क्या भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब स्वतंत्र भारत का संविधान बनाया जा रहा था उस समय बाबा भीमराव अंबेडकर ने इस बात का ख्याल रखा और हरिजन और उससे जुड़े दूसरे वर्ग को आरक्षण का दर्जा लिखित तौर पर दिया आरक्षण नहीं जहां समाज में फैली असमा...जवाब पढ़िये
जब स्वतंत्र भारत का संविधान बनाया जा रहा था उस समय बाबा भीमराव अंबेडकर ने इस बात का ख्याल रखा और हरिजन और उससे जुड़े दूसरे वर्ग को आरक्षण का दर्जा लिखित तौर पर दिया आरक्षण नहीं जहां समाज में फैली असमानताओं को दूर करने के साथ साथ जो निम्न वर्ग थे उन्हें जीने का एक अधिकार सामाजिक स्तर पर दिलवाया तो इसी वजह से मुझे लगता है कि आरक्षण काफी जरूरी है आज के समय में भी आरक्षण के कारण ही जॉब तेज बच्चे थे या फिर जो तेजस्वी बच्चे थे उन्हें बड़े स्कूलों और नामी स्कूलों में पढ़ने का अवसर मिला मेडिकल इंजीनियरिंग और दूसरे जो अन्य कॉलेजेस है जहां हर स्तर के लोगों का पढ़ना संभव नहीं हो पाता हां वही आरक्षण की वजह से ही समाज के नीचे के तबके के लोग स्थान प्राप्त करते हैं आरक्षण में जहां समाज के लोगों में समानता ला का अचूक प्रयास किया है लेकिन इसका बाद में क्या दुरुपयोग भी होने लगा है जैसे कि सरकारी कोटा मंत्री कोटा स्वयं का आरक्षण कोटा के तहत उन लोगों को एंट्री मिलने मिलने लगी जो इस काबिल नहीं थे तो आरक्षण इस हिसाब से देना चाहिए कि जिससे जरूरत है बस उसे ही दिया जाए जो आर्थिक तौर पर काफी मजबूत है उन्हें आरक्षण देने की कोई आप मुझे तो वजह समझ नहीं आती है तो आरक्षण बस उन्हीं मिलना चाहिए जो कि मान लीजिए विकलांग है या फिर काफी गरीब है जो बड़े कॉलेजेस या यूनिवर्सिटीज के पी नहीं देख सकते हैं या फिर वहां पर एडमिशन लेना उनका काफी मुश्किल है तो आरक्षण आर्थिक तौर पर होना चाहिए ना की जाति के हिसाब सेJab Swatantra Bharat Ka Samvidhan Banaya Ja Raha Tha Us Samay Baba Bhimrao Ambedkar Ne Is Baat Ka Khayal Rakha Aur Harijan Aur Usse Jude Dusre Varg Ko Aarakshan Ka Darja Likhit Taur Par Diya Aarakshan Nahi Jahan Samaaj Mein Faili Asamantao Ko Dur Karne Ke Saath Saath Jo Nimn Varg The Unhen Jeene Ka Ek Adhikaar Samajik Sthar Par Dilwaya To Isi Wajah Se Mujhe Lagta Hai Ki Aarakshan Kafi Zaroori Hai Aaj Ke Samay Mein Bhi Aarakshan Ke Kaaran Hi Job Tez Bacche The Ya Phir Jo Tejaswi Bacche The Unhen Bade Schoolon Aur Nami Schoolon Mein Padhne Ka Avsar Mila Medical Engineering Aur Dusre Jo Anya Colleges Hai Jahan Har Sthar Ke Logon Ka Padhna Sambhav Nahi Ho Pata Haan Wahi Aarakshan Ki Wajah Se Hi Samaaj Ke Neeche Ke Tabake Ke Log Sthan Prapt Karte Hain Aarakshan Mein Jahan Samaaj Ke Logon Mein Samanata La Ka Achuk Prayas Kiya Hai Lekin Iska Baad Mein Kya Durupyog Bhi Hone Laga Hai Jaise Ki Sarkari Quota Mantri Quota Swayam Ka Aarakshan Quota Ke Tahat Un Logon Ko Entry Milne Milne Lagi Jo Is Kaabil Nahi The To Aarakshan Is Hisab Se Dena Chahiye Ki Jisse Zaroorat Hai Bus Use Hi Diya Jaye Jo Aarthik Taur Par Kafi Mazboot Hai Unhen Aarakshan Dene Ki Koi Aap Mujhe To Wajah Samajh Nahi Aati Hai To Aarakshan Bus Unhin Milna Chahiye Jo Ki Maan Lijiye Viklaang Hai Ya Phir Kafi Garib Hai Jo Bade Colleges Ya Universities Ke P Nahi Dekh Sakte Hain Ya Phir Wahan Par Admission Lena Unka Kafi Mushkil Hai To Aarakshan Aarthik Taur Par Hona Chahiye Na Ki Jati Ke Hisab Se
