क्या राजनीति में जातिवाद जरुरी है ? अगर है तो क्यों? ...

Likes  0  Dislikes

5 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
राजनीति के अंदर जातिवाद जरूरी नहीं है लेकिन राजनीति के अंदर जातिवाद को जानबूझकर मेरे हिसाब से जोड़ा गया है और वह इतना ज्यादा जरूरी बना दिया गया है कि इंसान जो भारतीय जनता है वह अपने आप को इस टॉपिक से देखकर नहीं भी चले तब भी देखती है जैसे कभी पद्मावती फिल्म में उसका विरोध खुलेआम कर रहे हैं लोग गुंडागर्दी कर रहे हैं आग लगा रहे हैं तू इस तरह की जितनी भी चीजें हो रही है किसके लिए हो रही हैं राजनीति की वजह से हो रही है क्या गवर्नमेंट इतनी सक्षम नहीं है कि किसी गुंडों को इस तरह के विरोध प्रदर्शन करने में या आगजनी करने में रोक सके बिल्कुल सच्ची में आप पद्मावत मूवी को बंद करने से क्या फायदा होगा अप्रैल में स्पीच की बात करते तो इस तरह की चीजें थोड़ी कर सकते हैं तो राजनीति में जातिवाद बहुत ज्यादा गुस्सा हुआ है जब देश आजाद नहीं है तब हम केवल आजादी की मांग करते थे जब आजाद हो गया तो हम फिर जातिवाद की बात करना शुरू कर दिया और जातिवाद की बात इस हद तक पहुंच गई है कि राजनीति का बेस्ट जातिवाद ही बन गया है मुझे लगता है हिंदुस्तान की एजुकेटेड जनता को उचित समय ध्यान हटाकर अपनी प्रगति पर ध्यान देना चाहिए कॉन्ट्रिब्यूशन पर ध्यान देना चाहिए थैंक यूRajneeti Ke Andar Jaatiwad Zaroori Nahi Hai Lekin Rajneeti Ke Andar Jaatiwad Ko Janbujhkar Mere Hisab Se Joda Gaya Hai Aur Wah Itna Jyada Zaroori Bana Diya Gaya Hai Ki Insaan Jo Bhartiya Janta Hai Wah Apne Aap Ko Is Topic Se Dekhkar Nahi Bhi Chale Tab Bhi Dekhti Hai Jaise Kabhi Padmavati Film Mein Uska Virodh Khuleaam Kar Rahe Hain Log Gundagardi Kar Rahe Hain Aag Laga Rahe Hain Tu Is Tarah Ki Jitni Bhi Cheezen Ho Rahi Hai Kiske Liye Ho Rahi Hain Rajneeti Ki Wajah Se Ho Rahi Hai Kya Government Itni Saksham Nahi Hai Ki Kisi Gundo Ko Is Tarah Ke Virodh Pradarshan Karne Mein Ya Agajani Karne Mein Rok Sake Bilkul Sachi Mein Aap Padmavat Movie Ko Band Karne Se Kya Fayda Hoga April Mein Speech Ki Baat Karte To Is Tarah Ki Cheezen Thodi Kar Sakte Hain To Rajneeti Mein Jaatiwad Bahut Jyada Gussa Hua Hai Jab Desh Azad Nahi Hai Tab Hum Kewal Azadi Ki Maang Karte The Jab Azad Ho Gaya To Hum Phir Jaatiwad Ki Baat Karna Shuru Kar Diya Aur Jaatiwad Ki Baat Is Had Tak Pahunch Gayi Hai Ki Rajneeti Ka Best Jaatiwad Hi Ban Gaya Hai Mujhe Lagta Hai Hindustan Ki Educated Janta Ko Uchit Samay Dhyan Hatakar Apni Pragati Par Dhyan Dena Chahiye Contribution Par Dhyan Dena Chahiye Thank You
