क्या मोदी सरकार का नोटबंदी का फैसला सही था, अगर था तो कैसे, और अगर गलत फैसला था तो क्यो ...

Likes  0  Dislikes

5 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मोदी सरकार के द्वारा लिया गया नोटबंदी का फैसला मेरे मुताबिक तो बहुत सही साबित नहीं हुआ है क्योंकि मोदी सरकार ने बहुत ही जल्द बाजी में इस फैसले को लिया और सही थे इसे लागू नहीं कर पाई नोटबंदी के वजह से कई लोगों की जान चली गई क्योंकि कुछ अस्पताल ऐसे थे जो पुराने नोट लेने से मना कर दे रहे थे उस वक्त जब नोटबंदी लागू हुई थी और लोगों के पास पैसे पुराने नोटों में ही थी इसलिए वह पैसे नहीं चुका पाए जिससे उनका इलाज नहीं हुआ और वह अपनी जान गवा बैठे हैं जो छोटे उद्योग थे उन्हें भी नोटबंदी से काफी नुकसान हुआ है क्योंकि जो छोटे उद्योग होते हैं उन्हें क्या सही उम्र का कारवां चलता है और कैश की कमी होने की वजह से उनका कारोबार ठप पड़ गया और बहुत सारे लोगों की नौकरियां चली गई तो यह सारे तो नोटबंदी से नुकसान हुआ है हमारे देश को और साथ ही साथ ही हमारी अर्थव्यवस्था पर भी बुरा प्रभाव डाली है क्योंकि आज जो अब हारा उसने एक रिपोर्ट में बताया है कि नोटबंदी जो कि काले धन को वापस आने के लिए की गई थी तो इससे ऐसा कुछ भी हुआ नहीं है क्योंकि 99% जो 500 और 1000 के नोटों वापस आ गए और नए नोट छापने पड़े जिसकी वजह से हमारी जो आरबीआई है उसको ज्यादा पैसे खर्च करने पड़े वहां अन्य सालों के अपेक्षा तो नोटबंदी से तो कोई ज्यादा फायदा हुआ नहीं है इससे ज्यादा हम हमें नुकसान हुआ हैModi Sarkar Ke Dwara Liya Gaya Notebandi Ka Faisla Mere Mutabik To Bahut Sahi Saabit Nahi Hua Hai Kyonki Modi Sarkar Ne Bahut Hi Jald Busy Mein Is Faisle Ko Liya Aur Sahi The Ise Laagu Nahi Kar Payi Notebandi Ke Wajah Se Kai Logon Ki Jaan Chali Gayi Kyonki Kuch Aspatal Aise The Jo Purane Note Lene Se Mana Kar De Rahe The Us Waqt Jab Notebandi Laagu Hui Thi Aur Logon Ke Paas Paise Purane Noton Mein Hi Thi Isliye Wah Paise Nahi Chuka Paye Jisse Unka Ilaj Nahi Hua Aur Wah Apni Jaan Gawa Baithey Hain Jo Chote Udyog The Unhen Bhi Notebandi Se Kafi Nuksan Hua Hai Kyonki Jo Chote Udyog Hote Hain Unhen Kya Sahi Umar Ka Caravan Chalta Hai Aur Cash Ki Kami Hone Ki Wajah Se Unka Karobaar Thap Padh Gaya Aur Bahut Sare Logon Ki Naukriyan Chali Gayi To Yeh Sare To Notebandi Se Nuksan Hua Hai Hamare Desh Ko Aur Saath Hi Saath Hi Hamari Arthavyavastha Par Bhi Bura Prabhav Dali Hai Kyonki Aaj Jo Ab Hara Usne Ek Report Mein Bataya Hai Ki Notebandi Jo Ki Kaale Dhan Ko Wapas Aane Ke Liye Ki Gayi Thi To Isse Aisa Kuch Bhi Hua Nahi Hai Kyonki 99% Jo 500 Aur 1000 Ke Noton Wapas Aa Gaye Aur Naye Note Chapne Pade Jiski Wajah Se Hamari Jo Rbi Hai Usko Jyada Paise Kharch Karne Pade Wahan Anya Salon Ke Apeksha To Notebandi Se To Koi Jyada Fayda Hua Nahi Hai Isse Jyada Hum Hume Nuksan Hua Hai