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हमारा भारत देश आजाद हुआ था उसके बाद भीमराव अंबेडकर जी ने आरक्षण नामक चीज की शुरुआत की थी और उन्होंने SC ST और दलित लोगों को आरक्षण दिलवाया था हर चीज में ताकि उन लोगों को ऊपर आने का एक मौका मिल सके ...जवाब पढ़िये
जब हमारा भारत देश आजाद हुआ था उसके बाद भीमराव अंबेडकर जी ने आरक्षण नामक चीज की शुरुआत की थी और उन्होंने SC ST और दलित लोगों को आरक्षण दिलवाया था हर चीज में ताकि उन लोगों को ऊपर आने का एक मौका मिल सके ऊपर के दफ्तर के के लोगों में मिलकर रहने का एक मौका मिल सके लेकिन अगर हम आज की बात करें तो भारत को आरक्षण की आवश्यकता ज्यादा नहीं है लेकिन नजरों का आवश्यकता है उनका काव्य आरक्षण पहुंच भी नहीं पा रहा है तो आज के जमाने में आरक्षण बहुत ही गलत तरह से इस्तेमाल किया जा रहा है और उसका सबसे बड़ा रीजन यह है कि आज जो आरक्षण है वह एससी-एसटी के बेसिस पर है जो कि नहीं होना चाहिए क्योंकि अगर आप ऐसी st और ओबीसी कास्ट के लोगों को आरक्षण दे रहे हैं तो आप tv ध्यान में रखें कि वह लोग आरक्षण का फायदा तो नहीं उठा रहे गलत फायदा तो नहीं उठा रहे क्योंकि अगर कोई इंसान ऑलरेडी ऊपर के थक्के में आ चुका है उसका पढ़ा-लिखा परिवार है उसकी ठीक-ठाक है उसके मां-बाप की आई ठीक-ठाक है तो आपको क्या जरुरत है आरक्षण की क्योंकि आरक्षण उन लोगों के लिए बनाया गया था जिनके पास खाने के लिए या रहने के लिए और पढ़ने पढ़ने के लिए उनके पास पैसा नहीं हुआ करता था उल्लू के लिए आरक्षण का निर्माण हुआ था ना कि उनके लिए जो पहले से ही संपन्न लोग हैं तो आज के देश में आरक्षण की आवश्यकता बहुत ही कम है लेकिन अगर आरक्षण होना चाहिए तो वह सिर्फ एक मैसेज में होना चाहिए या नहीं इनकम के विशेष पर होना चाहिए ना की कास्ट के विशेष परJab Hamara Bharat Desh Azad Hua Tha Uske Baad Bhimrao Ambedkar Ji Ne Aarakshan Namak Cheez Ki Shuruvat Ki Thi Aur Unhone SC ST Aur Dalit Logon Ko Aarakshan Dilwaya Tha Har Cheez Mein Taki Un Logon Ko Upar Aane Ka Ek Mauka Mil Sake Upar Ke Daftaar Ke Ke Logon Mein Milkar Rehne Ka Ek Mauka Mil Sake Lekin Agar Hum Aaj Ki Baat Karen To Bharat Ko Aarakshan Ki Avashyakta Jyada Nahi Hai Lekin Najaron Ka Avashyakta Hai Unka Kavya Aarakshan Pahunch Bhi Nahi Pa Raha Hai To Aaj Ke Jamaane Mein Aarakshan Bahut Hi Galat Tarah Se Istemal Kiya Ja Raha Hai Aur Uska Sabse Bada Reason Yeh Hai Ki Aaj Jo Aarakshan Hai Wah Sc ST Ke Basis Par Hai Jo Ki Nahi Hona Chahiye Kyonki Agar Aap Aisi St Aur Obc Caste Ke Logon Ko Aarakshan De Rahe Hain To Aap Tv Dhyan Mein Rakhen Ki Wah Log Aarakshan Ka Fayda To Nahi Utha Rahe Galat Fayda To Nahi Utha Rahe Kyonki Agar Koi Insaan Already Upar Ke Thakke Mein Aa Chuka Hai Uska Padha Likha Parivar Hai Uski Theek Thak