आरक्षण होना चाहिए या नहीं और आपके पास इसे जारी रखने या खत्म करने के क्या तर्क हैं। ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत में अगर देखा जाए तो सबसे अधिक विवाद का कारण अथवा विषय जो चीज बनती है यह व आरक्षण अंतर है आप हमें यह जानना आवश्यक है कि आरक्षण किस आधार पर दिया जाए तो मुझे ऐसा लगता है बहुत सी अनुसूचित जातियां और जनजातियां ऐसी हैं जिनको आज भी शायद आरक्षण की व्यवस्था है परंतु यह भी जानना आवश्यक है कि इतने साल तक आरक्षण मिलने के बावजूद उनकी स्थिति में सुधार क्यों नहीं हो पाया क्योंकि केंद्र सरकार व राज्य सरकारें पिछले कई दशकों से उन जनजातियों और जातियों को आरक्षण का फायदा पहुंचाने में असफल रही है जिनकी उम्र उस चीज को आरक्षण क्या की सबसे ज्यादा आवश्यकता थी तो इसके लिए केंद्र सरकार व राज्य सरकार जिम्मेदार हैं परंतु आरक्षण का फायदा कुछ गिनी-चुनी जातियां उठाकर ले जाती हैं और वह उनका स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है उनका आर्थिक सुधारों चाहे राजनीतिक कद हो चाहे उनका कुल मिलाकर भारतीय प्रजातंत्र में जो उनकी पेट है वह जल्दी चली गई और वह बहुत ही संपन्न जातियां और जनजातियां बन गई परंतु अभी भी बहुत सी जाति जनजाति है जिन को इसका लाभ नहीं मिल पाया तथा उनकी स्थिति यथा स्थिति बनी हुई है ना बात आती है आर्थिक स्तर पर आरक्षण की तो मुझे ऐसा लगता है कि आर्थिक स्तर पर हां बिल्कुल आरक्षण प्रदान किया जाना चाहिए उन जातियों जनजातियों अथवा सामान्य वर्ग के लोगों को चीन को आर्थिक रूप से पिछड़े हुए हैं तथा उन को विकास का जो मूलभूत भावना होती है मूलभूत + आधार होता है वहां तक पहुंच ही नहीं पाया साथ ही साथ शारीरिक रूप से अक्षम व विकलांग लोगों के लिए भी उस समुदाय के लिए भी आरक्षण की सुचारू व्यवस्था होनी चाहिए तथा वह किसी भी स्थिति में बंद नहीं की जानी चाहिए साथ-साथ मुझे ऐसा लगता है कि महिलाओं के लिए विशेष का पिछड़े वर्ग की महिलाओं के लिए कहीं ना कहीं आरक्षण की व्यवस्था होनी चाहिए अथवा उनकी शिक्षा में सुधार किया जाना बहुत ही आवश्यक है धन्यवादBharat Mein Agar Dekha Jaye To Sabse Adhik Vivad Ka Kaaran Athwa Vishay Jo Cheez Banti Hai Yeh V Aarakshan Antar Hai Aap Hume Yeh Janana Aavashyak Hai Ki Aarakshan Kis Aadhar Par Diya Jaye To Mujhe Aisa Lagta Hai Bahut Si Anusuchit Jatiyaan Aur Janajatiyan Aisi Hain Jinako Aaj Bhi Shayad Aarakshan Ki Vyavastha Hai Parantu Yeh Bhi Janana Aavashyak Hai Ki Itne Saal Tak Aarakshan Milne Ke Bawajud Unki Sthiti Mein Sudhaar Kyun Nahi Ho Paya Kyonki Kendra Sarkar V Rajya Sarkaren Pichle Kai Dashakon Se Un Janjatiyon Aur Jaatiyo Ko Aarakshan Ka Fayda Pahunchane Mein Asafal Rahi Hai Jinaki Umar Us Cheez Ko Aarakshan Kya Ki Sabse Jyada Avashyakta Thi To Iske Liye Kendra Sarkar V Rajya Sarkar Zimmedar Hain Parantu Aarakshan Ka Fayda Kuch Gini Chuni Jatiyaan Uthaakar Le Jati Hain Aur Wah Unka Sthar Lagatar Badhta Ja Raha Hai Unka Aarthik Sudharo Chahe Rajnitik Kad Ho Chahe Unka Kul Milakar Bhartiya Prajaatantr Mein Jo Unki Pet Hai Wah Jaldi Chali Gayi Aur Wah Bahut Hi Sanpann Jatiyaan Aur Janajatiyan Ban Gayi Parantu Abhi Bhi Bahut Si Jati Janjaati Hai Jin Ko Iska Labh Nahi Mil Paya Tatha Unki Sthiti Yatha Sthiti Bani Hui Hai Na Baat Aati Hai Aarthik Sthar Par Aarakshan Ki To Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Aarthik Sthar Par Haan Bilkul Aarakshan Pradan Kiya Jana Chahiye Un Jaatiyo Janjatiyon Athwa Samanya Varg Ke Logon Ko Chin Ko Aarthik Roop Se Pichade Hue