आरक्षण मुक्त देश होना चाहिए कि नहीं होना चाहिए अपनी राय दें ? ...

Likes  0  Dislikes

7 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
आरक्षण मुक्त देश बिल्कुल होना चाहिए| लेकिन इस की संकल्पना जब की गई थी, तब बी आर अंबेडकर ने सोचा था कि अगर हम आरक्षण अभी से हटा देते हैं तो हमारे दलित वर्ग जो हैं वह पिछड़े हैं और पिछड़ते जाएंगे| अभी 2018 तक भी स्थिति इतनी खराब है, तो उन्होंने उस समय आरक्षण को बनाया और उन्होंने कहा कि इसका हर 10 साल में रिव्यू किया जाए और अगर स्थिति सुधरी तो उसको हटा दिया जाए| लेकिन बढ़ते समय और राजनीति के कारण इस व्यवस्था को जानबूझकर बढ़ाया गया, हालांकि मैं अभी भी आरक्षण का पूरी तरह समर्थन करता हूं, एक सामान्य वर्ग का होने के बावजूद क्योंकि मुझे लगता है कि अभी भी स्तिथि उतनी कि उतनी बनी हुई है क्योंकि राजनीति के कारण अभी तक दलितों की स्थिति नहीं सुधर पाई है| दलितों की स्थिति में सच में सुधार लाना है, तो सरकार को अच्छे एक्शन लेने पड़ेंगे तभी वह दलित अपने आपको नहीं कहेंगे| आज आप देखिए की सारी की सारी जाति अपने आप को दलित घोषित करने में तुली हुई है| मतलब हम अपने आप को गिरा हुआ घोषित करने में तुले हुए, कि हम पिछड़े हुए हैं हम गिरे हुए हैं बल्कि होना यह चाहिए था कि आपको आरक्षण छोड़ना चाहिए| आरक्षण कोई मैनडेटरी चीज नहीं है, आरक्षण को आप गिवअप कर सकते हैं| मेरी कई सारी दोस्त हैं जो रिज़र्व कैटेगरी में आती है लेकिन वो जनरल कैटेगरी के थ्रू फॉर्म भरते हैं| उनका जो फीस वगैरह है वह भी इसी जनरल कैटेगरी कि लगती है| तो आरक्षण लेना मैनडेटरी बिल्कुल भी नहीं है, लोगों को आरक्षण छुड़वाने की आदत डालनी पड़ेगी| सरकार को यह बोलना पड़ेगा, लेकिन वोट बैंक की राजनीति इतनी तगड़ी है कि मुझे लगता नहीं है कि अभी इस पक्ष में कोई काम किया जा रहा है| भविष्य में समान नागरिक संहिता लग जाएगी तो मुझे लगता है कि शायद थोड़ा सा इफ़ेक्ट जरूर पड़ेगा, थोड़ा नहीं बहुत ज्यादा पड़ेगा समान नागरिक संहिता बी आर अंबेडकर साहब ने सबसे पहले लागु करने कि कोशिश कि थी और ये शायद बहुत कम लोगों को पता है| तो मुझे लगता है कि समान नागरिक संहिता लग जाए, तो ज्यादा अच्छा रहेगा| तो सच में दलित वर्ग को ऊपर उठाया जा सकेगा और भारत तो आरक्षण मुक्त हो ही जाएगा, समान नागरिक संहिता से सारे के सारे लोग ना हिंदू, ना मुसलमान सिर्फ हिंदुस्तानी कहलाएगे| सभी लोग हिंदुस्तानी हैं और हिंदुस्तानी रह जायेंगे केवल, ना कोई जाती व धर्म वह अच्छा रहेगा थोड़ा थैंक यू|Aarakshan Mukt Desh Bilkul Hona Chahiye Lekin Is Ki Sankalpana Jab Ki Gayi Thi Tab Be R Ambedkar Ne Socha Tha Ki Agar Hum Aarakshan Abhi Se Hata Dete Hain To Hamare Dalit Varg Jo Hain Wah Pichade Hain Aur Pichadate Jaenge Abhi 2018 Tak Bhi Sthiti Itni Kharab Hai To