वर्तमान में केंद्र सरकार पेट्रोलियम पदार्थों पर जीएसटी क्यों नहीं लगा रही है ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखिए वर्तमान में केंद्रीय सरकार ने जो पेट्रोलियम पर जो जीएसटी क्यों नहीं रखा इसके पीछे एक सिंपल सा रीजन आप समझने की कोशिश करना हमारी पेट्रोल जो इंपोर्ट होता है और हमारे जो वर्तमान में पेट्रोल जो खरीदता है जो गवर्नमेंट को जो उसकी को Spice पढ़ती है वह काफी कम है इसमें कोई दो राय नहीं है और अब हम को सेल करती काफी ज्यादा पर बहुत काफी ज्यादा टैक्स लगाते हैं जीएसटी में मैक्सिमम जो टैक्स स्लैब है वह 28% है ठीक है अगर 18% भी लगाते हैं जीएसटी के अंदर तो पेट्रोल की प्राइस जो अभी है और वह आधी भी आधी हो जाएगी लव बहुत कम हो जाएगी ठीक है अब एक ही समझी आप हमारे भारत की जो पॉपुलेशन है वह बहुत ज्यादा है और जो हमारे भारत में पोलूशन है वह तो और भी ज्यादा है आप देख सकते हैं कि दिल्ली का क्या बुरा हाल है बेंगलुरु का पोलूशन के मामले मुंह के मामले में अब आप सोचिए अगर हम पेट्रोल के प्राइस कम करते हैं और जीएसटी में रखते हैं तो काफी कम प्राइस हो जाएंगे पेट्रोल के लोग कितना यूज करेंगे हम सोचे कि पहले जितना यूज़ होता था उसकी कंपेयर में लोग कितना यूज करेंगे काफी ज्यादा यूज करेंगे अगर पास में भी जाना है किसी को तो वह पैदल नहीं जाएगा बाइक से ही जाएगा ठीक है और आजकल की लड़की दो बिना काम की बाइक इधर उधर घूम आते हैं आप सोची पेट्रोल के दाम जब आते हो जाएंगे तो लुक लुक लुक कंजक्शन है वह डबल हो जाएगा और हमारे पास पेट्रोलियम जो पदार्थ वह लिमिटेड ही है ज्यादा माउंट भी नहीं है और हम उल्टा इंपोर्ट करते हैं बाहर की कंट्री से तो आप सोचिए कितना पोलूशन बढ़ेगा तो गवर्नमेंट ने जीएसटी स्लैब में इसीलिए नहीं रखा ताकि लोग कम यूज करें ज्यादा पैसे में ज्यादा बारिश होगी तब कम यूज करेंगे दूसरी चीज गवर्नमेंट से काफी ज्यादा आधुनिक भी करती है काफी असर टेक्स्ट कलेक्ट करती हैDekhie Vartaman Mein Kendriya Sarkar Ne Jo Petroleum Par Jo Gst Kyun Nahi Rakha Iske Piche Ek Simple Sa Reason Aap Samjhne Ki Koshish Karna Hamari Petrol Jo Import Hota Hai Aur Hamare Jo Vartaman Mein Petrol Jo Kharidata Hai Jo Government Ko Jo Uski Ko Spice Padhati Hai Wah Kafi Kum Hai Isme Koi Do Rai Nahi Hai Aur Ab Hum Ko Cell Karti Kafi Jyada Par Bahut Kafi Jyada Tax Lagate Hain Gst Mein Maximum Jo Tax Slab Hai Wah 28% Hai Theek Hai Agar 18% Bhi Lagate Hain Gst Ke Andar To Petrol Ki Price Jo Abhi Hai Aur Wah Aadhi Bhi Aadhi Ho Jayegi Love Bahut Kum Ho Jayegi Theek Hai Ab Ek Hi Samjhi Aap Hamare Bharat Ki Jo Population Hai Wah Bahut Jyada Hai Aur Jo Hamare Bharat Mein Pollution Hai Wah To Aur Bhi Jyada Hai Aap Dekh Sakte Hain