search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

क्या आप मुझे ये बता सकते हैं की जब बैंडिट क्विन जैसी फ़िल्म रिलीज़ हो सकती है तो पद्मावत क्यों नही? क्या एतिहासिक फ़िल्मे भारत की गरिमा को ठेस पहुँचते हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का जमाना जो है वह सोशल मीडिया का जमाना हो गया है और सोशल मीडिया पर तो हर एक चीज धीरे-धीरे करके एकदम वायरल हो जाती है लोगों तक पहुंचाते पूरे इंडिया में फैल जाती है पूरे विश्व में फैल जाती है तो मैं बताना चाहता हूं कि अगर बॉलीवुड क्योंकि उनका बात करें तो भी ऐसा है कि अगर फिल्म की स्टोरी कोई पापा टकला समुदाय के ऊपर है तो वह समुदाय उसको रिजेक्ट कर देता है या तो फिर फिर व्रत करने की बात करता है या तो फिर फिर मैं उस कैरेक्टर का नाम बदलने की बात होती है क्योंकि अगर हम बात करें तो बैंडिट क्वीन में ऐसा था कि फूलन देवी की बात की गई थी उनके जीवन आधारित उनकी स्टोरी लाइन थी या तो फिर वह किस जगह पर उसका आतंक था यह हो क्या किस तरह से अपना काम करते हैं यह दिखाया गया था तो फूलन देवी के लोगों ने काफी अच्छा विरोध में किया था कि हां वही बुलंदी उल्टा लोगों को जानने में मजा आया था कि किस तरह के उनकी लाइफ यह सब पद्मावत की अगर बात करें तो पद्मावत में ऐसा था कि उसमें जो बात की गई थी पूरी स्टोरी लाइन थी वह किसी एक समुदाय को टच करती थी और उस समुदाय ने इनमें से कुछ पाठ जो था वह निकाल देने की बात किया तो फिर उस समुदाय ने ऐसा कहा कि यह हमारी जो रानी है उसके लिए आपने गलत लिखा है यह वह तुम कहीं ना कहीं मुझे लगता है कि यह वो एक्सेप्ट नहीं कर पाए थे उस समुदाय के लोग और इसलिए पद्मावती नाम था उसे बदल कर पद्मावत कर दिया था तो अभी का जो माहौल है तो जल्दी से सोशल मीडिया में वायरल कर देते हैं जो उनको पसंद नहीं आता है वह तो उसके लिए लोग इकट्ठा कर लेते फिर विरोध शुरू हो जाता तो मुझे लगता है कहीं ना कहीं बॉलीवुड में जो बात है जो भी वो हमारी सोसाइटी को असर करती है और इसीलिए यह पद्मावत जैसे फिल्म रिलीज नहीं होने देते हैं या तो फिर बैंडिट क्वीन जैसे फिल्म चल जाती है
Romanized Version
आज का जमाना जो है वह सोशल मीडिया का जमाना हो गया है और सोशल मीडिया पर तो हर एक चीज धीरे-धीरे करके एकदम वायरल हो जाती है लोगों तक पहुंचाते पूरे इंडिया में फैल जाती है पूरे विश्व में फैल जाती है तो मैं बताना चाहता हूं कि अगर बॉलीवुड क्योंकि उनका बात करें तो भी ऐसा है कि अगर फिल्म की स्टोरी कोई पापा टकला समुदाय के ऊपर है तो वह समुदाय उसको रिजेक्ट कर देता है या तो फिर फिर व्रत करने की बात करता है या तो फिर फिर मैं उस कैरेक्टर का नाम बदलने की बात होती है क्योंकि अगर हम बात करें तो बैंडिट क्वीन में ऐसा था कि फूलन देवी की बात की गई थी उनके जीवन आधारित उनकी स्टोरी लाइन थी या तो फिर वह किस जगह पर उसका आतंक था यह हो क्या किस तरह से अपना काम करते हैं यह दिखाया गया था तो फूलन देवी के लोगों ने काफी अच्छा विरोध में किया था कि हां वही बुलंदी उल्टा लोगों को जानने में मजा आया था कि