Likes  13  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मुझे लगता है कि मोदी सरकार का नोटबंदी का फैसला अच्छा था परंतु उसे लागू करने का जो तरीका था वह शायद कुछ ऐसा कुछ हद तक ठीक नहीं था काले धन पर अंकुश लगाने के लिए भ्रष्टाचार से निपटने के लिए यह बहुत ही प्रभावशाली तरीका था साथ ही साथ आतंकवादी व अन्य गैर-कानूनी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए यह बहुत ही अधिक प्रभावशाली तरीका था साथ ही साथ जिस प्रकार से बांग्लादेश पाकिस्तान व नेपाल के रास्ते नकली करेंसी नोट भारत में लगातार आ रहे थे पिछले दो दशक से उस पर अंकुश लगाने के लिए उससे निजात पाने के लिए बहुत ही आवश्यक हो जाता है कि हम नए करेंसी नोट भारतीय अर्थव्यवस्था में लेकर आए तथा उनका चलन भारतीय अर्थव्यवस्था में वह बाजार में लेकर आएं तो इस प्रकार के कदम जो थे वह भारतीय अर्थव्यवस्था को एक संबल प्रदान करने के लिए उसको अधिक मजबूत करने के लिए बहुत ही प्रभावशाली थे और मैं उसका पुरजोर समर्थन करता हूं परंतु जिस प्रकार से केंद्र से गाने सभी बैंकों विशेषता निजी बैंकों को भरोसे में लिए बगैर इस प्रकार के जो कदम थे उसे पूरे देश पर लागू कर दिया उस से रातोंरात एक अव्यवस्था फैल गई तथा भारतीय जन मानस राष्ट्रीय बैंक सरकारी बैंक गैर सरकारी बैंक व सहकारी बैंक इसके लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थे पूरी तैयारी ना होने की वजह से एक जुआ व्यवस्था का माहौल था वह पूरे देश में फैल गया लोगों को जो ऑनलाइन ट्रांजेक्शन सैनिक की डिजिटल डिजिटल पेमेंट मेथड का ज्ञान ना होने का कारण उनको बहुत सी चीजों में असुविधा हुई तथा उस असुविधा के कारण अव्यवस्था पूरे देश में फैल गई जिस से पार पाने के लिए भारत को तकरीबन 4 से 5 महीने का समय लग गया और आज भी कुछ हद तक इस के नकरात्मक प्रभाव देखे जा सकते हैं भारत के अंदर धन्यवादMujhe Lagta Hai Ki Modi Sarkar Ka Notebandi Ka Faisla Accha Tha Parantu Use Laagu Karne Ka Jo Tarika Tha Wah Shayad Kuch Aisa Kuch Had Tak Theek Nahi Tha Kaale Dhan Par Ankush Lagane Ke Liye Bhrashtachar Se Nipatane Ke Liye Yeh Bahut Hi Prabhavshali Tarika Tha Saath Hi Saath Aatankwadi V Anya Gair Kanooni Gatividhiyon Par Ankush Lagane Ke Liye Yeh Bahut Hi Adhik Prabhavshali Tarika Tha Saath Hi Saath Jis Prakar Se Bangladesh Pakistan V Nepal Ke Raste Nakli Currency Note Bharat Mein Lagatar Aa Rahe The Pichle Do Dashak Se Us Par Ankush Lagane Ke Liye Usse Nijat Pane Ke Liye Bahut Hi Aavashyak Ho Jata Hai Ki Hum Naye Currency Note Bhartiya Arthavyavastha Mein Lekar Aaye Tatha Unka Chalan Bhartiya Arthavyavastha Mein Wah Bazar Mein Lekar Aaen To Is Prakar Ke Kadam Jo The Wah Bhartiya Arthavyavastha Ko Ek Sambal Pradan Karne Ke Liye Usko Adhik Mazboot Karne Ke Liye Bahut Hi Prabhavshali The Aur Main Uska Purjor Samarthan Karta Hoon Parantu Jis Prakar Se Kendra Se Gaane Sabhi Bankon Visheshata Niji Bankon Ko Bharose Mein Liye Bagair Is Prakar Ke Jo Kadam The Use Poore Desh Par Laagu Kar Diya Us Se Ratonraat Ek Avyavastha Fail