क्या भारत जैसे देश में पेपरलेस बैंकिंग संभव है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कि भारत जैसे देश में पेपर लिस्ट बैंकिंग बिल्कुल संभव है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जो संभवत का जो परसेंटेज है वह पूरी तरह से नीचे सो प्रतिशत जो है वह भारत में बैंकिंग सर्विसेज XXX हो जाएगी क्योंकि ...जवाब पढ़िये
कि भारत जैसे देश में पेपर लिस्ट बैंकिंग बिल्कुल संभव है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जो संभवत का जो परसेंटेज है वह पूरी तरह से नीचे सो प्रतिशत जो है वह भारत में बैंकिंग सर्विसेज XXX हो जाएगी क्योंकि हालत आगरा भारत में लिटरेसी रेट देखोगे तो बहुत कम है लिटरेसी रेट कुछ पार्टी की ओर से स्टेट से हो आप लिटरेसी रेट जो है वह चाहिए जो गांव होते ही मिले थे वहां पर लोग तो इतने पढ़े लिखे नहीं होते फिर उनको जो है एक का डिजिटल सिस्टम भी अच्छे से यूज नहीं करने को आता है तो उस ट्यूशन में हो जाए बैंकिंग पेपर लिस्ट बिल्कुल भी नहीं कर पाएंगे तो वहां पर आपको मैं ब्रांच करनी पड़ेगी और मैं पेपर से काम का चलाना पड़ेगा तो इतना तो संभव ही नहीं कि आप जो है सो प्रतिशत पूरी बैंकिंग सिस्टम को पेपरलेस बना दोगी लेकिन धीरे-धीरे जिस प्रकार से युवा पीढ़ी को अगर हम क्यों करेंगे तुम पोस्ट ऑफिस में सेक्स इंटरनेट की दुनिया में ही करती यानी कि डिजिटल में में करना पसंद करते तो धीरे-धीरे वह लोग जो है पेपर बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं और मुझे लगता है कि इन लोगों की संख्या में समय के साथ मुझे भूख से कम वर्षा होने वाली है यानी कि 1 लोगों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ते जाने वाली लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं कुछ ना कुछ प्रतिशत लोग जरूर लेंगे जिसके लिए आपको यहां पर ब्रांच स्कूल कागज तब तक कहीं काम करना पड़ेगाKi Bharat Jaise Desh Mein Paper List Banking Bilkul Sambhav Hai Lekin Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Jo Sambhavat Ka Jo Percentage Hai Wah Puri Tarah Se Neeche So Pratishat Jo Hai Wah Bharat Mein Banking Services XXX Ho Jayegi Kyonki Halat Agra Bharat Mein Literacy Rate To Bahut Kam Hai Literacy Rate Kuch Party Ki Oar Se State Se Ho Aap Literacy Rate Jo Hai Wah Chahiye Jo Gav Hote Hi Mile The Wahan Par Log To Itne Padhe Likhe Nahi Hote Phir Unko Jo Hai Ek Ka Digital System Bhi Acche Se Use Nahi Karne Ko Aata Hai To Us Tuition Mein Ho Jaye Banking Paper List Bilkul Bhi Nahi Kar Paenge To Wahan Par Aapko Main Branch Karni Padegi Aur Main Paper Se Kaam Ka Chalana Padega To Itna To Sambhav Hi Nahi Ki Aap Jo Hai So Pratishat Puri Banking System Ko Paperless Bana Lekin Dhire Dhire Jis Prakar Se Yuva Pidhi Ko Agar Hum Kyon Karenge Tum Post Office Mein Sex Internet Ki Duniya Mein Hi Karti Yani Ki Digital Mein Mein Karna Pasand Karte To Dhire Dhire Wah Log Jo Hai Paper Banking Ka Istemal Kar Rahe Hain Aur Mujhe Lagta Hai Ki In Logon Ki Sankhya Mein Samay Ke Saath Mujhe Bhukh Se Kam Varsha Hone Wali Hai Yani Ki 1 Logon Ki Sankhya Dhire Dhire Badhte Jaane Wali Lekin Phir Bhi Kahin Na Kahin Kuch Na Kuch Pratishat Log Jarur Lenge Jiske Liye Aapko Yahan Par Branch School Kagaz Tab Tak Kahin Kaam Karna Padega
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत जैसे देश में पेपरलेस बैंकिंग लाना थोड़ा कठिन है पर असंभव जबसे नोटबंदी हुई है तब से पेपरलेस बैंकिंग सबसे ज्यादा प्रचलित हुआ है लेकिन जानकार लोग जो मोबाइल बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी रखते...जवाब पढ़िये
भारत जैसे देश में पेपरलेस बैंकिंग लाना थोड़ा कठिन है पर असंभव जबसे नोटबंदी हुई है तब से पेपरलेस बैंकिंग सबसे ज्यादा प्रचलित हुआ है लेकिन जानकार लोग जो मोबाइल बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी रखते हैं वह लोग इसे काफी सालों से यूज करते कर रहे हैं और करते आए हैं और जब से जीएसटी लागू हुई है तब से अग्नि का आगमन भी काफी कम हुआ है अगर देखा जाए तो यह अधिक सुविधाजनक व्यवस्था है इसे अब नगदी को लेकर बैंक में जाओ उसे जमा करो फिर वहां से निकालो अभी सब नहीं है अगर मोबाइल बैंक मोबाइल बैंकिंग के नेट बैंकिंग है उसकी तरह आप अपने किसी को ट्रांसफर कर सकते हो किसी से ले सकते हो कहीं भी आप क्या दे सकते हो और गिनती का भी झंझट खत्म नकली नोटों की कोई चिंता भी नहीं और पूरे वर्ष के स्थान पर केवल एक पतला सा कार्ड रख लीजिएगा पर्याप्त हैBharat Jaise Desh Mein Paperless Banking Lana Thoda Kathin Hai Par Asambhav Jabse Notebandi Hui Hai Tab Se Paperless Banking Sabse Jyada Prachalit Hua Hai Lekin Janakar Log Jo Mobile Banking Aur Internet Banking Ki Jankari Rakhate Hain Wah Log Ise Kafi Salon Se Use Karte Kar Rahe Hain Aur Karte Aaye Hain Aur Jab Se Gst Laagu Hui Hai Tab Se Agni Ka Aagaman Bhi Kafi Kam Hua Hai Agar Dekha Jaye To Yeh Adhik Suvidhajanak Vyavastha Hai Ise Ab Nagadi Ko Lekar Bank Mein Jao Use Jama Karo Phir Wahan Se Abhi Sab Nahi Hai Agar Mobile Bank Mobile Banking Ke Net Banking Hai Uski Tarah Aap Apne Kisi Ko Transfer Kar Sakte Ho Kisi Se Le Sakte Ho Kahin Bhi Aap Kya De Sakte Ho Aur Ginti Ka Bhi Jhanjhat Khatam Nakli Noton Ki Koi Chinta Bhi Nahi Aur Poore Varsh Ke Sthan Par Kewal Ek Patla Sa Card Rakh Paryapt Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Jaise Desh Mein Paperless Banking Sambhav Hai

vokalandroid