किस तरह के उनकी लाइफ यह सब पद्मावत की अगर बात करें तो पद्मावत में ऐसा था कि उसमें जो बात की गई थी पूरी स्टोरी लाइन थी वह किसी एक समुदाय को टच करती थी और उस समुदाय ने इनमें से कुछ पाठ जो था वह निकाल देने की बात किया तो फिर उस समुदाय ने ऐसा कहा कि यह हमारी जो रानी है उसके लिए आपने गलत लिखा है यह वह तुम कहीं ना कहीं मुझे लगता है कि यह वो एक्सेप्ट नहीं कर पाए थे उस समुदाय के लोग और इसलिए पद्मावती नाम था उसे बदल कर पद्मावत कर दिया था तो अभी का जो माहौल है तो जल्दी से सोशल मीडिया में वायरल कर देते हैं जो उनको पसंद नहीं आता है वह तो उसके लिए लोग इकट्ठा कर लेते फिर विरोध शुरू हो जाता तो मुझे लगता है कहीं ना कहीं बॉलीवुड में जो बात है जो भी वो हमारी सोसाइटी को असर करती है और इसीलिए यह पद्मावत जैसे फिल्म रिलीज नहीं होने देते हैं या तो फिर बैंडिट क्वीन जैसे फिल्म चल जाती हैAaj Ka Jamana Jo Hai Wah Social Media Ka Jamana Ho Gaya Hai Aur Social Media Par To Har Ek Cheez Dhire Dhire Karke Ekdam Viral Ho Jati Hai Logon Tak Pahunchate Poore India Mein Fail Jati Hai Poore Vishwa Mein Fail Jati Hai To Main Batana Chahta Hoon Ki Agar Bollywood Kyonki Unka Baat Karen To Bhi Aisa Hai Ki Agar Film Ki Story Koi Papa Takala Samuday Ke Upar Hai To Wah Samuday Usko Reject Kar Deta Hai Ya To Phir Phir Vrat Karne Ki Baat Karta Hai Ya To Phir Phir Main Us Character Ka Naam Badalne Ki Baat Hoti Hai Kyonki Agar Hum Baat Karen To Bandit Queen Mein Aisa Tha Ki Phulan Devi Ki Baat Ki Gayi Thi Unke Jeevan Aadharit Unki Story Line Thi Ya To Phir Wah Kis Jagah Par Uska Aatank Tha Yeh Ho Kya Kis Tarah Se Apna Kaam Karte Hain Yeh Dikhaya Gaya Tha To Phulan Devi Ke Logon Ne Kafi Accha Virodh Mein Kiya Tha Ki Haan Wahi Bulandi Ulta Logon Ko Jaanne Mein Maza Aaya Tha Ki Kis Tarah Ke Unki Life Yeh Sab Padmavat Ki Agar Baat Karen To Padmavat Mein Aisa Tha Ki Usamen Jo Baat Ki Gayi Thi Puri Story Line Thi Wah Kisi Ek Samuday Ko Touch Karti Thi Aur Us Samuday Ne Inme Se Kuch Path Jo Tha Wah Nikal Dene Ki Baat Kiya To Phir Us Samuday Ne Aisa Kaha Ki Yeh Hamari Jo Rani Hai Uske Liye Aapne Galat Likha Hai Yeh Wah Tum Kahin Na Kahin Mujhe Lagta Hai Ki Yeh Vo Except Nahi Kar Paye The Us Samuday Ke Log Aur Isliye Padmavati Naam Tha Use Badal Kar Padmavat Kar Diya Tha To Abhi Ka Jo Maahaul Hai To Jaldi Se Social Media Mein Viral Kar Dete Hain Jo Unko Pasand Nahi Aata Hai Wah To Uske Liye Log Ikattha Kar Lete Phir Virodh Shuru Ho Jata To Mujhe Lagta Hai Kahin Na Kahin Bollywood Mein Jo Baat Hai Jo Bhi Vo Hamari Society Ko Asar Karti Hai Aur Isliye Yeh Padmavat Jaise Film Release Nahi Hone Dete Hain Ya To Phir Bandit Queen Jaise Film Chal Jati Hai
Likes  60  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

