भारत में इतना बेरोजगारी क्यों है ? ...

Likes  9  Dislikes

16 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत में बेरोजगारी का सबसे बड़ा कारण यह है; कि हमारे यहां पर जो एजुकेशन है उसका रोजगार से कोई वास्ता नहीं है, कोई ताल्लुक नहीं है और जैसे की हम लोग एक भेड़ चाल से चलते रहते हैं l जैसे की अब से करीब १० -१५ साल पहले एक इंजीनियरिंग का जो भेड चाल थी l हर आदमी इंजीनियर बनना चाहता था ,और क्वालिटी पर कोई कांशसनेस नहीं है और गवर्नमेंट ने सैकड़ों, हजारों इंजीनियरिंग कॉलेज परमिट कर दिए l लाखों लोग हर साल इंजीनियर बनने लगे l ना तो उनकी क्वालिटी पर कोई फोकस है, ना इस बात पर कोई फोकस है कि उनकी बाजार में जरूरत है कि नहीं है l बस लोग पढ़ना है तो पढ़ना है l अगर आप विदेशी जो एजुकेशन सिस्टम है उसको देखें; तो आप देखेंगे कि वहां पर १२वीं के बाद में बहुत कम लोग हैं जो हर स्टडी जिले आते हैं ,क्योंकि वाकई में ज्यादातर काम जो लोग कर रहे हैं उसके लिए बारहवीं की एजुकेशन काफी है l अगर आपको इंजीनियरिंग के लिए जाते हैं तो भी आप जाएंगे जब को आपको इंजीनियर वाकई इंटरेस्ट हो l यहां पर तो हर आदमी इंजीनियरिंग के लिए जा रहा है l हर आदमी ग्रेजुएशन कर रहा है l भाई आप क्यों ग्रेजुएशन कर रहे हैं ? अगर आपको १२वीं के बाद में जो आपके अंदर जो स्किल है उससे आप काम कर सकते हैं, मान लिया आप दुकान खोलना है, मान लिया आपको एक रेस्टोरेंट चलाना है, मान लिया कि आपको एक ऐसा कोई काम करना है जिसके लिए आपको स्पेशीअलाइज्ड नॉलेज की जरूरत नहीं है l तो ,क्यों अपना समय आप जो है, वह उसमे व्यर्थ कर रहे हैं? दिक्कत क्या होती है , जब हमारे पास में हाई एजुकेशन हो जाती है, तो छोटे- मोटे जॉब भी नहीं करना चाहते हैं, और फिर हमें जॉब चाहिए होता इंजीनियर का जिस में वैकेंसी नहीं है l अगर हम जल्दी जॉब जॉइन करें तो, छोटे जॉब चाहे वह टैक्सी चला ना , चाहे वो रेस्टोरेंट खोलाना हो, चाहे वह और कोई काम हो उसको हम आसानी से कर सकते हैं l तो हमारे यहां पर यह बहुत जरूरी, हमारे यहां पर लोग ओवर एजुकेशन पर जा रहे हैं और क्वालिटी ऑफ एजुकेशन पर नहीं जा रहे हैं इसीलिए सबसे ज्यादा बेरोजगारी है lBharat Mein Berojgari Ka Sabse Bada Kaaran Yeh Hai Ki Hamare Yahan Par Jo Education Hai Uska Rojgar Se Koi Nahi Hai Koi Talluk Nahi Hai Aur Jaise Ki Hum Log Ek Bhed Chaal Se Chalte Rehte Hain L Jaise Ki Ab Se Karib 10 15 Saal Pehle Ek Engineering Ka Jo Bhede Chaal Thi L Har Aadmi Engineer Banana Chahta Tha Aur Quality Par Koi Nahi Hai Aur Government Ne Hajaron Engineering College Permit Kar Diye L Laakhon Log Har Saal Engineer Banane Lage L Na To Unki Quality Par Koi Focus Hai Na Is Baat Par Koi Focus Hai Ki Unki Bazar Mein Zaroorat Hai Ki Nahi Hai L Bus Log Padhna Hai To Padhna Hai L Agar Aap Videshi Jo Education System Hai Usko Dekhen To Aap Dekhenge Ki Wahan Par 12vi Ke Baad Mein Bahut Kam Log Hain Jo Har Study Jile Aate Hain Kyonki Vaakai Mein Jyadatar Kaam Jo Log Kar Rahe Hain Uske Liye Baarahvin Ki Education Kafi Hai L Agar Aapko Engineering Ke Liye Jaate Hain To Bhi Aap Jaenge Jab Ko Aapko Engineer Vaakai Interest Ho L Yahan Par To Har Aadmi Engineering Ke Liye Ja Raha Hai L Har Aadmi Graduation Kar Raha Hai L Bhai Aap Kyon Graduation Kar Rahe Hain ? Agar Aapko 12vi Ke Baad Mein Jo Aapke Andar Jo Skill Hai Usse Aap Kaam Kar Sakte Hain Maan Liya Aap Dukan Kholna Hai Maan Liya Aapko Ek Restaurant Chalana Hai Maan Liya Ki Aapko Ek Aisa Koi Kaam Karna Hai Jiske Liye Aapko Knowledge Ki Zaroorat Nahi Hai L To Kyon Apna Samay Aap Jo Hai Wah Usme Vyarth Kar Rahe Hain Dikkat Kya Hoti Hai , Jab Hamare Paas Mein Hi Education Ho Jati Hai To Chote Mote Job Bhi Nahi Karna Chahte Hain Aur Phir Hume Job Chahiye Hota Engineer Ka Jis Mein Vacancy Nahi Hai L Agar Hum Jaldi Job Join Karen To Chote Job Chahe Wah Taxi Chala Na , Chahe Vo Restaurant Ho Chahe Wah Aur Koi Kaam Ho Usko Hum Aasani Se Kar Sakte Hain L To Hamare Yahan Par Yeh Bahut Zaroori Hamare Yahan Par Log Over Education Par Ja Rahe Hain Aur Quality Of Education Par Nahi Ja Rahe Hain Isliye Sabse Jyada Berojgari Hai L
Likes  210  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मेरा मानना यह है कि हमारे देश में बेरोजगारी के बहुत सारे कारण हैं उनमें कुछ कुछ कारणों को मैं बताना चाहूंगी वह यह है कि सबसे पहला कारण है हमारे देश में पढ़ाई की बहुत कमी है लोग पढ़े लिखे नहीं हैं लोग को किसी चीज को समझना नहीं जानते पढ़ना लिखना नहीं जानते तुमको बहुत दिक्कतें आती है हर काम करने में और जो काम बचता है वह सिर्फ एक यही है कि वह मजदूरी करें और मजदूरी करने से किसी का भी पेट भरना तक तो हो पाता है लेकिन वह अच्छी लाइफ नहीं जी पाता उसके अलावा हमारे देश में स्किल्ड लेबर की कमी है इसका मतलब कोई भी इंसान जो काम कर रहा है वह उसकी पूरी नॉलेज नहीं है उसे वह सिर्फ इसलिए कर रहा है क्योंकि उसको उतना ही होता है तो हमारे देश में अलग अलग तरह के स्किल्ड लेबर होंगे तो शायद बेरोजगारी कम हो जी का गाना एक और यह भी है कि हमारे देश में जो युवा पढ़े लिखे हैं और वह इतने ज्यादा है जैसे कि हम इंजीनियर का एग्जांपल ले सकते हैं कि इतने सारे इंजीनियर से हमारे देश में उन सब की भीड़ इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि अब जगह भी नहीं बची है कि उनको नौकरियां दी जा सके उन्हें नौकरी मिल सके तो ऐसे भी बहुत सारे लोग हैं जो कि देश में पढ़े लिखे हैं परंतु उनके पास नौकरी नहीं है इसके अलावा जो सबसे बड़ा कारण है वह हमारे देश की पॉपुलेशन है हमारे देश में कितनी पॉपुलेशन है और अपॉर्चुनिटी बहुत कम है लोग बहुत लोग इतनी ज्यादा है लेकिन उनके पास काम करने के लिए रोजगार नहीं है तो यह सारी जो चीजें हैं वही हमारे देश में बेरोजगारी को बढ़ा रहे हैंMera Manana Yeh Hai Ki Hamare Desh Mein Berojgari Ke Bahut Sare Kaaran Hain Unmen Kuch Kuch Kaarno Ko Main Batana Wah Yeh Hai Ki Sabse Pehla Kaaran Hai Hamare Desh Mein Padhai Ki Bahut Kami Hai Log Padhe Likhe Nahi Hain Log Ko Kisi Cheez Ko Samajhna Nahi Jante Padhna Likhna Nahi Jante Tumko Bahut Dikkaten Aati Hai Har Kaam Karne Mein Aur Jo Kaam Bachta Hai Wah Sirf Ek Yahi Hai Ki Wah Mazdoori Karen Aur Mazdoori Karne Se Kisi Ka Bhi Pet Bharna Tak To Ho Pata Hai Lekin Wah Acchi Life Nahi Ji Pata Uske Alava Hamare Desh Mein Skilled Labour Ki Kami Hai Iska Matlab Koi Bhi Insaan Jo Kaam Kar Raha Hai Wah Uski Puri Knowledge Nahi Hai Use Wah Sirf Isliye Kar Raha Hai Kyonki Usko Utana Hi Hota Hai To Hamare Desh Mein Alag Alag Tarah Ke Skilled Labour Honge To Shayad Berojgari Kam Ho Ji Ka Gaana Ek Aur Yeh Bhi Hai Ki Hamare Desh Mein Jo Yuva Padhe Likhe Hain Aur Wah Itne Jyada Hai Jaise Ki Hum Engineer Ka Example Le Sakte Hain Ki Itne Sare Engineer Se Hamare Desh Mein Un Sab Ki Bheed Itni Jyada Badh Chuki Hai Ki Ab Jagah Bhi Nahi Bachi Hai Ki Unko Naukriyan Di Ja Sake Unhen Naukri Mil Sake To Aise Bhi Bahut Sare Log Hain Jo Ki Desh Mein Padhe Likhe Hain Parantu Unke Paas Naukri Nahi Hai Iske Alava Jo Sabse Bada Kaaran Hai Wah Hamare Desh Ki Population Hai Hamare Desh Mein Kitni Population Hai Aur Opportunity Bahut Kam Hai Log Bahut Log Itni Jyada Hai Lekin Unke Paas Kaam Karne Ke Liye Rojgar Nahi Hai To Yeh Saree Jo Cheezen Hain Wahi Hamare Desh Mein Berojgari Ko Badha Rahe Hain
Likes  27  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत में बेरोजगारी का सबसे प्रथम कारण है भारत का एक कृषि प्रधान देश होना व भारत सरकार द्वारा कृषि को प्रोत्साहन ना देना किसानों की दशा में कोई सुधार ना होना पिछले 70 वर्षों में अधिकतर किसानों का कृषि को छोड़कर बाकी अन्य जो उद्योग धंदे हैं उन में लिप्त होना अगर हम ध्यान दें तो बढ़ते शहरीकरण के कारण अधिकतर किसान गांव को छोड़कर बाकी शहरों की तरफ दमन करते रहें जिसके कारणवश कृषि योग्य भूमि बंजर होती चली गई वह जब तक हम वापिस उस कृषि योग्य भूमि पर लौटेंगे तब तक पर जमीन कृषि योग्य नहीं रह जाएगी जिसके कारण बेरोजगारी बढ़ती गई दूसरा कारण है शहरीकरण पर उस पर शहरों पर बढ़ता दबाव के के शहर एक सीमित क्षेत्र में होते हैं उनके पास सीमित संसाधन होते हैं तथा उसमें अगर करोड़ों की संख्या में लोग जाने लगेंगे तो उनको श्रम या रोजगार के साधन उपलब्ध करा पाना संभव नहीं है चाहे वह कोई भी सरकार हो वहां संभव नहीं है तीसरा एक अहम कारण है कौशल आधारित श्रम आणि औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों से निकलने वाले छात्र छात्रों को रोजगार की कोई सुविधा या सर्व हरियाणा करवा पाना किसी भी सरकार द्वारा जिसके कारण कौशल व श्रम आधारित उद्योग है जो हमारे कार्य हैं उनकी गुणवत्ता में कोई सुधार नहीं हो पाया तथा छात्रों को इन रस्मों को ऑफ करने का कोई प्रोत्साहन पिछले कुछ वर्षों में नहीं मिल पाया जिसके कारण से बेरोजगारी बढ़ती कोई और सबसे महत्वपूर्ण कारण है भारत की जो रोजगार प्रणाली है वह श्रम और रोजगार मंत्रालय हैं उसका इस विषय में कोई विशेष रूचि ना रखना और इस प्रकार बेरोजगारी विगत कई वर्षों में बढ़ती ही चली जा रही है धन्यवादBharat Mein Berojgari Ka Sabse Pratham Kaaran Hai Bharat Ka Ek Krishi Pradhan Desh Hona V Bharat Sarkar Dwara Krishi Ko Protsahan Na Dena Kisano Ki Dasha Mein Koi Sudhaar Na Hona Pichhle 70 Varshon Mein Adhiktar Kisano Ka Krishi Ko Chodkar Baki Anya Jo Udyog Hain Un Mein Lipt Hona Agar Hum Dhyan Dein To Badhte Shaharikaran Ke Kaaran Adhiktar Kisan Gav Ko Chodkar Baki Shaharon Ki Taraf Daman Karte Rahen Jiske Karanvash Krishi Yogya Bhoomi Banjar Hoti Chali Gayi Wah Jab Tak Hum Vapis Us Krishi Yogya Bhoomi Par Tab Tak Par Jameen Krishi Yogya Nahi Rah Jayegi Jiske Kaaran Berojgari Badhti Gayi Doosra Kaaran Hai Shaharikaran Par Us Par Shaharon Par Badhta Dabaav Ke Ke Sheher Ek Simith Kshetra Mein Hote Hain Unke Paas Simith Sansadhan Hote Hain Tatha Usamen Agar Karodo Ki Sankhya Mein Log Jaane Lagenge To Unko Sharam Ya Rojgar Ke Sadhan Uplabdha Kra Pana Sambhav Nahi Hai Chahe Wah Koi Bhi Sarkar Ho Wahan Sambhav Nahi Hai Teesra Ek Aham Kaaran Hai Kaushal Aadharit Sharam Aani Audhyogik Prashikshan Sansthano Se Nikalne Wale Chatra Chhatro Ko Rojgar Ki Koi Suvidha Ya Surve Haryana Karava Pana Kisi Bhi Sarkar Dwara Jiske Kaaran Kaushal V Sharam Aadharit Udyog Hai Jo Hamare Karya Hain Unki Gunavatta Mein Koi Sudhaar Nahi Ho Paya Tatha Chhatro Ko In Ko Of Karne Ka Koi Protsahan Pichhle Kuch Varshon Mein Nahi Mil Paya Jiske Kaaran Se Berojgari Badhti Koi Aur Sabse Mahatvapurna Kaaran Hai Bharat Ki Jo Rojgar Pranali Hai Wah Sharam Aur Rojgar Mantralay Hain Uska Is Vishay Mein Koi Vishesh Ruchi Na Rakhna Aur Is Prakar Berojgari Vigat Kai Varshon Mein Badhti Hi Chali Ja Rahi Hai Dhanyavad
Likes  10  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


