क्या सुप्रीम कोर्ट को धारा 377 पे रोक लगानी चाहिए, जो समलैंगिकता को अपराध बनाती है? क्यों? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी के भजन जो 377 धारा उसके हिसाब से अगर कोई समय लगता जैसी की हरकत करता है तो उसको इंडियन पैनल कोर्ट में जो लिखा हो गया उसको सजा दी जाएगी और उसके खिलाफ एक्शन भी होगा लेकिन हम लोग क्या होता हम लोग भारती...जवाब पढ़िये
जी के भजन जो 377 धारा उसके हिसाब से अगर कोई समय लगता जैसी की हरकत करता है तो उसको इंडियन पैनल कोर्ट में जो लिखा हो गया उसको सजा दी जाएगी और उसके खिलाफ एक्शन भी होगा लेकिन हम लोग क्या होता हम लोग भारतीय लोग टाइम के हिसाब से नहीं चलता है समय बदल रहा है और लोग बदल रहे हैं और जो समलैंगिकता वाली फीलिंग है वो जानबूझकर नहीं होती वह ओरिजिनल ही अपने आप ही डर लगती है तो मुझे लगता है उनके साथ चलना चाहिए और और जो अदर कंट्री कंट्री इस को फॉलो कर रहे हैं उसको अपना नहीं मानती हो तो मुझे लगता है कि हम को भी अपराध नहीं मानना चाहिए अगर कोई व्यक्ति अगर ऐसा है तो भाई ठीक है अगर वह है तो है हम उसको जबरदस्ती नहीं कर सकते ना तो और यह अपराध भी नहीं है मुझे तो कहीं किसी और किसी एंगल से ही अपराध नहीं लगता है तो मुझे लगता है कि हमारे गवर्नमेंट को के बारे में सोचना चाहिए और इसको अपराध नामांतर स्कोर लाइव कर देना चाहिए एक व्यक्ति है उसकी पर्सनल लाइफ में कैसे रहना चाहता है वह किस को पसंद करता है वह किस डे किस की पर्सनल चीज़ है और हमारे वैसे भी लो में लिखा हुआ है कि हर व्यक्ति को अपना सोचने का और रहने का अधिकार है तो मुझे लगता है कि उसको भी फॉलो कर रहा है और इस पर जो धारा लगाई गई है और इसे अपराध माना गया है उसको थोड़ा विचार करना चाहिए उसको हटा देना चाहिए थैंक यूJi Ke Bhajan Jo 377 Dhara Uske Hisab Se Agar Koi Samay Lagta Jaisi Ki Harkat Karta Hai To Usko Indian Painal Court Mein Jo Likha Ho Gaya Usko Saja Di Jayegi Aur Uske Khilaf Action Bhi Hoga Lekin Hum Log Kya Hota Hum Log Bhartiya Log Time Ke Hisab Se Nahi Chalta Hai Samay Badal Raha Hai Aur Log Badal Rahe Hain Aur Jo Samlaingikta Wali Feeling Hai Vo Janbujhkar Nahi Hoti Wah Original Hi Apne Aap Hi Dar Lagti Hai To Mujhe Lagta Hai Unke Saath Chalna Chahiye Aur Aur Jo Other Country Country Is Ko Follow Kar Rahe Hain Usko Apna Nahi Maanati Ho To Mujhe Lagta Hai Ki Hum Ko Bhi Apradh Nahi Manana Chahiye Agar Koi Vyakti Agar Aisa Hai To Bhai Theek Hai Agar Wah Hai To Hai Hum Usko Jabardasti Nahi Kar Sakte Na To Aur Yeh Apradh Bhi Nahi Hai Mujhe To Kahin Kisi Aur Kisi Angle Se Hi Apradh Nahi Lagta Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Hamare Government Ko Ke Baare Mein Sochna Chahiye Aur Isko Apradh Namantar Score Live Kar Dena Chahiye Ek Vyakti Hai Uski Personal Life Mein Kaise Rehna Chahta Hai Wah Kis Ko Pasand Karta Hai Wah Kis Day Kis Ki Personal Cheese Hai Aur Hamare Waise Bhi Lo Mein Likha Hua Hai Ki Har Vyakti Ko Apna Sochne Ka Aur Rehne Ka Adhikaar Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Usko Bhi Follow Kar Raha Hai Aur Is Par Jo Dhara Lagai Gayi Hai Aur Ise Apradh Mana Gaya Hai Usko Thoda Vichar Karna Chahiye Usko Hata Dena Chahiye Thank You
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

समलैंगिकता क्या है और हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के द्वारा इसके प्रति किए गए प्रावधानों क्या-क्या प्रावधान है और अन्य देशों से हम किस प्रकार कंपेयर कर सकते हैं ? ...

