए और मंदिर में जाकर रहने लगे भारतीय सेना नीचे आकर वापस जब वापस वह जाने लगी तो उनकी जितनी भी टिप्पणियां भारतीय सेना के जा रही थी वह वापस नहीं लौट के आ रही थी कुछ गांव वालों ने भी हमेशा गोली चलने की जगह बम बम धमाकों की आवाज सुनी थी तो उन्होंने जाकर भारतीय सेना को संदेश दिया तब जाकर सरकार हरकत में आई सरकार को पता चला कि वहां की टाइगर हिल पर पाकिस्तान ने कब्जा कर लिया है फिर भारतीय सेना ने और भारतीय एयरफोर्स में सबसे बड़ा योगदान दिया बोफोर्स तोप ने बहुत ज्यादा योगदान दिया उन पंकज को तोड़ने में पाकिस्तान को भारी नुकसान हुआ इसके बाद पाकिस्तान के मुख्य मुख्य प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी कहा था कि हमारे इतने ज्यादा सैनिक मारे गए थे जिस की गणना नहीं की जा सकती और भारतीय होने के नाते ऑपरेशन विजय को हम हमेशा सलाम करते रहेंगे उन वीरों को सलामKargil Yudh Yudh Nahi Balki Cooperation Tha Jiska Naam Tha Operation Vijay Kargil Himalaya Mein Sthit Hai Aur Jojila Paas Band Hone Ki Wajah Se Wah 7 Mahine Aata Rehta Hai Desh Ki Sarjami Se Har Saal Pakistan Aur Bharat Ki Sena Ke Beech Mein Yeh Ek Understanding Thi Ki Pakistan Ki Sena Wapas Pakistan Pahunch Jayegi Aur Hindustan Ki Sena Hindustan Wapas Aa Jayegi To Tiger Hil Hua Aur Do Teen Din Jis Par Unhone Capture Kiya Tha Jo Pakistan Ki Taraf Se Height Par The Aur Hindustan Ki Taraf Se Khadi Hui Khadi Unchai Par The Us Unchai Par Se Pakistani Sainik Har Saal Apne Wapas Chale Aate The Aur Hindustani Sainik Apne Ghar Wapas Aa Jaate The Lekin 1998 Mein Jab Bharat Ne Apne Parmanu Hathiyar Viksit Kar Liya Aur Pakistan Ne Bhi Uske Baad 15 Din Ke Baad Unhone Kabhi Testing Jaari Kar Di China Ki Hai Use To Us Samay Unhone Socha Ki Kyun Na Hum Kashmir Ka Kuch Hissa Capture Karne Ki Koshish Kyun Na Karen Tumne Ki Rananiti Banai Aur Apne Sainikon Aur Aatankwadion Ki Madad Se Jo Ki Dono Pakistan Ki Thi Unki Wajah Se Wahan Par Ja Kar Ek Bahut Sare Bankar Se Bana Diye Aur Mandir Mein Jaakar Rehne Lage Bhartiya Sena Neeche Aakar Wapas Jab Wapas Wah Jaane Lagi To Unki Jitni Bhi Tippaniyaan Bhartiya Sena Ke Ja Rahi Thi Wah Wapas Nahi Lot Ke Aa Rahi Thi Kuch Gav Walon Ne Bhi Hamesha Goli Chalne Ki Jagah Bomb Bomb Dhamaakon Ki Aawaj Suni Thi To Unhone Jaakar Bhartiya Sena Ko Sandesh Diya Tab Jaakar Sarkar Harkat Mein Eye Sarkar Ko Pata Chala Ki Wahan Ki Tiger Hil Par Pakistan Ne Kabja Kar Liya Hai Phir Bhartiya Sena Ne Aur Bhartiya Airforce Mein Sabse Bada Yogdan Diya Bofors Top Ne Bahut Jyada Yogdan Diya Un Pankaj Ko Todne Mein Pakistan Ko Bhari Nuksan Hua Iske Baad Pakistan Ke Mukhya Mukhya Pradhanmantri Nawaj Sharif Ne Bhi Kaha Tha Ki Hamare Itne Jyada Sainik Maare Gaye The Jis Ki Ganana Nahi Ki Ja Sakti Aur Bhartiya Hone Ke Naate Operation Vijay Ko Hum Hamesha Salaam Karte Rahenge Un Wiro Ko Salaam