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखिए राजनीति में जातिवाद बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और उसका कारण यह है कि यह जो भी पोलिटिकल पार्टीज है वह सभी जातिवाद को एक बहुत बड़ा जरिया बनाती हैं अपने वोट बैंक बढ़ाने के लिए क्योंकि वह हर जगह हर स्थान को जाती व जातीय धर्म के आधार पर विभाजित करते हैं और उसी के बाद अपना वोट बैंक कैलकुलेट करते हैं यानी कि जिस एरिया में अगर जिस धर्म या जनजाति के लोग ज्यादा है उस एरिया में उसी तरह से कम बातें की जाती है उसी तरह से रैली निकाली जाती है और उसी तरह का कैंडिडेट खड़ा जाता है खड़ा किया जाता है जो कि उस जाति के लोगों से वोट कलेक्ट कर सके और उन उस इंसान को वोट ज्यादा मिले हो जाती के लोगों के द्वारा तो उसी तरह से यह सब चीजों के पहले ही कैलकुलेशन किया जाता है क्या करूं उस जगह तो उस जाति के लोग ज्यादा है तो वहां पर ऐसा क्या न्यूज़ खड़ा किया जाएगा जो वहां से जाति के हिसाब से ज्यादा वोट बटोर सके क्योंकि हमारे देश में बहुत पहले से ही है जी से चली आ रही हैं अपनी जाति वालों को वोट देंगे तो वह हमारा भला करेंगे परंतु ऐसा कुछ भी नहीं है यह सारे नेता एक बार कुछ बन जाते हैं तो उनको कुछ भी याद नहीं आता है कि उन्होंने क्या वादे किए थे क्या लोगों से बनी चीजें मांगी थी या कहीं थी अपनी रैलियों के द्वारा दौरान तो हमारे देश में जातिवाद है वह बहुत पहले से चला रहा है अभी की बात नहीं है क्योंकि अब थोड़ा क्या मैं भी कह सकते हैं कि आप थोड़ा आगे थोड़ा कम हुआ है जातिवाद लेकिन पहले के जमाने मैं तो इस चीज की सबसे बड़ी महत्वता थी और राजनीति ही एक ऐसी चीज है जो जातिवाद शुरू करी है जिसने जातिवाद शुरू किया हमारे देश में तो राजनीति है उसमें जातिवाद बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और यही कारण है कि राजनीति आज तक चलती आ रही हैDekhie Rajneeti Mein Jaatiwad Bahut Hi Mahatvapurna Bhumika Nibhata Hai Aur Uska Kaaran Yeh Hai Ki Yeh Jo Bhi Political Parties Hai Wah Sabhi Jaatiwad Ko Ek Bahut Bada Jariya Banati Hain Apne Vote Bank Badhane Ke Liye Kyonki Wah Har Jagah Har Sthan Ko Jati V Jatiye Dharm Ke Aadhar Par Vibhajit Karte Hain Aur Ussi Ke Baad Apna Vote Bank Calculate Karte Hain Yani Ki Jis Area Mein Agar Jis Dharm Ya Janjaati Ke Log Jyada Hai Us Area Mein Ussi Tarah Se Kam Batein Ki Jati Hai Ussi Tarah Se Rally Nikali Jati Hai Aur Ussi Tarah Ka Candidate Khada Jata Hai Khada Kiya Jata Hai Jo Ki Us Jati Ke Logon Se Vote Kar Sake Aur Un Us Insaan Ko Vote Jyada Mile Ho Jati Ke Logon Ke Dwara To Ussi Tarah Se Yeh Sab Chijon Ke Pehle Hi Calculation Kiya Jata Hai Kya Karun Us Jagah To Us Jati Ke Log Jyada Hai To Wahan Par Aisa Kya News Khada Kiya Jayega Jo Wahan Se Jati Ke Hisab Se Jyada Vote Bator Sake Kyonki Hamare Desh Mein Bahut Pehle Se Hi Hai Ji Se Chali Aa Rahi Hain Apni Jati Walon Ko Vote Denge To Wah Hamara Bhala Karenge Parantu Aisa Kuch Bhi Nahi Hai Yeh Sare Neta Ek Bar Kuch Ban Jaate Hain To Unko Kuch Bhi Yaad Nahi Aata Hai Ki Unhone Kya Waade Kiye The Kya Logon Se Bani Cheezen Maangi Thi Ya Kahin Thi Apni Railiyo Ke Dwara Dauran To Hamare Desh Mein Jaatiwad Hai Wah Bahut