Unhone Us Samay Aarakshan Ko Banaya Aur Unhone Kaha Ki Iska Har 10 Saal Mein Review Kiya Jaye Aur Agar Sthiti Sudhari To Usko Hata Diya Jaye Lekin Badhte Samay Aur Rajneeti Ke Kaaran Is Vyavastha Ko Janbujhkar Badhaya Gaya Halanki Main Abhi Bhi Aarakshan Ka Puri Tarah Samarthan Karta Hoon Ek Samanya Varg Ka Hone Ke Bawajud Kyonki Mujhe Lagta Hai Ki Abhi Bhi Stithi Utani Ki Utani Bani Hui Hai Kyonki Rajneeti Ke Kaaran Abhi Tak Dalito Ki Sthiti Nahi Sudhar Payi Hai Dalito Ki Sthiti Mein Sach Mein Sudhaar Lana Hai To Sarkar Ko Acche Action Lene Padenge Tabhi Wah Dalit Apne Aapko Nahi Kahenge Aaj Aap Dekhie Ki Saree Ki Saree Jati Apne Aap Ko Dalit Ghoshit Karne Mein Tuli Hui Hai Matlab Hum Apne Aap Ko Gira Hua Ghoshit Karne Mein Tule Hue Ki Hum Pichade Hue Hain Hum Gire Hue Hain Balki Hona Yeh Chahiye Tha Ki Aapko Aarakshan Chodna Chahiye Aarakshan Koi Maindetri Cheez Nahi Hai Aarakshan Ko Aap Givap Kar Sakte Hain Meri Kai Saree Dost Hain Jo Reserve Category Mein Aati Hai Lekin Vo General Category Ke Through Form Bharte Hain Unka Jo Fees Vagairah Hai Wah Bhi Isi General Category Ki Lagti Hai To Aarakshan Lena Maindetri Bilkul Bhi Nahi Hai Logon Ko Aarakshan Chudvane Ki Aadat Daalanee Padegi Sarkar Ko Yeh Bolna Padega Lekin Vote Bank Ki Rajneeti Itni Tagdi Hai Ki Mujhe Lagta Nahi Hai Ki Abhi Is Paksh Mein Koi Kaam Kiya Ja Raha Hai Bhavishya Mein Saman Nagarik Sanhita Lag Jayegi To Mujhe Lagta Hai Ki Shayad Thoda Sa Effect Jarur Padega Thoda Nahi Bahut Jyada Padega Saman Nagarik Sanhita Be R Ambedkar Sahab Ne Sabse Pehle Lagu Karne Ki Koshish Ki Thi Aur Ye Shayad Bahut Kum Logon Ko Pata Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Saman Nagarik Sanhita Lag Jaye To Jyada Accha Rahega To Sach Mein Dalit Varg Ko Upar Uthaya Ja Sakega Aur Bharat To Aarakshan Mukt Ho Hi Jayega Saman Nagarik Sanhita Se Sare Ke Sare Log Na Hindu Na Musalman Sirf Hindustani Kahalaege Sabhi Log Hindustani Hain Aur Hindustani Rah Jayenge Kewal Na Koi Jati V Dharm Wah Accha Rahega Thoda Thank You
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भीगी बिल्कुल आरक्षण हमारे देश से मुक्त कर देना चाहिए आपको तो पता ही होगा जब हमारा देश आजाद हुआ था उस टाइम हमारे देश में जो पिछड़े हुए लोग थे उनकी स्थिति काफी ज्यादा खराब थी तो यह डिसाइड हुआ था कि कुछ सालों तक आरक्षण लगाया जाएगा लेकिन अभी आरक्षण जो पिछली लोग हैं उनको सुधारने के लिए नहीं आप बिस्तर Politics रिलीज आ रही है तो मुझे लगता है अब आरक्षण को बंद