Likes  7  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पाकिस्तान की सेना 1998 से ही कारगिल युद्ध करने की कोशिश में थी कारगिल हमारे पर है जो श्रीनगर से 215 किलोमीटर की दूरी पर है यह हिस्सा जोजिला पास बंद होने के कारण करीब 7 महीने देश से अलग रहता है उन दिनों में कारगिल को कोई जानता नहीं था लेकिन 999 के बाद कारगिल के साथ ही यहां के छोटे-छोटे गांव की सुर्खियों में आ गए वजह थी कारगिल युद्ध सरकार को खबर मिली है कि पाकिस्तान ने कारगिल के एक हिस्से पर कब्जा कर लिया है दुश्मनों को अपनी सरजमी से हटाने के लिए ऑपरेशन विजय शुरु हुआ इसके बाद कारगिल अखबारों व न्यूज़ चैनल पर छा गया कारगिल युद्ध शुरू होने से कुछ पहले ही मुशर्रफ भारत आए थे विशेषज्ञों के अनुसार कारगिल की लड़ाई उम्मीद से ज्यादा खतरनाक थी भारतीय सेना पाकिस्तान सेना पर भारी पड़ रही थी इसलिए मुशर्रफ परमाणु हथियार इस्तेमाल करने की तैयारी कर ली थी पाकिस्तान ने 1998 में ही परमाणु हथियारों का परीक्षण कर लिया था इस युद्ध में पाकिस्तान ने 200 से ज्यादा सैनिक हुए नवाज शरीफ ने भी माना था कि कारगिल युद्ध पाकिस्तान के लिए आप ददुआ 8 में कोई युद्ध शुरू हुआ था और 26 जुलाई को खत्म हुआ था करीब 2 महीने चलाइए युद्ध भारतीय सेना के साहस और ताकत का एक ऐसा उदाहरण है जिस पर हर भारतीय को गर्व है
Romanized Version
पाकिस्तान की सेना 1998 से ही कारगिल युद्ध करने की कोशिश में थी कारगिल हमारे पर है जो श्रीनगर से 215 किलोमीटर की दूरी पर है यह हिस्सा जोजिला पास बंद होने के कारण करीब 7 महीने देश से अलग रहता है उन दिनों में कारगिल को कोई जानता नहीं था लेकिन 999 के बाद कारगिल के साथ ही यहां के छोटे-छोटे गांव की सुर्खियों में आ गए वजह थी कारगिल युद्ध सरकार को खबर मिली है कि पाकिस्तान ने कारगिल के एक हिस्से पर कब्जा कर लिया है दुश्मनों को अपनी सरजमी से हटाने के लिए ऑपरेशन विजय शुरु हुआ इसके बाद कारगिल अखबारों व न्यूज़ चैनल पर छा गया कारगिल युद्ध शुरू होने से कुछ पहले ही मुशर्रफ भारत आए थे विशेषज्ञों के अनुसार कारगिल की लड़ाई उम्मीद से ज्यादा खतरनाक थी भारतीय सेना पाकिस्तान सेना पर भारी पड़ रही थी इसलिए मुशर्रफ परमाणु हथियार इस्तेमाल करने की तैयारी कर ली थी पाकिस्तान ने 1998 में ही परमाणु हथियारों का परीक्षण कर लिया था इस युद्ध में पाकिस्तान ने 200 से ज्यादा सैनिक हुए नवाज शरीफ ने भी माना था कि कारगिल युद्ध पाकिस्तान के लिए आप ददुआ 8 में कोई युद्ध शुरू हुआ था और 26 जुलाई को खत्म हुआ था करीब 2 महीने चलाइए युद्ध भारतीय सेना के साहस और ताकत का एक ऐसा उदाहरण है जिस पर हर भारतीय को गर्व हैPakistan Ki Sena 1998 Se Hi Kargil Yudh Karne Ki Koshish Mein Thi Kargil Hamare Par Hai Jo Srinagar Se 215 Kilometre Ki Doori Par Hai Yeh Hissa Jojila Paas Band Hone Ke Kaaran Karib 7 Mahine Desh Se Alag Rehta Hai Un Dinon Mein Kargil Ko Koi Jaanta Nahi Tha Lekin 999 Ke Baad Kargil Ke Saath Hi Yahan Ke Chote Chote Gav Ki Surkhiyon Mein Aa Gaye Wajah Thi Kargil Yudh Sarkar Ko Khabar Mili Hai Ki Pakistan Ne Kargil Ke Ek Hisse Par Kabja Kar Liya Hai Dushmano Ko Apni Sarjami Se Hatane Ke Liye Operation Vijay Shuru Hua Iske Baad Kargil Akhabaron V News Channel Par Cha Gaya Kargil Yudh Shuru Hone Se Kuch Pehle Hi Musharraf Bharat Aaye The Vishesagyon Ke Anusar Kargil Ki Ladai Ummid Se Jyada Khatarnak Thi Bhartiya Sena Pakistan Sena Par Bhari Padh Rahi Thi Isliye Musharraf Parmanu Hathiyar Istemal Karne Ki Taiyari Kar Lee Thi Pakistan Ne 1998 Mein Hi Parmanu Hathiyaron Ka Parikshan Kar Liya Tha Is Yudh Mein Pakistan Ne 200 Se Jyada Sainik Hue Nawaj Sharif Ne Bhi Mana Tha Ki Kargil Yudh Pakistan Ke Liye Aap Daduaa 8 Mein Koi Yudh Shuru Hua Tha Aur 26 July Ko Khatam Hua Tha Karib 2 Mahine Chalaiye Yudh Bhartiya Sena Ke Sahas Aur Takat Ka Ek Aisa Udaharan Hai Jis Par Har Bhartiya Ko Garv Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kargil Yudh Ki Tatkalin Paristhitiyan Kya Thi,What Were The Circumstances Of The Kargil War?,Kargil Ki Ladai Kab Hui Thi,


vokalandroid