भारत में क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस, और क्या है इसका महत्व ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

5 सितंबर को शिक्षक दिवस भारत में इसलिए मनाया जाता है और क्यों क्योंकि उस दिन डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था और वह एक बहुत ही अच्छे शिक्षक थे और उनकी वजह से काफी लोगों की जिंदगी में बहुत पर...जवाब पढ़िये
5 सितंबर को शिक्षक दिवस भारत में इसलिए मनाया जाता है और क्यों क्योंकि उस दिन डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था और वह एक बहुत ही अच्छे शिक्षक थे और उनकी वजह से काफी लोगों की जिंदगी में बहुत परिवर्तन आया था और उनको एक अच्छे शिक्षक के बारे में एक रूप में दिखाने के लिए 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है हर साल और उसका मैप यही है कि जितने भी शिक्षक है हम उन सभी का सम्मान करें और उनको बताएं कि उनकी वजह से हमारी जिंदगी कितनी बदल गई है5 September Ko Shikshak Divas Bharat Mein Isliye Manaya Jata Hai Aur Kyon Kyonki Us Din Doctor Sarvapalli Radhakrishnan Ka Janm Hua Tha Aur Wah Ek Bahut Hi Acche Shikshak The Aur Unki Wajah Se Kafi Logon Ki Zindagi Mein Bahut Pariwartan Aaya Tha Aur Unko Ek Acche Shikshak Ke Bare Mein Ek Roop Mein Dikhane Ke Liye 5 September Ko Shikshak Divas Ke Roop Mein Manaya Jata Hai Har Saal Aur Uska Map Yahi Hai Ki Jitne Bhi Shikshak Hai Hum Un Sabhi Ka Samman Karen Aur Unko Bataen Ki Unki Wajah Se Hamari Zindagi Kitni Badal Gayi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए गुरु ही एक व्यक्ति के जीवन का सच्चा मार्गदर्शक हो सकता है और इसीलिए कहा गया है कि गुरु गोविंद दोऊ खडे काके लागू पाय बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताए तो कहीं ना कहीं बताता है कि हमारे देश में ए...जवाब पढ़िये
देखिए गुरु ही एक व्यक्ति के जीवन का सच्चा मार्गदर्शक हो सकता है और इसीलिए कहा गया है कि गुरु गोविंद दोऊ खडे काके लागू पाय बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताए तो कहीं ना कहीं बताता है कि हमारे देश में एक गुरु को भगवान से भी ऊंचा दर्जा दिया गया है और जहां तक बात टीचर्स डे की है तो यह हमारे देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्ण जिनको 1954 में भारत रत्न दिया गया था उनके जन्मदिन पर उसको सेलिब्रेट किया जाता है वह पैसे के लिए टीचर थे और उनका ऐसा मानना था कि कुछ सीखने के लिए किसी भी उम्र की जरूरत नहीं होती औरDekhie Guru Hi Ek Vyakti Ke Jeevan Ka Saccha Margadarshak Ho Sakta Hai Aur Isliye Kaha Gaya Hai Ki Guru Govind Laagu Paye Guru Aapne Govind Diyo Bataye To Kahin Na Kahin Batata Hai Ki Hamare Desh Mein Ek Guru Ko Bhagwan Se Bhi Uncha Darja Diya Gaya Hai Aur Jahan Tak Baat Teachers Day Ki Hai To Yeh Hamare Desh Ke Dusre Rashtrapati Dr Sarvapalli Jinako 1954 Mein Bharat Ratna Diya Gaya Tha Unke Janamdin Par Usko Celebrate Kiya Jata Hai Wah Paise Ke Liye Teacher The Aur Unka Aisa Manana Tha Ki Kuch Seekhne Ke Liye Kisi Bhi Umar Ki Zaroorat Nahi Hoti Aur
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टीचर्स डे के लिए एक इंपॉर्टेंट देव होता है जो कि 5 सितंबर को बनाया जाता है और यह आज से नहीं बल्कि 1962 से बनाया जा रहा है यह क्यों मनाते हैं मैं आपको बताता हूं देखिए भारत के जो पूर्व उपराष्ट्रपति के ड...जवाब पढ़िये
