क्या हम आज के समय में बनावटी व दिखावे का जीवन जी रहे हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां दिखाना आज की बहुत बड़ी जरूरत है और इसीलिए आज दिखावे का चलन बहुत ज्यादा है किसी भी चीज़ में आप देख लीजिए दिखाओ हमें सब में नजर आएगा समारोहों शादी क्या हो सबको अपना स्टेटस दिखाना जरूरी है और यह द...जवाब पढ़िये
जी हां दिखाना आज की बहुत बड़ी जरूरत है और इसीलिए आज दिखावे का चलन बहुत ज्यादा है किसी भी चीज़ में आप देख लीजिए दिखाओ हमें सब में नजर आएगा समारोहों शादी क्या हो सबको अपना स्टेटस दिखाना जरूरी है और यह दिखावा ज्यादा हो गया है कि दिखावे से ही आपको लोग जस्टिफाई करते हैं कि आप कैसे हैं आपका स्टेटस कैसा है आपका व्यक्तित्व कैसा है इंसान दिखाओ ज्यादा दूध जोर दे रहा है और असल में आप कैसे हैं आपकी जिंदगी कैसी है इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता बिकते हैं वहीं लोगों की नजर में मायने रखता है उसी से लोग आप को जस्टिफाई करते हैं इसीलिए आज फिजूलखर्ची की ज्यादा है क्योंकि जिन लोगों के पास नहीं होता है वह भी इस दिखावे के कारण हर चीज को बढ़-चढ़कर करना चाहते हैं ताकि लोग उन्हें कम नहीं समझे या उनका स्टेटस मेंटेन रखने के लिए वह दिखावे पर ज्यादा जोर देते हैं और इसी दिखावे के कारण आज कई लोगों में कल परीक्षा नियामक बच्चे अपने पेरेंट्स को यह कहते हुए पाए जाते हैं कि आप पूरी तरह से हमें पैसा नहीं देते हैं या आप अच्छी तरह से हमारी परवरिश करते हैं हमें अच्छा देखना है हमें अपना स्टेटस अच्छा दिखाना है तो यह आपकी जमाने में जोG Han Dikhaanaa Aj Ki Bahut Badi Jarurat Hai Aur Isiliye Aj Dikhaave Ka Chalan Bahut Jyada Hai Kisi Bhi Cheese Mein Aap Dekh Lijiye Dikhaao Human Sub Mein Nazar Aega Samarohon Shadi Kya Ho Sabako Apna Status Dikhaanaa Zaroori Hai Aur Yeh Dikhava Jyada Ho Gaya Hai Qi Dikhaave Se Hea Aapko Log Jastifai Karte Hain Qi Aap Kaise Hain Aapka Status Kaisa Hai Aapka Vyaktitv Kaisa Hai Insaan Dikhaao Jyada Dudh Goru They Raha Hai Aur Asal Mein Aap Kaise Hain Aapki Jindagi Kaisi Hai Issase Kisi Co Koi Fark Nahin Padata Bikte Hain Vahin Logon Ki Nazar Mein Maine Rakhta Hai Ussi Se Log Aap Co Jastifai Karte Hain Isiliye Aj Fijulakharchi Ki Jyada Hai Kyonki Jean Logon K Pass Nahin Hota Hai Wah Bhi Is Dikhaave K Karan Her Chij Co Badh Chadhakar Krna Chahte Hain Taki Log Unhein Come Nahin Smjhe Ya Unka Status Maintain Rakhne K Lie Wah Dikhaave Per Jyada Goru Dete Hain Aur Isi Dikhaave K Karan Aj Kai Logon Mein Kal Pariksha Niyaamak Bacche Apne Perents Co Yeh Kehte Huye Pae Jaate Hain Qi Aap Poori Turha Se Human Paisa Nahin Dete Hain Ya Aap Achchhee Turha Se Hamari Parvarish Karte Hain Human Accha Dekhna Hai Human Apna Status Accha Dikhaanaa Hai To Yeh Aapki Jamane Mein Joe
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे लगता है क्या आज के समय में हम काफी हद तक बनावटी और दिखावे का जीवन जी रहे हैं और ऐसा दिखे मुझे इसलिए लगता है कि हर किसी को और जो सबकी सोच हो गई है वह बहुत तह तक पैसे से जोड़ने लगी है और सभी...जवाब पढ़िये
