क्या महात्मा गांधी हमारे स्वतंत्रता संग्राम सफल होने का असली कारण थे? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं इस बात को पूरी तरीके से मानता हूं कि हमारे स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का सबसे बड़ा अगर दारोमदार किसी के ऊपर था तो वोह गांधीजी के ऊपर था l गांधीजी ही वह शख्सियत थे जिन्होंने कि देश के सा...जवाब पढ़िये
जी हां मैं इस बात को पूरी तरीके से मानता हूं कि हमारे स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का सबसे बड़ा अगर दारोमदार किसी के ऊपर था तो वोह गांधीजी के ऊपर था l गांधीजी ही वह शख्सियत थे जिन्होंने कि देश के सारे लोगों को नार्थ, ईस्ट, वेस्ट, साउथ सब जगह के लोगों को जोड़ा, हर विचारधारा के लोगों को जोड़ा, गरीब से अमीर लोगों को जोड़ा और एक देश बनाया और अंग्रेजो के खिलाफ में आंदोलन शुरु किया l तो किसी भी राजनेता को अगर क्रेडिट मिलना चाहिए हमारी आजादी का तो उसमें गांधीजी से ज्यादा क्रेडिट किसी को नहीं मिलना चाहिए l किसी भी अन्य नेता जो है उसको गांधीजी के मुकाबले में बहुत ही छोटा कथा और वह गांधीजी की बदौलत थी वह किसी भी मुकाम पर वह पहुंचे थे l और गांधी जी ने जो रोले प्ले किया उसके लिए हमें हमेशा उनका धन्यवाद करना चाहिए और उनके बिना मैं नहीं समझता कि हम आजादी की जंग लड़ सकते थे lG Haan Main Is Baat Ko Puri Tarike Se Manata Hoon Ki Hamare Svatantrata Sangram Ke Safal Hone Ka Sabse Bada Agar Daromdar Kisi Ke Upar Tha To Wooh Gandhiji Ke Upar Tha L Gandhiji Hi Wah Shakhisayat The Jinhone Ki Desh Ke Sare Logon Ko Naarth East West South Sab Jagah Ke Logon Ko Joda Har Vichardhara Ke Logon Ko Joda Garib Se Amir Logon Ko Joda Aur Ek Desh Banaya Aur Angrejo Ke Khilaf Mein Aandolan Shuru Kiya L To Kisi Bhi Raajneta Ko Agar Credit Milna Chahiye Hamari Azadi Ka To Usamen Gandhiji Se Zyada Credit Kisi Ko Nahi Milna Chahiye L Kisi Bhi Anya Neta Jo Hai Usko Gandhiji Ke Muqable Mein Bahut Hi Chota Katha Aur Wah Gandhiji Ki Badaulat Thi Wah Kisi Bhi Mukam Par Wah Pahuche The L Aur Gandhi G Ne Jo Rolo Play Kiya Uske Liye Hume Hamesha Unka Dhanyavad Karna Chahiye Aur Unke Bina Main Nahi Samajhata Ki Hum Azadi Ki Jung Lad Sakte The L
Likes  29  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं यह तो नहीं कहूंगा कि असली कारण नकली कारण और कोई भी राष्ट्र एक व्यक्ति से तो बना नहीं होता है और मैं शायद यह भी नहीं कहूंगा कि अगर गांधीजी नहीं होते तो हिंदुस्तान कभी आजाद नहीं होता शायद आजाद...जवाब पढ़िये
देखिए मैं यह तो नहीं कहूंगा कि असली कारण नकली कारण और कोई भी राष्ट्र एक व्यक्ति से तो बना नहीं होता है और मैं शायद यह भी नहीं कहूंगा कि अगर गांधीजी नहीं होते तो हिंदुस्तान कभी आजाद नहीं होता शायद आजाद तो होता लेकिन पूरे स्वतंत्रता संग्राम में भारत की आजादी की लड़ाई में अगर सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति को ही था और केवल आजादी की लड़ाई में ही नहीं है देश को जो सामाजिक कुरीतियों से आगे लाने में जिन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया अगर गांधीजी के लास्ट के 20 साल का आप काम देखें तो उन्होंने देश में पॉलिटिकल इंडिपेंडेंस करें जितना काम किया है उससे ज्यादा काम उन्होंने सोशल इंडिपेंडेंस सामाजिक आजादी के लिए किया है कि हमारा समाज जिस तरीके से दबा हुआ था जिस तरीके से जातियों में जिस तरीके से धर्म में बटा हुआ था नीचे तबके के लोगों को दबाया जाता था हर चीज में उसके खिलाफ उन्होंने जो संघर्ष किया है वह उनकी महानता है आप गांधी जी आज के टाइम में गांधी जी पर बहुत सारे प्रश्न करने लगे हैं और वह लोग प्रश्न कर रहे हैं जिनका राजनीति में जिनका भारत के इतिहास में कहीं से कहीं तक कुछ खास योगदान नहीं है और वह यह कहने की कोशिश करते हैं कि सारे इतिहासकार झूठे थे जैसे कि यह लोग जो आज बोल रहे हैं यही एक सच्चे थे और सारी इतिहासकारों को क्या गांधीजी ने खरीद लिया था गांधी जी कौन थे वह गांधीजी राजनेता थे आम आदमी के नेता थे वह न तो कोई अंग्रेजों के पद पर बैठे हुए थे क्यों नहीं इतिहासकारों को खरीद लिया था और ना उन्होंने कभी कोई पद आजादी के बाद भी लिया वह ज्यादा टाइम जिंदा भी नहीं रह पाए तो गांधीजी की जो इतनी इज्जत इतना सम्मान और इतना नाम दुनिया में है देश में ही नहीं दुनिया में है वह उनके विचार उनके काम और उनकी वह एबिलिटी की वजह से है जो उन्होंने किया वह आजादी के लिए सबसे बड़े नेता निरंतDekhie Main Yeh To Nahi Kahunga Ki Asli Kaaran Nakli Kaaran Aur Koi Bhi Rashtra Ek Vyakti Se To Bana Nahi Hota Hai Aur Main Shayad Yeh Bhi Nahi Kahunga Ki Agar Gandhiji Nahi Hote To Hindustan Kabhi Azad Nahi Hota Shayad Azad To Hota Lekin Poore Svatantrata Sangram Mein Bharat Ki Azadi Ki Ladai Mein Agar Sabse Mahatvapurna Vyakti Ko Hi Tha Aur Kewal Azadi Ki Ladai Mein Hi Nahi Hai Desh Ko Jo Samajik Kuritiyon Se Aage Lane Mein Jinhone Mahatvapurna Yogdan Diya Agar Gandhiji Ke Last Ke 20 Saal Ka Aap Kaam Dekhen To Unhone Desh Mein Political Independence Karen Jitna Kaam Kiya Hai Usse Zyada Kaam Unhone Social Independence Samajik Azadi Ke Liye Kiya Hai Ki Hamara Samaaj Jis Tarike Se Daba Hua Tha Jis Tarike Se Jaatiyo Mein Jis Tarike Se Dharm Mein Bata Hua Tha Neeche Tabke Ke Logon Ko Dabaya Jata Tha Har Cheez Mein Uske Khilaf Unhone Jo Sangharsh Kiya Hai Wah Unki Mahanata Hai Aap Gandhi G Aaj Ke Time Mein