भारतीय पुलिस इतना भ्रस्ट क्यों है? ये आम आदमी की सुरक्षा के लिए है लेकिन लोग डरते क्यों ? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
यह बात सही है कि भारतीय पुलिस बहुत भ्रष्ट है, लेकिन यह बात भी सही है कि भारतीय पुलिस को जिस कंडीशन में काम करना पड़ता है ,उस कंडीशन में मैं नहीं समझता कि दुनिया की और देशों की खास और विकसित देशों की पुलिस में काम करना पड़ता है l हमारे यहां पुलिस पर सबसे पुराने टाइप के वेपन्स है l हमारे यहां पर पुलिस जो काम करती है ,उसकी जो कंडीशन है बहुत ही बत्थर है l उनके ड्यूटी की कोई आवर्स नहीं है l १२ घंटे, २४ घंटे काम करना, छुट्टी ना मिलना और उनको कोई इंसेंटिव नहीं है, कोई उनके अच्छे काम का कोई रिवॉर्ड नहीं है, ना उनके कोई फ़ास्ट प्रमोशन है और यह सारी चीजें जो है इस तरीके से विकृत कर चुकी हैं भारतीय पुलिस सिस्टम को कि, वहां पर आदमी थोड़े दिनों के अंदर जाने के बाद भी उसकी पूरी मानसिकता जो है विकृत हो जाती है, क्योंकि आपने कोई भी लीगल उसको जो है बेनिफिट नहीं दिया हुआ है l उसको अगर किसी आदमी को हम ८ घंटे सरकारी ऑफिस में काम कराते हैं और अगर हम उसको ज्यादा रोकते हैं १२ घंटे काम कराते हैं, सैटरडे- संडे बुलाते हैं, तो हम उसको ओवरटाइम देते हैं l लेकिन पुलिस में ऐसा कोई सिस्टम नहीं है l वो एक बंधुआ मजदूर की तरह मानते हैं लोग उनको , जो मर्जी हो से काम करा लो l जितना काम करा लो और उनको कोई भी पैसा ना दो, तो जब उनको हम बुरी तरीके से प्रताड़ित करते हैं, उनको हम बुरी तरीके से ट्रीट करते हैं, तो वह उसी तरीके से जनता को ट्रीट करते हैं l तो अगर हमें पुलिस को सुधारना है तो, सबसे पहले पुलिस की जो लोग हैं, उनको हमें अच्छी तरीके से ट्रीट करना पड़ेगा, अच्छी तरीके से ट्रेनिंग देनी पड़ेगी l जब हम उनके साथ अच्छा व्यवहार करेंगे, तभी वह आम जनता के साथ अच्छा व्यवहार करेंगे lYeh Baat Sahi Hai Ki Bhartiya Police Bahut Bhrasht Hai Lekin Yeh Baat Bhi Sahi Hai Ki Bhartiya Police Ko Jis Condition Mein Kaam Karna Padata Hai Us Condition Mein Main Nahi Samajhata Ki Duniya Ki Aur Deshon Ki Khas Aur Viksit Deshon Ki Police Mein Kaam Karna Padata Hai L Hamare Yahan Police Par Sabse Purane Type Ke Weapons Hai L Hamare Yahan Par Police Jo Kaam Karti Hai Uski Jo Condition Hai Bahut Hi Batthar Hai L Unke Duty Ki Koi Hours Nahi Hai L 12 Ghante 24 Ghante Kaam Karna Chutti Na Milna Aur Unko Koi Insentiv Nahi Hai Koi Unke Acche Kaam Ka Koi Reward Nahi Hai Na Unke Koi Fast Promotion Hai Aur Yeh Saree Cheezen Jo Hai Is Tarike Se Vikrit Kar Chuki Hain Bhartiya Police System Ko Ki Wahan Par Aadmi Thode Dinon Ke Andar Jaane Ke Baad Bhi Uski Puri Mansikta Jo Hai Vikrit Ho Jati Hai Kyonki Aapne Koi Bhi Legal Usko Jo Hai Benefit Nahi Diya Hua Hai L Usko Agar Kisi Aadmi Ko Hum 8 Ghante Sarkari Office Mein Kaam Karate Hain Aur Agar Hum Usko Jyada Rokte Hain 12 Ghante Kaam Karate Hain Saitarade Sunday Bulate