Hain Tatha Un Ko Vikash Ka Jo Mulbhut Bhavna Hoti Hai Mulbhut + Aadhar Hota Hai Wahan Tak Pahunch Hi Nahi Paya Saath Hi Saath Shaaririk Roop Se Aksham V Viklaang Logon Ke Liye Bhi Us Samuday Ke Liye Bhi Aarakshan Ki Sucharu Vyavastha Honi Chahiye Tatha Wah Kisi Bhi Sthiti Mein Band Nahi Ki Jani Chahiye Saath Saath Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Mahilaon Ke Liye Vishesh Ka Pichade Varg Ki Mahilaon Ke Liye Kahin Na Kahin Aarakshan Ki Vyavastha Honi Chahiye Athwa Unki Shiksha Mein Sudhaar Kiya Jana Bahut Hi Aavashyak Hai Dhanyavad
Likes  15  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखी दोस्त भी चीज आरक्षण एक ही मेरा ऐसा मानना है कि अगर गवर्नमेंट को आरक्षण देना है तो वह आरक्षण जाति रिलीजन विकास के आधार पर नहीं देना चाहिए वह अर्थव्यवस्था के आधार पर देना चाहिए तो मैं तो यह बस यही बोलूंगा कि आरक्षण देना चाहिए लेकिन अर्थव्यवस्था के आधार बनाकर खांसी अगले जन्म के आधार पर आरक्षण को खत्म करना खत्म करने की बात अलग है आपको तो पता ही है आजकल जो जो खास या कुछ रीजन और कास्ट अब धमकी कर रहे हैं ताकि उनको भी रिजर्वेशन के अंदर आ सके हरियाणा में ले ले लीजिए अभी 2 साल पहले दंगा हुआ था काफी ज्यादा तगड़ा महाराष्ट्र में भी इसी बात को लेकर कुछ दंगा हुआ था कि वह भी डिमांड कर रही थी कि उनको खुदा मिले तो अगर आप अगर ऐसे ही आरक्षण चलता रहेगा तो आप सूची सारे सारे जो रिलीजन सारे कष्ट है वह सब अपने आप को रिजर्वेशन के अंदर लाना चाहेंगे तो फिर तो कोई मतलब नहीं रहना आरक्षण का आरक्षण बनाया गया उन लोगों के लिए था जो कि निचले स्तर पर थे और जो गरीब पर काफी उनको ऊपर लेवल पर लाने के लिए था लेकिन आरक्षण के लोग लोगों ने आज गलत मतलब ले लिया है तो बस मैं ही बोलूंगा अब आरक्षण को अगर आप हटाना है तो आपको बहुत स्पीड शूज बनाने पड़ेंगे और आपको अच्छे से रूल को फॉलो करना पड़ेगा और आपको मीटिंग दिखानी पड़ेगी तब जाकर आरक्षण हट पाएगा क्योंकि छोटी-छोटी बातों पर आरक्षण के लिए दंगे हो रहे हैं आजकल मुझे लगता है आपको अच्छे से स्टेट उसके साथ आरक्षण को हटाना चाहिए और अगर गवर्नमेंट को आरक्षण देना है तो सिर्फ अर्थव्यवस्था के आधार पर दें ताकि सारे प्रकाश के पीपल जो गरीब लोग हैं उनको मदद मिले थैंक यूDekhi Dost Bhi Cheez Aarakshan Ek Hi Mera Aisa Manana Hai Ki Agar Government Ko Aarakshan Dena Hai To Wah Aarakshan Jati Rilijan Vikash Ke Aadhar Par Nahi Dena Chahiye Wah Arthavyavastha Ke Aadhar Par Dena Chahiye To Main To Yeh Bus Yahi Bolunga Ki Aarakshan Dena Chahiye Lekin Arthavyavastha Ke Aadhar Banakar Khansi Agle Janm Ke Aadhar Par Aarakshan Ko Khatam Karna Khatam Karne Ki Baat Alag Hai Aapko To Pata Hi Hai Aajkal Jo Jo Khas Ya Kuch Reason Aur Caste Ab Dhamki Kar Rahe Hain Taki Unko Bhi Reservation Ke Andar Aa Sake Haryana Mein Le Le Lijiye Abhi 2 Saal Pehle Danga Hua Tha Kafi Jyada Tagada Maharashtra Mein Bhi Isi Baat Ko Lekar Kuch Danga Hua Tha Ki Wah Bhi Demand Kar Rahi Thi Ki Unko Khuda Mile To Agar Aap Agar Aise Hi Aarakshan Chalta Rahega To Aap Suchi Sare Sare Jo Rilijan Sare Kasht Hai Wah Sab Apne Aap Ko Reservation Ke Andar Lana Chahenge To Phir To Koi Matlab Nahi Rehna Aarakshan Ka Aarakshan Banaya Gaya Un Logon Ke Liye Tha Jo Ki Neechle Sthar Par The Aur Jo Garib Par Kafi Unko Upar Level Par Lane Ke Liye Tha Lekin Aarakshan Ke Log Logon Ne Aaj Galat Matlab Le Liya Hai To Bus Main Hi Bolunga Ab Aarakshan Ko Agar Aap Hatana Hai To Aapko Bahut Speed Shoes Banane Padenge Aur Aapko Acche Se Rule Ko Follow Karna Padega Aur Aapko Meeting Dikhaani Padegi Tab Jaakar Aarakshan Hut Payega Kyonki Choti Choti Baaton Par Aarakshan Ke Liye Denge Ho Rahe Hain Aajkal Mujhe Lagta Hai Aapko Acche Se State Uske Saath Aarakshan Ko Hatana Chahiye Aur Agar Government Ko Aarakshan Dena Hai To Sirf Arthavyavastha Ke Aadhar Par Dein Taki Sare Prakash Ke Pipal Jo Garib Log Hain Unko Madad Mile Thank You
