डिफाइन जीएसटी ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुलशन सर्विस टैक्स जी सीकर एक अप्रत्यक्ष कर यानी इनडायरेक्ट टैक्स है जीएसटी के तहत...जवाब पढ़िये
गुलशन सर्विस टैक्स जी सीकर एक अप्रत्यक्ष कर यानी इनडायरेक्ट टैक्स है जीएसटी के तहत वस्तु और सेवाओं पर एक समान टैक्स लगाया जाता है जहां जीएसटी लागू नहीं होता है वहां वस्तुओं और सेवाओं पर अलग-अलग टैक्स लगाए जाते हैं जब सरकार ने इस बिल को पास किया तब हर समय हर सेवा पर सिर्फ एक टेक्स्ट लगा या नहीं बैठ एक्साइज सर्विस टैक्स जैसे करो की जगह सब ठीक ठाक लगाओ जोधा जीएसटीGulashan Service Tax Ji Seeker Ek Apratyksh Kar Yani Indirect Tax Hai Gst Ke Tahat Vastu Aur Sewaon Par Ek Saman Tax Lagaya Jata Hai Jahan Gst Laagu Nahi Hota Hai Wahan Vastuon Aur Sewaon Par Alag Alag Tax Lagaye Jaate Hain Jab Sarkar Ne Is Bill Ko Paas Kiya Tab Har Samay Har Seva Par Sirf Ek Text Laga Ya Nahi Baith Excise Service Tax Jaise Karo Ki Jagah Sab Theek Thak Lagao Jodha Gst
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी गुड्स एंड सर्विस टैक्स एक टैक्स है जो कि भारत ने 1 जुलाई 2017...जवाब पढ़िये
जीएसटी गुड्स एंड सर्विस टैक्स एक टैक्स है जो कि भारत ने 1 जुलाई 2017 से लागू किया है इस टैक्स के आने के बाद लगभग बाय सुंदर दो डायरेक्ट टैक्स को हटा दिया गया है उसकी जगह सिर्फ एक ही टैक्स लगाया गया है जोगिया जीएसटी पहले जो टैक्स लगाया करते जो बाय-बाय डायरेक्ट और इनडायरेक्ट टैक्स है उसमें आते थे लॉटरी एंटरटेनमेंट टैक्स रेट ऐसे कई सारे टेक्स्ट से अब इन सब को हटा दिया है गवर्नमेंट ऑफ सर्विस टैक्स लगेगा किसी प्रोडक्ट पर है किसी सामान पर YouTube पर जीएसटी पूजन सर्विस टैक्स के फायदे क्या क्या होंगे पहले क्या होता था कि एक ही सामान पर टैक्स पर टैक्स लगता था एक टेक्स्ट के ऊपर टैक्स लगता था उसको बोलते के स्केटिंग ऑफ टेक्स्ट्स फॉर example जैसे बाल एक कंपनी है वह सामान का उत्पादन करती है तू जो अपने सामान का उत्पादन करती उसके लिए रोमांटिक खरीदेगी तो उसका टैक्स देगी वह कंपनी से सामान बनाएगी उसको दुकानदार को देगी सप्लाई करने के लिए तो उस पर टैक्स लगाएगी पर दुकानदार उस पर टैक्स लगाया जाएगा तो ऐसे कई सारे टेक्स्ट के ऊपर टैक्स लग जाता है जो कि पूरे टेक्स्ट सिर्फ ग्राहकों से बहुत दूर चला चला जाता है कंज्यूमर कंज्यूमर से वसूला जाता है उसकी वजह से दुख महसूस होती है वह काफी ज्यादा हो जाती है और प्राइस हो जाता है महंगा तेरी आइटम का इन सब को हटाकर तो आप एक ही टैक्स लगा करेगा जो भी हम बोलेंगे जीएसटी इसलिए जीएसटी के आने के बाद कुछ चीजों के पैसे कम हो जाएंगे ठीक है आज जीएसटी में जो फिलिंग करेंगे रिटर्न फाइलिंग करेंगे वाच ऑनलाइन कर सकते हैं जीएसटी उनके नेटवर्क पर ठीक है और जीएसटी के रूट एक्सेस लगेंगे उसमें चार या पांच ने बांटे गए थे से पांच पर्सेंट 18 परसेंट 28 परसेंट 10:00 पर्सेंट तो ऐसे जीएसटी के टेक्स्ट जिले में बांटा गया चारों स्लैम अलग आइटम से किस पर कितना टैक्स लगेगा यह डिसाइड हुआ है ठीक है और जी थैंक यूGst Goods End Service Tax Ek Tax Hai Jo Ki Bharat Ne 1 July 2017 Se Laagu Kiya Hai Is Tax Ke Aane Ke Baad Lagbhag By Sundar Do Direct Tax Ko Hata Diya Gaya Hai Uski Jagah Sirf Ek Hi Tax Lagaya Gaya Hai Jogiya Gst Pehle Jo Tax Lagaya Karte Jo By By Direct Aur Indirect Tax Hai Usamen Aate The Lottery Entertainment Tax Rate Aise Kai Sare Text Se Ab In Sab Ko Hata Diya Hai Government Of Service Tax Lagega Kisi Product Par Hai Kisi Saamaan Par YouTube Par Gst Pujan Service Tax Ke Fayde Kya Kya Honge Pehle Kya Hota Tha Ki Ek Hi Saamaan Par Tax Par Tax Lagta Tha Ek Text Ke Upar Tax Lagta