Gayi Tatha Bhartiya Jan Manas Rashtriya Bank Sarkari Bank Gair Sarkari Bank V Sahkari Bank Iske Liye Bilkul Bhi Taiyaar Nahi The Puri Taiyari Na Hone Ki Wajah Se Ek Jua Vyavastha Ka Maahaul Tha Wah Poore Desh Mein Fail Gaya Logon Ko Jo Online Transaction Sainik Ki Digital Digital Payment Method Ka Gyaan Na Hone Ka Kaaran Unko Bahut Si Chijon Mein Asuvidha Hui Tatha Us Asuvidha Ke Kaaran Avyavastha Poore Desh Mein Fail Gayi Jis Se Par Pane Ke Liye Bharat Ko Takareeban 4 Se 5 Mahine Ka Samay Lag Gaya Aur Aaj Bhi Kuch Had Tak Is Ke Nakaratmak Prabhav Dekhe Ja Sakte Hain Bharat Ke Andar Dhanyavad
Likes  12  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मोदी सरकार का जो नोट बंदी का फैसला था वह उसके दोनों पक्षों सकते हैं हर इंसान के लिए यदि मैं इंदौर में देखा जाए तो बहुत ही एक फ्री स्कीम थी उसका मुख्य कारण था कि जनता को इतने लाइन में लगा दिया गया उसका फायदा कुछ नहीं हुआ केवल सारा पैसा जितना भी था पहले उतना ही पैसा बाहर आ गया इसके जो एक टेंशन थी लगाने की उसके कारण थी काला धन वापस आएगा काला धन बाहर आएगा लोगों का जितना भी अवैध पैसा जमा है वह बाहर आएगा और जितना भी गलत पैसा वह नकली नोट छपते हैं वह चीज बंद हो जाए इसके कुछ फायदा जरूर हुए हैं इसका पहला फायदा यदि मैं आपको बताऊं तो जो भी होम लोन है वह सस्ता हो गया इससे क्योंकि वह क्या जितना भी पैसा था वह बैंकिंग सिस्टम में बहुत ज्यादा आ गया बैंक की सोच बैंकों के पास बहुत आ गया तो इस से बैंकों को आसानी हुई जो ग्राहक है कस्टमर है उनको बैंक होम लोन सस्ता करने के 3% कटौती हुई है गरीब दूसरा कैशलेस ट्रांजेक्शन काफी जब तक घट गया काफी हद तक कैशलेस ट्रांजेक्शन जो है वह डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड Paytm इन सब चीजों में काफी बड़ा बढ़ोतरी देखी गई है तो यह बहुत ही अच्छी पहले तीसरी चीज आतंकवादी वगैरह सब लोगों को जो एक सप्लाई होती है ₹3 की अवैध तरीके से जो नकली नोट छपते थे जो काला धन था वह सब बाहर आने में मदद हुई है और जितना भी मतलब लोग होता है क्या है ऐसे मौकों पर जो अवैध जगह लोग खा पाते हैं अपने पैसे को कम करते हैं तुम सभी ट्रांजेक्शन पर गवर्नमेंट की नजर बनी हुई है उन सभी ट्रांजेक्शन पर देखा जा रहा हैModi Sarkar Ka Jo Note Bandi Ka Faisla Tha Wah Uske Dono Pakshon Sakte Hain Har Insaan Ke Liye Yadi Main Indore Mein Dekha Jaye To Bahut Hi Ek Free Scheme Thi Uska Mukhya Kaaran Tha Ki Janta Ko Itne Line Mein Laga Diya Gaya Uska Fayda Kuch Nahi Hua Kewal Saara Paisa Jitna Bhi Tha Pehle Utana Hi Paisa Bahar Aa Gaya Iske Jo Ek Tension Thi Lagane Ki Uske Kaaran Thi Kala Dhan Wapas Aayega Kala Dhan Bahar Aayega Logon Ka Jitna Bhi Awaidh Paisa Jama Hai Wah Bahar Aayega Aur Jitna Bhi Galat Paisa Wah Nakli Note Chapate Hain Wah Cheez Band Ho Jaye Iske Kuch Fayda Jarur Hue Hain Iska Pehla Fayda Yadi Main Aapko Bataun To Jo Bhi Home Loan Hai Wah Sasta Ho Gaya Isse Kyonki Wah