विकी इसका आंसर में विस्तारित रुप से देना जाऊंगी क्योंकि इसके ऊपर हम किसी एक को ब्लेम नहीं कर सकते यहां हर की जिम्मेदारी है जिसे हम देखेंगे बेरोजगारी का रिजल्ट एजुकेशन सिस्टम भी है क्योंकि हमारी एजुकेशन सिस्टम दिखा जाए तो 18 टिकल बेस पर है जैसे ब्रिटिश एक व्यक्ति ने हमारी एजुकेशन सिस्टम बदल दी गई थी लॉर्ड मैकाले तो वहां से वह यही यही चलती आ रही है एक खलाड़ी कल पार्क पर तो मेरे हिसाब से उसको एक प्रैक्टिकल नॉलेज विदेशी कंपनियों में होता है इसके आधार पर करनी चाहिए यह रीजन है बेबी टीवी कंपनियां जो आती है उनको पैसे और युवाओ या यूज़ मिलते नहीं है जो संगठन नॉलेज की विशेषताएं दूसरी सरकार सरकार को कुछ बदलना नहीं चाहती जैसा है वैसा ही रखना चाहती है हालांकि वह कुछ योजनाएं कर रही बट वह काफी नहीं है देखा जाए तो भाग तीसरा रीजन यह है कि भारत का जो टर्न ओवर है या कुछ भी कंपनियां वह सारी अमेरिका और यूरोप के बेसिस पर है वह घर की आर्थिक मंदी वगैरा जाएं तो हमारा बिज़नेस भी डगमग जाता है तो यह एक बेरोजगारी का रीजन है क्योंकि अगर वह कुछ आर्थिक मंदी आ गई तो कंपनियों को लोगों को निकालना पड़ता है और लोग फिर बेरोजगार हो जाते हैं तो ऐसे कई रीजन से भारत में बेरोजगारी होने के मेरे ख्याल से हम सब को इस पर उपाय योजना करनी चाहिए या नहीं जो यूथ है उनको ज्यादा से ज्यादा अच्छा नॉलेज गेन करना या नहीं चली प्रैक्टिकल क्या लग रहा है फिर एजुकेशन सरकार ने भी एजुकेशन सिस्टम पर ध्यान देना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा नौकरी और लोगों को मिले ऐसा दिखना चाहिए

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

विकी इसका आंसर में विस्तारित रुप से देना जाऊंगी क्योंकि इसके ऊपर हम किसी एक को ब्लेम नहीं कर सकते यहां हर की जिम्मेदारी है जिसे हम देखेंगे बेरोजगारी का रिजल्ट एजुकेशन सिस्टम भी है क्योंकि हमारी एजुकेशन सिस्टम दिखा जाए तो 18 टिकल बेस पर है जैसे ब्रिटिश एक व्यक्ति ने हमारी एजुकेशन सिस्टम बदल दी गई थी लॉर्ड मैकाले तो वहां से वह यही यही चलती आ रही है एक खलाड़ी कल पार्क पर तो मेरे हिसाब से उसको एक प्रैक्टिकल नॉलेज विदेशी कंपनियों में होता है इसके आधार पर करनी चाहिए यह रीजन है बेबी टीवी कंपनियां जो आती है उनको पैसे और युवाओ या यूज़ मिलते नहीं है जो संगठन नॉलेज की विशेषताएं दूसरी सरकार सरकार को कुछ बदलना नहीं चाहती जैसा है वैसा ही रखना चाहती है हालांकि वह कुछ योजनाएं कर रही बट वह काफी नहीं है देखा जाए तो भाग तीसरा रीजन यह है कि भारत का जो टर्न ओवर है या कुछ भी कंपनियां वह सारी अमेरिका और यूरोप के बेसिस पर है वह घर की आर्थिक मंदी वगैरा जाएं तो हमारा बिज़नेस भी डगमग जाता है तो यह एक बेरोजगारी का रीजन है क्योंकि अगर वह कुछ आर्थिक मंदी आ गई तो कंपनियों को लोगों को निकालना पड़ता है और लोग फिर बेरोजगार हो जाते हैं तो ऐसे कई रीजन से भारत में बेरोजगारी होने के मेरे ख्याल से हम सब को इस पर उपाय योजना करनी चाहिए या नहीं जो यूथ है उनको ज्यादा से ज्यादा अच्छा नॉलेज गेन करना या नहीं चली प्रैक्टिकल क्या लग रहा है फिर एजुकेशन सरकार ने भी एजुकेशन सिस्टम पर ध्यान देना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा नौकरी और लोगों को मिले ऐसा दिखना चाहिएVikee Iska Answer Mein Vistarit Roop Se Dena Jaungi Kyonki Iske Upar Hum Kisi Ek Ko Blame Nahi Kar Sakte Yahan Har Ki Jimmedari Hai Jise Hum Dekhenge Berojgari Ka Result Education System Bhi Hai Kyonki Hamari Education System Dikha Jaye To 18 Base Par Hai Jaise British Ek Vyakti Ne Hamari Education System Badal Di Gayi Thi Lord To Wahan Se Wah Yahi Yahi Chalti Aa Rahi Hai Ek Kal Park Par To Mere Hisab Se Usko Ek Practical Knowledge Videshi Companion Mein Hota Hai Iske Aadhar Par Karni Chahiye Yeh Reason Hai Baby Tv Companiyan Jo Aati Hai Unko Paise Aur Yuvaon Ya Use Milte Nahi Hai Jo Sangathan Knowledge Ki Visheshtayen Dusri Sarkar Sarkar Ko Kuch Badalna Nahi Chahti Jaisa Hai Waisa Hi Rakhna Chahti Hai Halanki Wah Kuch Yojanaye Kar Rahi But Wah Kafi Nahi Hai Dekha Jaye To Bhag Teesra Reason Yeh Hai Ki Bharat Ka Jo Turn Over Hai Ya Kuch Bhi Companiyan Wah Saree America Aur Europe Ke Basis Par Hai Wah Ghar Ki Aarthik Mandi Vagaira Jayen To Hamara Business Bhi Jata Hai To Yeh Ek Berojgari Ka Reason Hai Kyonki Agar Wah Kuch Aarthik Mandi Aa Gayi To Companion Ko Logon Ko Nikalna Padata Hai Aur Log Phir Berojgar Ho Jaate Hain To Aise Kai Reason Se Bharat Mein Berojgari Hone Ke Mere Khayal Se Hum Sab Ko Is Par Upay Yojana Karni Chahiye Ya Nahi Jo Youth Hai Unko Jyada Se Jyada Accha Knowledge Gain Karna Ya Nahi Chali Practical Kya Lag Raha Hai Phir Education Sarkar Ne Bhi Education System Par Dhyan Dena Chahiye Aur Jyada Se Jyada Naukri Aur Logon Ko Mile Aisa Dikhana Chahiye
Likes  6  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

