search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

भारतीय पत्रकार रवीश कुमार को रमन मैग्सेसे पुरस्कार से क्यों सम्मानित किया गया है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा कि आपका प्रश्न है कि रवीश कुमार जी को रेमन मैग्सेसे पुरस्कार क्यों दिया गया एशिया का नोबेल को कहा जाता है तो प्लीज आप एक बार उनके वीडियो देखिए उनकी पत्रकारिता को देखिए समझ है मैं सभी पत्रकार को देखता हूं जितने भी टीवी एंकर हैं उनमें सभी कंपैरिजन करेंगे रवीश कुमार के साथ और पाते हैं कि रवीश कुमार यह कैसा एंकर है जो हमेशा निष्पक्ष एवं विभाग से अपनी राय रखते हैं और वह हमेशा रात को उन्नति की ओर ले जाने के लिए अग्रसर रहते हैं वह हमेशा ग्राउंड रिपोर्ट करते हैं सच्ची खबर दिखाते हैं हमेशा निष्पक्ष मीडिया की जो एक इंटरव्यू है उसको पूरा करते हैं इसलिए बिल्कुल रेमन मैग्सेसे पुरस्कार के लिए हकदार चाहिए
ऐसा कि आपका प्रश्न है कि रवीश कुमार जी को रेमन मैग्सेसे पुरस्कार क्यों दिया गया एशिया का नोबेल को कहा जाता है तो प्लीज आप एक बार उनके वीडियो देखिए उनकी पत्रकारिता को देखिए समझ है मैं सभी पत्रकार को देखता हूं जितने भी टीवी एंकर हैं उनमें सभी कंपैरिजन करेंगे रवीश कुमार के साथ और पाते हैं कि रवीश कुमार यह कैसा एंकर है जो हमेशा निष्पक्ष एवं विभाग से अपनी राय रखते हैं और वह हमेशा रात को उन्नति की ओर ले जाने के लिए अग्रसर रहते हैं वह हमेशा ग्राउंड रिपोर्ट करते हैं सच्ची खबर दिखाते हैं हमेशा निष्पक्ष मीडिया की जो एक इंटरव्यू है उसको पूरा करते हैं इसलिए बिल्कुल रेमन मैग्सेसे पुरस्कार के लिए हकदार चाहिए
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