कर देना चाहिए अगर हमारी गवर्नमेंट आरक्षण देना चाहती है तो उसको अर्थव्यवस्था के आधार पर आरक्षण देना चाहिए ना की कास्ट और रीजन के आधार पर अब तू हाल ऐसा हो गया है कि अब हर कोई आरक्षण मांगने लगा है फिलाल में आपने पिछली साल हरियाणा की सरकार में देखा ही होगा कि हरियाणा में जाट लोगों ने आनन-फानन किया और बहुत ज्यादा नुकसान किया प्रॉपर्टी इसका अब वह भी आरक्षण मांग रहे हैं ऐसी अभी मुंबई में फिलहाल में हुआ अब ऐसी धीरे-धीरे करके अन्य जातियां भी आरक्षण मांग रही है बल्कि जो जाट लोग हैं वह काफी ज्यादा पैसे वाले अच्छे हैं तो मुझे लगता है कि अब अगर आरक्षण देना है यह गवर्नमेंट को तो अर्थव्यवस्था के आधार पर देना चाहिए और थैंक्यूBhigi Bilkul Aarakshan Hamare Desh Se Mukt Kar Dena Chahiye Aapko To Pata Hi Hoga Jab Hamara Desh Azad Hua Tha Us Time Hamare Desh Mein Jo Pichade Hue Log The Unki Sthiti Kafi Jyada Kharab Thi To Yeh Decide Hua Tha Ki Kuch Salon Tak Aarakshan Lagaya Jayega Lekin Abhi Aarakshan Jo Pichali Log Hain Unko Sudhaarne Ke Liye Nahi Aap Bistar Politics Release Aa Rahi Hai To Mujhe Lagta Hai Ab Aarakshan Ko Band Kar Dena Chahiye Agar Hamari Government Aarakshan Dena Chahti Hai To Usko Arthavyavastha Ke Aadhar Par Aarakshan Dena Chahiye Na Ki Caste Aur Reason Ke Aadhar Par Ab Tu Haal Aisa Ho Gaya Hai Ki Ab Har Koi Aarakshan Mangane Laga Hai Filal Mein Aapne Pichali Saal Haryana Ki Sarkar Mein Dekha Hi Hoga Ki Haryana Mein Jaat Logon Ne Aanan Fanan Kiya Aur Bahut Jyada Nuksan Kiya Property Iska Ab Wah Bhi Aarakshan Maang Rahe Hain Aisi Abhi Mumbai Mein Filhal Mein Hua Ab Aisi Dhire Dhire Karke Anya Jatiyaan Bhi Aarakshan Maang Rahi Hai Balki Jo Jaat Log Hain Wah Kafi Jyada Paise Wale Acche Hain To Mujhe Lagta Hai Ki Ab Agar Aarakshan Dena Hai Yeh Government Ko To Arthavyavastha Ke Aadhar Par Dena Chahiye Aur Thainkyu
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
हां मेरे हिसाब से आरक्षण को समाप्त कर देना चाहिए जब देश आजाद हुआ था उस समय आरक्षण की व्यवस्था पहले 10 साल के लिए यह सोचकर की गई थी कि जो लोग बीच में हैं वह आगे बढ़ पाएंगे उसके बाद में राजनीति का मुद्दा बन गया और अब तो इससे देश बढ़ रहा है और समाज पड़ रहा है कि लोगों को बहुत जगह नुकसान हो रहा है तो इससे ज्यादा मजबूरी का समस्या कहीं नहीं होगा कि यह सही समस्या यह सही समय है कि आरक्षण के लिए सभी लोगों को आवाज उठानी चाहिए और आरक्षण को खत्म कर देना चाहिएHaan Mere Hisab Se Aarakshan Ko Samapt Kar Dena Chahiye Jab Desh Azad Hua Tha Us Samay Aarakshan Ki Vyavastha Pehle 10 Saal Ke Liye Yeh Sochkar Ki Gayi Thi Ki Jo Log