क्या भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए ? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत से जातिगत आरक्षण को समाप्त कर देना चाहिए, परंतु इसे अकस्मात कर देना, यह बिल्कुल भी ठीक नहीं होगा| इससे पहले संविधानिक समिति का निर्माण होना चाहिए, जो कि उच्चतम न्यायालय के मार्गदर्शन में कार्य करें, तथा यह सुनिश्चित करें, कि सभी राज्य सरकारें, केंद्र सरकार तथा अन्य जो हमारी कार्यपालिकाएं हैं, तथा विधायिका है, उन सभी को विश्वास में रखकर अपनी व्यापक जो रिपोर्ट है, अपनी पूरी प्रक्रिया से संबंधित उच्चतम न्यायालय को प्रस्तुत करें, जिससे कि संविधान संशोधन की प्रक्रिया प्रारंभ हो सके| साथ ही मुझे यह भी लगता है कि आर्थिक आधार पर जो आरक्षण है, उसको प्रारंभ करना चाहिए, तथा यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस को किसी भी प्रकार से गलत तरह से इस्तेमाल ना कर पाए लोग, इसके लिए एक समिति बनानी चाहिए, जो इसकी इससे संबंधित अपनी रिपोर्ट बनाए, तथा इस पूरी प्रक्रिया का जो अनुपालन करें तथा सुनिश्चित करें, कि इसको सुविधापूर्ण तरीके से तथा सख्ताई से पूरे भारत में लागू किया जा सके | साथ ही साथ विकलांगता के आधार पर जो आरक्षण प्राप्त होता है, उसको बिलकुल भी समाप्त नहीं किया जाना चाहिए| साथ ही साथ बहुत सी ऐसी जातियां और जनजातियां है, जो वास्तविक रूप से पिछड़े हुई है, तथा उनका प्रतिनिधित्व कार्यपालिका, विधानपालिका, न्यायपालिका समेत निजी क्षेत्र में भी ना के बराबर है, उनको आरक्षण का लाभ मिलते रहना चाहिए | साथ ही साथ शिक्षा के क्षेत्र में आर्थिक आधार पर आरक्षण प्रदान किया जाना चाहिए| मुझे ऐसा लगता है, कि इसको अगर बदलना है, उसको समाप्त करना है, उससे पहले एक व्यापक प्रक्रिया है, उसका अनुपालन करना होगा| तथा उसके बाद ही इस प्रकार का सख्त फैसला सरकार को अथवा न्यायपालिका को लेना चाहिए| धन्यवाद|Bharat Se Jaatigat Aarakshan Ko Samapt Kar Dena Chahiye Parantu Ise Aksmaat Kar Dena Yeh Bilkul Bhi Theek Nahi Hoga Isse Pehle Samvidhanik Samiti Ka Nirman Hona Chahiye Jo Ki Ucchatam Nyayalaya Ke Margdarshan Mein Karya Karen Tatha Yeh Sunishchit Karen Ki Sabhi Rajya Sarkaren Kendra Sarkar Tatha Anya Jo Hamari Karyapalikaen Hain Tatha Vidhayika Hai Un Sabhi Ko Vishwas Mein Rakhakar Apni Vyapak Jo Report Hai Apni Puri Prakriya Se Sambandhit Ucchatam Nyayalaya Ko Prastut Karen Jisse Ki Samvidhan Sanshodhan Ki Prakriya Prarambh Ho Sake Saath Hi Mujhe Yeh Bhi Lagta Hai Ki Aarthik Aadhar Par Jo Aarakshan Hai Usko Prarambh Karna Chahiye Tatha Yeh Sunishchit Karna Chahiye Ki Is Ko Kisi Bhi Prakar Se Galat Tarah Se Istemal Na Kar Paye Log Iske Liye Ek Samiti Banani Chahiye Jo Iski Isse Sambandhit Apni Report Banaye Tatha Is Puri Prakriya Ka Jo Anupalan Karen Tatha Sunishchit Karen Ki Isko Suvidhapurn Tarike Se Tatha Sakhtai Se Poore Bharat Mein Laagu Kiya Ja Sake | Saath Hi Saath Vikalaangata Ke Aadhar Par Jo Aarakshan Prapt Hota Hai Usko Bilkul Bhi Samapt Nahi Kiya Jana Chahiye Saath Hi Saath Bahut Si Aisi Jatiyaan Aur Janajatiyan Hai Jo Vastavik Roop Se Pichade Hui Hai Tatha Unka Pratinidhitva Karyapalika Vidhanpalika Nyaypalika Samet Niji Kshetra Mein Bhi Na Ke Barabar Hai Unko Aarakshan Ka Labh Milte Rehna Chahiye | Saath Hi Saath Shiksha Ke Kshetra Mein Aarthik Aadhar Par Aarakshan Pradan Kiya Jana Chahiye Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Isko Agar Badalna Hai Usko Samapt Karna Hai Usse Pehle Ek Vyapak Prakriya Hai Uska Anupalan Karna Hoga Tatha Uske Baad Hi Is Prakar Ka Sakht Faisla Sarkar Ko Athwa Nyaypalika Ko Lena Chahiye Dhanyavad