ques_icon

अधिक जवाब


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मशहूर पत्रकार और एनडीटीवी इंडिया के मैच में एडिटर रवीश कुमार को रेमन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित किया गया है एशिया का नोबेल प्राइज किसे कहा जाता है तो रवीश कुमार कोई अवार्ड क्यों मिला देखिए आपको उनकी वीडियो दिखा कर रखनी चाहिए उनके पत्रकारिता का जो तरीका है उसे देखना चाहिए और आपको समझ जाएंगे कि रवीश कुमार को यह पुरस्कार क्यों मिला जो संस्था इस पुरस्कार को दे दी थी रविश कुमार को उन्होंने लिखा भी है कि जिस दौर में सीआरपी की रेस में मार्केट में सभी न्यूज़ चैनल दौड़ रहे थे तभी उसे एक दूसरे को पीछे छोड़ने की डेट में लगे हुए थे उस दौर में रवीश कुमार ने सामाजिक पत्रकारिता की और समाज के मुद्दों को सबके सामने उठाया और में न्यूज़ चैनल सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं उस दौर में रवीश कुमार जो है सरकार के दबाव में ना आते हुए जनता के मुद्दे सरकार के सामने उठा रहे हैं एक पत्रकार का काम जो कि जनता की आवाज थाना होता है वह काम रवीश कुमार कर रहे हैं आप समझ गए होंगे कि उन्हें यह अवार्ड क्यों मिला मैं आपको इसका एक उदाहरण देता हूं आप सभी चयनित जैसे अंजाम कश्यप ओ अमीश देवगन हो या सुधीर चौधरी हो या फिर रुबिका लियाकत खान और बहुत सारे पत्रकार रवीश कुमार को कम पर कि जब उनकी सोच में डिबेट के नाम पर हिंदू मुस्लिम के मुद्दे उठे होते हैं या फिर अलग-अलग चीजों का काम करते हैं उसमें रवीश कुमार ने सत्ता से सवाल पूछे थे और और अलग-अलग मुद्दों को लेकर अपनी प्राइम टाइम में अलग-अलग बातें क्यों दिखा रहे हो तो अलग बात थी जो है अपना काम जारी रखे हुए उन्हें जो फ्रंट से छात्र हैं वह वीडियो बनाकर भेजते हैं तो आप समझ सकते रवि कुमार किस तरीके से और किस समस्या में काम कर रहे हैं और उसके बाद इतना बड़ा पुरस्कार कितना एक बहुत बड़ी बात होती है एक बहुत गर्व की बात होती है तो मैं ही कहूंगा कि यह बहुत बड़ी गौरंगी छूने वाली बातें कौन से मेरी जैसे लोगों के लिए तो है जो रवीश कुमार और सबसे बड़ी बात यह पत्रकार है आज भी जो सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं उनके लिए भी एक मौका है जब रवीश कुमार के के पत्रकार इतना बड़ा काम करते हैं इतने काम करते हैं तो उनके लिए भी मौका है कि वह अपनी आवाज को दबाना और सरकार के सामने खुलकर बोले
मशहूर पत्रकार और एनडीटीवी इंडिया के मैच में एडिटर रवीश कुमार को रेमन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित किया गया है एशिया का नोबेल प्राइज किसे कहा जाता है तो रवीश कुमार कोई अवार्ड क्यों मिला देखिए आपको उनकी वीडियो दिखा कर रखनी चाहिए उनके पत्रकारिता का जो तरीका है उसे देखना चाहिए और आपको समझ जाएंगे कि रवीश कुमार को यह पुरस्कार क्यों मिला जो संस्था इस पुरस्कार को दे दी थी रविश कुमार को उन्होंने लिखा भी है कि जिस दौर में सीआरपी की रेस में मार्केट में सभी न्यूज़ चैनल दौड़ रहे थे तभी उसे एक दूसरे को पीछे छोड़ने की डेट में लगे हुए थे उस दौर में रवीश कुमार ने सामाजिक पत्रकारिता की और समाज के मुद्दों को सबके सामने उठाया और में न्यूज़ चैनल सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं उस दौर में रवीश कुमार जो है सरकार के दबाव में ना आते हुए जनता के मुद्दे सरकार के सामने उठा रहे हैं एक पत्रकार का काम जो कि जनता की आवाज थाना होता है वह काम रवीश कुमार कर रहे हैं आप समझ गए होंगे कि उन्हें यह अवार्ड क्यों मिला मैं आपको इसका एक उदाहरण देता हूं आप सभी चयनित जैसे अंजाम कश्यप ओ अमीश देवगन हो या सुधीर चौधरी हो या फिर रुबिका लियाकत खान और बहुत सारे पत्रकार रवीश कुमार को कम पर कि जब उनकी सोच में डिबेट के नाम पर हिंदू मुस्लिम के मुद्दे उठे होते हैं या फिर अलग-अलग चीजों का काम करते हैं उसमें रवीश कुमार ने सत्ता से सवाल पूछे थे और और अलग-अलग मुद्दों को लेकर अपनी प्राइम टाइम में अलग-अलग बातें क्यों दिखा रहे हो तो अलग बात थी जो है अपना काम जारी रखे हुए उन्हें जो फ्रंट से छात्र हैं वह वीडियो बनाकर भेजते हैं तो आप समझ सकते रवि कुमार किस तरीके से और किस समस्या में काम कर रहे हैं और उसके बाद इतना बड़ा पुरस्कार कितना एक बहुत बड़ी बात होती है एक बहुत गर्व की बात होती है तो मैं ही कहूंगा कि यह बहुत बड़ी गौरंगी छूने वाली बातें कौन से मेरी जैसे लोगों के लिए तो है जो रवीश कुमार और सबसे बड़ी बात यह पत्रकार है आज भी जो सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं उनके लिए भी एक मौका है जब रवीश कुमार के के पत्रकार इतना बड़ा काम करते हैं इतने काम करते हैं तो उनके लिए भी मौका है कि वह अपनी आवाज को दबाना और सरकार के सामने खुलकर बोले
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह जो रमन मैग्सेसे पुरस्कार है वह अभी रवीश कुमार जो एनडीटीवी के जर्नलिस्ट्स है उन्हें दी गई है क्योंकि उनकी जो जलाली समय काफी अच्छी मानी जाती है और यह पुरस्कार है उन्हें एथिकल जनरलिज्म के लिए दी गई
यह जो रमन मैग्सेसे पुरस्कार है वह अभी रवीश कुमार जो एनडीटीवी के जर्नलिस्ट्स है उन्हें दी गई है क्योंकि उनकी जो जलाली समय काफी अच्छी मानी जाती है और यह पुरस्कार है उन्हें एथिकल जनरलिज्म के लिए दी गई
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Bharatiya Patrakar Ravish Kumar Ko Raman Magsaysay Puraskar Se Kyon Sammanit Kiya Gaya Hai,Why Has Indian Journalist Ravish Kumar Received The Raman Magsaysay Award?,


vokalandroid