Beech Mein Hain Wah Aage Badh Paenge Uske Baad Mein Rajneeti Ka Mudda Ban Gaya Aur Ab To Isse Desh Badh Raha Hai Aur Samaaj Padh Raha Hai Ki Logon Ko Bahut Jagah Nuksan Ho Raha Hai To Isse Jyada Majburi Ka Samasya Kahin Nahi Hoga Ki Yeh Sahi Samasya Yeh Sahi Samay Hai Ki Aarakshan Ke Liye Sabhi Logon Ko Aawaj Uthani Chahiye Aur Aarakshan Ko Khatam Kar Dena Chahiye
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


आरक्षण बिल्कुल बंद नहीं होना चाहिए आरक्षण मुक्त देश मुझे नहीं लगता कि यह एक अच्छी व्यवस्था होगी आरक्षण मिलना चाहिए लेकिन आरक्षण के जो असली हकदार है उनको उनका लाभ मिलना चाहिए चाहे शिक्षा पर हो चाहे नौकरियों में हो जो आर्थिक आधार पर जो गरीब है जो सक्षम नहीं है जो मूलभूत सुविधाएं जिन को नहीं मिल रही है उनको हमें उसका लाभ देना चाहिए और आरक्षण के दुरुपयोग को रोका जाए आरक्षण को बंद करना यह किसी भी सिस्टम को बंद कर देना किसी भी चीज को बंद करके उसका सलूशन निकाल देना यह अच्छी चीज नहीं है उसमें बदलाव आने चाहिए जिससे उसका फायदा एक बड़े वर्ग को मिले जो वाकई में गरीब आदमी है वह चाहे फिर किसी भी जाति और किसी भी कैटेगरी कहां हो उस को आरक्षण मिलना चाहिए तभी वह तरक्की कर पाएगा तभी वह उस लेवल पर अपने जीवन स्तर को बढ़ा पाएगा कि आज इसको हम लोग विकास का नारा देते हैं कि जहां पर सब लोग विकसित हो सब लोग को मूलभूत बुनियादी सुविधाएं मिले एजुकेशन मिले नौकरियां मिले वह सब तभी हो पाएगा जातिवादी व्यवस्था आधारित जो व्यवस्था है वह खत्म होनी चाहिए आरक्षण के

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

आरक्षण बिल्कुल बंद नहीं होना चाहिए आरक्षण मुक्त देश मुझे नहीं लगता कि यह एक अच्छी व्यवस्था होगी आरक्षण मिलना चाहिए लेकिन आरक्षण के जो असली हकदार है उनको उनका लाभ मिलना चाहिए चाहे शिक्षा पर हो चाहे नौकरियों में हो जो आर्थिक आधार पर जो गरीब है जो सक्षम नहीं है जो मूलभूत सुविधाएं जिन को नहीं मिल रही है उनको हमें उसका लाभ देना चाहिए और आरक्षण के दुरुपयोग को रोका जाए आरक्षण को बंद करना यह किसी भी सिस्टम को बंद कर देना किसी भी चीज को बंद करके उसका सलूशन निकाल देना यह अच्छी चीज नहीं है उसमें बदलाव आने चाहिए जिससे उसका फायदा एक बड़े वर्ग को मिले जो वाकई में गरीब आदमी है वह चाहे फिर किसी भी जाति और किसी भी कैटेगरी कहां हो उस को आरक्षण मिलना चाहिए तभी वह तरक्की कर पाएगा तभी वह उस लेवल पर अपने जीवन स्तर को बढ़ा पाएगा कि आज इसको हम लोग विकास का नारा देते हैं कि जहां पर सब लोग विकसित हो सब लोग को मूलभूत बुनियादी सुविधाएं मिले एजुकेशन मिले नौकरियां मिले वह सब तभी हो पाएगा जातिवादी व्यवस्था आधारित जो व्यवस्था है वह खत्म होनी चाहिए आरक्षण केAarakshan Bilkul Band Nahi Hona Chahiye Aarakshan