Likes  47  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
हां इसमें तो कोई दो राय नहीं है कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए जब देश आजाद हुआ था उस समय आरक्षण की व्यवस्था पहले 10 साल के लिए यह सोच कर की गई थी कि जो लोग जुड़े हैं वह आगे बढ़ पाएंगे लेकिन उसके बाद यह राजनीति का मुद्दा बन गया है और अब तो इससे देश बांट रहा है समाज बन रहा है और देश के लोगों को बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है तो इससे ज्यादा मजबूरी का समय कहीं नहीं होगा तो सही समय है कि आरक्षण के खिलाफ सभी लोगों को आवाज उठानी चाहिए और आरक्षण खत्म कर देना चाहिएHaan Isme To Koi Do Rai Nahi Hai Ki Aarakshan Samapt Kar Dena Chahiye Jab Desh Azad Hua Tha Us Samay Aarakshan Ki Vyavastha Pehle 10 Saal Ke Liye Yeh Soch Kar Ki Gayi Thi Ki Jo Log Jude Hain Wah Aage Badh Paenge Lekin Uske Baad Yeh Rajneeti Ka Mudda Ban Gaya Hai Aur Ab To Isse Desh Baant Raha Hai Samaaj Ban Raha Hai Aur Desh Ke Logon Ko Bahut Jyada Nuksan Ho Raha Hai To Isse Jyada Majburi Ka Samay Kahin Nahi Hoga To Sahi Samay Hai Ki Aarakshan Ke Khilaf Sabhi Logon Ko Aawaj Uthani Chahiye Aur Aarakshan Khatam Kar Dena Chahiye
Likes  10  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी हां बिलकुल आरक्षण जो है हमारे देश से बिल्कुल बिल्कुल समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि आरक्षण कब बना था तब यह मुद्दा था कि सरकार के लोग हैं उन्हें बिल्कुल पोस्ट नीति और और कूलर जो भी है राइट मिल सके पर वह भी एक अलग अधिवेशन में जा रहा है और जो डिजाइन लोक है किसी किसी क्षेत्र में होने भी नहीं मिल पा रहा है तो मेरी सबसे यह कोई अच्छा नहीं कर रहा है अभी इस समय में और टाइम पर जैसे ही टाइम बीत रहा है यह जो है यह मुद्दा खराब होता है जा रहा है और यहां तक हम जब भी कोई भी चुनाव होता है पॉलिटिकल चुनाव होता है यह मुद्दे को बहुत ही बुरी तरह से यूज किया जाता है वोटिंग पाने के लिए तुम मेरे हिसाब से वह बहुत बुरा हो रहा है उसकी वजह से हमारी जो सोसाइटी है वह डिवाइड हो रही है जो कि नहीं होनी चाहिएJi Haan Bilkul Aarakshan Jo Hai Hamare Desh Se Bilkul Bilkul Samapt Kar Dena Chahiye Kyonki Aarakshan Kab Bana Tha Tab Yeh Mudda Tha Ki Sarkar Ke Log Hain Unhen Bilkul Post Niti Aur Aur Cooler Jo Bhi Hai Right Mil Sake Par Wah Bhi Ek Alag Adhiveshan Mein Ja Raha Hai Aur Jo Design Lok Hai Kisi Kisi Kshetra Mein Hone Bhi Nahi Mil Pa Raha Hai To Meri Sabse Yeh Koi Accha Nahi Kar Raha Hai Abhi Is Samay Mein Aur Time Par Jaise Hi Time Beet Raha Hai Yeh Jo Hai Yeh Mudda Kharab Hota Hai Ja Raha Hai Aur Yahan Tak Hum Jab Bhi Koi Bhi Chunav Hota Hai Political Chunav Hota Hai Yeh Mudde Ko Bahut Hi Buri Tarah Se Use Kiya Jata Hai Voting Pane Ke Liye Tum Mere Hisab Se Wah Bahut Bura Ho Raha Hai Uski Wajah Se Hamari Jo Society Hai Wah Divide Ho Rahi Hai Jo Ki Nahi Honi Chahiye
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