जी हां मुझे लगता है क्या आज के समय में हम काफी हद तक बनावटी और दिखावे का जीवन जी रहे हैं और ऐसा दिखे मुझे इसलिए लगता है कि हर किसी को और जो सबकी सोच हो गई है वह बहुत तह तक पैसे से जोड़ने लगी है और सभी लोग मीटिंग लिस्ट इन चीजों को ज्यादा महत्व देने लग गया अपनी जिंदगी में और जितनी भी चीजें हमें और मैट लिपस्टिक होती है चाहे कोई भी चीज हो वह हमारी जिंदगी में इतना ज्यादा मत रखने लगी है कि हम लोगों को भूल रहे हैं और इसी वजह से हमारी जिंदगी काफी हद तक बना वीडियो दिखावे वाली हो गई है हम हर चीज जो दूसरों को दिखाने के लिए करने लगे हैं और दूसरों को अपनी तरफ अट्रैक्ट करने के लिए या फिर अपने आप को अच्छा या बड़ा दिखाने के लिए और चीज़ें करने लगे तो यह सब चीजें देखी यही लग रहा है कि हमारा जिंदगी आजकल लोग सिर्फ एक बनावट का दिखावा बनकर रह गई हैG Han Mujhe Lagta Hai Kya Aj K Samay Mein Hum Kaafi Hada Tak Banavati Aur Dikhaave Ka Jeevan G Rahe Hain Aur Aisa Dikhe Mujhe Eeslie Lagta Hai Qi Her Kisi Co Aur Joe Sabaki Soch Ho Gi Hai Wah Bahut Teh Tak Paise Se Jodne Lagi Hai Aur Sabhi Log Meeting List In Chijon Co Jyada Mahatva Dane Lag Gaya Apni Jindagi Mein Aur Jitni Bhi Chijen Human Aur Mat Lipstick Hoti Hai Chahe Koi Bhi Chij Ho Wah Hamari Jindagi Mein Itna Jyada Matt Rakhne Lagi Hai Qi Hum Logon Co Bhool Rahe Hain Aur Isi Vajaha Se Hamari Jindagi Kaafi Hada Tak Banna Veediyo Dikhaave Wali Ho Gi Hai Hum Her Chij Joe Dusro Co Dikhaane K Lie Karne Lage Hain Aur Dusro Co Apni Tarf Attract Karne K Lie Ya Phir Apne Aap Co Accha Ya Bada Dikhaane K Lie Aur Chizen Karne Lage To Yeh Sub Chijen Dekhi Yahi Lag Raha Hai Qi Hamara Jindagi Aajkal Log Sirf Ek Banaawat Ka Dikhava Bankar Rah Gi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां बिलकुल अच्छा आप ही बताइए वरना कि क्यों और शादियों में कितना खर्चा करते हैं जब हमारे चार मतलब किसी भी गाड़ी से ट्रैवल कर सकते हैं तो क्यों हमें बिल्कुल टॉप क्लास की गाड़ी चाहिए होती है जब हम नॉर्मल...जवाब पढ़िये
हां बिलकुल अच्छा आप ही बताइए वरना कि क्यों और शादियों में कितना खर्चा करते हैं जब हमारे चार मतलब किसी भी गाड़ी से ट्रैवल कर सकते हैं तो क्यों हमें बिल्कुल टॉप क्लास की गाड़ी चाहिए होती है जब हम नॉर्मल से घर में पर गुजारा कर सकते हैं फिर भी लेकिन शौक अलग चीज होती है और दिखावा एक अलग चीज होती है अगर आप शौक से कर रहे हैं वाला केवल केवल दिखावे के लिए अगर आप बड़ी-बड़ी गाड़ियां खरीदने बड़े घर खरीदने महंगे कपड़े जूते जूते खरीदना उसका कोई पॉइंट नहीं है यह मतलब है हमें यह नहीं करना चाहिए अगर केवल दिखावे के लिए आप कर रहे हैं आज के टाइम में लोग बड़े स्मार्ट फोन से सरक रहा है क्योंकि सामने वाले के पास है इसलिए नहीं क्यों नहीं जरूरत है या नहीं बस सामने वाले के पास है तो मुझे भी चाहिए iPhone खरीदना है क्यों तो साइकिल मैसेज पढ़ती है मलाई फोन यूज करना ना आए या iPhone उतना हमारे प्रोडक्ट अपना हूं बस खरीदना है क्योंकि बाकी सब लोग यूज़ कर रहे सब बेवकूफी है और यह दिखावटी समाज में बनावटी समाज में जीने का प्रतीक हैHan Bilakul Accha Aap Hea Bataaeeye Varana Qi Kio Aur Shadiyon Mein Kitna Kharcha Karte Hain Jab Hamare Char Matlab Kisi Bhi Gadi Se Travel Car Sakte Hain To Kio Human Bilkool Top Class Ki Gadi Chahie Hoti Hai Jab Hum Normal Se Ghar Mein Per Gujara Car Sakte Hain Phir Bhi Lekin Shauk Eluga Chij Hoti Hai Aur Dikhava Ek Eluga Chij Hoti Hai Agar Aap Shauk Se Car Rahe Hain Wala Keval Keval Dikhaave K Lie Agar Aap Badi Badi Gadiyan Kharidane Bade