टीचर्स डे के लिए एक इंपॉर्टेंट देव होता है जो कि 5 सितंबर को बनाया जाता है और यह आज से नहीं बल्कि 1962 से बनाया जा रहा है यह क्यों मनाते हैं मैं आपको बताता हूं देखिए भारत के जो पूर्व उपराष्ट्रपति के डॉक्टर राधाकृष्णन का जन्म हुआ था इस दिन और हम उन्हीं की याद में बनाते हैं क्योंकि उनका एक बहुत बड़ा योगदान था भारत के शिक्षा क्षेत्र में तो हमेशा हम उनको याद करते हैं और उन सभी शिक्षकों को याद करते हैं जो हमारे देश के भविष्य को बनाते हैं उनको पढ़ाते हैं और उनको दुनियादारी की समझ सिखाते हैं कि क्या गलत है और क्या सही है तो हम इस दिन को सेलिब्रेट करते हैं और यह बहुत अनुभव होता है वह कहता है कि जो डॉक्टर राधाकृष्ण के छात्रों के दोस्त उन का बर्थडे सेलिब्रेट करना चाहते थे तो उन्होंने यह बोला कि उनका अलग से बर्थडे सेलिब्रेट करने की वजह अगर वह उसे एक टीचर्स डे की DJ की तरह सेलिब्रेट करेंगे तो उनको बोला था गर्व महसूस होगा तो हम इसीलिए टीचर्स डे बनाते हैं और टीचर से बहुत जरूरी है क्योंकि यह हमें अपने जो टीचर से उनकी अहमियत की बातों को समझाता है और उनकी याद दिलाता है कि हमारी रोटी चर्च होते हैं वह हमारे जीवन में कितना बड़ा योगदान करते हमारे लिए और कितनी मेहनत करते हैं और उनका यह मानना था कि अगर देश में ज्यादा से ज्यादा युवा पढ़े लिखे होंगे तो देश तरक्की करेगा और जहां हम बात करते हैं कि हमारे देश के जो छात्र एवं भविष्य वही उन छात्रों का भविष्य टीचर्स बनाते हैं तो आप समझ सकते हैं कि टिकट का कितना इंपॉर्टेंट होता है टीचर जो होता है वह अपने छात्रों को बहुत सारी चीजें दिखाता से पढ़ाई के अलावा दुनियादारी की सी चीजें सिखा देगी क्या गलत और क्या सही है तो हम इस दिन उन सारी चीजों को याद करते हैं जो हमारे शिक्षकों ने हम लोगों को दिया तो यह बहुत इंपॉर्टेंट होता हैTeachers Day Ke Liye Ek Important Dev Hota Hai Jo Ki 5 September Ko Banaya Jata Hai Aur Yeh Aaj Se Nahi Balki 1962 Se Banaya Ja Raha Hai Yeh Kyon Manate Hain Main Aapko Batata Hoon Dekhie Bharat Ke Jo Purv Uprashtrapati Ke Doctor Radhakrishnan Ka Janm Hua Tha Is Din Aur Hum Unhin Ki Yaad Mein Banate Hain Kyonki Unka Ek Bahut Bada Yogdan Tha Bharat Ke Shiksha Kshetra Mein To Hamesha Hum Unko Yaad Karte Hain Aur Un Sabhi Shikshakon Ko Yaad Karte Hain Jo Hamare Desh Ke Bhavishya Ko Banate Hain Unko Padhate Hain Aur Unko Ki Samajh Sikhate Hain Ki Kya Galat Hai Aur Kya Sahi Hai To Hum Is Din Ko Celebrate Karte Hain Aur Yeh Bahut Anubhav Hota Hai Wah Kahata Hai Ki Jo Doctor Ke Chhatro Ke Dost Un Ka Birthday Celebrate Karna Chahte The To Unhone Yeh Bola Ki Unka Alag Se Birthday Celebrate Karne Ki Wajah Agar Wah Use Ek Teachers Day Ki DJ Ki Tarah Celebrate Karenge To Unko Bola Tha Garv Mahsus Hoga To Hum Isliye Teachers Day Banate Hain Aur Teacher Se Bahut Zaroori Hai Kyonki Yeh Hume Apne Jo Teacher Se Unki Ahamiyat Ki Baaton Ko Samajhaata Hai Aur Unki Yaad Dilata Hai Ki Hamari Roti Church Hote Hain Wah Hamare Jeevan Mein Kitna Bada Yogdan Karte Hamare Liye Aur Kitni Mehnat Karte Hain Aur Unka Yeh Manana Tha Ki Agar Desh Mein Jyada Se Jyada Yuva Padhe Likhe Honge To Desh Tarakki Karega Aur Jahan Hum Baat Karte Hain Ki Hamare Desh Ke Jo Chatra Evam Bhavishya Wahi Un Chhatro Ka Bhavishya Teachers Banate Hain To Aap Samajh Sakte Hain Ki Ticket Ka Kitna Important Hota Hai Teacher Jo Hota Hai Wah Apne Chhatro Ko Bahut Saree Cheezen Dikhaata Se Padhai Ke Alava Ki Si Cheezen Sikha Degi Kya Galat Aur Kya Sahi Hai To Hum Is Din Un Saree Chijon Ko Yaad Karte Hain Jo Hamare Shikshakon Ne Hum Logon Ko Diya To Yeh Bahut Important Hota Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडिया में जो टीचर्स डे मनाया जाता है Facebook सितंबर देश के हमारे पहले उपराष्ट्रपति राधाकृष्णन जीवन की शुरुआत हो गई एवं शिक्षकों को ध्यान का स्वरूप ज्ञान के लिए ही दिवस मनाया जाता है...जवाब पढ़िये