ऐसा नहीं कर सकते कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए बिकॉज आपने इलाके के लोगों शिक्षा स्तर तक नहीं पहुंच सकते हमारे लिए आरक्षण

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

ऐसा नहीं कर सकते कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए बिकॉज आपने इलाके के लोगों शिक्षा स्तर तक नहीं पहुंच सकते हमारे लिए आरक्षणAisa Nahi Kar Sakte Ki Aarakshan Samapt Kar Dena Chahiye Because Aapne Ilake Ke Logon Shiksha Sthar Tak Nahi Pahunch Sakte Hamare Liye Aarakshan
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

आज के दौर में भारत से आरक्षण समाप्त करना सही में जरूरी है पर जिस समय आरक्षण लागू किया गया था उस समय की बात कुछ और थी उस समय इन ऊंची जाति के लोगों ने नीची जाति के लोगों को इस कदर अपने पैरों तले नीचे दबाया की जरूरत पड़ी सरकार को आरक्षण करने की नीची जाति के लोगों के लिए ताकि उन्हें भी समाज में हक मिले परंतु देखा जाए तो लोगों ने बहुत ही बुरा फायदा उठाया आरक्षण का आज के दौर में लोग नकली सर्टिफिकेट बनवा लेते हैं नीची जाति का और फिर आरक्षण से अच्छे कॉलेज में एडमिशन ले लेते हैं और इससे जिन लोगों में खड़ा है वह लोग पीछे रह जाते हैं कला वाले लोगों के लिए सीटें नहीं बचती कला वाले लोगों को जॉब नहीं मिलती इसका कारण आरक्षण बन कर रह जाता है क्योंकि जो लोग जिन लोगों में काबिलियत भी नहीं है वह लोग भी आगे बढ़ रही हैं इस आरक्षण की वजह से और देखा जाए तो आज के दौर में हमारे भारत को काबिल लोगों की जरूरत है ऐसे लोगों की नहीं जो सिर्फ आरक्षण की वजह से आ जाते हैं नहीं तो अबू में और अच्छे कॉलेज में पर कुछ नहीं कर पाते तो इसलिए बहुत जरूरत है भारत का एक अच्छा देश बनने के लिए कि इस आरक्षण को अब हटाया जाए क्योंकि आज के दौर में कोई ऊंची जाति ऊंची जाति और नीची जाति का ख्याल रखने वाले लोग नहीं है आज के समाज के अंदर हर इंसान को एक ही नजरिए से देखा जाता है इसलिए अब आरक्षण हटना जरूरी है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

