शहरों के नाम बदलने को लेकर बीजेपी और विपक्ष के बीच क्यूँ हो रही है जुबानी जंग? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शेरों का नाम बदलने का सिलसिला सिर्फ भाजपा ने नहीं शुरू किया है यह तो बहुत पहले से शुरू हो चुका है कई सालों से नाम चेंज होते आ रहे हैं बल्कि अंग्रेजों ने सबसे पहले यह सिलसिला शुरू किया जब जो हमारे जो पुराने नाम थे जिनको उन्होंने चेंज किया तो सबसे जैसे शिवसेना ने मुंबई को मुंबई बनाया नहीं कि नहीं हटने सीपीआई के बुद्धदेव भट्टाचार्य ने कोलकाता को कोलकाता बनाया तरीके से त्रिवेंद्रम तिरुवंतपुरम बनारस का पुराना नाम था जोकि अंग्रेजो ने जो नाम दिया उसे चेन्नई बना है क्या यह सब जरूरी नहीं है कि यह सारे चेंजेज भाजपा के सरकार ने किए तो बाकी सरकारों ने भी यह चेंजेज किए हैं लेकिन भाजपा की सरकार के खिलाफ जो बाकी लोगों के एगो है कि उन्होंने मुगल में जो नाम चेंज कर उनको वह क्यों चेंज करें मतलब और भी प्राचीन नाम को वह अभी क्यों चेंज कर रहे हैं यह बात हो रहा है तू इसमें तू और मेरे ख्याल से शहर का नाम जो है जो अंग्रेजी में कहावत है व्हाट्स एनएनएम मैंने रोज बाय एनी नेम बूट्स मेला स्वीट तो फिर नाम में क्या रखा है यह कह सकते हैं लेकिन लोगों का यह कहना है कि जब आप पुरानी संस्कृति के जो टेक्स्ट हैं वह सब पढ़ेंगे तो अल्लाहाबाद नहीं पड़ेंगे आप पड़ेगी प्रयाग तो फिर वह कहते हैं कि फिर अगर अगर हमने अगर यह नाम दिया है शहर को और महलों ने आकर चेंज किया तो हम क्यों ना वापस उसी नाम से पुकारे अपने शहरों को तो यह सब तो ठीक है लेकिन इन चीजों में इतने खर्चे होते हैं हर एक के ड्रेसेस चेंज होंगे सारी चीजें होंगे भाजपा सरकार को और चीजों में अकाउंट से ट्वीट करना चाहिए बजाय इसके कि अभी शहर के नाम चेंज करे व्हाट्सएप करें
Romanized Version
शेरों का नाम बदलने का सिलसिला सिर्फ भाजपा ने नहीं शुरू किया है यह तो बहुत पहले से शुरू हो चुका है कई सालों से नाम चेंज होते आ रहे हैं बल्कि अंग्रेजों ने सबसे पहले यह सिलसिला शुरू किया जब जो हमारे जो पुराने नाम थे जिनको उन्होंने चेंज किया तो सबसे जैसे शिवसेना ने मुंबई को मुंबई बनाया नहीं कि नहीं हटने सीपीआई के बुद्धदेव भट्टाचार्य ने कोलकाता को कोलकाता बनाया तरीके से त्रिवेंद्रम तिरुवंतपुरम बनारस का पुराना नाम था जोकि अंग्रेजो ने जो नाम दिया उसे चेन्नई बना है क्या यह सब जरूरी नहीं है कि यह सारे चेंजेज भाजपा के सरकार ने किए तो बाकी सरकारों ने भी यह चेंजेज किए हैं लेकिन भाजपा की सरकार के खिलाफ जो बाकी लोगों के एगो है कि उन्होंने मुगल में जो नाम चेंज कर उनको वह क्यों चेंज करें मतलब और भी प्राचीन नाम को वह अभी क्यों चेंज कर रहे हैं यह बात हो रहा है तू इसमें तू और मेरे ख्याल से शहर का नाम जो है जो अंग्रेजी