संविधान के भाग 3 में किस चीज का उल्लेख किया गया है विस्तार से समझाइए ? ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
संविधान के तीसरे भाग को मैग्नाकार्टा कहा जाता है इस भाग में भारतीय नागरिक होने के लिए आपको कुछ अधिकार दिए गए हैं उन्हें मौलिक अधिकार कहते हैं 6 मौलिक अधिकार कुल मिलाकर है जो भारतीय नागरिक होने के नाते हमें मिले हैं सबसे पहले आता है समानता का अधिकार फिर आता है स्वतंत्रता का अधिकार इसके साथ-साथ आता शोषण के विरुद्ध अधिकार धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार इसके अलावा 101 अधिकार और था जो संपत्ति का अधिकार था बाद में इसको हटा दिया गया और इसको एक लीगल राइट बना दिया गया क्योंकि संपत्ति का अधिकार आप स्त्री नहीं कर सकते क्योंकि हर आदमी ने फिर से ट्रीटमेंट करना शुरू कर दी थी 1951 में केशवानंद भारती केस के बाद उसको हटा दिया गया था 400 मिनट में और उसके अलावा एकाधिकार और है जिसे संविधान की आत्मा कहा है वह है संवैधानिक उपचारों का अधिकार इसमें अगर आपके खिलाफ कोई केस है जिसमें 5 तारीख की रेट होती हैं और रेट की विशेष पर आपको अधिकार दिए गए हैं जैसे कि आप पर कोई केस है आप को जेल में ले जा तो आपको 24 घंटे के अंदर अंदर नहीं आती के सामने पेश किया जाना आवश्यक है यह आपको अपनी पसंद का वकील किया जाना आवश्यक है आपकी पसंद करो दिल कर सकते हैं कोई भारत में कोई आपको मना नहीं कर सकता इसके अलावा आप को पकड़ने का यह गिरफ्तार करने का कारण पुलिस को बताना ही होगा कुछ किस्स को छोड़कर आपको बताना और पुलिस वाला था आपको नहीं बताते हैं आप केवल नहीं देता को गिरफ्तार भी नहीं कर सकते तो इस तरह के राइट समय मिले हुए मौलिक अधिकार मिले हुए जो कि भारतीय नागरिक होने के बदले फायदे से मिले और उस समय हमारा देश आजाद हुआ था वह उस समय हमने यह अधिकार जो लिए थे वह यूनाइटेड स्टेट्स लिए थैंक यूSamvidhan Ke Tisare Bhag Ko Magnakarta Kaha Jata Hai Is Bhag Mein Bhartiya Nagarik Hone Ke Liye Aapko Kuch Adhikaar Diye Gaye Hain Unhen Maulik Adhikaar Kehte Hain 6 Maulik Adhikaar Kul Milakar Hai Jo Bhartiya Nagarik Hone Ke Naate Hume Mile Hain Sabse Pehle Aata Hai Samanata Ka Adhikaar Phir Aata Hai Swatantrata Ka Adhikaar Iske Saath Saath Aata Shoshan Ke Viruddha Adhikaar Dharmik Swatantrata Ka Adhikaar Iske Alava 101 Adhikaar Aur Tha Jo Sampatti Ka Adhikaar Tha Baad Mein Isko Hata Diya Gaya Aur Isko Ek Legal Right Bana Diya Gaya Kyonki Sampatti Ka Adhikaar Aap Stri Nahi Kar Sakte Kyonki Har Aadmi Ne Phir Se Treatment Karna Shuru Kar Di Thi 1951 Mein Keshvanand Bharati Case Ke Baad Usko Hata Diya Gaya Tha 400 Minute Mein Aur Uske Alava Ekadhikar Aur Hai Jise Samvidhan Ki Aatma Kaha Hai Wah Hai Samvaidhanik Upacharon Ka Adhikaar Isme Agar Aapke Khilaf Koi Case