आज के दौर में भारत से आरक्षण समाप्त करना सही में जरूरी है पर जिस समय आरक्षण लागू किया गया था उस समय की बात कुछ और थी उस समय इन ऊंची जाति के लोगों ने नीची जाति के लोगों को इस कदर अपने पैरों तले नीचे दबाया की जरूरत पड़ी सरकार को आरक्षण करने की नीची जाति के लोगों के लिए ताकि उन्हें भी समाज में हक मिले परंतु देखा जाए तो लोगों ने बहुत ही बुरा फायदा उठाया आरक्षण का आज के दौर में लोग नकली सर्टिफिकेट बनवा लेते हैं नीची जाति का और फिर आरक्षण से अच्छे कॉलेज में एडमिशन ले लेते हैं और इससे जिन लोगों में खड़ा है वह लोग पीछे रह जाते हैं कला वाले लोगों के लिए सीटें नहीं बचती कला वाले लोगों को जॉब नहीं मिलती इसका कारण आरक्षण बन कर रह जाता है क्योंकि जो लोग जिन लोगों में काबिलियत भी नहीं है वह लोग भी आगे बढ़ रही हैं इस आरक्षण की वजह से और देखा जाए तो आज के दौर में हमारे भारत को काबिल लोगों की जरूरत है ऐसे लोगों की नहीं जो सिर्फ आरक्षण की वजह से आ जाते हैं नहीं तो अबू में और अच्छे कॉलेज में पर कुछ नहीं कर पाते तो इसलिए बहुत जरूरत है भारत का एक अच्छा देश बनने के लिए कि इस आरक्षण को अब हटाया जाए क्योंकि आज के दौर में कोई ऊंची जाति ऊंची जाति और नीची जाति का ख्याल रखने वाले लोग नहीं है आज के समाज के अंदर हर इंसान को एक ही नजरिए से देखा जाता है इसलिए अब आरक्षण हटना जरूरी हैAaj Ke Daur Mein Bharat Se Aarakshan Samapt Karna Sahi Mein Zaroori Hai Par Jis Samay Aarakshan Laagu Kiya Gaya Tha Us Samay Ki Baat Kuch Aur Thi Us Samay In Unchi Jati Ke Logon Ne Nichi Jati Ke Logon Ko Is Kadar Apne Pairon Tale Neeche Dabaya Ki Zaroorat Padi Sarkar Ko Aarakshan Karne Ki Nichi Jati Ke Logon Ke Liye Taki Unhen Bhi Samaaj Mein Haq Mile Parantu Dekha Jaye To Logon Ne Bahut Hi Bura Fayda Uthaya Aarakshan Ka Aaj Ke Daur Mein Log Nakli Certificate Banwa Lete Hain Nichi Jati Ka Aur Phir Aarakshan Se Acche College Mein Admission Le Lete Hain Aur Isse Jin Logon Mein Khada Hai Wah Log Piche Rah Jaate Hain Kala Wale Logon Ke Liye Seaten Nahi Bachati Kala Wale Logon Ko Job Nahi Milti Iska Kaaran Aarakshan Ban Kar Rah Jata Hai Kyonki Jo Log Jin Logon Mein Kabiliyat Bhi Nahi Hai Wah Log Bhi Aage Badh Rahi Hain Is Aarakshan Ki Wajah Se Aur Dekha Jaye To Aaj Ke Daur Mein Hamare Bharat Ko Kaabil Logon Ki Zaroorat Hai Aise Logon Ki Nahi Jo Sirf Aarakshan Ki Wajah Se Aa Jaate Hain Nahi To Abu Mein Aur Acche College Mein Par Kuch Nahi Kar Paate To Isliye Bahut Zaroorat Hai Bharat Ka Ek Accha Desh Banane Ke Liye Ki Is Aarakshan Ko Ab Hataya Jaye Kyonki Aaj Ke Daur Mein Koi Unchi Jati Unchi Jati Aur Nichi Jati Ka Khayal Rakhne Wale Log Nahi Hai Aaj Ke Samaaj Ke Andar Har Insaan Ko Ek Hi Nazariye Se Dekha Jata Hai Isliye Ab Aarakshan Hatna Zaroori Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