में कहावत है व्हाट्स एनएनएम मैंने रोज बाय एनी नेम बूट्स मेला स्वीट तो फिर नाम में क्या रखा है यह कह सकते हैं लेकिन लोगों का यह कहना है कि जब आप पुरानी संस्कृति के जो टेक्स्ट हैं वह सब पढ़ेंगे तो अल्लाहाबाद नहीं पड़ेंगे आप पड़ेगी प्रयाग तो फिर वह कहते हैं कि फिर अगर अगर हमने अगर यह नाम दिया है शहर को और महलों ने आकर चेंज किया तो हम क्यों ना वापस उसी नाम से पुकारे अपने शहरों को तो यह सब तो ठीक है लेकिन इन चीजों में इतने खर्चे होते हैं हर एक के ड्रेसेस चेंज होंगे सारी चीजें होंगे भाजपा सरकार को और चीजों में अकाउंट से ट्वीट करना चाहिए बजाय इसके कि अभी शहर के नाम चेंज करे व्हाट्सएप करेंSheroon Ka Naam Badalne Ka Silsila Sirf Bhajpa Ne Nahi Shuru Kiya Hai Yeh To Bahut Pehle Se Shuru Ho Chuka Hai Kai Salon Se Naam Change Hote Aa Rahe Hain Balki Angrejo Ne Sabse Pehle Yeh Silsila Shuru Kiya Jab Jo Hamare Jo Purane Naam The Jinako Unhone Change Kiya To Sabse Jaise Shivsena Ne Mumbai Ko Mumbai Banaya Nahi Ki Nahi Hatane Cpi Ke Buddhadev Bhattacharya Ne Kolkata Ko Kolkata Banaya Tarike Se Trivendram Tiruvantapuram Banaras Ka Purana Naam Tha Joki Angrejo Ne Jo Naam Diya Use Chennai Bana Hai Kya Yeh Sab Zaroori Nahi Hai Ki Yeh Sare Changes Bhajpa Ke Sarkar Ne Kiye To Baki Sarkaro Ne Bhi Yeh Changes Kiye Hain Lekin Bhajpa Ki Sarkar Ke Khilaf Jo Baki Logon Ke Egon Hai Ki Unhone Mughal Mein Jo Naam Change Kar Unko Wah Kyon Change Karen Matlab Aur Bhi Prachin Naam Ko Wah Abhi Kyon Change Kar Rahe Hain Yeh Baat Ho Raha Hai Tu Isme Tu Aur Mere Khayal Se Sheher Ka Naam Jo Hai Jo Angrezi Mein Kahaavat Hai Whats NNM Maine Roj By Any Name Boots Mela Sweet To Phir Naam Mein Kya Rakha Hai Yeh Keh Sakte Hain Lekin Logon Ka Yeh Kehna Hai Ki Jab Aap Purani Sanskriti Ke Jo Text Hain Wah Sab Padhenge To Allahabad Nahi Padenge Aap Padegi Prayag To Phir Wah Kehte Hain Ki Phir Agar Agar Humne Agar Yeh Naam Diya Hai Sheher Ko Aur Mahaloan Ne Aakar Change Kiya To Hum Kyon Na Wapas Ussi Naam Se Pukare Apne Shaharon Ko To Yeh Sab To Theek Hai Lekin In Chijon Mein Itne Kharche Hote Hain Har Ek Ke Dresses Change Honge Saree Cheezen Honge Bhajpa Sarkar Ko Aur Chijon Mein Account Se Tweet Karna Chahiye Bajay Iske Ki Abhi Sheher Ke Naam Change Kare Whatsapp Karen
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

यूपी में शहरों के नाम बदलने को लेकर क्या देश की आम जनता के मन में धर्म के नाम पर मनमुटाव पैदा होना और धर्म की राजनीति का कोई उद्देश्य उठता है ? ...