Ghar Kharidane Mahange Kapade Joute Joute Kharidana Uska Koi Point Nahin Hai Yeh Matlab Hai Human Yeh Nahin Krna Chahie Agar Keval Dikhaave K Lie Aap Car Rahe Hain Aj K Time Mein Log Bade Smart Phone Se Sarak Raha Hai Kyonki Samne Wale K Pass Hai Eeslie Nahin Kio Nahin Jarurat Hai Ya Nahin Bus Samne Wale K Pass Hai To Mujhe Bhi Chahie IPhone Kharidana Hai Kio To Saikil Maisej Padhati Hai Malai Phone Ews Krna Na Ae Ya IPhone Utana Hamare Product Apna Hoon Bus Kharidana Hai Kyonki Baaki Sub Log Yuz Car Rahe Sub Bevakufi Hai Aur Yeh Dikhavati Samaj Mein Banavati Samaj Mein Jeene Ka Pratik Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें कोई दो राय है ही नहीं आज का जो समय है उसमे बिल्कुल हम बनावटी जीवन दिखावे का जीवन जी रहे हैं क्योंकि आप देखेंगे कि आज के समय में तो बहुत ज्यादा बढ़ गई है कि बोर्ड एग्जाम को लेकर लोगों के पास बहुत...जवाब पढ़िये
इसमें कोई दो राय है ही नहीं आज का जो समय है उसमे बिल्कुल हम बनावटी जीवन दिखावे का जीवन जी रहे हैं क्योंकि आप देखेंगे कि आज के समय में तो बहुत ज्यादा बढ़ गई है कि बोर्ड एग्जाम को लेकर लोगों के पास बहुत सारे पैसे नहीं है ना दूसरों को दिखाने के लिए प्रक्रिया ऑफ करते हैं कि उनके पास तो बहुत पैसे हैं और वह बहुत रश है सब दिखावा करने के लिए ताकि लोग उनके बारे में और बेहतर सोच है कि हम ऐसे लगता है कि सोशल साइट हमारा या फिर हमारे पास कितने पैसे हैं हम कितने अमीर गरीब है उस बात पर फर्क पड़ता कि लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं इसके सामने कुछ और होते हैं और पीछे तो हम तो डिलीट हो जाते हैं क्योंकि हमें अपना फायदा निकालना होता है अपना मतलब होता तुम सामने तो बहुत अच्छे डिपेंड करता है बहुत अच्छा बिहेव करते हैं और जैसे वह कहती पलटता है हम अपने असली रुप में आ जाते हैं हम अब जो है ना अंदर से जलन फील करते वैसा हम हो जाते मैं तो दिखावटी और बनावट का जीवन तो हम बहुत ज्यादा जी रहे हैं आज के समय में कोई भी झूठ दिखावा यह सब आ गया है तो बिल्कुल हम एक बनावटी और दिखावे का जीवन जी रहे हैंIsmein Koi Though Ray Hai Hea Nahin Aj Ka Joe Samay Hai Usame Bilkool Hum Banavati Jeevan Dikhaave Ka Jeevan G Rahe Hain Kyonki Aap Dekhenge Qi Aj K Samay Mein To Bahut Jyada Badh Gi Hai Qi Board Egjam Co Lycra Logon K Pass Bahut Saare Paise Nahin Hai Na Dusro Co Dikhaane K Lie Prakriya Of Karte Hain Qi Unke Pass To Bahut Paise Hain Aur Wah Bahut Rush Hai Sub Dikhava Karne K Lie Taki Log Unke Baare Mein Aur Behtar Soch Hai Qi Hum Aise Lagta Hai Qi Social SITE Hamara Ya Phir Hamare Pass Kitne Paise Hain Hum Kitne Amir Garib Hai Oosh Baat Per Fark Padata Qi Log Hamare Baare Mein Kya Sochte Hain Iske Samne Kuch Aur Hote Hain Aur Pichhe To Hum To Delete Ho Jaate Hain Kyonki Human Apna Fayda Nikaalna Hota Hai Apna Matlab Hota Tum Samne To Bahut Achchhe Depend Karata Hai Bahut Accha Behave Karte Hain Aur Jaise Wah Kahti Paltata Hai Hum Apne Asli Rup Mein Aa Jaate Hain Hum Aba Joe Hai Na Andorra Se Jalon Feel Karte Waisa Hum Ho Jaate Main To Dikhavati Aur Banaawat Ka Jeevan To Hum Bahut Jyada G Rahe Hain Aj K Samay Mein Koi Bhi Jhuth Dikhava Yeh Sub Aa Gaya Hai To Bilkool Hum Ek Banavati Aur Dikhaave Ka Jeevan G Rahe Hain