Hai Jisme 5 Tarikh Ki Rate Hoti Hain Aur Rate Ki Vishesh Par Aapko Adhikaar Diye Gaye Hain Jaise Ki Aap Par Koi Case Hai Aap Ko Jail Mein Le Ja To Aapko 24 Ghante Ke Andar Andar Nahi Aati Ke Samane Pesh Kiya Jana Aavashyak Hai Yeh Aapko Apni Pasand Ka Vakil Kiya Jana Aavashyak Hai Aapki Pasand Karo Dil Kar Sakte Hain Koi Bharat Mein Koi Aapko Mana Nahi Kar Sakta Iske Alava Aap Ko Pakadane Ka Yeh Giraftar Karne Ka Kaaran Police Ko Batana Hi Hoga Kuch Kiss Ko Chodkar Aapko Batana Aur Police Wala Tha Aapko Nahi Batatey Hain Aap Kewal Nahi Deta Ko Giraftar Bhi Nahi Kar Sakte To Is Tarah Ke Right Samay Mile Hue Maulik Adhikaar Mile Hue Jo Ki Bhartiya Nagarik Hone Ke Badle Fayde Se Mile Aur Us Samay Hamara Desh Azad Hua Tha Wah Us Samay Humne Yeh Adhikaar Jo Liye The Wah United States Liye Thank You
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मूल अधिकार भारतीय संविधान के अनुच्छेद है जिनमें अपने नागरिकों के प्रति राज्य के दायित्व और राज्य के प्रति नागरिकों के कर्तव्य का वर्णन किया गया है इन अनुच्छेदों में सरकार के द्वारा नीति निर्माण तथा नागरिकों के आचार्य एवं व्यवहार के संबंध संबंध में संवैधानिक अधिकार निदेशक शामिल है या अनुच्छेद संविधान के आवश्यक तत्व माने जाते हैं जिसे भारतीय संविधान सभा द्वारा 1927 से 1949 के बीच विकसित किया गया था मूल अधिकार जो तीसरे भाग में आता है कुछ सभी नागरिकों के बुनियादी मानव अधिकार के रूप में परिभाषित किया गया है संविधान के भाग 3 में परिभाषित यह अधिकार नासिर जन्म स्थान जाति पंथ या लिंग के भेद के बिना सभी पर लागू होते हैं यह विशिष्ट प्रतिबंधों के अधीन अदालतों द्वारा प्रवर्तनीय हैMul Adhikaar Bhartiya Samvidhan Ke Anuched Hai Jinmein Apne Naagrikon Ke Prati Rajya Ke Dayitva Aur Rajya Ke Prati Naagrikon Ke Kartavya Ka Vernon Kiya Gaya Hai In Anuchhedon Mein Sarkar Ke Dwara Niti Nirman Tatha Naagrikon Ke Acharya Evam Vyavhar Ke Sambandh Sambandh Mein Samvaidhanik Adhikaar Nideshak Shamil Hai Ya Anuched Samvidhan Ke Aavashyak Tatva Mane Jaate Hain Jise Bhartiya Samvidhan Sabha Dwara 1927 Se 1949 Ke Beech Viksit Kiya Gaya Tha Mul Adhikaar Jo Tisare Bhag Mein Aata Hai Kuch Sabhi Naagrikon Ke Buniyaadi Manav Adhikaar Ke Roop Mein Paribhashit Kiya Gaya Hai Samvidhan Ke Bhag 3 Mein Paribhashit Yeh Adhikaar Nasir Janm Sthan Jati Panth Ya Ling Ke Bhed Ke Bina Sabhi Par Laagu Hote Hain Yeh Vishist Pratibandho Ke Adhin Adalaton Dwara Pravartaniya Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Samvidhan Ke Bhag 3 Mein Kis Cheez Ka Ullekh Kiya Gaya Hai Vistar Se Samjhaiye ?, Samvidhan Ke Bhag





मन में है सवाल?