Hain To Hum Usko Ovarataim Dete Hain L Lekin Police Mein Aisa Koi System Nahi Hai L Vo Ek Bandhua Majdur Ki Tarah Manate Hain Log Unko , Jo Marji Ho Se Kaam Kra Lo L Jitna Kaam Kra Lo Aur Unko Koi Bhi Paisa Na Do To Jab Unko Hum Buri Tarike Se Pratadit Karte Hain Unko Hum Buri Tarike Se Treat Karte Hain To Wah Ussi Tarike Se Janta Ko Treat Karte Hain L To Agar Hume Police Ko Sudharna Hai To Sabse Pehle Police Ki Jo Log Hain Unko Hume Acchi Tarike Se Treat Karna Padega Acchi Tarike Se Training Deni Padegi L Jab Hum Unke Saath Accha Vyavhar Karenge Tabhi Wah Aam Janta Ke Saath Accha Vyavhar Karenge L
Likes  18  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
सर्वप्रथम यह स्पष्ट करना चाहूंगा कि भारतीय पुलिस में जो लोग भर्ती होते हैं वह भी हमें से ही जाते हैं तो अगर हमारे अंदर कहीं ना कहीं भ्रष्टाचार नहीं थे तो वह हमारे आज दिन प्रतिदिन के कार्य में हमारे नौकरी पर भी उसका स्पष्ट रुप फंक्शन होना तय है तो यदि हम भ्रष्ट है तो भारतीय पुलिस रिक्वेस्ट है दूसरी चीज कि वह हमारी रक्षा के लिए उनकी नियुक्ति होती है परंतु आम आदमी है उससे डरता है क्योंकि भारतीय पुलिस के लोगों को इस प्रकार का जवाब देना पड़ता है इस प्रकार के लोगों के साथ उठना बैठना पड़ता राजनेताओं का इतना अधिक उनके ऊपर दबाव रहता है कि वह स्वतंत्रता से वह बिना किसी डर कि अपना कार्य पूर्ण नहीं कर पाते हैं दूसरा यह कि पुलिस भर्ती में होने वाली जो धांधली होती है उस में होने वाला जो भ्रष्टाचार होता है उसकी वजह से अच्छे पुलिस अफसर शायद भारतीय पुलिस या राज्य पुलिस कॉल नहीं मिल पाते हैं तो यदि भ्रष्टाचार भर्तियों नहीं होगी तो जो उसका जो प्रतिफल होगा यानी कि उसका जो आउटपुट होगा वह भी भ्रष्ट ही होगा यदि आप पैसे देकर किसी को नौकरी लग जाएंगे तो वह चाहेगा कि वह सारे पैसे सूद समेत वापस कमाल है तो यह एक अन्य कारण है जिसकी वजह से भारतीय पुलिस में इतना भ्रष्टाचार नहीं था इसके अलावा मुझे ऐसा लगता है कि भारतीय पुलिस के साथ साथ अंय प्रशासनिक सेवाएं आजाद कि मैं तो यह कहूंगा कि राज्य सेवाएं व केंद्र सेवा सभी में बराबर या भारतीय पुलिस से ज्यादा ही भ्रष्टाचार नहीं था जिसका रूपांकन है जिसका अर्थ की रूपरेखा हमें आए दिन किसी न किसी रिपोर्ट के माध्यम से प्राप्त होती रहती है तो मैं नहीं मानता कि भारतीय पुलिस ही भ्रष्ट है भ्रष्टाचार हमारे अंदर है जिसके कारण भ्रष्टाचार को बढ़ावा देते हैं भ्रष्टाचार हमें एक बार फिर से भ्रष्ट बनाते हैं और यही साइकिल हमेशा चलती रहती है पहिया घूमता रहता है धन्यवादSarvapratham Yeh Spasht Karna Chahunga Ki Bhartiya Police Mein Jo Log Bharti Hote Hain Wah Bhi Hume Se Hi Jaate Hain To Agar Hamare Andar Kahin Na Kahin Bhrashtachar Nahi The To Wah Hamare Aaj Din Pratidin Ke Karya Mein Hamare Naukri Par Bhi Uska Spasht Roop Function Hona Tay Hai To Yadi Hum Bhrasht Hai To Bhartiya Police Request Hai Dusri Cheez Ki Wah Hamari Raksha Ke