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा बिल्कुल हम कह सकते हैं कि ज्यादातर जो लोग आज हमारे समाज में हैं वह बनावटी हैं यानी कि उनकी असली शख्सियत हमें पता नहीं होती वह अंदर से कुछ होते हैं लेकिन बाहर से कुछ और ही दिखाते हैं तो इसीलिए हमें...जवाब पढ़िये
ऐसा बिल्कुल हम कह सकते हैं कि ज्यादातर जो लोग आज हमारे समाज में हैं वह बनावटी हैं यानी कि उनकी असली शख्सियत हमें पता नहीं होती वह अंदर से कुछ होते हैं लेकिन बाहर से कुछ और ही दिखाते हैं तो इसीलिए हमें सभी लोगों को सही तरीके से समझना चाहिए और अगर हम ऐसा नहीं कर पाते तो कई बार हमें धोखे का सामना करना पड़ता है और जिस लोगों पर हम ज्यादा भरोसा करते हैं उनसे ही हमें धोखा मिल जाता है क्योंकि वह लोग बनावटी होते हैं और उनके झांसे में हम आ जाते हैं तो यह बात बिल्कुल सही है कि आज के समय में ज्यादातर जो लोग हैं वह बनावटी हैं और दिखावे का जीवन जी रहे हैं बहुत सारे लोगों की ऐसी प्रवृत्ति होती है कि वह दिखावा बहुत ज्यादा करते हैं जैसे अगर उन्होंने कोई ऐसी चीज खरीदी जो अन्य लोगों के पास नहीं है तो उसे दिखाने का वह प्रयास करते हैं और ऐसा उन्हें लगता है कि ऐसा करने से उनकी समाज में काफी वाहवाही होगी और लोग उन्हें काफी बड़ा महसूस करेंगे तो इसलिए मुझे लगता है इस तरह की चीजों से हमें बचना चाहिए क्योंकि अगर सही महीनों में हमें इज्जत कमानी है तो जिस प्रकार की हमारी शख्सियत है उसे ही सभी लोगों के सामने रखना चाहिए और कभी भी बनावटीपन या फिर दिखावा नहीं करना चाहिएAisa Bilkul Hum Keh Sakte Hain Ki Jyadatar Jo Log Aaj Hamare Samaaj Mein Hain Wah Banaavatee Hain Yani Ki Unki Asli Shakhisayat Hume Pata Nahi Hoti Wah Andar Se Kuch Hote Hain Lekin Bahar Se Kuch Aur Hi Dikhate Hain To Isliye Hume Sabhi Logon Ko Sahi Tarike Se Samajhna Chahiye Aur Agar Hum Aisa Nahi Kar Paate To Kai Bar Hume Dhokhe Ka Samana Karna Padata Hai Aur Jis Logon Par Hum Jyada Bharosa Karte Hain Unse Hi Hume Dhokha Mil Jata Hai Kyonki Wah Log Banaavatee Hote Hain Aur Unke Jhanse Mein Hum Aa Jaate Hain To Yeh Baat Bilkul Sahi Hai Ki Aaj Ke Samay Mein Jyadatar Jo Log Hain Wah Banaavatee Hain Aur Dikhaave Ka Jeevan Ji Rahe Hain Bahut Sare Logon Ki Aisi Pravritti Hoti Hai Ki Wah Dikhawa Bahut Jyada Karte Hain Jaise Agar Unhone Koi Aisi Cheez Kharidi Jo Anya Logon Ke Paas Nahi Hai To Use Dikhane Ka Wah Prayas Karte Hain Aur Aisa Unhen Lagta Hai Ki Aisa Karne Se Unki Samaaj Mein Kafi Wahwahi Hogi Aur Log Unhen Kafi Bada Mahsus Karenge To Isliye Mujhe Lagta Hai Is Tarah Ki Chijon Se Hume Bachana Chahiye Kyonki Agar Sahi Mahinon Mein Hume Izzat Kamani Hai To Jis Prakar Ki Hamari Shakhisayat Hai Use Hi Sabhi Logon Ke Samane Rakhna Chahiye Aur Kabhi Bhi Banavatipan Ya Phir Dikhawa Nahi Karna Chahiye
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आज के समय में जाओ अपने जीवन जी रहे हैं वह अधिक तौर पर अत्याधिक तौर पर जो है वह बनावटी है छोटा या दिखावे के जीवन में खुद की लाइफ से कम झूठ के जीवन जी रहे हो बिजी सट्टा किंग घर पर बहुत अच्छे ...जवाब पढ़िये