Gandhi G Par Bahut Sare Prashna Karne Lage Hain Aur Wah Log Prashna Kar Rahe Hain Jinka Rajneeti Mein Jinka Bharat Ke Itihas Mein Kahin Se Kahin Tak Kuch Khas Yogdan Nahi Hai Aur Wah Yeh Kehne Ki Koshish Karte Hain Ki Sare Itihaaskar Jhuthe The Jaise Ki Yeh Log Jo Aaj Bol Rahe Hain Yahi Ek Sacche The Aur Saree Itihasakaron Ko Kya Gandhiji Ne Kharid Liya Tha Gandhi G Kaon The Wah Gandhiji Raajneta The Aam Aadmi Ke Neta The Wah N To Koi Angrejo Ke Pad Par Baithey Huye The Kyon Nahi Itihasakaron Ko Kharid Liya Tha Aur Na Unhone Kabhi Koi Pad Azadi Ke Baad Bhi Liya Wah Zyada Time Zinda Bhi Nahi Rah Paye To Gandhiji Ki Jo Itni Izzat Itna Samman Aur Itna Naam Duniya Mein Hai Desh Mein Hi Nahi Duniya Mein Hai Wah Unke Vichar Unke Kaam Aur Unki Wah Ability Ki Wajah Se Hai Jo Unhone Kiya Wah Azadi Ke Liye Sabse Bade Neta Nirant
Likes  17  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधी जी की आपने बात की हम उसको इग्नोर नहीं कर सकते लेकिन देश की आजादी में जो जाग जो बताना हमारे शहीदों ने पाया अंग्रेजों की सिर्फ गांधीजी के चरखा चलाने के लिए बकरी का दूध पानी से जाती है कि हमारे को ...जवाब पढ़िये
गांधी जी की आपने बात की हम उसको इग्नोर नहीं कर सकते लेकिन देश की आजादी में जो जाग जो बताना हमारे शहीदों ने पाया अंग्रेजों की सिर्फ गांधीजी के चरखा चलाने के लिए बकरी का दूध पानी से जाती है कि हमारे को जब हमारे अंकल आदि लोगों ने भगत सिंह राजगुरु व सुखदेव हुआ करता हुआ फिर हमारे विज्ञानिक बना देगी गोरी मारी सिरका इंग्लैंड में लड़की को जो मिलता है उसको थोड़ा समझ कर दो शादी गांधी जी की उनसे कुरबानी से हमारी कोई भी मिली है गांधी का रोल भी ठीक कर देखे बगैर मर जाती
Likes  72  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधी जी ने मुल्तान में धीरे कर कि देश के बारे में बहुत अच्छा सोचा भूतिया स्थान...जवाब पढ़िये
गांधी जी ने मुल्तान में धीरे कर कि देश के बारे में बहुत अच्छा सोचा भूतिया स्थान
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वसंत भाग 1 संग्राम साहिब युद्ध और उसमें कितने लोग हमारे पार्टी में चले गए क्या हुआ भविष्य को देखिए गांधी जी का फोन उठा और बहुत ही इसमें आप नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन से गुजरात में बारिश गांधी...जवाब पढ़िये
वसंत भाग 1 संग्राम साहिब युद्ध और उसमें कितने लोग हमारे पार्टी में चले गए क्या हुआ भविष्य को देखिए गांधी जी का फोन उठा और बहुत ही इसमें आप नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन से गुजरात में बारिश गांधी
Likes  17  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वतंत्रता संग्राम सफल होने का असली कारण सिर्फ गांधी जी नहीं गांधी जी के साथ अन्य नेता थी वह भी थी जिसमें से एक बहुत बड़ा चेहरा सामने आता है उनका नाम था और नेताजी सुभाष चंद्र बोस नेताजी सुभाष चंद्र बो...जवाब पढ़िये
स्वतंत्रता संग्राम सफल होने का असली कारण सिर्फ गांधी जी नहीं गांधी जी के साथ अन्य नेता थी वह भी थी जिसमें से एक बहुत बड़ा चेहरा सामने आता है उनका नाम था और नेताजी सुभाष चंद्र बोस नेताजी सुभाष चंद्र बोस हो गए थे जहां दिन का मानना था कि हिंसा के थ्रू अंग्रेजों की अंग्रेजों किस को हटाने के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने ही हिटलर से जाकर उनकी सहायता मांगी थी एंड तक यू अंग्रेजों को भारत से जड़ से निकाल पाए तो सिर्फ इसमें गांधी जी को मैं स्वतंत्रा संग्राम का क्रेडिट देना चाहूंगा मैं उन्हें लोगों को देना चाहूंगा जिन्होंने स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ी स्वतंत्रता के लिए भारत भारत में कई तरीके के कई तरीके की आंदोलन की कितने लोगों ने अपनी जाने का भाई हर्ष सैनिक का हर उस बलिदान को मैं धन्यवाद देना चाहूंगा सलाम करना चाहूंगा जिन्होंने भारत के स्वतंत्र जिला में इतने बड़े मदद किस देश में सिम लेना बहुत गलत हो जाएगा क्योंकि इससे बहुत लोग जुड़े थे बहुत लोगों की सपोर्ट नहीं एकजुट होकर सपोर्ट ने हमें स्वतंत्रता दिलाई से कर आजा स्वतंत्र देशों की तरक्की की राह पर है तो 1 नाम बहुत गलत हो जाएगा स्वतंत्रा के पीछे से एक या दो नाम नहीं बल्कि वह हजारों लोग थे जिन्होंने अपनी जान की परवाह किए बगैर रोड पर उतरे अंग्रेजों के नाक में दम कर दिए और अंग्रेजों का भारत छोड़ना पड़ा इसी के साथ मैं उन सबको धन्यवाद देता हूं जय हिंदSvatantrata Sangram Safal Hone Ka Asli Kaaran Sirf Gandhi G Nahi Gandhi G Ke Saath Anya Neta Thi Wah Bhi Thi Jisme Se Ek Bahut Bada Chehra Samane Aata Hai Unka Naam Tha Aur Netaji Subhash Chandra Bose Netaji Subhash Chandra Bose Ho Gaye The Jahan Din Ka Manana Tha Ki Hinsa Ke Through Angrejo Ki Angrejo Kis Ko Hatane Ke Liye Netaji Subhash Chandra Bose Ne Hi Hitler Se Jaakar Unki Sahaayata Maangi Thi End Tak You Angrejo Ko Bharat Se Jad Se Nikal Paye To Sirf Isme Gandhi G Ko Main Swatantrata Sangram Ka Credit Dena Chahunga Main Unhen Logon Ko Dena Chahunga Jinhone Svatantrata Ki Ladai Ladi Svatantrata Ke Liye Bharat Bharat Mein Kai Tarike Ke Kai Tarike Ki Aandolan Ki Kitne Logon Ne Apni Jaane Ka Bhai Harsh Sainik Ka Har Us Balidaan Ko Main Dhanyavad Dena Chahunga Salaam Karna Chahunga Jinhone Bharat Ke Swatantra Jila Mein Itne Bade Madad Kis Desh Mein Sim Lena Bahut Galat Ho Jayega Kyonki Isse Bahut Log Jude The Bahut Logon Ki Support Nahi Ekjoot Hokar Support Ne Hume Svatantrata Dilai Se Kar Aaja Swatantra Deshon Ki Tarakki Ki Raah Par Hai To 1 Naam Bahut Galat Ho Jayega Swatantrata Ke Piche Se Ek Ya Do Naam Nahi Balki Wah Hajaron Log The Jinhone Apni Jaan Ki Parvaah Kiye Bagair Road Par Utare Angrejo Ke Nak Mein Dum Kar Diye Aur Angrejo Ka Bharat Chodna Pada Isi Ke Saath Main Un Sabko Dhanyavad Deta Hoon Jai Hind