Liye Unki Niyukti Hoti Hai Parantu Aam Aadmi Hai Usse Darta Hai Kyonki Bhartiya Police Ke Logon Ko Is Prakar Ka Jawab Dena Padata Hai Is Prakar Ke Logon Ke Saath Uthana Baithana Padata Rajnetao Ka Itna Adhik Unke Upar Dabaav Rehta Hai Ki Wah Swatantrata Se Wah Bina Kisi Dar Ki Apna Karya Poorn Nahi Kar Paate Hain Doosra Yeh Ki Police Bharti Mein Hone Wali Jo Dhandhali Hoti Hai Us Mein Hone Wala Jo Bhrashtachar Hota Hai Uski Wajah Se Acche Police Afsar Shayad Bhartiya Police Ya Rajya Police Call Nahi Mil Paate Hain To Yadi Bhrashtachar Bhartiyo Nahi Hogi To Jo Uska Jo Pratiphal Hoga Yani Ki Uska Jo Output Hoga Wah Bhi Bhrasht Hi Hoga Yadi Aap Paise Dekar Kisi Ko Naukri Lag Jaenge To Wah Chahega Ki Wah Sare Paise Sud Samet Wapas Kamal Hai To Yeh Ek Anya Kaaran Hai Jiski Wajah Se Bhartiya Police Mein Itna Bhrashtachar Nahi Tha Iske Alava Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Bhartiya Police Ke Saath Saath Any Prashasnik Sevayen Azad Ki Main To Yeh Kahunga Ki Rajya Sevayen V Kendra Seva Sabhi Mein Barabar Ya Bhartiya Police Se Jyada Hi Bhrashtachar Nahi Tha Jiska Roopankan Hai Jiska Arth Ki Rooprekha Hume Aaye Din Kisi N Kisi Report Ke Maadhyam Se Prapt Hoti Rehti Hai To Main Nahi Manata Ki Bhartiya Police Hi Bhrasht Hai Bhrashtachar Hamare Andar Hai Jiske Kaaran Bhrashtachar Ko Badhawa Dete Hain Bhrashtachar Hume Ek Baar Phir Se Bhrasht Banate Hain Aur Yahi Cycle Hamesha Chalti Rehti Hai Pahiya Ghoomta Rehta Hai Dhanyavad
Likes  17  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
आधे हमारी जो भारतीय पुलिस है उसमें मैं समझता हूं कि इतना ज्यादा पॉलिटिकल परेशान रहता है और इतने सारे लोगों का पैसा रहता है क्योंकि हर हर आदमी पर जो है 14 वे से पता चला था हर आ जा रहा है आदमी पर खाली एक पुलिस वाला तो आगे रेसिंग इतना ज्यादा रहेगा तो मैं कल ऑफिस से बात हुई उस पुलिस पर कितना प्रसन्न रहेगा पुलिस लाइन पर जितने भी ऑफिस आते जवान पर वह जवान है वह उन पर कितना ज्यादा परेशान होता होगा मतलब छुट्टी के दिन भी काम करो अगर कोई फेस्टिवल है उस दिन भी काम करो प्रॉपर छुट्टी नहीं मिलना मतलब वह उनकी सैलरी कितनी लिमिटेड होती है कि मतलब का इंवॉल्वमेंट इतना हो जाता है उन लोगों को इतना काम करा जाता खाते पॉलिटिशन है वह अपने पैरों की धूल समझता है पुलिस वालों को जब जब चाहे जहां चाहे ट्रांसफर कर दिया है जान जब किसी को चाहो वहां से सस्पेंड कर दिया तो मैं समझता हूं कि मैं दफ्तर में हूं काम करते हैं ऊपर से जितना हादसा करते हैं उनसे तो अगर एक बंदा जो है वह इतना परेशान में है सुबह से धूप में किसी रेड लाइट पर खड़ा है अगर कोई उसे आकर गुस्से में बात करेगा तो उसका क्या रिएक्शन होगा जब यह तो सीधा सीधा प्रसारण और हमारी इंडियन जो पुलिस से इतनी पुरानी टेक्नोलॉजी यूज करती है इतने व्यस्त वापस इतने पुराने उनको गाड़ियां