search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

नगरीकरण का क्या प्रभाव हुआ है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नगरीकरण का प्रभाव पड़ा कि हमारे इन्वायरमेंट बहुत प्रदूषित हो चुका है पेड़-पौधे करते चले गए जमीन कम होती चली गई गांव के लोग मारपीट करके शहरों में आ गए जिसके कारण से जो पेड़ पौधे कम हुए तो पक्के मकान बने कंक्रीट के जिसके कारण से तापमान बढ़ते चले गए जीव जंतुओं के रहने के लिए पेड़ पौधे एकदम समाप्त हो गए तापमान दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है लोग जो है तापमान बढ़ने से प्रभाव यह पढ़ा लोग जो है या कंडीशनर रूम में रहना गाड़ी से चलना जिससे कार्बन डाइऑक्साइड कार्बन मोनो ऑक्साइड सल्फर डाइऑक्साइड इन गैसों के कारण से ओजोन लेयर जो हमारी प्रभावित हुई और जो वहां से किरणें आती हैं कहीं ना कहीं हमें प्रभावित करती हैं उससे हमें चर्म रोग ले तू डर मारो तमाम सारी बीमारियों का जड़ है तो यह हम समय रहते रोकथाम नहीं कर पाए तो कहीं ना कहीं हमारी हम आने वाले कल के लिए हम मानव जाति के लिए अपना अस्तित्व बचा पाना ही मुश्किल हो जाएगा नगरीकरण का प्रभाव यह भी हुआ कि लोग जो है संध्या ग्रामीण क्षेत्रों में विकास नगर के शहरी क्षेत्रों में हुआ संस्कृति का पतन हुआ एकीकरण परिवार का जन्म हुआ हमारी सभ्यता का पतन और इन्वायरमेंट हमारे सभ्यता के पतन में भी महत्वपूर्ण रोल अदा किया है सर पर फैमिली का उदय नगरीकरण का ही प्रभाव रहा है जिसके कारण से हमारे बहुत सारे भारतीय बुजुर्ग लोग गारमेंट के ही कारण से आने वाला नहीं जय हिंद जय भारत
Romanized Version
नगरीकरण का प्रभाव पड़ा कि हमारे इन्वायरमेंट बहुत प्रदूषित हो चुका है पेड़-पौधे करते चले गए जमीन कम होती चली गई गांव के लोग मारपीट करके शहरों में आ गए जिसके कारण से जो पेड़ पौधे कम हुए तो पक्के मकान बने कंक्रीट के जिसके कारण से तापमान बढ़ते चले गए जीव जंतुओं के रहने के लिए पेड़ पौधे एकदम समाप्त हो गए तापमान दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है लोग जो है तापमान बढ़ने से प्रभाव यह पढ़ा लोग जो है या कंडीशनर रूम में रहना गाड़ी से चलना जिससे कार्बन डाइऑक्साइड कार्बन मोनो ऑक्साइड सल्फर डाइऑक्साइड इन गैसों के कारण से ओजोन लेयर जो हमारी प्रभावित हुई और जो वहां से किरणें आती हैं कहीं ना कहीं हमें प्रभावित करती हैं उससे हमें चर्म रोग ले तू डर मारो तमाम सारी बीमारियों का जड़ है तो यह हम समय रहते रोकथाम नहीं कर पाए तो कहीं ना कहीं हमारी हम आने वाले कल के लिए हम मानव जाति के लिए अपना अस्तित्व बचा पाना ही मुश्किल हो जाएगा नगरीकरण का प्रभाव यह भी हुआ कि लोग जो है संध्या ग्रामीण क्षेत्रों में विकास नगर के शहरी क्षेत्रों में हुआ संस्कृति का पतन हुआ एकीकरण परिवार का जन्म हुआ हमारी सभ्यता का पतन और इन्वायरमेंट हमारे सभ्यता के पतन में भी महत्वपूर्ण रोल अदा किया है सर पर फैमिली का उदय नगरीकरण का ही प्रभाव रहा है जिसके कारण से हमारे बहुत सारे भारतीय बुजुर्ग लोग गारमेंट के