Likes  73  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

20 जून का सिस्टम है जो हम लोगों ने देख पड़ा है अकेले बगैर क्रांति के आजादी मिली...जवाब पढ़िये
20 जून का सिस्टम है जो हम लोगों ने देख पड़ा है अकेले बगैर क्रांति के आजादी मिली
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मंगल पांडे के बाद उन्होंने ही शुरुआत करी थी मंगल पांडे तो एक जरिया था मंगल पांडे मंगल पांडे नहीं होता तो सुनता ही नहीं पहले तो हम तेरे मंगल पांडे को दे देना चाहते हैं...जवाब पढ़िये
मंगल पांडे के बाद उन्होंने ही शुरुआत करी थी मंगल पांडे तो एक जरिया था मंगल पांडे मंगल पांडे नहीं होता तो सुनता ही नहीं पहले तो हम तेरे मंगल पांडे को दे देना चाहते हैं
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं इस बात से सहमत हूं कि गांधीजी स्वतंत्रता संग्राम में सफल होने के लिए उन्होंने बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया लेकिन असली कारण स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का केवल भारतीय एक भारतीय राजनेता ...जवाब पढ़िये
जी हां मैं इस बात से सहमत हूं कि गांधीजी स्वतंत्रता संग्राम में सफल होने के लिए उन्होंने बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया लेकिन असली कारण स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का केवल भारतीय एक भारतीय राजनेता नहीं जबकि मॉडरेट एक्सट्रीमिस्ट के रोल को हमें बिल्कुल नहीं भूलना चाहिए और साथ में रिवॉल्यूशन ए टेरेरिस्ट के बारे में हमें बिल्कुल याद दिला चाहिए कि जब तक मोटरसाइकिल पिक्स एंड प्रैक्टिस की राजनीति करते रहे उसके एक्सट्रीमिस्ट है उन्होंने कहा कभी पहले डिमांड करेंगे उसके बाद नहीं मानेंगे तो हम धरना देंगे ठीक है उसके बाद तीसरी विचारधारा ई पोथी रिवॉल्यूशन रिवॉल्यूशन ही टेरेस्ट जिनको हमने बोला टेरेरिस्ट क्रांतिकारी आंदोलन जिसको बोल सकते हैं उन लोगों की विचारधारा के तहत उन लोगों ने अगर कोई मांग रहा है मांग नहीं देते हैं तो वही उनको सीधी गोली मार दो ठीक है इन तीनों विचारधाराओं में अंग्रेजी तबके में जो भारतीय रह रहा था एक डर फैला हुआ था तो उसके बाद चौथी विचारधारा थी गांधी गांधियन विचारधारा ज्योर्थी उसके अंतर्गत मुख्य रूप से जो कार्य था वह यह था कि अहिंसा एवं शांति के साथ किसी की चीज की डिमांड करो अगर हम इस चीज का पूरा क्रेडिट गांधी जी को दे देंगे तो आप खुश सोचेगा कि कोई व्यक्ति मांगने पर अगर कोई किसी से मांग रहा है तो क्या मांगने पर आसानी से कुछ चीज मिल जब आसानी से कोई चीज मांगे मिल नहीं सकती तो यह तो आजादी थी स्वतंत्र संग्राम था यह मांगने पर कैसे मिल सकता था तो इसके लिए जो मैंने योगदान दे सकते हैं उसमें चारों से जिसको जाता है मोटर एक्स एक्स इमेज ट्रिपल सी टेस्ट गांधियन लेकिन गांधियन छोरी ने एक बड़ा मांस मूवमेंट इकट्ठा किया इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन उस मास मूवमेंट के खट्टा होने के लिए जो प्लेटफार्म तैयार किया था एक्स मिस्टर रिवॉल्यूशनरी टेरेस्ट ने खट्टा किया था क्योंकि अब बोलो इसमें क्रांति में आ चुके थे या फिर आंदोलन में आ चुके तो वही पूरा का पूरा गांधीजी समेट ले गए और गांधीजी जनता के द्वारा क्या संवाद हुआ अंग्रेजों का संवाद इसबगोल
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए स्वतंत्रता सिर्फ एक व्यक्ति की वजह से नहीं बल्कि उन हर व्यक्ति की वजह से हमें मिल पाई जिन्होंने अपना बलिदान दिया l बहुत लोग हैं जो इस आजादी के लिए लड़ते-लड़ते मर मिटे उनका नाम कहीं नहीं लिया जात...जवाब पढ़िये
देखिए स्वतंत्रता सिर्फ एक व्यक्ति की वजह से नहीं बल्कि उन हर व्यक्ति की वजह से हमें मिल पाई जिन्होंने अपना बलिदान दिया l बहुत लोग हैं जो इस आजादी के लिए लड़ते-लड़ते मर मिटे उनका नाम कहीं नहीं लिया जाता पर असल में देखा जाए तो सबसे ज्यादा बलिदान उन्हीं लोगों का है आज़ादी के लिए l यह नहीं कह रही कि महात्मा गांधी जी ने कुछ नहीं किया, उनका बहुत बड़ा हाथ रहा है आजादी दिलवाने में भारत को परंतु सिर्फ उनका हाथ नहीं रहा l बहुत सारे हाथों ने मिलकर इस भारत को आजाद करवाया l भले ही हम हर उस व्यक्ति को नहीं जानते, हर उस हाथ को नहीं पहचानते जिसने आजादी को दिलवाया l पर कुछ लोगों को जानते हैं और जिनको नहीं भी जानते पर अकेले एक ही इंसान को सारा श्रेय ना दिया जाए बल्कि हर उस इंसान को उसके हक का श्रेय दिया जाए जिसने भारत को आजाद करवाया स्वराज का सपना पूरा करवाया lDekhie Svatantrata Sirf Ek Vyakti Ki Wajah Se Nahi Balki Un Har Vyakti Ki Wajah Se Hume Mil Payi Jinhone Apna Balidaan Diya L Bahut Log Hain Jo Is Azadi Ke Liye Ladtey Ladtey Mar Mite Unka Naam Kahin Nahi Liya Jata Par Asal Mein Dekha Jaye To Sabse Zyada Balidaan Unhin Logon Ka Hai Aazadi Ke Liye L Yeh Nahi Keh Rahi Ki Mahatma Gandhi G Ne Kuch Nahi Kiya Unka Bahut Bada Hath Raha Hai Azadi Dilwane Mein Bharat Ko Parantu Sirf Unka Hath Nahi Raha L Bahut Sare Hathon Ne Milkar Is Bharat Ko Azad Karvaya L Bhale Hi Hum Har Us Vyakti Ko Nahi Jante Har Us Hath Ko Nahi Pehchante Jisne Azadi Ko Dilwaya L Par Kuch Logon Ko Jante Hain Aur Jinako Nahi Bhi Jante Par Akele Ek Hi Insaan Ko Saara Shrey Na Diya Jaye Balki Har Us Insaan Ko Uske Haq Ka Shrey Diya Jaye Jisne Bharat Ko Azad Karvaya Swaraj Ka Sapna Pura Karvaya L