इंडिया में जो टीचर्स डे मनाया जाता है Facebook सितंबर देश के हमारे पहले उपराष्ट्रपति राधाकृष्णन जीवन की शुरुआत हो गई एवं शिक्षकों को ध्यान का स्वरूप ज्ञान के लिए ही दिवस मनाया जाता हैIndia Mein Jo Teachers Day Manaya Jata Hai Facebook September Desh Ke Hamare Pehle Uprashtrapati Radhakrishnan Jeevan Ki Shuruvat Ho Gayi Evam Shikshakon Ko Dhyan Ka Swaroop Gyaan Ke Liye Hi Divas Manaya Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहित जी आज सट्टे में आज टीचर्स डे है और आपने बहुत सही सवाल पूछा है कि क्यों मनाया जाता शिक्षक दिवस तो इस बारे में मैं यह कहना चाहूंगी कि सर्वपल्ली राधाकृष्णन जो हमारे सेकंड प्रेसिडेंट थे उनकी बर्थ एन...जवाब पढ़िये
मोहित जी आज सट्टे में आज टीचर्स डे है और आपने बहुत सही सवाल पूछा है कि क्यों मनाया जाता शिक्षक दिवस तो इस बारे में मैं यह कहना चाहूंगी कि सर्वपल्ली राधाकृष्णन जो हमारे सेकंड प्रेसिडेंट थे उनकी बर्थ एनिवर्सरी के उपलक्ष में टीचर्स डे मनाया जाता है सर्वपल्ली राधाकृष्णन को भारत रत्न आज जो भारत का सबसे सर्वोपरि है वह दी गई है तो वह बहुत ही एमिनेंट बहुत ही कमाल के व्यक्ति हैं तो उनकी बर्थ एनिवर्सरी के जन्मदिन के उपलक्ष में यह बनाया जाता है चोरी के इसके पीछे कोई यह कि सर्वपल्ली राधाकृष्णन के प्रेसिडेंट में तो उनके पास भी कुछ टू डेंट चालू होने का कि हमको बहुत देर वेट करना चाहते हैं इस पर सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा कि सम्मान दोगे अपने गुरुओं को सम्मान दोगे तो मुझे ज्यादा खुशी खुशी होगी तो उस दिन से 7 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाने लगा और आज के दिन टीचर्स को रिस्पेक्ट देने के लिए उन्हें पुरुष काट दिए जाते हैं बच्चों के लिए बहुत चीजें करते हैं तो इस वजह से आज टीचर से मनाया जाता हैMohit Ji Aaj Satte Mein Aaj Teachers Day Hai Aur Aapne Bahut Sahi Sawal Poocha Hai Ki Kyon Manaya Jata Shikshak Divas To Is Bare Mein Main Yeh Kehna Ki Sarvapalli Radhakrishnan Jo Hamare Second President The Unki Birth Anniversary Ke Uplaksh Mein Teachers Day Manaya Jata Hai Sarvapalli Radhakrishnan Ko Bharat Ratna Aaj Jo Bharat Ka Sabse Sarvopari Hai Wah Di Gayi Hai To Wah Bahut Hi Bahut Hi Kamal Ke Vyakti Hain To Unki Birth Anniversary Ke Janamdin Ke Uplaksh Mein Yeh Banaya Jata Hai Chori Ke Iske Piche Koi Yeh Ki Sarvapalli Radhakrishnan Ke President Mein To Unke Paas Bhi Kuch To Chalu Hone Ka Ki Hamko Bahut Der Wait Karna Chahte Hain Is Par Sarvapalli Radhakrishnan Ne Kaha Ki Samman Doge Apne Dohe Ko Samman Doge To Mujhe Jyada Khushi Khushi Hogi To Us Din Se 7 September Ko Teachers Day Manaya Jaane Laga Aur Aaj Ke Din Teachers Ko Respect Dene Ke Liye Unhen Purush Kaat Diye Jaate Hain Bacchon Ke Liye Bahut Cheezen Karte Hain To Is Wajah Se Aaj Teacher Se Manaya Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में गुरु को हमेशा से ही एक विशेष दर्जा दिया गया है प्राचीन समय में राजा महाराजाओं की काल में भी गुरु हुआ करते थे राजगुरु की पदवी दी जाती थी और उन्हें एक विशेष स्थान दिया जाता था गुरुकुल गुरु...जवाब पढ़िये