Kya Jitna Bhi Paisa Tha Wah Banking System Mein Bahut Jyada Aa Gaya Bank Ki Soch Bankon Ke Paas Bahut Aa Gaya To Is Se Bankon Ko Aasani Hui Jo Grahak Hai Customer Hai Unko Bank Home Loan Sasta Karne Ke 3% Katauti Hui Hai Garib Doosra Cashless Transaction Kafi Jab Tak Ghat Gaya Kafi Had Tak Cashless Transaction Jo Hai Wah Debit Card Credit Card Paytm In Sab Chijon Mein Kafi Bada Badhotari Dekhi Gayi Hai To Yeh Bahut Hi Acchi Pehle Teesri Cheez Aatankwadi Vagairah Sab Logon Ko Jo Ek Supply Hoti Hai ₹3 Ki Awaidh Tarike Se Jo Nakli Note Chapate The Jo Kala Dhan Tha Wah Sab Bahar Aane Mein Madad Hui Hai Aur Jitna Bhi Matlab Log Hota Hai Kya Hai Aise Maukon Par Jo Awaidh Jagah Log Kha Paate Hain Apne Paise Ko Kum Karte Hain Tum Sabhi Transaction Par Government Ki Nazar Bani Hui Hai Un Sabhi Transaction Par Dekha Ja Raha Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


देखिए मोदी सरकार ने जो नोटबंदी का फैसला 8 नवंबर 2016 को लिया था यह एक बहुत ही बड़ा फैसला था मेरे ख्याल से मतलब इसके जो ऑपरेटिंग किए गए थे कि इसके वजह से जो जो अच्छी बातें होंगी खास अच्छी बात है अभी तक नहीं हुई है और जैसे कि देखा जाए तो 500 और 1000 की नोटबंदी कर दी गई और 2000 की नोट नई नोट स्थापित कर दी गई तू जो जिनके पास ब्लैक मनी है जो ब्लैक मनी होल्डर्स है वह सामने आएंगे करप्शन कम होगा ऐसा कुछ तो बताया गया था पर हालांकि इसके वजह से मुझे लगता है ज्यादातर आम जनता या ने गरीब लोगों को ही दर दर की ठोकरें खानी पड़ी है उसके बाद मतलब जो 4 महीने थे वह मतलब नोट जमा करने के लिए बैंक में उन्हें ही ज्यादा लाइन लगानी पड़ी अपने काम से सारे कुछ छोड़ कर उन्हें सब बैंक में ही दिन ब दिन बिताना पड़ता था और अभी भी अच्छा कुछ ऐसा उसका प्रभाव नहीं दिख रहा है तो मुझे लगता है कि आप एक फैसला ऐसा है जो कुछ एक गलत टाइम पर लिया गया वह फैसला गलत नहीं था पर मुझे लगता है कि टाइम गलत था क्योंकि डिमोनेटाइजेशन कभी ना कभी होना चाहिए या फिर अब ऐसा कुछ फैसला जो कि सच में भारत में करप्शन को रोक सके या फिर जिनके पास ब्लैक मनी जो लोग प्यार करते थे वह सामने आ जाए इससे तो यही फायदा हुआ है कि लोगों में थोड़ा सा डर बैठा है अभी भी लोग पैसा अपने घर में रखने के बारे में 10 बार सोचते हैं पर हमला कि जितना प्रेरित किया गया था कि अच्छा खासा प्रभाव पड़ेगा इतना कुछ नहीं हुआ है मुझे लगता है कि गलत

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखिए मोदी सरकार ने जो नोटबंदी का फैसला 8 नवंबर 2016 को लिया था यह एक बहुत ही बड़ा फैसला था मेरे ख्याल से मतलब इसके जो ऑपरेटिंग किए गए थे कि इसके वजह से जो जो अच्छी बातें होंगी खास अच्छी बात है अभी तक नहीं हुई है और जैसे कि देखा जाए तो 500 और 1000 की नोटबंदी कर दी गई और 2000 की नोट नई नोट स्थापित कर दी गई तू जो जिनके पास ब्लैक मनी है जो ब्लैक मनी होल्डर्स है वह सामने आएंगे करप्शन कम होगा ऐसा कुछ तो बताया गया था पर हालांकि इसके वजह से मुझे लगता है ज्यादातर आम जनता या