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात बिल्कुल सही है कि महात्मा गांधी के वजह से ही भारत आजाद हो पाया और आजादी के सबसे मेन जो लीडर थे, जो हीरो थे वह महात्मा गांधी ही थे l क्योंकि जब महात्मा गांधी 1915 में भारत पहुंचे तब उन्होंने देख...जवाब पढ़िये
यह बात बिल्कुल सही है कि महात्मा गांधी के वजह से ही भारत आजाद हो पाया और आजादी के सबसे मेन जो लीडर थे, जो हीरो थे वह महात्मा गांधी ही थे l क्योंकि जब महात्मा गांधी 1915 में भारत पहुंचे तब उन्होंने देखा कि आजादी की बात बस कुछ भारतीय ही कर रहे थे जो खास तौर पर अमीर थे l लेकिन जो छोटे शहरों और गांवों के आम लोग थे वह इस चीजों से काफी दूर थे l तो महात्मा गांधी ने पूरे देश का दौरा किया और उन्होंने किसानों की कुछ स्थानीय मुद्दों में शामिल होना शुरू कर दिया l 1921 में उन्हें कांग्रेस में कार्यकारी शक्तियां मिल गई और इसके तुरंत बाद उन्होंने एक ऐसा ग्रुप बनाया जिसमें आम लोग सम्मिलित हो सके या ताकि सारे लोगों को साथ लेकर चला जाए l उन्होंने 1921 में ही असहयोग आंदोलन शुरु किया और फिर 1930 में गांधी जी ने ही सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरु किया जिसे हम दांडी मार्च के तौर पर जानते हैं l और कांग्रेस की उस समय के अध्यक्ष जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में पूर्ण स्वतंत्रता की मांग की तो इसे पूरे देश में एक विशाल जन आंदोलन शुरू हो गया था जिसमें कि 100000 लोगों ने गिरफ्तारी देने के लिए पुलिस के सामने आ गए थे और 1942 में गांधीजी ने भारत छोड़ो आंदोलन शुरु किया l तो हमको यह सारी चीजें दिखाई दे रही है इनसे कि महात्मा गांधी ने कितने प्रयास किए वह कई वर्षों तक जेल में रहे l तो यह चीज हमें याद रखनी चाहिए कि गांधी जी यह सब हासिल करने में उस समय कामयाब हुए थे जब यह मीडिया वगैरह कुछ भी उतना और ज्यादा नहीं था l अधिकांश भारतीय जो थे वह अनपढ़ थे और ग्रामीण भारत में ही रहते थे l तो महात्मा गांधी के इन सारी चीजों को हम कभी भी भुला नहीं सकते हैं और किसी भी व्यक्ति को महात्मा गांधी के बारे में कभी भी कुछ भी गलत सोचना तक नहीं चाहिए क्योंकि उनकी वजह से ही आज हम भारत में सांस ले पा रहे हैं जो कि एक आजाद मुल्क है lYeh Baat Bilkul Sahi Hai Ki Mahatma Gandhi Ke Wajah Se Hi Bharat Azad Ho Paya Aur Azadi Ke Sabse Main Jo Leader The Jo Hero The Wah Mahatma Gandhi Hi The L Kyonki Jab Mahatma Gandhi 1915 Mein Bharat Pahuche Tab Unhone Dekha Ki Azadi Ki Baat Bus Kuch Bharatiya Hi Kar Rahe The Jo Khas Taur Par Amir The L Lekin Jo Chote Shaharon Aur Gawon Ke Aam Log The Wah Is Chijon Se Kafi Dur The L To Mahatma Gandhi Ne Poore Desh Ka Daura Kiya Aur Unhone Kisano Ki Kuch Sthaniye Muddon Mein Shaamil Hona Shuru Kar Diya L 1921 Mein Unhen Congress Mein Kaaryakari Shaktiya Mil Gayi Aur Iske Turant Baad Unhone Ek Aisa Group Banaya Jisme Aam Log Smmilit Ho Sake Ya Taki Sare Logon Ko Saath Lekar Chala Jaye L Unhone 1921 Mein Hi Asahayog Aandolan Shuru Kiya Aur Phir 1930 Mein Gandhi G Ne Hi Savinay Awagya Aandolan Shuru Kiya Jise Hum Daandi March Ke Taur Par Jante Hain L Aur Congress Ki Us Samay Ke Adhyaksh Jawaharlal Nehru Ke Netritva Mein Poorn Svatantrata Ki Maang Ki To Ise Poore Desh Mein Ek Vishal Jan Aandolan Shuru Ho Gaya Tha Jisme Ki 100000 Logon Ne Giraftari Dene Ke Liye Police Ke Samane Aa Gaye The Aur 1942 Mein Gandhiji Ne Bharat Chhodo Aandolan Shuru Kiya L To Hamko Yeh Saree Cheezen Dikhai De Rahi Hai Inse Ki Mahatma Gandhi Ne Kitne Prayas Kiye Wah Kai Varshon Tak Jail Mein Rahe L To Yeh Cheez Hume Yaad Rakhni Chahiye Ki Gandhi G Yeh Sab Hasil Karne Mein Us Samay Kamyab Huye The Jab Yeh Media Vagairah Kuch Bhi Utana Aur Zyada Nahi Tha L Adhikaansh Bharatiya Jo The Wah Anapadh The Aur Gramin Bharat Mein Hi Rehte The L To Mahatma Gandhi Ke In Saree Chijon Ko Hum Kabhi Bhi Bhula Nahi Sakte Hain Aur Kisi Bhi Vyakti Ko Mahatma Gandhi Ke Bare Mein Kabhi Bhi Kuch Bhi Galat Sochna Tak Nahi Chahiye Kyonki Unki Wajah Se Hi Aaj Hum Bharat Mein Saans Le Pa Rahe Hain Jo Ki Ek Azad Mulk Hai L
Likes  24  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी मेरी सोच है आपकी सोच बहुत मिलती है कि गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम सफल होने के असली कारण थे ऐसा इसलिए है क्योंकि स्वतंत्रता पाने के लिए काफी तरीके थे l अहिंसा-हिंसा यह दोनों तरीके रखे गए थ...जवाब पढ़िये