ही कारण से आने वाला नहीं जय हिंद जय भारतNagrikaran Ka Prabhav Pada Ki Hamare Environment Bahut Pradushit Ho Chuka Hai Ped Paudhe Karte Chale Gaye Jameen Kam Hoti Chali Gayi Gav Ke Log Marapit Karke Shaharon Mein Aa Gaye Jiske Kaaran Se Jo Ped Paudhe Kam Huye To Pakke Makan Bane Kankrit Ke Jiske Kaaran Se Taapman Badhte Chale Gaye Jeev Jantuon Ke Rehne Ke Liye Ped Paudhe Ekdam Samapt Ho Gaye Taapman Din Par Din Badhta Ja Raha Hai Log Jo Hai Taapman Badhne Se Prabhav Yeh Padha Log Jo Hai Ya Condition Room Mein Rehna Gaadi Se Chalna Jisse Carbon Dioxide Carbon Mono Oxide Sulfur Dioxide In Gaison Ke Kaaran Se Ozone Layer Jo Hamari Prabhavit Hui Aur Jo Wahan Se Kirne Aati Hain Kahin Na Kahin Hume Prabhavit Karti Hain Usse Hume Charm Rog Le Tu Dar Maaro Tamam Saree Bimariyon Ka Jad Hai To Yeh Hum Samay Rehte Roktham Nahi Kar Paye To Kahin Na Kahin Hamari Hum Aane Wali Kal Ke Liye Hum Manav Jati Ke Liye Apna Astitv Bacha Pana Hi Mushkil Ho Jayega Nagrikaran Ka Prabhav Yeh Bhi Hua Ki Log Jo Hai Sandhya Gramin Kshetro Mein Vikash Nagar Ke Shehari Kshetro Mein Hua Sanskriti Ka Patan Hua Ekikaran Parivar Ka Janm Hua Hamari Sabhyata Ka Patan Aur Environment Hamare Sabhyata Ke Patan Mein Bhi Mahatvapurna Roll Ada Kiya Hai Sar Par Family Ka Uday Nagrikaran Ka Hi Prabhav Raha Hai Jiske Kaaran Se Hamare Bahut Sare Bharatiya Bujurg Log Garment Ke Hi Kaaran Se Aane Vala Nahi Jai Hind Jai Bharat
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

अधिक जवाब


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विगत 1 शताब्दी में भारत में जिस प्रकार से शहरीकरण बढ़ा है उसके बहुत से सकारात्मक व नकारात्मक प्रभाव भारत में देखे जा सकते हैं सकारात्मक प्रभाव में सबसे पहले है रोजगार के साधनों का वर्णन किस प्रकार से ग्रामीण क्षेत्रों की तरफ गमन कर रहे हैं बहुत तेजी से उस प्रकार से उन्हें रोजगार के अवसर पर किसी अन्य देश में प्राप्त नहीं हो सकते जितना कि भारत में प्राप्त होते हैं दूसरा भारत में शिक्षा का स्तर पहले से बहुत अधिक तौर पर सुधरा है इसका एक मुख्य कारण शहरीकरण है विकास अलग-अलग प्रकार की शिक्षा प्रणाली तथा शैक्षणिक संस्थान शहरों में खुले हुए हैं जिससे कि सभी को आसान तरीके से शिक्षा प्राप्त करने के शुभ अवसर प्राप्त हुए हैं तीसरा मैं मानता हूं कि उसे हर एक खुली मंडी की तरह होते हैं जहां से आप जाकर आप अपना सभी सामान बेच सकते हैं तो सभी सामान खरीद भी सकते हैं तो एक आर्थिक जो मंडी है उस के तौर पर शहर हमारे पिछले 1 शताब्दी में विकसित हुए क्या बात करते हैं नकरात्मक प्रभाव होगी तो सबसे पहला जो विगत कुछ वर्षों में हमने देखा है प्रदूषण बहुत अधिक बढ़ चुका है साथ ही साथ गंदगी धीरे-धीरे शहरों पर बढ़ती जा रही है एक बहुत बड़ा जो नकरात्मक प्रभाव पड़ते शहरीकरण का हुआ है वह ट्रैफिक व्यवस्था का एकदम चरमरा जाना जिस प्रकार से यातायात की सुविधा है तो बड़ी है परंतु शहर में जॉब सीमित संसाधन है सीमित सड़के हैं तथा सीमित यातायात के जो मार्ग है उसके कारण से चेहरों पर यातायात की व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है साथ ही साथ नया मानता हूं कि आप प्राधिकरण में भी इससे बहुत अधिक वृद्धि हुई है शहर क्या है शहर एक बहुत ही सीमित जगह न होते हैं जहां सीमित व्यवस्थाएं तथा संसाधन होते हैं तथा जब इस पर अधिक दबाव पड़ता है तो वह इस प्रकार की समस्याएं होना आम मानी जाती हैं धन्यवाद
Romanized Version
विगत 1 शताब्दी में भारत में जिस प्रकार से शहरीकरण बढ़ा है उसके बहुत से सकारात्मक व नकारात्मक प्रभाव भारत में देखे जा सकते हैं सकारात्मक प्रभाव में सबसे पहले है रोजगार के साधनों का वर्णन किस प्रकार से ग्रामीण क्षेत्रों की तरफ गमन कर रहे हैं बहुत तेजी से उस प्रकार से उन्हें रोजगार के अवसर पर किसी अन्य देश में प्राप्त नहीं हो सकते जितना कि भारत में प्राप्त होते हैं दूसरा भारत में शिक्षा का स्तर पहले से बहुत अधिक तौर पर सुधरा है इसका एक मुख्य कारण शहरीकरण है विकास अलग-अलग प्रकार की शिक्षा प्रणाली तथा शैक्षणिक संस्थान शहरों में खुले हुए हैं जिससे कि सभी को आसान तरीके से शिक्षा प्राप्त करने के शुभ अवसर प्राप्त हुए हैं तीसरा मैं मानता हूं कि उसे हर एक खुली मंडी की तरह होते हैं जहां से आप जाकर आप अपना सभी सामान बेच सकते हैं तो सभी सामान खरीद भी सकते हैं तो एक आर्थिक जो मंडी है उस के तौर पर शहर हमारे पिछले 1 शताब्दी में विकसित हुए क्या बात करते हैं नकरात्मक प्रभाव होगी तो सबसे पहला जो विगत कुछ वर्षों में हमने देखा है प्रदूषण बहुत अधिक बढ़ चुका है साथ ही साथ गंदगी धीरे-धीरे शहरों पर बढ़ती जा रही है एक बहुत बड़ा जो नकरात्मक प्रभाव पड़ते शहरीकरण का हुआ है वह ट्रैफिक व्यवस्था का एकदम चरमरा जाना जिस प्रकार से यातायात की सुविधा है तो बड़ी है परंतु शहर में जॉब सीमित संसाधन है सीमित सड़के हैं तथा सीमित यातायात के जो मार्ग है उसके कारण से चेहरों पर यातायात की व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है साथ ही साथ नया मानता हूं कि आप प्राधिकरण में भी इससे बहुत अधिक वृद्धि हुई है शहर क्या है शहर एक बहुत ही सीमित जगह न होते हैं जहां सीमित व्यवस्थाएं तथा संसाधन होते हैं तथा जब इस पर अधिक दबाव पड़ता है तो वह इस प्रकार की समस्याएं होना आम मानी जाती हैं धन्यवादVigat 1 Shatabdi Mein Bharat Mein Jis Prakar Se Shaharikaran Badha Hai Uske Bahut Se Sakaratmak V Nakaratmak Prabhav Bharat Mein Dekhe Ja Sakte Hain Sakaratmak Prabhav Mein Sabse Pehle Hai Rojgar Ke Saadhano Ka Vernon Kis Prakar Se Gramin Kshetro Ki Taraf Gaman Kar Rahe Hain Bahut Teji Se Us Prakar Se Unhen Rojgar Ke Avsar Par Kisi Anya Desh Mein Prapt Nahi Ho Sakte Jitna Ki Bharat Mein Prapt Hote Hain Doosra Bharat Mein Shiksha Ka Sthar Pehle Se Bahut Adhik