देखिए भारत में इतनी बेरोजगारी की कई बजे हैं सबसे पहली बजे में डायरेक्ट सरकार को मारना चाहता हूं जो कोई भी पार्टी की सरकार की बात नहीं कर रहा हूं जितनी भी सरकारें आई है भारत देश में उन्होंने बेरोजगारी है उसको बढ़ाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया रोजगार की को बढ़ाने के लिए हमें सपेशल कदम उठाने चाहिए क्योंकि यदि हम देखें ऑन रिकॉर्ड की बात करें तो बेरोजगारों की संख्या ज्यादा है और कितनी नौकरियां है उधर उस की संख्या कम है तू या नहीं ऑलरेडी SDM रिकॉर्ड पर ही बात करें तो काफी हद तक बेरोजगार रह नहीं रहना है हमेशा और उसके बावजूद नौकरी मिल नहीं पाती है सही ढंग से मजबूर होकर लोगों को विदेश भागना पड़ता है दूसरे देश भागना पड़ता तुर्क दूसरी बेरोजगारी की वजह है आप देखिए हर शहर में छोटा सा छोटा है रोता है बड़े से बड़ा उसमें कॉलेज खुल गया हर फील्ड के हर वेराइटी है कॉलेज में लाखो हजारों हंस बच्चा बड़ा हर शहर में लव को बच्चा पढ़ना और कॉलेज में जब जब इतने बच्चा निकलेगा तो आपने कॉलेज खोलने की तो इजाजत देती है लाइसेंस दे दिया है बच्चों को तो आप रिट्रीट कराने की मांग कर रहे हैं लेकिन जब वह बच्चा हूं कॉलेज से निकलेगा मुझे नौकरी तलाशेगा जब उसके लिए नौकरी ही अवेलेबल नहीं होंगी तो कहां का क्या करेगा वह बेरोजगारी होगा बेरोजगार इंसान गलत धंधे में पड़ेगा गलत आदतों में पड़ेगा या फिर दूसरे देशों में भागेगा तो इन सारी चीजों की वजह हमारी एक पॉलिसी जो है वह नहीं है क्वालिटी होनी चाहिए इस पर क्या मतलब है पूरी प्रोसेस होनी चाहिए जिससे की बेरोजगारी कम हो और रोजगारी बड़े

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखिए भारत में इतनी बेरोजगारी की कई बजे हैं सबसे पहली बजे में डायरेक्ट सरकार को मारना चाहता हूं जो कोई भी पार्टी की सरकार की बात नहीं कर रहा हूं जितनी भी सरकारें आई है भारत देश में उन्होंने बेरोजगारी है उसको बढ़ाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया रोजगार की को बढ़ाने के लिए हमें सपेशल कदम उठाने चाहिए क्योंकि यदि हम देखें ऑन रिकॉर्ड की बात करें तो बेरोजगारों की संख्या ज्यादा है और कितनी नौकरियां है उधर उस की संख्या कम है तू या नहीं ऑलरेडी SDM रिकॉर्ड पर ही बात करें तो काफी हद तक बेरोजगार रह नहीं रहना है हमेशा और उसके बावजूद नौकरी मिल नहीं पाती है सही ढंग से मजबूर होकर लोगों को विदेश भागना पड़ता है दूसरे देश भागना पड़ता तुर्क दूसरी बेरोजगारी की वजह है आप देखिए हर शहर में छोटा सा छोटा है रोता है बड़े से बड़ा उसमें कॉलेज खुल गया हर फील्ड के हर वेराइटी है कॉलेज में लाखो हजारों हंस बच्चा बड़ा हर शहर में लव को बच्चा पढ़ना और कॉलेज में जब जब इतने बच्चा निकलेगा तो आपने कॉलेज खोलने की तो इजाजत देती है लाइसेंस दे दिया है बच्चों को तो आप रिट्रीट कराने की मांग कर रहे हैं लेकिन जब वह बच्चा हूं कॉलेज से निकलेगा मुझे नौकरी तलाशेगा जब उसके लिए नौकरी ही अवेलेबल नहीं होंगी तो कहां का क्या करेगा वह बेरोजगारी होगा बेरोजगार इंसान गलत धंधे में पड़ेगा गलत आदतों में पड़ेगा या फिर दूसरे देशों में भागेगा तो इन सारी चीजों की वजह हमारी एक पॉलिसी जो है वह नहीं है क्वालिटी होनी चाहिए इस पर क्या मतलब है पूरी प्रोसेस होनी चाहिए जिससे की बेरोजगारी कम हो और रोजगारी बड़ेDekhie Bharat Mein Itni Berojgari Ki Kai Baje Hain Sabse Pehli Baje Mein Direct Sarkar Ko Maarna Chahta Hoon Jo Koi Bhi Party Ki Sarkar Ki Baat Nahi Kar Raha Hoon Jitni Bhi Sarkaren Eye Hai Bharat Desh Mein Unhone Berojgari Hai Usko Badhane Ke Liye Koi Kadam Nahi Uthaya Rojgar Ki Ko Badhane Ke Liye Hume Kadam Uthane Chahiye Kyonki Yadi Hum Dekhen On Record Ki Baat Karen To Berojgaron Ki Sankhya Jyada Hai Aur Kitni Naukriyan Hai Udhar Us Ki Sankhya Kam Hai Tu Ya Nahi SDM Record Par Hi Baat Karen To Kafi Had Tak Berojgar Rah Nahi Rehna Hai Hamesha Aur Uske Bawajud Naukri Mil Nahi Pati Hai Sahi Dhang Se Majboor Hokar Logon Ko Videsh Bhaagna Padata Hai Dusre Desh Bhaagna Padata Dusri Berojgari Ki Wajah Hai Aap Dekhie Har Sheher Mein Chota Sa Chota Hai Rota Hai Bade Se Bada Usamen College Khul Gaya Har Field Ke Har Hai College Mein Hajaron Hans Baccha Bada Har Sheher Mein Love Ko Baccha Padhna Aur College Mein Jab Jab Itne Baccha Niklega To Aapne College Kholne Ki To Ijajat Deti Hai License De Diya Hai Bacchon Ko To Aap Karane Ki Maang Kar Rahe Hain Lekin Jab Wah Baccha Hoon College Se Niklega Mujhe Naukri Jab Uske Liye Naukri Hi Available Nahi Hongi To Kahan Ka Kya Karega Wah Berojgari Hoga Berojgar Insaan Galat Dhandhe Mein Padega Galat Aadaton Mein Padega Ya Phir Dusre Deshon Mein To In Saree Chijon Ki Wajah Hamari Ek Policy Jo Hai Wah Nahi Hai Quality Honi Chahiye Is Par Kya Matlab Hai Puri Process Honi Chahiye Jisse Ki Berojgari Kam Ho Aur Bade
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

बेरोजगारी बेरोजगारी के कारण कई है एक है भारत की बढ़ती जनसंख्या आज भारत की जनसंख्या बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है जिसके कारण रोजगार के अवसर में वृद्धि नहीं हो पा रही है फिर प्रौद्योगिकी का नाम जानकारी होना भारत की अधिकांश व्यक्ति व्यक्तियों को आधुनिक तकनीकी एवं उद्योगों के बारे में जानकारी नहीं है जिसके कारण हुए बेरोजगार है फिर शिक्षा का अभाव भारत के अधिकांश जनता में शिक्षा का अभाव है उनमें कौशलता का अभाव एवं ज्ञान की कमी के कारण सरकारी नौकरी को प्राथमिकता प्राप्त करना चाहते हैं प्रचार प्रसार की आभाव भारत की जनता गांव में निवास करती है अर्थात उन तक कोई भी योजना का सही मार्ग दर्शक नहीं हो पाता है वर्षा की अनुमानित यहां की अधिकांश जनता कृषि पर निर्भर है अतः वर्षा की अनुमानित के कारण खेती नहीं हो पाती है और बेरोजगारी को बढ़ावा मिलती है और एक और रीजन हो गया तो करप्शन हो गया कि जो योजनाएं बेरोजगार के लिए भी बनती है और जो फंड व्हीकल एक्ट होते हैं उनको वह एग्जाम पूरा तक पहुंचता नहीं है जो बीच के मेडल में होते हैं वह से खा लेते हैं