हां जी मेरी सोच है आपकी सोच बहुत मिलती है कि गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम सफल होने के असली कारण थे ऐसा इसलिए है क्योंकि स्वतंत्रता पाने के लिए काफी तरीके थे l अहिंसा-हिंसा यह दोनों तरीके रखे गए थे l कुछ लोग हिंसा को बहुत ज्यादा मान रहे थे जैसे कि हम बोले सुभाष चंद्र बोस जी और भी ऐसे ही काफी लीडर्स है जो हिंसा की तरफ जा रहे थे l इससे कुछ होने सफल हो नहीं पा रहा था l और जब हमारे ऊपर एक स्ट्रांग कम्युनिटी हो जो हमें रूल कर रही हो तो अहिंसा काफी बार काम नहीं आती है क्योंकि अहिंसा से वह तो पहले ही हमसे आगे हैं इस चीज़ के अंदर l तो हम उन्हें कैसे छोड़ सकते हैं यह काम बहुत मुश्किल था पर जिस तरीके से उन्हें हिंसा को छोड़ते हुए अहिंसा से पूरे ब्रिटिशर्स को हरा कर रख दिया तो मुझे लगता है कि उनका यह काम काबिले तारीफ था और जो काम कोई और नहीं कर सके वह उन्होंने करके दिखा दिया l तो इसलिए मुझे ऐसा लगता है कि गांधीजी जो है वह हमारे स्वतंत्र संग्राम सबके सफल होने के असली कारण है क्योंकि चाहे जितना भी हो उनके फॉलोअर्स बहुत थे, उन्होंने कभी हार नहीं मानी और जिस तरीके से उन्होंने एकजुट होकर पूरे भारत को इकट्ठा रखते हुए यह फैसला करने पर ब्रिटिशर्स को मजबूर कर दिया है वह काबिल-ए-तारीफ था l और मुझे लगता है कि गांधीजी का जो जन्म था वह भारत को स्वतंत्र दिलवाने के लिए ही था l तो उनका जो जन्म था उनको बहुत उस दिन सेकंड अक्टूबर को उस दिन गांधी जयंती भी मनाते हैं और हमने देखे कि भारत की करेंसी पर भी उनके तस्वीर है तो मुझे जो भी सम्मान में दिया गया है वेह उसके काबिल है lHaan G Meri Soch Hai Aapki Soch Bahut Milti Hai Ki Gandhi G Hamare Svatantrata Sangram Safal Hone Ke Asli Kaaran The Aisa Isliye Hai Kyonki Svatantrata Pane Ke Liye Kafi Tarike The L Ahinsha Hinsa Yeh Dono Tarike Rakhe Gaye The L Kuch Log Hinsa Ko Bahut Zyada Maan Rahe The Jaise Ki Hum Bole Subhash Chandra Bose G Aur Bhi Aise Hi Kafi Leaders Hai Jo Hinsa Ki Taraf Ja Rahe The L Isse Kuch Hone Safal Ho Nahi Pa Raha Tha L Aur Jab Hamare Upar Ek Strong Community Ho Jo Hume Rule Kar Rahi Ho To Ahinsha Kafi Baar Kaam Nahi Aati Hai Kyonki Ahinsha Se Wah To Pehle Hi Humse Aage Hain Is Cheez Ke Andar L To Hum Unhen Kaise Chod Sakte Hain Yeh Kaam Bahut Mushkil Tha Par Jis Tarike Se Unhen Hinsa Ko Chedate Huye Ahinsha Se Poore Britishers Ko Hara Kar Rakh Diya To Mujhe Lagta Hai Ki Unka Yeh Kaam Kabile Tarif Tha Aur Jo Kaam Koi Aur Nahi Kar Sake Wah Unhone Karke Dikha Diya L To Isliye Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Gandhiji Jo Hai Wah Hamare Swatantra Sangram Sabke Safal Hone Ke Asli Kaaran Hai Kyonki Chahe Jitna Bhi Ho Unke Followers Bahut The Unhone Kabhi Haar Nahi Maani Aur Jis Tarike Se Unhone Ekjoot Hokar Poore Bharat Ko Ikattha Rakhate Huye Yeh Faisla Karne Par Britishers Ko Majboor Kar Diya Hai Wah Kaabil A Tarif Tha L Aur Mujhe Lagta Hai Ki Gandhiji Ka Jo Janm Tha Wah Bharat Ko Swatantra Dilwane Ke Liye Hi Tha L To Unka Jo Janm Tha Unko Bahut Us Din Second October Ko Us Din Gandhi Jayanti Bhi Manate Hain Aur Humne Dekhe Ki Bharat Ki Currency Par Bhi Unke Tasveer Hai To Mujhe Jo Bhi Samman Mein Diya Gaya Hai Veh Uske Kaabil Hai L
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां, अगर इस क्वेश्चन पर मैं अपना ओपिनियन लिखना चाहूं तो मेरे हिसाब से जी हां बिलकुल गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का असली कारण थे l क्योंकि जो गांधी जी स्वतंत्रता संग्राम के मेन लीड...जवाब पढ़िये
जी हां, अगर इस क्वेश्चन पर मैं अपना ओपिनियन लिखना चाहूं तो मेरे हिसाब से जी हां बिलकुल गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम के सफल होने का असली कारण थे l क्योंकि जो गांधी जी स्वतंत्रता संग्राम के मेन लीडर थे उन्होंने ऐसे कई काम किए थे जिसके कारण भारत को फ्रीडम मिली l उन्होंने डांडी मार्च चलाया था और उन्होंने खादी जो एक कपड़ा है खादी, उसका उसको इंवेंट किया था चीन में जन्मे थे l उन्होंने पूरी नदियां पार की थी, नदी पार कर के दिए जलाएं थे और उन्होंने कहीं ऐसे काम किए थे जिससे पता लगता है उनकी असली मेहनत थी और जिसके कारण उनकी इसी मेहनत के कारण हमें हम भारतवासियों को फ्रीडम मिली lG Haan Agar Is Question Par Main Apna Opinion Likhna Chahu To Mere Hisab Se G Haan Bilkul Gandhi G Hamare Svatantrata Sangram Ke Safal Hone Ka Asli Kaaran The L Kyonki Jo Gandhi G Svatantrata Sangram Ke Main Leader The Unhone Aise Kai Kaam Kiye The Jiske Kaaran Bharat Ko Freedom Mili L Unhone Dandi March Chalaya Tha Aur Unhone Khadi Jo Ek Kapda Hai Khadi Uska Usko Invent Kiya Tha Chin Mein Janme The L Unhone Puri Nadiyan Par Ki Thi Nadi Par Kar Ke Diye Jalaen The Aur Unhone Kahin Aise Kaam Kiye The Jisse Pata Lagta Hai Unki Asli Mehnat Thi Aur Jiske Kaaran Unki Isi Mehnat Ke Kaaran Hume Hum Bharatvasiyon Ko Freedom Mili L
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए, इसमें कोई दो राय नहीं है कि महात्मा गांधी जी जो हमारे जाते-जाते पिता है l वह हमारे देश के लिए बहुत ही देश के लिए लड़े हैं और देश को स्वाधीनता दिलाएं मगर यह हम बोल नहीं सकते कि वह एक ही बोलिए का...जवाब पढ़िये
देखिए, इसमें कोई दो राय नहीं है कि महात्मा गांधी जी जो हमारे जाते-जाते पिता है l वह हमारे देश के लिए बहुत ही देश के लिए लड़े हैं और देश को स्वाधीनता दिलाएं मगर यह हम बोल नहीं सकते कि वह एक ही बोलिए का असली कारण थे l वह हमारे बहुत सारे जो फ्रीडम फाइटर्स रहे है जैसे जी सुभाष चंद्र बोस हो गए, भगत सिंह जो कि बहुत ही इंपॉर्टेंट रोल प्ले किए थे, सुभाष चंद्र बोस, लाल बहादुर शास्त्री यह सब जो फ्रीडम फाइटर्स थे यह हमारे देश के लिए भी लडे हैं और बहुत ही नाम कमाए l मगर वह लोग जो उसे भगत सिंह को फांसी हो गया, सुभाष चंद्र बोस को वह जब वह उनका वाले मुझे तो अभी जितना हम लोग को पता है कि उनका एक्सीडेंट हो गया, प्लेन एक्सीडेंट हो गया, अंग्रेज से लड़ने लड़ने के लिए गए थे l तो बहुत सारे लोग हैं और बहुत सारी फ्रीडम फाइटर थे जिनका नाम मैं