Mukt Desh Mujhe Nahi Lagta Ki Yeh Ek Acchi Vyavastha Hogi Aarakshan Milna Chahiye Lekin Aarakshan Ke Jo Asli Haqdaar Hai Unko Unka Labh Milna Chahiye Chahe Shiksha Par Ho Chahe Naukriyon Mein Ho Jo Aarthik Aadhar Par Jo Garib Hai Jo Saksham Nahi Hai Jo Mulbhut Suvidhayen Jin Ko Nahi Mil Rahi Hai Unko Hume Uska Labh Dena Chahiye Aur Aarakshan Ke Durupyog Ko Roka Jaye Aarakshan Ko Band Karna Yeh Kisi Bhi System Ko Band Kar Dena Kisi Bhi Cheez Ko Band Karke Uska Salution Nikal Dena Yeh Acchi Cheez Nahi Hai Usamen Badlav Aane Chahiye Jisse Uska Fayda Ek Bade Varg Ko Mile Jo Vaakai Mein Garib Aadmi Hai Wah Chahe Phir Kisi Bhi Jati Aur Kisi Bhi Category Kahan Ho Us Ko Aarakshan Milna Chahiye Tabhi Wah Tarakki Kar Payega Tabhi Wah Us Level Par Apne Jeevan Sthar Ko Badha Payega Ki Aaj Isko Hum Log Vikash Ka Naara Dete Hain Ki Jahan Par Sab Log Viksit Ho Sab Log Ko Mulbhut Buniyaadi Suvidhayen Mile Education Mile Naukriyan Mile Wah Sab Tabhi Ho Payega Jativadi Vyavastha Aadharit Jo Vyavastha Hai Wah Khatam Honi Chahiye Aarakshan Ke
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

देखिए देश रिजर्वेशन मुक्त जरूर होना चाहिए कि रिजर्वेशन की वजह से बहुत बार ऐसा होता है कि जो बच्चे डिजाइन है वह रह जाते हैं और जो केंद्रीय रिजर्व नहीं करते वह आगे बढ़ जाते हैं क्या आपने किसी से अगर मेडिकल फील्ड है अगर एक बच्चे ने बहुत मेहनत की है उसे ज्यादा नॉलेज है पर वह जनरल केटेगरी का है और वह रह गया इसी वजह से लेकिन अगर कोई बच्चा रिजर्व केटेगरी करो जो अपनी मेहनत नहीं की है उसने फिर भी वह आगे बढ़ गया तो यह हमारे देश के लिए खतरा होगा एक सोशल साइंटिस्ट ने कहा था कि रिजर्वेशन किसी एक जनरेशन को मिलनी चाहिए जैसे कि अगर मुझे चैन मुझे रिजर्वेशन मिल गई तो मुझसे आगे जनरेशन सोने ना मिले तो क्या घर में सरकारी नौकरी कर रही हूं तुम्हें इतना कर सकती हूं कि मैं अपने बच्चों को या मेरी अगली पीढ़ी को अच्छी एजुकेशन प्रोवाइड करवा सकूं और फिर उसके बाद वह हर जगह एडमिशन नौकरी अपने बलबूते नहीं सके तो दूसरे से विमुक्त बिल्कुल होना चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखिए देश रिजर्वेशन मुक्त जरूर होना चाहिए कि रिजर्वेशन की वजह से बहुत बार ऐसा होता है कि जो बच्चे डिजाइन है वह रह जाते हैं और जो केंद्रीय रिजर्व नहीं करते वह आगे बढ़ जाते हैं क्या आपने किसी से अगर मेडिकल फील्ड है अगर एक बच्चे ने बहुत मेहनत की है उसे ज्यादा नॉलेज है पर वह जनरल केटेगरी का है और वह रह गया इसी वजह से लेकिन अगर कोई बच्चा रिजर्व केटेगरी करो जो अपनी मेहनत नहीं की है उसने फिर भी वह आगे बढ़ गया तो यह हमारे देश के लिए खतरा होगा एक सोशल