ने गरीब लोगों को ही दर दर की ठोकरें खानी पड़ी है उसके बाद मतलब जो 4 महीने थे वह मतलब नोट जमा करने के लिए बैंक में उन्हें ही ज्यादा लाइन लगानी पड़ी अपने काम से सारे कुछ छोड़ कर उन्हें सब बैंक में ही दिन ब दिन बिताना पड़ता था और अभी भी अच्छा कुछ ऐसा उसका प्रभाव नहीं दिख रहा है तो मुझे लगता है कि आप एक फैसला ऐसा है जो कुछ एक गलत टाइम पर लिया गया वह फैसला गलत नहीं था पर मुझे लगता है कि टाइम गलत था क्योंकि डिमोनेटाइजेशन कभी ना कभी होना चाहिए या फिर अब ऐसा कुछ फैसला जो कि सच में भारत में करप्शन को रोक सके या फिर जिनके पास ब्लैक मनी जो लोग प्यार करते थे वह सामने आ जाए इससे तो यही फायदा हुआ है कि लोगों में थोड़ा सा डर बैठा है अभी भी लोग पैसा अपने घर में रखने के बारे में 10 बार सोचते हैं पर हमला कि जितना प्रेरित किया गया था कि अच्छा खासा प्रभाव पड़ेगा इतना कुछ नहीं हुआ है मुझे लगता है कि गलतDekhie Modi Sarkar Ne Jo Notebandi Ka Faisla 8 November 2016 Ko Liya Tha Yeh Ek Bahut Hi Bada Faisla Tha Mere Khayal Se Matlab Iske Jo Operating Kiye Gaye The Ki Iske Wajah Se Jo Jo Acchi Batein Hongi Khas Acchi Baat Hai Abhi Tak Nahi Hui Hai Aur Jaise Ki Dekha Jaye To 500 Aur 1000 Ki Notebandi Kar Di Gayi Aur 2000 Ki Note Nayi Note Sthapit Kar Di Gayi Tu Jo Jinke Paas Black Money Hai Jo Black Money Holders Hai Wah Samane Aayenge Corruption Kum Hoga Aisa Kuch To Bataya Gaya Tha Par Halanki Iske Wajah Se Mujhe Lagta Hai Jyadatar Aam Janta Ya Ne Garib Logon Ko Hi Dar Dar Ki Thokarain Khaani Padi Hai Uske Baad Matlab Jo 4 Mahine The Wah Matlab Note Jama Karne Ke Liye Bank Mein Unhen Hi Jyada Line Lagaani Padi Apne Kaam Se Sare Kuch Chod Kar Unhen Sab Bank Mein Hi Din B Din Bitana Padata Tha Aur Abhi Bhi Accha Kuch Aisa Uska Prabhav Nahi Dikh Raha Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Aap Ek Faisla Aisa Hai Jo Kuch Ek Galat Time Par Liya Gaya Wah Faisla Galat Nahi Tha Par Mujhe Lagta Hai Ki Time Galat Tha Kyonki Dimonetaijeshan Kabhi Na Kabhi Hona Chahiye Ya Phir Ab Aisa Kuch Faisla Jo Ki Sach Mein Bharat Mein Corruption Ko Rok Sake Ya Phir Jinke Paas Black Money Jo Log Pyar Karte The Wah Samane Aa Jaye Isse To Yahi Fayda Hua Hai Ki Logon Mein Thoda Sa Dar Baitha Hai Abhi Bhi Log Paisa Apne Ghar Mein Rakhne Ke Baare Mein 10 Baar Sochte Hain Par Hamla Ki Jitna Prerit Kiya Gaya Tha Ki Accha Khasa Prabhav Padega Itna Kuch Nahi Hua Hai Mujhe Lagta Hai Ki Galat
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

