देश में मुसलमानों की बढ़ती आबादी चिंता का विषय है? ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
बढ़ती हुई आबादी चाहे किसी भी धर्म की हो वह चिंता का विषय जरूर है मुसलमानों की भी और हिंदुओं की लेकिन ऐसा कि जो रीसेंट जो स्टेटिस्टिक्स अभी दो-तीन दिन पहले मैंने पढ़ाई पेपर में उसके हिसाब से दोनों की जो आबादी में जो क्रोध है दोनों में गिरावट आई है हालांकि यह बात सही है कि मुसलमानों की जो आबादी की तरफ बढ़ने की तरह भी हिंदुओं से ज्यादा है लेकिन अगर आप 10 साल 15 साल पहले जो हिंदुओं की आबादी की जड़ जो दर्द दिया जो मुसलमानों की हो गई है और मुसलमानों की आबादी धरती जो है लगातार नीचे जा रही है और यह भी हकीकत है कि जो आबादी बढ़ने का एक बहुत बड़ा जो कारण होता है वह पॉपुलेशन मैं आपके स्टेटस में आते हैं जो गरीब लोग होते हैं वह जल्दी कर ज्यादा बच्चे होते हैं क्योंकि जो वह उनको ऐसा सिक्योरिटी देखते हैं और दूसरी बात यह है कि उनके बच्चों को चुकी मेडिकल केयर नहीं होता तो अक्सर वह मर जाते हैं और इस वजह से भी हो बच्चे पैदा करना चाहते हैं लेकिन जैसे-जैसे इकोनॉमिक्स स्टेटस आदमी का इंप्रूव होता है वैसे ही वह बाबा जी धीरे धीरे करके उनकी कम होने लगती है और दूसरी बात यह होता है कि जब पढ़ाई होती है और एजुकेटेड महिलाएं होती हैं खासतौर से तो डेफिनेटली जो है वह जो पॉपुलेशन की ग्रोथ रेट कम हो जाती है क्योंकि लेट शादियां होती है और शादी होने के बाद में बच्चे भी ज्यादा नहीं बदलते हम तो मुसलमानों की जो एक समस्या में समास का एक बहुत बड़ा कारण है उनकी जो आज आधी आबादी तेजी से बढ़ रही है कि उनकी एजुकेशन लेवल भी काफी पीछे है और अगर उसमें धीरे धीरे करके इंप्रूवमेंट होगा तो मैं समझता हूं कि उनकी आवादी कदर भी उसी लेवल पहुंच जाएगा जितना हिंदुओं का हैBadhti Hui Aabadi Chahe Kisi Bhi Dharm Ki Ho Wah Chinta Ka Vishay Jarur Hai Musalmano Ki Bhi Aur Hinduon Ki Lekin Aisa Ki Jo Recent Jo Statistics Abhi Do Teen Din Pehle Maine Padhai Paper Mein Uske Hisab Se Dono Ki Jo Aabadi Mein Jo Krodh Hai Dono Mein Giravat Eye Hai Halanki Yeh Baat Sahi Hai Ki Musalmano Ki Jo Aabadi Ki Taraf Badhne Ki Tarah Bhi Hinduon Se Jyada Hai Lekin Agar Aap 10 Saal 15 Saal Pehle Jo Hinduon Ki Aabadi Ki Jad Jo Dard Diya Jo Musalmano Ki Ho Gayi Hai Aur Musalmano Ki Aabadi Dharti Jo Hai Lagatar Neeche Ja Rahi Hai Aur Yeh Bhi Haqiqat Hai Ki Jo Aabadi Badhne Ka Ek Bahut Bada Jo Kaaran Hota Hai Wah Population Main Aapke Status Mein Aate Hain Jo Garib Log Hote Hain Wah Jaldi Kar Jyada Bacche Hote Hain Kyonki Jo Wah Unko Aisa Security Dekhte Hain Aur Dusri Baat Yeh Hai Ki Unke Bacchon Ko Chuki Medical Care Nahi Hota To Aksar Wah Mar Jaate Hain Aur Is Wajah Se Bhi Ho Bacche Paida Karna Chahte Hain Lekin Jaise Jaise Economics Status Aadmi Ka Improve Hota Hai Waise Hi Wah Baba Ji Dhire Dhire Karke Unki Kum Hone Lagti Hai Aur Dusri Baat Yeh Hota Hai Ki Jab Padhai Hoti Hai Aur Educated Mahilaye Hoti Hain Khaastaur Se To Definetli Jo Hai Wah Jo Population Ki Growth Rate Kum Ho Jati Hai Kyonki Let Shadiyan Hoti Hai Aur Shadi Hone Ke Baad Mein Bacche Bhi Jyada Nahi Badalte Hum To Musalmano Ki Jo Ek Samasya Mein Samaas Ka Ek Bahut Bada Kaaran Hai Unki Jo Aaj Aadhi Aabadi Teji Se Badh Rahi Hai Ki Unki Education Level Bhi Kafi Piche Hai Aur Agar Usamen Dhire Dhire Karke Improvement Hoga To Main Samajhata Hoon Ki Unki Aavadi Kadar Bhi Ussi Level Pahunch Jayega Jitna Hinduon Ka Hai
Likes  12  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