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

बेरोजगारी बेरोजगारी के कारण कई है एक है भारत की बढ़ती जनसंख्या आज भारत की जनसंख्या बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है जिसके कारण रोजगार के अवसर में वृद्धि नहीं हो पा रही है फिर प्रौद्योगिकी का नाम जानकारी होना भारत की अधिकांश व्यक्ति व्यक्तियों को आधुनिक तकनीकी एवं उद्योगों के बारे में जानकारी नहीं है जिसके कारण हुए बेरोजगार है फिर शिक्षा का अभाव भारत के अधिकांश जनता में शिक्षा का अभाव है उनमें कौशलता का अभाव एवं ज्ञान की कमी के कारण सरकारी नौकरी को प्राथमिकता प्राप्त करना चाहते हैं प्रचार प्रसार की आभाव भारत की जनता गांव में निवास करती है अर्थात उन तक कोई भी योजना का सही मार्ग दर्शक नहीं हो पाता है वर्षा की अनुमानित यहां की अधिकांश जनता कृषि पर निर्भर है अतः वर्षा की अनुमानित के कारण खेती नहीं हो पाती है और बेरोजगारी को बढ़ावा मिलती है और एक और रीजन हो गया तो करप्शन हो गया कि जो योजनाएं बेरोजगार के लिए भी बनती है और जो फंड व्हीकल एक्ट होते हैं उनको वह एग्जाम पूरा तक पहुंचता नहीं है जो बीच के मेडल में होते हैं वह से खा लेते हैंBerojgari Berojgari Ke Kaaran Kai Hai Ek Hai Bharat Ki Badhti Jansankhya Aaj Bharat Ki Jansankhya Bahut Jyada Badh Chuki Hai Jiske Kaaran Rojgar Ke Avsar Mein Vriddhi Nahi Ho Pa Rahi Hai Phir Praudyogiki Ka Naam Jankari Hona Bharat Ki Adhikaansh Vyakti Vyaktiyon Ko Aadhunik Takniki Evam Udyogon Ke Bare Mein Jankari Nahi Hai Jiske Kaaran Huye Berojgar Hai Phir Shiksha Ka Abhaav Bharat Ke Adhikaansh Janta Mein Shiksha Ka Abhaav Hai Unmen Ka Abhaav Evam Gyaan Ki Kami Ke Kaaran Sarkari Naukri Ko Prathamikta Prapt Karna Chahte Hain Prachar Prasaar Ki Abhav Bharat Ki Janta Gav Mein Niwas Karti Hai Arthat Un Tak Koi Bhi Yojana Ka Sahi Marg Darshak Nahi Ho Pata Hai Varsha Ki Anumaneet Yahan Ki Adhikaansh Janta Krishi Par Nirbhar Hai Atah Varsha Ki Anumaneet Ke Kaaran Kheti Nahi Ho Pati Hai Aur Berojgari Ko Badhawa Milti Hai Aur Ek Aur Reason Ho Gaya To Corruption Ho Gaya Ki Jo Yojanaye Berojgar Ke Liye Bhi Banti Hai Aur Jo Fund Vehicle Act Hote Hain Unko Wah Exam Pura Tak Pahunchta Nahi Hai Jo Bich Ke Medal Mein Hote Hain Wah Se Kha Lete Hain
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

राधे कृष्णा बेरोजगारी मैं समझता की बेरोजगारी का रीजन कभी भी पॉपुलेशन नहीं हो सकता है सब को एक बोतल पॉपुलेशन में पॉपुलेशन अगर पॉपुलेशन है तो इतनी स्पीड से जुड़े इंटरेस्टिंग आ रही है कंपनी जा रही है इतनी सारी सारी जॉब है तो मेरे को बिल्कुल ही बेरोजगारी की जो रीजन है वह पॉपुलेशन है और ज्यादा बातें एजुकेशन की तो आजकल बहुत ही बड़े बड़े एजुकेटेड लोग जो है वह पीएचडी वाले लोग जो है वह भेजें के लोगो एमपी किए हुए लोग जो क्लर्क और पीओ उनके सरकारी पोस्टें निकलती है उसमें अप्लाई कर रहे हैं तो मेरा बेरोजगारी मैं समझता हूं कि वह इस वजह से ही कीजो पॉलिटेक्निक खेल होता है क्योंकि लोगों के पास आजकल डिग्री आ जा रही है उनके पास नॉलेज आ रहा है लेकिन जो स्पेसिफिक किलो एजुकेशन सिस्टम है बुझाती 20 साल पहले था आज भी वही है जो 20 साल पहले सिलेबस में होता था आज भी सिलेबस में वही चलता रहा है जो यूनिवर्सिटी कॉलेज तुम ऐसा बताओ की जितनी स्पीड से इंडस्ट्रीज में चेंज हो रही है इंडिया में उत्तराखंड से जो है हमारा एजुकेशन सिस्टम नई चेंज हो रहा है उसको Adobe नहीं कर पा रहे हैं और जो स्टूडेंट से वह इंडस्ट्री के लिए रेडी नहीं रह पा रहे हैं वह बताओ खाली है मुकेश सिंह पढ़ते हैं और उसी को पढ़ते-पढ़ते में सब से डिग्री पास कर लेते हैं और क्योंकि इंडस्ट्री को जो है वह इंडस्ट्री रेडी लोग चाहिए जो उनके लिए काम कर सके जैसे किस टाइम पर और हर वार्ड में रहते इंडस्ट्री रेडी टू ईट बनाते हैं कि मर चुके शंकर के एजुकेशन सिस्टम में समाचार थोड़ा इंप्रूव होना चाहिए और खेल पर थोड़ा ज्यादा ध्यान देना चाहिए हमेशा मैसेज जरूर जो बेरोजगारी की दिक्कत है वह इंडिया में कब होगी

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

राधे कृष्णा बेरोजगारी मैं समझता की बेरोजगारी का रीजन कभी भी पॉपुलेशन नहीं हो सकता है सब को एक बोतल पॉपुलेशन में पॉपुलेशन अगर पॉपुलेशन है तो इतनी स्पीड से जुड़े इंटरेस्टिंग आ रही है कंपनी जा रही है इतनी सारी सारी जॉब है तो मेरे को बिल्कुल ही बेरोजगारी की जो रीजन है वह पॉपुलेशन है और ज्यादा बातें एजुकेशन की तो आजकल बहुत ही बड़े बड़े एजुकेटेड लोग जो है वह पीएचडी वाले लोग जो है वह भेजें के लोगो एमपी किए हुए लोग जो क्लर्क और पीओ उनके सरकारी पोस्टें निकलती है उसमें अप्लाई कर रहे हैं तो मेरा बेरोजगारी मैं समझता हूं कि वह इस वजह से ही कीजो पॉलिटेक्निक खेल होता है क्योंकि लोगों के पास आजकल डिग्री आ जा रही है उनके पास नॉलेज आ रहा है लेकिन जो स्पेसिफिक किलो एजुकेशन सिस्टम है बुझाती 20 साल पहले था आज भी वही है जो 20 साल पहले सिलेबस में होता था आज भी सिलेबस में वही चलता रहा है जो यूनिवर्सिटी कॉलेज तुम ऐसा बताओ की जितनी स्पीड से इंडस्ट्रीज में चेंज हो रही है इंडिया में उत्तराखंड से जो है हमारा एजुकेशन सिस्टम नई चेंज हो रहा है उसको Adobe नहीं कर पा रहे हैं और जो स्टूडेंट से वह इंडस्ट्री के लिए रेडी नहीं रह पा रहे हैं वह बताओ खाली है मुकेश सिंह पढ़ते हैं और उसी को पढ़ते-पढ़ते में सब से डिग्री पास कर लेते हैं और क्योंकि इंडस्ट्री को जो है वह इंडस्ट्री रेडी लोग चाहिए जो उनके लिए काम कर सके जैसे किस टाइम पर और हर वार्ड में रहते इंडस्ट्री रेडी टू ईट बनाते हैं कि मर चुके शंकर के एजुकेशन सिस्टम में समाचार थोड़ा इंप्रूव होना चाहिए और खेल पर थोड़ा ज्यादा ध्यान देना चाहिए हमेशा मैसेज जरूर जो बेरोजगारी की दिक्कत है वह इंडिया में कब होगीRadhe Krishna Berojgari Main Samajhata Ki Berojgari Ka Reason Kabhi Bhi Population Nahi Ho Sakta Hai Sab Ko Ek Botal Population Mein Population Agar Population Hai To Itni Speed Se Jude Interesting Aa Rahi Hai Company Ja Rahi Hai Itni Saree Saree Job Hai To Mere Ko Bilkul Hi Berojgari Ki Jo Reason Hai Wah Population Hai Aur Jyada Batein Education Ki To Aajkal Bahut Hi Bade Bade Educated Log Jo Hai Wah Phd Wale Log Jo Hai Wah Bheje Ke Logo Mp Kiye Huye Log Jo Clerk Aur Po Unke Sarkari Posten Nikalti Hai Usamen Apply Kar Rahe Hain To Mera Berojgari Main Samajhata Hoon Ki Wah Is Wajah Se Hi Polytechnic Khel Hota Hai Kyonki Logon Ke Paas Aajkal Degree Aa Ja Rahi Hai Unke Paas Knowledge Aa Raha Hai Lekin Jo Kilo Education System Hai 20 Saal Pehle Tha Aaj Bhi Wahi Hai Jo 20 Saal Pehle Syllabus Mein Hota Tha Aaj Bhi Syllabus Mein Wahi Chalta Raha Hai Jo University College Tum Aisa Batao Ki Jitni Speed Se Industries Mein Change Ho Rahi Hai India Mein Uttarakhand Se Jo Hai Hamara Education System Nayi Change Ho Raha Hai Usko Adobe Nahi Kar Pa Rahe Hain Aur Jo Student Se Wah Industry Ke Liye Ready Nahi Rah Pa Rahe Hain Wah Batao Khaali Hai Mukesh Singh Padhte Hain Aur Ussi Ko Padhte Padhte Mein Sab Se Degree Paas Kar Lete Hain Aur Kyonki Industry Ko Jo Hai Wah Industry Ready Log Chahiye Jo Unke Liye Kaam Kar Sake Jaise Kis Time Par Aur Har Ward Mein Rehte Industry Ready To Eat Banate Hain Ki Mar Chuke Shankar Ke Education System Mein Samachar Thoda Improve Hona Chahiye Aur Khel Par Thoda Jyada Dhyan Dena Chahiye Hamesha Massage Jarur Jo Berojgari Ki Dikkat Hai Wah India Mein Kab Hogi
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत ने अगर बेरोजगारी है तो उसका मुख्य कारण सबसे पहला तो वह गा कि लोग जो है अशिक्षित है लिटरेसी जो है वह काफी से राज्य में कम है जिसके कारण लोग को उस जगह जो है काम के लिए लायक नहीं बन पाते तो उन्हें वह काम नहीं मिलता दूसरों के कारण ही होगा कि आजकल जो है शिक्षण का जो है व्यापार होने लगा है पैसे देने पर जो सीटें मिल रही है लोगों को उसके वजह से जो है जो छात्र इतने लायक नहीं होते उन्हें अच्छी कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है पर वह पुलिस में विमला कॉलेज में भी इतनी पढ़ाई नहीं कर पाते रिप्लाई नहीं करते हो और वहां से फेल हो जाते हैं या फिर अगर ट्रांसलेट हो भी गए कुछ तो फिर वो इतने लायक नहीं बनता तो कंपनी से जुड़े जॉब जो है उन्हें नहीं मिल पाते क्योंकि वह इतने होनहार नहीं होते जितना जितना उस काम के लिए जरूरी होता है तीसरा मुख्य कारण तो यही होगा कि लोग जो है अपने असली टैलेंट को डांट पहचान कर दूसरे जो टैलेंट में लोगों को फायदा दिख रहा है या फिर जो सब लोग बाकी लोग कर रहे हैं उसमें ही गुस्से तो उसके वजह से मैंने जो है वह अपने जबरदस्ती किए हुए पढ़ाई में अच्छे से XL नहीं कर पाते तो इसके वजह से उन्हें वह उस बेटे के लिए वह काम में जो है इतने अच्छे नहीं बन पाते तो इसकी वजह से उन्हें काम नहीं मिलता

