मेरी ज़िंदगी में बहुत सारी समस्याएँ हैं - घर, पैसा, परिवार - हर जगह बस मुसीबतें। मैं इन से निजात कैसे पाऊँ? ...

Likes  1  Dislikes

6 Answers


जवाब पढ़िये
मेरी जिंदगी में बहुत सारी समस्या है घर पर सब परिवार और हर जगह बस मुसीबतें निजात कैसे पाएं इसके जवाब में मैं आपसे कहना चाहूंगा हर मनुष्य के जीवन में किसने किसी तरह से समस्याएं होती ही है कई लोग आर्थिक परेशानी से पीड़ित हैं कई शारीरिक परेशानी से पीड़ित हैं और कई पारिवारिक समस्याओं से पीड़ित हैं किसी भी तरह की समस्या के समाधान के बारे में में जो चिंतन करने के बाद जो मुझे निष्कर्ष सामने आया है तो वहीं मैं आपसे बांटना चाहूंगा समस्या किसी भी तरह की हो उनका समाधान 3 तरीके से किया जा सकता है सबसे पहले उसकी प्राथमिकताएं तय की जाए कि किस समस्या का समाधान हम स्वयं के स्तर पर कर सकते हैं तू स्वयं जी जान से उस समस्या के समाधान में जुड़ जाए तो एक न एक दिन उसका हमें समाधान मिल ही जाता है कई समस्याएं ऐसी होती है जिसके लिए हमें किसी से परामर्श सहयोग की आवश्यकता होती है यदि हम उसका समाधान अपने परिजनों या मित्रों के साथ अगर मिलकर निकालने का प्रयास करते हैं तो किसी भी सलाह से किसी भी व्यक्ति की सलाह से उसका समाधान आसान हो जाता है क्या मिल सकता है और कुछ समस्याएं हर एक के जीवन में ऐसी होती है जिसके लिए हम स्वयं भी अपने स्तर पर संघर्ष करते हैं जिनका समाधान खोजने के लिए लेकिन नहीं कर पाते तो ऐसी समस्याओं के लिए बेहतर होगा कि उन्हें वक्त पर और ईश्वर पर आस्था रख के उसके चरणों में सौंप दिया जाए समय के साथ ईश्वर उसका समाधान हमारे सामने अवश्य रखेगा ऐसा विश्वास रखें तो इन 3 तरीकों से जो समस्याएं हैं उनके समाधान पाए जा सकते हैं चाहे वह भीतर के समस्याओं आशा है मेरा जवाब आपके लिए उपयोगी होगा
Likes  8  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए

