पद्मावत पर sc का फैसला सही या गलत? ...

Likes  0  Dislikes

8 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी नहीं मुझे नहीं लगता कि यह फैसला सही है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि यह मूवी मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान और हरियाणा में रिलीज कर दी जाए l तो मेरा मानना यह है कि क्योंकि लोगों ने अभी मूवी देखी भी नहीं थी और इतनी सारी आशंकाएं लगा देना मूवी पर कि शायद इसमें कोई हिस्ट्री के साथ छेड़छाड़ की गई है या फिर कुछ गलत सीन दर्शाए गए हैं l जबकि लोगों ने सिर्फ ट्रेलर देखा था उसका और पूरी मूवी देखी भी नहीं गई थी और धमकियों के डर से या फिर से इस डर से कि लोग कहीं कुछ लॉ एंड ऑर्डर ना बिगड़ जाए शहर का या फिर राज्य का l इस डर से इसे मूवी पूरे राज्य में बेन कर देना गलत बात है l और यह किसी का फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन जो है उसका हक छीनने वाली बात हो गई क्योंकि हमारे देश में ही सभी को राइट है पूरा कि वह अपने एक्सप्रेशन को किसी भी फॉरमैट जाहिर कर सकता है या तो वह मूवी के फॉर्म में हो लिखित में हो या किसी और फॉर्म में हो l तो हां, जब तक कि दूसरों के रिलिजन एंड रिलीजियस सेंटीमेंट जो है वह हर्ट नहीं हो रहे हैं, दूसरों की फीलिंग्स हर्ट नहीं हो रही तब तक ही सही है l यह अभी तो लोगों ने मूवी देखी भी नहीं थी और उसी पर इतना ज्यादा बड़ा बवाल खड़ा हो जाना और उसके कारण एससी का इस मूवी को बाकी जगहों से बैन कर देना मेरे हिसाब से बिल्कुल भी सही नहीं है क्योंकि यह आजादी का खनन है मुझे ऐसा लगता है lJi Nahi Mujhe Nahi Lagta Ki Yeh Faisla Sahi Hai Kyonki Supreme Court Ne Aadesh Diya Hai Ki Yeh Movie Madhya Pradesh Gujarat Rajasthan Aur Haryana Mein Release Kar Di Jaye L To Mera Manana Yeh Hai Ki Kyonki Logon Ne Abhi Movie Dekhi Bhi Nahi Thi Aur Itni Saree Ashankaen Laga Dena Movie Par Ki Shayad Isme Koi History Ke Saath Chedchad Ki Gayi Hai Ya Phir Kuch Galat Seen Darshaye Gaye Hain L Jabki Logon Ne Sirf Trelar Dekha Tha Uska Aur Puri Movie Dekhi Bhi Nahi Gayi Thi Aur Dhamkiyo Ke Dar Se Ya Phir Se Is Dar Se Ki Log Kahin Kuch Law End Order Na Bigad Jaye Sheher Ka Ya Phir Rajya Ka L Is Dar Se Ise Movie Poore Rajya Mein Ben Kar Dena Galat Baat Hai L Aur Yeh Kisi Ka Freedom Of Expression Jo Hai Uska Haq Chhinne Wali Baat Ho Gayi Kyonki Hamare Desh Mein Hi Sabhi Ko Right Hai Pura Ki Wah Apne Expression Ko Kisi Bhi Farmait Jaahir Kar Sakta Hai Ya To Wah Movie Ke Form Mein Ho Likhit Mein Ho Ya Kisi Aur Form Mein Ho L To Haan Jab Tak Ki Dusron Ke Religion End Religious Sentiment Jo Hai Wah Heart Nahi Ho Rahe Hain Dusron Ki Feelings Heart Nahi Ho Rahi Tab Tak Hi Sahi Hai L Yeh Abhi To Logon Ne Movie Dekhi Bhi Nahi Thi Aur Ussi Par Itna Jyada Bada Bawaal Khada Ho Jana Aur Uske Kaaran Sc Ka Is Movie Ko Baki Jagho Se Ban Kar Dena Mere Hisab Se Bilkul Bhi Sahi Nahi Hai Kyonki Yeh Azadi Ka Khanan Hai Mujhe Aisa Lagta Hai L
Likes  25  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला एकदम सही है क्योंकि जब मूवी को सेंसर बोर्ड ने क्लियर कर दिया है तो उसके बाद राज्य सरकारों का इस तरीके से बैन लगाना और जिसमें हूं कोई कारण भी नहीं दिख रहा है अगर वह मूवी रिलीज हो जाती है उसके खिलाफ सच में लोग प्रोटेस्ट करते तो शायद एक ऑपरेशन हो सकता था लेकिन जब कोई प्रॉब्लम नहीं है राज्य सरकार केवल आकांक्षाओं के बीच पर उस पर बैन लगा रही है तो वह गलत है और सुप्रीम कोर्ट ने यह अच्छा फैसला दिया हैSupreme Court Ka Yeh Faisla Ekdam Sahi Hai Kyonki Jab Movie Ko Censor Board Ne Clear Kar Diya Hai To Uske Baad Rajya Sarkaro Ka Is Tarike Se Ban Lagana Aur Jisme Hoon Koi Kaaran Bhi Nahi Dikh Raha Hai Agar Wah Movie Release Ho Jati Hai Uske Khilaf Sach Mein Log Protest Karte To Shayad Ek Operation Ho Sakta Tha Lekin Jab Koi Problem Nahi Hai Rajya Sarkar Kewal Aakankshao Ke Beech Par Us Par Ban Laga Rahi Hai To Wah Galat Hai Aur Supreme Court Ne Yeh Accha Faisla Diya Hai