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत ने अगर बेरोजगारी है तो उसका मुख्य कारण सबसे पहला तो वह गा कि लोग जो है अशिक्षित है लिटरेसी जो है वह काफी से राज्य में कम है जिसके कारण लोग को उस जगह जो है काम के लिए लायक नहीं बन पाते तो उन्हें वह काम नहीं मिलता दूसरों के कारण ही होगा कि आजकल जो है शिक्षण का जो है व्यापार होने लगा है पैसे देने पर जो सीटें मिल रही है लोगों को उसके वजह से जो है जो छात्र इतने लायक नहीं होते उन्हें अच्छी कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है पर वह पुलिस में विमला कॉलेज में भी इतनी पढ़ाई नहीं कर पाते रिप्लाई नहीं करते हो और वहां से फेल हो जाते हैं या फिर अगर ट्रांसलेट हो भी गए कुछ तो फिर वो इतने लायक नहीं बनता तो कंपनी से जुड़े जॉब जो है उन्हें नहीं मिल पाते क्योंकि वह इतने होनहार नहीं होते जितना जितना उस काम के लिए जरूरी होता है तीसरा मुख्य कारण तो यही होगा कि लोग जो है अपने असली टैलेंट को डांट पहचान कर दूसरे जो टैलेंट में लोगों को फायदा दिख रहा है या फिर जो सब लोग बाकी लोग कर रहे हैं उसमें ही गुस्से तो उसके वजह से मैंने जो है वह अपने जबरदस्ती किए हुए पढ़ाई में अच्छे से XL नहीं कर पाते तो इसके वजह से उन्हें वह उस बेटे के लिए वह काम में जो है इतने अच्छे नहीं बन पाते तो इसकी वजह से उन्हें काम नहीं मिलताBharat Ne Agar Berojgari Hai To Uska Mukhya Kaaran Sabse Pehla To Wah Ga Ki Log Jo Hai Ashikshit Hai Literacy Jo Hai Wah Kafi Se Rajya Mein Kam Hai Jiske Kaaran Log Ko Us Jagah Jo Hai Kaam Ke Liye Layak Nahi Ban Paate To Unhen Wah Kaam Nahi Milta Dusron Ke Kaaran Hi Hoga Ki Aajkal Jo Hai Shikshan Ka Jo Hai Vyapar Hone Laga Hai Paise Dene Par Jo Seaten Mil Rahi Hai Logon Ko Uske Wajah Se Jo Hai Jo Chatra Itne Layak Nahi Hote Unhen Acchi College Mein Admission Mil Jata Hai Par Wah Police Mein College Mein Bhi Itni Padhai Nahi Kar Paate Reply Nahi Karte Ho Aur Wahan Se Fail Ho Jaate Hain Ya Phir Agar Translate Ho Bhi Gaye Kuch To Phir Vo Itne Layak Nahi Banta To Company Se Jude Job Jo Hai Unhen Nahi Mil Paate Kyonki Wah Itne Honhar Nahi Hote Jitna Jitna Us Kaam Ke Liye Zaroori Hota Hai Teesra Mukhya Kaaran To Yahi Hoga Ki Log Jo Hai Apne Asli Talent Ko Dant Pehchaan Kar Dusre Jo Talent Mein Logon Ko Fayda Dikh Raha Hai Ya Phir Jo Sab Log Baki Log Kar Rahe Hain Usamen Hi Gusse To Uske Wajah Se Maine Jo Hai Wah Apne Jabardasti Kiye Huye Padhai Mein Acche Se XL Nahi Kar Paate To Iske Wajah Se Unhen Wah Us Bete Ke Liye Wah Kaam Mein Jo Hai Itne Acche Nahi Ban Paate To Iski Wajah Se Unhen Kaam Nahi Milta
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में कितनी बेरोजगारी एक खेल है क्योंकि भारत एजुकेशन सिस्टम जो है वह इतना उठ कम नहीं दे पाया है जितना सोचा जहाज कितना माना जा चुका था उसको चलाया जा चुका था और एक बात है कि हमारे देश में जो है अभी तक माइंड से के लोगों के विचार जय गुरुदेव भजन नहीं पाया आज भी एसे कई सारे लोग हैं जो मानते हैं लड़कियों को शिक्षा नहीं दे नीचे से लड़कों को भी शिक्षा देनी चाहिए और यह भी मानते हैं कि लड़कों को तो बस इंजीनियरिंग नहीं जाना चाहिए और कोई दूसरी कंट्री उनके मरने से आपके आपके मनपसंद की फील्ड जो है उसमें नहीं जाना चाहिए और और सरकार जो इतने अच्छे सरकारी स्कूल के सरकारी कॉलेज नहीं खोल पा रही है जिसके लिए लोगों को प्राइवेट कॉलेज इस में जाना पड़ता है भावे यूनिवर्सिटी में जाना पड़ता है जिसकी थी दोनों को फोन नहीं कर सकते हैं और जिस प्रकार से मंदी जो चल रही है उसमें भी नौकरी लेना है मुश्किल है और जिस प्रकार से प्यार को फीलिंग समझो बढ़ रहा है उससे भी नौकरी मिलना मुश्किल है तो मेरी सबसे यह सारे कारण है जिसके लिए हम कह सकते कि वह इतनी सारी बेरोजगारी है और सरकार को और हमें भी बहुत कुछ करना होगा इस बेरोजगारी को कम करने के लिए सरकार इसके लिए जिम्मेदार नहीं है क्या हम लोग भी जिम्मेदार हमारी सोच हमारी मानसिक स्थिति के लिए जिम्मेदार है और हमें हमारी मानसिकता और से कई सारी चीज है जो हमें चेंज करनी होगी और वह चिल्लाने से भारत में बेरोजगारी कब होगी

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में कितनी बेरोजगारी एक खेल है क्योंकि भारत एजुकेशन सिस्टम जो है वह इतना उठ कम नहीं दे पाया है जितना सोचा जहाज कितना माना जा चुका था उसको चलाया जा चुका था और एक बात है कि हमारे देश में जो है अभी तक माइंड से के लोगों के विचार जय गुरुदेव भजन नहीं पाया आज भी एसे कई सारे लोग हैं जो मानते हैं लड़कियों को शिक्षा नहीं दे नीचे से लड़कों को भी शिक्षा देनी चाहिए और यह भी मानते हैं कि लड़कों को तो बस इंजीनियरिंग नहीं जाना चाहिए और कोई दूसरी कंट्री उनके मरने से आपके आपके मनपसंद की फील्ड जो है उसमें नहीं जाना चाहिए और और सरकार जो इतने अच्छे सरकारी स्कूल के सरकारी कॉलेज नहीं खोल पा रही है जिसके लिए लोगों को प्राइवेट कॉलेज इस में जाना पड़ता है भावे यूनिवर्सिटी में जाना पड़ता है जिसकी थी दोनों को फोन नहीं कर सकते हैं और जिस प्रकार से मंदी जो चल रही है उसमें भी नौकरी लेना है मुश्किल है और जिस प्रकार से प्यार को फीलिंग समझो बढ़ रहा है उससे भी नौकरी मिलना मुश्किल है तो मेरी सबसे यह सारे कारण है जिसके लिए हम कह सकते कि वह इतनी सारी बेरोजगारी है और सरकार को और हमें भी बहुत कुछ करना होगा इस बेरोजगारी को कम करने के लिए सरकार इसके लिए जिम्मेदार नहीं है क्या हम लोग भी जिम्मेदार हमारी सोच हमारी मानसिक स्थिति के लिए जिम्मेदार है और हमें हमारी मानसिकता और से कई सारी चीज है जो हमें चेंज करनी होगी और वह चिल्लाने से भारत में बेरोजगारी कब होगीBharat Mein Kitni Berojgari Ek Khel Hai Kyonki Bharat Education System Jo Hai Wah Itna Uth Kam Nahi De Paya Hai Jitna Socha Jahaj Kitna Mana Ja Chuka Tha Usko Chalaya Ja Chuka Tha Aur Ek Baat Hai Ki Hamare Desh Mein Jo Hai Abhi Tak Mind Se Ke Logon Ke Vichar Jai Gurudev Bhajan Nahi Paya Aaj Bhi Ese Kai Sare Log Hain Jo Manate Hain Ladkiyon Ko Shiksha Nahi De Neeche Se Ladko Ko Bhi Shiksha Deni Chahiye Aur Yeh Bhi Manate Hain Ki Ladko Ko To Bus Engineering Nahi Jana Chahiye Aur Koi Dusri Country Unke Marne Se Aapke Aapke Manpasand Ki Field Jo Hai Usamen Nahi Jana Chahiye Aur Aur Sarkar Jo Itne Acche Sarkari School Ke Sarkari College Nahi Khol Pa Rahi Hai Jiske Liye Logon Ko Private College Is Mein Jana Padata Hai Bhave University Mein Jana Padata Hai Jiski Thi Dono Ko Phone Nahi Kar Sakte Hain Aur Jis Prakar Se Mandi Jo Chal Rahi Hai Usamen Bhi Naukri Lena Hai Mushkil Hai Aur Jis Prakar Se Pyar Ko Feeling Badh Raha Hai Usse Bhi Naukri Milna Mushkil Hai To Meri Sabse Yeh Sare Kaaran Hai Jiske Liye Hum Keh Sakte Ki Wah Itni Saree Berojgari Hai Aur Sarkar Ko Aur Hume Bhi Bahut Kuch Karna Hoga Is Berojgari Ko Kam Karne Ke Liye Sarkar Iske Liye Zimmedar Nahi Hai Kya Hum Log Bhi Zimmedar Hamari Soch Hamari Mansik Sthiti Ke Liye Zimmedar Hai Aur Hume Hamari Mansikta Aur Se Kai Saree Cheez Hai Jo Hume Change Karni Hogi Aur Wah Chillane Se Bharat Mein Berojgari Kab Hogi
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जनसंख्या बढ़ रही है और एजुकेशन भी देखे तो बड़ी रहा है जिसके चलते बेरोजगारी भी बढ़ रही है यही यही एक अच्छी है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