Pehle Se Chala Raha Hai Abhi Ki Baat Nahi Hai Kyonki Ab Thoda Kya Main Bhi Keh Sakte Hain Ki Aap Thoda Aage Thoda Kam Hua Hai Jaatiwad Lekin Pehle Ke Jamaane Main To Is Cheez Ki Sabse Badi Mahatvata Thi Aur Rajneeti Hi Ek Aisi Cheez Hai Jo Jaatiwad Shuru Kari Hai Jisne Jaatiwad Shuru Kiya Hamare Desh Mein To Rajneeti Hai Usamen Jaatiwad Bahut Hi Mahatvapurna Bhumika Nibhata Hai Aur Yahi Kaaran Hai Ki Rajneeti Aaj Tak Chalti Aa Rahi Hai
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मुझे तो लगता है कि जातिवाद को उत्पन्न ही राजनीति ने किया है सत्ता के लोलुप रोगों ने शासन चलाने की उनके आसक्ति ने कुर्सी के उनके मोहन ने उन्हें यह मजबूर कर दिया कि वह आम जनता में जातिवाद फैलाए और धर्म के नाम पर उनको लड़ाकर और अपनी सत्ता संभाले पहले भारत के शासकों ने जातिवाद पर राज किया फिर अंग्रेजों ने फूट डालो की नीति के तहत हम पर राज किया और उसके बाद राजनीतिक पार्टियों ने जनता को गुमराह करके उन पर शासन किया हर राजनीतिक पार्टी कोई इससे अच्छी नहीं है वह जनता के भले के लिए नहीं सोचती है वह सिर्फ यह देखती है कि कौन सी जाति का समीकरण उसके लिए सही है बस इसी तरह से आम जनता को जातियों में धर्म में अलग-अलग बांटकर वह अपना उल्लू सीधा करते हैं इसीलिए जनता को समझना चाहिए कि वह एक है उनकी और अखंडता अगर मजबूत होती है तो राजनीतिक पार्टियों कुछ नहीं कर सकती है और उन्हें मुंह की खानी ही पड़ेगी अगर हम एक हो जाते हैं तो लेकिन यह राजनीतिक पार्टियां ही आगे आकर जनता में धर्म और जाति के नाम पर बवाल खड़ी करती है दंगे फसाद करती है और उन्हें मजबूर कर देती है कि वह अपनी अपनी जाति के लिए लड़ेMujhe To Lagta Hai Ki Jaatiwad Ko Utpann Hi Rajneeti Ne Kiya Hai Satta Ke Rogon Ne Shasan Chalane Ki Unke Aasakti Ne Kursi Ke Unke Mohan Ne Unhen Yeh Majboor Kar Diya Ki Wah Aam Janta Mein Jaatiwad Failaye Aur Dharm Ke Naam Par Unko Aur Apni Satta Sambhale Pehle Bharat Ke Shaasko Ne Jaatiwad Par Raj Kiya Phir Angrejo Ne Foot Dalo Ki Niti Ke Tahat Hum Par Raj Kiya Aur Uske Baad Rajnitik Partiyon Ne Janta Ko Gumrah Karke Un Par Shasan Kiya Har Rajnitik Party Koi Isse Acchi Nahi Hai Wah Janta Ke Bhale Ke Liye Nahi Sochti Hai Wah Sirf Yeh Dekhti Hai Ki Kaun Si Jati Ka Samikaran Uske Liye Sahi Hai Bus Isi Tarah Se Aam Janta Ko Jaatiyo Mein Dharm Mein Alag Alag Bantakar Wah Apna Ullu Sidhaa Karte Hain Isliye Janta Ko Samajhna Chahiye Ki Wah Ek Hai Unki Aur Akhandata Agar Mazboot Hoti Hai To Rajnitik Partiyon Kuch Nahi Kar Sakti Hai Aur Unhen Mooh Ki Khaani Hi Padegi Agar Hum Ek Ho Jaate Hain To Lekin Yeh Rajnitik Partyian Hi Aage Aakar Janta Mein Dharm Aur Jati Ke Naam Par Bawaal Khadi Karti Hai Denge Fasad Karti Hai Aur Unhen Majboor Kar Deti Hai Ki Wah Apni Apni Jati Ke Liye Lade
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