जी बिल्कुल आज के समय में जाओ अपने जीवन जी रहे हैं वह अधिक तौर पर अत्याधिक तौर पर जो है वह बनावटी है छोटा या दिखावे के जीवन में खुद की लाइफ से कम झूठ के जीवन जी रहे हो बिजी सट्टा किंग घर पर बहुत अच्छे से कोई सा भी हो तुरंत खबर रहे हैं बोल रहे हैं खुशियां उसको चिंता लिएG Bilkool Aj K Samay Mein Jao Apne Jeevan G Rahe Hain Wah Adhik Taur Per Atyadhik Taur Per Joe Hai Wah Banavati Hai Chota Ya Dikhaave K Jeevan Mein Khud Ki Life Se Come Jhuth K Jeevan G Rahe Ho Busi Satta King Ghar Per Bahut Achchhe Se Koi Sa Bhi Ho Turant Khabar Rahe Hain Bowl Rahe Hain Khushiyan Usko Chimta Lie
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना है कि आज का समाज दिखावे को फैशन मानता है वह दिखाओ अभी कई प्रकार का होता है जैसे नंबर वन दिखाओ फैशन फैशन दिखा भाई पैसा बहुत से लोग होते हैं कि अपने दिखावे के चक्कर में घर में खाने को नहीं पह...जवाब पढ़िये
मेरा मानना है कि आज का समाज दिखावे को फैशन मानता है वह दिखाओ अभी कई प्रकार का होता है जैसे नंबर वन दिखाओ फैशन फैशन दिखा भाई पैसा बहुत से लोग होते हैं कि अपने दिखावे के चक्कर में घर में खाने को नहीं पहने को नहीं और भारत ने बन ठन के घूमते हैं एक दिखावा होता है जिससे कि लोगों के जेब में धन होता है पैसा होता है और उससे वह दूसरे से अत्याचार करवा कर अपना काम कार्य करवा लेते हैं इस से ही हमारे इंडिया में करप्शन बढ़ता जा रहा है सोसाइटी इस फैशन ऑफ दिखावा सही हैMera Manna Hai Qi Aj Ka Samaj Dikhaave Co Fashion Manta Hai Wah Dikhaao Abhi Kai Prakar Ka Hota Hai Jaise Number One Dikhaao Fashion Fashion Dikha Bhai Paisa Bahut Se Log Hote Hain Qi Apne Dikhaave K Chakkar Mein Ghar Mein Khaane Co Nahin Pahane Co Nahin Aur Bharat Ne Bun Then K Ghoomte Hain Ek Dikhava Hota Hai Jisase Qi Logon K Zeb Mein Dhan Hota Hai Paisa Hota Hai Aur Usase Wah Dusre Se Atyachar Karava Car Apna Kama Karya Karava Lete Hain Is Se Hea Hamare India Mein Corruption Badhata Ja Raha Hai Society Is Fashion Of Dikhava Sahi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित तौर पर यह बात बिल्कुल सौ प्रतिशत सटीक बातें बिल्कुल सही बात है हम बनावट और केवल जो है दिखावे का जीवन जीने उनके उदाहरण पेश करना चाहूंगा कि जो पढ़ने की उम्र है वह बच्चे बच्चे वहां पर जाकर बैठ जा...जवाब पढ़िये
निश्चित तौर पर यह बात बिल्कुल सौ प्रतिशत सटीक बातें बिल्कुल सही बात है हम बनावट और केवल जो है दिखावे का जीवन जीने उनके उदाहरण पेश करना चाहूंगा कि जो पढ़ने की उम्र है वह बच्चे बच्चे वहां पर जाकर बैठ जाते हैं बता देते जो है वह अपने घर में तो जारी रखते हैं घर में परिवार के माता-पिता के सामने तो बहुत भोली सरीफ ईमानदार बने हुए हैं तो वहीं से शुरू हो जाती है वही सफल हो जाते हैं कि स्कूल कॉलेज में कुछ कर रहे हैं भारत कुछ कर रहे हैं घर में कुछ करने किसी को पता नहीं दोनों जगह मजे मार रहे हैं आपस में कमरे में बुराइयां फैल रहा है साथ में मिलजुल कर रह रहे हैं वह भी दिखा दे कि मैं यहां किसी अपने से दूर रिश्ते नातेदार की बुराई पहन रहे हैं उसके साथ मिलजुल कर रहे हैं पूछ रहे हैं लेकिन दिखा रहे हैं जिससे कि आपको भी परेशानी ना हो उस व्यक्ति भी शायद हम प्रूफ करने की सोच है अब मन में परेशान रहना साथ में खुशी बिताना यह अपने आप को भी आप परेशान रख रहे हैं और गलत चीज मिलाकरNishchit Taur Par Yeh Baat Bilkul Sau Pratishat Sateek Batein Bilkul Sahi Baat Hai Hum Banawat Aur Kewal Jo Hai Dikhaave Ka Jeevan Jeene Unke Udaharan Pesh Karna Chahunga Ki Jo Padhne Ki Umar Hai Wah Bacche Bacche Wahan Par Jaakar Baith Jaate