Ki Delhi Ka Kya Bura Haal Hai Bengaluru Ka Pollution Ke Mamle Mooh Ke Mamle Mein Ab Aap Sochie Agar Hum Petrol Ke Price Kum Karte Hain Aur Gst Mein Rakhate Hain To Kafi Kum Price Ho Jaenge Petrol Ke Log Kitna Use Karenge Hum Soche Ki Pehle Jitna Use Hota Tha Uski Kampeyar Mein Log Kitna Use Karenge Kafi Jyada Use Karenge Agar Paas Mein Bhi Jana Hai Kisi Ko To Wah Paidal Nahi Jayega Bike Se Hi Jayega Theek Hai Aur Aajkal Ki Ladki Do Bina Kaam Ki Bike Idhar Udhar Ghum Aate Hain Aap Sochi Petrol Ke Dam Jab Aate Ho Jaenge To Look Look Look Kanjakshan Hai Wah Double Ho Jayega Aur Hamare Paas Petroleum Jo Padarth Wah Limited Hi Hai Jyada Mount Bhi Nahi Hai Aur Hum Ulta Import Karte Hain Bahar Ki Country Se To Aap Sochie Kitna Pollution Badhega To Government Ne Gst Slab Mein Isliye Nahi Rakha Taki Log Kum Use Karen Jyada Paise Mein Jyada Barish Hogi Tab Kum Use Karenge Dusri Cheez Government Se Kafi Jyada Aadhunik Bhi Karti Hai Kafi Asar Text Collect Karti Hai
Likes  6  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
केंद्र सरकार ने जीएसटी लगाते समय काफी सावधानी बरती है और उन चीजों पर जीएसटी नहीं लगाया है और उन चीजों को बाहर रखा है जिससे केंद्र सरकार को रक्षा राज्य सरकार को बहुत ज्यादा मुनाफा होता है एग्जांपल के लिए आपको बताऊं शराब सिगरेट तंबाकू पेट्रोलियम पदार्थ तथा और भी ऐसी चीजें जिनपर बाहर भारत सरकार और भारत की अन्य राज्य तरह-तरह के भारी भरकम टैक्स लगाते हैं अभी जब प्यूरीफाई करके पेट्रोलियम पदार्थ या डीजल पेट्रोल बाहर आता है तो उसकी कीमत तकरीबन ₹23 होती है उसके बाद उस पर शॉप हिंदी टेक्स्ट भारत सरकार लगाती है उसके बाद राज्य सरकार को टैक्स लगाती है इस तरह से टैक्स लगा लगा कर हमारे डीजल पेट्रोल के दाम ₹770 के बीच चलते रहते हैं तो जब आपको पता है कि जीएसटी मुझे टेक्स्ट लेबर को 28% अधिकतम है अब आप सोचिए कहां एक सरकारी सौ पर्सेंट टैक्स लगाकर जितने का पेट्रोल डीजल बना है उतना ही पैसा कमा रही है उसके बाद राज्य सरकार अलग से टैक्स लगाकर फिर पैसे कमा रही है तो वह लोग इस को टैक्स के दायरे में क्यों रखना चाहिए क्योंकि समझदार बड़ी बात तो होगी नहीं इसके लिए सरकार का खजाना भर रहा है इसकी वजह से थोड़ा डेवलपमेंट के काम हो रहा है इसके अलावा तंबाकू शराब तथा इसी तरह की कोई भी चीज होती है उस पर भी सरकार बहुत टैक्स लगाती है शराब पर भी टेक्स्ट तकरीबन 120 से 100 30% लगाती है जो कि राज्य सरकारों के बाद कोई भी बांटा जाता है बराबर से तो इन चीजों से यह चीजें रुकवाने का प्रयास किया था सरकार द्वारा लेकिन चुप ही रुकती नहीं है तो सरकार ने भी सोच लिया कि अगर वह रुक रुक नहीं रहे तो मैं रोक निखिल