नहीं मेरे को ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि राजनीति के अंदर जातिवाद जरूरी है बल्कि मेरे को लगता है कि राजनीति मैं काफी अच्छा और प्योर सेंटर में फर्क आएगा मतलब काफी ज्यादा प्रगति करेगी राजनीतिक अगर उससे जातिवाद हम लोग हटा दें क्योंकि उससे जो लोगों को गुमराह कर आ जाता है गलत बातें करेगा तो हम जातियों के उनसे वोट लिए जाते हैं यह सब कुछ बंद हो जाएगा जातिवाद अगर खत्म होता है राजनीति से तो राजनीति के लिए हम कह सकते हैं कि एक टर्निंग पॉइंट भी हो सकता है और इससे काफी फर्क पड़ेगा तू मेरे हिसाब से हां जी जातिवाद जो है वह राजनीति में जरूरी नहीं होना ही नहीं चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

नहीं मेरे को ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि राजनीति के अंदर जातिवाद जरूरी है बल्कि मेरे को लगता है कि राजनीति मैं काफी अच्छा और प्योर सेंटर में फर्क आएगा मतलब काफी ज्यादा प्रगति करेगी राजनीतिक अगर उससे जातिवाद हम लोग हटा दें क्योंकि उससे जो लोगों को गुमराह कर आ जाता है गलत बातें करेगा तो हम जातियों के उनसे वोट लिए जाते हैं यह सब कुछ बंद हो जाएगा जातिवाद अगर खत्म होता है राजनीति से तो राजनीति के लिए हम कह सकते हैं कि एक टर्निंग पॉइंट भी हो सकता है और इससे काफी फर्क पड़ेगा तू मेरे हिसाब से हां जी जातिवाद जो है वह राजनीति में जरूरी नहीं होना ही नहीं चाहिएNahi Mere Ko Aisa Bilkul Nahi Lagta Ki Rajneeti Ke Andar Jaatiwad Zaroori Hai Balki Mere Ko Lagta Hai Ki Rajneeti Main Kafi Accha Aur Pure Center Mein Fark Aaega Matlab Kafi Jyada Pragati Karegi Rajnitik Agar Usse Jaatiwad Hum Log Hata Dein Kyonki Usse Jo Logon Ko Gumrah Kar Aa Jata Hai Galat Batein Karega To Hum Jaatiyo Ke Unse Vote Liye Jaate Hain Yeh Sab Kuch Band Ho Jayega Jaatiwad Agar Khatam Hota Hai Rajneeti Se To Rajneeti Ke Liye Hum Keh Sakte Hain Ki Ek Point Bhi Ho Sakta Hai Aur Isse Kafi Fark Padega Tu Mere Hisab Se Haan Ji Jaatiwad Jo Hai Wah Rajneeti Mein Zaroori Nahi Hona Hi Nahi Chahiye
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

बिल्कुल जातिवाद पर कभी रिलीज नहीं करनी नहीं चाहिए लेकिन हो तो ही रहे हमारे देश के अंदर के सारे नेता जितनी भी पार्टियां है सबने अपना अपना एक घर में जाकर मिली है और जातिवाद की राजनीति कुछ बात आती है तो स्टील वर्कस को किसने बीच में लिया जाता है प्लीज पिक करनी चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

बिल्कुल जातिवाद पर कभी रिलीज नहीं करनी नहीं चाहिए लेकिन हो तो ही रहे हमारे देश के अंदर के सारे नेता जितनी भी पार्टियां है सबने अपना अपना एक घर में जाकर मिली है और जातिवाद की राजनीति कुछ बात आती है तो स्टील वर्कस को किसने बीच में लिया जाता है प्लीज पिक करनी चाहिएBilkul Jaatiwad Par Kabhi Release Nahi Karni Nahi Chahiye Lekin Ho To Hi Rahe Hamare Desh Ke Andar Ke Sare Neta Jitni Bhi Partyian Hai Apna Apna Ek Ghar Mein Jaakar Mili Hai Aur Jaatiwad Ki Rajneeti Kuch Baat Aati Hai To Steel Ko Kisne Bich Mein Liya Jata Hai Please Pic Karni Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Rajneeti Mein Jaatiwad Zaroori Hai ? Agar Hai To Kyun





मन में है सवाल?