0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


जवाब पढ़िये
हमारी जिंदगी में कोई भी समस्या मुसीबत तब तक की है जब तक हम उन्हें मुसीबत बना कर रखें हम उनके बारे में सोचते रहते हैं लेकिन समस्याओं से बाहर निकलने के लिए कुछ करते नहीं हर व्यक्ति की किस्मत एक जैसी नहीं होती कि बैठे बैठे घर पैसा परिवार का सुख मिल जाए लेकिन समस्या है तो समाधान निश्चित सबसे पहले अपनी ताकत और कमजोरियों को समझें कमजोरियों पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें लक्ष्य निर्धारण करें अपनी सारी ताकत लक्ष्य प्राप्ति में लगा दे धीरे-धीरे ही सही लेकिन आप अपनी मंजिल तक जरूर पहुंचेंगे लक्ष्य के साथ पहचान है पहचान के साथ घर कैसा परिवार का सुख अगर आपको अपनी ताकत कमजोरियों को पहचानने में दिक्कत है तब अनुभवी व्यक्ति या व्यवसायिक पर ले सकते हैं जो आपकी जिंदगी को दिशा देने में मदद कर सकते हैं
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जवाब पढ़िये
नमस्कार दोस्तों मैं नौरंग शर्मा आज बात करने जा रहा हूं जिंदगी में बहुत सारी प्रॉब्लम है घर पैसा परिवार हर जगह बस मुसीबतें इन सब से आप कैसे निजात पाने देखिए अगर समस्याएं हमारे सामने नहीं आएंगे तो हमें महसूस ही नहीं होगा कि हम इस दुनिया में जिंदा है तो यह तो कहीं ना कहीं आप के जिंदा होने का सबूत है कि आप के सामने वह और समस्याओं को ना आप गेंद की तरह से लेना सीखो क्रिकेट देखते हैं ना आप आप देखते हैं कि कोई जो बॉलिंग करवाने वाला खिलाड़ी है वह आपको गेंद फेंक रहा है तो आपको बस उस पर चौके छक्के तो लगानी है लेकिन आप हर बार उसे इतना घबरा जाते हैं कि खुद ही विकेट छोड़ देती हैं कि लो भाई मुझे आउट कर लो तो देखिए जितनी भी मुसीबतें हैं ना वह आपको एक मौका देती हैं कि आप उस पर चौक आया छक्का मार सकते हैं तो यह तो आप पर डिपेंड करता है ना कि आप कितने अच्छे बैट्समैन बनना चाहते हैं आप थोड़ा टुकटुक करके खेलना शुरू तो करिए यह समस्याएं आपको किसी खेल जैसी नजर आएंगी तो मेरा आपसे निवेदन इतना ही है किन समस्याओं से घबराइए मत बल्कि आप दुनिया में आए ही इसीलिए है ताकि आप अपनी और दूसरों की सारी प्रॉब्लम को का हल्ला सके उसका कुछ सॉल्यूशन ला सके आपका मकसद यही है तो फिर जब आपका काम ही यही है तो फिर उस काम से घबराना कैसा है खतरों के खिलाड़ी भी बन सकते हैं और अगर आप उन से घबरा गए क्या आप उनसे अपने कदम पीछे हटा लिए तो फिर आपने उधर बनकर रह जाएंगे तो बनी एक ऐसा खिलाड़ी जिसे हर कोई अपनी टीम में शामिल करना चाहिए जो जिसके साथ भी हो उसे मैच को जीत वादी धन्यवाद
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


