आरक्षण भारत में कब खत्म होगा ? ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
आरक्षण जो है भारत में हमेशा से चर्चा का विषय रहा है देश का संविधान बना दो तो भीमराव अंबेडकर जी ने कुछ सालों के लिए आरक्षण लागू किया था लेकिन यह जो है यह हमेशा की एक चीज बन गई आरक्षण से खरीदने का नुकसान हो रहा है आरक्षण हमेशा जो है वह केवल और केवल आर्थिक स्थिति के आधार पर मिलना चाहिए बजाय कि किसी व्यक्ति आय जाति समुदाय धर्म के आधार पर क्योंकि आरक्षण का मतलब ही यही है हम किसी कमजोर इंसान को जो की सुविधा जिस पर नहीं है उसको सुविधा कुछ सर्विस प्रॉब्लम प्रदान करें लेकिन यदि हम किसी जाति विशेष या धर्म के नाम पर इस तरीके की चीजें करेंगे तो वह भी भरी पूरी तरीके से पूरे स्वस्थ हैवेल्स के मामले में तो इजराइल नहीं है और रही बात उसके खत्म होने की तो भारत में आरक्षण खत्म होना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि जो जितने भी चुनाव होते हैं उसे केवल राजनीतिक रोटियां से की जाती हैं आरक्षण के नाम पर वोट बैंक की राजनीति होती है हर जगह अलग-अलग समुदाय अपने आरक्षण की मांग के लिए खड़ा हो गया है क्योंकि एक समुदाय को यदि मिलता है तो दूसरे समुदाय जो है वह अपने आप को निकला महसूस करता है जैसे गुजरात में ही पटेल समुदाय के साथ वह वह खड़ा हो गया पटेल सब होता है और पटेल समुदाय को अगर मिल जाता आरक्षण तो दूसरे अन्य समुदाय भी खड़े हो तो इसी तरीके की चीज है जब भी चुनाव होता है तो राजनीतिक पार्टी जो है अलग-अलग जाति या धर्म के लोगों को वोट इकट्ठा करने के लिए उनसे लुभावने वादे करते हैं और उसी के उसमें हम आरक्षण के जो दलदल है उसमें गिरते जा रहे हैं और इसमें खत्म होने का नाम नहीं ले रहा हैAarakshan Jo Hai Bharat Mein Hamesha Se Charcha Ka Vishay Raha Hai Desh Ka Samvidhan Bana Do To Bhimrao Ambedkar G Ne Kuch Salon Ke Liye Aarakshan Laagu Kiya Tha Lekin Yeh Jo Hai Yeh Hamesha Ki Ek Cheez Ban Gayi Aarakshan Se Kharidne Ka Nuksan Ho Raha Hai Aarakshan Hamesha Jo Hai Wah Kewal Aur Kewal Aarthik Sthiti Ke Aadhar Par Milna Chahiye Bajay Ki Kisi Vyakti Aay Jati Samuday Dharm Ke Aadhar Par Kyonki Aarakshan Ka Matlab Hi Yahi Hai Hum Kisi Kamjor Insaan Ko Jo Ki Suvidha Jis Par Nahi Hai Usko Suvidha Kuch Service Problem Pradan Karen Lekin Yadi Hum Kisi Jati Vishesh Ya Dharm Ke Naam Par Is Tarike Ki Cheezen Karenge To Wah Bhi Bhari Puri Tarike Se Poore Swasth Havells Ke Mamle Mein To Israel Nahi Hai Aur Rahi Baat Uske Khatam Hone Ki To Bharat Mein Aarakshan Khatam Hona Bahut Hi Mushkil Hai Kyonki Jo Jitne Bhi Chunav Hote Hain Use Kewal Raajnitik Rotiyan Se Ki Jati Hain Aarakshan Ke Naam Par Vote Bank Ki Rajneeti Hoti Hai Har Jagah Alag Alag Samuday Apne Aarakshan Ki Maang Ke Liye Khada Ho Gaya Hai Kyonki Ek Samuday Ko Yadi Milta Hai To Dusre Samuday Jo Hai Wah Apne Aap Ko Nikla Mahsus Karta Hai Jaise Gujarat Mein Hi Patel Samuday Ke Saath Wah Wah Khada Ho Gaya Patel Sab Hota Hai Aur Patel Samuday Ko Agar Mil Jata Aarakshan To Dusre Anya Samuday Bhi Khade Ho To Isi Tarike Ki Cheez Hai Jab Bhi Chunav Hota Hai To Raajnitik Party Jo Hai Alag Alag Jati Ya Dharm Ke Logon Ko Vote Ikattha Karne Ke Liye Unse Lubhawane Waade Karte Hain Aur Ussi Ke Usamen Hum Aarakshan Ke Jo Duldula Hai Usamen Girate Ja Rahe Hain Aur Isme Khatam Hone Ka Naam Nahi Le Raha Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aarakshan Bharat Mein Kab Khatam Hoga ?, भारत कब खत्म होगा, Bharat Kab Khatam Hoga, Aarakshan Kab Khatam Hoga





मन में है सवाल?