हां बिल्कुल मुझे लगता है कि भारत में से आरक्षण चूहे को पूरी तरह से समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि अभी जो है उसकी कोई जरूरत नहीं है और आरक्षण की वजह से जो है वह लोग लोगों में ही एक तनाव पैदा होता है ब्लॉग जो है एक दूसरे को एक दूसरे के अलग-अलग समाज के लोग जो एक दूसरे को अलग नजरिए से देखते हैं तो यह उच्च उच्च नीच का जो है वह पूरी तरह से मिटा देनी चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

हां बिल्कुल मुझे लगता है कि भारत में से आरक्षण चूहे को पूरी तरह से समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि अभी जो है उसकी कोई जरूरत नहीं है और आरक्षण की वजह से जो है वह लोग लोगों में ही एक तनाव पैदा होता है ब्लॉग जो है एक दूसरे को एक दूसरे के अलग-अलग समाज के लोग जो एक दूसरे को अलग नजरिए से देखते हैं तो यह उच्च उच्च नीच का जो है वह पूरी तरह से मिटा देनी चाहिएHaan Bilkul Mujhe Lagta Hai Ki Bharat Mein Se Aarakshan Chuhe Ko Puri Tarah Se Samapt Kar Dena Chahiye Kyonki Abhi Jo Hai Uski Koi Zaroorat Nahi Hai Aur Aarakshan Ki Wajah Se Jo Hai Wah Log Logon Mein Hi Ek Tanaav Paida Hota Hai Blog Jo Hai Ek Dusre Ko Ek Dusre Ke Alag Alag Samaaj Ke Log Jo Ek Dusre Ko Alag Nazariye Se Dekhte Hain To Yeh Uccha Uccha Neech Ka Jo Hai Wah Puri Tarah Se Mita Deni Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

मेरे हिसाब से तो वह भारत के भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए और क्योंकि लोग इसके बहुत तेज वेग गलत फायदा उठा रहे हैं बट अभी भारतीय संविधान में इसके लिए कानून बनाया गया है और उस कानून के अनुसार आप और निम्न वर्गों के लोगों को लेकर विशिष्ट खुद के कारण या सामान्य लोगों के बराबर लाने के लिए आरक्षण लागू किया गया था लेकर मिडिल क्लास के या करो क्लास पीपल लोगों के लिए भारत के महिलाओं के लिए भी आरक्षण लिए लाया गया था कानून के हिसाब से और जैसे के आर्थिक रुप से पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण और अनुसूचित जाति के लिए आरक्षण आदि जैसे कई आरक्षण लाए गए जलन की आरक्षण प्रणाली एक स्पष्ट भेदभाव है लेकिन इसकी शुरुआत सामाजिक रुप से यह जो है उद्देश पिलाई गई थी ताकि समाज में उपलब्ध अवसरों में उन्हें सम्मान असमानता मिलना चाहिए करके कि जो भी लो क्लासेस लेकर क्लासेस पीपल को मिल रहा है वही जो हेलो क्लास पेपर लोगों को भी लेकर सीएम इंपॉर्टेंट देना चाहिए घर के लेकिन अभी इसका अर्थ बदल ही गया है जिस तरह लोगों ने द्वारा इसके लाभ उठाएं हैं जिसे के स्किन फायदे लोक उठाने शुरू करते हैं इसे देखकर बहुत से लोगों का मानना है कि कानून बंद हो जाना चाहिए लोगों को इसका उपयोग करना शुरू कर दिया है और राज्य के महा विद्यालय में एडमिशन लेने के लिए जो है नौकरी पाने के लिए छूट 10th पर्स बनाना इसके कई उदाहरण