Likes  9  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी हां मेरे हिसाब से तो सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला आया है पद्मावत के ऊपर वह बिल्कुल सही है वह इसलिए क्योंकि पद्मावती कलाकारों के द्वारा प्रदान की हुई है अगर आप उस पर ध्यान लगाएंगे वह भी सिर्फ इसलिए कि उसमें शायद उसमें शायद किसी स्त्री के साथ छेड़छाड़ हुई है क्योंकि आपने अभी तक देखी भी नहीं है सिर्फ उसका ट्रेलर रिलीज हुआ है उसके आधार पर आप कैसे कह सकते हैं कि मूवी में कुछ छेड़छाड़ हुई होगी इस पी के साथ आप पहले पेपर मूवी देखिए उसके बाद उस पर जजमेंट DJ और जैसा कि हम जानते हैं सीबीएफसी के आने की सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ने इस मूवी को बिना किसी कट के पास किया था उन्होंने जो पांच कट गए थे वह भी उस ने मान लिया है और उन्होंने कहा है ठीक है हम आपके कट पूरी पूरी तरह से संभावित करेंगे क्या होगा जो आप कहेंगे और उसके बाद फिल्म रिलीज करी जा रही है 25 जनवरी को पर अगर उसके बाद भी कुछ लोग चाहते हैं कि फिल्म रिलीज नहीं हो उस पर बैन हो तो यह बहुत ही गलत चीज है और हमारे देश ट्रंप स्पीच एंड होना है जिसके तहत कोई भी आदमी कुछ भी कहना चाहता है तो उसको पूरा अधिकार होता है कि वह अपनी बात रख सके दुनिया के सामने और पद्मावत भी इसी की एक एग्जांपल के अगर कोई डायरेक्टर कोई भी वीडियो सजा कोई भी आर्टिस्ट कोई चीज बनाना बनाई है उन लोगों ने और वह स्कोर दिखाना चाहते हैं पूरी दुनिया को उनका पूरा हक है अगर मूवी देखने के बाद आपको कुछ ऐसा लगता कि इसमें कुछ ऐसा है जिसमें हिस्ट्री के साथ छेड़छाड़ हुई है तो आप बोल सकते हैं और उसके अगेंस्ट खड़े हो सकते हैं पर बिना देखे बिना कुछ कहे शायद के आधार पर आप अगर इतना सब कुछ कर रहे थे बहुत गलत है और जो महाराष्ट्र गुजरात राजस्थान और हरियाणा में बैन लगा था उसके ऊपर वह सुप्रीम कोर्ट ने हटा दिया है और यह मूवी 25 जनवरी को पूरे इंडिया पर रिलीज होने के लिए तैयार हैJi Haan Mere Hisab Se To Supreme Court Ka Jo Faisla Aaya Hai Padmavat Ke Upar Wah Bilkul Sahi Hai Wah Isliye Kyonki Padmavati Kalakaro Ke Dwara Pradan Ki Hui Hai Agar Aap Us Par Dhyan Lgaenge Wah Bhi Sirf Isliye Ki Usamen Shayad Usamen Shayad Kisi Stri Ke Saath Chedchad Hui Hai Kyonki Aapne Abhi Tak Dekhi Bhi Nahi Hai Sirf Uska Trelar Release Hua Hai Uske Aadhar Par Aap Kaise Keh Sakte Hain Ki Movie Mein Kuch Chedchad Hui Hogi Is P Ke Saath Aap Pehle Paper Movie Dekhie Uske Baad Us Par Judgement DJ Aur Jaisa Ki Hum Jante Hain Sibiefasi Ke Aane Ki Central Board Of Film Certification Ne Is Movie Ko Bina Kisi Cut Ke Paas Kiya Tha Unhone Jo Paanch Cut Gaye The Wah Bhi Us Ne Maan Liya Hai Aur Unhone Kaha Hai Theek Hai Hum Aapke Cut Puri Puri Tarah Se Sambhavit Karenge Kya Hoga Jo Aap Kahenge Aur Uske Baad Film Release Kari Ja Rahi Hai 25 January Ko Par Agar Uske Baad Bhi Kuch Log Chahte Hain Ki Film Release Nahi Ho Us Par Ban Ho To Yeh Bahut Hi Galat Cheez Hai Aur Hamare Desh Tramp Speech End Hona Hai Jiske Tahat Koi Bhi Aadmi Kuch Bhi Kehna Chahta Hai To Usko Pura Adhikaar Hota Hai Ki Wah Apni Baat Rakh Sake Duniya Ke Samane Aur Padmavat Bhi Isi Ki Ek Example Ke Agar Koi Director Koi Bhi Video Saja Koi Bhi Artist Koi Cheez Banana Banai Hai Un Logon Ne Aur Wah Score Dikhana Chahte Hain Puri Duniya Ko Unka Pura Haq Hai Agar Movie Dekhne Ke Baad Aapko Kuch Aisa Lagta Ki Isme Kuch Aisa Hai Jisme History Ke Saath Chedchad Hui Hai To Aap Bol Sakte Hain Aur Uske Against Khade Ho Sakte Hain Par Bina Dekhe Bina Kuch Kahe Shayad Ke Aadhar Par Aap Agar Itna Sab Kuch Kar Rahe The Bahut Galat Hai Aur Jo Maharashtra Gujarat Rajasthan Aur Haryana Mein Ban Laga Tha Uske Upar Wah Supreme Court Ne Hata Diya Hai Aur Yeh Movie 25 January Ko Poore India Par Release Hone Ke Liye Taiyaar Hai
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