अरुण, सबसे पहले तो मैं यह कहना चाहूंगी कि ऐसा कोई इंडेक्स निकला नहीं है जिसे जो दिखा सके कि हमारे देश में मुसलमानों की जनसंख्या है जो बढ़ गई है या यह चिंता का विषय है l अगर भी चिंता का विषय है मेरे हिसाब से सरकार जो है मेजर डिसीजंस बनाएगी कि क्यों यह चिंता का विषय है l वैसे भी हमारा जो देश है और डाइवर्सिटी के लिए माना गया है l और मैंने हिसाब से सरकार उसको वेल बैलेंस करती है l हर जो है इस देश में जो सारे रिलीजन्स चाहे वह हिंदू हो, सीख हो, इसाई हो, मुसलमान हो l तो अगर भी कोई भी चिंता का विषय है मेरे हिसाब से सरकार डिसाइड करेगी कि क्या है और उस पर आएंगे रिसर्च बिठाएंगे, एस ऑफ़ नाउ ऐसा कोई इंडेक्स निकला नहीं है कि वह दिखा सके मुसलमानों की संख्या बढ़ गई और वह एक चिंता का विषय है lArun Sabse Pehle To Main Yeh Kehna Chahungi Ki Aisa Koi Index Nikla Nahi Hai Jise Jo Dikha Sake Ki Hamare Desh Mein Musalmano Ki Jansankhya Hai Jo Badh Gayi Hai Ya Yeh Chinta Ka Vishay Hai L Agar Bhi Chinta Ka Vishay Hai Mere Hisab Se Sarkar Jo Hai Major Disijans Banaegi Ki Kyun Yeh Chinta Ka Vishay Hai L Waise Bhi Hamara Jo Desh Hai Aur Diversity Ke Liye Mana Gaya Hai L Aur Maine Hisab Se Sarkar Usko Well Balance Karti Hai L Har Jo Hai Is Desh Mein Jo Sare Rilijans Chahe Wah Hindu Ho Seekh Ho Isai Ho Musalman Ho L To Agar Bhi Koi Bhi Chinta Ka Vishay Hai Mere Hisab Se Sarkar Decide Karegi Ki Kya Hai Aur Us Par Aayenge Research Bithaenge S Of Now Aisa Koi Index Nikla Nahi Hai Ki Wah Dikha Sake Musalmano Ki Sankhya Badh Gayi Aur Wah Ek Chinta Ka Vishay Hai L
Likes  12  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
राधे कि मैं नहीं समझता कि देश में अगर मुसलमानों की जो तादाद है वह बढ़ रही है जो आबादी वाला चाहिए तो यह ज्यादा चिंता यह सब चीजों को ज्यादा सीरियस नहीं लेना चाहिए क्योंकि इंडिया जो है वह हिंदू नॉमिनेटेड कंट्री है उस में मुस्लिमों की तादाद जो है वह 140 गया 150 यह सब चीजों पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए कि उनकी जो पॉपुलेशन है और ज्यादा हो रही है हिंदुओं का कंपटीशन में हिंदुओं के ज्यादा और यह उनके कंपैरिजन में मेरे को लगता है कि हम सब हम सब को जो है वह आपस में मिल बांटकर खुशी से कंधे से कंधा मिलाकर रहना चाहिए और हमको जो है अपने देश के विकास में समय जो है व्यतीत करना चाहिए ना कि यह सब देखने में क्यों उनके दो बच्चे को ज्यादा पैदा हो रहे हमारे काम और है तो वह लोग इंडिया को 2 मिनट कर देंगे एक दिन तो यह सब फालतू चीजों पर मिलता है कि कोई इंपॉर्टेंट देने की जरूरत हैRadhe Ki Main Nahi Samajhata Ki Desh Mein Agar Musalmano Ki Jo Tadad Hai Wah Badh Rahi Hai Jo Aabadi Wala Chahiye To Yeh Jyada Chinta Yeh Sab Chijon Ko Jyada Serious Nahi Lena Chahiye Kyonki India Jo Hai Wah Hindu Nominated Country Hai Us Mein Muslimo Ki Tadad Jo Hai Wah 140 Gaya 150 Yeh Sab Chijon Par Jyada Dhyan Nahi Dena Chahiye Ki Unki Jo Population Hai Aur Jyada Ho Rahi Hai Hinduon Ka Competition Mein Hinduon Ke Jyada Aur Yeh Unke Kampairijan Mein Mere Ko Lagta Hai Ki Hum Sab Hum Sab Ko Jo Hai Wah Aapas Mein Mil Bantakar Khushi Se Kandhe Se Kandha Milakar Rehna Chahiye Aur Hamko Jo Hai Apne Desh Ke Vikash Mein Samay Jo Hai Vyatit Karna Chahiye Na Ki Yeh Sab Dekhne Mein Kyun Unke Do Bacche Ko Jyada Paida Ho Rahe Hamare Kaam Aur Hai To Wah Log India Ko 2 Minute Kar Denge Ek Din To Yeh Sab Faltu Chijon Par Milta Hai Ki Koi Important Dene Ki Zaroorat Hai
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Desh Mein Musalmano Ki Badhti Aabadi Chinta Ka Vishay Hai





मन में है सवाल?