इतनी पुरानी पुरानी पुरानी Bolero Sumo जो कटारी हो रखी है वह सब उनको मिलती है तो अगर अगर आप फौरन कंट्री से कम पर करेंगे तो इंडिया में मतलब इतनी कम फैसिलिटी पुलिसवालों को दी जाती है और और ना ही कोई अवार्ड दिया जाता है अगर कोई अच्छा काम करेगा तो मैं तुमको फिर मोटिवेशन कहां से मिलेगा कि हम को और अच्छे काम करने चाहिए तो बताओ इस चित्र में मैसेज पूरा गलत हो रहा है इसको करें करने की जरूरत है हमारी सरकार को ध्यान देने की जरूरत है अगर जो सिस्टम है वह सही होगा तो पुलिस वाले थोड़े दिलीप माइन रहे हैं रहेंगे और उनका और कुछ ज्यादा अच्छा रहेगा और आउटपुट ज्यादा अच्छा रहेगा तो लोग खुश रहेंगे और बोलो खुश आएंगे तो हम लोग खुश रहेंगे सीधी से बातें तुम्हें सबAadhe Hamari Jo Bhartiya Police Hai Usamen Main Samajhata Hoon Ki Itna Jyada Political Pareshan Rehta Hai Aur Itne Sare Logon Ka Paisa Rehta Hai Kyonki Har Har Aadmi Par Jo Hai 14 Ve Se Pata Chala Tha Har Aa Ja Raha Hai Aadmi Par Khaali Ek Police Wala To Aage Racing Itna Jyada Rahega To Main Kal Office Se Baat Hui Us Police Par Kitna Prasann Rahega Police Line Par Jitne Bhi Office Aate Jawaan Par Wah Jawaan Hai Wah Un Par Kitna Jyada Pareshan Hota Hoga Matlab Chutti Ke Din Bhi Kaam Karo Agar Koi Festival Hai Us Din Bhi Kaam Karo Proper Chutti Nahi Milna Matlab Wah Unki Salary Kitni Limited Hoti Hai Ki Matlab Ka Invalwament Itna Ho Jata Hai Un Logon Ko Itna Kaam Kra Jata Khate Politician Hai Wah Apne Pairon Ki Dhul Samajhata Hai Police Walon Ko Jab Jab Chahe Jahan Chahe Transfer Kar Diya Hai Jaan Jab Kisi Ko Chaho Wahan Se Suspend Kar Diya To Main Samajhata Hoon Ki Main Daftaar Mein Hoon Kaam Karte Hain Upar Se Jitna Hadasaa Karte Hain Unse To Agar Ek Banda Jo Hai Wah Itna Pareshan Mein Hai Subah Se Dhoop Mein Kisi Red Light Par Khada Hai Agar Koi Use Aakar Gusse Mein Baat Karega To Uska Kya Reaction Hoga Jab Yeh To Sidhaa Sidhaa Prasaran Aur Hamari Indian Jo Police Se Itni Purani Technology Use Karti Hai Itne Vyasta Wapas Itne Purane Unko Gadiyan Itni Purani Purani Purani Bolero Sumo Jo Katari Ho Rakhi Hai Wah Sab Unko Milti Hai To Agar Agar Aap Phauran Country Se Kum Par Karenge To India Mein Matlab Itni Kum Facility Pulisvalon Ko Di Jati Hai Aur Aur Na Hi Koi Award Diya Jata Hai Agar Koi Accha Kaam Karega To Main Tumko Phir Motivation Kahan Se Milega Ki Hum Ko Aur Acche Kaam Karne Chahiye To Batao Is Chitra Mein Massage Pura Galat Ho Raha Hai Isko Karen Karne Ki Zaroorat Hai Hamari Sarkar Ko Dhyan Dene Ki Zaroorat Hai Agar Jo System Hai Wah Sahi Hoga To Police Wale Thode Dilip Mine Rahe Hain Rahenge Aur Unka Aur Kuch Jyada Accha Rahega Aur Output Jyada Accha Rahega To Log Khush Rahenge Aur Bolo Khush Aayenge To Hum Log Khush Rahenge Sidhi Se Batein Tumhein Sab
