पूर्व क्रिकेटर किरमानी ने अपनी आँखें दान करने के निर्णय को उलट दिया है, उन्होंने ऐसा क्यों किया? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर रहे सैयद किरमानी ने शनिवार को अपने एक फैसले से पलट कर लोगों को चौंका दिया उन्होंने एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए कहा की आप सभी लोगों को आंखें डोनेट करनी चाहिए और मैं...जवाब पढ़िये
भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर रहे सैयद किरमानी ने शनिवार को अपने एक फैसले से पलट कर लोगों को चौंका दिया उन्होंने एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए कहा की आप सभी लोगों को आंखें डोनेट करनी चाहिए और मैं भी अपनी आंखें दान कर रहा हूं इसके अलावा आंखें दान करने के बारे में उन्होंने कहा कि एक उम्र के बाद ही आपके अंदर आंखें दान करने का विचार आता है मगर हमारी तरह और भी जाने माने चाहे इसके लिए आगे आए तो यह काफी मददगार साबित होगा यह जो प्रोग्राम हो रहा था उसे रोटरी राजन आई बैंक और रोटरी क्लब ऑफ मद्रास क्या करवा रहे थे जिसमें सैयद किरमानी हिस्सा ले रहे थे लेकिन ऐसा बयान देने के बाद उन्होंने अपना फैसला बदल और टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि आंखें दान करने का उनका जो फैसला था वह सैनिक था और किरमानी ने यह बोला कि वह अपनी धार्मिक मान्यताओं के सम्मान में इस फैसले को अंजाम तक नहीं पहुंचा सकते हैं उन्होंने यह भी कहा कि मैं एक भावुक इंसान हूं उस वक्त मैं इतना भावुक हो गया था कि मैंने अपनी आंखें दान करने का संकल्प ले लिया लेकिन मैं अपनी धार्मिक मान्यताओं के सम्मान में ऐसा नहीं कर पाऊंगा तू मेरी मुताबिक का ऐसा हो सकता है कि उनके धर्म में आई डोनेशन की बात को अच्छा नहीं माना जाता होगा या किसी भी ऑर्गन के डोनेशन को अच्छा नहीं माना जाता होगा तो मेरे जैसा मानता हूं कि अगर कोई इंसान अपनी चीज़ अपनी आई वगैरा या फिर कोई भी बॉडी का ऑर्गन डोनेट करता है तो इससे अच्छी बात और कोई भी नहीं हो सकती है क्योंकि इससे आप कई लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती है और अगर कोई इंसान आई डोनेट करता है तो वह व्यक्ति जिसे यह डोनेट आई दी जाती है वह इस दुनिया को फिर से देख पाएगा और यदि कोई व्यक्ति बचपन से ही अंधा है तो वह पहली बार इस दुनिया को अपनी आंखो से देख पाएगा तो इससे अच्छी पुणे की बात और कोई भी नहीं हो सकती हैBhartiya Cricket Team Ke Wicketkeeper Rahe Shaiyad Kirmani Ne Shaniwaar Ko Apne Ek Faisle Se Palat Kar Logon Ko Chaunka Diya Unhone Ek Karyakram Mein Hissa Lete Hue Kaha Ki Aap Sabhi Logon Ko Aankhen Donate Karni Chahiye Aur Main Bhi Apni Aankhen Daan Kar Raha Hoon Iske Alava Aankhen Daan Karne Ke Baare Mein Unhone Kaha Ki Ek Umar Ke Baad Hi Aapke Andar Aankhen Daan Karne Ka Vichar Aata Hai Magar Hamari Tarah Aur Bhi Jaane Mane Chahe Iske Liye Aage Aaye To Yeh Kafi Madadgaar Saabit Hoga Yeh Jo Program Ho Raha Tha Use Rotary Rajan Eye Bank Aur Rotary Club Of Madras Kya Karava Rahe The Jisme Shaiyad Kirmani Hissa Le Rahe The Lekin Aisa Bayan Dene Ke Baad Unhone Apna Faisla Badal Aur Times Of India Se Kaha Ki Aankhen Daan Karne Ka Unka Jo Faisla Tha Wah Sainik Tha Aur Kirmani Ne Yeh Bola Ki Wah Apni Dharmik Manyataon Ke Samman Mein Is Faisle Ko Anjaam Tak Nahi Pahuncha Sakte Hain Unhone Yeh Bhi Kaha Ki Main Ek Bhavuk Insaan Hoon Us Waqt Main Itna Bhavuk Ho Gaya Tha Ki Maine Apni Aankhen Daan Karne Ka Sankalp Le Liya Lekin Main Apni Dharmik Manyataon Ke Samman Mein Aisa Nahi Kar Paunga Tu Meri Mutabik Ka Aisa Ho Sakta