आदित्य मुझे यह लगता है कि सब पद्मावत का भी सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्णय लिया है कि वह हरियाणा गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान साम्राज्य में रिलीज होने की वहां पर हरा झंडा दिखाई दिया गया है तो यह बात सही है लेकिन देखा जाए तो अभी पद्मावत के बारे में 2 महीने से बहुत ज्यादा विचार विमर्श हो रहे संसार में पूरी तरीके से देखा है पद्मावती का नाम पद्मावत कर दिया है अब तो वह रिलीज हो सकती है और मेरे ख्याल से हम पूरी लाइफ के एग्जाम इन नहीं कर सकते जैसे कि वह एक मराठी में बोलते हैं श्रद्धा की परीक्षा नहीं करनी चाहिए दरोगा गरम सिर्फ तेरे से बात करनी समाज के लोग तो फिर उनका ठीक है पहले ही ऐसे मूवी पर रोक लगाना बिल्कुल भी सही बात नहीं है हम कहां पर बोल रहे हैं हम क्या कर रही है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

आदित्य मुझे यह लगता है कि सब पद्मावत का भी सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्णय लिया है कि वह हरियाणा गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान साम्राज्य में रिलीज होने की वहां पर हरा झंडा दिखाई दिया गया है तो यह बात सही है लेकिन देखा जाए तो अभी पद्मावत के बारे में 2 महीने से बहुत ज्यादा विचार विमर्श हो रहे संसार में पूरी तरीके से देखा है पद्मावती का नाम पद्मावत कर दिया है अब तो वह रिलीज हो सकती है और मेरे ख्याल से हम पूरी लाइफ के एग्जाम इन नहीं कर सकते जैसे कि वह एक मराठी में बोलते हैं श्रद्धा की परीक्षा नहीं करनी चाहिए दरोगा गरम सिर्फ तेरे से बात करनी समाज के लोग तो फिर उनका ठीक है पहले ही ऐसे मूवी पर रोक लगाना बिल्कुल भी सही बात नहीं है हम कहां पर बोल रहे हैं हम क्या कर रही हैAditya Mujhe Yeh Lagta Hai Ki Sab Padmavat Ka Bhi Supreme Court Ne Yeh Nirnay Liya Hai Ki Wah Haryana Gujarat Madhya Pradesh Aur Rajasthan Samrajya Mein Release Hone Ki Wahan Par Hara Jhanda Dikhai Diya Gaya Hai To Yeh Baat Sahi Hai Lekin Dekha Jaye To Abhi Padmavat Ke Baare Mein 2 Mahine Se Bahut Jyada Vichar Vimarsh Ho Rahe Sansar Mein Puri Tarike Se Dekha Hai Padmavati Ka Naam Padmavat Kar Diya Hai Ab To Wah Release Ho Sakti Hai Aur Mere Khayal Se Hum Puri Life Ke Exam In Nahi Kar Sakte Jaise Ki Wah Ek Marathi Mein Bolte Hain Shraddha Ki Pariksha Nahi Karni Chahiye Daroga Garam Sirf Tere Se Baat Karni Samaaj Ke Log To Phir Unka Theek Hai Pehle Hi Aise Movie Par Rok Lagana Bilkul Bhi Sahi Baat Nahi Hai Hum Kahan Par Bol Rahe Hain Hum Kya Kar Rahi Hai
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

माननीय सुप्रीम कोर्ट का फैसला पद्मावती पर बिल्कुल ठीक आया है मुझे लगता है कि हमारे देश को अब यह तय करने का समय आ गया है कि वह क्या चाहता है किसी व्यक्ति ने अगर कोई चीज बनाई है तो उसे पहले देखना जरूरी है कि उसने एक्चुअली बनाया क्या है अगर वह गलत है तो बाद में आप आर यू कर सकते हैं क्योंकि मुझे अच्छे से याद है इसी डायरेक्टर ने इन्ही परिषद ने इन कलाकारों ने मिलकर बाजीराव मस्तानी बनाई थी तब कोई भी एडवर्टाइजमेंट नहीं हुआ था मैं इस टीम में नहीं जाना चाहता किस ने कौन सा युद्ध जीता और राजपूत कितने योद्धा रे में बिल्कुल नहीं कहूंगा बिल्कुल कमेंट नहीं करूंगा लेकिन यह चीज आप समझते हैं इसकी में जो दिया है वह सही है हिस्ट्रीशीटर नहीं की गई है इसके अलावा भी निर्माता निर्देशकों ने साफ साफ कहा है कि हमने पद्मावती में कोई ऐसा सीन नहीं डाला है इसके अलावा उन्होंने साफ साफ कह दिया है कि यह एक काल्पनिक कहानी के तौर पर अपने बनाया है लेकिन क्योंकि हमारा पैसा लग गया तो मैं रिलीज करने की परमिशन चाहिए एक्सप्रेस करना अपने आप को अपनी एक फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन करना कि कोई गलत नहीं हमारी कंट्री में वेस्टर्न कंट्री यह काफी अच्छे स्तर पर है एक्सेप्ट बताता हूं आपको फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के लिए जमीन रैंकिंग निकाली गई थी इंडिया की तो इंडिया 107 देशों में 100 तीसरे नंबर पर था हालांकि चाइना वॉर जो शोषित कंट्री है रसिया हैं वह भी काफी पीछे हम से भी काफी ज्यादा पीछे लेकिन जो यूरोपियन कंट्री है या अमेरिका है वह हमसे काफी ज्यादा आ गए हो इसीलिए क्योंकि आप फील्ड ऑफ एक्सप्रेशन है वहां पर लोग जल्दी रिजेक्ट नहीं करते यहां पर आप कुछ बोल देंगे तो रिएक्शन जल्दी होता है तो हमारी कमी है हमें थोड़ा संयम बरतना चाहिए इंतजार करना चाहिए कि मूवी में क्या दिखाया गया है हम उसे सही मानते या नहीं मानते यह भी हमारे ऊपर है क्योंकि बाजीराव मस्तानी में भी उन्होंने साफ साफ लिख रखा था कि यह मूवी जो है थोड़ी सी काल्पनिक रूप से इस को एक प्लॉट टेस्ट करके एक लव स्टोरी का एंगल से दिखाया गया है मूवी बिल्कुल ठीक थी वह उसी तरह से मुझे लगता है पद्मावती को भी आपको देखने की आवश्यकता है पहले देखना आवश्यक है उसके बाद हम सेंड करेंगे क्या की क्या चीज है यह सही है या गलत है थैंक यू

