अरुणाचल प्रदेश को चीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा क्यों बताता है? ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
अरुणाचल प्रदेश कोचीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है क्योंकि इसके पीछे कुछ ऐतिहासिक कारण है ना चल प्रदेश के जो मूल जनजातियां हैं वह अरुणाचल प्रदेश की नहीं होते अन्य पूर्वोत्तर राज्यों के पिता बर्मा होते हुए चीन होते हुए अन्य राज्य से है परंतु एक बहुत ही पुरानी बात है तिब्बत के गठन के बाद तिब्बत का क्षेत्र निर्धारित किया गया था अंतर्राष्ट्रीय मानकों के आधार पर उस हिसाब से देखा जाए तो अरुणाचल प्रदेश में है तिब्बत का हिस्सा नहीं माना जा सकता अगर है तो सिरसा से लेह लद्दाख किस प्रकार से तिब्बत का हिस्सा है जो कि मुझे नहीं लगता इस प्रकार कि जिस प्रकार के अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र निर्धारित होते हैं तथा अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों के आधार पर तिब्बत का हिस्सा ना लेह लद्दाख है ना ही अलग देशों से भारत का अभिन्न अंग है पता किस प्रकार के जो भी दावे चीन करता है मैं उसको सिरे से खारिज करता हूं देखिए इसके साथ-साथ मुझे ऐसा भी लगता है कि केवल फूल चाल की भाषा होने से अथवा समान जो की भौगोलिक आपके नियमितता है उसके आधार पर आप किसी देश को या किसी प्रांत को अपने देश का हिस्सा नहीं बता सकते ऐतिहासिक रूप से भी लिखा जाए तो इस प्रकार से अफगानिस्तान भारत में अनुवाद और बहुत बड़ा है तिब्बत का चित्र बताओ भारत के अंदर ही आता था परंतु उस समय की परिस्थितियां कुछ और थी परंतु आज की परिस्थितियां कुछ और है तो मुझे ऐसा लगता है कि इस प्रकार के दावे बिल्कुल गलत है तथा इसका में भरपूर खंडन करता हूं धन्यवादArunachal Pradesh Cochin Dakshini Tibet Ka Hissa Batata Hai Kyonki Iske Piche Kuch Aetihasik Kaaran Hai Na Chal Pradesh Ke Jo Mul Janajatiyan Hain Wah Arunachal Pradesh Ki Nahi Hote Anya Purvotar Rajyo Ke Pita Barma Hote Hue Chin Hote Hue Anya Rajya Se Hai Parantu Ek Bahut Hi Purani Baat Hai Tibet Ke Gathan Ke Baad Tibet Ka Kshetra Nirdharit Kiya Gaya Tha Antar Rashtriya Maankon Ke Aadhar Par Us Hisab Se Dekha Jaye To Arunachal Pradesh Mein Hai Tibet Ka Hissa Nahi Mana Ja Sakta Agar Hai To Sirsa Se Leh Laddakh Kis Prakar Se Tibet Ka Hissa Hai Jo Ki Mujhe Nahi Lagta Is Prakar Ki Jis Prakar Ke Antar Rashtriya Manchitra Nirdharit Hote Hain Tatha Antararashtriya Paristhitiyon Ke Aadhar Par Tibet Ka Hissa Na Leh Laddakh Hai Na Hi Alag Deshon Se Bharat Ka Abhinna Ang Hai Pata Kis Prakar Ke Jo Bhi Daave Chin Karta Hai Main Usko Sire Se Khareej Karta Hoon Dekhie Iske Saath Saath Mujhe Aisa Bhi Lagta Hai Ki Kewal Fool Chaal Ki Bhasha Hone Se Athwa Saman Jo Ki Bhaugolik Aapke Niyamitta Hai Uske Aadhar Par Aap Kisi Desh Ko Ya Kisi Prant Ko Apne Desh Ka Hissa Nahi Bata Sakte Aetihasik Roop Se Bhi Likha Jaye To Is Prakar Se Afghanistan Bharat Mein Anuvad Aur Bahut Bada Hai Tibet Ka Chitra Batao Bharat Ke Andar Hi Aata Tha Parantu Us Samay Ki Paristhiyaan Kuch Aur Thi Parantu Aaj Ki Paristhiyaan Kuch Aur Hai To Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Is Prakar Ke Daave Bilkul Galat Hai Tatha Iska Mein Bharpur Khandan Karta Hoon Dhanyavad
Likes  20  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
चीन अरुणाचल प्रदेश को साउथ तिब्बत का हिस्सा बताकर अपना दावा पेश करता है क्योंकि इससे चीन को कई फायदे हैं चीन अरुणाचल के पास नया हाईवे खुला है चिंटूआ न्यूज़ एजेंसी के अनुसार हाइवे बनने से पर्यटन के लिहाज से अरुणाचल के दो प्रमुख शहरों की दूरी घटकर 8 घंटे से 5 घंटे हो गई तिब्बत में ज्यादातर एक्सप्रेस वे सैन्य उपकरणों के लिए सुलभ है इनकी मदद से चीन अपनी सेना और हथियारों को आसानी से मुंह कर सकता है भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल 341 1 किलोमीटर का एक लंबा सीमा विवाद है चीन अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा करने के बाद भारत भी 1952 के युद्ध में चीन के द्वारा किए गए अक्साई चीन को अपना शेत्र बताता हैChin Arunachal Pradesh Ko South Tibet Ka Hissa Batakar Apna Daawa Pesh Karta Hai Kyonki Isse Chin Ko Kai Fayde Hain Chin Arunachal Ke Paas Naya Highway Khula Hai Chintuaa News Agency Ke Anusar Highway Banane Se Paryatan Ke Lihaj Se Arunachal Ke Do Pramukh Shaharon Ki Doori Ghatakar 8 Ghante Se 5 Ghante Ho Gayi Tibet Mein Jyadatar Express Ve Sainya Upkarano Ke Liye Sulabh Hai Inki Madad Se Chin Apni Sena Aur Hathiyaron Ko Aasani Se Mooh Kar Sakta Hai Bharat Aur Chin Ke Beech Line Of Ekchual Control 341 1 Kilometre Ka Ek Lamba Seema Vivad Hai Chin Arunachal Pradesh Par Apna Daawa Karne Ke Baad Bharat Bhi 1952 Ke Yudh Mein Chin Ke Dwara Kiye Gaye Aksai Chin Ko Apna Shetra Batata Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Arunachal Pradesh Ko Chin Dakshini Tibet Ka Hissa Kyun Batata Hai





मन में है सवाल?