को महंगा कर देंगे तो मैं घर की जाती है इसकी शराब की और सरकार SC सपना खजाना भर रही है डेवलपमेंट के काम कर रही है इसलिए इन चीजों को जीएसटी से बाहर रखा गया है थैंक यूKendra Sarkar Ne Gst Lagate Samay Kafi Savadhani Barti Hai Aur Un Chijon Par Gst Nahi Lagaya Hai Aur Un Chijon Ko Bahar Rakha Hai Jisse Kendra Sarkar Ko Raksha Rajya Sarkar Ko Bahut Jyada Munafa Hota Hai Example Ke Liye Aapko Bataun Sharab Cigarette Tambaku Petroleum Padarth Tatha Aur Bhi Aisi Cheezen Jinapar Bahar Bharat Sarkar Aur Bharat Ki Anya Rajya Tarah Tarah Ke Bhari Bharakam Tax Lagate Hain Abhi Jab Pyurifai Karke Petroleum Padarth Ya Diesel Petrol Bahar Aata Hai To Uski Kimat Takareeban ₹23 Hoti Hai Uske Baad Us Par Shop Hindi Text Bharat Sarkar Lagati Hai Uske Baad Rajya Sarkar Ko Tax Lagati Hai Is Tarah Se Tax Laga Laga Kar Hamare Diesel Petrol Ke Dam ₹770 Ke Beech Chalte Rehte Hain To Jab Aapko Pata Hai Ki Gst Mujhe Text Labour Ko 28% Adhiktam Hai Ab Aap Sochie Kahan Ek Sarkari Sau Percent Tax Lagakar Jitne Ka Petrol Diesel Bana Hai Utana Hi Paisa Kama Rahi Hai Uske Baad Rajya Sarkar Alag Se Tax Lagakar Phir Paise Kama Rahi Hai To Wah Log Is Ko Tax Ke Daayre Mein Kyun Rakhna Chahiye Kyonki Samajhdar Badi Baat To Hogi Nahi Iske Liye Sarkar Ka Khajana Bhar Raha Hai Iski Wajah Se Thoda Development Ke Kaam Ho Raha Hai Iske Alava Tambaku Sharab Tatha Isi Tarah Ki Koi Bhi Cheez Hoti Hai Us Par Bhi Sarkar Bahut Tax Lagati Hai Sharab Par Bhi Text Takareeban 120 Se 100 30% Lagati Hai Jo Ki Rajya Sarkaro Ke Baad Koi Bhi Banta Jata Hai Barabar Se To In Chijon Se Yeh Cheezen Rukvane Ka Prayas Kiya Tha Sarkar Dwara Lekin Chup Hi Rukti Nahi Hai To Sarkar Ne Bhi Soch Liya Ki Agar Wah Ruk Ruk Nahi Rahe To Main Rok Nikhil Ko Mehnga Kar Denge To Main Ghar Ki Jati Hai Iski Sharab Ki Aur Sarkar SC Sapna Khajana Bhar Rahi Hai Development Ke Kaam Kar Rahi Hai Isliye In Chijon Ko Gst Se Bahar Rakha Gaya Hai Thank You
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
वर्तमान में केंद्र सरकार पेट्रोलियम पदार्थों पर जीएसटी नहीं लगा रही है हमें पेट्रोलियम पदार्थ में सबसे पहले पेट्रोल परिवार समझ नहीं पड़ेगी पेट्रोल की जो मुख्य जो ओरिजिनल कीमत है वह ₹700 से ₹30 बिक रहा है वह 74 75 80 अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग समझना पड़ेगा कि केंद्र सरकार जो है जीएसटी पर से ₹30 के अलावा जितना भी पैसा वसूल रही है वह टैक्स में वसूल रही है राजस्व वसूली जिसमें राज्य सरकार है और केंद्र सरकार के रूप में पैसा कमा