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

माननीय सुप्रीम कोर्ट का फैसला पद्मावती पर बिल्कुल ठीक आया है मुझे लगता है कि हमारे देश को अब यह तय करने का समय आ गया है कि वह क्या चाहता है किसी व्यक्ति ने अगर कोई चीज बनाई है तो उसे पहले देखना जरूरी है कि उसने एक्चुअली बनाया क्या है अगर वह गलत है तो बाद में आप आर यू कर सकते हैं क्योंकि मुझे अच्छे से याद है इसी डायरेक्टर ने इन्ही परिषद ने इन कलाकारों ने मिलकर बाजीराव मस्तानी बनाई थी तब कोई भी एडवर्टाइजमेंट नहीं हुआ था मैं इस टीम में नहीं जाना चाहता किस ने कौन सा युद्ध जीता और राजपूत कितने योद्धा रे में बिल्कुल नहीं कहूंगा बिल्कुल कमेंट नहीं करूंगा लेकिन यह चीज आप समझते हैं इसकी में जो दिया है वह सही है हिस्ट्रीशीटर नहीं की गई है इसके अलावा भी निर्माता निर्देशकों ने साफ साफ कहा है कि हमने पद्मावती में कोई ऐसा सीन नहीं डाला है इसके अलावा उन्होंने साफ साफ कह दिया है कि यह एक काल्पनिक कहानी के तौर पर अपने बनाया है लेकिन क्योंकि हमारा पैसा लग गया तो मैं रिलीज करने की परमिशन चाहिए एक्सप्रेस करना अपने आप को अपनी एक फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन करना कि कोई गलत नहीं हमारी कंट्री में वेस्टर्न कंट्री यह काफी अच्छे स्तर पर है एक्सेप्ट बताता हूं आपको फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के लिए जमीन रैंकिंग निकाली गई थी इंडिया की तो इंडिया 107 देशों में 100 तीसरे नंबर पर था हालांकि चाइना वॉर जो शोषित कंट्री है रसिया हैं वह भी काफी पीछे हम से भी काफी ज्यादा पीछे लेकिन जो यूरोपियन कंट्री है या अमेरिका है वह हमसे काफी ज्यादा आ गए हो इसीलिए क्योंकि आप फील्ड ऑफ एक्सप्रेशन है वहां पर लोग जल्दी रिजेक्ट नहीं करते यहां पर आप कुछ बोल देंगे तो रिएक्शन जल्दी होता है तो हमारी कमी है हमें थोड़ा संयम बरतना चाहिए इंतजार करना चाहिए कि मूवी में क्या दिखाया गया है हम उसे सही मानते या नहीं मानते यह भी हमारे ऊपर है क्योंकि बाजीराव मस्तानी में भी उन्होंने साफ साफ लिख रखा था कि यह मूवी जो है थोड़ी सी काल्पनिक रूप से इस को एक प्लॉट टेस्ट करके एक लव स्टोरी का एंगल से दिखाया गया है मूवी बिल्कुल ठीक थी वह उसी तरह से मुझे लगता है पद्मावती को भी आपको देखने की आवश्यकता है पहले देखना आवश्यक है उसके बाद हम सेंड करेंगे क्या की क्या चीज है यह सही है या गलत है थैंक यूMananiya Supreme Court Ka Faisla Padmavati Par Bilkul Theek Aaya Hai Mujhe Lagta Hai Ki Hamare Desh Ko Ab Yeh Tay Karne Ka Samay Aa Gaya Hai Ki Wah Kya Chahta Hai Kisi Vyakti Ne Agar Koi Cheez Banai Hai To Use Pehle Dekhna Zaroori Hai Ki Usne Actually Banaya Kya Hai Agar Wah Galat Hai To Baad Mein Aap R You Kar Sakte Hain Kyonki Mujhe Acche Se Yaad Hai Isi Director Ne Inhi Parishad Ne In Kalakaro Ne Milkar Bajirao Mastani Banai Thi Tab Koi Bhi Advertisement Nahi Hua Tha Main Is Team Mein Nahi Jana Chahta Kis Ne Kaun Sa Yudh Jeeta Aur Rajput Kitne Yoddha Ray Mein Bilkul Nahi Kahunga Bilkul Comment Nahi Karunga Lekin Yeh Cheez Aap Samajhte Hain Iski Mein Jo Diya Hai Wah Sahi Hai Historysheeter Nahi Ki Gayi Hai Iske Alava Bhi Nirmaata Nirdeshako Ne Saaf Saaf Kaha Hai Ki Humne Padmavati Mein Koi Aisa Seen Nahi Dala Hai Iske Alava Unhone Saaf Saaf Keh Diya Hai Ki Yeh Ek Kalpnik Kahani Ke Taur Par Apne Banaya Hai Lekin Kyonki Hamara Paisa Lag Gaya To Main Release Karne Ki Permission Chahiye Express Karna Apne Aap Ko Apni Ek Freedom Of Expression Karna Ki Koi Galat Nahi Hamari Country Mein Western Country Yeh Kafi Acche Sthar Par Hai Except Batata Hoon Aapko Freedom Of Expression Ke Liye Jameen Ranking Nikali Gayi Thi India Ki To India 107 Deshon Mein 100 Tisare Number Par Tha Halanki China War Jo Shoshit Country Hai Rasiya Hain Wah Bhi Kafi Piche Hum Se Bhi Kafi Jyada Piche Lekin Jo European Country Hai Ya America Hai Wah Humse Kafi Jyada Aa Gaye Ho Isliye Kyonki Aap Field Of Expression Hai Wahan Par Log Jaldi Reject Nahi Karte Yahan Par Aap Kuch Bol Denge To Reaction Jaldi Hota Hai To Hamari Kami Hai Hume Thoda Sanyam Baratana Chahiye Intejar Karna Chahiye Ki Movie Mein Kya Dikhaya Gaya Hai Hum Use Sahi Manate Ya Nahi Manate Yeh Bhi Hamare Upar Hai Kyonki Bajirao Mastani Mein Bhi Unhone Saaf Saaf Likh Rakha Tha Ki Yeh Movie Jo Hai Thodi Si Kalpnik Roop Se Is Ko Ek Plot Test Karke Ek Love Story Ka Angle Se Dikhaya Gaya Hai Movie Bilkul Theek Thi Wah Ussi Tarah Se Mujhe Lagta Hai Padmavati Ko Bhi Aapko Dekhne Ki Avashyakta Hai Pehle Dekhna Aavashyak Hai Uske Baad Hum Send Karenge Kya Ki Kya Cheez Hai Yeh Sahi Hai Ya Galat Hai Thank You
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

