क्या भारत का संविधान सभी देशवासियों को समानता का अधिकार देता है ? ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी हां हमारे देश का संविधान सभी भारतीयों को सभी देशवासियों को समानता का अधिकार देता है भारत के संविधान में भारतीय नागरिकों के साथ मौलिक अधिकार दिए गए हैं उनमें से समानता का अधिकार भी एक है समानता के अधिकार में अनुच्छेद 14 में राज्य द्वारा सभी व्यक्तियों के लिए एक समान कानून बनाया जाएगा वह सभी नागरिकों पर वह वह एक समान लागू भी किया जाएगा अनुच्छेद 15 में धर्म जाति लिंग नस या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा अनुच्छेद 16 में राज्य के अधीन किसी भी पद या नियुक्ति से संबंधित विषय पर सभी नागरिकों के लिए समान अवसर होंगे अपवाद अनुसूचित जाति जनजाति और पिछड़ा वर्ग अनुच्छेद 17 में अस्पृश्यता का अंत अनुच्छेद 18 में सेना या विद्या संबंधी उपाधि के अलावा कोई और उपाधि राज्य द्वारा नहीं दी जाएगी उपाधियों का अंतJi Haan Hamare Desh Ka Samvidhan Sabhi Bharatiyon Ko Sabhi Deshvasiyon Ko Samanata Ka Adhikaar Deta Hai Bharat Ke Samvidhan Mein Bhartiya Naagrikon Ke Saath Maulik Adhikaar Diye Gaye Hain Unmen Se Samanata Ka Adhikaar Bhi Ek Hai Samanata Ke Adhikaar Mein Anuched 14 Mein Rajya Dwara Sabhi Vyaktiyon Ke Liye Ek Saman Kanoon Banaya Jayega Wah Sabhi Naagrikon Par Wah Wah Ek Saman Laagu Bhi Kiya Jayega Anuched 15 Mein Dharm Jati Ling Nas Ya Janm Sthan Ke Aadhar Par Bhedbhav Nahi Kiya Jayega Anuched 16 Mein Rajya Ke Adhin Kisi Bhi Pad Ya Niyukti Se Sambandhit Vishay Par Sabhi Naagrikon Ke Liye Saman Avsar Honge Apavad Anusuchit Jati Janjaati Aur Pichada Varg Anuched 17 Mein Asprishyata Ka Ant Anuched 18 Mein Sena Ya Vidya Sambandhi Upadhi Ke Alava Koi Aur Upadhi Rajya Dwara Nahi Di Jayegi Upadhiyon Ka Ant
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत का संविधान सभी देशवासियों को समानता का अधिकार देता है समानता का अधिकार प्रत्येक भारतवासियों का एक मौलिक अधिकार है जो आर्टिकल 14 से लेकर 18 तक में समानता की बात करता है जो आर्टिकल 14 वह राज्य भारत के राज्य क्षेत्र में किसी व्यक्ति को विधि के समक्ष समानता से यह विधि के समान संरक्षण से वंचित नहीं करेगा और राज्य जो है किसी नागरिक के विरुद्ध केवल धर्म मूलवंश जाति लिंग जन्म स्थान यकीन में से किसी आधार पर भेदभाव नहीं करेगा और राज्य जुड़े सभी को समान अवसर की समानता भी प्रदान करता है और कुछ में उपाधियों का अंत विराज सेना या विद्या संबंधी सामान्य विशेष से कोई उपाधि प्रदान नहीं करेगा इस प्रकार भारत का संविधान सभी देशवासियों को समानता का अधिकार देता है धन्यवादBharat Ka Samvidhan Sabhi Deshvasiyon Ko Samanata Ka Adhikaar Deta Hai Samanata Ka Adhikaar Pratyek Bharatvasiyon Ka Ek Maulik Adhikaar Hai Jo Article 14 Se Lekar 18 Tak Mein Samanata Ki Baat Karta Hai Jo Article 14 Wah Rajya Bharat Ke Rajya Kshetra Mein Kisi Vyakti Ko Vidhi Ke Samaksh Samanata Se Yeh Vidhi Ke Saman Sanrakshan Se Vanchit Nahi Karega Aur Rajya Jo Hai Kisi Nagarik Ke Viruddha Kewal Dharm Mulvansh Jati Ling Janm Sthan Yakin Mein Se Kisi Aadhar Par Bhedbhav Nahi Karega Aur Rajya Jude Sabhi Ko Saman Avsar Ki Samanata Bhi Pradan Karta Hai Aur Kuch Mein Upadhiyon Ka Ant Viraj Sena Ya Vidya Sambandhi Samanya Vishesh Se Koi Upadhi Pradan Nahi Karega Is Prakar Bharat Ka Samvidhan Sabhi Deshvasiyon Ko Samanata Ka Adhikaar Deta Hai Dhanyavad