बिल्कुल जी इसलिए किया जा रहे शिवसेना में गिरी की यूपी में सिर्फ उन्हीं जगहों का नाम चेंज किया जा रहा है जो कि मुस्लिम धर्म या फिर अरेबिक जैसे नाम है जैसे कि लखनऊ मिर्जापुर आगरा या फिर आजमगढ़ तीन तरह कजवाब पढ़िये
ques_icon

क्या बीजेपी द्वारा कांग्रेस की योजनाओं के नाम बदलने से विकास को तेजी मिलेगी। ...

देखी शिवाजी जब बीजेपी की सरकार आई थी उन्होंने लगभग यूपी एक ही गवर्नमेंट जोगी कांग्रेस की गवर्नमेंट थी उसके लगभग 23 जो स्कीम से उनके नाम को रिमूव किया इसमें कोई दो बातें नहीं है दो राय नहीं है उन्होंनेजवाब पढ़िये
ques_icon

बीजेपी vs विपक्ष क्या 2019 का चुनाव इसी रूप में होगा और कौन कौन से मुद्दे हो सकते है ? ...

आज के बीजेपी वर्सेस विपक्षियों है आजकल बहुत चल रहा है और विपक्ष आमंत्रित हैं बीवी अपोजीशन पार्टी है कांग्रेस हुई और कितने मेंबर्स हैं चाहे वह शिवसेना हो गई चाय समाजवादी पार्टी हुई यहां आरजेडी जेडीयू हजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीजे शहरों के नाम बदलने का जब बात आए तो भारत में जो भी शहरों के नाम बदले जा रहे हैं वह नाम प्राचीन काल में वही नाम थे और उन्हें भी दुबारा दौरा कर रखा जा रहा है सबसे बड़ी बात यह तो अलाहाबाद था जो पहले प्रयागराज कल आता तो उन्हें फिर से प्रयागराज रखा गया है तो भारत की जो तथ्य जो भारत पर जुड़ा हुआ है तो उसे हम कैसे इग्नोर कर सकते हैं उसे हम कैसे नहीं माने तो प्रयाग राज था जब मुग़ल सल्तनत आया तो अकबर ने उसे प्रयागराज डाकला बात किया मैं मानता हूं अलाहाबाद से लोगों की बहुत यादें जुड़ी है लेकिन प्रयागराज भारत के क्षमता से जुड़ा हुआ है प्रयागराज जो इसके इतिहास से जुड़ा हुआ है वह मैं कैसे छोड़ कर एक्सेप्ट करूं जब से पहले जमुना में प्रयागराज था तो निश्चित तौर पर जो भी प्राचीन नाम था इस तौर पर उन्हें रखा जा रहा है मेरा मानना है कि डेफिनटली जो हमारे भारत के इतिहास से जोरदार हमें भारत से जोड़ता है और नाम होना चाहिए ना कि कोई विदेशी आके हमारे भारत में जगह का नाम चेंज करो मुझसे एक्सेप्ट कर ले तो बहुत ही अच्छी कोशिश है मैं बहुत ही पसंद है इसके साथ और बात रही अपोजिशन की तो ऑपरेशन का तो वोट बैंक खड़ा करने का एक तरीका है उनकी कोशिश है कि वुडमैन किस तरीके से बनी और कुछ नहीं है और ज्यादा के नाम और वैसे जैसे अभी अहमदाबाद का नाम बदलने का भी बात हो रहा है इस तरीके से कई जगह का नाम बदलते हुए देख सकते हैं
Romanized Version
डीजे शहरों के नाम बदलने का जब बात आए तो भारत में जो भी शहरों के नाम बदले जा रहे हैं वह नाम प्राचीन काल में वही नाम थे और उन्हें भी दुबारा दौरा कर रखा जा रहा है सबसे बड़ी बात यह तो अलाहाबाद था जो पहले प्रयागराज कल आता तो उन्हें फिर से प्रयागराज रखा गया है तो भारत की जो तथ्य जो भारत पर जुड़ा हुआ है तो उसे हम कैसे इग्नोर कर सकते हैं उसे हम कैसे नहीं माने तो प्रयाग राज था जब मुग़ल सल्तनत आया तो अकबर ने उसे प्रयागराज डाकला बात किया मैं मानता हूं अलाहाबाद से लोगों की बहुत यादें जुड़ी है लेकिन प्रयागराज भारत के क्षमता से जुड़ा हुआ है प्रयागराज जो इसके इतिहास से जुड़ा हुआ है वह मैं कैसे छोड़ कर एक्सेप्ट करूं जब से पहले जमुना में प्रयागराज था तो निश्चित तौर पर जो भी प्राचीन नाम था इस तौर पर उन्हें रखा जा रहा है मेरा मानना है कि डेफिनटली जो हमारे भारत के इतिहास से जोरदार हमें भारत से जोड़ता है और नाम होना चाहिए ना कि कोई विदेशी आके हमारे भारत में जगह का नाम चेंज करो मुझसे एक्सेप्ट कर ले तो बहुत ही अच्छी कोशिश है मैं बहुत ही पसंद है इसके साथ और बात रही अपोजिशन की तो ऑपरेशन का तो वोट बैंक खड़ा करने का एक तरीका है उनकी कोशिश है कि वुडमैन किस तरीके से बनी और कुछ नहीं है और ज्यादा के नाम और वैसे जैसे अभी अहमदाबाद का नाम बदलने का भी बात हो रहा है इस तरीके से कई जगह का नाम बदलते हुए देख सकते हैंDJ Shaharon Ke Naam Badalne Ka Jab Baat Aaye To Bharat Mein Jo Bhi Shaharon Ke Naam Badle Ja Rahe Hain Wah Naam Prachin Kaal Mein Wahi Naam The Aur Unhen Bhi Dubara Daura Kar Rakha Ja Raha Hai Sabse Badi Baat Yeh To Allahabad Tha Jo Pehle Prayagraj Kal Aata To Unhen Phir Se Prayagraj Rakha Gaya Hai To Bharat Ki Jo Tathya Jo Bharat Par Juda Hua Hai To Use Hum Kaise Ignore Kar Sakte Hain Use Hum Kaise Nahi Mane To Prayag Raj Tha Jab Mughal Sultanate Aaya To Akbar Ne Use Prayagraj Dakla Baat Kiya Main Manata Hoon Allahabad Se Logon Ki Bahut Yaadain Judi Hai Lekin Prayagraj Bharat Ke Kshamta Se Juda Hua Hai Prayagraj Jo Iske Itihas Se Juda Hua Hai Wah Main Kaise Chod Kar Except Karun Jab Se Pehle Jamuna Mein Prayagraj Tha To Nishchit Taur Par Jo Bhi Prachin Naam Tha Is Taur Par Unhen Rakha Ja Raha Hai Mera Manana Hai Ki Definatali Jo Hamare Bharat Ke Itihas Se Jordaar Hume Bharat Se Jodtha Hai Aur Naam Hona Chahiye Na Ki Koi Videshi Aake Hamare Bharat Mein Jagah Ka Naam Change Karo Mujhse Except Kar Le To Bahut Hi Acchi Koshish Hai Main Bahut Hi Pasand Hai Iske Saath Aur Baat Rahi Opposition Ki To Operation Ka To Vote Bank Khada Karne Ka Ek Tarika Hai Unki Koshish Hai Ki Vudmain Kis Tarike Se Bani Aur Kuch Nahi Hai Aur Zyada Ke Naam Aur Waise Jaise Abhi Ahmedabad Ka Naam Badalne Ka Bhi Baat Ho Raha Hai Is Tarike Se Kai Jagah Ka Naam Badalte Huye Dekh Sakte Hain