लेकिन मुझे नहीं लगता कि पद्मावती जो है सुप्रीम कोर्ट का फैसला सही था किंतु सुप्रीम कोर्ट ने चाय लोगों की धमकी आशा आ रहे थे और कई जो सेना करके जो ग्रुप है और शायद उसी के डर से ऐसी में कि अगर कहीं जो देश का माहौल को खराब में हो जाए पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान ना हो तो अपना मिलन हो शायद उसी दर से जो है वह चार राजेश को बैन कर दिया तो उसके लिए जिसको जो कि मध्य प्रदेश गुजरात राजस्थान और हरियाणा में था और अभी हाल ही में जो है वह संजय लीला भंसाली ने पद्मावती का जो मैंने तेरे लिए सोने का वह सुप्रीम कोर्ट से हटवा दिया है सुप्रीम कोर्ट ने हटाया तो धूम मचाती है पद्मावत

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

लेकिन मुझे नहीं लगता कि पद्मावती जो है सुप्रीम कोर्ट का फैसला सही था किंतु सुप्रीम कोर्ट ने चाय लोगों की धमकी आशा आ रहे थे और कई जो सेना करके जो ग्रुप है और शायद उसी के डर से ऐसी में कि अगर कहीं जो देश का माहौल को खराब में हो जाए पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान ना हो तो अपना मिलन हो शायद उसी दर से जो है वह चार राजेश को बैन कर दिया तो उसके लिए जिसको जो कि मध्य प्रदेश गुजरात राजस्थान और हरियाणा में था और अभी हाल ही में जो है वह संजय लीला भंसाली ने पद्मावती का जो मैंने तेरे लिए सोने का वह सुप्रीम कोर्ट से हटवा दिया है सुप्रीम कोर्ट ने हटाया तो धूम मचाती है पद्मावतLekin Mujhe Nahi Lagta Ki Padmavati Jo Hai Supreme Court Ka Faisla Sahi Tha Kintu Supreme Court Ne Chai Logon Ki Dhamki Asha Aa Rahe The Aur Kai Jo Sena Karke Jo Group Hai Aur Shayad Ussi Ke Dar Se Aisi Mein Ki Agar Kahin Jo Desh Ka Maahaul Ko Kharab Mein Ho Jaye Public Property Ko Nuksan Na Ho To Apna Milan Ho Shayad Ussi Dar Se Jo Hai Wah Char Rajesh Ko Ban Kar Diya To Uske Liye Jisko Jo Ki Madhya Pradesh Gujarat Rajasthan Aur Haryana Mein Tha Aur Abhi Haal Hi Mein Jo Hai Wah Sanjay Leela Bhansali Ne Padmavati Ka Jo Maine Tere Liye Sone Ka Wah Supreme Court Se Hatva Diya Hai Supreme Court Ne Hataya To Dhoom Machati Hai Padmavat
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