Hain Bata Dete Jo Hai Wah Apne Ghar Mein To Jaari Rakhate Hain Ghar Mein Parivar Ke Mata Pita Ke Samane To Bahut Bholi Sarif Imandar Bane Huye Hain To Wahin Se Shuru Ho Jati Hai Wahi Safal Ho Jaate Hain Ki School College Mein Kuch Kar Rahe Hain Bharat Kuch Kar Rahe Hain Ghar Mein Kuch Karne Kisi Ko Pata Nahi Dono Jagah Maje Maar Rahe Hain Aapas Mein Kamre Mein Buraiyan Fail Raha Hai Saath Mein Miljul Kar Rah Rahe Hain Wah Bhi Dikha De Ki Main Yahan Kisi Apne Se Dur Rishte Natedar Ki Burayi Pahan Rahe Hain Uske Saath Miljul Kar Rahe Hain Pooch Rahe Hain Lekin Dikha Rahe Hain Jisse Ki Aapko Bhi Pareshani Na Ho Us Vyakti Bhi Shayad Hum Proof Karne Ki Soch Hai Ab Man Mein Pareshan Rehna Saath Mein Khushi Bitana Yeh Apne Aap Ko Bhi Aap Pareshan Rakh Rahe Hain Aur Galat Cheez Milakar
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल हम आज के समय में बना वटी और दिखावे का जीवन बिल्कुल जी रहे हैं रियालिटी में हर चीज में ऑस्ट्रेलिया हमसे कपड़े पहनते हैं हम कुछ भी करते हैं हमें यह देखना चाहिए कि हम उस में कंफर्टेबल है या नह...जवाब पढ़िये
जी बिल्कुल हम आज के समय में बना वटी और दिखावे का जीवन बिल्कुल जी रहे हैं रियालिटी में हर चीज में ऑस्ट्रेलिया हमसे कपड़े पहनते हैं हम कुछ भी करते हैं हमें यह देखना चाहिए कि हम उस में कंफर्टेबल है या नहीं लेकिन हम देखते हैं कि हम कैसे लगेंगे दूसरों के लिए या दूसरे हम को देखकर किस तरह का कॉन्प्लीमेंट देंगे कपड़े की हर चीज में यही सिचुएशन हो गई है कि और जिंदगी खुद के आस जीने की बजाय हम यह सोचते हैं कि क्या किस तरीके से हम दिखावा करें कि लोग हमारे बारे में और बेहतर सोच है जो कि गलत हैJi Bilkul Hum Aaj Ke Samay Mein Bana Vetti Aur Dikhaave Ka Jeevan Bilkul Ji Rahe Hain Reality Mein Har Cheez Mein Austrailia Humse Kapde Pehente Hain Hum Kuch Bhi Karte Hain Hume Yeh Dekhna Chahiye Ki Hum Us Mein Comfortable Hai Ya Nahi Lekin Hum Dekhte Hain Ki Hum Kaise Lagenge Dusron Ke Liye Ya Dusre Hum Ko Dekhkar Kis Tarah Ka Complement Denge Kapde Ki Har Cheez Mein Yahi Situation Ho Gayi Hai Ki Aur Zindagi Khud Ke Aas Jeene Ki Bajay Hum Yeh Sochte Hain Ki Kya Kis Tarike Se Hum Dikhawa Karen Ki Log Hamare Bare Mein Aur Behtar Soch Hai Jo Ki Galat Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में लोग बनाते अधिकारी का जीवन जी रहे हैं आज के समय में लोग बहुत से काम ऐसे करते हैं जो सिर्फ उनके दिखावे को दर्शाता है और यह आज से नहीं बहुत समय पहले से चलता आ रहा है इसका सबसे सरल उदाहरण हम...जवाब पढ़िये
आज के समय में लोग बनाते अधिकारी का जीवन जी रहे हैं आज के समय में लोग बहुत से काम ऐसे करते हैं जो सिर्फ उनके दिखावे को दर्शाता है और यह आज से नहीं बहुत समय पहले से चलता आ रहा है इसका सबसे सरल उदाहरण हम लोगों को भारत में होने वाली शादी विवाह में देखने को मिल जाएगा जिसमें मिडिल क्लास व्यक्ति भी अपनी हैसियत से ऊपर खर्च करता है दिखावा इसलिए कहना सही होगा क्योंकि सरल और अपनी हैसियत के अंदर अपने बच्चों की शादी करता है तो क्या वह शादी मान्य नहीं होगी एक मिडिल क्लास व्यक्ति सिर्फ फालतू का दिखावा करने के लिए ऐसा करता है और उसके आर्थिक परिणाम उसे भविष्य में झेलने पड़ते हैं यह तो वह एक उदाहरण दूसरे लोग आज के समय में जो अपने आप को समाज में दिखाते हैं