ques_icon

अधिक जवाब


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो अगर देखा जाए देखो इस पर कोई भी पॉलिटिशन कभी पॉलीटिकल इश्यूज उतना कुछ हुआ नहीं क्योंकि दी बोलो खोज गारमेंट्स जेंट्स पेंट चाहिए पद्मावत के लिए देखा गया कि इलेक्शन सामने आ रहे हैं ऐसा all-round रिपोर्ट बोल रहा हूं इलेक्शन सामने आ रहे एक पार्टी कूलर प्लेट पर सूट हो रही है पद्मावत तो वहां की गवर्नमेंट है वह देखा कि मेरा पद्मावत जो है बहुत पुरानी इंटेंटली पद्मावती करने के लिए बहुत ही वोट ऑफिस को उठाया गया एंड देखा जाए तो वह 30% जो है इतना नूर नगर टू गेट सम पॉपुलर सिटी अपना आपको ज्यादा फेमस बनाने के लिए खड़ा किया पिक्चर का जो भी प्रोग्राम था यह था वह चाहती तुम ऐसे क्यों कर सकता है उसके बिखर जाए तो वही बैंडिट क्वीन सही कहा एंड पदमावति सही है लेकिन नहीं करना चाहिए टेंशन नहीं करना चाहिए था
Romanized Version
तो अगर देखा जाए देखो इस पर कोई भी पॉलिटिशन कभी पॉलीटिकल इश्यूज उतना कुछ हुआ नहीं क्योंकि दी बोलो खोज गारमेंट्स जेंट्स पेंट चाहिए पद्मावत के लिए देखा गया कि इलेक्शन सामने आ रहे हैं ऐसा all-round रिपोर्ट बोल रहा हूं इलेक्शन सामने आ रहे एक पार्टी कूलर प्लेट पर सूट हो रही है पद्मावत तो वहां की गवर्नमेंट है वह देखा कि मेरा पद्मावत जो है बहुत पुरानी इंटेंटली पद्मावती करने के लिए बहुत ही वोट ऑफिस को उठाया गया एंड देखा जाए तो वह 30% जो है इतना नूर नगर टू गेट सम पॉपुलर सिटी अपना आपको ज्यादा फेमस बनाने के लिए खड़ा किया पिक्चर का जो भी प्रोग्राम था यह था वह चाहती तुम ऐसे क्यों कर सकता है उसके बिखर जाए तो वही बैंडिट क्वीन सही कहा एंड पदमावति सही है लेकिन नहीं करना चाहिए टेंशन नहीं करना चाहिए थाToh Agar Dekha Jaye Dekho Is Par Koi Bhi Politician Kabhi Political Issues Utana Kuch Hua Nahi Kyonki Di Bolo Khoj Garments Gents Paint Chahiye Padmavat Ke Liye Dekha Gaya Ki Election Saamne Aa Rahe Hain Aisa All-round Report Bol Raha Hoon Election Saamne Aa Rahe Ek Party Cooler Plate Par Suit Ho Rahi Hai Padmavat Toh Wahan Ki Government Hai Wah Dekha Ki Mera Padmavat Jo Hai Bahut Purani Intently Padmavati Karne Ke Liye Bahut Hi Vote Office Ko Uthaya Gaya End Dekha Jaye Toh Wah 30% Jo Hai Itna Noor Nagar To Gate Some Popular City Apna Aapko Zyada Famous Banane Ke Liye Khada Kiya Picture Ka Jo Bhi Program Tha Yeh Tha Wah Chahti Tum Aise Kyon Kar Sakta Hai Uske Bikhar Jaye Toh Wahi Bandit Queen Sahi Kaha End Padamavati Sahi Hai Lekin Nahi Karna Chahiye Tension Nahi Karna Chahiye Tha
Likes  17  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kya Aap Mujhe Ye Bata Sakte Hain Ki Jab Bandit Queen Jaisi Film Release Ho Sakti Hai Toh Padmavat Kyon Nahi Kya Itihaasik Filme Bharat Ki Garima Ko Thes Pahunchte Hain,Can You Tell Me That When A Film Like Bandit Quinn Can Be Released Then Why Not Padmav? Does The Historical Film Hurt India's Dignity?,Padmavat Movie Wiki,


vokalandroid