समलैंगिकता क्या है तो समलैंगिकता का अर्थ है किसी व्यक्ति के समान लिंग के लोगों... Read More
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सेक्शन 377 के हिसाब से इंडियन पीनल कोर्ट में लिखा गया है कि कोई भी व्यक्ति जानबूझकर मगर औरों फर्नीचर के खिलाफ जाकर इंटरकोर्स करता है किसी आदमी या औरत या जानवर के साथ जो कि उसकी ही सेक्स की हूं उ...जवाब पढ़िये
देखिए सेक्शन 377 के हिसाब से इंडियन पीनल कोर्ट में लिखा गया है कि कोई भी व्यक्ति जानबूझकर मगर औरों फर्नीचर के खिलाफ जाकर इंटरकोर्स करता है किसी आदमी या औरत या जानवर के साथ जो कि उसकी ही सेक्स की हूं उंहें पनिश किया जाएगा या तू इंपीरियल आजीवन उम्रकैद या फिर 10 साल का एक जेल की सजा जिसे और बढ़ाया जा सकता है 21वीं सदी में रह रहे हैं और समय के साथ-साथ 6:30 बजे आ रहे हैं देखें जो यह संगीता है यानी कि अगर आप सेंसेक्स को लेकर प्राप्ति रहे हैं यह कोई बीमारी नहीं है जो दवाई लेकर ठीक है जा सके या फिर ऐसा नहीं है कि अगर आप फिर पता चलेगा देंगे तो लोग ऐसा करना बंद कर देंगे क्योंकि वह कोई भी इंसान इंसान कि नहीं करता अगर उसको इंटरेस्ट नहीं है दूसरे सेक्स में अगर वह सीन तक की तरफ अट्रेक्ट कर रहे तो उसमें गलती क्या है लेकिन हर एक इंसान जन्म लेता है उसके पास जीने का अधिकार होता है उसे अधिकार अपने हिसाब से वह जीवन अपने हिसाब से जीने की इजाजत मिलनी चाहिए उस पर सरकार का कोई रोक तो होने का कोई मतलब मुझे समझ ही नहीं आता कि क्या कर दो व्यवस्था कर दो अडल्ट लोग राजी है एक सेक्सुअल रिलेशनशिप के लिए फिर चाहे वह सीन सेक्स किए हुए अलग सिक्स कि मुझे नहीं लगता कि सरकार को इस मैंट फैक्ट्री दिन करना चाहिए मुझे जरूर लगता है कि धारा 370 को हटा कर हमारे देश को भी कानून आना चाहिए कि जाएंगे या फिर जो यह ऐसे लोग हैं जो हमसे अलग नहीं हैं उनको जीने का एक वन अधिकार नहीं है और अपनी खुशी से जी सकेंDekhie Section 377 Ke Hisab Se Indian Penal Court Mein Likha Gaya Hai Ki Koi Bhi Vyakti Janbujhkar Magar Auron Furniture Ke Khilaf Jaakar Intercourse Karta Hai Kisi Aadmi Ya Aurat Ya Janwar Ke Saath Jo Ki Uski Hi Sex Ki Hoon Unhe Penis Kiya Jayega Ya Tu Imperial Aajivan Umrakaid Ya Phir 10 Saal Ka Ek Jail Ki Saja Jise Aur Badhaya Ja Sakta Hai Vi Sadi Mein Rah Rahe Hain Aur Samay Ke Saath Saath 6:30 Baje Aa Rahe Hain Dekhen Jo Yeh Sangeeta Hai Yani Ki Agar Aap Sensex Ko Lekar Prapti Rahe Hain Yeh Koi Bimari Nahi Hai Jo Dawai Lekar Theek Hai Ja Sake Ya Phir Aisa Nahi Hai Ki Agar Aap Phir Pata Chalega Denge To Log Aisa Karna Band Kar Denge Kyonki Wah Koi Bhi Insaan Insaan Ki Nahi Karta Agar Usko Interest Nahi Hai Dusre Sex Mein Agar Wah Seen Tak Ki Taraf Atrekt Kar Rahe To Usamen Galti Kya Hai Lekin Har Ek Insaan Janm Leta Hai Uske Paas Jeene Ka Adhikaar Hota Hai Use Adhikaar Apne Hisab Se Wah Jeevan Apne Hisab Se Jeene Ki Ijajat Milani Chahiye Us Par Sarkar Ka Koi Rok To Hone Ka Koi Matlab Mujhe Samajh Hi Nahi Aata Ki Kya Kar Do Vyavastha Kar Do Adult Log Raji Hai Ek Sexual Relationship Ke Liye Phir Chahe Wah Seen Sex Kiye Hue Alag Six Ki Mujhe Nahi Lagta Ki Sarkar Ko Is Maint Factory Din Karna Chahiye Mujhe Jarur Lagta Hai Ki Dhara 370 Ko Hata Kar Hamare Desh Ko Bhi Kanoon Aana Chahiye Ki Jaenge Ya Phir Jo Yeh Aise Log Hain Jo Humse Alag Nahi Hain Unko Jeene Ka Ek Van Adhikaar Nahi Hai Aur Apni Khushi Se Ji Saken