साइंटिस्ट ने कहा था कि रिजर्वेशन किसी एक जनरेशन को मिलनी चाहिए जैसे कि अगर मुझे चैन मुझे रिजर्वेशन मिल गई तो मुझसे आगे जनरेशन सोने ना मिले तो क्या घर में सरकारी नौकरी कर रही हूं तुम्हें इतना कर सकती हूं कि मैं अपने बच्चों को या मेरी अगली पीढ़ी को अच्छी एजुकेशन प्रोवाइड करवा सकूं और फिर उसके बाद वह हर जगह एडमिशन नौकरी अपने बलबूते नहीं सके तो दूसरे से विमुक्त बिल्कुल होना चाहिएDekhie Desh Reservation Mukt Jarur Hona Chahiye Ki Reservation Ki Wajah Se Bahut Baar Aisa Hota Hai Ki Jo Bacche Design Hai Wah Rah Jaate Hain Aur Jo Kendriya Reserve Nahi Karte Wah Aage Badh Jaate Hain Kya Aapne Kisi Se Agar Medical Field Hai Agar Ek Bacche Ne Bahut Mehnat Ki Hai Use Jyada Knowledge Hai Par Wah General Category Ka Hai Aur Wah Rah Gaya Isi Wajah Se Lekin Agar Koi Baccha Reserve Category Karo Jo Apni Mehnat Nahi Ki Hai Usne Phir Bhi Wah Aage Badh Gaya To Yeh Hamare Desh Ke Liye Khatra Hoga Ek Social Scientist Ne Kaha Tha Ki Reservation Kisi Ek Generation Ko Milani Chahiye Jaise Ki Agar Mujhe Chain Mujhe Reservation Mil Gayi To Mujhse Aage Generation Sone Na Mile To Kya Ghar Mein Sarkari Naukri Kar Rahi Hoon Tumhein Itna Kar Sakti Hoon Ki Main Apne Bacchon Ko Ya Meri Agli Pidhi Ko Acchi Education Provide Karava Sakun Aur Phir Uske Baad Wah Har Jagah Admission Naukri Apne Balbute Nahi Sake To Dusre Se Vimukt Bilkul Hona Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

लेकिन मुझे लगता है कि भारत को जो है आरक्षण मुक्त देश घोषित कर देना चाहिए क्योंकि अभी जो है आरक्षण देकर कुछ मतलब नहीं है जितने भी लोगों को आरक्षण मिलता है सरकार की तरफ से वह जो है इस चीज का गलत फायदा उठाते हैं और उसकी वजह से जो लोग डिज़र्व करते हैं उस चीज को ज्यादा उन लोगों को चांस नहीं मिल पाता है तो मुझे लगता है कि आरक्षण को जो है 12 से पूरी तरह से मिटा देना चाहिए किसी भी मतलब किसी भी जाति या फिर समाज को आरक्षण नहीं देना चाहिए अगर वह किसी पर्टिकुलर एक समाज को आरक्षण देते हैं तो वह चूहे कंपैरिजन होता है और लोगों में तनाव निर्माण होता तो आरक्षण को पूरी तरह से हटाना चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

लेकिन मुझे लगता है कि भारत को जो है आरक्षण मुक्त देश घोषित कर देना चाहिए क्योंकि अभी जो है आरक्षण देकर कुछ मतलब नहीं है जितने भी लोगों को आरक्षण मिलता है सरकार की तरफ से वह जो है इस चीज का गलत फायदा उठाते हैं और उसकी वजह से जो लोग डिज़र्व करते हैं उस चीज को ज्यादा उन लोगों को चांस नहीं मिल पाता है तो मुझे लगता है कि आरक्षण को जो है 12 से पूरी तरह से मिटा देना चाहिए किसी भी मतलब किसी भी जाति या फिर