Hai Ki Unke Dharm Mein Eye Donation Ki Baat Ko Accha Nahi Mana Jata Hoga Ya Kisi Bhi Organ Ke Donation Ko Accha Nahi Mana Jata Hoga To Mere Jaisa Manata Hoon Ki Agar Koi Insaan Apni Cheese Apni Eye Vagaira Ya Phir Koi Bhi Body Ka Organ Donate Karta Hai To Isse Acchi Baat Aur Koi Bhi Nahi Ho Sakti Hai Kyonki Isse Aap Kai Logon Ki Zindagi Bachai Ja Sakti Hai Aur Agar Koi Insaan Eye Donate Karta Hai To Wah Vyakti Jise Yeh Donate Eye Di Jati Hai Wah Is Duniya Ko Phir Se Dekh Payega Aur Yadi Koi Vyakti Bachpan Se Hi Andha Hai To Wah Pehli Baar Is Duniya Ko Apni Aankho Se Dekh Payega To Isse Acchi Pune Ki Baat Aur Koi Bhi Nahi Ho Sakti Hai
Likes  18  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी प्रमुख कारण सामने नहीं आ पा रहा है कि उन्होंने ऐसा फैसला क्यों लिया और उसे अपना जो फैसला था पर बकरा क्यों किया पहले बताया गया तो शुरू ट्रिक अब तो मद्रास के अंदर था इसके तहत मैंने उसमें यह ऐलान ...जवाब पढ़िये
कोई भी प्रमुख कारण सामने नहीं आ पा रहा है कि उन्होंने ऐसा फैसला क्यों लिया और उसे अपना जो फैसला था पर बकरा क्यों किया पहले बताया गया तो शुरू ट्रिक अब तो मद्रास के अंदर था इसके तहत मैंने उसमें यह ऐलान कर दिया था कि वह अपनी आंखें दान देंगे फिर एकदम सुनकर यह डिसीजन वापस लेना लोगों को काफी चौंका दिया इसमें किसी का करो क्योंकि यह बहुत ही पुंय का काम था तब आपको आपकी जोड़ी आंखें हैं आपके मरने के बाद में अगर किसी और के साथ आ सकती तुझसे अच्छी बात क्या आई होगी आपकी आंखे तो अभी भी जीवित रहेंगे आपकी आंखों को जीवन लंबा मिल पाएगा कि इसमें किसी का सहारा बन सकती हैं और किसी जरूरतमंद के काम आ सकती हैं अब मरते मरते को किसी जरुरतमंद की मदद करते हो जा रहे हैं तो फिर इससे अच्छा काम आपको क्या मिलेगा आपको आपको सोएगी नसीब होगा वह तो ऐसा ही है पर उसके बाद भी उनका यह वापस करना मुझे लगता है कितने सूट बूट वाले क्रिकेटर जो है और उन्हें कुछ सोच समझकर यह डिसीजन लिया होगा तो मैं यही सोच रही हूं कि ऐसा क्या सूट बूट करने डिसीजन लिया होगा हो सकता है कि उनके घर वालों ने नाइस पीस के लिए इजाजत दी हो या कुछ और उन्होंने सोचा हो यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि हमने क्या सोचकर यह डिसीजन बदला पर आए यह डिसीजन बदलना काफी निराशाजनक ही रहाKoi Bhi Pramukh Kaaran Samane Nahi Aa Pa Raha Hai Ki Unhone Aisa Faisla Kyun Liya Aur Use Apna Jo Faisla Tha Par Bakara Kyun Kiya Pehle Bataya Gaya To Shuru Trick Ab To Madras Ke Andar Tha Iske Tahat Maine Usamen Yeh Elan Kar Diya Tha Ki Wah Apni Aankhen Daan Denge Phir Ekdam Sunkar Yeh Decision Wapas Lena Logon Ko Kafi Chaunka Diya Isme Kisi Ka Karo Kyonki Yeh Bahut Hi Puny Ka Kaam Tha Tab Aapko Aapki Jodi Aankhen Hain Aapke Marne Ke Baad Mein Agar Kisi Aur Ke Saath Aa Sakti Tujhse Acchi Baat Kya Eye Hogi Aapki Aankhen To Abhi Bhi Jeevit Rahenge Aapki Aakhon Ko Jeevan Lamba Mil Payega Ki Isme Kisi Ka Sahara Ban Sakti Hain Aur Kisi Jaruratmand Ke Kaam Aa Sakti Hain Ab Marte Marte Ko Kisi Jaruratamand Ki Madad Karte Ho Ja Rahe Hain To Phir Isse Accha Kaam Aapko Kya Milega Aapko Aapko Soegi Nasib Hoga Wah To Aisa Hi Hai Par Uske Baad Bhi Unka Yeh Wapas Karna Mujhe Lagta Hai Kitne Suit Boot Wale Cricketer Jo Hai Aur Unhen Kuch Soch Samajhkar Yeh Decision Liya Hoga To Main Yahi Soch Rahi Hoon Ki Aisa Kya Suit Boot Karne Decision Liya Hoga Ho Sakta Hai Ki Unke Ghar Walon Ne Nice Pis Ke Liye Ijajat Di Ho Ya Kuch Aur Unhone Socha Ho Yeh Spasht Nahi Ho Pa Raha Hai Ki Humne Kya Sochkar Yeh Decision Badla Par Aaye Yeh Decision Badalna Kafi Nirashajanak Hi Raha