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

मेरे हिसाब से तो वह भारत के भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए और क्योंकि लोग इसके बहुत तेज वेग गलत फायदा उठा रहे हैं बट अभी भारतीय संविधान में इसके लिए कानून बनाया गया है और उस कानून के अनुसार आप और निम्न वर्गों के लोगों को लेकर विशिष्ट खुद के कारण या सामान्य लोगों के बराबर लाने के लिए आरक्षण लागू किया गया था लेकर मिडिल क्लास के या करो क्लास पीपल लोगों के लिए भारत के महिलाओं के लिए भी आरक्षण लिए लाया गया था कानून के हिसाब से और जैसे के आर्थिक रुप से पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण और अनुसूचित जाति के लिए आरक्षण आदि जैसे कई आरक्षण लाए गए जलन की आरक्षण प्रणाली एक स्पष्ट भेदभाव है लेकिन इसकी शुरुआत सामाजिक रुप से यह जो है उद्देश पिलाई गई थी ताकि समाज में उपलब्ध अवसरों में उन्हें सम्मान असमानता मिलना चाहिए करके कि जो भी लो क्लासेस लेकर क्लासेस पीपल को मिल रहा है वही जो हेलो क्लास पेपर लोगों को भी लेकर सीएम इंपॉर्टेंट देना चाहिए घर के लेकिन अभी इसका अर्थ बदल ही गया है जिस तरह लोगों ने द्वारा इसके लाभ उठाएं हैं जिसे के स्किन फायदे लोक उठाने शुरू करते हैं इसे देखकर बहुत से लोगों का मानना है कि कानून बंद हो जाना चाहिए लोगों को इसका उपयोग करना शुरू कर दिया है और राज्य के महा विद्यालय में एडमिशन लेने के लिए जो है नौकरी पाने के लिए छूट 10th पर्स बनाना इसके कई उदाहरणMere Hisab Se To Wah Bharat Ke Bharat Se Aarakshan Samapt Kar Dena Chahiye Aur Kyonki Log Iske Bahut Tez Vague Galat Fayda Utha Rahe Hain But Abhi Bhartiya Samvidhan Mein Iske Liye Kanoon Banaya Gaya Hai Aur Us Kanoon Ke Anusar Aap Aur Nimn Vargon Ke Logon Ko Lekar Vishist Khud Ke Kaaran Ya Samanya Logon Ke Barabar Lane Ke Liye Aarakshan Laagu Kiya Gaya Tha Lekar Middle Class Ke Ya Karo Class Pipal Logon Ke Liye Bharat Ke Mahilaon Ke Liye Bhi Aarakshan Liye Laya Gaya Tha Kanoon Ke Hisab Se Aur Jaise Ke Aarthik Roop Se Pichade Varg Ke Liye Aarakshan Aur Anusuchit Jati Ke Liye Aarakshan Aadi Jaise Kai Aarakshan Laye Gaye Jalan Ki Aarakshan Pranali Ek Spasht Bhedbhav Hai Lekin Iski Shuruvat Samajik Roop Se Yeh Jo Hai Uddesh Pillai Gayi Thi Taki Samaaj Mein Uplabdha Avasaron Mein Unhen Samman Asamanta Milna Chahiye Karke Ki Jo Bhi Lo Classes Lekar Classes Pipal Ko Mil Raha Hai Wahi Jo Hello Class Paper Logon Ko Bhi Lekar Cm Important Dena Chahiye Ghar Ke Lekin Abhi Iska Arth Badal Hi Gaya Hai Jis Tarah Logon Ne Dwara Iske Labh Uthaen Hain Jise Ke Skin Fayde Lok Uthane Shuru Karte Hain Ise Dekhkar Bahut Se Logon Ka Manana Hai Ki Kanoon Band Ho Jana Chahiye Logon Ko Iska Upyog Karna Shuru Kar Diya Hai Aur Rajya Ke Maha Vidyalaya Mein Admission Lene Ke Liye Jo Hai Naukri Pane Ke Liye Chhut 10th Purse Banana Iske Kai Udaharan
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Se Aarakshan Samapt Kar Dena Chahiye ?





मन में है सवाल?