देखिए मेरे हिसाब से पद्मावती फिल्म पर सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला है कि कोई भी राज्य क्या है उसे फिल्म को ध्यान नहीं कर सकता यार अब कोई भी से प्यार करेगा तो उन्हें कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी उस राज्य पर तो मेरी सबसे यह निर्णय लिया है सुप्रीम कोर्ट ने बिल्कुल सही है क्योंकि पद्मावत जो है और एक अच्छी फिल्म है कैसी फिल्म है जो कि इतिहास को देख कर बनाई गई संजय लीला भंसाली है और इस चीज का मामला जाए विरोधियों से होते आ रहा है कि नहीं इसका जो है जो सेंसर बोर्ड ने भी बता दिया कि फिल्म ऐसा कुछ नहीं है कि जिससे करणी सेना राजपूत कम्युनिटी को दुख हो या फिर उन्हें आज बुरा लगे वही नया न्यूज़ रिपोर्टर चुराने मूवी देखी हो जाए रजत शर्मा अर्नब गोस्वामी भी चीज बताइए कि पद्मावत में तो कुछ नहीं है जिससे राजपूत कम्युनिटी जाओ और पद्मावत जो एक गर्लफ्रेंड है वह गलती से लिखा हो तो ज्यादा नहीं रहना चाहिए और सुप्रीम कोर्ट ने जो है फिल्म की क्रिएटिविटी और फिल्म के बूटे इनके रंग दी है और का नाका पर फिल्म जो है वह अच्छी है इस बात की पुष्टि को सुप्रीम कोर्ट में की है हिसाब से सुप्रीम कोर्ट का फैसला जो है वह बिल्कुल सही है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखिए मेरे हिसाब से पद्मावती फिल्म पर सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला है कि कोई भी राज्य क्या है उसे फिल्म को ध्यान नहीं कर सकता यार अब कोई भी से प्यार करेगा तो उन्हें कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी उस राज्य पर तो मेरी सबसे यह निर्णय लिया है सुप्रीम कोर्ट ने बिल्कुल सही है क्योंकि पद्मावत जो है और एक अच्छी फिल्म है कैसी फिल्म है जो कि इतिहास को देख कर बनाई गई संजय लीला भंसाली है और इस चीज का मामला जाए विरोधियों से होते आ रहा है कि नहीं इसका जो है जो सेंसर बोर्ड ने भी बता दिया कि फिल्म ऐसा कुछ नहीं है कि जिससे करणी सेना राजपूत कम्युनिटी को दुख हो या फिर उन्हें आज बुरा लगे वही नया न्यूज़ रिपोर्टर चुराने मूवी देखी हो जाए रजत शर्मा अर्नब गोस्वामी भी चीज बताइए कि पद्मावत में तो कुछ नहीं है जिससे राजपूत कम्युनिटी जाओ और पद्मावत जो एक गर्लफ्रेंड है वह गलती से लिखा हो तो ज्यादा नहीं रहना चाहिए और सुप्रीम कोर्ट ने जो है फिल्म की क्रिएटिविटी और फिल्म के बूटे इनके रंग दी है और का नाका पर फिल्म जो है वह अच्छी है इस बात की पुष्टि को सुप्रीम कोर्ट में की है हिसाब से सुप्रीम कोर्ट का फैसला जो है वह बिल्कुल सही हैDekhie Mere Hisab Se Padmavati Film Par Supreme Court Ka Jo Faisla Hai Ki Koi Bhi Rajya Kya Hai Use Film Ko Dhyan Nahi Kar Sakta Yaar Ab Koi Bhi Se Pyar Karega To Unhen Kadi Se Kadi Karyawahi Ki Jayegi Us Rajya Par To Meri Sabse Yeh Nirnay Liya Hai Supreme Court Ne Bilkul Sahi Hai Kyonki Padmavat Jo Hai Aur Ek Acchi Film Hai Kaisi Film Hai Jo Ki Itihas Ko Dekh Kar Banai Gayi Sanjay Leela Bhansali Hai Aur Is Cheez Ka Maamla Jaye Virodhiyon Se Hote Aa Raha Hai Ki Nahi Iska Jo Hai Jo Censor Board Ne Bhi Bata Diya Ki Film Aisa Kuch Nahi Hai Ki Jisse Karni Sena Rajput Community Ko Dukh Ho Ya Phir Unhen Aaj Bura Lage Wahi Naya News Reporter Churaane Movie Dekhi Ho Jaye Rajat Sharma Arnab Goswami Bhi Cheez Bataiye Ki Padmavat Mein To Kuch Nahi Hai Jisse Rajput Community Jao Aur Padmavat Jo Ek Girlfriend Hai Wah Galti Se Likha Ho To Jyada Nahi Rehna Chahiye Aur Supreme Court Ne Jo Hai Film Ki Creativity Aur Film Ke Boote Inke Rang Di Hai Aur Ka Naka Par Film Jo Hai Wah Acchi Hai Is Baat Ki Pushti Ko Supreme Court Mein Ki Hai Hisab Se Supreme Court Ka Faisla Jo Hai Wah Bilkul Sahi Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

सुप्रीम कोर्ट के द्वारा जो पद्मावती फिल्म के जो निर्णय आया है वह मेरी सबसे सही है क्योंकि आप दिखे तो अवनीश का नायक द फर्स्ट प्ले मूवीस है और सुप्रीम कोर्ट नहीं थी इसलिए रिलीज करने का आदेश मतलब इसको दे दिया है क्योंकि फर्स्ट पर जो प्रॉब्लम से जो सेंसर बहुत से प्रॉब्लम थे वह सारे आप मिट गए हैं जो करेक्शन डाला तो डिलीट को संजय लीला भंसाली जी को उन्होंने वह सारे करेक्शन किए जो फोटो साफ करना था जो एक जो प्रॉब्लम था जो बोल रहे थे कि दीपिका पादुकोण जो वह रानी पद्मावती का रोल निभा रही है उसका बहुत ज्यादा शरीर मतलब पेट दिखाई दे रहा था उसको कवर करने बोला था वह लोग ने कर दिया है SongPK आफ्टर ऑल द डिमांड फिर भी अगर यह सब शुरू हो रहे तो बहुत ही रॉन्ग है क्योंकि बिना देखे लो कसम से उसके हिसाब से इस विशेष उठा रहे हैं खड़ा कर दे मूवी बिना देखेगी और यह उनकी मेहनत को बहुत उनको लगेगा कि हमने जो फिल्ममेकर्स है उनके और और एक्टर थे उन लोग ने बहुत मेहनत से फिल्म बनाई है और फिर भी अगर लोगों ने लोग ऐसा ही कर रहे बर्ताव करे तू ही उनको बहुत गलत ही बहुत ही गलत था और बहुत ही सिंपल बात है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