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से अगर हम भारतीयों हिस्ट्री देखे तो हमें दिखाएं कैसे हो भारत कभी भी सलीम बताया फिल्म के सकते हैं HD वीडियो कॉमेडी असीम सेक्स मैरिज हो कभी भी अपनाया नहीं है वह हमेशा ऐसे एक अपराधी मानता आ रह...जवाब पढ़िये
मेरे हिसाब से अगर हम भारतीयों हिस्ट्री देखे तो हमें दिखाएं कैसे हो भारत कभी भी सलीम बताया फिल्म के सकते हैं HD वीडियो कॉमेडी असीम सेक्स मैरिज हो कभी भी अपनाया नहीं है वह हमेशा ऐसे एक अपराधी मानता आ रहा है और सुप्रीम कोर्ट ने धारा और सिविल डिफेंस पर रोक लगाने की इच्छा मांगी है तो मेरे हिसाब से यह बिल्कुल गलत है कि अगर हम देखें तो शिमला जो है वह भारत में रहनी चाहिए और इससे कोई नहीं है इस से कोई एक बुरी चीज नहीं है या फिर बात की चीज़ नहीं रुकी बहुत सारे लोग बोलते हैं असली बात करें तो जितने भी भारत के राजनेता है वह इस चीज से कभी सहमत नहीं है अगर सिर्फ प्रोपोजिशन इधर की बात करें शशि थरूर यह कैसे मिलता है जो की धारा 337 एंड पॉपिंग लगाना नहीं चाहते हैं अगर बीजेपी की बात करें तो सुब्रमण्यम स्वामी हो या फिर दूसरे बीकानेर तो हमेशा धारा 377 के खिलाफ रहे तो मेरे हिसाब से बिल्कुल सही अपराध नहीं बनाना चाहिए इसे अपराध से हटा देना चाहिए संविधान में कानून बनाना चाहिए क्योंकि हम लोग जितना आसमान बोर्ड जॉब करते हैं उतना ही पूरी लोग समझते हैं और उनके बीच में कोई फर्क नहीं है कि प्यार करते हैं हम लोग भी प्यार करते हैं उनके लिए भी कानून बनना चाहिए क्योंकि उनके लिए बचपन से ही कई सारे प्रॉब्लम्स होते हैं उन्हें नौकरी अभी नहीं मिल रही तो मेरे साथ सोने नौकरी मिलनी चाहिए और यह जो आधा राजेश परलोक नहीं लगानी चाहिए इसे शामिल हीनता को अपराध नहीं बनानाMere Hisab Se Agar Hum Bharatiyon History Dekhe To Hume Dikhaen Kaise Ho Bharat Kabhi Bhi Salim Bataya Film Ke Sakte Hain HD Video Comedy Asim Sex Marriage Ho Kabhi Bhi Apnaya Nahi Hai Wah Hamesha Aise Ek Apradhi Manata Aa Raha Hai Aur Supreme Court Ne Dhara Aur Civil Defence Par Rok Lagane Ki Icha Maangi Hai To Mere Hisab Se Yeh Bilkul Galat Hai Ki Agar Hum Dekhen To Shimla Jo Hai Wah Bharat Mein Rahani Chahiye Aur Isse Koi Nahi Hai Is Se Koi Ek Buri Cheez Nahi Hai Ya Phir Baat Ki Cheese Nahi Ruki Bahut Sare Log Bolte Hain Asli Baat Karen To Jitne Bhi Bharat Ke Rajneta Hai Wah Is Cheez Se Kabhi Sahmat Nahi Hai Agar Sirf Propojishan Idhar Ki Baat Karen Shashi Tharur Yeh Kaise Milta Hai Jo Ki Dhara 337 End Paping Lagana Nahi Chahte Hain Agar Bjp Ki Baat Karen To Subramanyam Swami Ho Ya Phir Dusre Bikaner To Hamesha Dhara 377 Ke Khilaf Rahe To Mere Hisab Se Bilkul Sahi Apradh Nahi Banana Chahiye Ise Apradh Se Hata Dena Chahiye Samvidhan Mein Kanoon Banana Chahiye Kyonki Hum Log Jitna Aasman Board Job Karte Hain Utana Hi Puri Log Samajhte Hain Aur Unke Beech Mein Koi Fark Nahi Hai Ki Pyar Karte Hain Hum Log Bhi Pyar Karte Hain Unke Liye Bhi Kanoon Banana Chahiye Kyonki Unke Liye Bachpan Se Hi Kai Sare Problem Hote Hain Unhen Naukri Abhi Nahi Mil Rahi To Mere Saath Sone Naukri Milani Chahiye Aur Yeh Jo Aadha Rajesh Parlok Nahi Lagaani Chahiye Ise Shamil Hinata Ko Apradh Nahi Banana
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Supreme Court Ko Dhara 377 Pe Rok Lagaani Chahiye Jo Samlaingikta Ko Apradh Banati Hai Kyon, Should The Supreme Court Stop Appealing To Section 377, Which Makes Homosexuality A Crime? Why? , Dhara 377, Dhara 377 Kya Hai, 377 Dhara

vokalandroid