समाज को आरक्षण नहीं देना चाहिए अगर वह किसी पर्टिकुलर एक समाज को आरक्षण देते हैं तो वह चूहे कंपैरिजन होता है और लोगों में तनाव निर्माण होता तो आरक्षण को पूरी तरह से हटाना चाहिएLekin Mujhe Lagta Hai Ki Bharat Ko Jo Hai Aarakshan Mukt Desh Ghoshit Kar Dena Chahiye Kyonki Abhi Jo Hai Aarakshan Dekar Kuch Matlab Nahi Hai Jitne Bhi Logon Ko Aarakshan Milta Hai Sarkar Ki Taraf Se Wah Jo Hai Is Cheez Ka Galat Fayda Uthaatey Hain Aur Uski Wajah Se Jo Log Dizarv Karte Hain Us Cheez Ko Jyada Un Logon Ko Chance Nahi Mil Pata Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Aarakshan Ko Jo Hai 12 Se Puri Tarah Se Mita Dena Chahiye Kisi Bhi Matlab Kisi Bhi Jati Ya Phir Samaaj Ko Aarakshan Nahi Dena Chahiye Agar Wah Kisi Particular Ek Samaaj Ko Aarakshan Dete Hain To Wah Chuhe Kampairijan Hota Hai Aur Logon Mein Tanaav Nirman Hota To Aarakshan Ko Puri Tarah Se Hatana Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जब तक देश में सामाजिक समरसता नहीं आ जाती तब तक रिजर्वेशन को खत्म नहीं करना चाहिए सामाजिक समरसता के बिना सामाजिक समरसता के बिना आरक्षण को खत्म करना अनुचित ही नहीं बहुत ही घातक होगा

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

जब तक देश में सामाजिक समरसता नहीं आ जाती तब तक रिजर्वेशन को खत्म नहीं करना चाहिए सामाजिक समरसता के बिना सामाजिक समरसता के बिना आरक्षण को खत्म करना अनुचित ही नहीं बहुत ही घातक होगाJab Tak Desh Mein Samajik Samarsata Nahi Aa Jati Tab Tak Reservation Ko Khatam Nahi Karna Chahiye Samajik Samarsata Ke Bina Samajik Samarsata Ke Bina Aarakshan Ko Khatam Karna Anuchit Hi Nahi Bahut Hi Ghatak Hoga
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

आरक्षण जो है हमेशा से चर्चा का विषय बना रहा है और जितने भी लोग हमारे सामने आते हैं कई बार हम देखते हैं उसकी खिलाफत करते हैं लेकिन आरक्षण के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हो रही है इसे बंद करने का प्रयास नहीं हो रहा है बल्कि उल्टा राजनीति जब चुनाव होते हैं तो राजनीतिक पार्टियां अलग अलग वर्ग के लोगों को लुभाने के लिए आरक्षण के वादे करते हैं आरक्षण के इस दलदल में लगातार हमारा देश डूबता जा रहा है जिससे कि लोगों को और जो टैलेंटेड जो कि पीपल लोग हैं उन्हें इसका नुकसान का सामना करना पड़ता है लेकिन भीमराव अंबेडकर ने जो कॉन्स्टिट्यूशन संविधान बनाया था तो जो आरक्षण रखा गया था वह कुछ वर्षों के लिए था लेकिन आरक्षण जो है वह हमेशा की चीज हो गई जिसके आधार पर वोट बैंक की राजनीति होती है आरक्षण हमेशा से मैं कहता हूं आरक्षण हमेशा आर्थिक स्थिति के आधार पर मिलना चाहिए बजाय की जाति धर्म समुदाय की स्थिति के अनुसार आरक्षण का मतलब यह है जो व्यक्ति संपूर्ण नहीं है जिस पर सुविधाएं नहीं है किसी कारणवश हम उसे सुविधा दे रहे हैं लेकिन कोई व्यक्ति किसी पार्टी के