सुप्रीम कोर्ट के द्वारा जो पद्मावती फिल्म के जो निर्णय आया है वह मेरी सबसे सही है क्योंकि आप दिखे तो अवनीश का नायक द फर्स्ट प्ले मूवीस है और सुप्रीम कोर्ट नहीं थी इसलिए रिलीज करने का आदेश मतलब इसको दे दिया है क्योंकि फर्स्ट पर जो प्रॉब्लम से जो सेंसर बहुत से प्रॉब्लम थे वह सारे आप मिट गए हैं जो करेक्शन डाला तो डिलीट को संजय लीला भंसाली जी को उन्होंने वह सारे करेक्शन किए जो फोटो साफ करना था जो एक जो प्रॉब्लम था जो बोल रहे थे कि दीपिका पादुकोण जो वह रानी पद्मावती का रोल निभा रही है उसका बहुत ज्यादा शरीर मतलब पेट दिखाई दे रहा था उसको कवर करने बोला था वह लोग ने कर दिया है SongPK आफ्टर ऑल द डिमांड फिर भी अगर यह सब शुरू हो रहे तो बहुत ही रॉन्ग है क्योंकि बिना देखे लो कसम से उसके हिसाब से इस विशेष उठा रहे हैं खड़ा कर दे मूवी बिना देखेगी और यह उनकी मेहनत को बहुत उनको लगेगा कि हमने जो फिल्ममेकर्स है उनके और और एक्टर थे उन लोग ने बहुत मेहनत से फिल्म बनाई है और फिर भी अगर लोगों ने लोग ऐसा ही कर रहे बर्ताव करे तू ही उनको बहुत गलत ही बहुत ही गलत था और बहुत ही सिंपल बात हैSupreme Court Ke Dwara Jo Padmavati Film Ke Jo Nirnay Aaya Hai Wah Meri Sabse Sahi Hai Kyonki Aap Dikhe To Avneesh Ka Nayak D First Play Movies Hai Aur Supreme Court Nahi Thi Isliye Release Karne Ka Aadesh Matlab Isko De Diya Hai Kyonki First Par Jo Problem Se Jo Censor Bahut Se Problem The Wah Sare Aap Mit Gaye Hain Jo Correction Dala To Delete Ko Sanjay Leela Bhansali Ji Ko Unhone Wah Sare Correction Kiye Jo Photo Saaf Karna Tha Jo Ek Jo Problem Tha Jo Bol Rahe The Ki Deepika Padukone Jo Wah Rani Padmavati Ka Roll Nibha Rahi Hai Uska Bahut Jyada Sharir Matlab Pet Dikhai De Raha Tha Usko Cover Karne Bola Tha Wah Log Ne Kar Diya Hai SongPK After All D Demand Phir Bhi Agar Yeh Sab Shuru Ho Rahe To Bahut Hi Wrong Hai Kyonki Bina Dekhe Lo Kasam Se Uske Hisab Se Is Vishesh Utha Rahe Hain Khada Kar De Movie Bina Dekhegi Aur Yeh Unki Mehnat Ko Bahut Unko Lagega Ki Humne Jo Filmamekars Hai Unke Aur Aur Actor The Un Log Ne Bahut Mehnat Se Film Banai Hai Aur Phir Bhi Agar Logon Ne Log Aisa Hi Kar Rahe Bartaav Kare Tu Hi Unko Bahut Galat Hi Bahut Hi Galat Tha Aur Bahut Hi Simple Baat Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

पद्मावती सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया है इस पर हर जने की अपनी आम रहे हो सकती है अपनी अपनी निजी राय हो सकती है मेरी जो व्यक्तिगत राय है कि पद्मावती सुप्रीम कोर्ट का फैसला बिल्कुल हंड्रेड परसेंट सही है क्योंकि सबसे पहले तो हमें समझना होगा संसद ने जो एक संस्था बनाई है कैंसर मोड को इसीलिए बनाई है जिससे कि वह सारे निर्णय कर सके तो उसने जब यह इतनी बहस हो रही थी पूरे देश में इतना विरोध हो रहा था उसके बाद सेंसर बोर्ड में गई है सेंसर बोर्ड ने 6 सदस्यों की टीम बनाई है तो इसका मतलब इतने विरोध होने के बाद सेंसर बोर्ड पर दबाव था कि वह किसी भी गलत चीज को इजाजत नहीं दे सकते हैं इसलिए बहुत सोच विचार करके ही फैसला लिया गया था सेंसर बोर्ड ने पास किया था उसका नाम भी बदला गया था उसके बाद सुप्रीम कोर्ट गई सुप्रीम कोर्ट में कई लोगों को यह पिक्चर भी दिखाई गई है और श्री श्री रविशंकर वगैरा-वगैरा गोभी पिक्चर दिखाइए उसमें कोई आपत्ति नहीं और इन्होंने समझना पड़ेगा जब एक सेंसर बोर्ड एग्जाम पास कर दे रही है तो बीजेपी शासित राज्य सरकार कौन होती है इसको गलत ठहराने वाली आपने बनाई है और आप उसी को यदि गलत साबित कर दें तो या तो उसके चेयरमैन को हटाने का पालन करना चाहिए उसको रिलीज करना चाहिए क्योंकि इस तरीके के यदि आपको आगे चलकर कोई भी फिल्म आती है कोई संगठन कोई भी करणी सेना है कोई दूसरी सेना यदि उसका विरोध करती है तो रोज रोज हर पिक्चर का कहीं ना कहीं कोई ना कोई इंसान को धोखा तो रोज इस तरीके से फिल्मों पर बैन करना तो सही नहीं है ना व्यक्तिगत शादी होनी चाहिए और जब तक पिक्चर आपने देखी नहीं आप उसका विरोध कैसे कर सकते हैं चुनाव फैसला लेता है तो हमें चुनाव आयोग की जिम्मेदारी सौंपी है वह फैसला करेगी ना थी और राज्य सरकारें तो जिस संगठन का जो फैसला जो काम होता है वही करना चाहिए सेंसर बोर्ड ने पास कर दी बिल्कुल सही है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