1 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री मोदी जी ने दूरदर्शन से यह घोषणा की थी थी की मध्यरात्रि से 500 और 1000 के नोटों की कीमत रद के बराबर आपको अपने पुराने नोट एक मुकम्मल अवधि में बैंक से चेंज करवाने हैं मेरी समझ में मोदी जी का यह फैसला सही था क्योंकि भ्रष्टाचार कालाधन नकली नोट महंगाई और आतंकवादी गतिविधियों पर नियंत्रण के लिए विमुद्रीकरण यानी कि नोटबंदी जरूरी कदम था और भी कई देशों में नोटबंदी हुई है लेकिन जितना मोबाइल भारत में हुआ उतना और कहीं नहीं भारतीय अर्थव्यवस्था में इंदौर करेंसी ने 68% भाग का विश किया था यह नोट बाजार में सबसे ज्यादा चलने में थे इसलिए इस का इतना बड़ा परिणाम और बवाल हुआ जो काला धन लोगों के पास रखा था वह बस कागज मात्र है क्या भ्रष्टाचारियों को या तो वह सरकार के सामने लाना पड़ा या बर्बाद करना पड़ा हां आम जनता कई परेशानियों का सामना करना पड़ा बावजूद इसके पूरा देश इस फैसले में मोदी सरकार के साथ था विदेशों में भी मोदी जी के इस कदम की तारीफ हुई

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

1 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री मोदी जी ने दूरदर्शन से यह घोषणा की थी थी की मध्यरात्रि से 500 और 1000 के नोटों की कीमत रद के बराबर आपको अपने पुराने नोट एक मुकम्मल अवधि में बैंक से चेंज करवाने हैं मेरी समझ में मोदी जी का यह फैसला सही था क्योंकि भ्रष्टाचार कालाधन नकली नोट महंगाई और आतंकवादी गतिविधियों पर नियंत्रण के लिए विमुद्रीकरण यानी कि नोटबंदी जरूरी कदम था और भी कई देशों में नोटबंदी हुई है लेकिन जितना मोबाइल भारत में हुआ उतना और कहीं नहीं भारतीय अर्थव्यवस्था में इंदौर करेंसी ने 68% भाग का विश किया था यह नोट बाजार में सबसे ज्यादा चलने में थे इसलिए इस का इतना बड़ा परिणाम और बवाल हुआ जो काला धन लोगों के पास रखा था वह बस कागज मात्र है क्या भ्रष्टाचारियों को या तो वह सरकार के सामने लाना पड़ा या बर्बाद करना पड़ा हां आम जनता कई परेशानियों का सामना करना पड़ा बावजूद इसके पूरा देश इस फैसले में मोदी सरकार के साथ था विदेशों में भी मोदी जी के इस कदम की तारीफ हुई1 November 2016 Ko Pradhanmantri Modi Ji Ne Doordharshan Se Yeh Ghoshana Ki Thi Thi Ki Madhyaratri Se 500 Aur 1000 Ke Noton Ki Kimat Rad Ke Barabar Aapko Apne Purane Note Ek Mukammal Avadhi Mein Bank Se Change Karwane Hain Meri Samajh Mein Modi Ji Ka Yeh Faisla Sahi Tha Kyonki Bhrashtachar Kaladhan Nakli Note Mahangai Aur Aatankwadi Gatividhiyon Par Niyantran Ke Liye Vimudrikaran Yani Ki Notebandi Zaroori Kadam Tha Aur Bhi Kai Deshon Mein Notebandi Hui Hai Lekin Jitna Mobile Bharat Mein Hua Utana Aur Kahin Nahi Bhartiya Arthavyavastha Mein Indore Currency Ne 68% Bhag Ka Wish Kiya Tha Yeh Note Bazar Mein Sabse Jyada Chalne Mein The Isliye Is Ka Itna Bada Parinam Aur Bawaal Hua Jo Kala Dhan Logon Ke Paas Rakha Tha Wah Bus Kagaz Matra Hai Kya Bhrashtachariyon Ko Ya To Wah Sarkar Ke Samane Lana Pada Ya Barbad Karna Pada Haan Aam Janta Kai Pareshaaniyon Ka Samana Karna Pada Bawajud Iske Pura Desh Is Faisle Mein Modi Sarkar Ke Saath Tha Videshon Mein Bhi Modi Ji Ke Is Kadam Ki Tarif Hui
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Modi Sarkar Ka Notebandi Ka Faisla Sahi Tha Agar Tha To Kaise Aur Agar Galat Faisla Tha To Kyon





मन में है सवाल?