जवाब पढ़िये
सभी की जिंदगी में बहुत सारी समस्याएं होती है घर पैसा परिवार पर यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कि आप जिंदगी को किस तरीके से देखते हैं देखा जाए तो कुछ भी नहीं है और अगर देखा जाए सब कुछ है तो इंसान का एटीट्यूड जो है लाइफ डिसाइड करता है कई लोगों को अपनी लाइफ की प्रॉब्लम्स में राई जैसे दिखाई देता है और कई लोगों को पहाड़ जैसा दिखाई देता है आपके सोचने और महसूस करने के ऊपर डिपेंड करता है माइंड बहुत चुकी है यह हमेशा जीवन में जो है वह को ढूंढता है तो आप की ड्यूटी है माइंड को ट्रेन करना कि जीवन में क्या-क्या मिला है ना कि लाख के ट्रक में फसना मोस्ट ऑफ द पीपल लाइट मतलब अभाव अभाव को ही ढूंढते हैं अपने जीवन में क्या मिलता है उसको नहीं ढूंढते हैं तो आप अपने जीवन में एटीट्यूड आफ ग्रिटीट्यूड प्रैक्टिस कीजिए तैलीय और अब खुद सरप्राइस हो जाएंगे क्या आपको जो जो मिला है वह आपके जीवन में जो अभाव है उससे कई गुना ज्यादा है आप एक एक्सपेरिमेंट भी कर सकते हैं एक डायरी ले लीजिए और हर रोज इस में लिखी आपको क्या-क्या मिल रहा है और क्या-क्या मिल रहा है अब देखेंगे आप की डायरी जो है जो मिल रहा है उससे ज्यादा पर जाएगी जो नहीं मिल रहा है जो अभाव है उससे कम इससे आपको मैं आपके माइंड वे स्विच हो जाएगी आपके जीवन में अभिनंदन सारी मुसीबतों से अपने आप अपने कल आएंगे कह रहे थे
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जवाब पढ़िये
भाई आपको हम अपने निजी जीवन के एक अनुभव के बारे में बताते हैं मेरी भी जीवन में बहुत सारी समस्याएं थी घर पैसा परिवार हर जगह बस मुसीबत मुसीबत दिखाई देती थी इन समस्याओं से निजात कैसे पाएं इस कल आज तक कोई नहीं दिखता था लेकिन हम अपने अनुभवों से आपको यह जरूर बता सकते हैं कि 2 सबसे आसान तरीके हैं सबसे सरल उपाय है इस समस्या से मुक्त होने का सबसे पहला अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण रखना यानी कि जो हमारी सामर्थ्य शक्ति है जो हमारी ताकत है जो हमारी क्षमता है जो मेरे पास संसाधन है उसके आधार पर ही अपनी इच्छाओं का निर्धारण करना अर्थात यानी मेरे पास ₹10 है हम ₹50 के खर्चे की योजना बना लेंगे तो निश्चित रूप से वह ₹40 हम कहां से लाएं उसके लिए तो कष्ट संघर्ष दुख दर्द अवसाद सब कुछ सहना पड़ेगा दूसरा सरल उपाय अपेक्षाओं का त्याग हम जीवन में बहुत अपेक्षा रखते हैं सिर्फ अपने आप से ही नहीं बल्कि यों कहें कि अपने आप से ज्यादा अन्य से रखने लगते हैं अपने रिश्ते से अपने नाते से अपने आसपास के लोगों से अपने काम से अपने संसाधनों से हम इतनी अपेक्षा रखते हैं और वह जब पूरी नहीं होती है तो हम अवसाद ग्रस्त हो जाते हैं और दूसरों पर आ जाते हैं किस कारण से नहीं दबाव के कारण से यह नहीं हुआ तो जब हम अपेक्षाओं का त्याग करना सीख जाएंगे और इच्छा और अपेक्षा दोनों में नियंत्रण स्थापित कर लेंगे दोनों में संतुलन स्थापित कर लेंगे तो हम विश्वास के साथ कह सकते हैं कि आप बहुत सारे दुखों और अवसादो से मुक्त हो जाएंगे और आप अपने आप में संतुष्ट और खुश रहना शुरू कर
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जवाब पढ़िये
आपकी जिंदगी में बहुत समस्या है घर पैसा परिवार मैं आपको बताना चाहता हूं कि दुनिया में कोई भी ऐसा इंसान नहीं है जो परेशान नहीं है जिसके जीवन में समस्या नहीं है आपके पास तो छोटी समस्या है आप आपने शायद वह गाना नहीं सुना होगा कि दुनिया में कितना गम है मेरा गम कितना कम कम है लोगों का गम देखा तो मैं अपना गम भूल गया जब आप जैसे लोगों यह शब्द बोलेंगे कि मेरे पास बहुत समस्या है देखिए आप घबराइए मत समस्या समस्या का समाधान ढूंढना पड़ता है समस्या का सामना करना पड़ता है अगर आपका जीवन मनुष्य का जीवन आपको मिला है तो आप समस्या के साथ लड़ाई लड़ी है समस्या का समाधान निकालिए और मुझसे मुसीबतों से मुसीबतों का सामना करिए आपका जन्म इसलिए धरती पर हुआ है आप जो आप जैसे लोग अगर घबरा जाएंगे अपनी समस्या से तो दुनिया कैसे चलेगी दुनिया नहीं आपका हॉटस्पॉट को मजबूत होना पड़ेगा आपको अपने हौसले मजबूत करने होंगे और समाज के लिए भी कुछ कार्य करना होगा आप अगर हौसले बुलंद करके आप समस्याओं समस्याओं का समाधान ढूंढने के चक्कर में पढ़ोगे तो आपको समस्या का समाधान बहुत आसानी से मिल जाएगा और आप आगे बढ़ो गे आप घबराइए मत आप सकारात्मक सोच के माध्यम से कार्य करिए आपको सफलता अवश्य मिलेगी 1 दिन आपके पास बहुत पैसा होगा आपके घर में खुशहाली होगी और आपका परिवार बहुत सुखी परिवार होगा आप अपनी समस्याओं का समाधान करने के बाद जो गरीब लोग हैं उनके लिए कुछ कार्य करिए और आप जैसे लोगों की जरूरत है जब सभी सवा सौ करोड़ देशवासी मिलजुल कर कार्य करेंगे तभी हमारी देश की गरीबी खत्म होगी तभी हमारे देश को विकसित देश बोला जाएगा धन्यवाद
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Sabhi Sanyasya Ka Samadhan Hota Hai, There Are So Many Problems In My Life - Home, Money, Family - Just Troubles Everywhere. How Do I Get Rid Of Them?