हमारे देश में गुरु को हमेशा से ही एक विशेष दर्जा दिया गया है प्राचीन समय में राजा महाराजाओं की काल में भी गुरु हुआ करते थे राजगुरु की पदवी दी जाती थी और उन्हें एक विशेष स्थान दिया जाता था गुरुकुल गुरुकुल में भी जब शिक्षा दी जाती थी तब भी गुरु का एक विशेष स्थान होता था हमारे प्राचीन कभी-कभी ने तो कहा भी है कि अगर ईश्वर आपकी रूठ भी जाए तब भी आप गुरु के पास जाकर माफी मांग सकते हैं अपने गुरु के पास जा सकते हैं लेकिन अगर आप का गुरु आपसे रूठ जाए तो फिर आपके पास जाने की कोई जगह नहीं है तो मतलब गुरु को ईश्वर का दर्जा दिया गया है हमारी प्राचीन संस्कृति में और 5 सितंबर को हम शिक्षक दिवस इसलिए मनाते हैं क्योंकि हमारे राष्ट्रपति डॉ राधाकृष्णन का किसी दिन जन्मदिन है और उन्हें भारत रत्न भी दिया गया था वह एक बहुत ही अच्छे शिक्षक और दार्शनिक थे और वह मानते थे कि छात्रों को भौतिक ज्ञान देना चाहिए उनका मानना था कि आप कभी भी किसी भी उम्र में कहीं से भी कुछ भी लिख सकते हैं और उनके छात्र उनके पास गए उनका जन्मदिन मनाने के लिए जो 5 सितंबर को होता है लेकिन तब उन्होंने कहा था कि मेरा जन्मदिन मनाने के बजाय अगर आप इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाएंगे तो मुझे ज्यादा खुशी होगी इससे पता चलता है कि उनके दिल में शिक्षकों के लिए कितना सम्मान था और तब से ही यह भी शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है सबसे पहले 1962 में पहली बार यह शिक्षक दिवस मनाया गया था और हर वर्ष की मनाया जाता है राज्य सरकारें सरकारी शिक्षक सम्मान देती है और छात्र अपने शिक्षकों को उपहार औरHamare Desh Mein Guru Ko Hamesha Se Hi Ek Vishesh Darja Diya Gaya Hai Prachin Samay Mein Raja Ki Kaal Mein Bhi Guru Hua Karte The Rajaguru Ki Padvi Di Jati Thi Aur Unhen Ek Vishesh Sthan Diya Jata Tha Gurukul Gurukul Mein Bhi Jab Shiksha Di Jati Thi Tab Bhi Guru Ka Ek Vishesh Sthan Hota Tha Hamare Prachin Kabhi Kabhi Ne To Kaha Bhi Hai Ki Agar Ishwar Aapki Rooth Bhi Jaye Tab Bhi Aap Guru Ke Paas Jaakar Maafi Maang Sakte Hain Apne Guru Ke Paas Ja Sakte Hain Lekin Agar Aap Ka Guru Aapse Rooth Jaye To Phir Aapke Paas Jaane Ki Koi Jagah Nahi Hai To Matlab Guru Ko Ishwar Ka Darja Diya Gaya Hai Hamari Prachin Sanskriti Mein Aur 5 September Ko Hum Shikshak Divas Isliye Manate Hain Kyonki Hamare Rashtrapati Dr Radhakrishnan Ka Kisi Din Janamdin Hai Aur Unhen Bharat Ratna Bhi Diya Gaya Tha Wah Ek Bahut Hi Acche Shikshak Aur Darshnik The Aur Wah Manate The Ki Chhatro Ko Bhautik Gyaan Dena Chahiye Unka Manana Tha Ki Aap Kabhi Bhi Kisi Bhi Umar Mein Kahin Se Bhi Kuch Bhi Likh Sakte Hain Aur Unke Chatra Unke Paas Gaye Unka Janamdin Manane Ke Liye Jo 5 September Ko Hota Hai Lekin Tab Unhone Kaha Tha Ki Mera Janamdin Manane Ke Bajay Agar Aap Is Din Ko Shikshak Divas Ke Roop Mein Manaenge To Mujhe Jyada Khushi Hogi Isse Pata Chalta Hai Ki Unke Dil Mein Shikshakon Ke Liye Kitna Samman Tha Aur Tab Se Hi Yeh Bhi Shikshak Divas Ke Roop Mein Manaya Jata Hai Sabse Pehle 1962 Mein Pehli Bar Yeh Shikshak Divas Manaya Gaya Tha Aur Har Varsh Ki Manaya Jata Hai Rajya Sarkaren Sarkari Shikshak Samman Deti Hai Aur Chatra Apne Shikshakon Ko Upahar Aur
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Mein Kyon Manaya Jata Hai Shikshak Divas Aur Kya Hai Iska Mahatva ?

vokalandroid