Likes  62  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखा जाए तो शहरों के नाम बदलने को लेकर बीजेपी l55 बहुत जुबानी जंग हो रही है जो इधर से इलाहाबाद का प्रयागराज कर दिया गया और अभी तक इलाहाबाद तत्व क्या दिक्कत थी इलाहाबाद चौकी दिक्कत कोई समस्या लिखने के लिए समस्या हो रही है तो आप भी आप उसका भी खासकर आइए आप बीटी यूपी केसर कितने पीछे यूपी भी कई देखे भी पिछड़ा हुआ है दूसरे राज्यों से तुलना करें तो इस देश के नाम से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है कि नाम बदल दिया तो कुछ हो गया है मैं भी हिंदू हूं फिर भी सपोर्ट नहीं करता हूं कि वह अभी इलाहाबाद नाम था और सरकार ने बोला कि वह अल्लाहाबाद हो जाता है तो उसका नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया तो इससे कोई फायदा नहीं हो रहा है बस रूट मंदिर अखाड़ा बन रही है सरकार एक वोट बैंक बनाने का मुद्दा बना ली है कि हमें बस बनाना है तो उसके लिए लोगों के मन में कैसे डाल सके जब कुछ नहीं हो रहा तो चलो नाम ही बदल दिया जाए इस लोकेंद्र कुछ तो फर्क आएगा लोकेशन जाएगी हमारे हिसाब से घर का नाम रख ले हमारे धर्म की जा सकती है फायदा नहीं सब कुछ भी कुछ ऐसे ही करवाना है तो शहरों का डेवलपमेंट करना है वह चीज ज्यादा जरूरी हो जाती है लेकिन नाम बदलना
Romanized Version
देखा जाए तो शहरों के नाम बदलने को लेकर बीजेपी l55 बहुत जुबानी जंग हो रही है जो इधर से इलाहाबाद का प्रयागराज कर दिया गया और अभी तक इलाहाबाद तत्व क्या दिक्कत थी इलाहाबाद चौकी दिक्कत कोई समस्या लिखने के लिए समस्या हो रही है तो आप भी आप उसका भी खासकर आइए आप बीटी यूपी केसर कितने पीछे यूपी भी कई देखे भी पिछड़ा हुआ है दूसरे राज्यों से तुलना करें तो इस देश के नाम से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है कि नाम बदल दिया तो कुछ हो गया है मैं भी हिंदू हूं फिर भी सपोर्ट नहीं करता हूं कि वह अभी इलाहाबाद नाम था और सरकार ने बोला कि वह अल्लाहाबाद हो जाता है तो उसका नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया तो इससे कोई फायदा नहीं हो रहा है बस रूट मंदिर अखाड़ा बन रही है सरकार एक वोट बैंक बनाने का मुद्दा बना ली है कि हमें बस बनाना है तो उसके लिए लोगों के मन में कैसे डाल सके जब कुछ नहीं हो रहा तो चलो नाम ही बदल दिया जाए इस लोकेंद्र कुछ तो फर्क आएगा लोकेशन जाएगी हमारे हिसाब से घर का नाम रख ले हमारे धर्म की जा सकती है फायदा नहीं सब कुछ भी कुछ ऐसे ही करवाना है तो शहरों का डेवलपमेंट करना है वह चीज ज्यादा जरूरी हो जाती है लेकिन नाम बदलनाDekha Jaye To Shaharon Ke Naam Badalne Ko Lekar Bjp L55 Bahut Jubani Jung Ho Rahi Hai Jo Idhar Se Allahabad Ka Prayagraj Kar Diya Gaya Aur Abhi Tak Allahabad Tatva Kya Dikkat Thi Allahabad Chowki Dikkat Koi Samasya Likhne Ke Liye Samasya Ho Rahi Hai To Aap Bhi Aap Uska Bhi Khaskar Aaiye Aap Biti Up Kesar Kitne Piche Up Bhi Kai Dekhe Bhi Pichada Hua Hai Dusre Rajyo Se Tulna Karen To Is