जनसंख्या बढ़ रही है और एजुकेशन भी देखे तो बड़ी रहा है जिसके चलते बेरोजगारी भी बढ़ रही है यही यही एक अच्छी हैJansankhya Badh Rahi Hai Aur Education Bhi Dekhe To Badi Raha Hai Jiske Chalte Berojgari Bhi Badh Rahi Hai Yahi Yahi Ek Acchi Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में बेरोजगारी के कई कारण है जनसंख्या वृद्धि वृद्धि 5% की दर से बढ़ रही है इसकी रोजगार की सुविधाएं उधर से नहीं बढ़ रही है नियोजन में दोस्त देश में 1951 से नियोजन के कार्य चल रहा है लेकिन यह News24 रहा है आर्थिक विकास की धीमी गति रोजगार की मात्रा में वृद्धि आर्थिक विकास की दर निर्भर करती है जब आर्थिक विकास की धरती पर होती है तो रोजगार अधिक अवसर उत्पन्न होते हैं प्रणाम यह कि रोज बेरोजगारी बढ़ती गई उत्पादन के साधनों का अपराध मात्रा भारत में बेरोजगारी का कारण उत्पादन के साधनों की अपराध मात्रा में उपलब्धता उदाहरण के लिए किसी परिचय की कमी के कारण भूमिका पूरे वर्ष उपयोग नहीं हो पाता बिजली तथा कच्चे माल की कमी के कारण लोगों को पूरे वर्ष रोजगार नहीं मिल पाता क्योंकि मुस्लिम प्रकृति आज भी अनेक राज्य में कीर्तिमान मानसून की मानसून की वर्षा पर कविता प्रकृति रोजगार प्रदान नहीं कर पाते केवल फसल बोने से लेकर उसे काटने तक ही पर्याप्त रोजगार के अवसर आते हैं बस के समय में श्रमिक बड़े पैमाने पर रोजगार रहते हैं भारत को किन ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार के कारण रेसिपी मौसम पर एक भी बढ़ता को जनसंख्या के प्रतिशत कृषि भूमि पर भारी पड़ा है और संस्कृति पर छिपी बेरोजगारी की आकार में वृद्धि हुई है इस ए वतन ग्रामीण परिवारों का स्तर कम हुआ है ग्रामीण क्षेत्र में व्यापक निरक्षरता दोस्तपुर शिक्षा प्रणाली पूंजी का अभाव विकास की धीमी गति वीडियो काणी महत्व स्त्रियों द्वारा नौकरी यंत्रीकरण आदमी

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में बेरोजगारी के कई कारण है जनसंख्या वृद्धि वृद्धि 5% की दर से बढ़ रही है इसकी रोजगार की सुविधाएं उधर से नहीं बढ़ रही है नियोजन में दोस्त देश में 1951 से नियोजन के कार्य चल रहा है लेकिन यह News24 रहा है आर्थिक विकास की धीमी गति रोजगार की मात्रा में वृद्धि आर्थिक विकास की दर निर्भर करती है जब आर्थिक विकास की धरती पर होती है तो रोजगार अधिक अवसर उत्पन्न होते हैं प्रणाम यह कि रोज बेरोजगारी बढ़ती गई उत्पादन के साधनों का अपराध मात्रा भारत में बेरोजगारी का कारण उत्पादन के साधनों की अपराध मात्रा में उपलब्धता उदाहरण के लिए किसी परिचय की कमी के कारण भूमिका पूरे वर्ष उपयोग नहीं हो पाता बिजली तथा कच्चे माल की कमी के कारण लोगों को पूरे वर्ष रोजगार नहीं मिल पाता क्योंकि मुस्लिम प्रकृति आज भी अनेक राज्य में कीर्तिमान मानसून की मानसून की वर्षा पर कविता प्रकृति रोजगार प्रदान नहीं कर पाते केवल फसल बोने से लेकर उसे काटने तक ही पर्याप्त रोजगार के अवसर आते हैं बस के समय में श्रमिक बड़े पैमाने पर रोजगार रहते हैं भारत को किन ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार के कारण रेसिपी मौसम पर एक भी बढ़ता को जनसंख्या के प्रतिशत कृषि भूमि पर भारी पड़ा है और संस्कृति पर छिपी बेरोजगारी की आकार में वृद्धि हुई है इस ए वतन ग्रामीण परिवारों का स्तर कम हुआ है ग्रामीण क्षेत्र में व्यापक निरक्षरता दोस्तपुर शिक्षा प्रणाली पूंजी का अभाव विकास की धीमी गति वीडियो काणी महत्व स्त्रियों द्वारा नौकरी यंत्रीकरण आदमीBharat Mein Berojgari Ke Kai Kaaran Hai Jansankhya Vriddhi Vriddhi 5% Ki Dar Se Badh Rahi Hai Iski Rojgar Ki Suvidhaen Udhar Se Nahi Badh Rahi Hai Niyojan Mein Dost Desh Mein 1951 Se Niyojan Ke Karya Chal Raha Hai Lekin Yeh News24 Raha Hai Aarthik Vikash Ki Dhimi Gati Rojgar Ki Matra Mein Vriddhi Aarthik Vikash Ki Dar Nirbhar Karti Hai Jab Aarthik Vikash Ki Dharti Par Hoti Hai To Rojgar Adhik Avsar Utpann Hote Hain Pranam Yeh Ki Roj Berojgari Badhti Gayi Utpadan Ke Saadhano Ka Apradh Matra Bharat Mein Berojgari Ka Kaaran Utpadan Ke Saadhano Ki Apradh Matra Mein Upalabdhata Udaharan Ke Liye Kisi Parichay Ki Kami Ke Kaaran Bhumika Poore Varsh Upyog Nahi Ho Pata Bijli Tatha Kacche Maal Ki Kami Ke Kaaran Logon Ko Poore Varsh Rojgar Nahi Mil Pata Kyonki Muslim Prakriti Aaj Bhi Anek Rajya Mein Kirtiman Monsoon Ki Monsoon Ki Varsha Par Kavita Prakriti Rojgar Pradan Nahi Kar Paate Kewal Phasal Bone Se Lekar Use Katne Tak Hi Paryapt Rojgar Ke Avsar Aate Hain Bus Ke Samay Mein Shramik Bade Paimane Par Rojgar Rehte Hain Bharat Ko Kin Gramin Kshetra Mein Rojgar Ke Kaaran Recipe Mausam Par Ek Bhi Badhta Ko Jansankhya Ke Pratishat Krishi Bhoomi Par Bhari Pada Hai Aur Sanskriti Par Chhipi Berojgari Ki Aakaar Mein Vriddhi Hui Hai Is A Vatan Gramin Parivaro Ka Sthar Kam Hua Hai Gramin Kshetra Mein Vyapak Shiksha Pranali Punji Ka Abhaav Vikash Ki Dhimi Gati Video Mahatva Sthreeyon Dwara Naukri Yantrikaran Aadmi
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में बेरोजगारी के बहुत सारे कारण हैं हम किसी एक कारण को उस में महत्वपूर्ण नहीं बन सकते यहां बॉय कारण इसकी वजह से विरोध भारत में बेरोजगारी है यही रोजगार नहीं पा रहे हैं लोग भारत में भ्रष्टाचार शिक्षा और जिसे ग्रामीण इलाको में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं बनाया रोजगार के साधन उपलब्ध नहीं कराना सरकार के द्वारा बहुत सारे कारण है ऐसा नहीं है कि हम किसी एक कारण को डिफाइन कर दे कि हां यह बेरोजगारी का कारण है अगर बेरोजगारी दूर करनी है भारत से तो सबसे पहले लोगों को शिक्षित होना जरूरी है जब ज्यादा लोग शिक्षित होंगे तो उन लोगों को ज्यादा बातें पता चलेगी रोजगार के बारे में और दूसरा भ्रष्टाचार हर क्षेत्र में भारत के किसी ना कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जिस में भ्रष्टाचार ना हो अगर भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा तो मैं मानता हूं कि लोगों को रोजगार बेरोजगारी की समस्या थोड़ी बहुत जरुर कम हो जाएगी

