भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है तोफिर यहां समान सिविल सहिता लाग् क्यों नही है? ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखिए मैं यह बात सत्य है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है और यहां पर सारे लोगों को एक समान देखा जाता है एक ही कॉन्स्टिट्यूशन फॉलो होता है और एक ही तरह की चीजें दी जाती हर इंसान को कोई सी के पास ज्यादा राइट्स नहीं है किसी के पास अलग तरह की प्रायोरिटी नहीं है सबको गवर्नमेंट की तरह ट्रीट करती है लेकिन फिर भी हमारे देश में समान सिविल संहिता यानी की यूनिफॉर्म सिविल कोड या कॉमन सिविल कोड नहीं लागू हुआ है वह इसलिए है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि पोलिटिकल पार्टीज जब भी वोट मांगती है या उनके वोट मांगने का सबसे पहला तरीका यही होता है कि वह लोगों को जाती या फिर धर्म के नाम पर विभाजित कर देती हैं उनका मानना है कि जब इंसान को धर्म के नाम पर विभाजित कर दिया जाता है तो वह सिर्फ उसी धर्म वाले को वोट देते हैं जो कि उनके धर्म से बिलॉन्ग करता है कि अगर आप किसी जगह पर मुस्लिम लोग ज्यादा है तो वहां पर पॉलिटिकल पार्टी उसी इंसान को खड़ा करने की कोशिश करती है जो मुस्लिम होगा क्योंकि लोगों को लगता है कि अगर मुझ फिल्म को वोट देंगे तो वह हमारे लिए अच्छा करेगा वही हमारे लिए हमारे बारे में हमारे जैसा सोचेगा तो यह चीज़ें इन चीजों की वजह से ही हमारे देश में समान सिविल संहिता नहीं आ पा रही है और सामान सिविल संहिता का एक और सबसे बड़ा कारण यह है कि हमारे देश में अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग कानून बना दिए गए हैं इसका एक एग्जांपल में देना चाहूंगी को यह है कि अगर हिंदू रहा हिंदू हिंदुओं के लिए शादी एक बार करना काफी होता है उसके बाद अगर वह दूसरी शादी करना चाहते हैं तो उनको टाइम देना पड़ता है पहले बीवी को पर मुस्लिम में यह चीज नहीं है मुझसे में एक से ज्यादा शादी कर लेते हैं और उनके लिए चिंता होती है और हमारे देश के कानून में भी इस चीज को वैलिडिटी डेट किया है और उसको गलत नहीं मानते तो मेरे हिसाब से यह कुछ चीजें हैं जो सामान सिविल संहिता के लिए योग बन चुकी हैं तो पहले हम लोगों को लोगों के लिए जो कानून अलग अलग है उनको हटाने चाहिए फ्री कुछ हो सकता हैDekhie Main Yeh Baat Satya Hai Ki Bharat Ek Dharmanirapeksh Rajya Hai Aur Yahan Par Sare Logon Ko Ek Saman Dekha Jata Hai Ek Hi Constitution Follow Hota Hai Aur Ek Hi Tarah Ki Cheezen Di Jati Har Insaan Ko Koi Si Ke Paas Jyada Rights Nahi Hai Kisi Ke Paas Alag Tarah Ki Priority Nahi Hai Sabko Government Ki Tarah Treat Karti Hai Lekin Phir Bhi Hamare Desh Mein Saman Civil Sanhita Yani Ki Uniform Civil Code Ya Common Civil Code Nahi Laagu Hua Hai Wah Isliye Hai Kyonki Hum Sabhi Jante Hain Ki Political Parties Jab Bhi Vote Mangati Hai Ya Unke Vote Mangane Ka Sabse Pehla Tarika Yahi Hota Hai Ki Wah Logon Ko Jati Ya Phir Dharm Ke Naam Par Vibhajit Kar Deti Hain Unka Manana Hai Ki Jab Insaan Ko Dharm Ke Naam Par Vibhajit Kar Diya Jata Hai To Wah Sirf Ussi Dharm Wale Ko Vote Dete Hain Jo Ki Unke Dharm Se Bilang Karta Hai Ki Agar Aap Kisi Jagah Par Muslim Log Jyada Hai To Wahan Par Political Party Ussi Insaan Ko Khada Karne Ki Koshish Karti Hai Jo Muslim Hoga Kyonki Logon Ko Lagta Hai Ki Agar Mujh Film Ko Vote Denge To Wah Hamare Liye Accha Karega Wahi Hamare Liye Hamare Baare Mein Hamare Jaisa Sochega To Yeh Chizen In Chijon Ki Wajah Se Hi Hamare Desh Mein Saman Civil Sanhita Nahi Aa Pa Rahi Hai Aur Saamaan Civil Sanhita Ka Ek Aur Sabse Bada Kaaran Yeh Hai Ki Hamare Desh Mein Alag Alag Logon Ke Liye Alag Alag Kanoon Bana Diye Gaye Hain Iska Ek Example Mein Dena Chahungi Ko Yeh Hai Ki Agar Hindu Raha Hindu Hinduon Ke Liye Shadi Ek Baar Karna Kafi Hota Hai Uske Baad Agar Wah Dusri Shadi Karna Chahte Hain To Unko Time Dena Padata Hai Pehle Biwi Ko Par Muslim Mein Yeh Cheez Nahi Hai Mujhse Mein Ek Se Jyada Shadi Kar Lete Hain Aur Unke Liye Chinta Hoti Hai Aur Hamare Desh Ke Kanoon Mein Bhi Is Cheez Ko Validity Date Kiya Hai Aur Usko Galat Nahi Manate To Mere Hisab Se Yeh Kuch Cheezen Hain Jo Saamaan Civil Sanhita Ke Liye Yog Ban Chuki Hain To Pehle Hum Logon Ko Logon Ke Liye Jo Kanoon Alag Alag Hai Unko Hatane Chahiye Free Kuch Ho Sakta Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
आंधी की जरूरत छत्रपति बातें सबके लिए समान होनी चाहिए अपना ही सही लगता है कोई किसी का सुनने का मतलब नहीं रहता इसलिए रूप में उसको कुछ अलग होता है तू इसलिए मुझे पता है नहीं पड़ने वाला हमारे लिए कुछ अच्छा करना है अगर सबको समझAndhi Ki Zaroorat Chatrapati Batein Sabke Liye Saman Honi Chahiye Apna Hi Sahi Lagta Hai Koi Kisi Ka Sunane Ka Matlab Nahi Rehta Isliye Roop Mein Usko Kuch Alag Hota Hai Tu Isliye Mujhe Pata Hai Nahi Padane Wala Hamare Liye Kuch Accha Karna Hai Agar Sabko Samajh
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Ek Dharmanirapeksh Rajya Hai Tofir Yahan Saman Civil Sahita Lag Kyun Nahi Hai





मन में है सवाल?