श्रवण कुमार के माता पिता का नाम क्या है ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
और श्रवण कुमार के माता पिता का नाम क्या है अगर आपका यह सवाल है तो देखिए यह श्रवण कुमार आप रामायण के बात कर रहे हैं चरित्र तो श्रवण कुमार का जिक्र कर रहे हैं जो कि शिकार के दौरान दशरथ द्वारा गलती से गोली मार दी गई थी श्रवण कुमार के माता-पिता शांतनु और ज्ञानवाणी है ना पिता का नाम शांतनु और माता का नाम ज्ञानवाणी है जो पुराने हो गए हैं और विभिन्न पवित्र स्थानों की यात्रा करना चाहते हैं यह विश्वास है कि वृद्धि शर्मा ों के दौरान तीर्थयात्रा लेने से आत्मा को अशुद्ध करने और पोस्ट प्राप्त करने में मदद मिलेगी एक बार अपने वृद्ध माता पिता श्रवण कुमार के साथ जो है तीर्थ यात्रा के दौरान ना पानी इकट्ठा करने के लिए एक कछुआ तालाब के पास आते हैं तो दशरथ निकलती से सावन की आवाज को एक जानवर के रूप में पहचान लिया है और अकस्मात उसे मारने के लिए की गोली मार दी थी और सब अपने-अपने धारणाओं के लिए दशरथ को अनुराग अनुरोध किया है कि वह पानी अपने माता पिता को लेने के लिए अपनी प्यास बुझाने के लिए इस दुर्घटना के बारे में उन्होंने सूचित करें घटना को जानकर अपने एकमात्र बेटे को खोने का आंशिक को सहन करने में असमर्थ थे अभी दशरथ को श्राप देते हैं कि वह भी जाएंगे पुत्र के नुकसान के कारण इस पुत्र शोक दुख के माध्यम सेAur Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Naam Kya Hai Agar Aapka Yeh Sawal Hai To Dekhie Yeh Shravan Kumar Aap Ramayana Ke Baat Kar Rahe Hain Charitra To Shravan Kumar Ka Jikarr Kar Rahe Hain Jo Ki Shikar Ke Dauran Dashrath Dwara Galti Se Goli Maar Di Gayi Thi Shravan Kumar Ke Mata Pita Shantanu Aur Gyanavani Hai Na Pita Ka Naam Shantanu Aur Mata Ka Naam Gyanavani Hai Jo Purane Ho Gaye Hain Aur Vibhinn Pavitra Sthanon Ki Yatra Karna Chahte Hain Yeh Vishwas Hai Ki Vriddhi Sharma On Ke Dauran Teerthyatra Lene Se Aatma Ko Ashuddh Karne Aur Post Prapt Karne Mein Madad Milegi Ek Baar Apne Vriddh Mata Pita Shravan Kumar Ke Saath Jo Hai Tirth Yatra Ke Dauran Na Pani Ikattha Karne Ke Liye Ek Kachua Taalab Ke Paas Aate Hain To Dashrath Nikalti Se Sawan Ki Aawaj Ko Ek Janwar Ke Roop Mein Pehchaan Liya Hai Aur Aksmaat Use Maarne Ke Liye Ki Goli Maar Di Thi Aur Sab Apne Apne Dharnaon Ke Liye Dashrath Ko Anurag Anurodh Kiya Hai Ki Wah Pani Apne Mata Pita Ko Lene Ke Liye Apni Pyaas Bujhaane Ke Liye Is Durghatna Ke Baare Mein Unhone Suchit Karen Ghatna Ko Jaankar Apne Ekmatra Bete Ko Khone Ka Aashik Ko Sahan Karne Mein Asamarth The Abhi Dashrath Ko Shraap Dete Hain Ki Wah Bhi Jaenge Putra Ke Nuksan Ke Kaaran Is Putra Shok Dukh Ke Maadhyam Se
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Naam Kya Hai, Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Naam, Shravan Ke Mata Pita Ka Naam, श्रवण कुमार के माता पिता का नाम, Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Kya Naam Tha, श्रवण के माता पिता का नाम, Shravan Ke Mata Pita Ka Kya Naam Tha, Shravan Kumar Ke Mata Pita, सरवन कुमार के माता पिता का नाम, सरवन के माता पिता का नाम, सरवण के माता पिता का नाम, Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Naam Kya Tha, श्रवण कुमार के माता-पिता का क्या नाम था, श्रवण के माता पिता का क्या नाम था, श्रवण कुमार के पिता का नाम, माता पिता का नाम, Shravan Ke Mata Pita, श्रवण कुमार के माता पिता का नाम क्या था, सरवन के माता पिता का क्या नाम था, Shravan Ke Mata Pita Ka Naam Kya Tha, सरवन कुमार के माता पिता का क्या नाम था, Shravan Kumar Ke Pita Ka Naam Kya Tha, Sarvan Kumar Ke Mata Pita, Shravan Kumar Ke Mata Pita Ka Kya Naam Hai, Sarwan Ke Mata Pita Ka Naam, Sawan Ke Mata Pita Ka Naam





मन में है सवाल?