Taur Par Sudhara Hai Iska Ek Mukhya Kaaran Shaharikaran Hai Vikash Alag Alag Prakar Ki Shiksha Pranali Tatha Shaikshnik Sansthan Shaharon Mein Khule Hue Hain Jisse Ki Sabhi Ko Aasan Tarike Se Shiksha Prapt Karne Ke Shubha Avsar Prapt Hue Hain Teesra Main Manata Hoon Ki Use Har Ek Khuli Mandi Ki Tarah Hote Hain Jahan Se Aap Jaakar Aap Apna Sabhi Saamaan Bech Sakte Hain To Sabhi Saamaan Kharid Bhi Sakte Hain To Ek Aarthik Jo Mandi Hai Us Ke Taur Par Sheher Hamare Pichle 1 Shatabdi Mein Viksit Hue Kya Baat Karte Hain Nakaratmak Prabhav Hogi To Sabse Pehla Jo Vigat Kuch Varshon Mein Humne Dekha Hai Pradushan Bahut Adhik Badh Chuka Hai Saath Hi Saath Gandagi Dhire Dhire Shaharon Par Badhti Ja Rahi Hai Ek Bahut Bada Jo Nakaratmak Prabhav Padate Shaharikaran Ka Hua Hai Wah Traffic Vyavastha Ka Ekdam Charmara Jana Jis Prakar Se Yatayat Ki Suvidha Hai To Badi Hai Parantu Sheher Mein Job Simith Sansadhan Hai Simith Sadake Hain Tatha Simith Yatayat Ke Jo Marg Hai Uske Kaaran Se Chehron Par Yatayat Ki Vyavastha Puri Tarah Se Charmara Gayi Hai Saath Hi Saath Naya Manata Hoon Ki Aap Pradhikaran Mein Bhi Isse Bahut Adhik Vriddhi Hui Hai Sheher Kya Hai Sheher Ek Bahut Hi Simith Jagah N Hote Hain Jahan Simith Vyavasthaen Tatha Sansadhan Hote Hain Tatha Jab Is Par Adhik Dabaav Padata Hai To Wah Is Prakar Ki Samasyaen Hona Aam Maani Jati Hain Dhanyavad
Likes  22  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नगरीकरण का क्या प्रभाव हुआ है वही उसी तरीके के हालात बद से बदतर हो गए आज गांव फिर भी बेहतर नजर आते हैं लेकिन नगरों की हालत आप देखिए सफाई कर्मचारी जो है वह अपने शरीर के लिए तरस रहे हैं कई कई हफ्तों की महीनों की हड़ताल कर दी जाती है कोई भूख हड़ताल पर बैठा है कोई तनख्वाह नहीं मिल रही है तो गंदगी ऐसी की ऐसी पड़ी हुई है कूड़े उठाई नहीं जाती है तमाम घर की चीजें हैं जो नागरीकरण होने की कोई फायदा नहीं है
Romanized Version
नगरीकरण का क्या प्रभाव हुआ है वही उसी तरीके के हालात बद से बदतर हो गए आज गांव फिर भी बेहतर नजर आते हैं लेकिन नगरों की हालत आप देखिए सफाई कर्मचारी जो है वह अपने शरीर के लिए तरस रहे हैं कई कई हफ्तों की महीनों की हड़ताल कर दी जाती है कोई भूख हड़ताल पर बैठा है कोई तनख्वाह नहीं मिल रही है तो गंदगी ऐसी की ऐसी पड़ी हुई है कूड़े उठाई नहीं जाती है तमाम घर की चीजें हैं जो नागरीकरण होने की कोई फायदा नहीं हैNagrikaran Ka Kya Prabhav Hua Hai Wahi Usi Tarike Ke Haalaat Bad Se Badataar Ho Gaye Aaj Gaon Phir Bhi Behtar Nazar Aate Hain Lekin Nagaron Ki Halat Aap Dekhie Safaai Karmchari Jo Hai Wah Apne Sharir Ke Liye Taras Rahe Hain Kai Kai Hafton Ki Mahinon Ki Hartal Kar Di Jati Hai Koi Bhukh Hartal Par Baitha Hai Koi Tankhvaah Nahi Mil Rahi Hai Toh Gandagi Aisi Ki Aisi Padi Hui Hai Koode Uthai Nahi Jati Hai Tamam Ghar Ki Cheezen Hain Jo Nagrikaran Hone Ki Koi Fayda Nahi Hai