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में बेरोजगारी के बहुत सारे कारण हैं हम किसी एक कारण को उस में महत्वपूर्ण नहीं बन सकते यहां बॉय कारण इसकी वजह से विरोध भारत में बेरोजगारी है यही रोजगार नहीं पा रहे हैं लोग भारत में भ्रष्टाचार शिक्षा और जिसे ग्रामीण इलाको में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं बनाया रोजगार के साधन उपलब्ध नहीं कराना सरकार के द्वारा बहुत सारे कारण है ऐसा नहीं है कि हम किसी एक कारण को डिफाइन कर दे कि हां यह बेरोजगारी का कारण है अगर बेरोजगारी दूर करनी है भारत से तो सबसे पहले लोगों को शिक्षित होना जरूरी है जब ज्यादा लोग शिक्षित होंगे तो उन लोगों को ज्यादा बातें पता चलेगी रोजगार के बारे में और दूसरा भ्रष्टाचार हर क्षेत्र में भारत के किसी ना कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जिस में भ्रष्टाचार ना हो अगर भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा तो मैं मानता हूं कि लोगों को रोजगार बेरोजगारी की समस्या थोड़ी बहुत जरुर कम हो जाएगीBharat Mein Berojgari Ke Bahut Sare Kaaran Hain Hum Kisi Ek Kaaran Ko Us Mein Mahatvapurna Nahi Ban Sakte Yahan Boy Kaaran Iski Wajah Se Virodh Bharat Mein Berojgari Hai Yahi Rojgar Nahi Pa Rahe Hain Log Bharat Mein Bhrashtachar Shiksha Aur Jise Gramin Ilako Mein Logon Ko Jyada Jankari Nahi Banaya Rojgar Ke Sadhan Uplabdha Nahi Krana Sarkar Ke Dwara Bahut Sare Kaaran Hai Aisa Nahi Hai Ki Hum Kisi Ek Kaaran Ko Define Kar De Ki Haan Yeh Berojgari Ka Kaaran Hai Agar Berojgari Dur Karni Hai Bharat Se To Sabse Pehle Logon Ko Shikshit Hona Zaroori Hai Jab Jyada Log Shikshit Honge To Un Logon Ko Jyada Batein Pata Chalegi Rojgar Ke Bare Mein Aur Doosra Bhrashtachar Har Kshetra Mein Bharat Ke Kisi Na Koi Aisa Kshetra Nahi Hai Jis Mein Bhrashtachar Na Ho Agar Bhrashtachar Khatam Ho Jayega To Main Manata Hoon Ki Logon Ko Rojgar Berojgari Ki Samasya Thodi Bahut Zaroor Kam Ho Jayegi
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

देखी बेरोजगारी का कारण सिर्फ एक तत्व नहीं होता है एक कारण नहीं होता है इसके आगे भानुमति के पिटारे की तरह है बहुत से कारण होते हैं इसके अग्रसर बात करें तो इतिहास जिसका पहला कारण है कि भारत का इतिहास लूट का इतिहास रहा है विदेशी ताकतों ने हमें लुटाए भारतेंदु हरिश्चंद्र ने कहा था कि सब धन विदेश चलि जात लगी अधिकारी को हमारा धन विदेश जाता था यह उन्हें बहुत कष्टदाई लगता था तो कोई भी आया भारत को लूट कर चला गया तो उसमें वह जड़ पड़ गई बेरोजगारी की उससे जो घरेलू उत्पाद थे वह समाप्त हो गए और घरेलू उत्पाद समाप्त होने के कारण बेरोजगारी की समस्या व्यक्तियों के सबसे बड़ा कारण था घर में जो वस्तु उत्पादित की जाती थी बनाई जाती थी वह मतलब भेजो छोटी छोटी मुझे बनाकर बाजार तक पहुंचाई जाती थी वह समाप्त हो गई और उसके समाप्त होने के बाद बेरोजगारी स्टार्ट हुई और उसके बाद हुआ हमारी पॉलिसी और एजुकेशन जो पुलिसिया गवर्नमेंट्स की रही वह शायद सही नहीं रही पूर्व प्रधानमंत्री गांधी ने कहा भी था कि हम यहां से ₹1 लगाते हैं तो एक ऐसा पूछता है जनता तक तो यह पॉलिसी क्या-क्या पॉलिसी बनाई है आपने फिर तो यह जो डायरेक्ट सब्सिडी है ना यह बहुत शानदार पॉलिसी है जो अब आई है जब आती जब आने की संभावना नहीं थी लेकिन बात की एक विवाह ऐसा था तब पहुंचा सकता था आज चलो इंटरनेट है लेकिन तब डाक विभाग था और दूसरी एजुकेशन सिस्टम एजुकेशन सिस्टम में हमें जो आप किताबी ज्ञान ही होता है प्रैक्टिकल गया नहीं होता है इस कारण से भी बेरोजगारी का एक बहुत बड़ा कारण बना है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

देखी बेरोजगारी का कारण सिर्फ एक तत्व नहीं होता है एक कारण नहीं होता है इसके आगे भानुमति के पिटारे की तरह है बहुत से कारण होते हैं इसके अग्रसर बात करें तो इतिहास जिसका पहला कारण है कि भारत का इतिहास लूट का इतिहास रहा है विदेशी ताकतों ने हमें लुटाए भारतेंदु हरिश्चंद्र ने कहा था कि सब धन विदेश चलि जात लगी अधिकारी को हमारा धन विदेश जाता था यह उन्हें बहुत कष्टदाई लगता था तो कोई भी आया भारत को लूट कर चला गया तो उसमें वह जड़ पड़ गई बेरोजगारी की उससे जो घरेलू उत्पाद थे वह समाप्त हो गए और घरेलू उत्पाद समाप्त होने के कारण बेरोजगारी की समस्या व्यक्तियों के सबसे बड़ा कारण था घर में जो वस्तु उत्पादित की जाती थी बनाई जाती थी वह मतलब भेजो छोटी छोटी मुझे बनाकर बाजार तक पहुंचाई जाती थी वह समाप्त हो गई और उसके समाप्त होने के बाद बेरोजगारी स्टार्ट हुई और उसके बाद हुआ हमारी पॉलिसी और एजुकेशन जो पुलिसिया गवर्नमेंट्स की रही वह शायद सही नहीं रही पूर्व प्रधानमंत्री गांधी ने कहा भी था कि हम यहां से ₹1 लगाते हैं तो एक ऐसा पूछता है जनता तक तो यह पॉलिसी क्या-क्या पॉलिसी बनाई है आपने फिर तो यह जो डायरेक्ट सब्सिडी है ना यह बहुत शानदार पॉलिसी है जो अब आई है जब आती जब आने की संभावना नहीं थी लेकिन बात की एक विवाह ऐसा था तब पहुंचा सकता था आज चलो इंटरनेट है लेकिन तब डाक विभाग था और दूसरी एजुकेशन सिस्टम एजुकेशन सिस्टम में हमें जो आप किताबी ज्ञान ही होता है प्रैक्टिकल गया नहीं होता है इस कारण से भी बेरोजगारी का एक बहुत बड़ा कारण बना हैDekhi Berojgari Ka Kaaran Sirf Ek Tatva Nahi Hota Hai Ek Kaaran Nahi Hota Hai Iske Aage Ke Ki Tarah Hai Bahut Se Kaaran Hote Hain Iske Agrasar Baat Karen To Itihas Jiska Pehla Kaaran Hai Ki Bharat Ka Itihas Loot Ka Itihas Raha Hai Videshi Takaton Ne Hume Bharatendu Harishchandra Ne Kaha Tha Ki Sab Dhan Videsh Jaat Lagi Adhikari Ko Hamara Dhan Videsh Jata Tha Yeh Unhen Bahut Lagta Tha To Koi Bhi Aaya Bharat Ko Loot Kar Chala Gaya To Usamen Wah Jad Padh Gayi Berojgari Ki Usse Jo Gharelu Utpaad The Wah Samapt Ho Gaye Aur Gharelu Utpaad Samapt Hone Ke Kaaran Berojgari Ki Samasya Vyaktiyon Ke Sabse Bada Kaaran Tha Ghar Mein Jo Vastu Utpadit Ki Jati Thi Banai Jati Thi Wah Matlab Bhejo Choti Choti Mujhe Banakar Bazar Tak Pahunchai Jati Thi Wah Samapt Ho Gayi Aur Uske Samapt Hone Ke Baad Berojgari Start Hui Aur Uske Baad Hua Hamari Policy Aur Education Jo Ki Rahi Wah Shayad Sahi Nahi Rahi Purv Pradhanmantri Gandhi Ne Kaha Bhi Tha Ki Hum Yahan Se ₹1 Lagate Hain To Ek Aisa Poochta Hai Janta Tak To Yeh Policy Kya Kya Policy Banai Hai Aapne Phir To Yeh Jo Direct Subsidy Hai Na Yeh Bahut Shandar Policy Hai Jo Ab Eye Hai Jab Aati Jab Aane Ki Sambhavna Nahi Thi Lekin Baat Ki Ek Vivah Aisa Tha Tab Pahuncha Sakta Tha Aaj Chalo Internet Hai Lekin Tab Dak Vibhag Tha Aur Dusri Education System Education System Mein Hume Jo Aap Kitabi Gyaan Hi Hota Hai Practical Gaya Nahi Hota Hai Is Kaaran Se Bhi Berojgari Ka Ek Bahut Bada Kaaran Bana Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में बेरोजगारी इतनी क्यों है क्योंकि भारत पहली बातों भारत विकासशील देश है दूसरी बात कि मैंने भारत के लोगों में यह प्रवृत्ति देखी है कि वह काम नहीं करना चाहते हैं तीसरी बात कि भारत में जो मैनेजमेंट है वह उसकी बहुत कमी है हमें उसे सुधारना चाहिए चौथी बात कि भारत की सरकार की नीतियां थोड़ी कमजोर हैं उसे सही करना चाहिए सरकार को और भारत में सबसे ज्यादा सबसे बड़ी वजह है हमारे जनसंख्या का ज्यादा होना जनसंख्या इतनी ज्यादा सरकार सबको तो नौकरी नहीं दे सकती और फिर आती है शिक्षा के बाद शिक्षा व्यवस्था लचर है उसे सुधारने की जरूर हमारे कितने ग्रह है जो हमारी ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट एनिमल है उनको अच्छे से नहीं पड़ा रहता या फिर उनके अंदर वह इच्छा शक्ति नहीं होती है अच्छे से पढ़ने की शर्ट खरीदी ज्यादा पढ़ाई जाती है प्रैक्टिकल चीजें नहीं पढ़ाई जाती उनको इंडस्ट्री में कैसे रहना है इंडस्ट्रियल रिसर्च या फिर इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग नहीं दी जाती इस वजह से भी भारत बेरोजगारी कितनी जाता है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में बेरोजगारी इतनी क्यों है क्योंकि भारत पहली बातों भारत विकासशील देश है दूसरी बात कि मैंने भारत के लोगों में यह प्रवृत्ति देखी है कि वह काम नहीं करना चाहते हैं तीसरी बात कि भारत में जो मैनेजमेंट है वह उसकी बहुत कमी है हमें उसे सुधारना चाहिए चौथी बात कि भारत की सरकार की नीतियां थोड़ी कमजोर हैं उसे सही करना चाहिए सरकार को और भारत में सबसे ज्यादा सबसे बड़ी वजह है हमारे जनसंख्या का ज्यादा होना जनसंख्या इतनी ज्यादा सरकार सबको तो नौकरी नहीं दे सकती और फिर आती है शिक्षा के बाद शिक्षा व्यवस्था लचर है उसे सुधारने की जरूर हमारे कितने ग्रह है जो हमारी ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट एनिमल है उनको अच्छे से नहीं पड़ा रहता या फिर उनके अंदर वह इच्छा शक्ति नहीं होती है अच्छे से पढ़ने की शर्ट खरीदी ज्यादा पढ़ाई जाती है प्रैक्टिकल चीजें नहीं पढ़ाई जाती उनको इंडस्ट्री में कैसे रहना है इंडस्ट्रियल रिसर्च या फिर इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग नहीं दी जाती इस वजह से भी भारत बेरोजगारी कितनी जाता हैBharat Mein Berojgari Itni Kyon Hai Kyonki Bharat Pehli Baaton Bharat Vikasshil Desh Hai Dusri Baat Ki Maine Bharat Ke Logon Mein Yeh Pravritti Dekhi Hai Ki Wah Kaam Nahi Karna Chahte Hain Teesri Baat Ki Bharat Mein Jo Management Hai Wah Uski Bahut Kami Hai Hume Use Sudharna Chahiye Chauthi Baat Ki Bharat Ki Sarkar Ki Nitiyan Thodi Kamjor Hain Use Sahi Karna Chahiye Sarkar Ko Aur Bharat Mein Sabse Jyada Sabse Badi Wajah Hai Hamare Jansankhya Ka Jyada Hona Jansankhya Itni Jyada Sarkar Sabko To Naukri Nahi De Sakti Aur Phir Aati Hai Shiksha Ke Baad Shiksha Vyavastha Lachar Hai Use Sudhaarne Ki Jarur Hamare Kitne Grah Hai Jo Hamari Graduate Aur Post Graduate Animal Hai Unko Acche Se Nahi Pada Rehta Ya Phir Unke Andar Wah Icha Shakti Nahi Hoti Hai Acche Se Padhne Ki Shirt Kharidi Jyada Padhai Jati Hai Practical Cheezen Nahi Padhai Jati Unko Industry Mein Kaise Rehna Hai Industrial Research Ya Phir Industrial Training Nahi Di Jati Is Wajah Se Bhi Bharat Berojgari Kitni Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में आरक्षण सबसे बड़ा कारण है बेरोजगारी का आरक्षण की वजह से अशिक्षित अनपढ़ लोग बड़ी-बड़ी पोस्टों में बैठ चुके हैं जिस वजह से उनके पास इतना नॉलेज ही नहीं है कि किसी को रोजगार दे पाए और उनके सारे काम फेल होते हैं और इसी वजह से शिक्षित लोग विदेश विदेश भाग रहे हैं जॉब करने के लिए विदेशों में विदेशियों को वह लोग रोजगार दे रहे हैं