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत के पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी ने साधकों को एक फंक्शन में जाने की एक फंक्शन में क्या वर्णित कैंपियन में गए थे क्योंकि रोटरी राजन आई बैंक लूट ली प्रमोद महाजन ने ऑर्गनाइज करवाया था वहां जाकर...जवाब पढ़िये
देखिए भारत के पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी ने साधकों को एक फंक्शन में जाने की एक फंक्शन में क्या वर्णित कैंपियन में गए थे क्योंकि रोटरी राजन आई बैंक लूट ली प्रमोद महाजन ने ऑर्गनाइज करवाया था वहां जाकर उन्होंने सबके सामने बड़ी सूरज और उसे बोल दिया कि मैं आपकी आंखें डोनेट कर रहा हूं आप भी अपनी आंखें डोनेट कीजिए और यह भी बोला कि अगर ज्यादा लोग सामने आएंगे तो ज्यादा हेल्पफुल रहेगा लेकिन उसकी कुछ टाइम के बाद का प्लानिंग यह बोला कि मैं बहुत इमोशनल और सेंटीमेंटल इंसान हूं मैं बहुत टच था उस इनिशिएटिव से इसलिए मैंने अपनी आंखें दान करने का फैसला लिया था लेकिन मैं कुछ रिलीजियस कारणों की वजह से ऐसा नहीं कर पाऊंगा तुम मुझे लगता है कि बहुत ही बेतुकी बात है दीदी लोगों के बीच दिमाग में एक बहन है कि अगर उन्होंने इस जन्म में अपनी आंखें या अपना कोई भी शरीर का अंग दान दिया तो अगले जन्म में पास हुआ कि नहीं होगा क्योंकि साइंटिफिक लिए भी बहुत बेवकूफों वाली बात है यह रिलीजियस एक बिल्ली है लोगों के अंदर उन्होंने ऐसा क्यों किया यह तो वही बता सकते हैं शायद मूवीस रिलीजियस प्लेस में मानते हो बट उन्होंने गलत किया यह मैं आपको मेरे साथ रहना पसंद बता सकती हूं और आगे पीछे हट जाएंगे जोगी 1% लोग नहीं जानते हैं तो आप लोग क्यों सामने आएंगे तो कुछ भी अच्छा काम करने कोDekhie Bharat Ke Purv Wicketkeeper Shaiyad Kirmani Ne Saadhako Ko Ek Function Mein Jaane Ki Ek Function Mein Kya Varnit Kaimpiyan Mein Gaye The Kyonki Rotary Rajan Eye Bank Loot Lee Pramod Mahaajan Ne Arganaij Karvaya Tha Wahan Jaakar Unhone Sabke Samane Badi Suraj Aur Use Bol Diya Ki Main Aapki Aankhen Donate Kar Raha Hoon Aap Bhi Apni Aankhen Donate Kijiye Aur Yeh Bhi Bola Ki Agar Jyada Log Samane Aayenge To Jyada Helpaful Rahega Lekin Uski Kuch Time Ke Baad Ka Planning Yeh Bola Ki Main Bahut Emotional Aur Sentimental Insaan Hoon Main Bahut Touch Tha Us Inishietiv Se Isliye Maine Apni Aankhen Daan Karne Ka Faisla Liya Tha Lekin Main Kuch Religious Kaarno Ki Wajah Se Aisa Nahi Kar Paunga Tum Mujhe Lagta Hai Ki Bahut Hi Betuki Baat Hai Didi Logon Ke Beech Dimag Mein Ek Behen Hai Ki Agar Unhone Is Janm Mein Apni Aankhen Ya Apna Koi Bhi Sharir Ka Ang Daan Diya To Agle Janm Mein Paas Hua Ki Nahi Hoga Kyonki Scientific Liye Bhi Bahut Bevakufon Wali Baat Hai Yeh Religious Ek Billi Hai Logon Ke Andar Unhone Aisa Kyun Kiya Yeh To Wahi Bata Sakte Hain Shayad Movies Religious Place Mein Manate Ho But Unhone Galat Kiya Yeh Main Aapko Mere Saath Rehna Pasand Bata Sakti Hoon Aur Aage Piche Hut Jaenge Jogi 1% Log Nahi Jante Hain To Aap Log Kyun Samane Aayenge To Kuch Bhi Accha Kaam Karne Ko
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Purv Cricketer Kirmani Ne Apni Aankhein Daan Karne Ke Nirnay Ko Ulat Diya Hai Unhone Aisa Kyon Kiya, Former Cricketer Kirmani Has Reversed The Decision To Donate His Eyes, Why Did He Do So?

vokalandroid