Desh Ke Naam Se Koi Fark Nahi Padane Vala Hai Ki Naam Badal Diya To Kuch Ho Gaya Hai Main Bhi Hindu Hoon Phir Bhi Support Nahi Karta Hoon Ki Wah Abhi Allahabad Naam Tha Aur Sarkar Ne Bola Ki Wah Allahabad Ho Jata Hai To Uska Naam Badalkar Prayagraj Kar Diya Gaya To Isse Koi Fayda Nahi Ho Raha Hai Bus Root Mandir Akhada Ban Rahi Hai Sarkar Ek Vote Bank Banane Ka Mudda Bana Lee Hai Ki Hume Bus Banana Hai To Uske Liye Logon Ke Man Mein Kaise Dal Sake Jab Kuch Nahi Ho Raha To Chalo Naam Hi Badal Diya Jaye Is Lokendra Kuch To Fark Aaega Location Jayegi Hamare Hisab Se Ghar Ka Naam Rakh Le Hamare Dharm Ki Ja Sakti Hai Fayda Nahi Sab Kuch Bhi Kuch Aise Hi Karwana Hai To Shaharon Ka Development Karna Hai Wah Cheez Zyada Zaroori Ho Jati Hai Lekin Naam Badalna
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारतीय जनता पार्टी जो कार्य कर रही है शहरों का नाम बदल रही है यह बहुत अच्छा काम कर रही है औरंगजेब ने हमारे देश के सभी शहरों का नाम बदला था इलाहाबाद पहले प्रयागराज हुआ करता था योगी जी ने उसे फिर से प्रयागराज बना दिया और फैजाबाद अयोध्या के नाम से जाना जाएगा इससे क्या होगा कि हमारे भारतीय संस्कृति को उसकी पहचान मिलेगी हमारे हिंदुत्व को उसकी पहचान मिलेगी और हमारे देश की पहचान उसे वापस मिलेगी और जब पहचान वापस मिलेगी तो हम समझ पाएंगे अपने धर्म के बारे में अपनी जाति के बारे में अपने लोगों के बारे में अपने देश के बारे में जब हम अपने हिंदुत्व को समझेंगे इस पहचान से नाम बदलने से जो पहचान मिली है उसके माध्यम से हम जब हिंदुत्व की विचारधारा हमारे सवा सौ करोड़ देशवासियों के अंदर आएगी तब हमारा देश बहुत तेजी से आगे बढ़ेगा हम कभी अपना वोट गलत पार्टी को नहीं देंगे कौन इस पार्टी ने हमेशा भ्रष्टाचार की राजनीति की है हमेशा आतंकवादियों का समर्थन किया है तो कांग्रेस पार्टी को मुक्त करने के लिए यह नाम बदलना बहुत जरूरी था नाम बदलने से लोगों की विचारधारा बदले की विचारधारा बदलेगी तो हमारी संस्कृति को उसकी पहचान मिलेगी तभी हम भारतीय जनता पार्टी को समझ पाएंगे उसके हम यह समझ पाएंगे और हमारा देश आगे बढ़ सकेगा तो इसलिए अपना महत्वपूर्ण वोट भारतीय जनता पार्टी को दीजिए ताकि हमारा देश आगे बढ़ सके हमारा देश शक्तिशाली हो सके धन्यवाद
Romanized Version
देखिए भारतीय जनता पार्टी जो कार्य कर रही है शहरों का नाम बदल रही है यह बहुत अच्छा काम कर रही है औरंगजेब ने हमारे देश के सभी शहरों का नाम बदला था इलाहाबाद पहले प्रयागराज हुआ करता था योगी जी ने उसे फिर से प्रयागराज बना दिया और फैजाबाद अयोध्या के नाम से जाना जाएगा इससे क्या होगा कि हमारे भारतीय संस्कृति को उसकी पहचान मिलेगी हमारे हिंदुत्व को उसकी पहचान मिलेगी और हमारे देश