याद नहीं कर पा रहा हूं मगर वह लोग कभी इंपॉर्टेंट रोल प्ले किये है l एक ही आदमी को कभी देश को स्वाधीन नहीं दे सकता है l सबके और एक यूनिटी होकर ही लड़े थे और यूनिटी होने के बाद ही हम लोगों को जो देश को स्वाधीनता मिलाए है l तो महात्मा गांधी जी नो डाउट वह लोग बहुत देश की लडे है मगर वही एक असली कारण नहीं है मेरा मानना ही है lDekhie Isme Koi Do Raya Nahi Hai Ki Mahatma Gandhi G Jo Hamare Jaate Jaate Pita Hai L Wah Hamare Desh Ke Liye Bahut Hi Desh Ke Liye Lade Hain Aur Desh Ko Swadheenta Dilayen Magar Yeh Hum Bol Nahi Sakte Ki Wah Ek Hi Bolie Ka Asli Kaaran The L Wah Hamare Bahut Sare Jo Freedom Fighters Rahe Hai Jaise G Subhash Chandra Bose Ho Gaye Bhagat Singh Jo Ki Bahut Hi Important Roll Play Kiye The Subhash Chandra Bose Lal Bahadur Shastri Yeh Sab Jo Freedom Fighters The Yeh Hamare Desh Ke Liye Bhi Lade Hain Aur Bahut Hi Naam Kamaye L Magar Wah Log Jo Use Bhagat Singh Ko Fansi Ho Gaya Subhash Chandra Bose Ko Wah Jab Wah Unka Wali Mujhe To Abhi Jitna Hum Log Ko Pata Hai Ki Unka Accident Ho Gaya Plane Accident Ho Gaya Angrej Se Ladane Ladane Ke Liye Gaye The L To Bahut Sare Log Hain Aur Bahut Saree Freedom Fighter The Jinka Naam Main Yaad Nahi Kar Pa Raha Hoon Magar Wah Log Kabhi Important Roll Play Kiye Hai L Ek Hi Aadmi Ko Kabhi Desh Ko Swadhin Nahi De Sakta Hai L Sabke Aur Ek Unity Hokar Hi Lade The Aur Unity Hone Ke Baad Hi Hum Logon Ko Jo Desh Ko Swadheenta Milae Hai L To Mahatma Gandhi G No Doubt Wah Log Bahut Desh Ki Lade Hai Magar Wahi Ek Asli Kaaran Nahi Hai Mera Manana Hi Hai L
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं मैं इस बात से एक भी सहमत नहीं हूं कि देश को आजाद कराने में गांधीजी का पूरा योगदान रहा है ऐसा नहीं है गांधी जी से भी बड़े बड़े काम किसी लोगों ने किए पर मेन बात यह रही कि वह लाइट में नहीं है देख...जवाब पढ़िये
जी नहीं मैं इस बात से एक भी सहमत नहीं हूं कि देश को आजाद कराने में गांधीजी का पूरा योगदान रहा है ऐसा नहीं है गांधी जी से भी बड़े बड़े काम किसी लोगों ने किए पर मेन बात यह रही कि वह लाइट में नहीं है देखो आज भारत पर जिस कंडीशन पर खड़ा है जो कश्मीर में जो हालात चल रहे हैं और भी कई गृह युद्ध की दशा पर इंडिया आ रहा है इसमें कहीं ना कहीं एक सबसे बड़ा योगदान भ्रष्ट गांधीवादी राजनीति का भी है देखो भारत उस समय प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को बनना चाहिए था लेकिन यह विदेशी बुरी राजनीति की वजह से ही उनको गृह मंत्री बनना पड़ा वरना प्रधानमंत्री के प्रबल दावेदार सिर्फ वही कीजिए केवल गांधी जी और दादी को कांग्रेस का जन्म भी गांधीजी से हुआ और जो भारत की एक भ्रष्ट राजनीति चालू हुई ना इन कांग्रेस वालों नहीं चालू कर दी भारत में देखो अगर किसी देश को आजाद करवाने में किसी का सबसे बड़ा योगदान रहा तो वह कहीं ना कहीं मैं यह मानता हूं कि वह गरम दल के नेता ही थे जो 21 साल का निर्णय किस को फांसी हो गई मेरा भगत सिंह मेरा शहीद मेरा शहर मेरा जिगर मेरा भाई वह लोग उस को लाइक नहीं देते और बोल देते गांधी जी का गांधी जी ने पर्सनल अपने लिए पर्सनल देश के लिए कुछ नहीं किया है देश के लिए किया आजादी में उनका योगदान था मैं यह मानता हूं पर किस बात की में कतई सहमत नहीं हूं कि केवल उन्हीं का योगदान रहा गांधी जी से भी ज्यादा लोग उन लोगों पर आप लोगों ने उन्हें लाइक नहीं दे दिया बस मैं भी सही है और मैं तो यह मानता हूं मेरे जो भी नेता रहे सरदार वल्लभ भाई पटेल जी गांधी जी से भी सबसे ज्यादा अच्छा योगदान किया उन्होंने 562 देशी रियासतों का पूरा एकीकरण करना किसी साधारण आदमी के बस की बात नहीं है लेकिन क्या है यह तो बस कांग्रेस कीG Nahi Main Is Baat Se Ek Bhi Sahmat Nahi Hoon Ki Desh Ko Azad Karane Mein Gandhiji Ka Pura Yogdan Raha Hai Aisa Nahi Hai Gandhi G Se Bhi Bade Bade Kaam Kisi Logon Ne Kiye Par Main Baat Yeh Rahi Ki Wah Light Mein Nahi Hai Dekho Aaj Bharat Par Jis Condition Par Khada Hai Jo Kashmir Mein Jo Halaat Chal Rahe Hain Aur Bhi Kai Grah Yudh Ki Dasha Par India Aa Raha Hai Isme Kahin Na Kahin Ek Sabse Bada Yogdan Bhrasht Gandhiwaadi Rajneeti Ka Bhi Hai Dekho Bharat Us Samay Pradhanmantri Sardar Vallabh Bhai Patel G Ko Banana Chahiye Tha Lekin Yeh Videshi Buri Rajneeti Ki Wajah Se Hi Unko Grah Mantri Banana Pada Varana Pradhanmantri Ke Prabal Davedaar Sirf Wahi Kijiye Kewal Gandhi G Aur Dadi Ko Congress Ka Janm Bhi Gandhiji Se Hua Aur Jo Bharat Ki Ek Bhrasht Rajneeti Chalu Hui Na In Congress Walon Nahi Chalu Kar Di Bharat Mein Dekho Agar Kisi Desh Ko Azad Karwane Mein Kisi Ka Sabse Bada Yogdan Raha To Wah Kahin Na Kahin Main Yeh Manata Hoon Ki Wah Garam Dal Ke Neta Hi The Jo 21 Saal Ka Nirnay Kis Ko Fansi Ho Gayi Mera Bhagat Singh Mera Shahid Mera Sheher Mera Jigar Mera Bhai Wah Log Us Ko Like Nahi Dete Aur Bol Dete Gandhi G Ka Gandhi G Ne Personal Apne Liye Personal Desh Ke Liye Kuch Nahi Kiya Hai Desh Ke Liye Kiya Azadi Mein Unka Yogdan Tha Main Yeh Manata Hoon Par Kis Baat Ki Mein Qty Sahmat Nahi Hoon Ki Kewal Unhin Ka Yogdan Raha Gandhi G Se Bhi Zyada Log Un Logon Par Aap Logon Ne Unhen Like Nahi De Diya Bus Main Bhi Sahi Hai Aur Main To Yeh Manata Hoon Mere Jo Bhi Neta Rahe Sardar Vallabh Bhai Patel G Gandhi G Se Bhi Sabse Zyada Accha Yogdan Kiya Unhone 562 Deshi Riyasato Ka Pura Ekikaran Karna Kisi Sadhaaran Aadmi Ke Bus Ki Baat Nahi Hai Lekin Kya Hai Yeh To Bus Congress Ki