Hai Uske Maa Baap Ki Eye Theek Thak Hai To Aapko Kya Zaroorat Hai Aarakshan Ki Kyonki Aarakshan Un Logon Ke Liye Banaya Gaya Tha Jinke Paas Khane Ke Liye Ya Rehne Ke Liye Aur Padhne Padhne Ke Liye Unke Paas Paisa Nahi Hua Karta Tha Ullu Ke Liye Aarakshan Ka Nirman Hua Tha Na Ki Unke Liye Jo Pehle Se Hi Sanpann Log Hain To Aaj Ke Desh Mein Aarakshan Ki Avashyakta Bahut Hi Kum Hai Lekin Agar Aarakshan Hona Chahiye To Wah Sirf Ek Massage Mein Hona Chahiye Ya Nahi Income Ke Vishesh Par Hona Chahiye Na Ki Caste Ke Vishesh Par
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता कि भारत में जो है अभी किसी भी प्रकार की आरक्षण की आवश्यकता है क्योंकि जब भी आरक्षण की आवश्यकता थी तब तो लोगों ने इसका यूज़ किया लेकिन आज के टाइम पर जो है वह लोग जो है उनके आरक्षण का गलत इस्त...जवाब पढ़िये
मुझे लगता कि भारत में जो है अभी किसी भी प्रकार की आरक्षण की आवश्यकता है क्योंकि जब भी आरक्षण की आवश्यकता थी तब तो लोगों ने इसका यूज़ किया लेकिन आज के टाइम पर जो है वह लोग जो है उनके आरक्षण का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं या फिर गलत चीजों के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह पूरी तरह से खत्म देना कर देना चाहिए सरकार की तरफ से और जितने भी ऐसे लोग हैं या फिर गरीब लोग हैं जो 40 लाइन की ब्लू आते तो उनके लिए सरकार जो हमेशा कोई न कोई नई स्कीम चलाती रहती है और जो लोग एक्चुअल में उस चीज के लिए प्रयोग करते हैं अगर उनको एक्चुली इस चीज की जरुरत बोलो अपने आप खुश हो के सामने आएंगे तो मुझे लगता है कि आरक्षण को पूरी तरह से अभी बंद कर देना 24 कि भारत में चाहिए किसी भी प्रकार की आवश्यकता नहीं हैMujhe Lagta Ki Bharat Mein Jo Hai Abhi Kisi Bhi Prakar Ki Aarakshan Ki Avashyakta Hai Kyonki Jab Bhi Aarakshan Ki Avashyakta Thi Tab To Logon Ne Iska Use Kiya Lekin Aaj Ke Time Par Jo Hai Wah Log Jo Hai Unke Aarakshan Ka Galat Istemal Kar Rahe Hain Ya Phir Galat Chijon Ke Liye Istemal Kar Rahe Hain To Yeh Puri Tarah Se Khatam Dena Kar Dena Chahiye Sarkar Ki Taraf Se Aur Jitne Bhi Aise Log Hain Ya Phir Garib Log Hain Jo 40 Line Ki Blue Aate To Unke Liye Sarkar Jo Hamesha Koi N Koi Nayi Scheme Chalati Rehti Hai Aur Jo Log Ekchual Mein Us Cheez Ke Liye Prayog Karte Hain Agar Unko Atual Is Cheez Ki Zaroorat Bolo Apne Aap Khush Ho Ke Samane Aayenge To Mujhe Lagta Hai Ki Aarakshan Ko Puri Tarah Se Abhi Band Kar Dena 24 Ki Bharat Mein Chahiye Kisi Bhi Prakar Ki Avashyakta Nahi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है अगर हम जिस प्रकार से अधिक आरक्षण की बात करें कि किस प्रकार से आरक्षण जो है आप 45% हो चुका है तो मुझे आप से 45% नहीं होना अच्छी है वह कम से क...जवाब पढ़िये
हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है अगर हम जिस प्रकार से अधिक आरक्षण की बात करें कि किस प्रकार से आरक्षण जो है आप 45% हो चुका है तो मुझे आप से 45% नहीं होना अच्छी है वह कम से कम 20 से 30% तक होना चाहिए क्योंकि अगर 45.2 लगाम आरक्षण रख रहे तू जो लोग जो भी टाइपिंग नहीं है उन लोगों को भी एडमिशन मिल रहा है चाहे वह कॉलेज में सोया सरकारी नौकरी हो और जो कि जनरल कैटेगरी के हमें नौकरी नहीं मिल पाए होने बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है शिव ही नहीं आज भी आरक्षण का जो भी रिजर्वेशन पॉलिसी उसे भी उस में कुछ बदलाव लाने चाहिए क्योंकि अगर हम देखें सबसे अजीब गरीब है और जो कि पिछले और स्तर से आते हैं पिछली कम्युनिटी से आते हैं उंहीं आरक्षण मिलना चाहिए कि अभी कि हम बात करें तो अच्छा लिखा नहीं गया की छोकरी भेजो कि बहुत ही गरीब है जबकि दो टाइम का खाना भी आप फोन नहीं कर सकते हैं उन्हें रिजर्वेशन नहीं मिल रहा है और इसके दिल्ली में जो कि अमीर लोग हैं और सिर्फ उनकी इच्छा से जो है वह थोड़ी नीची है इसके लिए उन्होंने सबसे अच्छा नहीं होना चाहिए आरक्षण भारत में आवश्यकता है क्योंकि जिस प्रकार से भारत की आबादी है तो हर कोई अमीर नहीं होता है और जो लोग भी करीब है या फिर जो लोग भी बहुत ही गरीब दर्शाते बहुत गरीब परिवार से आते उनके लिए ही आरक्षण होना चाहिए और आरक्षण के जो पॉलिसी जो भी भारत में फिलहाल चल रही है उसमें कई सारे अमेंडमेंट से फिर हम कह सकते हैं और चेंजेस बदलाव लाने पड़ेंगे अच्छे बदलाव लाने पड़ेंगेHindi Ki Mere Hisab Se Bharat Ko Abhi Bhi Aarakshan Ki Avashyakta Hai Agar Hum Jis Prakar Se Adhik Aarakshan Ki Baat Karen Ki Kis Prakar Se Aarakshan Jo Hai Aap 45% Ho Chuka Hai To Mujhe Aap Se 45% Nahi Hona Acchi Hai Wah Kum Se Kum 20 Se 30% Tak Hona Chahiye Kyonki Agar 45.2 Lagaam Aarakshan Rakh Rahe Tu Jo Log Jo Bhi Typing Nahi Hai Un Logon Ko Bhi Admission Mil Raha Hai Chahe Wah College Mein Soya Sarkari Naukri Ho Aur Jo Ki General Category Ke Hume Naukri Nahi Mil Paye Hone Berojgari Ka Samana Karna Padh Raha Hai Shiv Hi Nahi Aaj Bhi Aarakshan Ka Jo Bhi Reservation Policy Use Bhi Us Mein Kuch Badlav Lane Chahiye Kyonki Agar Hum Dekhen Sabse Ajib Garib Hai Aur Jo Ki Pichle Aur Sthar Se Aate Hain Pichali Community Se Aate Hain Unhin Aarakshan Milna Chahiye Ki Abhi Ki Hum Baat Karen To Accha Likha Nahi Gaya Ki Chhokri Bhejo Ki Bahut Hi Garib Hai Jabki Do Time Ka Khana Bhi Aap Phone Nahi Kar Sakte Hain Unhen Reservation Nahi Mil Raha Hai Aur Iske Delhi Mein Jo Ki Amir Log Hain Aur Sirf Unki Icha Se Jo Hai Wah Thodi Nichi Hai Iske Liye Unhone Sabse Accha Nahi Hona Chahiye Aarakshan Bharat Mein Avashyakta Hai Kyonki Jis Prakar Se Bharat Ki Aabadi Hai To Har Koi Amir Nahi Hota Hai Aur Jo Log Bhi Karib Hai Ya Phir Jo Log Bhi Bahut Hi Garib Darshate Bahut Garib Parivar Se Aate Unke Liye Hi Aarakshan Hona Chahiye Aur Aarakshan Ke Jo Policy Jo Bhi Bharat Mein Filhal Chal Rahi Hai Usamen Kai Sare Amendment Se Phir Hum Keh Sakte Hain Aur Changes Badlav Lane Padenge Acche Badlav Lane Padenge
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Ko Abhi Bhi Aarakshan Ki Avashyakta Hai, Does India Still Need Reservation? , आरक्षण की आवश्यकता

vokalandroid