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
प्रिया भारत का संविधान सभी देशवासियों को समानता का अधिकार देता है और मानता भी है हमारे संविधान में किसी भी जाति धर्म या समाज के आधार पर लोगों को स्पेशल ट्रीटमेंट या अलग तरह से नहीं देखा जाता सबको लो और पॉलिटिक्स की अप्रोच में एक जैसा ही माना जाता है आप चाहे छोटी कहां से बिलॉन्ग करते हो या ऊपर की कार से या मुस्लिम हो हिंदुओं सभी को सारे राइट्स बराबर दिए गए हैं लेकिन ऐसा जरूर संविधान सभी को एक तरह जरूर देखता है परंतु आपको चीजों में आरक्षण दिए जाते हैं और जोड़ी जिन्हें हम रिजर्वेशन कहते हैं कुछ जातियों के आधार पर और कही थी कुछ धर्म के आधार पर और इसका कारण यह है क्योंकि कई लोग + नीची जाति के लोग हैं उनको काफी समय तक बहुत ज्यादा टॉर्चर झेलना पड़ा था और उनको काफी नीचे जाती माना जाता है जिसकी वजह से उनका शोषण होता है तो उनको ऊपर लाने के लिए भारत का संविधान में कुछ आरक्षण और रिजा मिशन जैसी चीजें भी हैं जिनके जिनकी मदद से बोलो ऊपर आ सकते हैं और अपना अच्छे से जीवन व्यापन कर सकते हैं इसके अलावा भारत में किसी भी तरह का कोई भी अलग स्पेशल ट्रेन नहीं है किसी भी चीज के लिए किसी भी इंसान के लिए और सभी देशवासियों को एक कल्लो के आधार पर एक ही समान माना जाता है और सब को एक ही तरह देखा जाता हैPriya Bharat Ka Samvidhan Sabhi Deshvasiyon Ko Samanata Ka Adhikaar Deta Hai Aur Manata Bhi Hai Hamare Samvidhan Mein Kisi Bhi Jati Dharm Ya Samaaj Ke Aadhar Par Logon Ko Special Treatment Ya Alag Tarah Se Nahi Dekha Jata Sabko Lo Aur Politics Ki Approach Mein Ek Jaisa Hi Mana Jata Hai Aap Chahe Choti Kahan Se Bilang Karte Ho Ya Upar Ki Car Se Ya Muslim Ho Hinduon Sabhi Ko Sare Rights Barabar Diye Gaye Hain Lekin Aisa Jarur Samvidhan Sabhi Ko Ek Tarah Jarur Dekhta Hai Parantu Aapko Chijon Mein Aarakshan Diye Jaate Hain Aur Jodi Jinhen Hum Reservation Kehte Hain Kuch Jaatiyo Ke Aadhar Par Aur Kahi Thi Kuch Dharm Ke Aadhar Par Aur Iska Kaaran Yeh Hai Kyonki Kai Log + Nichi Jati Ke Log Hain Unko Kafi Samay Tak Bahut Jyada Torture Jhelna Pada Tha Aur Unko Kafi Neeche Jati Mana Jata Hai Jiski Wajah Se Unka Shoshan Hota Hai To Unko Upar Lane Ke Liye Bharat Ka Samvidhan Mein Kuch Aarakshan Aur Rija Mission Jaisi Cheezen Bhi Hain Jinke Jinaki Madad Se Bolo Upar Aa Sakte Hain Aur Apna Acche Se Jeevan Vyapan Kar Sakte Hain Iske Alava Bharat Mein Kisi Bhi Tarah Ka Koi Bhi Alag Special Train Nahi Hai Kisi Bhi Cheez Ke Liye Kisi Bhi Insaan Ke Liye Aur Sabhi Deshvasiyon Ko Ek Kallo Ke Aadhar Par Ek Hi Saman Mana Jata Hai Aur Sab Ko Ek Hi Tarah Dekha Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Ka Samvidhan Sabhi Deshvasiyon Ko Samanata Ka Adhikaar Deta Hai ?





मन में है सवाल?