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम सफल होने का असली कारण थे भारत कई दशकों से लड़ाई कर रहा था गांधी जिसमें म एवं भूमिका निभा रहे थे और देश की आजादी होने तक गांधीजी हमेशा तन मन धन से लगे थे और देश...जवाब पढ़िये
जी हां गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम सफल होने का असली कारण थे भारत कई दशकों से लड़ाई कर रहा था गांधी जिसमें म एवं भूमिका निभा रहे थे और देश की आजादी होने तक गांधीजी हमेशा तन मन धन से लगे थे और देश आजाद होने के बाद भी वह खुश नहीं थी कोई इंसान यदि और होगा तो देश आजाद होने के बाद वह अपना कार्य करेगा परंतु फिर भी वह खुश नहीं थी क्योंकि देश के लोग फिर भी एकता में नहीं थी वह अनशन कर रहे थे उधर देश आजादी आजाद हो गया था लेकिन फिर भी अनशन कर रहे थे कि देश के लोग तो एक हो जाए जिसकी वजह से उन्हें बहुत बड़ी सफलता हासिल हुई थी अंग्रेज यहां से भाग गए थे और गांधीजी का ही वह मेहनत था जो यह कार्य करने में सफल हुए परंतु फिर भी देश के लोग एकता में नहीं थे इसलिए वह अनशन कर रहे थे आज पूरा भारत एक है या देख कर उनको बहुत खुशी हो रही होगी जय माता दी जय भारतG Haan Gandhi G Hamare Svatantrata Sangram Safal Hone Ka Asli Kaaran The Bharat Kai Dashakon Se Ladai Kar Raha Tha Gandhi Jisme M Evam Bhumika Nibha Rahe The Aur Desh Ki Azadi Hone Tak Gandhiji Hamesha Tan Man Dhan Se Lage The Aur Desh Azad Hone Ke Baad Bhi Wah Khush Nahi Thi Koi Insaan Yadi Aur Hoga To Desh Azad Hone Ke Baad Wah Apna Karya Karega Parantu Phir Bhi Wah Khush Nahi Thi Kyonki Desh Ke Log Phir Bhi Ekta Mein Nahi Thi Wah Anshan Kar Rahe The Udhar Desh Azadi Azad Ho Gaya Tha Lekin Phir Bhi Anshan Kar Rahe The Ki Desh Ke Log To Ek Ho Jaye Jiski Wajah Se Unhen Bahut Badi Safalta Hasil Hui Thi Angrej Yahan Se Bhag Gaye The Aur Gandhiji Ka Hi Wah Mehnat Tha Jo Yeh Karya Karne Mein Safal Huye Parantu Phir Bhi Desh Ke Log Ekta Mein Nahi The Isliye Wah Anshan Kar Rahe The Aaj Pura Bharat Ek Hai Ya Dekh Kar Unko Bahut Khushi Ho Rahi Hogi Jai Mata Di Jai Bharat
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह बात सही है कि महात्मा गांधी जी ने हमारे देश को आजाद कराने में अपना बहुमूल्य योगदान दिए हैं पर एक कहावत है कि अकेले चना बाहर कभी नहीं छोड़ता है बहुत से स्वतंत्र सेनानी है जो हमारे देश को आजाद ...जवाब पढ़िये
देखिए यह बात सही है कि महात्मा गांधी जी ने हमारे देश को आजाद कराने में अपना बहुमूल्य योगदान दिए हैं पर एक कहावत है कि अकेले चना बाहर कभी नहीं छोड़ता है बहुत से स्वतंत्र सेनानी है जो हमारे देश को आजाद कराने के लिए अपना संपूर्ण जीवन एवं अपना प्राण तक न्योछावर कर दिए हैं जैसे भगत सिंह सुभाष चंद्र बोस चंद्रशेखर आजाद आदि इस बात पर दो लाइन याद बोलना चाहूंगा अपनी मातृभूमि के लिए कुर्बानी तो बहुत होने दिया लेकिन कुछ लोगों ने यह बहन फैला दिया कि सबकुछ महात्मा गांधी जी ने ही किया है धन्यवादDekhie Yeh Baat Sahi Hai Ki Mahatma Gandhi G Ne Hamare Desh Ko Azad Karane Mein Apna Bahumulya Yogdan Diye Hain Par Ek Kahaavat Hai Ki Akele Chana Bahar Kabhi Nahi Chodta Hai Bahut Se Swatantra Senaanee Hai Jo Hamare Desh Ko Azad Karane Ke Liye Apna Sampurna Jeevan Evam Apna Praan Tak Nyochhaavar Kar Diye Hain Jaise Bhagat Singh Subhash Chandra Bose Chandrasekhar Azad Aadi Is Baat Par Do Line Yaad Bolna Chahunga Apni Matribhoomi Ke Liye Kurbani To Bahut Hone Diya Lekin Kuch Logon Ne Yeh Behen Faila Diya Ki Sabkuch Mahatma Gandhi G Ne Hi Kiya Hai Dhanyavad
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मैं आपको तो गांधी जी को समझने के लिए हमको पहले सख्त की हो जाना पड़ेगा क्योंकि गांधी जी सत्य के रास्ते पर चलते आज के समय में गांधी को समझने वाले इसलिए नहीं है क्योंकि सत्य सत्य की राह पर हम चल रहे...जवाब पढ़िये
विकी मैं आपको तो गांधी जी को समझने के लिए हमको पहले सख्त की हो जाना पड़ेगा क्योंकि गांधी जी सत्य के रास्ते पर चलते आज के समय में गांधी को समझने वाले इसलिए नहीं है क्योंकि सत्य सत्य की राह पर हम चल रहे हैं अधिक खराब देश की जनसंख्या कितनी है सत्य की राह पर चल रही है लेकिन गांधी जी हमेशा सत्य की लड़ाई लड़ी है गांधीजी वह हमारे देश भक्तों ने एक लाठी एक धोती उस पर अपना डाटा और नमक नमक नमक को आज आयोडीन कहा जाता है जिसमें तमाम तरह के 10th के नमक नमक सत्याग्रह की लड़ाई राम बोलने वाले पौधे किस तत्व को समझने की अंकुश की राह पर चलना पड़ेगा और आज के समय में सत्य की राह पर पूरी नहीं कर सकता क्योंकि आज का जमाना ऐसा आ गया है कि आज तक तू हमेशा लोग प्रणाम करेंगे नहीं करेंगे इसके बारे में समझाना पड़ेगा सवाल उठता है कि 6 मीटर शक्ति के बारे में क्या समझेगा 6 महीने से वह 8 महीने का होगा 10 महीने का 1 साल का होगा डेढ़ साल का होगा लेकिन उसकी पहली पाठशाला घर रहेगी और मैं जब उसको हम सत्य के बारे में सत्य की राह पर चलना दिखाएंगे तभी वह गांधी जी को समझ पाएगा तभी गांधी जी के विचारों को चलेगा और तभी देश में वह कुछ पर कर पाएगा उड़ सकते कितनी विजय सत्य सच बोल के सत्य काम करने में मिलती है उत्तर की अब तक की जो है डीजे में उतना फल नहीं मिलता क्योंकि कहा गया है कि सत्य की जीत होती है वह बहुत लंबे समय तक स्थिति है सत्य की जीत है कुछ पल के लिए हम को दिखती है बड़ी मजबूत है लेकिन जब भरभरा कर गिरती है तो उसका कोई औचित्य नहीं देता इसलिए गांधी जी के बारे में कहा जाता है गांधी जी हमारे राष्ट्रपिता देव ने देश के लिए बहुत कुछ किया आदेश को हमारे युवा गांधीजी को समझ लेंगे तो आजादी बेरोजगारी अपराध यह सब समझ जाएंगे और हमारा दिखाओ जो देश है
