क्या संसाधनों के अत्यधिक दोहन से हम आने वाली पढ़ी के साथ अन्याय नहीं कर रहे हैं? ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मैं आपकी बात से बिल्कुल सहमत हूं कि हम लोग प्राकृतिक संसाधनो का अत्यधिक उपयोग कर रहे हैं और सही मायनों में उसका दुरुपयोग कर रहे हैं और आने वाली पीढ़ी के लिए शायद कुछ भी ना छोड़े तो यह बात तो सही नहीं है कि हम सारी जो भी प्राकृतिक चीजें हैं उसका खुद ही इस्तेमाल कर लें और आने वाली पीढ़ियों को उनका हक ना दें प्राकृतिक संसाधनो का अत्यधिक दोहन हम करते जा रहे हैं और यह बिल्कुल खत्म होने की कगार पर आ गए हैं अगर प्राकृतिक संसाधन खत्म हो जाएंगे तो सारे संसार का जो भी भाषा है वह बिगड़ जाएगा इस बारे में हमें बहुत अधिक गहन चिंतन करने की आवश्यकता है हम वस्तुओं का अत्यधिक दोहन कर के पर्यावरण को प्रदूषित कर रहे हैं इस कारण प्राप्त प्राकृतिक आपदाएं बहुत सारी आ रही हैं और जैसा की हमने देखा की सुनामी आई थी जिसमें बहुत सारे लोगों की जान चली गई थी और अगर इसी रफ्तार से हम इन प्राकृतिक संसाधनों का दुरुपयोग करते रहें तो प्रकृति के बदलाव से मानव जीवन खतरे में पड़ सकता है तो इसलिए हमें और सभी लोगों को इस बारे में ध्यान देना चाहिए कि हम प्राकृतिक संसाधनों का उतना ही इस्तेमाल करें जितना की जरूरत हो और ना कि उन्हें वेस्ट करेंMain Aapki Baat Se Bilkul Sahmat Hoon Ki Hum Log Prakritik Sansadhano Ka Atyadhik Upyog Kar Rahe Hain Aur Sahi Maayano Mein Uska Durupyog Kar Rahe Hain Aur Aane Wali Pidhi Ke Liye Shayad Kuch Bhi Na Chodde To Yeh Baat To Sahi Nahi Hai Ki Hum Saree Jo Bhi Prakritik Cheezen Hain Uska Khud Hi Istemal Kar Lein Aur Aane Wali Peedhiyon Ko Unka Haq Na Dein Prakritik Sansadhano Ka Atyadhik Dohan Hum Karte Ja Rahe Hain Aur Yeh Bilkul Khatam Hone Ki Kagar Par Aa Gaye Hain Agar Prakritik Sansadhan Khatam Ho Jaenge To Sare Sansar Ka Jo Bhi Bhasha Hai Wah Bigad Jayega Is Baare Mein Hume Bahut Adhik Gahan Chintan Karne Ki Avashyakta Hai Hum Vastuon Ka Atyadhik Dohan Kar Ke Paryavaran Ko Pradushit Kar Rahe Hain Is Kaaran Prapt Prakritik Apadaen Bahut Saree Aa Rahi Hain Aur Jaisa Ki Humne Dekha Ki Tsunami Eye Thi Jisme Bahut Sare Logon Ki Jaan Chali Gayi Thi Aur Agar Isi Raftaar Se Hum In Prakritik Sansadhanon Ka Durupyog Karte Rahen To Prakriti Ke Badlav Se Manav Jeevan Khatre Mein Padh Sakta Hai To Isliye Hume Aur Sabhi Logon Ko Is Baare Mein Dhyan Dena Chahiye Ki Hum Prakritik Sansadhanon Ka Utana Hi Istemal Karen Jitna Ki Zaroorat Ho Aur Na Ki Unhen West Karen
Likes  12  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Sansadhanon Ke Atyadhik Dohan Se Hum Aane Wali Padhi Ke Saath Anyay Nahi Kar Rahe Hain





मन में है सवाल?