रहे हैं कि जो भर दो झोली भर रही है सरकार होगी वह के पेट्रोल के में टेक्स्ट के माध्यम से बढ़ रही है इसी मारे यह जो है इसमें जीएसटी के अंदर मिल जाएंगे पेट्रोल की कीमत आधे से भी कम हो जाएगी यानी कि अगर हम मैक्सिमम सलाम जो 28 परसेंट का वह भी लगाते तब भी 48 रूपय बिकेगा पेट्रोल और 12 या 18 28% तो जबकि उन चीजों पर है जो लग्जरी आइटम है जबकि पेट्रोल जो है लग्जरी आइटम है यह रोजमर्रा की चीजें डेली नेट की चीज है जिससे जनता को तो बहुत फायदा हुआ बहुत ही ज्यादा फायदा लेकिन सरकारों को टैक्स में जो रुपए मिलते हैं जो उनकी आमदनी है वह काफी घट जाएगी इसीलिए वह अपना फायदा देख रहे हैं अपनी जेब भर रहे हैं पेट्रोलियम कंपनियों की जय भरे जा रहे हैं और जनता को इतने महंगे दर पर पेट्रोल उपलब्ध कराया जा रहा है जिसके रेट लगातार बढ़ने एक्साइज ड्यूटी लगातार बढ़ाइए 2014 के बीजेपी और में जाने के बाद से 300 परसेंट तक एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी गई है पेट्रोल-डीजलVartaman Mein Kendra Sarkar Petroleum Padarthon Par Gst Nahi Laga Rahi Hai Hume Petroleum Padarth Mein Sabse Pehle Petrol Parivar Samajh Nahi Padegi Petrol Ki Jo Mukhya Jo Original Kimat Hai Wah ₹700 Se ₹30 Bik Raha Hai Wah 74 75 80 Alag Alag Rajyo Mein Alag Alag Samajhna Padega Ki Kendra Sarkar Jo Hai Gst Par Se ₹30 Ke Alava Jitna Bhi Paisa Vasool Rahi Hai Wah Tax Mein Vasool Rahi Hai Raajaswa Vasuli Jisme Rajya Sarkar Hai Aur Kendra Sarkar Ke Roop Mein Paisa Kama Rahe Hain Ki Jo Bhar Do Jholi Bhar Rahi Hai Sarkar Hogi Wah Ke Petrol Ke Mein Text Ke Maadhyam Se Badh Rahi Hai Isi Maare Yeh Jo Hai Isme Gst Ke Andar Mil Jaenge Petrol Ki Kimat Aadhe Se Bhi Kum Ho Jayegi Yani Ki Agar Hum Maximum Salaam Jo 28 Percent Ka Wah Bhi Lagate Tab Bhi 48 Rupay Bikega Petrol Aur 12 Ya 18 28% To Jabki Un Chijon Par Hai Jo Luxury Item Hai Jabki Petrol Jo Hai Luxury Item Hai Yeh Rozmarra Ki Cheezen Daily Net Ki Cheez Hai Jisse Janta Ko To Bahut Fayda Hua Bahut Hi Jyada Fayda Lekin Sarkaro Ko Tax Mein Jo Rupaiye Milte Hain Jo Unki Aamdani Hai Wah Kafi Ghat Jayegi Isliye Wah Apna Fayda Dekh Rahe Hain Apni Jeb Bhar Rahe Hain Petroleum Companion Ki Jai Bhare Ja Rahe Hain Aur Janta Ko Itne Mahange Dar Par Petrol Uplabdha Karaya Ja Raha Hai Jiske Rate Lagatar Badhne Excise Duty Lagatar Badhaiye 2014 Ke Bjp Aur Mein Jaane Ke Baad Se 300 Percent Tak Excise Duty Badha Di Gayi Hai Petrol Diesel
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Vartaman Mein Kendra Sarkar Petroleum Padarthon Par Gst Kyun Nahi Laga Rahi Hai





मन में है सवाल?