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


जय श्री परशुराम बंधुओं का क्वेश्चन जैसे है कि भारतीय पुलिस इतना भ्रष्ट क्यों है क्यों है क्योंकि भारतीय पुलिस विभाग नया सरकारी विभाग कोई भी हो उसमें अगर उनको जॉब करना है आज तक का रिकॉर्ड रहा है कि अगर आपको सरकारी जॉब करना है तो आप को सबसे पहले उसमें घूस लेना पड़ता है वह सबसे मेन पर्पस हमारे यहां का जो भक्त सिस्टम है मैं सिस्टम के बिल्कुल ही खिलाफ हूं यह पहली प्राथमिकता है कि वह कहां से उस पैसे को लाकर किस प्रकार से उस पैसे को लाकर क्या-क्या अपना गवाह के लाके और अपनी मौज आप पाते हैं जॉब पाने के बाद तुम को पैसा अपना बोलो पहले निकालना चाहते हैं और जाहिर सी बात है कि वह पैसा आम आदमी से निकलेगा नेता से निकलेगा नहीं अधिकारियों से निकलेगा नहीं इसलिए इसमें आम आदमी पढ़ते हैं यह है फर्स्ट सिस्टम सिस्टम भ्रष्ट है इसलिए हमारे यहां की पुलिस भी उतनी ही भ्रष्ट और दूसरा क्वेश्चन मार्क है आपका कि यह आम आदमी की सुरक्षा के लिए है लेकिन लोग डरते क्यों हैं तो डरते भी इसीलिए है क्योंकि आम जनता हीन से डरती हैं और आम जनता इसलिए इनसे डरती है क्योंकि यह वहां जा कर इतना प्रताड़ित कर दे

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

जय श्री परशुराम बंधुओं का क्वेश्चन जैसे है कि भारतीय पुलिस इतना भ्रष्ट क्यों है क्यों है क्योंकि भारतीय पुलिस विभाग नया सरकारी विभाग कोई भी हो उसमें अगर उनको जॉब करना है आज तक का रिकॉर्ड रहा है कि अगर आपको सरकारी जॉब करना है तो आप को सबसे पहले उसमें घूस लेना पड़ता है वह सबसे मेन पर्पस हमारे यहां का जो भक्त सिस्टम है मैं सिस्टम के बिल्कुल ही खिलाफ हूं यह पहली प्राथमिकता है कि वह कहां से उस पैसे को लाकर किस प्रकार से उस पैसे को लाकर क्या-क्या अपना गवाह के लाके और अपनी मौज आप पाते हैं जॉब पाने के बाद तुम को पैसा अपना बोलो पहले निकालना चाहते हैं और जाहिर सी बात है कि वह पैसा आम आदमी से निकलेगा नेता से निकलेगा नहीं अधिकारियों से निकलेगा नहीं इसलिए इसमें आम आदमी पढ़ते हैं यह है फर्स्ट सिस्टम सिस्टम भ्रष्ट है इसलिए हमारे यहां की पुलिस भी उतनी ही भ्रष्ट और दूसरा क्वेश्चन मार्क है आपका कि यह आम आदमी की सुरक्षा के लिए है लेकिन लोग डरते क्यों हैं तो डरते भी इसीलिए है क्योंकि आम जनता हीन से डरती हैं और आम जनता इसलिए इनसे डरती है क्योंकि यह वहां जा कर इतना प्रताड़ित कर देJai Shri Parshuram Bandhuon Ka Question Jaise Hai Ki Bhartiya Police Itna Bhrasht Kyun Hai Kyun Hai Kyonki Bhartiya Police Vibhag Naya Sarkari Vibhag Koi Bhi Ho Usamen Agar Unko Job Karna Hai Aaj Tak Ka Record Raha Hai Ki Agar Aapko Sarkari Job Karna Hai To Aap Ko Sabse Pehle Usamen Ghus Lena Padata Hai Wah Sabse Main Purpose Hamare Yahan Ka Jo Bhakt System Hai Main System Ke Bilkul Hi Khilaf Hoon Yeh Pehli Prathamikta Hai Ki Wah Kahan Se Us Paise Ko Lakar Kis Prakar Se Us Paise Ko Lakar Kya Kya Apna Guwaha Ke Lake Aur Apni Mauj Aap Paate Hain Job Pane