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

आरक्षण जो है हमेशा से चर्चा का विषय बना रहा है और जितने भी लोग हमारे सामने आते हैं कई बार हम देखते हैं उसकी खिलाफत करते हैं लेकिन आरक्षण के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हो रही है इसे बंद करने का प्रयास नहीं हो रहा है बल्कि उल्टा राजनीति जब चुनाव होते हैं तो राजनीतिक पार्टियां अलग अलग वर्ग के लोगों को लुभाने के लिए आरक्षण के वादे करते हैं आरक्षण के इस दलदल में लगातार हमारा देश डूबता जा रहा है जिससे कि लोगों को और जो टैलेंटेड जो कि पीपल लोग हैं उन्हें इसका नुकसान का सामना करना पड़ता है लेकिन भीमराव अंबेडकर ने जो कॉन्स्टिट्यूशन संविधान बनाया था तो जो आरक्षण रखा गया था वह कुछ वर्षों के लिए था लेकिन आरक्षण जो है वह हमेशा की चीज हो गई जिसके आधार पर वोट बैंक की राजनीति होती है आरक्षण हमेशा से मैं कहता हूं आरक्षण हमेशा आर्थिक स्थिति के आधार पर मिलना चाहिए बजाय की जाति धर्म समुदाय की स्थिति के अनुसार आरक्षण का मतलब यह है जो व्यक्ति संपूर्ण नहीं है जिस पर सुविधाएं नहीं है किसी कारणवश हम उसे सुविधा दे रहे हैं लेकिन कोई व्यक्ति किसी पार्टी केAarakshan Jo Hai Hamesha Se Charcha Ka Vishay Bana Raha Hai Aur Jitne Bhi Log Hamare Samane Aate Hain Kai Baar Hum Dekhte Hain Uski Khilafat Karte Hain Lekin Aarakshan Ke Khilaf Koi Karyavahi Nahi Ho Rahi Hai Ise Band Karne Ka Prayas Nahi Ho Raha Hai Balki Ulta Rajneeti Jab Chunav Hote Hain To Rajnitik Partyian Alag Alag Varg Ke Logon Ko Lubhaane Ke Liye Aarakshan Ke Waade Karte Hain Aarakshan Ke Is Duldula Mein Lagatar Hamara Desh Dubata Ja Raha Hai Jisse Ki Logon Ko Aur Jo Talented Jo Ki Pipal Log Hain Unhen Iska Nuksan Ka Samana Karna Padata Hai Lekin Bhimrao Ambedkar Ne Jo Constitution Samvidhan Banaya Tha To Jo Aarakshan Rakha Gaya Tha Wah Kuch Varshon Ke Liye Tha Lekin Aarakshan Jo Hai Wah Hamesha Ki Cheez Ho Gayi Jiske Aadhar Par Vote Bank Ki Rajneeti Hoti Hai Aarakshan Hamesha Se Main Kahata Hoon Aarakshan Hamesha Aarthik Sthiti Ke Aadhar Par Milna Chahiye Bajay Ki Jati Dharm Samuday Ki Sthiti Ke Anusar Aarakshan Ka Matlab Yeh Hai Jo Vyakti Sampurna Nahi Hai Jis Par Suvidhayen Nahi Hai Kisi Karanvash Hum Use Suvidha De Rahe Hain Lekin Koi Vyakti Kisi Party Ke
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aarakshan Mukt Desh Hona Chahiye Ki Nahi Hona Chahiye Apni Rai Dein ?





मन में है सवाल?