Likes  7  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
हिंदी की आदत प्रकार की भारत की जनसंख्या है और प्रकार से गरीबी अभी भी भारत में है दुकानों का पर मुझे लगता है भारत में जो आरक्षण होना चाहिए लेकिन जिस प्रकार का अभी का आरक्षण चल रहा है जहां पर 45% तक ही तेज है वह आरक्षण में जाती तो का नाका पर उसमें जो है कई सारे बदलाव लाए जा सकते हैं उसे जारी रखना चाहिए आरक्षण होना चाहिए उसमें जो थोड़ी बहुत बदलाव भी होनी चाहिए अगर हम बात करें तो जिस प्रकार से लोगों को जात के नाम पर आरक्षण मिल रहा है उसे बदल देना चाहिए लोगों को गरीबी और पिछड़ी जात पर इन दोनों के बेसिस पर लोगों को आरक्षण मिलना चाहिए क्योंकि देखा है कि ऐसे कई सारे मैसेज भेजो कि अमीर लोग हैं जो कि पिछली काल से मिलते हैं तूफानों को सुरक्षित तो मेरे हिसाब से उन्हें आरक्षण की जरूरत नहीं पड़ती है और सिर्फ वही नहीं आज इस प्रकार से आरक्षण जाए 45% सके तो खाना का पूर्व 45% मूवी कम से कम 15:20 बजे शतक होना चाहिए अगर ऐसा होता है तो फिर आओ मेरे हिसाब से जो भी चला कैटेगरी है उन्हें कोई भी प्रॉब्लम नहीं होगी आरक्षण से और जितना हो सके उतना कर गरीबों के लिए आरक्षण सितंबर के आरक्षण बनाए रखे तो वह आएगा तो का नक्शा होना चाहिए और यह सारी जो बात जानने का यह सारे बदलाव में आरक्षण में होनी चाहिए तो अगर इसी तरह सरकार की चाबी रखती है तो वह बहुत ही अच्छी बात हैHindi Ki Aadat Prakar Ki Bharat Ki Jansankhya Hai Aur Prakar Se Garibi Abhi Bhi Bharat Mein Hai Dukaano Ka Par Mujhe Lagta Hai Bharat Mein Jo Aarakshan Hona Chahiye Lekin Jis Prakar Ka Abhi Ka Aarakshan Chal Raha Hai Jahan Par 45% Tak Hi Tez Hai Wah Aarakshan Mein Jati To Ka Naka Par Usamen Jo Hai Kai Sare Badlav Laye Ja Sakte Hain Use Jaari Rakhna Chahiye Aarakshan Hona Chahiye Usamen Jo Thodi Bahut Badlav Bhi Honi Chahiye Agar Hum Baat Karen To Jis Prakar Se Logon Ko Jaat Ke Naam Par Aarakshan Mil Raha Hai Use Badal Dena Chahiye Logon Ko Garibi Aur Pichhadi Jaat Par In Dono Ke Basis Par Logon Ko Aarakshan Milna Chahiye Kyonki Dekha Hai Ki Aise Kai Sare Massage Bhejo Ki Amir Log Hain Jo Ki Pichali Kaal Se Milte Hain Tufanon Ko Surakshit To Mere Hisab Se Unhen Aarakshan Ki Zaroorat Nahi Padhti Hai Aur Sirf Wahi Nahi Aaj Is Prakar Se Aarakshan Jaye 45% Sake To Khana Ka Purv 45% Movie Kum Se Kum 15:20 Baje Shatak Hona Chahiye Agar Aisa Hota Hai To Phir Aao Mere Hisab Se Jo Bhi Chala Category Hai Unhen Koi Bhi Problem Nahi Hogi Aarakshan Se Aur Jitna Ho Sake Utana Kar Garibon Ke Liye Aarakshan September Ke Aarakshan Banaye Rakhe To Wah Aayega To Ka Naksha Hona Chahiye Aur Yeh Saree Jo Baat Jaanne Ka Yeh Sare Badlav Mein Aarakshan Mein Honi Chahiye To Agar Isi Tarah Sarkar Ki Chabi Rakhti Hai To Wah Bahut Hi Acchi Baat Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aarakshan Hona Chahiye Ya Nahi Aur Aapke Paas Ise Jaari Rakhne Ya Khatam Karne Ke Kya Tark Hain





मन में है सवाल?