की पहचान उसे वापस मिलेगी और जब पहचान वापस मिलेगी तो हम समझ पाएंगे अपने धर्म के बारे में अपनी जाति के बारे में अपने लोगों के बारे में अपने देश के बारे में जब हम अपने हिंदुत्व को समझेंगे इस पहचान से नाम बदलने से जो पहचान मिली है उसके माध्यम से हम जब हिंदुत्व की विचारधारा हमारे सवा सौ करोड़ देशवासियों के अंदर आएगी तब हमारा देश बहुत तेजी से आगे बढ़ेगा हम कभी अपना वोट गलत पार्टी को नहीं देंगे कौन इस पार्टी ने हमेशा भ्रष्टाचार की राजनीति की है हमेशा आतंकवादियों का समर्थन किया है तो कांग्रेस पार्टी को मुक्त करने के लिए यह नाम बदलना बहुत जरूरी था नाम बदलने से लोगों की विचारधारा बदले की विचारधारा बदलेगी तो हमारी संस्कृति को उसकी पहचान मिलेगी तभी हम भारतीय जनता पार्टी को समझ पाएंगे उसके हम यह समझ पाएंगे और हमारा देश आगे बढ़ सकेगा तो इसलिए अपना महत्वपूर्ण वोट भारतीय जनता पार्टी को दीजिए ताकि हमारा देश आगे बढ़ सके हमारा देश शक्तिशाली हो सके धन्यवादDekhie Bharatiya Janta Party Jo Karya Kar Rahi Hai Shaharon Ka Naam Badal Rahi Hai Yeh Bahut Accha Kaam Kar Rahi Hai Aurangzeb Ne Hamare Desh Ke Sabhi Shaharon Ka Naam Badla Tha Allahabad Pehle Prayagraj Hua Karta Tha Yogi G Ne Use Phir Se Prayagraj Bana Diya Aur Faizabad Ayodhya Ke Naam Se Jana Jayega Isse Kya Hoga Ki Hamare Bharatiya Sanskriti Ko Uski Pehchaan Milegi Hamare Hindutva Ko Uski Pehchaan Milegi Aur Hamare Desh Ki Pehchaan Use Wapas Milegi Aur Jab Pehchaan Wapas Milegi To Hum Samajh Payenge Apne Dharm Ke Bare Mein Apni Jati Ke Bare Mein Apne Logon Ke Bare Mein Apne Desh Ke Bare Mein Jab Hum Apne Hindutva Ko Samjhenge Is Pehchaan Se Naam Badalne Se Jo Pehchaan Mili Hai Uske Maadhyam Se Hum Jab Hindutva Ki Vichardhara Hamare Sava Sau Crore Deshvasiyon Ke Andar Aaegi Tab Hamara Desh Bahut Teji Se Aage Badhega Hum Kabhi Apna Vote Galat Party Ko Nahi Denge Kaon Is Party Ne Hamesha Bhrashtachar Ki Rajneeti Ki Hai Hamesha Aatankwadion Ka Samarthan Kiya Hai To Congress Party Ko Mukt Karne Ke Liye Yeh Naam Badalna Bahut Zaroori Tha Naam Badalne Se Logon Ki Vichardhara Badle Ki Vichardhara Badalegi To Hamari Sanskriti Ko Uski Pehchaan Milegi Tabhi Hum Bharatiya Janta Party Ko Samajh Payenge Uske Hum Yeh Samajh Payenge Aur Hamara Desh Aage Badh Sakega To Isliye Apna Mahatvapurna Vote Bharatiya Janta Party Ko Dijiye Taki Hamara Desh Aage Badh Sake Hamara Desh Shaktishaali Ho Sake Dhanyavad
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Shaharon Ke Naam Badalne Ko Lekar Bjp Aur Vipaksh Ke Bich Kyun Ho Rahi Hai Jubani Jung,


vokalandroid