वह असल में वह नहीं है उनका असली चेहरा कुछ अलग ही होता है लोग गलत कामों से पैसा जमा करते हैं फिर कुछ भलाई और धर्म के काम करते हैं जिससे उनका बनावटी चेहरा दुनिया के सामने आता है थैंक यूAaj Ke Samay Mein Log Banate Adhikari Ka Jeevan Ji Rahe Hain Aaj Ke Samay Mein Log Bahut Se Kaam Aise Karte Hain Jo Sirf Unke Dikhaave Ko Darshaata Hai Aur Yeh Aaj Se Nahi Bahut Samay Pehle Se Chalta Aa Raha Hai Iska Sabse Saral Udaharan Hum Logon Ko Bharat Mein Hone Wali Shadi Vivah Mein Dekhne Ko Mil Jayega Jisme Middle Class Vyakti Bhi Apni Haisiyat Se Upar Kharch Karta Hai Dikhawa Isliye Kehna Sahi Hoga Kyonki Saral Aur Apni Haisiyat Ke Andar Apne Bacchon Ki Shadi Karta Hai To Kya Wah Shadi Manya Nahi Hogi Ek Middle Class Vyakti Sirf Faltu Ka Dikhawa Karne Ke Liye Aisa Karta Hai Aur Uske Aarthik Parinam Use Bhavishya Mein Jhelne Padate Hain Yeh To Wah Ek Udaharan Dusre Log Aaj Ke Samay Mein Jo Apne Aap Ko Samaaj Mein Dikhate Hain Wah Asal Mein Wah Nahi Hai Unka Asli Chehra Kuch Alag Hi Hota Hai Log Galat Kamon Se Paisa Jama Karte Hain Phir Kuch Bhalai Aur Dharm Ke Kaam Karte Hain Jisse Unka Banaavatee Chehra Duniya Ke Samane Aata Hai Thank You
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मैं इस बात से सहमत हूं कि आज के समय में भी हम बनावट ही अधिकारी का जीवन जी रहे हैं कई बार हम लोगों को वह दिखाने की कोशिश करते हैं जो हम हैं नहीं हम अपनी असली का वीडियो छुपाते हैं और वह लोग वह दिखा...जवाब पढ़िये
हां मैं इस बात से सहमत हूं कि आज के समय में भी हम बनावट ही अधिकारी का जीवन जी रहे हैं कई बार हम लोगों को वह दिखाने की कोशिश करते हैं जो हम हैं नहीं हम अपनी असली का वीडियो छुपाते हैं और वह लोग वह दिखाते हैं वह देखना चाहते हैंHaan Main Is Baat Se Sahmat Hoon Ki Aaj Ke Samay Mein Bhi Hum Banawat Hi Adhikari Ka Jeevan Ji Rahe Hain Kai Bar Hum Logon Ko Wah Dikhane Ki Koshish Karte Hain Jo Hum Hain Nahi Hum Apni Asli Ka Video Chupate Hain Aur Wah Log Wah Dikhate Hain Wah Dekhna Chahte Hain
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आज के समय में ज्यादातर व्यक्ति दिखावटी जीवन जीते हैं आज के आधुनिकरण की चरणों में अंधे हो गए हैं आज भक्ति जरूरतों के हिसाब से नहीं बल्कि सबके सब से जीता है घर में खाने के लिए खाना ना हो और पास मे...जवाब पढ़िये
देखिए आज के समय में ज्यादातर व्यक्ति दिखावटी जीवन जीते हैं आज के आधुनिकरण की चरणों में अंधे हो गए हैं आज भक्ति जरूरतों के हिसाब से नहीं बल्कि सबके सब से जीता है घर में खाने के लिए खाना ना हो और पास में एक अच्छा मोबाइल होना चाहिए iPhone होना चाहिए और बाइक तो होना ही चाहिए खास में सबसे आगे हैं वह अपना सारा ध्यान पढ़ाई को छोड़कर नाइट पार्टीज में लगाते हैं राजनीति में घुस जा रहे हैं गुंडागर्दी करने लगते हैं फैशन में ज्यादा समय व्यतीत कर लगते हैं और अपना करियर बर्बाद करने लगती है इसके अलावा लड़की बाजी भी है प्यार में पड़ जाती हैं और अपना समय बर्बाद करते हैं अपने शौक पूरे करने के लिए पैसों की बर्बादी करते हैं और फिजूल खर्चे करते हैं हमें चाहिए कि बनावटी जीवन नाथ जी का हम अपने प्रमुख कार्य और जरूरतों की पूर्ति करें और अपना लक्ष्य पाने की कोशिश करें ना कि शौक या दिखावे की पूर्ति करें और हर व्यक्ति को अपना एक सादगीपूर्ण जीवन जीना