भारत में मातृप्रधान प्रणाली कैसे काम करती है? कोई उदाहरण? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य सर भारत में प्राचीन काल से ही अलग-अलग संस्कृति चलती आ रही है तो व्यक्ति में प्रणाली और सामूहिक प्रणाली उसके परिवार के बना लिया है जिसके अंदर पितृ प्रधान प्रणाली और मोक्ष प्रदान प्रणाली आते हैं ...जवाब पढ़िये
आदित्य सर भारत में प्राचीन काल से ही अलग-अलग संस्कृति चलती आ रही है तो व्यक्ति में प्रणाली और सामूहिक प्रणाली उसके परिवार के बना लिया है जिसके अंदर पितृ प्रधान प्रणाली और मोक्ष प्रदान प्रणाली आते हैं तो भारत में प्रथम पितृ प्रधान प्रणाली तो चलती आ रही है और अभी भी है मतलब राजा महाबली के काल से पात्र प्रधान प्रणाली UP इनिशिएटिव लिया गया उसका जो कि वह भी अभी उसको बहुत सारा मिठाई तो यही कह सकते कि प्राचीन काल में शिव जी जो मात्र पर दाल फ्राई में चलती आ रही है तो यह मेहंदी दादा दक्षिण भारतीय राज्य में देखी जाती है मेरी मैं यह बोलूं कि अभी भी केरल में यह सारा कुछ दिखा जाता है मतलब मत प्रणाली दिखती है हमें इसका उदाहरण में देना चाहती हो कि लोग जैसे हम पिता का आदर करते हैं पिता को घर का एक सबसे बड़ा व्यक्ति समस्याएं व उनका माता का माता के लिए होता है तू बहुत लेने वाली सर्दी होती है तो सारे डिसीजन उसके अंदर होते हैं जो भी बहुत को माना जाता है हालांकि इन उनके नाम के साथ भी माता के नाम जुड़ जाते हैं तो ऐसा उदाहरण है और अभी मैंने ऐसा सुना है कि केरल में जो अभी हमारे यहां पर लड़कियों की शादी होती है तो वह एक अच्छी बात होती है बट फिर भी लड़की दूसरे घर में शादी करके जाए तो वह अलग पॉइंट होता है वह हमारे लिए तू या केरल में एक अलग ही होता है या हमारे जैसे नहीं होता है तो यह सब बहुत प्यारा है जहां पर मातृ प्रधान संस्कृति से अलग ठहर जा सकती है अभी हमारे यहां पर कभी-कभी कुछ गांव में महिला को डिजिटल समझता था लेकिनAditya Sar Bharat Mein Prachin Kaal Se Hi Alag Alag Sanskriti Chalti Aa Rahi Hai To Vyakti Mein Pranali Aur Samuuhik Pranali Uske Parivar Ke Bana Liya Hai Jiske Andar Pitri Pradhan Pranali Aur Moksha Pradan Pranali Aate Hain To Bharat Mein Pratham Pitri Pradhan Pranali To Chalti Aa Rahi Hai Aur Abhi Bhi Hai Matlab Raja Mahabali Ke Kaal Se Patra Pradhan Pranali UP Inishietiv Liya Gaya Uska Jo Ki Wah Bhi Abhi Usko Bahut Saara Mithai To Yahi Keh Sakte Ki Prachin Kaal Mein Shiv Ji Jo Matra Par Dal Fry Mein Chalti Aa Rahi Hai To Yeh Mehendi Dada Dakshin Bhartiya Rajya Mein Dekhi Jati Hai Meri Main Yeh Bolun Ki Abhi Bhi Kerala Mein Yeh Saara Kuch Dikha Jata Hai Matlab Mat Pranali Dikhti Hai Hume Iska Udaharan Mein Dena Chahti Ho Ki Log Jaise Hum Pita Ka Aadar Karte Hain Pita Ko Ghar Ka Ek Sabse Bada Vyakti Samasyaen V Unka Mata Ka Mata Ke Liye Hota Hai Tu Bahut Lene Wali Sardi Hoti Hai To Sare Decision Uske Andar Hote Hain Jo Bhi Bahut Ko Mana Jata Hai Halanki In Unke Naam Ke Saath Bhi Mata Ke Naam Jud Jaate Hain To Aisa Udaharan Hai Aur Abhi Maine Aisa Suna Hai Ki Kerala Mein Jo Abhi Hamare Yahan Par Ladkiyon Ki Shadi Hoti Hai To Wah Ek Acchi Baat Hoti Hai But Phir Bhi Ladki Dusre Ghar Mein Shadi Karke Jaye To Wah Alag Point Hota Hai Wah Hamare Liye Tu Ya Kerala Mein Ek Alag Hi Hota Hai Ya Hamare Jaise Nahi Hota Hai To Yeh Sab Bahut Pyara Hai Jahan Par Matri Pradhan Sanskriti Se Alag Thahar Ja Sakti Hai Abhi Hamare Yahan Par Kabhi Kabhi Kuch Gav Mein Mahila Ko Digital Samajhata Tha Lekin
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Mein Matripradhan Pranali Kaise Kaam Karti Hai Koi Udaharan, How Does The Motherly System Work In India? Any Examples?

vokalandroid