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब तक नवीकरण से फायदा कम नुकसान ज्यादा हुए राजस्व एवं बढ़ोतरी हुई है प्रशासनिक गाढ़ा केंद्रित हो गया मगर जियो फागण मिलना कि नागरिकों को फायदा नहीं मिला नगरीकरण का फागण तमिल का जो सरकारी स्कूल और हॉस्पिटल यह दोनों अपडेट रहते बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती गांव से शहर में आकर जो लोग बसते हैं मजबूरी में अपने बच्चों को हाई प्रोफाइल स्कूल में भर्ती कर आते हैं और इस प्रकार व और सभाओं को खेलते हुए अपने जीवन को जीते उसका कारण हुई है कि नगरीकरण नगरीकरण समुचित ढंग से नहीं हो पाया ठीक है कुछ आगे हुए लोगों को रोजगार मिलेगा रोजगार भी कोई परमानेंट रोजगार में उनको भी बदलना जरूरी है पंजीकरण आवश्यक है और बेहतर है कि ब्रिटेन जूही रहे केंद्रीकरण से फायदा करने के पहले नगर का सुधार बेहतर ढंग से किया जाए
Romanized Version
अब तक नवीकरण से फायदा कम नुकसान ज्यादा हुए राजस्व एवं बढ़ोतरी हुई है प्रशासनिक गाढ़ा केंद्रित हो गया मगर जियो फागण मिलना कि नागरिकों को फायदा नहीं मिला नगरीकरण का फागण तमिल का जो सरकारी स्कूल और हॉस्पिटल यह दोनों अपडेट रहते बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती गांव से शहर में आकर जो लोग बसते हैं मजबूरी में अपने बच्चों को हाई प्रोफाइल स्कूल में भर्ती कर आते हैं और इस प्रकार व और सभाओं को खेलते हुए अपने जीवन को जीते उसका कारण हुई है कि नगरीकरण नगरीकरण समुचित ढंग से नहीं हो पाया ठीक है कुछ आगे हुए लोगों को रोजगार मिलेगा रोजगार भी कोई परमानेंट रोजगार में उनको भी बदलना जरूरी है पंजीकरण आवश्यक है और बेहतर है कि ब्रिटेन जूही रहे केंद्रीकरण से फायदा करने के पहले नगर का सुधार बेहतर ढंग से किया जाएAb Tak Navikaran Se Fayda Kam Nuksan Zyada Huye Raajaswa Evam Badhotari Hui Hai Prashasnik Gaada Kendrit Ho Gaya Magar Jio Fagan Milna Ki Naagrikon Ko Fayda Nahi Mila Nagrikaran Ka Fagan Tamil Ka Jo Sarkari School Aur Hospital Yeh Dono Update Rehte Bacchon Ko Acchi Shiksha Milti Gav Se Sheher Mein Aakar Jo Log Basate Hain Majburi Mein Apne Bacchon Ko Hi Profile School Mein Bharti Kar Aate Hain Aur Is Prakar V Aur Sabhaon Ko Khelte Huye Apne Jeevan Ko Jeete Uska Kaaran Hui Hai Ki Nagrikaran Nagrikaran Samuchit Dhang Se Nahi Ho Paya Theek Hai Kuch Aage Huye Logon Ko Rojgar Milega Rojgar Bhi Koi Permanent Rojgar Mein Unko Bhi Badalna Zaroori Hai Panjikaran Aavashyak Hai Aur Behtar Hai Ki Britain Juhi Rahe Kendrikaran Se Fayda Karne Ke Pehle Nagar Ka Sudhaar Behtar Dhang Se Kiya Jaye
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Nagrikaran Ka Kya Prabhav Hua Hai,What Has Been The Effect Of Urbanization?,नगरीकरण,


vokalandroid