Tha Usko Bolte Ke Skating Of Text For Example Jaise Baal Ek Company Hai Wah Saamaan Ka Utpadan Karti Hai Tu Jo Apne Saamaan Ka Utpadan Karti Uske Liye Romantic Kharidegi To Uska Tax Degi Wah Company Se Saamaan Banaegi Usko Dukaandar Ko Degi Supply Karne Ke Liye To Us Par Tax Lagaegi Par Dukaandar Us Par Tax Lagaya Jayega To Aise Kai Sare Text Ke Upar Tax Lag Jata Hai Jo Ki Poore Text Sirf Grahakon Se Bahut Dur Chala Chala Jata Hai Consumer Consumer Se Vasula Jata Hai Uski Wajah Se Dukh Mahsus Hoti Hai Wah Kafi Jyada Ho Jati Hai Aur Price Ho Jata Hai Mehnga Teri Item Ka In Sab Ko Hatakar To Aap Ek Hi Tax Laga Karega Jo Bhi Hum Bolenge Gst Isliye Gst Ke Aane Ke Baad Kuch Chijon Ke Paise Kum Ho Jaenge Theek Hai Aaj Gst Mein Jo Feeling Karenge Return Failing Karenge Watch Online Kar Sakte Hain Gst Unke Network Par Theek Hai Aur Gst Ke Root Access Lagenge Usamen Char Ya Paanch Ne Bante Gaye The Se Paanch Percent 18 Percent 28 Percent 10:00 Percent To Aise Gst Ke Text Jile Mein Banta Gaya Charo Slam Alag Item Se Kis Par Kitna Tax Lagega Yeh Decide Hua Hai Theek Hai Aur Ji Thank You
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी जो है यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स जो है वह एक कार है जो...जवाब पढ़िये
जीएसटी जो है यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स जो है वह एक कार है जो इस देश में किसी भी सामान बेचे जाने पर एक एसी बस सेवा प्रदान करने पर जो कर लगता है उसे जीएसटी कहते पहले जो है अलग-अलग तरह के टैक्स इश्तेहार एक अलग अलग सेवा के लिए हर एक अलग अलग बेचने के कार्य के लिए जैसे की जैसे कि कोई सामान बनाने के लिए जो है मैन्युफैक्चरिंग लग गया मैनुफैक्चरिंग है नहीं उस पर एक्साइज लगती थी एक्साइज ड्यूटी लगती थी और किसी सामान को घर एक राज्य में बेचना है एक ही राज्य में अंतर्गत भेजना है तो उसे उस पर जो है वह सेल्स टैक्स लगता था यानी की बाइट वैल्यू एडेड टैक्स और एक राज्य से दूसरे राज्य में उदाहरण के लिए महाराष्ट्र से 1 गज महाराष्ट्र से गुजरात में कोई सामान बेचना है तो है जो SC ST लगता थाने सेंट्रल सेल्स टैक्स और किसी सेवा को प्रदान करने के लिए जो है उस पर सर्विस टैक्स लगता था लेकिन अब यह सब हटा कर एक की टेक्स्ट कर दिया है जिसे जी एस टी एन ए गुड एंड सर्विस टैक्स कहते हैं अभी सिर्फ कस्टम ड्यूटी जो है उसका अलग-अलग दर्जा हैGst Jo Hai Yani Goods End Service Tax Jo Hai Wah Ek Car Hai Jo Is Desh Mein Kisi Bhi Saamaan Beche Jaane Par Ek Ac Bus Seva Pradan Karne Par Jo Kar Lagta Hai Use Gst Kehte Pehle Jo Hai Alag Alag Tarah Ke Tax Ishtehar Ek Alag Alag Seva Ke Liye Har Ek Alag Alag Bechne Ke Karya Ke Liye Jaise Ki Jaise Ki Koi Saamaan Banane Ke Liye Jo Hai Manufacturing Lag Gaya Manufacturing Hai Nahi Us Par Excise Lagti Thi Excise Duty Lagti Thi Aur Kisi Saamaan Ko Ghar Ek Rajya Mein Bechna Hai Ek Hi Rajya Mein Antargat Bhejna Hai To Use Us Par Jo Hai Wah Sales Tax Lagta Tha Yani Ki Byte Value Aided Tax Aur Ek Rajya Se Dusre Rajya Mein Udaharan Ke Liye Maharashtra Se 1 Gaj Maharashtra Se Gujarat Mein Koi Saamaan Bechna Hai To Hai Jo SC ST Lagta Thane Central Sales Tax Aur Kisi Seva Ko Pradan Karne Ke Liye Jo Hai Us Par Service Tax Lagta Tha Lekin Ab Yeh Sab Hata Kar Ek Ki Text Kar Diya Hai Jise Ji S T En A Good End Service Tax Kehte Hain Abhi Sirf Custom Duty Jo Hai Uska Alag Alag Darja Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Define Gst ?, Define GST?