चाहिए जिससे वह हमेशा स्वस्थ रहे और तरोताजा रहेDekhie Aaj Ke Samay Mein Jyadatar Vyakti Dikhavati Jeevan Jeete Hain Aaj Ke Aadhunikaran Ki Charanon Mein Andhe Ho Gaye Hain Aaj Bhakti Jaruraton Ke Hisab Se Nahi Balki Sabke Sab Se Jita Hai Ghar Mein Khane Ke Liye Khana Na Ho Aur Paas Mein Ek Accha Mobile Hona Chahiye IPhone Hona Chahiye Aur Bike To Hona Hi Chahiye Khas Mein Sabse Aage Hain Wah Apna Saara Dhyan Padhai Ko Chodkar Night Parties Mein Lagate Hain Rajneeti Mein Ghus Ja Rahe Hain Gundagardi Karne Lagte Hain Fashion Mein Jyada Samay Vyatit Kar Lagte Hain Aur Apna Career Barbad Karne Lagti Hai Iske Alava Ladki Busy Bhi Hai Pyar Mein Padh Jati Hain Aur Apna Samay Barbad Karte Hain Apne Shauk Poore Karne Ke Liye Paison Ki Barbadi Karte Hain Aur Fizool Kharche Karte Hain Hume Chahiye Ki Banaavatee Jeevan Nath Ji Ka Hum Apne Pramukh Karya Aur Jaruraton Ki Purti Karen Aur Apna Lakshya Pane Ki Koshish Karen Na Ki Shauk Ya Dikhaave Ki Purti Karen Aur Har Vyakti Ko Apna Ek Sadgipurn Jeevan Jeena Chahiye Jisse Wah Hamesha Swasth Rahe Aur Tarotaja Rahe
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में बनावटी में दिखावे का जीवन जी रहे हैं अगर यह बात है तो बिल्कुल सच है आप हम हमारे किसी के मन में सच्चाई नहीं रही ना हम सच देखते हैं ना हम सच सुनना चाहते हैं हम सिर्फ बनावटी दिखावा झूठ छल-क...जवाब पढ़िये
आज के समय में बनावटी में दिखावे का जीवन जी रहे हैं अगर यह बात है तो बिल्कुल सच है आप हम हमारे किसी के मन में सच्चाई नहीं रही ना हम सच देखते हैं ना हम सच सुनना चाहते हैं हम सिर्फ बनावटी दिखावा झूठ छल-कपट इन सिक्योरिटी के जीवन जी रहे हैं और मालूम नहीं यह में कहां लेकर जाएगा तो इसका अंत होना चाहिए जो जी रहे हैं किसी को भी नहीं मालूम लेकिन इसी तरह का जीवन है झूठ की जिंदगी जी रहे हैं मन में कुछ और है दिखाते कुछ और है करते कुछ और हैं आदर्शवादी बनने का ढोंग करते हैं आशा शिबन निकट ढोंग करते हैं तो पूरे तौर पर हम ढोंगी हो चुके हैं बनावटी जीवन जी रहे हैं हम दिखावे का जीवन लोगों को दिखाने के लिए लोग क्या कहेंगे यह दिखाने के लिए हम किसी भी हद तक गुजर जाते हैं सिर्फ अपने बारे में सोच के स्वास्थ्य जीवन जीतेAaj Ke Samay Mein Banaavatee Mein Dikhaave Ka Jeevan Ji Rahe Hain Agar Yeh Baat Hai To Bilkul Sach Hai Aap Hum Hamare Kisi Ke Man Mein Sacchai Nahi Rahi Na Hum Sach Dekhte Hain Na Hum Sach Sunana Chahte Hain Hum Sirf Banaavatee Dikhawa Jhuth Chal Kept In Security Ke Jeevan Ji Rahe Hain Aur Maloom Nahi Yeh Mein Kahan Lekar Jayega To Iska Ant Hona Chahiye Jo Ji Rahe Hain Kisi Ko Bhi Nahi Maloom Lekin Isi Tarah Ka Jeevan Hai Jhuth Ki Zindagi Ji Rahe Hain Man Mein Kuch Aur Hai Dikhate Kuch Aur Hai Karte Kuch Aur Hain Aadarshvaadi Banane Ka Dhong Karte Hain Asha Shiban Nikat Dhong Karte Hain To Poore Taur Par Hum Dhongi Ho Chuke Hain Banaavatee Jeevan Ji Rahe Hain Hum Dikhaave Ka Jeevan Logon Ko Dikhane Ke Liye Log Kya Kahenge Yeh Dikhane Ke Liye Hum Kisi Bhi Had Tak Gujar Jaate Hain Sirf Apne Bare Mein Soch Ke Swasthya Jeevan Jeete
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Hum Aaj Ke Samay Mein Banaavatee V Dikhaave Ka Jeevan Ji Rahe Hain

vokalandroid