Ke Baad Tum Ko Paisa Apna Bolo Pehle Nikalna Chahte Hain Aur Jaahir Si Baat Hai Ki Wah Paisa Aam Aadmi Se Niklega Neta Se Niklega Nahi Adhikaariyo Se Niklega Nahi Isliye Isme Aam Aadmi Padhte Hain Yeh Hai First System System Bhrasht Hai Isliye Hamare Yahan Ki Police Bhi Utani Hi Bhrasht Aur Doosra Question Mark Hai Aapka Ki Yeh Aam Aadmi Ki Suraksha Ke Liye Hai Lekin Log Darte Kyun Hain To Darte Bhi Isliye Hai Kyonki Aam Janta Heen Se Darti Hain Aur Aam Janta Isliye Inse Darti Hai Kyonki Yeh Wahan Ja Kar Itna Pratadit Kar De
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

टिकट भारतीय पुलिस है यह काफी हद तक भ्रष्ट है यह आम धारणा है लोगों के अंदर वह वाकई बहुत हद तक सही है आज भी यदि कोई महिला जिसके साथ अन्याय कोई घटना होती है रेप की तो वह पुलिस में जाने से एक बार कुछ सोचती है कि उसका मजाक उड़ा देगा या वह जो सच अपनी रिपोर्ट लिखवाई थी उसके खिलाफ न्याय मिलेगा नहीं मिलेगा रिपोर्ट लिखी जाएगी नहीं जाएगी उसके कुछ कारण है प्रमुख सबसे पहला कारण है हमारा भ्रष्ट सिस्टम केवल पुलिस नहीं हमारा भ्रष्ट सिस्टम क्योंकि होता क्या है जो ऊपर से दबाव होता है पुलिस वालों पर इतना ज्यादा है उनके तबादले का उनके सस्पेंड होने का यह सारे जवाब होते हैं पुलिस वालों पर जिसके कारण जो भी मंत्री राजनेता है इन सब की बातें उन्हें सुनना पड़ता है उनके कहीं अनुसार चलना पड़ता पड़ता है सत्ताधारी पार्टी के किसी भी रसूख वाले नेता के कहने पर और यदि वो नहीं मान मैं तो उसके दुष्परिणामों ने भुगतने पड़ते हैं इसलिए कई बार जो है पुलिस वाले उन के दबाव में आकर कई कदम उठाते हैं दूसरी जो चीज है जो भी पुलिस की भर्ती है वह बहुत अधिक कोटे से होती है मौला कोटे के कारण पर जो भी होती है जिसके कारण जो भी अन्य जो डिजाइन कम होते हैं वह भी उसमें आ जाते हैं और वह इस तरीके की हरकतों को अंजाम देते हैं तो यही कुछ चीजें हैं भारतीय पुलिस क्यों ऊपर जो कंट्रोल है उस लहजे में नहीं है और जितना जो उस सिस्टम के तहत होना चाहिए कि वह उनका कार्य शैली कैसी है और क्या की जवाबदेही तय होनी चाहिए बजाय कि जो प्रेशर उनपर क्रिएट किया जाता है जो भी ईमानदार अफसर होते हैं उन्हें मुख्यमंत्रियों के कहे अनुसार अपना रिपोर्ट लिखनी है और इसको जो है निपटाना है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

टिकट भारतीय पुलिस है यह काफी हद तक भ्रष्ट है यह आम धारणा है लोगों के अंदर वह वाकई बहुत हद तक सही है आज भी यदि कोई महिला जिसके साथ अन्याय कोई घटना होती है रेप की तो वह पुलिस में जाने से एक बार कुछ सोचती है कि उसका मजाक उड़ा देगा या वह जो सच अपनी रिपोर्ट लिखवाई थी उसके खिलाफ न्याय मिलेगा नहीं मिलेगा रिपोर्ट लिखी जाएगी नहीं जाएगी उसके कुछ कारण है प्रमुख सबसे पहला कारण है हमारा भ्रष्ट सिस्टम केवल पुलिस नहीं हमारा भ्रष्ट सिस्टम क्योंकि होता क्या है जो ऊपर से दबाव होता है पुलिस वालों पर इतना ज्यादा है उनके तबादले का उनके सस्पेंड होने का यह सारे जवाब होते हैं पुलिस वालों