Likes  15  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए गांधी जी जन नेता थे और लोकप्रिय नेता थे और पूरे देश के नेता थे गरीबों के अमीरों के सब लोग उन्हें मानते थे अपना नेता और वह थे उन्होंने निश्चित रूप से अपने जीवन काल में बहुत अच्छी तरीके से अंग्रेज...जवाब पढ़िये
देखिए गांधी जी जन नेता थे और लोकप्रिय नेता थे और पूरे देश के नेता थे गरीबों के अमीरों के सब लोग उन्हें मानते थे अपना नेता और वह थे उन्होंने निश्चित रूप से अपने जीवन काल में बहुत अच्छी तरीके से अंग्रेजों को निकालने के लिए निरंतर प्रयास किए गए आंदोलन चलाएं लेकिन कोई भी आंदोलन यह तो बहुत बड़ा आंदोलन का कोई छोटा-मोटा आंदोलन बिगर सफल होता है उसमें कई लोग शामिल होते हैं आप देखिए जब क्रिकेट टीम हमारी वर्ल्ड कप में करके आती है तो पूरे टूर्नामेंट में जो 11 के 11 खिलाड़ी रहते हैं 15 खिलाड़ी रहते हैं उन सब को अपना योगदान देना होता कभी आप नहीं देखोगे कि सचिन तेंदुलकर ने अकेले वर्ल्ड कप जीता दिया या विराट कोहली ने अकेले कुछ कर दिया या महेंद्र सिंह धोनी ने अकेले वर्ल्ड कप जीता दिया है ना यह लोग एक कैप्टन हो सकते हैं बड़े खिलाड़ी हो सकते हैं लेकिन जब पूरी टीम खेलती है एक साथ तभी एक अच्छा मैच जीता जाता है बालों को भी अच्छा करना होता है बिल्डिंग में भी लोगों को अच्छे कैच लेने होते हैं और रिंग करते समय भी तीन चार खिलाड़ियों को अच्छे स्कूल करने होते हैं ठीक उसी तरह से जब हमारा स्वतंत्र संग्राम चल रहा था तो कई नेताओं ने अपने अपने ढंग से योगदान दिया गांधीजी शांति प्रिय नेता थे उन्होंने शांति के साथ निकालने का प्रयास किया सत्य और अहिंसा पर चलकर तो दूसरी और के नेता थे जिन्होंने अपने अपने तरीके इस्तेमाल की जैसे भगत सिंह सुखदेव और राजगुरु जो युवा नेता थे 22 23 साल की उम्र में जिन्हें फांसी मिल गई उन्होंने बम फोड़कर के अंग्रेजों को भगाने का प्रयास किया सुभाष चंद्र बोस नेताजी जो सबसे महान नेता जिनको मैं मानता हूं उन्होंने तो पूरी एक्सैना बना ली थी लेकिन उसमें धोखेबाज लोग निकल गए जिसकी वजह से फूट पड़ गई वह काम नहीं आया ठीक है इसी तरह से चंद्रशेखर थे युवा नेता थे गर्म जोश वाले इसी तरह से बहुत सारे नेता थे तो सबका योगदान रहता है हां लेकिन गांधीजी का योगदान नकारा नहीं जा सकता उनका भी बहुत बड़ा योगदान था लेकिन सारे जो क्रांतिकारी थे उनकी वजह से हमें आजादी मिली है
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश के स्वतंत्रता संग्राम को सफल करने वाले गांधी जी नहीं थे हमारे देश का जो स्वतंत्रता संग्राम था उसे सुभाष चंद्र बोस ने लड़ा था सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के माध्यम से हमारे देश को स्वतंत...जवाब पढ़िये
हमारे देश के स्वतंत्रता संग्राम को सफल करने वाले गांधी जी नहीं थे हमारे देश का जो स्वतंत्रता संग्राम था उसे सुभाष चंद्र बोस ने लड़ा था सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के माध्यम से हमारे देश को स्वतंत्रता मिली थी और महात्मा गांधी के वजह से कोई स्वतंत्रता नहीं मिली थी उन्होंने कुछ भी नहीं किया इन्होंने किया है मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं कि कुछ भी नहीं किया है यह नरम दल के नेता थे इनका भी कुछ थोड़ा बहुत योगदान रहा है लेकिन हमारे देश को आजादी आजाद हिंद फौज के माध्यम से मिली है आजाद हिंद फौज के डर से अंग्रेज हमारा देश छोड़कर गए थे धन्यवाद
Likes  11  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं इस बात से इंकार नहीं कर सकता हूं भारत के सुंदर संग्राम में गांधीजी का सहयोग रहा है किंतु उनको इस सुदामा लीला के सुर संग्राम का असली हीरो को नहीं मानता मैं यह श्रेय हमारी उन शहीदों को देना चाहता हू...जवाब पढ़िये
मैं इस बात से इंकार नहीं कर सकता हूं भारत के सुंदर संग्राम में गांधीजी का सहयोग रहा है किंतु उनको इस सुदामा लीला के सुर संग्राम का असली हीरो को नहीं मानता मैं यह श्रेय हमारी उन शहीदों को देना चाहता हूं जब शहीदों की कुर्बानी हो को आज हम लोग भूलते जा रहे हैं उन शहीदों ने अपनी जिंदगी देकर अपने जीवन की परवाह ना करते हुए अपने परिवारों को चाटते हुए हमारे लिए शहीद हो गए यदि मैं इस बात को मानता हूं कि हमारे भाइयों का संग्राम के सफल होने में हमें स्वतंत्र कराने में सर्वाधिक से हमारे उन भारतीय शहीदों का रहा हैMain Is Baat Se Inkar Nahi Kar Sakta Hoon Bharat Ke Sundar Sangram Mein Gandhiji Ka Sahyog Raha Hai Kintu Unko Is Sudama Leela Ke Sur Sangram Ka Asli Hero Ko Nahi Manata Main Yeh Shrey Hamari Un Shahido Ko Dena Chahta Hoon Jab Shahido Ki Kurbani Ho Ko Aaj Hum Log Bhultey Ja Rahe Hain Un Shahido Ne Apni Zindagi Dekar Apne Jeevan Ki Parvaah Na Karte Huye Apne Parivaro Ko Chatate Huye Hamare Liye Shahid Ho Gaye Yadi Main Is Baat Ko Manata Hoon Ki Hamare Bhaiyon Ka Sangram Ke Safal Hone Mein Hume Swatantra Karane Mein Sarvadhik Se Hamare Un Bharatiya Shahido Ka Raha Hai
Likes  12  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Mahatma Gandhi Hamare Swatantrata Sangram Safal Hone Ka Asli Kaaran The, Was Mahatma Gandhi The Real Reason For Our Freedom Struggle? , Asli Azadi

vokalandroid