पद्मावती सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया है इस पर हर जने की अपनी आम रहे हो सकती है अपनी अपनी निजी राय हो सकती है मेरी जो व्यक्तिगत राय है कि पद्मावती सुप्रीम कोर्ट का फैसला बिल्कुल हंड्रेड परसेंट सही है क्योंकि सबसे पहले तो हमें समझना होगा संसद ने जो एक संस्था बनाई है कैंसर मोड को इसीलिए बनाई है जिससे कि वह सारे निर्णय कर सके तो उसने जब यह इतनी बहस हो रही थी पूरे देश में इतना विरोध हो रहा था उसके बाद सेंसर बोर्ड में गई है सेंसर बोर्ड ने 6 सदस्यों की टीम बनाई है तो इसका मतलब इतने विरोध होने के बाद सेंसर बोर्ड पर दबाव था कि वह किसी भी गलत चीज को इजाजत नहीं दे सकते हैं इसलिए बहुत सोच विचार करके ही फैसला लिया गया था सेंसर बोर्ड ने पास किया था उसका नाम भी बदला गया था उसके बाद सुप्रीम कोर्ट गई सुप्रीम कोर्ट में कई लोगों को यह पिक्चर भी दिखाई गई है और श्री श्री रविशंकर वगैरा-वगैरा गोभी पिक्चर दिखाइए उसमें कोई आपत्ति नहीं और इन्होंने समझना पड़ेगा जब एक सेंसर बोर्ड एग्जाम पास कर दे रही है तो बीजेपी शासित राज्य सरकार कौन होती है इसको गलत ठहराने वाली आपने बनाई है और आप उसी को यदि गलत साबित कर दें तो या तो उसके चेयरमैन को हटाने का पालन करना चाहिए उसको रिलीज करना चाहिए क्योंकि इस तरीके के यदि आपको आगे चलकर कोई भी फिल्म आती है कोई संगठन कोई भी करणी सेना है कोई दूसरी सेना यदि उसका विरोध करती है तो रोज रोज हर पिक्चर का कहीं ना कहीं कोई ना कोई इंसान को धोखा तो रोज इस तरीके से फिल्मों पर बैन करना तो सही नहीं है ना व्यक्तिगत शादी होनी चाहिए और जब तक पिक्चर आपने देखी नहीं आप उसका विरोध कैसे कर सकते हैं चुनाव फैसला लेता है तो हमें चुनाव आयोग की जिम्मेदारी सौंपी है वह फैसला करेगी ना थी और राज्य सरकारें तो जिस संगठन का जो फैसला जो काम होता है वही करना चाहिए सेंसर बोर्ड ने पास कर दी बिल्कुल सही हैPadmavati Supreme Court Ka Faisla Aaya Hai Is Par Har Jane Ki Apni Aam Rahe Ho Sakti Hai Apni Apni Niji Rai Ho Sakti Hai Meri Jo Vyaktigat Rai Hai Ki Padmavati Supreme Court Ka Faisla Bilkul Hundred Percent Sahi Hai Kyonki Sabse Pehle To Hume Samajhna Hoga Sansad Ne Jo Ek Sanstha Banai Hai Cancer Mode Ko Isliye Banai Hai Jisse Ki Wah Sare Nirnay Kar Sake To Usne Jab Yeh Itni Bahas Ho Rahi Thi Poore Desh Mein Itna Virodh Ho Raha Tha Uske Baad Censor Board Mein Gayi Hai Censor Board Ne 6 Sadasyon Ki Team Banai Hai To Iska Matlab Itne Virodh Hone Ke Baad Censor Board Par Dabaav Tha Ki Wah Kisi Bhi Galat Cheez Ko Ijajat Nahi De Sakte Hain Isliye Bahut Soch Vichar Karke Hi Faisla Liya Gaya Tha Censor Board Ne Paas Kiya Tha Uska Naam Bhi Badla Gaya Tha Uske Baad Supreme Court Gayi Supreme Court Mein Kai Logon Ko Yeh Picture Bhi Dikhai Gayi Hai Aur Shri Shri Ravishankar Vagaira Vagaira Gobhi Picture Dikhaaiye Usamen Koi Apatti Nahi Aur Inhone Samajhna Padega Jab Ek Censor Board Exam Paas Kar De Rahi Hai To Bjp Shasit Rajya Sarkar Kaun Hoti Hai Isko Galat Thaharane Wali Aapne Banai Hai Aur Aap Ussi Ko Yadi Galat Saabit Kar Dein To Ya To Uske Chairman Ko Hatane Ka Palan Karna Chahiye Usko Release Karna Chahiye Kyonki Is Tarike Ke Yadi Aapko Aage Chalkar Koi Bhi Film Aati Hai Koi Sangathan Koi Bhi Karni Sena Hai Koi Dusri Sena Yadi Uska Virodh Karti Hai To Roj Roj Har Picture Ka Kahin Na Kahin Koi Na Koi Insaan Ko Dhokha To Roj Is Tarike Se Filmo Par Ban Karna To Sahi Nahi Hai Na Vyaktigat Shadi Honi Chahiye Aur Jab Tak Picture Aapne Dekhi Nahi Aap Uska Virodh Kaise Kar Sakte Hain Chunav Faisla Leta Hai To Hume Chunav Aayog Ki Jimmedari Sonpi Hai Wah Faisla Karegi Na Thi Aur Rajya Sarkaren To Jis Sangathan Ka Jo Faisla Jo Kaam Hota Hai Wahi Karna Chahiye Censor Board Ne Paas Kar Di Bilkul Sahi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Padmavat Par Sc Ka Faisla Sahi Ya Galat





मन में है सवाल?