पर जिसके कारण जो भी मंत्री राजनेता है इन सब की बातें उन्हें सुनना पड़ता है उनके कहीं अनुसार चलना पड़ता पड़ता है सत्ताधारी पार्टी के किसी भी रसूख वाले नेता के कहने पर और यदि वो नहीं मान मैं तो उसके दुष्परिणामों ने भुगतने पड़ते हैं इसलिए कई बार जो है पुलिस वाले उन के दबाव में आकर कई कदम उठाते हैं दूसरी जो चीज है जो भी पुलिस की भर्ती है वह बहुत अधिक कोटे से होती है मौला कोटे के कारण पर जो भी होती है जिसके कारण जो भी अन्य जो डिजाइन कम होते हैं वह भी उसमें आ जाते हैं और वह इस तरीके की हरकतों को अंजाम देते हैं तो यही कुछ चीजें हैं भारतीय पुलिस क्यों ऊपर जो कंट्रोल है उस लहजे में नहीं है और जितना जो उस सिस्टम के तहत होना चाहिए कि वह उनका कार्य शैली कैसी है और क्या की जवाबदेही तय होनी चाहिए बजाय कि जो प्रेशर उनपर क्रिएट किया जाता है जो भी ईमानदार अफसर होते हैं उन्हें मुख्यमंत्रियों के कहे अनुसार अपना रिपोर्ट लिखनी है और इसको जो है निपटाना हैTicket Bhartiya Police Hai Yeh Kafi Had Tak Bhrasht Hai Yeh Aam Dharan Hai Logon Ke Andar Wah Vaakai Bahut Had Tak Sahi Hai Aaj Bhi Yadi Koi Mahila Jiske Saath Anyay Koi Ghatna Hoti Hai Rape Ki To Wah Police Mein Jaane Se Ek Baar Kuch Sochti Hai Ki Uska Mazak Uda Dega Ya Wah Jo Sach Apni Report Likhvai Thi Uske Khilaf Nyay Milega Nahi Milega Report Likhi Jayegi Nahi Jayegi Uske Kuch Kaaran Hai Pramukh Sabse Pehla Kaaran Hai Hamara Bhrasht System Kewal Police Nahi Hamara Bhrasht System Kyonki Hota Kya Hai Jo Upar Se Dabaav Hota Hai Police Walon Par Itna Jyada Hai Unke Tabadale Ka Unke Suspend Hone Ka Yeh Sare Jawab Hote Hain Police Walon Par Jiske Kaaran Jo Bhi Mantri Rajneta Hai In Sab Ki Batein Unhen Sunna Padata Hai Unke Kahin Anusar Chalna Padata Padata Hai Sattadhari Party Ke Kisi Bhi Rasukh Wale Neta Ke Kehne Par Aur Yadi Vo Nahi Maan Main To Uske Dushparinamon Ne Bhugatane Padate Hain Isliye Kai Baar Jo Hai Police Wale Un Ke Dabaav Mein Aakar Kai Kadam Uthaatey Hain Dusri Jo Cheez Hai Jo Bhi Police Ki Bharti Hai Wah Bahut Adhik Kote Se Hoti Hai Maula Kote Ke Kaaran Par Jo Bhi Hoti Hai Jiske Kaaran Jo Bhi Anya Jo Design Kum Hote Hain Wah Bhi Usamen Aa Jaate Hain Aur Wah Is Tarike Ki Harkaton Ko Anjaam Dete Hain To Yahi Kuch Cheezen Hain Bhartiya Police Kyun Upar Jo Control Hai Us Lahaje Mein Nahi Hai Aur Jitna Jo Us System Ke Tahat Hona Chahiye Ki Wah Unka Karya Shaili Kaisi Hai Aur Kya Ki Jawabdehi Tay Honi Chahiye Bajay Ki Jo Pressure Unpar Create Kiya Jata Hai Jo Bhi Imandar Afsar Hote Hain Unhen Mukhyamantriyon Ke Kahe Anusar Apna Report Likhani Hai Aur Isko Jo Hai Nipataanaa Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bhartiya Police Itna Bhrast Kyun Hai Ye Aam Aadmi Ki Suraksha Ke Liye Hai Lekin Log Darte Kyun ?





मन में है सवाल?