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में आरक्षण सबसे बड़ा कारण है बेरोजगारी का आरक्षण की वजह से अशिक्षित अनपढ़ लोग बड़ी-बड़ी पोस्टों में बैठ चुके हैं जिस वजह से उनके पास इतना नॉलेज ही नहीं है कि किसी को रोजगार दे पाए और उनके सारे काम फेल होते हैं और इसी वजह से शिक्षित लोग विदेश विदेश भाग रहे हैं जॉब करने के लिए विदेशों में विदेशियों को वह लोग रोजगार दे रहे हैंBharat Mein Aarakshan Sabse Bada Kaaran Hai Berojgari Ka Aarakshan Ki Wajah Se Ashikshit Anapadh Log Badi Badi Mein Baith Chuke Hain Jis Wajah Se Unke Paas Itna Knowledge Hi Nahi Hai Ki Kisi Ko Rojgar De Paye Aur Unke Sare Kaam Fail Hote Hain Aur Isi Wajah Se Shikshit Log Videsh Videsh Bhag Rahe Hain Job Karne Ke Liye Videshon Mein Videshiyon Ko Wah Log Rojgar De Rahe Hain
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

मेरे हिसाब से भारत में बेरोजगारी स्थिति इतनी ज्यादा है कि अपोकलीप्स कम है और लोग बहुत ज्यादा हो चुके हैं एक जॉब के लिए अगर हजार हजार लोग भी अप्लाई करेंगे तुम मिल पाती है और बेरोजगार रह जाते हैं इसलिए भारत में बेरोजगारी

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

मेरे हिसाब से भारत में बेरोजगारी स्थिति इतनी ज्यादा है कि अपोकलीप्स कम है और लोग बहुत ज्यादा हो चुके हैं एक जॉब के लिए अगर हजार हजार लोग भी अप्लाई करेंगे तुम मिल पाती है और बेरोजगार रह जाते हैं इसलिए भारत में बेरोजगारीMere Hisab Se Bharat Mein Berojgari Sthiti Itni Jyada Hai Ki Kam Hai Aur Log Bahut Jyada Ho Chuke Hain Ek Job Ke Liye Agar Hazar Hazar Log Bhi Apply Karenge Tum Mil Pati Hai Aur Berojgar Rah Jaate Hain Isliye Bharat Mein Berojgari
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में बेरोजगारी का मुख्य कारण जनसंख्या का विस्फोट है कितनी जनसंख्या पर नियंत्रण नहीं किया जा सकता है तब तक बेरोजगारी समाप्त नहीं की जा सकती है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में बेरोजगारी का मुख्य कारण जनसंख्या का विस्फोट है कितनी जनसंख्या पर नियंत्रण नहीं किया जा सकता है तब तक बेरोजगारी समाप्त नहीं की जा सकती हैBharat Mein Berojgari Ka Mukhya Kaaran Jansankhya Ka Visphot Hai Kitni Jansankhya Par Niyantran Nahi Kiya Ja Sakta Hai Tab Tak Berojgari Samapt Nahi Ki Ja Sakti Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

भारत में बेरोजगारी इसलिए है क्योंकि हमें एजुकेशन तो है इस टाइम जानकी तुम एजुकेशन कर सकते लेकिन एजुकेशन करने के लिए हमारी फैमिली इतना पैसा लगा नहीं पाती है क्योंकि उस टाइम पर एजुकेशन के लिए इतना पैसा था नहीं लेकिन हमारी फैमिली नगर पैसा कमाया है मैडम एजुकेशन जिला भी देती है तो उसके बाद हम पढ़ाई तो पूरी कर लेते हैं अपनी एजुकेशन कंप्लीट कर लेते हैं लेकिन जो एजुकेशन के बाद में कंपटीशन यानी कि हमारे भारत में रोजगार नहीं है कि बता एजुकेशन करने के बाद ही डायरेक्ट हमें वोट दे दी जाए उसके लिए इतना कंपटीशन से कि एक जॉब में अगर 3000 तक कैंसिल है तो उसमें कम से कम 300000 लोग उसको न पार करने जिंदगी जो हमें चाहिए इनकी हर किसी को पुलिस बनना है तो सभी को कैसी है उसमें कम से कम तीन चार लोग अप्लाई करता शुरू से कंपटीशन जाता है कि जो अच्छा करेगा वही करेगा इतना फर्क इतना जो हमारे भारत में है नहीं कि हम स्टडी करने के बाद ही टाइप आ जाएं यही कारण है कि हमारे भारत में काम नहीं है तो फिर बेरोजगारी है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

भारत में बेरोजगारी इसलिए है क्योंकि हमें एजुकेशन तो है इस टाइम जानकी तुम एजुकेशन कर सकते लेकिन एजुकेशन करने के लिए हमारी फैमिली इतना पैसा लगा नहीं पाती है क्योंकि उस टाइम पर एजुकेशन के लिए इतना पैसा था नहीं लेकिन हमारी फैमिली नगर पैसा कमाया है मैडम एजुकेशन जिला भी देती है तो उसके बाद हम पढ़ाई तो पूरी कर लेते हैं अपनी एजुकेशन कंप्लीट कर लेते हैं लेकिन जो एजुकेशन के बाद में कंपटीशन यानी कि हमारे भारत में रोजगार नहीं है कि बता एजुकेशन करने के बाद ही डायरेक्ट हमें वोट दे दी जाए उसके लिए इतना कंपटीशन से कि एक जॉब में अगर 3000 तक कैंसिल है तो उसमें कम से कम 300000 लोग उसको न पार करने जिंदगी जो हमें चाहिए इनकी हर किसी को पुलिस बनना है तो सभी को कैसी है उसमें कम से कम तीन चार लोग अप्लाई करता शुरू से कंपटीशन जाता है कि जो अच्छा करेगा वही करेगा इतना फर्क इतना जो हमारे भारत में है नहीं कि हम स्टडी करने के बाद ही टाइप आ जाएं यही कारण है कि हमारे भारत में काम नहीं है तो फिर बेरोजगारी हैBharat Mein Berojgari Isliye Hai Kyonki Hume Education To Hai Is Time Janki Tum Education Kar Sakte Lekin Education Karne Ke Liye Hamari Family Itna Paisa Laga Nahi Pati Hai Kyonki Us Time Par Education Ke Liye Itna Paisa Tha Nahi Lekin Hamari Family Nagar Paisa Kamaya Hai Madame Education Jila Bhi Deti Hai To Uske Baad Hum Padhai To Puri Kar Lete Hain Apni Education Complete Kar Lete Hain Lekin Jo Education Ke Baad Mein Competition Yani Ki Hamare Bharat Mein Rojgar Nahi Hai Ki Bata Education Karne Ke Baad Hi Direct Hume Vote De Di Jaye Uske Liye Itna Competition Se Ki Ek Job Mein Agar 3000 Tak Cancel Hai To Usamen Kam Se Kam 300000 Log Usko N Par Karne Zindagi Jo Hume Chahiye Inki Har Kisi Ko Police Banana Hai To Sabhi Ko Kaisi Hai Usamen Kam Se Kam Teen Char Log Apply Karta Shuru Se Competition Jata Hai Ki Jo Accha Karega Wahi Karega Itna Fark Itna Jo Hamare Bharat Mein Hai Nahi Ki Hum Study Karne Ke Baad Hi Type Aa Jayen Yahi Kaaran Hai Ki Hamare Bharat Mein Kaam Nahi Hai To Phir Berojgari Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Mein Itna Berojgari Kyun Hai ?, Why Is There So Much Unemployment In India?





मन में है सवाल?